play
user

Shahzad Akhtar

Teacher - Biology

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वरुण जो ग्रसित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंचकर स्वस्थ व्यक्ति को भी संक्रमित कर देता है तो उसे संचरण यह रोग कहते हैं जैसे अगर हम बात करें कॉमन कोल्ड एंड सर्दी जुकाम को तो सर्दी जुकाम अगर किसी व्यक्ति को हुआ रहता है तो उस व्यक्ति के संपर्क में कोई स्वस्थ व्यक्ति का आता है तो स्वस्थ व्यक्ति को भी सर्दी जुकाम हो जाता है और एड्रेस भी अगर किसी भी संपर्क में कोई व्यक्ति जाता है ऐसे कोई व्यक्ति ग्रसित है अगर उसके संपर्क में कोई व्यक्ति जाता है तो स्वास्थ्य व्यक्ति भी इसका शिकार हो जाता है तो इस तरह के रोग को हम लोग संसद के दो कहेंगे अर्थात जो तो एक ग्रसित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक संस्कृत हो सकते हैं उसे संचलन यरो कहेंगे अगर हम बात करें इसके दूसरे पहलू और संचरण लिए रोक की तो कुछ ऐसे लोग होते हैं जो ग्रसित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक हस्तांतरित नहीं होते हैं जैसे अगर हम मान ले हमारे पेट में दर्द है तो यह दर्द किसी दूसरे स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में नहीं जा सकते हैं तो या फिर सिर में दर्द है या फिर हमें कहीं पर कट गया तो यह एक तरह के रोग है लेकिन यह लोग स्वस्थ व्यक्ति के शरीर को प्रभावित नहीं कर सकते हैं तो ऐसे लोगों को कहेंगे और संचार यारों धन्यवाद

varun jo grasit vyakti se swasthya vyakti tak pahuchkar swasthya vyakti ko bhi sankrameet kar deta hai toh use sancharan yah rog kehte hain jaise agar hum baat kare common cold and sardi zukam ko toh sardi zukam agar kisi vyakti ko hua rehta hai toh us vyakti ke sampark mein koi swasthya vyakti ka aata hai toh swasthya vyakti ko bhi sardi zukam ho jata hai aur address bhi agar kisi bhi sampark mein koi vyakti jata hai aise koi vyakti grasit hai agar uske sampark mein koi vyakti jata hai toh swasthya vyakti bhi iska shikaar ho jata hai toh is tarah ke rog ko hum log sansad ke do kahenge arthat jo toh ek grasit vyakti se swasthya vyakti tak sanskrit ho sakte hain use sanchalan yaro kahenge agar hum baat kare iske dusre pahaloo aur sancharan liye rok ki toh kuch aise log hote hain jo grasit vyakti se swasthya vyakti tak hastaantarit nahi hote hain jaise agar hum maan le hamare pet mein dard hai toh yah dard kisi dusre swasthya vyakti ke sharir mein nahi ja sakte hain toh ya phir sir mein dard hai ya phir hamein kahin par cut gaya toh yah ek tarah ke rog hai lekin yah log swasthya vyakti ke sharir ko prabhavit nahi kar sakte hain toh aise logo ko kahenge aur sanchar yaaron dhanyavad

वरुण जो ग्रसित व्यक्ति से स्वस्थ व्यक्ति तक पहुंचकर स्वस्थ व्यक्ति को भी संक्रमित कर देता

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  299
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
sun charaniya rog kise kahate hain ; sancharan rog kise kahate hain ; संचरणीय रोग किसे कहते हैं ; charaniya rog kise kahate hain ; sanchaniya rog kise kahate hain ; संचरण रोग किसे कहते हैं ; संचारिणी रोग किसे कहते हैं ; sancharniya rog kise kahate hain ; संचनिया रोग किसे कहते हैं ; sun charaniya rog ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!