ज़िंदगी का मक़सद क्या है?...


play
user

Kankan Sarmah

Psychologist

1:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है जिंदगी का मकसद क्या है देखिए यह भी डिपेंड करता है लोगों के और संगति के ऊपर किसी का मकसद है एक अच्छा इंसान बनना तो किसी का नक्शा से बहुत अमीर बनना तो किसी का मकसद है एक जुनून लेकर किसी चीज को हासिल करना तो इसलिए हर व्यक्ति का जो अब तक पर्सनैलिटी है व्यक्तित्व के आधार पर वह उनका जिंदगी का मकसद अलग अलग है लेकिन हम यह कहते हैं कि भले ही जिसका जो भी मकसद हो लेकिन मेजॉरिटी के हिसाब से यह होना चाहिए कि मानवता अपनी जिंदगी का मकसद होना चाहिए आप दूसरों को भी बुलाना बोलिए दूसरों को बनाना सिखाइए ताकि आपके साथ बुरा ना हो और आप भी बुरा ना करो फिर जिस हिसाब से आप खाते हो आपका खाना-पीना रहन-सहन अपने चरणों की प्रकृति के साथ मिला जुला कर आप कीजिए तो आप बीमार भी नहीं पढ़ोगे आपके साथ नकारात्मक गतिविधियां या नफरत मत जो ऊर्जा होता है या नकद में हो सकती होते हैं वह आपके साथ भी नहीं होगा अब हमेशा पॉजिटिव रहोगे और आप जितना पॉजिटिव रहोगे आप उतना ही दूसरों के लिए काम कर सकते हो आप अपना काम कर सकते हो तो इसीलिए जिंदगी का मकसद है ऐसा होना चाहिए आप भी खुश रहो और दूसरे को खुश रखें धन्यवाद

aapka sawaal hai zindagi ka maksad kya hai dekhiye yah bhi depend karta hai logo ke aur sangati ke upar kisi ka maksad hai ek accha insaan banna toh kisi ka naksha se bahut amir banna toh kisi ka maksad hai ek junun lekar kisi cheez ko hasil karna toh isliye har vyakti ka jo ab tak personality hai vyaktitva ke aadhaar par vaah unka zindagi ka maksad alag alag hai lekin hum yah kehte hain ki bhale hi jiska jo bhi maksad ho lekin mejariti ke hisab se yah hona chahiye ki manavta apni zindagi ka maksad hona chahiye aap dusro ko bhi bulana bolie dusro ko banana sikhaiye taki aapke saath bura na ho aur aap bhi bura na karo phir jis hisab se aap khate ho aapka khana peena rahan sahan apne charno ki prakriti ke saath mila jula kar aap kijiye toh aap bimar bhi nahi padhoge aapke saath nakaratmak gatividhiyan ya nafrat mat jo urja hota hai ya nakad mein ho sakti hote hain vaah aapke saath bhi nahi hoga ab hamesha positive rahoge aur aap jitna positive rahoge aap utana hi dusro ke liye kaam kar sakte ho aap apna kaam kar sakte ho toh isliye zindagi ka maksad hai aisa hona chahiye aap bhi khush raho aur dusre ko khush rakhen dhanyavad

आपका सवाल है जिंदगी का मकसद क्या है देखिए यह भी डिपेंड करता है लोगों के और संगति के ऊपर कि

Romanized Version
Likes  132  Dislikes    views  1856
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!