ट्रेड वॉर से पूंजी प्रवाह और व्यापार पर पड़ेगा असर: नि​र्मला सीतारमण - आपकी राय?...


user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

0:37
Play

Likes  54  Dislikes    views  964
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रिपोर्ट से पूंजी प्रवाह और व्यापार पत्थर का रास्ता जी हां मास्टर मिल की बात इस तरह से इस मामले में तो सही है क्योंकि चाइना और अमेरिका के बीच में खींची और उन्होंने अमेरिका ने पहले चाइना के उत्पादों पर एक्साइज ड्यूटी लगाई थी और उसके बाद फिर चाइना में भी उसका प्रतिभा को देखकर अमित के प्रोडक्ट के ऊपर भी ड्यूटी एक्सेस लगाई थी अब मिस कॉल चाइना का चैट में चल रहा था उसमें भारत को जगह अच्छी मिल सकती उसका फायदा मिल सकता था और ऐसा करने की कोशिश की थी लेकिन चाइना के पूर्व विदेश मंत्री अतुल तलाश बंधी हुई है भारत को लाभ नहीं मिल सकता क्योंकि जब अमेरिका और चीन का चैनल चल रहा था तब भारत को चीन से और चीन को भारत से इसमें लाभ मिलने की गुंजाइश थी लेकिन अब वह दूधली होती दिखाइए पूंजी प्रवाह आना कम व्यापार पर भी काफी गलत प्रभाव पड़ेगा लेकिन खुद ही भारत का इतना बड़ा मार्केट सब्जी मार्केट भारत का खुद ही इतना बड़ा है कि उसके ऊपर हमेशा चीन और अमेरिका की नजर रहती है और वह लोग भारत के मार्केट को कभी भी गंवाना नहीं चाहेंगे चाहे कितना भी टैगोर को लेकिन भारत पर जो प्रतिमा मार्केट आए वह हमेशा अच्छा रहता है और रहेगा भले ही थोड़ा कम हो लेकिन जब तक भारत एक्साइज ड्यूटी अगर नहीं लगता है किसी कीमत पर तब तक कोई भी भारत के अंदर का जो है जमीन पिक्चर के विशेष लाभ लेने का कोई भी गुंजाइश कम रहेगी धन्यवाद

report se punji pravah aur vyapar patthar ka rasta ji haan master mil ki baat is tarah se is mamle mein toh sahi hai kyonki china aur america ke beech mein khinchi aur unhone america ne pehle china ke utpado par excise duty lagayi thi aur uske baad phir china mein bhi uska pratibha ko dekhkar amit ke product ke upar bhi duty access lagayi thi ab miss call china ka chat mein chal raha tha usme bharat ko jagah achi mil sakti uska fayda mil sakta tha aur aisa karne ki koshish ki thi lekin china ke purv videsh mantri atul talash bandhi hui hai bharat ko labh nahi mil sakta kyonki jab america aur china ka channel chal raha tha tab bharat ko china se aur china ko bharat se isme labh milne ki gunjaiesh thi lekin ab vaah dudhli hoti dikhaaiye punji pravah aana kam vyapar par bhi kaafi galat prabhav padega lekin khud hi bharat ka itna bada market sabzi market bharat ka khud hi itna bada hai ki uske upar hamesha china aur america ki nazar rehti hai aur vaah log bharat ke market ko kabhi bhi ganvana nahi chahenge chahen kitna bhi tagore ko lekin bharat par jo pratima market aaye vaah hamesha accha rehta hai aur rahega bhale hi thoda kam ho lekin jab tak bharat excise duty agar nahi lagta hai kisi kimat par tab tak koi bhi bharat ke andar ka jo hai jameen picture ke vishesh labh lene ka koi bhi gunjaiesh kam rahegi dhanyavad

रिपोर्ट से पूंजी प्रवाह और व्यापार पत्थर का रास्ता जी हां मास्टर मिल की बात इस तरह से इस

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1042
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!