कमलेश तिवारी की लखनऊ में गला रेतकर हत्या कर दी गई थी, इतने बड़े नेता के लिए कोई सुरक्षा नहीं थी?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों हमारे देश में हमारे देश के लिए हमारे धर्म के लिए चीनी वाला व्यक्ति सुरक्षित नहीं है हमारे देश हमारे धर्म का ठेका लेने वाले व्यवसाई लोग ही सुरक्षित है कमलेश तिवारी जैसे लोग सुरक्षित नहीं है हमारे देश में धर्म की आवाज उठाने वाला सुरक्षित नहीं है वास्तविकता देश के प्रति इसकी आवाज उठाने वाला पास्ता में हमारे देश सुरक्षित नहीं है असतो हमारे देश में आज माफिया वर्क हावी हो गया है हिमाचल वर्क ना किसी की जाती है ना किसी का कर न किसी का बंधु और ना ही यह देश का विशिष्ट अपने व्यवसाय का ऐसा कर रहा है आज से मर जाए जाति धर्म को लेकर ख्याल रखता चलाई जाती है वैमनस्यता फैलाई आती है आज हमारे देश सत्ता के लिए लोग जाति धर्म को गुमराह करते हैं फेसबुक आज समाज में समाज की आवाज को दबा दें एक पाठ कमलेश तिवारी जैसा बड़ा नेता एक पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष एक फर्म का उपासक अपने ही देश अपने ही घर में सुरक्षित नहीं यह विडंबना ही तो है क्यों के हत्यारे पकड़े नहीं आते वास्तविक हत्यारे जो आज खुले और इधर-उधर क्रिमिनल उठाई उन पर आरोप साबित कि देश की जनता को गुमराह करती है जनता को जवाब देकर के यही हो रहा है मेरिट लिस्ट नहीं हमारे देश में शिक्षा है शिक्षा स्वास्थ्य और ना ही रोजगार और है तो इन पर काबिज हमारा नेता उसका परिवार उसका रिश्तेदार एक आवेश है परिवारवाद चल रहा च

doston hamare desh me hamare desh ke liye hamare dharm ke liye chini vala vyakti surakshit nahi hai hamare desh hamare dharm ka theka lene waale vyavasai log hi surakshit hai kamlesh tiwari jaise log surakshit nahi hai hamare desh me dharm ki awaaz uthane vala surakshit nahi hai vastavikta desh ke prati iski awaaz uthane vala pasta me hamare desh surakshit nahi hai asto hamare desh me aaj mafia work haavi ho gaya hai himachal work na kisi ki jaati hai na kisi ka kar na kisi ka bandhu aur na hi yah desh ka vishisht apne vyavasaya ka aisa kar raha hai aaj se mar jaaye jati dharm ko lekar khayal rakhta chalai jaati hai vaimanasyata failai aati hai aaj hamare desh satta ke liye log jati dharm ko gumrah karte hain facebook aaj samaj me samaj ki awaaz ko daba de ek path kamlesh tiwari jaisa bada neta ek party ka rashtriya adhyaksh ek firm ka upasak apne hi desh apne hi ghar me surakshit nahi yah widambana hi toh hai kyon ke hatyare pakde nahi aate vastavik hatyare jo aaj khule aur idhar udhar criminal uthayi un par aarop saabit ki desh ki janta ko gumrah karti hai janta ko jawab dekar ke yahi ho raha hai merit list nahi hamare desh me shiksha hai shiksha swasthya aur na hi rojgar aur hai toh in par kabij hamara neta uska parivar uska rishtedar ek aavesh hai parivaarvaad chal raha ch

दोस्तों हमारे देश में हमारे देश के लिए हमारे धर्म के लिए चीनी वाला व्यक्ति सुरक्षित नहीं

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  951
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kuchh aisa kar kamateraho ; retakar ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!