हर्ष पोद्दार ने विदेश में नौकरी क्यों छोड़ी? क्या उन्हें इसे छोड़ने का पछतावा है?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

0:35

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अस्पताल में विदेश में नौकरी क्यों छोड़ी जाऊं मैं सोने का पता नहीं उनको पछतावा नहीं है वह बहुत ही अच्छी पोस्ट पर देश है और उनको देश सेवा करने की जो लगन लगी 2010 में उन्होंने वह नौकरी छोड़कर और देश में हमारे पास भी आ गए और उन्होंने यूपीए की बहुत ही सराहनीय कार्य किया इसका मूवी

aspatal mein videsh mein naukri kyon chodi jaaun main sone ka pata nahi unko pachtava nahi hai vaah bahut hi achi post par desh hai aur unko desh seva karne ki jo lagan lagi 2010 mein unhone vaah naukri chhodkar aur desh mein hamare paas bhi aa gaye aur unhone UPA ki bahut hi sarahniya karya kiya iska movie

अस्पताल में विदेश में नौकरी क्यों छोड़ी जाऊं मैं सोने का पता नहीं उनको पछतावा नहीं है वह ब

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1164
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!