भारत के एक सिविल सेवक के रूप में हर्ष पोद्दार ने किन अद्भुत चीजों को देखा और सीखा है?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:20
Play

Likes  141  Dislikes    views  2816
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के कृषि सेवक के रूप में कुछ चीजों को देखा उसका दसवीं बोर्ड विदेश में नौकरी करने गए थे क्योंकि भारत गैस से असिस्टेंट सुपरिंटेंडेंट ऑफ यूनिटी असिस्टेंट मालेगांव में वह चुने गए थे वहां से आकर चाय पी के रूप में जॉब उसी ग्रुप में हुई थी वहां के दुआ से उनको बहुत ही प्रोत्साहित किया था कि वह कोई भी तरह की जो और सामाजिक कार्य है उसको करने से कैसे बचें इसके लिए उन्हें बहुत सारे व्हाट्सएप आयोजन किए थे और युवाओं को बहुत ही प्रोत्साहित किया था और विज्ञान बच्चे से पूर्व में भी जाकर में बहुत से बच्चों किए थे और बच्चों से उनके विचार जाने से उन बच्चों के विचारों को किस तरह से मोड़ा जाए ताकि बच्चे आगे चलकर अपना कोई भी सहानुभूति सहानुभूति पूर्वक कार्य कर सकें उसके बारे में बहुत अच्छा कार्य किया था और उनके सीमेंट बहुत अच्छी है वह प्रदेश से रिजाइन कर के आए थे उसके बाद उन्होंने जो कार्य किया है उसका रिजल्ट अब हमें देखने को मिल रहा है और डीसीपी जोन नागपुर में वह बने हैं ऑफिसर और 2010 के कार्य करने के लिए बहुत ही अच्छे तरीके से आगे बढ़ने के लिए और अखबारों में भी वह बहुत ही सुर्खियों में आए थे और उनके कार्यों को बहुत सारा सराहा गया इसके लिए भारत को ओपन करो

bharat ke krishi sevak ke roop mein kuch chijon ko dekha uska dasavi board videsh mein naukri karne gaye the kyonki bharat gas se assistant suprintendent of unity assistant maleganv mein vaah chune gaye the wahan se aakar chai p ke roop mein job usi group mein hui thi wahan ke dua se unko bahut hi protsahit kiya tha ki vaah koi bhi tarah ki jo aur samajik karya hai usko karne se kaise bache iske liye unhe bahut saare whatsapp aayojan kiye the aur yuvaon ko bahut hi protsahit kiya tha aur vigyan bacche se purv mein bhi jaakar mein bahut se baccho kiye the aur baccho se unke vichar jaane se un baccho ke vicharon ko kis tarah se moda jaaye taki bacche aage chalkar apna koi bhi sahanubhuti sahanubhuti purvak karya kar sake uske bare mein bahut accha karya kiya tha aur unke cement bahut achi hai vaah pradesh se resign kar ke aaye the uske baad unhone jo karya kiya hai uska result ab hamein dekhne ko mil raha hai aur DCP zone nagpur mein vaah bane hain officer aur 2010 ke karya karne ke liye bahut hi acche tarike se aage badhne ke liye aur akhbaron mein bhi vaah bahut hi surkhiyon mein aaye the aur unke karyo ko bahut saara saraha gaya iske liye bharat ko open karo

भारत के कृषि सेवक के रूप में कुछ चीजों को देखा उसका दसवीं बोर्ड विदेश में नौकरी करने गए थे

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1225
WhatsApp_icon
user

Harssh A Poddar

Indian Police Service | Dy. Commissioner of Police, Nagpur

1:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी पर दिन शुभ हो एकता शहर में हुई शुरुआत से ही पड़ा था और उसके बाद जाने का अवसर मिला और जरूरत नहीं थी आज सेटिंग में हमारी परवरिश नहीं हुई थी उसमें हमारा और आखिरी सबसे जाने के बाद मुझे लगता है ग्रामीण का देश के प्रति बहुत कुछ सीखने को मिला कुछ देखने को मिला और सीखने को मिलता है कमजोर से बातचीत नहीं हो पाते हैं मेरे लिए जो सही मायने में बहुत बड़ी सीख मिली है कि छात्रों और कंपलेक्स है और बहुत काम पड़ता है वहां पर बहुत जल्दी समझ मेरे लिए एक काम था बड़ा सीखने का मौका मिला

hamari par din shubha ho ekta shehar mein hui shuruat se hi pada tha aur uske baad jaane ka avsar mila aur zarurat nahi thi aaj setting mein hamari parvarish nahi hui thi usme hamara aur aakhiri sabse jaane ke baad mujhe lagta hai gramin ka desh ke prati bahut kuch sikhne ko mila kuch dekhne ko mila aur sikhne ko milta hai kamjor se batchit nahi ho paate hain mere liye jo sahi maayne mein bahut badi seekh mili hai ki chhatro aur complex hai aur bahut kaam padta hai wahan par bahut jaldi samajh mere liye ek kaam tha bada sikhne ka mauka mila

हमारी पर दिन शुभ हो एकता शहर में हुई शुरुआत से ही पड़ा था और उसके बाद जाने का अवसर मिला और

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  604
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!