क्यूँ मनायी जाती है धनतेरस? आपके लिए क्या महत्व है धनतेरस का?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:06

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों मनाई जाती है धनतेरस आपके लिए क्या मुझको है धनतेरस का दीक्षित धनतेरस मनाने का आशय दो तरह से है एक तो है कि समुद्र मंथन के दरमियान भगवान धन्वंतरी उत्पन्न हुए समुद्र मंथन से उसे देव ने मानव समाज को पृथ्वी पर समर्पित किया ताकि मानव समाज इंसान वह खुद स्वस्थ रह सके सब लोग और बीमारी ना पड़े ताकि बहुत मेडिकल के क्षेत्र में खर्च ना करना पड़े स्वस्थ दिमाग रहेगा तो स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग रहता है उस बात को मानते हुए आयुर्वेद भगवान धन्वंतरि जी की आरती पूजा करते अपने आप में बहुत बड़ा त्यौहार है उसी के ऊपर से धनतेरस नाम पड़ा है और हम आज धन की पूजा करते हैं लक्ष्मी जी को हम बनाते हैं उनकी आत्मा करते हैं और दिवाली चीजों से वार रमा एकादशी के दिन शुरू होता है और उसने आज तीसरा दिन होता है इस तरह से धनतेरस को हम उनकी पूजा करते और जन्म फ्री भगवान से कामना करते हैं कि पूरे साल हम स्वास्थ्य दिमाग से और धन से हमारा पूरा विश्व सुखी संपन्न रहें यही कामना करते हैं धनतेरस की यही महत्वता हमारे लिए है धन्यवाद

kyon manai jaati hai dhanteras aapke liye kya mujhko hai dhanteras ka dixit dhanteras manne ka aashay do tarah se hai ek toh hai ki samudra manthan ke darmiyaan bhagwan dhanwantari utpann hue samudra manthan se use dev ne manav samaj ko prithvi par samarpit kiya taki manav samaj insaan vaah khud swasthya reh sake sab log aur bimari na pade taki bahut medical ke kshetra mein kharch na karna pade swasthya dimag rahega toh swasthya sharir mein swasthya dimag rehta hai us baat ko maante hue ayurveda bhagwan dhanvantari ji ki aarti puja karte apne aap mein bahut bada tyohar hai usi ke upar se dhanteras naam pada hai aur hum aaj dhan ki puja karte hain laxmi ji ko hum banate hain unki aatma karte hain aur diwali chijon se war rama ekadashi ke din shuru hota hai aur usne aaj teesra din hota hai is tarah se dhanteras ko hum unki puja karte aur janam free bhagwan se kamna karte hain ki poore saal hum swasthya dimag se aur dhan se hamara pura vishwa sukhi sampann rahein yahi kamna karte hain dhanteras ki yahi mahatvata hamare liye hai dhanyavad

क्यों मनाई जाती है धनतेरस आपके लिए क्या मुझको है धनतेरस का दीक्षित धनतेरस मनाने का आशय दो

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1366
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Nitish Kumar

RRB Railway JE

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों मनाई जाती है धनतेरस आपके लिए क्या महत्व है धनतेरस धनतेरस पर लक्ष्मी नए-नए वालों को खरीदा जाता है ऐसे लिखा जाता है आप लोग की जैसी मर्जी आप सब की दुनिया में अलग-अलग भट्ट की चीजें होती है

kyon manai jaati hai dhanteras aapke liye kya mahatva hai dhanteras dhanteras par laxmi naye naye walon ko kharida jata hai aise likha jata hai aap log ki jaisi marji aap sab ki duniya mein alag alag bhatt ki cheezen hoti hai

क्यों मनाई जाती है धनतेरस आपके लिए क्या महत्व है धनतेरस धनतेरस पर लक्ष्मी नए-नए वालों को ख

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  287
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धनतेरस के पीछे काफी सारी मित्र लॉजिकल कहानियां हैं जिसमें एक ही है कि लॉर्ड धन्वंतरी जो है वह समुद्र मंथन में से बाहर निकले थे और उन्हें शुभ माना जाता है दीपावली शुभ माना जाता है वह धमकी देता है और इसके अलावा यमराज की पूजा की जाती है इसके अलावा एक कहानी की जाती है क्योंकि अपनी शादी के 4 दिन बाद मर जाएगा सांप के खाने से तो उस वहां पर उन्होंने गेट के बाहर शांत के लिए बहुत सारे आगे नहीं और आभूषण और सोने के सिक्के रख दिए थे कि जब वह गेट तक आया तो उसकी आंखें चोलिया गई और उसने बाइट नहीं किया यानी कि धनतेरस के दिन साफ सफाई की जाती है अच्छे सामान पुण्य के सामान खरीदे जाते हैं ज्वैलरीज खरीदी जाती हैं ताकि हम भी इस तरह से 2 फीट है या जोक भाग्य उसको और अच्छा आयाम दे सके लक्ष्मी को कर सके अपने घर बुला सके क्योंकि इससे दो दिन बाद लक्ष्मी पूजन होता है धन्यवाद

dhanteras ke peeche kaafi saree mitra logical kahaniya hain jisme ek hi hai ki lord dhanwantari jo hai vaah samudra manthan mein se bahar nikle the aur unhe shubha mana jata hai deepawali shubha mana jata hai vaah dhamki deta hai aur iske alava yamraj ki puja ki jaati hai iske alava ek kahani ki jaati hai kyonki apni shadi ke 4 din baad mar jaega saap ke khane se toh us wahan par unhone gate ke bahar shaant ke liye bahut saare aage nahi aur aabhusan aur sone ke sikke rakh diye the ki jab vaah gate tak aaya toh uski aankhen chaulia gayi aur usne byte nahi kiya yani ki dhanteras ke din saaf safaai ki jaati hai acche saamaan punya ke saamaan kharide jaate hain jwailarij kharidi jaati hain taki hum bhi is tarah se 2 feet hai ya joke bhagya usko aur accha aayam de sake laxmi ko kar sake apne ghar bula sake kyonki isse do din baad laxmi pujan hota hai dhanyavad

धनतेरस के पीछे काफी सारी मित्र लॉजिकल कहानियां हैं जिसमें एक ही है कि लॉर्ड धन्वंतरी जो है

Romanized Version
Likes  57  Dislikes    views  1286
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!