क्या पी नरहरि सिविल सेवा छोड़ देंगे अगर उन्हें निजी क्षेत्र में एक महान नौकरी की पेशकश मिलती है?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:24
Play

Likes  118  Dislikes    views  1708
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या पी नरहरि शिविर की बात छोड़ देने वालों ने निजी क्षेत्र में एक महान नौकरी की पेशकश मिलती है यह व्यक्तिगत इंसान की कड़ी संगत करने के बाद उनको आईएस ए सी नौकरी सिविल सेवा का मौका मिला है और जो आईएस की नौकरी है कि प्रशासनिक सेवा की नौकरी है सिविल सेवा की यह नौकरी जब तक रिटायरमेंट की स्थिति है तब तक निभाएंगे और उसे अच्छी तरह चेक करेंगे अपनी सीमाओं से वह जनता का भला करेंगे उनको अवसर है जिंदगी में बहुत कुछ कर दिखाने का एक प्रशासनिक अधिकारी होने के नाते एक सिविल सेवा में होने के नाते अपने गुणों से अपने अनुभवों से क्षमता के पत्रकार के बिना किसी दबाव के वह इस देश की कायापलट कर सकते हैं लेकिन अगर उनका दी थी मुझे पद पर रोजे वेतन पर्ची प्राइवेट सेक्टर में ऐसी चीज जो बच्चे के क्षेत्र को बढ़ावा देने की अपनी क्षमता व योग्यता के अनुसार तुझे उनका अपना फैसला है कि वह सिविल सेवा में रहकर समाज की सेवा करें या 12 की सेवा करें शाम को ऊंचा वेतन ऊंचा पद अनुसूचित सुविधाएं मिलेंगी यह उनका अपना फैसला उसके विषय में कुछ कहना उचित नहीं है वैसे आज का युग पैसे के पीछे दौड़ रहे हैं क्योंकि समाज सेवा तो केवल कागजों तक सीमित रह गई है

kya p narhari shivir ki baat chod dene walon ne niji kshetra mein ek mahaan naukri ki peshkash milti hai yah vyaktigat insaan ki kadi sangat karne ke baad unko ias a si naukri civil seva ka mauka mila hai aur jo ias ki naukri hai ki prashaasnik seva ki naukri hai civil seva ki yah naukri jab tak retirement ki sthiti hai tab tak nibhaenge aur use achi tarah check karenge apni seemaon se vaah janta ka bhala karenge unko avsar hai zindagi mein bahut kuch kar dikhane ka ek prashaasnik adhikari hone ke naate ek civil seva mein hone ke naate apne gunon se apne anubhavon se kshamta ke patrakar ke bina kisi dabaav ke vaah is desh ki kayapalat kar sakte hai lekin agar unka di thi mujhe pad par roje vetan parchi private sector mein aisi cheez jo bacche ke kshetra ko badhawa dene ki apni kshamta va yogyata ke anusaar tujhe unka apna faisla hai ki vaah civil seva mein rahkar samaj ki seva kare ya 12 ki seva kare shaam ko uncha vetan uncha pad anusuchit suvidhaen milegi yah unka apna faisla uske vishay mein kuch kehna uchit nahi hai waise aaj ka yug paise ke peeche daudh rahe hai kyonki samaj seva toh keval kagazo tak simit reh gayi hai

क्या पी नरहरि शिविर की बात छोड़ देने वालों ने निजी क्षेत्र में एक महान नौकरी की पेशकश मिलत

Romanized Version
Likes  353  Dislikes    views  5365
WhatsApp_icon
user

P Narahari (IAS)

IAS Officer-2001Batch-MP Cadre

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं मैं छोड़कर किसी प्राइवेट सेक्टर में चाहे वह कितना भी बड़ा नौकरी क्यों ना हो मैं नहीं जाऊंगा मैं सनम मेरा जो प्रयास रहा है मेरी इच्छा शक्ति रही है उसकी वजह से मौके मौके देता है जितने भी सेवाएं हैं वो भी आ जाता है और चाहे वह कितने भी पढ़े-लिखे लोग हो किसी न किसी रूप में आने के लिए प्रयास करते हैं प्राइवेट सेक्टर एक इच्छा शक्ति है मुझे नहीं लगता कि मुझे छोड़ दिया है बेहतर सेवा करने का प्रयास कर रहा हूं

nahi main chhodkar kisi private sector mein chahen vaah kitna bhi bada naukri kyon na ho main nahi jaunga main sanam mera jo prayas raha hai meri iccha shakti rahi hai uski wajah se mauke mauke deta hai jitne bhi sevayen hain vo bhi aa jata hai aur chahen vaah kitne bhi padhe likhe log ho kisi na kisi roop mein aane ke liye prayas karte hain private sector ek iccha shakti hai mujhe nahi lagta ki mujhe chod diya hai behtar seva karne ka prayas kar raha hoon

नहीं मैं छोड़कर किसी प्राइवेट सेक्टर में चाहे वह कितना भी बड़ा नौकरी क्यों ना हो मैं नहीं

Romanized Version
Likes  492  Dislikes    views  7921
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!