हमें अपनी पढ़ाई कैसे चालू रखनी चाहिए और कैसे याद करना चाहिए?...


play
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

3:10

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा हमें अपनी पढ़ाई करके चालू रखने और क्या चाहिए मुझे याद रखना है एक चीज ही बातें पढ़ाई कभी खत्म ही नहीं होती कभी बंदी नहीं होती तुझे याद रखने या फिर से चालू करने का कोई अर्थ नहीं जब आप लगातार किसी विषय का अध्ययन करेंगे निरंतर अध्ययन करेंगे तो निश्चित रूप से आप 9:00 से 22:10 से 23:10 से 22:00 तक आपका लक्ष्य जो आपने योजना बनाइए जो आपने फ्रिज के सपने देखें उसके लिए आपको पढ़ना है और कितने ही विषम परिस्थितियां हैं आप उन सब का पहाड़ की तरह डटकर सामना करें लेकिन अपनी पढ़ाई कतई ना छोड़ें उसे चालू रखें उसे कंटिन्यू रखें अब मैं खुशियां मजबूरियां मरे मार्ग में बाधक हो जाती है और हम घबराकर पढ़ाई को बीच में छोड़ देते हैं यह तो मारे परिश्रम का फल है हमारी निष्ठा हमारी लग्न का परिचायक है हमारी योग्यता का उदाहरण है हमारी कार्यक्षमता हमारी शक्ति का यह परीक्षा है इसलिए एक लक्ष्य तक गांव में प्राप्त करना है उस लक को प्राप्त करने तक तो हमें पढ़ाई जारी रखनी रखनी है लेकिन हम लक्ष्य प्राप्त करने दोगी अपनी पढ़ाई को जारी रख सकते हैं क्योंकि अपनी हजारों लाखों लोगों को अपने सपने पूरे करने उन सपनों को पूरा करने में आप मार्गदर्शक बन सकते हैं सहयोगी बन सकते हैं उनके लिए आप कोआर्डिनेशन कर सकते हैं यही तो एक पढ़ाई को जारी रखने का एक तरीका है और दूसरा सिर्फ ये तरीका ने अगर हम पहले विद्यार्थी के रूप में पढ़ते हैं फिर अध्यापक के रूप में पढ़ाते हैं मार्गदर्शक के रुप में सलाह देते तो हमारी पढ़ाई करने की याद जखीम बच्चे बच्चे पूछते हैं सर आपको इतना सारा कैसी याद रहता है यह बच्चों का स्वाभाविक है लेकिन मुझे इसकी उत्तर देने में कहीं भी कोई संकोच नहीं है बच्चों में आपको पढ़ाता हूं पढ़ता रहता हूं रात दिन में आपके लिए प्रयास करता रहता हूं कि मेरा दैनिक अभ्यास मेरे लिए एक शक्ति के रूप में रहता है इतने मुझे कहीं भी ऐसा महसूस नहीं होता कि मुझे याद करना पड़ा है नींद चैन की जिंदगी का एक हिस्सा हो जाता है तो पहले पढ़ाई अपने लिए करनी है फिर पढ़ाई को निरंतर चालू रखना और बहुत से लोगों के जीवन के सपनों को पूरा करने के लिए आवश्यक है

aapne kaha hamein apni padhai karke chaalu rakhne aur kya chahiye mujhe yaad rakhna hai ek cheez hi BA tein padhai kabhi khatam hi nahi hoti kabhi BA ndi nahi hoti tujhe yaad rakhne ya phir se chaalu karne ka koi arth nahi jab aap lagatar kisi vishay ka adhyayan karenge nirantar adhyayan karenge toh nishchit roop se aap 9 00 se 22 10 se 23 10 se 22 00 tak aapka lakshya jo aapne yojana BA naiye jo aapne fridge ke sapne dekhen uske liye aapko padhna hai aur kitne hi visham paristhiyaann hai aap un sab ka pahad ki tarah dantkar samana kare lekin apni padhai katai na choodey use chaalu rakhen use continue rakhen ab main khushiya majabooriyan mare marg mein BA dhak ho jaati hai aur hum ghabarakar padhai ko beech mein chod dete hai yah toh maare parishram ka fal hai hamari nishtha hamari lagn ka parichayak hai hamari yogyata ka udaharan hai hamari karyakshamata hamari shakti ka yah pariksha hai isliye ek lakshya tak gaon mein prapt karna hai us luck ko prapt karne tak toh hamein padhai jaari rakhni rakhni hai lekin hum lakshya prapt karne dogi apni padhai ko jaari rakh sakte hai kyonki apni hazaro laakhon logo ko apne sapne poore karne un sapno ko pura karne mein aap margadarshak BA n sakte hai sahyogi BA n sakte hai unke liye aap coordination kar sakte hai yahi toh ek padhai ko jaari rakhne ka ek tarika hai aur doosra sirf ye tarika ne agar hum pehle vidyarthi ke roop mein padhte hai phir adhyapak ke roop mein padhate hai margadarshak ke roop mein salah dete toh hamari padhai karne ki yaad jakhim BA cche BA cche poochhte hai sir aapko itna saara kaisi yaad rehta hai yah BA cchon ka swabhavik hai lekin mujhe iski uttar dene mein kahin bhi koi sankoch nahi hai BA cchon mein aapko padhata hoon padhata rehta hoon raat din mein aapke liye prayas karta rehta hoon ki mera dainik abhyas mere liye ek shakti ke roop mein rehta hai itne mujhe kahin bhi aisa mehsus nahi hota ki mujhe yaad karna pada hai neend chain ki zindagi ka ek hissa ho jata hai toh pehle padhai apne liye karni hai phir padhai ko nirantar chaalu rakhna aur BA hut se logo ke jeevan ke sapno ko pura karne ke liye aavashyak hai

आपने कहा हमें अपनी पढ़ाई करके चालू रखने और क्या चाहिए मुझे याद रखना है एक चीज ही बातें पढ़

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1228
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!