क्या नदियों में नालों को मिलाना चाहिए, अगर ऐसा है तो नदियों में नालों को क्यों मिलाया जा रहा है, इस पर ध्यान क्यों नहीं दे रही है सरकार, ऐसा क्यों?...


user

Ajay Pratap Singh

Agriculturist

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल नदियों में नामों को नहीं मिलना चाहिए इसके लिए कोशिश इन प्लांट करना चाहिए और जलसे का प्रयोग दूसरे काम में या उसको जो है जा सकता है और खिचड़ी को हटाया जा सकता है उसके कचड़ी से खोजना है उसको एक खास गना के खेत में यूज किया जा सकता है सरकार इस पर ध्यान दे रही है अंतर इतना है कि हमारी जो कार्य प्रणाली सिस्टम ठीक नहीं है ठीक करना

bilkul nadiyon mein namon ko nahi milna chahiye iske liye koshish in plant karna chahiye aur jalse ka prayog dusre kaam mein ya usko jo hai ja sakta hai aur khichdi ko hataya ja sakta hai uske kachadi se khojana hai usko ek khaas gana ke khet mein use kiya ja sakta hai sarkar is par dhyan de rahi hai antar itna hai ki hamari jo karya pranali system theek nahi hai theek karna

बिल्कुल नदियों में नामों को नहीं मिलना चाहिए इसके लिए कोशिश इन प्लांट करना चाहिए और जलसे क

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  128
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!