विवेक अत्रे ने नागरिक सेवाओं से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति क्यों ली?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:21
Play

Likes  145  Dislikes    views  2466
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:22
Play

Likes  151  Dislikes    views  1529
WhatsApp_icon
play
user

Likes  75  Dislikes    views  2520
WhatsApp_icon
user

Vyakaranacharya SANJAY Chandigarh

sanskrit / Hindi Teacher

3:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार प्रश्न विवेक अत्रे जी ने नागरिक सेवाओं से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति क्यों ली बहुत ही अच्छा प्रश्न है मैं आपको बताना चाहूंगा कि प्रत्येक संस्थाओं से चाहे सरकारी चाहे प्राइवेट रूप से व्यक्ति अपने जीवन में अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए धन के लिए जॉब कोई भी जॉब करते हैं उसे जॉब से सेवानिवृत्ति का समय तय होता है 58 साल तो कुछ व्यक्ति 58 साल के बाद रिटायरमेंट जैसे होता है उसके बाद काम करते हैं समाज के लिए वैसे वह सरकारी सेवा में है तो समाज के लिए काम हो वैसे ही करते आ रहे हैं अपनी नौकरी के समय में भी सामान्य व्यक्ति कोई होता है तो जो सरकारी है प्राइवेट जॉब में नहीं होता है जो सामान्य रूप से किसी भी रोजगार से जुड़ा होता है तो वह यदि समय निकालकर देश के युवाओं को देश की सामाजिक संस्थाओं को मूल रूप से भारत देश के लिए अपनी भारत माता के लिए जो काम करना चाहते हैं उनकी एक विशेष लगन तो होती है तभी वह आगे निकलते हैं और आते हैं स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेना भी एक यही है कि कोई किसी कारणवश से ले लेता है कोई किसी कारणवश से तो मैं यहां श्रीमान विवेक अत्रे जी का इस बात के लिए बड़ा हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने अपने जीवन में जिस पद पर वह भारतीय प्रशासनिक सेवा पद पर तो देश की बागडोर इसी प्रकार हमारे देश में जितने भी साथ सुनाइए से उनके हाथ में होती है लेकिन कार्य कार्य करता करता है कार्यकर्ता का मतलब एक सामान्य आदमी भी करता है अपने पद या बिना पद समाज में भी कार्य करता है और हमारे समाज से ही बड़े रूप में फिर देश का निर्माण होता है तो मैं तो सभी कार्यकर्ताओं को भी हार्दिक आभार व्यक्त करता हूं कि जो भारत देश के लिए उन्नति के लिए सभी वर्गों का ध्यान रखते हुए देश सेवा में आगे हैं उनको आगे होना भी चाहिए और अभी मैं चंडीगढ़ से हूं तो यहां पर मैं संस्कृत अध्यापक के रूप में काम कर रहा हूं तो मेरा मानना यही है कि संस्कृत अध्यापन विद्यालय में कराने के अलावा जिन भी सामाजिक कार्यक्रमों में या किसी भी प्रकार के मोटिवेशनल कार्यक्रमों में जाने का मौका मिलता है तो सुनते भी हैं और यदि 9:00 का मौका मिलता है तो युवाओं को देश के लिए प्रेरित करने का मौका भी नहीं छोड़ते हैं और चंडीगढ़ में रहता हूं तो इसलिए श्रीमान विवेक अत्रे जी को भी यहां रहकर में उनकी सुविख्यात जो गुण है उनसे में जानकारी तो बधाई देता हूं उनको और आभार व्यक्त करता हूं कि वह इसी प्रकार जिस प्रकार से श्रीमान विवेक अत्रे जी देश के युवाओं के लिए प्रत्येक युवाओं के लिए कार्य कर रहे हैं तो सभी प्रशासनिक अधिकारियों को भी कार्य करने चाहिए धर्म जाति से ऊपर उठकर भारतीयता के लिए काम हो मानवता के लिए कम काम हो सभी जीवो के कल्याण के लिए काम हो तो वह कार्य निश्चित सफल होते हैं धन्यवाद

namaskar prashna vivek atre ji ne nagarik sewaon se swaichchhik seva nivriti kyon li bahut hi accha prashna hai main aapko batana chahunga ki pratyek sasthaon se chahen sarkari chahen private roop se vyakti apne jeevan me apne parivar ka palan poshan karne ke liye dhan ke liye job koi bhi job karte hain use job se seva nivriti ka samay tay hota hai 58 saal toh kuch vyakti 58 saal ke baad retirement jaise hota hai uske baad kaam karte hain samaj ke liye waise vaah sarkari seva me hai toh samaj ke liye kaam ho waise hi karte aa rahe hain apni naukri ke samay me bhi samanya vyakti koi hota hai toh jo sarkari hai private job me nahi hota hai jo samanya roop se kisi bhi rojgar se juda hota hai toh vaah yadi samay nikalakar desh ke yuvaon ko desh ki samajik sasthaon ko mul roop se bharat desh ke liye apni bharat mata ke liye jo kaam karna chahte hain unki ek vishesh lagan toh hoti hai tabhi vaah aage nikalte hain aur aate hain swaichchhik seva nivriti lena bhi ek yahi hai ki koi kisi karanvash se le leta hai koi kisi karanvash se toh main yahan shriman vivek atre ji ka is baat ke liye bada hardik abhar vyakt karta hoon ki unhone apne jeevan me jis pad par vaah bharatiya prashaasnik seva pad par toh desh ki baghdor isi prakar hamare desh me jitne bhi saath sunaiye se unke hath me hoti hai lekin karya karya karta karta hai karyakarta ka matlab ek samanya aadmi bhi karta hai apne pad ya bina pad samaj me bhi karya karta hai aur hamare samaj se hi bade roop me phir desh ka nirmaan hota hai toh main toh sabhi karyakartaon ko bhi hardik abhar vyakt karta hoon ki jo bharat desh ke liye unnati ke liye sabhi vargon ka dhyan rakhte hue desh seva me aage hain unko aage hona bhi chahiye aur abhi main chandigarh se hoon toh yahan par main sanskrit adhyapak ke roop me kaam kar raha hoon toh mera manana yahi hai ki sanskrit adhyapan vidyalaya me karane ke alava jin bhi samajik karyakramon me ya kisi bhi prakar ke Motivational karyakramon me jaane ka mauka milta hai toh sunte bhi hain aur yadi 9 00 ka mauka milta hai toh yuvaon ko desh ke liye prerit karne ka mauka bhi nahi chodte hain aur chandigarh me rehta hoon toh isliye shriman vivek atre ji ko bhi yahan rahkar me unki suvikhyat jo gun hai unse me jaankari toh badhai deta hoon unko aur abhar vyakt karta hoon ki vaah isi prakar jis prakar se shriman vivek atre ji desh ke yuvaon ke liye pratyek yuvaon ke liye karya kar rahe hain toh sabhi prashaasnik adhikaariyo ko bhi karya karne chahiye dharm jati se upar uthakar bharatiyta ke liye kaam ho manavta ke liye kam kaam ho sabhi jeevo ke kalyan ke liye kaam ho toh vaah karya nishchit safal hote hain dhanyavad

नमस्कार प्रश्न विवेक अत्रे जी ने नागरिक सेवाओं से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति क्यों ली बहुत ही

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  246
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!