UPSC की तैयारी करते समय मिताली सेठी की दैनिक और सप्ताहांत टाइम टेबल क्या था? उस समय वो सकारात्मक रहने के लिए क्या करती थी?...


user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:33
Play

Likes  140  Dislikes    views  2478
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Mittali Sethi

IAS 2017 Batch

3:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहादराबाद का विरोध नहीं लगाते क्या तो मुझे पता ही नहीं है कि मैं आपके लिए शुभ रात्रि की जॉब कब कब करें आप काम करने गए थे क्या आपके पास कोई और मेरे कोई दूसरा काम करने का पाउडर यह भी रहते थे क्योंकि आपके साथ बात करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा ऐसे टेंशन नहीं आता कि चलो एकदम आतिफ असलम का बुधवार किताब में 50 पन्नों का किताब दिखाओ उसका नाम भी तैयारी शुरू करने से पहले मैं कुछ ऐसा पढ़ती थी ना दिमाग से अधिक सपोर्ट तो टाइम निकाल लिया तो अपने काम से बीच में बातें करने का पिक नहीं है क्या आपको कुछ नहीं हुआ तो पता नहीं क्या मतलब आजकल तो बहुत सारे लोग बहुत सारी तरीकों की सोसाइटी में प्ले करें आपको चूज करने कि आपको क्या करना है तो सामने तो सारे जाएगा और नीचे नहीं आएगा ऐसा है कि अगर उसमें आप मुझे वापस बता देते तो शायद नहीं होता तो और भी बैटर रहेगा और दूसरी व्हाट इज द सोशल करते हैं वह बहुत मुश्किल होता है उतना पेशेंट नहीं है करने का पेशेंट टीवी रखने का पर गिर के उतने का तो काम करना होगा कुछ भी हो सकता है आपका मन जितना खिलाड़ी पिए तो आप यूपीएससी को माध्यम की तरह देखेंगे

bahadrabad ka virodh nahi lagate kya toh mujhe pata hi nahi hai ki main aapke liye shubha ratri ki job kab kab kare aap kaam karne gaye the kya aapke paas koi aur mere koi doosra kaam karne ka powder yah bhi rehte the kyonki aapke saath baat karte hai toh aapko bahut zyada aise tension nahi aata ki chalo ekdam atif aslam ka budhavar kitab mein 50 pannon ka kitab dikhaao uska naam bhi taiyari shuru karne se pehle main kuch aisa padhati thi na dimag se adhik support toh time nikaal liya toh apne kaam se beech mein batein karne ka pic nahi hai kya aapko kuch nahi hua toh pata nahi kya matlab aajkal toh bahut saare log bahut saree trikon ki society mein play kare aapko choose karne ki aapko kya karna hai toh saamne toh saare jaega aur niche nahi aayega aisa hai ki agar usme aap mujhe wapas bata dete toh shayad nahi hota toh aur bhi better rahega aur dusri what is the social karte hai vaah bahut mushkil hota hai utana patient nahi hai karne ka patient TV rakhne ka par gir ke utne ka toh kaam karna hoga kuch bhi ho sakta hai aapka man jitna khiladi piye toh aap upsc ko madhyam ki tarah dekhenge

बहादराबाद का विरोध नहीं लगाते क्या तो मुझे पता ही नहीं है कि मैं आपके लिए शुभ रात्रि की जॉ

Romanized Version
Likes  177  Dislikes    views  2729
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!