क्या आप ईको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल कर के वातावरण को बचा रहें हैं?...


user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या भूखंड पटाखों का इस्तेमाल करके बता उनको बचा रहे हैं मैं तो बचा रहा हूं मैं तोता हूं इस्तेमाल के लिए बच्चों को करता हूं लेकिन कहीं ना कहीं जा इको फ्रेंडली आया है कुछ हद तक ठीक है लेकिन फिर भी उसके अंदर से निकलने वाला जो लिखना है तो प्रभावित करता है लेकिन फिर भी उसके अंदर दूसरों की और चीजों की है और जल्दी से डिलीट हो जाता है तो वह थोड़ा सा

kya bhukhand patakhon ka istemal karke bata unko bacha rahe hain main toh bacha raha hoon main tota hoon istemal ke liye baccho ko karta hoon lekin kahin na kahin ja iko friendly aaya hai kuch had tak theek hai lekin phir bhi uske andar se nikalne vala jo likhna hai toh prabhavit karta hai lekin phir bhi uske andar dusro ki aur chijon ki hai aur jaldi se delete ho jata hai toh vaah thoda sa

क्या भूखंड पटाखों का इस्तेमाल करके बता उनको बचा रहे हैं मैं तो बचा रहा हूं मैं तोता हूं इस

Romanized Version
Likes  324  Dislikes    views  3149
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Abhishek Tripathi

Founder & Director - AK TRIPATHI Home Tutorial

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी आपका प्रश्न है कि क्या इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल करके वातावरण को बचा रहे हैं तो आपको मैं बता दूं मैं तू इको फ्रेंडली क्या मैं तो पटाखों का इस्तेमाल ही नहीं करता हूं मेरा तू वातावरण को बचाने में पूरा पूरा योगदान है और मेरा देश की 130 करोड़ देशवासियों से भी अनुरोध है कि यदि आप पटाखों का इस्तेमाल कर रहे हैं दीवालिया नए साल पर तो आप इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल किशोर कम से कम संख्या में कीजिए ताकि वातावरण को क्षति कम पहुंचे क्योंकि आप दिखते हैं देश में जो प्रदूषण का स्तर है दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है यह हम लोगों के लिए ही समस्या का कारण बन रहा है और लोगों की छमता है कम ही कम हो रही है आप जरा सा जुकाम होता तो आप जल्दी स्वस्थ नहीं हो पाते हैं शरीर पर इसका दुष्प्रभाव पड़ रहा है वातावरण का जल प्रदूषण प्रदूषित हो रहा होता है तो वह मैसेज मैं आपको यह सलाह दूंगा कि आप कोशिश कीजिए वातावरण आपका कम से हमारा वातावरण कम से कम प्रदूषित हो मेरी एक सलाह है सलाम कि आप मेरा यह तो आपने मुझे अपना भाई समझ कर मेरा यह अधिकार समझ सकते हैं कि मैं आपको अधिकार स्वरूप में एक आपको आदेश दे रहा हूं कि आप ऐसा बिल्कुल मत कीजिए आप पटाखों से या फिर कोई भी ऐसी चीज जो वातावरण को दूषित कर रही हो आप मुझसे दूर रही है धन्यवाद मुझे उम्मीद है आपको यह विचार अच्छा लगा होगा आप मुझे फॉलो भी कीजिए

ji aapka prashna hai ki kya iko friendly patakhon ka istemal karke vatavaran ko bacha rahe hain toh aapko main bata doon main tu iko friendly kya main toh patakhon ka istemal hi nahi karta hoon mera tu vatavaran ko bachane mein pura pura yogdan hai aur mera desh ki 130 crore deshvasiyon se bhi anurodh hai ki yadi aap patakhon ka istemal kar rahe hain divaliya naye saal par toh aap iko friendly patakhon ka istemal kishore kam se kam sankhya mein kijiye taki vatavaran ko kshati kam pahuche kyonki aap dikhte hain desh mein jo pradushan ka sthar hai din pratidin badhta hi ja raha hai yah hum logo ke liye hi samasya ka karan ban raha hai aur logo ki kshamta hai kam hi kam ho rahi hai aap zara sa zukam hota toh aap jaldi swasthya nahi ho paate hain sharir par iska dushprabhav pad raha hai vatavaran ka jal pradushan pradushit ho raha hota hai toh vaah massage main aapko yah salah dunga ki aap koshish kijiye vatavaran aapka kam se hamara vatavaran kam se kam pradushit ho meri ek salah hai salaam ki aap mera yah toh aapne mujhe apna bhai samajh kar mera yah adhikaar samajh sakte hain ki main aapko adhikaar swaroop mein ek aapko aadesh de raha hoon ki aap aisa bilkul mat kijiye aap patakhon se ya phir koi bhi aisi cheez jo vatavaran ko dushit kar rahi ho aap mujhse dur rahi hai dhanyavad mujhe ummid hai aapko yah vichar accha laga hoga aap mujhe follow bhi kijiye

जी आपका प्रश्न है कि क्या इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल करके वातावरण को बचा रहे हैं तो आ

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  644
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Ashwani Kumar Singh

Chairman & Director at VEMS

2:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप इको फ्रेंडली पर लागू है फोन करना हटाने में लोगों को भी प्रदूषण फैलाता है आप उसके अकाउंट लिमिट तय कर लीजिए कि आप उससे ज्यादा शिक्षा की पटाखों का इंतजार इस्तेमाल नहीं करेंगे आप बहुत सारे सॉन्ग के आवाज से घर के कोने में जो सफाई के बावजूद छोटे-छोटे वह भी नष्ट हो जाते हैं आवाज करना चाहता है कि आपका पेट में क्या परेशानी डालते हैं पागल इसे बहुत दूर चले जाते हैं यह कम ही उसके पापा में संस्कृति के गहरे जो संकेत हैं गरीबों के पावर हैं जो जीता हो क्या आज पूरे विश्व में सनातन हिंदू धर्म के बारे में लोगों की जिज्ञासा बनी हुई है लोग उसे अपनाना चाहते हैं सब खत्म हो जाएगा किसी ऐसे विचार विचार विचार देने वाले लोगों को जो बैठे हुए हैं उनका एजेंडा है कि आप अपनी जड़ से कटे और जड़ से कट जाएगा तो फिर देश से भी कट जाएगा अपने अपनी जड़ों से कट के आप कहीं के नहीं रहिएगा यह बात हमेशा ध्यान रखिएगा कि जो अच्छा ही आप के दर्द में वह कहीं नहीं कहीं नहीं सारी दुनिया में जो धर्म है बुराई करने का मतलब नहीं है वह एक बंद किताब है केवल और केवल विश्व में एक ही धर्म है सनातन हिंदू धर्म खुली किताब है और उसमें हमेशा संशोधन होता रहता है प्रकृति के अनुसार बदलते हुए व्यवहार के लिए समझ में आ गया इसलिए भाषण ठीक है होना चाहिए होना चाहिए आपको एक लिमिट के अंदर एक समझदारी से विवेकानंद पूछा आनंद के हिसाब से जो जरूरी है जो जो ग्रह है जिसे किसी का नुकसान नहीं है वह आप सब अपना सकते हैं अपनाना चाहिए और करना शुक्रिया शुभ का

kya aap iko friendly par laagu hai phone karna hatane mein logo ko bhi pradushan failata hai aap uske account limit tay kar lijiye ki aap usse zyada shiksha ki patakhon ka intejar istemal nahi karenge aap bahut saare song ke awaaz se ghar ke kone mein jo safaai ke bawajud chhote chhote vaah bhi nasht ho jaate hain awaaz karna chahta hai ki aapka pet mein kya pareshani daalte hain Pagal ise bahut dur chale jaate hain yah kam hi uske papa mein sanskriti ke gehre jo sanket hain garibon ke power hain jo jita ho kya aaj poore vishwa mein sanatan hindu dharm ke bare mein logo ki jigyasa bani hui hai log use apnana chahte hain sab khatam ho jaega kisi aise vichar vichar vichar dene waale logo ko jo baithe hue hain unka agenda hai ki aap apni jad se kate aur jad se cut jaega toh phir desh se bhi cut jaega apne apni jadon se cut ke aap kahin ke nahi rahiega yah baat hamesha dhyan rakhiega ki jo accha hi aap ke dard mein vaah kahin nahi kahin nahi saree duniya mein jo dharm hai burayi karne ka matlab nahi hai vaah ek band kitab hai keval aur keval vishwa mein ek hi dharm hai sanatan hindu dharm khuli kitab hai aur usme hamesha sanshodhan hota rehta hai prakriti ke anusaar badalte hue vyavhar ke liye samajh mein aa gaya isliye bhashan theek hai hona chahiye hona chahiye aapko ek limit ke andar ek samajhdari se vivekananda poocha anand ke hisab se jo zaroori hai jo jo grah hai jise kisi ka nuksan nahi hai vaah aap sab apna sakte hain apnana chahiye aur karna shukriya shubha ka

क्या आप इको फ्रेंडली पर लागू है फोन करना हटाने में लोगों को भी प्रदूषण फैलाता है आप उसके अ

Romanized Version
Likes  179  Dislikes    views  2605
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चाप इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल करके बताओ तो बता दे दिया इको फ्रेंडली जो पटाखे होते हैं उन्हें जलाने से दुआ काम होता है और वह जो है 40 50 फेस्टिवल से ज्यादा नहीं होता है इसलिए को फ्रेंडली पटाखे जलाने में ही हमारी भलाई है जहां तक हो सके पटाखों जलाने से हमें बचना चाहिए लेकिन युवा पीढ़ी और बच्चे नहीं मानते हैं और वह पटाखे जलाकर आनंद लेने की जिद करके ही रहते हैं और वह करते भी है एक त्यौहारों का मौसम होता है दिवाली में अपना ही अलग मूड होता है लोगों का और वह आनंद प्राप्त करने के लिए एक दूसरे से मिलकर और पटाखों का आनंद लेते फ्रेंडली पटाखे बहुत ही अच्छे हैं अगर सो कर के समूह में जो दिल्ली में जैसा आयोजन हुआ है ऐसा हर पैरों में अगर हो तो को करनी पटाखे भी का भी उपयोग और भी कम किया जा सकता है और पारंपरिक पटाखे जो है वह तो जैसे कि सांप होता है वह सांप की गोली उसने एक गोली चलाने से 464 सिगरेट पीने जितनी गैस हम अपने चेहरे में लेते ऐसे पटाखों से हमें बचना चाहिए एक फुलझड़ी होती है उसको जलाने में हम हाथ से पकड़ कर पीरगड़ी जलाते हैं तो भी हमें इतना सारा दूंगा अपने पेपर में जाता है कि समझ ले कि 407 407 हमने पी है इसलिए पटाखों पर जिससे ज्यादा धुआं होता है और ज्यादा आवाज होता है यह सब पटाखे जलाने से हमें बिल्कुल ही रखना चाहिए उनको प्रेमजी पटाखे जलाकर हमें अगर आनंद ले सकते हैं वह बहुत अच्छी बात है हैप्पी दिवाली दिवाली शुभ हो मंगलमय हो और आने वाला वर्ष

chap iko friendly patakhon ka istemal karke batao toh bata de diya iko friendly jo patakhe hote hain unhe jalane se dua kaam hota hai aur vaah jo hai 40 50 festival se zyada nahi hota hai isliye ko friendly patakhe jalane mein hi hamari bhalai hai jaha tak ho sake patakhon jalane se hamein bachna chahiye lekin yuva peedhi aur bacche nahi maante hain aur vaah patakhe jalakar anand lene ki jid karke hi rehte hain aur vaah karte bhi hai ek tyauharon ka mausam hota hai diwali mein apna hi alag mood hota hai logo ka aur vaah anand prapt karne ke liye ek dusre se milkar aur patakhon ka anand lete friendly patakhe bahut hi acche hain agar so kar ke samuh mein jo delhi mein jaisa aayojan hua hai aisa har pairon mein agar ho toh ko karni patakhe bhi ka bhi upyog aur bhi kam kiya ja sakta hai aur paramparik patakhe jo hai vaah toh jaise ki saap hota hai vaah saap ki goli usne ek goli chalane se 464 cigarette peene jitni gas hum apne chehre mein lete aise patakhon se hamein bachna chahiye ek fulajhadi hoti hai usko jalane mein hum hath se pakad kar piragadi jalate hain toh bhi hamein itna saara dunga apne paper mein jata hai ki samajh le ki 407 407 humne p hai isliye patakhon par jisse zyada dhuan hota hai aur zyada awaaz hota hai yah sab patakhe jalane se hamein bilkul hi rakhna chahiye unko premji patakhe jalakar hamein agar anand le sakte hain vaah bahut achi baat hai happy diwali diwali shubha ho mangalmay ho aur aane vala varsh

चाप इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल करके बताओ तो बता दे दिया इको फ्रेंडली जो पटाखे होते है

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1413
WhatsApp_icon
user

Nitish Kumar

RRB Railway JE

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल क्या आप इको फ्रेंडली पता करके बताओ मैं कहना चाहूंगा कि मैं इको फ्रेंडली पटाखों का इस्तेमाल करके नहीं बचा रहा हूं पटाखों पटाखों का इस्तेमाल

aapka sawaal kya aap iko friendly pata karke batao main kehna chahunga ki main iko friendly patakhon ka istemal karke nahi bacha raha hoon patakhon patakhon ka istemal

आपका सवाल क्या आप इको फ्रेंडली पता करके बताओ मैं कहना चाहूंगा कि मैं इको फ्रेंडली पटाखों

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  263
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इको फ्रेंडली इस्तेमाल करते हैं क्योंकि हम कम प्रदूषण वाले और कम साउंड वाले पटाखों का इस्तेमाल करेंगे तो हमारे वातावरण पर दो बुरा असर पड़ रहा था उसे हमें निजात मिलेगी और दोस्तों आशा करता हूं आप भी इस प्रकार से इस्तेमाल कीजिए ताकि इस वातावरण को हम सती होने से बचा सके मेरे द्वारा दी गई जानकारी चाहिए

iko friendly istemal karte hain kyonki hum kam pradushan waale aur kam sound waale patakhon ka istemal karenge toh hamare vatavaran par do bura asar pad raha tha use hamein nijat milegi aur doston asha karta hoon aap bhi is prakar se istemal kijiye taki is vatavaran ko hum sati hone se bacha sake mere dwara di gayi jaankari chahiye

इको फ्रेंडली इस्तेमाल करते हैं क्योंकि हम कम प्रदूषण वाले और कम साउंड वाले पटाखों का इस्ते

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  345
WhatsApp_icon
user

Sonu Rajput Official

I am a Youtuber ⬇️

0:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां मैं भी इको फ्रेंडली पटाखों का ही इस्तेमाल करता हूं आपको भी यही करना चाहिए क्योंकि इससे हमारे वातावरण और जो बुजुर्गों को भारी क्षति पहुंचती है

haan main bhi iko friendly patakhon ka hi istemal karta hoon aapko bhi yahi karna chahiye kyonki isse hamare vatavaran aur jo bujurgon ko bhari kshati pohchti hai

हां मैं भी इको फ्रेंडली पटाखों का ही इस्तेमाल करता हूं आपको भी यही करना चाहिए क्योंकि इससे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
user

Prabhat Kumar

Teacher at Oxford English High School 7 year experience

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप इको फ्रेंडली पटाखों का यूज करके अपने वातावरण को बचा सकते हैं बशर्ते वह पटाखा में ज्यादा शोरगुल और ज्यादा वगैरह नहीं निकलता हूं

aap iko friendly patakhon ka use karke apne vatavaran ko bacha sakte hai basharte vaah patakha mein zyada shoragul aur zyada vagera nahi nikalta hoon

आप इको फ्रेंडली पटाखों का यूज करके अपने वातावरण को बचा सकते हैं बशर्ते वह पटाखा में ज्यादा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!