#subashchandrabose: आज के दिन सुभाष चंद्रा बोस ने अल्पकालीन सरकार की स्थापना की थी। क्या आपको लगता है इससे भारत को आज़ादी में फ़ायदा हुआ था?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न आज के दिन सुभाष चंद्र बोस ने अल्पकालीन सरकार की स्थापना की थी क्या को लगता है भारत को आजादी व फायदा मिला था लिखिए प्रश्न पूछने बहुत ही शानदार प्रश्न है यह कैसा अध्याय का इतिहास का अध्याय ऐसा है यह जिसको इतिहास से मिटाने की कोशिश की गई इस पूरी घटना को क्रेडिट नहीं मिला है जिसकी यह घटना हकदार थी आश्चर्य की बात तो यह है कि सुभाष चंद्र बोस कोई भारतीय में डालने की कोशिश की गई सुभाष चंद्र बोस ने सिंगापुर में एक अंतरिम सरकार की स्थापना कर ली थी जिसके वह प्रधानमंत्री बने आप सुभाष चंद्र बोस को भारत का पहला प्रधानमंत्री भी मांग सकते हैं और सरकार को दुनिया के कुछ देशों से मान्यता मिल गई थी अंग्रेज इस कदम से बुरी तरह घबरा गए थे इसी समय दूसरे विश्वयुद्ध में से पराजित इंग्लैंड के बहुत सारे सिपाही जो कि भारतीय थे उन्होंने आजाद हिंद फौज ज्वाइन कर ली इससे नेताजी की शक्ति में बहुत वृद्धि उनकी सैन्य ताकत बड़ी तीसरी जो घटना हुई वह थी 1946 में नौसेना का विद्रोह अंग्रेज इन दो तीन कदमों से बुरी तरह घबरा गए और उन्होंने भारत को आजाद करने के बारे में सोचना शुरू कर दिया था कि ऐसा एक घटना थी जिसको इतिहास में वह क्रेडिट नहीं मिला जिस को मिलना चाहिए था और मुझे लगता है कि इन घटनाओं के कारण ही हम को आजादी मिली और किसी और कारण से नहीं मिली जैसा कि हमको पढ़ाया जाता है कि दे दी हमें आजादी बिना खड़ग बिना ढाल ऐसा कुछ नहीं था जी नेताजी के शौर्य और पराक्रम का उनकी रणनीति का हिस्सा था

aapka prashna aaj ke din subhash chandra bose ne alpakaleen sarkar ki sthapna ki thi kya ko lagta hai bharat ko azadi va fayda mila tha likhiye prashna poochne bahut hi shandar prashna hai yah kaisa adhyay ka itihas ka adhyay aisa hai yah jisko itihas se mitane ki koshish ki gayi is puri ghatna ko credit nahi mila hai jiski yah ghatna haqdaar thi aashcharya ki baat toh yah hai ki subhash chandra bose koi bharatiya me dalne ki koshish ki gayi subhash chandra bose ne singapore me ek antarim sarkar ki sthapna kar li thi jiske vaah pradhanmantri bane aap subhash chandra bose ko bharat ka pehla pradhanmantri bhi maang sakte hain aur sarkar ko duniya ke kuch deshon se manyata mil gayi thi angrej is kadam se buri tarah ghabara gaye the isi samay dusre vishwayudh me se parajit england ke bahut saare sipahi jo ki bharatiya the unhone azad hind fauj join kar li isse netaji ki shakti me bahut vriddhi unki sainya takat badi teesri jo ghatna hui vaah thi 1946 me nausena ka vidroh angrej in do teen kadmon se buri tarah ghabara gaye aur unhone bharat ko azad karne ke bare me sochna shuru kar diya tha ki aisa ek ghatna thi jisko itihas me vaah credit nahi mila jis ko milna chahiye tha aur mujhe lagta hai ki in ghatnaon ke karan hi hum ko azadi mili aur kisi aur karan se nahi mili jaisa ki hamko padhaya jata hai ki de di hamein azadi bina khadag bina dhal aisa kuch nahi tha ji netaji ke shorya aur parakram ka unki rananiti ka hissa tha

आपका प्रश्न आज के दिन सुभाष चंद्र बोस ने अल्पकालीन सरकार की स्थापना की थी क्या को लगता है

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  184
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!