#YashChopraDeathAnniversary: क्या कोई भारतीय निर्देशक यश चोपड़ा जैसी फ़िल्मे बना सकता है?...


user

Ramgopal Mali

Film And Tv Director

2:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर फिल्मेकर का एक अलग पैटर्न होता है यह चोपड़ा जी ने इंडस्ट्री में बहुत ही बड़ा योगदान दिया है और आपको बता दूं कि यह चोपड़ा भारत के पंजाब प्रांत जो अभी लाहौर में है वहां पर इनका जन्म हुआ था और उनके दो बेटे हैं उदय चोपड़ा और आदित्य चोपड़ा आदित्य चोपड़ा अभी उनका काम संभाल रहा है वह डायरेक्टर हैं और उनका छोटा बेटा है जो उदय चोपड़ा वह फिल्म में एक्टिंग करता है उन्होंने भक्ति अच्छे-अच्छे मूवी इंडिया को दी है हमारे को दी है 2004 में उन्होंने वीर जारा बनाई और 2012 में जब तक है जान पिक्चर का निर्माण किया और लगातार यह मूवी बनाते ही रहते हैं रवि इनका प्रोडक्शन यशराज फिल्म्स का बहुत ही बड़ा है फिल्म उद्योग में नाम है 2005 में भारतीय सिनेमा के प्रति उनके योगदान के लिए उनको पद्मभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया था 13 अक्टूबर 2012 को चोपड़ा साहब की डेथ हो गई जिसका फिल्म इंडस्ट्री को बहुत बड़ा आघात पहुंचा वह कमी किसी के द्वारा पूरी नहीं हो सकती हां फिर मैं बहुत अच्छी बनती है सबका पैटर्न होता है चोपड़ा साहब की मूवी छोटा सा ही बना सकते क्योंकि सबका अलग अलग नजरिया होता है सबका अलग अलग 20 दिन होता है और आपको शायद याद होगा अभी लोग टाउन में आपने महाभारत देखी होगी यह महाभारत बीआर चोपड़ा यशराज चोपड़ा के बड़े भाई थे उन्होंने निर्देशित किए पहले वो आए थे मुंबई में उसके बाद यशराज चोपड़ा थैंक यू

har filmekar ka ek alag pattern hota hai yah chopra ji ne industry me bahut hi bada yogdan diya hai aur aapko bata doon ki yah chopra bharat ke punjab prant jo abhi lahore me hai wahan par inka janam hua tha aur unke do bete hain uday chopra aur aditya chopra aditya chopra abhi unka kaam sambhaal raha hai vaah director hain aur unka chota beta hai jo uday chopra vaah film me acting karta hai unhone bhakti acche acche movie india ko di hai hamare ko di hai 2004 me unhone veer zara banai aur 2012 me jab tak hai jaan picture ka nirmaan kiya aur lagatar yah movie banate hi rehte hain ravi inka production yashraj films ka bahut hi bada hai film udyog me naam hai 2005 me bharatiya cinema ke prati unke yogdan ke liye unko padmabhushan puraskar se sammanit kiya gaya tha 13 october 2012 ko chopra saheb ki death ho gayi jiska film industry ko bahut bada aaghat pohcha vaah kami kisi ke dwara puri nahi ho sakti haan phir main bahut achi banti hai sabka pattern hota hai chopra saheb ki movie chota sa hi bana sakte kyonki sabka alag alag najariya hota hai sabka alag alag 20 din hota hai aur aapko shayad yaad hoga abhi log town me aapne mahabharat dekhi hogi yah mahabharat br chopra yashraj chopra ke bade bhai the unhone nirdeshit kiye pehle vo aaye the mumbai me uske baad yashraj chopra thank you

हर फिल्मेकर का एक अलग पैटर्न होता है यह चोपड़ा जी ने इंडस्ट्री में बहुत ही बड़ा योगदान दिय

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  551
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
1:52
Play

Likes  15  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
play
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे देश की विषय है कि क्या कोई भारतीय निर्देशक यश चोपड़ा जैसी फिल्में बना सकता है तो बताना चाहेंगे कि आज जैसे जस्ट राज्य की आदत एनिवर्सरी है और उनको ऐसी फिल्मों के लिए जाना जाता था जो रोमांस से भरी भी होते थे अलग ही उनकी विविधता होती थी उनकी फिल्मों में और यहां पर अगर कंप्रेशन की बात करें तो कहीं कंपैरिजन होता नहीं है क्योंकि हर एक व्यक्ति का अपना एक अलग हो रहा होता है एक अलग ही उसकी फील्ड होती है अलग उसकी कलात्मक शक्ति होती है तो उसका रिकॉर्डिंग हर एक हिंदू जो पर्सनैलिटी अलग-अलग होता है यहां पर उनके जैसी फिल्में बनाने का कोई कंपैरिजन है ही नहीं क्योंकि वह एक अलग तरह की फिल्म बनाते थे अन्य निदेशक हैं वह अपनी अलग तरह की पहचान बना रखी है वह लक फिल्म बनाते हैं तो यहां पर चिरैया तो उसे बैटल हो सकते हैं या उनसे खराब हो सकते हैं बिल्कुल आप कैंडिटो वैसे ही फिल्में कोई बना कर दे दे तो वह चीज नहीं हो सकती क्योंकि वह तो अपने आप में ही एक लीजेंड थे तो उनकी कोई बराबरी की बात हो ही नहीं सकते धन्यवाद

mere desh ki vishay hai ki kya koi bharatiya nirdeshak yash chopra jaisi filme bana sakta hai toh bataana chahenge ki aaj jaise just rajya ki aadat enivarsari hai aur unko aisi filmo ke liye jana jata tha jo romance se bhari bhi hote the alag hi unki vividhata hoti thi unki filmo mein aur yahan par agar compression ki baat kare toh kahin kampairijan hota nahi hai kyonki har ek vyakti ka apna ek alag ho raha hota hai ek alag hi uski field hoti hai alag uski kalaatmak shakti hoti hai toh uska recording har ek hindu jo personality alag alag hota hai yahan par unke jaisi filme banane ka koi kampairijan hai hi nahi kyonki vaah ek alag tarah ki film banate the anya nideshak hain vaah apni alag tarah ki pehchaan bana rakhi hai vaah luck film banate hain toh yahan par chiraiya toh use battle ho sakte hain ya unse kharab ho sakte hain bilkul aap kaindito waise hi filme koi bana kar de de toh vaah cheez nahi ho sakti kyonki vaah toh apne aap mein hi ek Legend the toh unki koi barabari ki baat ho hi nahi sakte dhanyavad

मेरे देश की विषय है कि क्या कोई भारतीय निर्देशक यश चोपड़ा जैसी फिल्में बना सकता है तो बतान

Romanized Version
Likes  331  Dislikes    views  5566
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

3:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश चोपड़ा की एक अच्छी फिल्म निर्देशक से उन्होंने अच्छी फिल्में बनाई भारतीय जनता के लिए मनोरंजन के मनोरंजन दिया संगीत दिया निर्देशन दिया जो कुछ भी उनकी फिल्मों में तो सब कुछ अच्छा था लेकिन यह कहा जाए कि के बाद कोई दूसरा हो गई ही नहीं तो यह उचित नहीं आप इस बात को ऐसे समझ सकते हैं सुनील गावस्कर जी ने 34 सीट बनाई थी तुलु ही सोचे थे यह रिकॉर्ड कोई तोड़ पाएगा या नहीं तोड़ पाएगा उनकी रिकॉर्ड को बहुत से खिलाड़ियों ने तोड़ा उसकी मां विदेशी विदेशी खिलाड़ियों ने तोड़ा हमारे यहां सचिन तेंदुलकर ने उनके रिकॉर्ड को तोड़ा जब उनका रिकॉर्ड सेंचुरी का मना उन्हें क्रिकेट का भगवान कहने लगी लोग जो अतिशयोक्ति है एग्जाम तो केवल इंसान ही है वह भगवान नहीं हो सकता हम होनी क्रिकेट को समर्थन दिया है जीवन का अपना सब कुछ क्रिकेट कुछ उपाय लेकिन भगवान के भगवान की महिमा को छोटा ना किया जाए यह कह सकते कि वह क्रिकेट के एक आदर्श से स्तंभ है वह हम भी मानते हैं अब उनकी रिकॉर्ड को तोड़ने की सूची में विराट कोहली की है कब टूट जाए कोई नहीं जानता या विराट कोहली के रिकॉर्ड को कोई भविष्य में तोड़ पाएगा नहीं तोड़ पाएगा यह चीजें कभी भी अच्छी ने रिकार्ड मिलती टूटने के लिए तो हर कलाकार ने अपने युग में महानतम योगदान दिया चोपड़ा जी का बहुत बड़ा योगदान रहा है निकट भविष्य में कभी हमें उनसे भी अच्छा निर्देशक देखने को मिल सकते वैसे अक्षय कुमार हैं हमारे आमिर खान ने इनका भी निर्देशन बहुत अच्छा रहा उन्होंने बहुत सी फिल्में बनाई है और इनकी फिल्में बी ने इनकी निर्देश उन्होंने निर्देशन भी किया साथ में उन्होंने भूमिका भी निभाई है बहुत अच्छे देखने को मिले और भविष्य में ऐसी भी अच्छा में देखने को मिले तो यह भविष्य का प्रश्न है भविष्य मिर्चा मुट्ठी में होता है वह कोई नहीं जान पाता क्यों क्या

yash chopra ki ek achi film nirdeshak se unhone achi filme banai bharatiya janta ke liye manoranjan ke manoranjan diya sangeet diya nirdeshan diya jo kuch bhi unki filmo mein toh sab kuch accha tha lekin yah kaha jaaye ki ke baad koi doosra ho gayi hi nahi toh yah uchit nahi aap is baat ko aise samajh sakte hain sunil gavaskar ji ne 34 seat banai thi tulu hi soche the yah record koi tod payega ya nahi tod payega unki record ko bahut se khiladiyon ne toda uski maa videshi videshi khiladiyon ne toda hamare yahan sachin tendulkar ne unke record ko toda jab unka record century ka mana unhe cricket ka bhagwan kehne lagi log jo atishayokti hai exam toh keval insaan hi hai vaah bhagwan nahi ho sakta hum honi cricket ko samarthan diya hai jeevan ka apna sab kuch cricket kuch upay lekin bhagwan ke bhagwan ki mahima ko chota na kiya jaaye yah keh sakte ki vaah cricket ke ek adarsh se stambh hai vaah hum bhi maante hain ab unki record ko todne ki suchi mein virat kohli ki hai kab toot jaaye koi nahi jaanta ya virat kohli ke record ko koi bhavishya mein tod payega nahi tod payega yah cheezen kabhi bhi achi ne record milti tutne ke liye toh har kalakar ne apne yug mein mahantam yogdan diya chopra ji ka bahut bada yogdan raha hai nikat bhavishya mein kabhi hamein unse bhi accha nirdeshak dekhne ko mil sakte waise akshay kumar hain hamare aamir khan ne inka bhi nirdeshan bahut accha raha unhone bahut si filme banai hai aur inki filme be ne inki nirdesh unhone nirdeshan bhi kiya saath mein unhone bhumika bhi nibhaai hai bahut acche dekhne ko mile aur bhavishya mein aisi bhi accha mein dekhne ko mile toh yah bhavishya ka prashna hai bhavishya mircha mutthi mein hota hai vaah koi nahi jaan pata kyon kya

यश चोपड़ा की एक अच्छी फिल्म निर्देशक से उन्होंने अच्छी फिल्में बनाई भारतीय जनता के लिए मनो

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1054
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश चोपड़ा कोई प्रतिनिधि सीमा में बहुत ही भावनात्मक मुद्दों से जुड़ी होती थी समाज को एक संदेश देती थी और उसका गीत और संगीत बहुत ही उत्तम कोटि का होता था चाहे कोई भी पिक्चर को यश चोपड़ा की पिक्चर जो है हमेशा यादगार फिल्में उन्होंने की है और उसी के लिए जब प्राण को हमेशा याद रखा जाएगा वह नए कलाकारों कलाकारों को भी मौका बहुत ही शालीनता के लिए जैसे ही कीजो और और जोड़ लेंगे और जो उनकी कला की पहचान किसी भी कलाकार की कला को उजागर करने का भरपूर प्रयास तब तो और अच्छे से कुछ भी अभिनय करके बताते हैं कि यश चोपड़ा जैसे निर्माता-निर्देशक बहुत ही कम वर्तमान समय में उनकी अभी तक तो कोई बराबरी नहीं कर पाया है थोड़ा करवा चौथ करने की कोशिश जरूर करते हैं लेकिन अभी तक जो यश चोपड़ा जी की ऊंचाइयों को अभी तक को नहीं पाता है आशा करते हैं कि फिर से यश चोपड़ा जैसे निर्माता-निर्देशक यश चोपड़ा की बीएफ ऐसी कामना करते हैं हिंदी सिनेमा जगत को हम सबको अच्छे निर्माता-निर्देशक गाने पर शोक जाहिर करना

yash chopra koi pratinidhi seema mein bahut hi bhavnatmak muddon se judi hoti thi samaj ko ek sandesh deti thi aur uska geet aur sangeet bahut hi uttam koti ka hota tha chahen koi bhi picture ko yash chopra ki picture jo hai hamesha yaadgaar filme unhone ki hai aur usi ke liye jab praan ko hamesha yaad rakha jaega vaah naye kalakaron kalakaron ko bhi mauka bahut hi shalinata ke liye jaise hi kijo aur aur jod lenge aur jo unki kala ki pehchaan kisi bhi kalakar ki kala ko ujagar karne ka bharpur prayas tab toh aur acche se kuch bhi abhinay karke batatey hain ki yash chopra jaise nirmaata nirdeshak bahut hi kam vartaman samay mein unki abhi tak toh koi barabari nahi kar paya hai thoda karva chauth karne ki koshish zaroor karte hain lekin abhi tak jo yash chopra ji ki unchaiyon ko abhi tak ko nahi pata hai asha karte hain ki phir se yash chopra jaise nirmaata nirdeshak yash chopra ki bf aisi kamna karte hain hindi cinema jagat ko hum sabko acche nirmaata nirdeshak gaane par shok jaahir karna

यश चोपड़ा कोई प्रतिनिधि सीमा में बहुत ही भावनात्मक मुद्दों से जुड़ी होती थी समाज को एक संद

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1424
WhatsApp_icon
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निर्देशकों किया कलाकारों की आपस में तुलना नहीं करनी चाहिए लेकिन अगर आपने पूछा ही है तो मैं बता दूं कि गुरुदत्त विमल राय जैसे लोगों ने जो फिल्में बनाई उसको सत्यजीत रे ऐसे तमाम कई नाम हैं जिनकी रेटिंग चोपड़ा की फिल्मों से ज्यादा मानी गई और उन्हें समीक्षकों ने भी बहुत ज्यादा चला है तो इसलिए यश चोपड़ा अपने तरह के बेहतरीन निर्देशक हैं लेकिन इनकी तुलना किसी और से करना उचित नहीं है

nirdeshakon kiya kalakaron ki aapas mein tulna nahi karni chahiye lekin agar aapne poocha hi hai toh main bata doon ki gurudutt vimal rai jaise logo ne jo filme banai usko satyajeet ray aise tamaam kai naam hain jinki rating chopra ki filmo se zyada maani gayi aur unhe samikshakon ne bhi bahut zyada chala hai toh isliye yash chopra apne tarah ke behtareen nirdeshak hain lekin inki tulna kisi aur se karna uchit nahi hai

निर्देशकों किया कलाकारों की आपस में तुलना नहीं करनी चाहिए लेकिन अगर आपने पूछा ही है तो मैं

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  302
WhatsApp_icon
user

Sneha Dubey

Journalist

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यश चोपड़ा रोमांटिक पेन बनाने के बादशाह थे और उनके जैसी फिल्म आज तक कोई नहीं बना पाया और ना बना पाएगा उनकी फिल्म में हीरो हीरोइन के रोमांस करने के तरीके को अलग करके दिखा जाता था इसके अलावा फिल्म फिल्म की लोकेशन और गाने संवाद बहुत सारी चीजें जो खुद फाइनल करते थे यश चोपड़ा के निर्देशन करने का अंदाज ही बिल्कुल अलग था उन्होंने बहुत सारी फिल्मों का निर्देशन किया जिसमें जिसमें बहुत सारी फिल्में है डर दिल तो पागल है veer-zaara जब तक है जान दीवार ऐसी कई फिल्में हैं उनके अभिनेता अमिताभ बच्चन शशि कपूर और शाहरुख खान रहे हैं

yash chopra romantic pen banane ke badshah the aur unke jaisi film aaj tak koi nahi bana paya aur na bana payega unki film mein hero heroine ke romance karne ke tarike ko alag karke dikha jata tha iske alava film film ki location aur gaane samvaad bahut saree cheezen jo khud final karte the yash chopra ke nirdeshan karne ka andaaz hi bilkul alag tha unhone bahut saree filmo ka nirdeshan kiya jisme jisme bahut saree filme hai dar dil toh Pagal hai veer zaara jab tak hai jaan deewaar aisi kai filme hain unke abhineta amitabh bachchan shashi kapur aur shahrukh khan rahe hain

यश चोपड़ा रोमांटिक पेन बनाने के बादशाह थे और उनके जैसी फिल्म आज तक कोई नहीं बना पाया और ना

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कोई भारतीय निर्देशक यश चोपड़ा जैसी फिल्में बना सकता है आज दोस्तों बनाने क्यों नहीं सकते हैं क्योंकि यह सी फिल्म बना सकते हैं और उनसे बैटरी भी कर सकते हैं यह तो आने वाला समय बताएगा आपको कि कौन किस जैसी फिल्में बना रहे हैं वक्त कभी किसी का साथ छोड़ देता है और कभी किसी का साथ दे देता है उसके सामने बड़े से बड़े महानायक भी चुके हैं इसलिए दोस्तो आशा करता हूं मेरे द्वारा दी गई जानकारी हिंद जय भारत दोस्तों

kya koi bharatiya nirdeshak yash chopra jaisi filme bana sakta hai aaj doston banane kyon nahi sakte hain kyonki yah si film bana sakte hain aur unse battery bhi kar sakte hain yah toh aane vala samay batayega aapko ki kaun kis jaisi filme bana rahe hain waqt kabhi kisi ka saath chod deta hai aur kabhi kisi ka saath de deta hai uske saamne bade se bade mahanayak bhi chuke hain isliye doston asha karta hoon mere dwara di gayi jaankari hind jai bharat doston

क्या कोई भारतीय निर्देशक यश चोपड़ा जैसी फिल्में बना सकता है आज दोस्तों बनाने क्यों नहीं सक

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  336
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!