जीवन में सिर्फ सुख ही सुख या फिर दुख ही दुख हो, तो जीवन कैसा रहेगा?...


user

Kanhaiya Narang

BusinessCoach, Life Coach, SalesCoach

2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में हर एक चीज का अपना ही महत्व है जैसे दिन है तो रात का भी महत्व है और रात है तो दिन का भी महत्व है इसी तरह से अगर आप किसी पर्वत को देखें पहाड़ को देखें तो पहाड़ में भी चढ़ाती है तो ढलान भी है और जब यह विपरीतार्थक बोध जहां पर है आपको जब वह वह होगा तभी इस जीवन में प्रसंता भी फोटो जैसे जहां अंधकार है वहां प्रकाश में है प्रिय विपरीत जो चीजें हैं यही इन जीवन में हमें सुख और दुख का अनुभव कराती हैं अगर केवल सुख ही सुख हो या केवल दुखी दुख तो जीवन जीने का अनंत चला जाएगा जैसे मिलना और बिछड़ना देखें तो जिसके साथ हमें समय बिताना बहुत अच्छा लगता है अगर हम सिर्फ उसके साथ ही रहेंगे या नहीं सिर्फ मिलन ही मिलन हो बिछड़ना हो ही ना तो थोड़े दिनों के बाद उस मिलने का सुख भी चला जाएगा लेकिन मिलने का सुख बिछड़ने के बाद ही अधिक आता है इसलिए दोस्त एक वस्तु का जो इस संसार में है उसका आनंद तभी आप ले पाएंगे जब दोनों ही सम और विषम दोनों ही बस तुम्हें जीवन में रहेंगे इसलिए सुख और दुख दोनों रहेगा कभी जीवन में आनंद है सिर्फ सुख ही सुख सियासत दुखी दुख से जीवन में आनंद नहीं है धन्यवाद

jeevan me har ek cheez ka apna hi mahatva hai jaise din hai toh raat ka bhi mahatva hai aur raat hai toh din ka bhi mahatva hai isi tarah se agar aap kisi parvat ko dekhen pahad ko dekhen toh pahad me bhi chadhati hai toh dhalan bhi hai aur jab yah vipritarthak bodh jaha par hai aapko jab vaah vaah hoga tabhi is jeevan me prasanta bhi photo jaise jaha andhakar hai wahan prakash me hai priya viprit jo cheezen hain yahi in jeevan me hamein sukh aur dukh ka anubhav karati hain agar keval sukh hi sukh ho ya keval dukhi dukh toh jeevan jeene ka anant chala jaega jaise milna aur bichadana dekhen toh jiske saath hamein samay bitana bahut accha lagta hai agar hum sirf uske saath hi rahenge ya nahi sirf milan hi milan ho bichadana ho hi na toh thode dino ke baad us milne ka sukh bhi chala jaega lekin milne ka sukh bichadane ke baad hi adhik aata hai isliye dost ek vastu ka jo is sansar me hai uska anand tabhi aap le payenge jab dono hi some aur visham dono hi bus tumhe jeevan me rahenge isliye sukh aur dukh dono rahega kabhi jeevan me anand hai sirf sukh hi sukh siyasat dukhi dukh se jeevan me anand nahi hai dhanyavad

जीवन में हर एक चीज का अपना ही महत्व है जैसे दिन है तो रात का भी महत्व है और रात है तो दिन

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  557
KooApp_icon
WhatsApp_icon
20 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
सुख और दुख को किस प्रकार ग्रहण करना चाहिए ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!