शिक्षण सबसे महत्वपूर्ण पेशा क्यों है?...


play
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं एक शिक्षक हूं तो मैं तो इसके ऊपर बहुत अगर आप बोले तो मैं घंटों तक बोल सकता हूं लेकिन अगर बहुत शॉर्ट में बताया कि शिक्षण सबसे महत्वपूर्ण क्यों है पैसा तो मैं कहना चाहूंगा कि आप देखिए कोई भी एक शिक्षक के अलावा कोई भी हो या ही डॉक्टर हो वकील हो इंजीनियर हो कोई भी हो तू जो पढ़े-लिखे आगे बढ़ा है उसे मिली है क्या उससे पूछेगा कि आपके जीवन को इतनी बढ़िया तरीके से आप ने बनाया है उसके पीछे किसका हाथ है सबसे बड़ा तो किसी ना किसी शिक्षक का नाम वह अवश्य लेगा और आप अगर उससे पूछेंगे कि आपने आप अपने जीवन में किस से आपने इतना बढ़िया तरीके से जीवन जीना सिखा और इतना आगे बढ़े तो उसके पीछे गुरुजी उसके गुरु का हाथ अवश्य होगा तो शिक्षण शिक्षक एक ऐसी राह है जो खुद वही रहती लेकिन औरों को मंजिल तक पहुंचाती है इसी तरह से एक शिक्षक अपने बच्चों को अपने वर्ग में अपने क्लास में जितने भी बच्चे उनके पास आते हैं उनमें से अलग-अलग बच्चों को किस तरह से पढ़ाई कराना है उसे किस तरह से किस क्षेत्र में आगे बढ़ी होते ही करना है उनको सब उस तरह से तैयार करना है वह सब एक शिक्षक के हाथ में होता तो जितना बढ़िया शिक्षक उतना ही बढ़िया शिक्षण होगा और जितना बढ़िया शिक्षण होगा उतने ही देश के बच्चे और देश के युवा आगे बढ़ेंगे तो पूरे देश का भविष्य एक शिक्षक के हाथों नहीं होता है और कितना बढ़िया शिक्षक और शिक्षण होगा उतना ही वह देश आगे बढ़ेगा

main ek shikshak hoon toh main toh iske upar bahut agar aap bole toh main ghanto tak bol sakta hoon lekin agar bahut short mein bataya ki shikshan sabse mahatvapurna kyon hai paisa toh main kehna chahunga ki aap dekhiye koi bhi ek shikshak ke alava koi bhi ho ya hi doctor ho vakil ho engineer ho koi bhi ho tu jo padhe likhe aage badha hai use mili hai kya usse puchhega ki aapke jeevan ko itni badhiya tarike se aap ne banaya hai uske peeche kiska hath hai sabse bada toh kisi na kisi shikshak ka naam vaah avashya lega aur aap agar usse puchenge ki aapne aap apne jeevan mein kis se aapne itna badhiya tarike se jeevan jeena sikha aur itna aage badhe toh uske peeche guruji uske guru ka hath avashya hoga toh shikshan shikshak ek aisi raah hai jo khud wahi rehti lekin auron ko manjil tak pohchti hai isi tarah se ek shikshak apne baccho ko apne varg mein apne kashi mein jitne bhi bacche unke paas aate hain unmen se alag alag baccho ko kis tarah se padhai krana hai use kis tarah se kis kshetra mein aage badhi hote hi karna hai unko sab us tarah se taiyar karna hai vaah sab ek shikshak ke hath mein hota toh jitna badhiya shikshak utana hi badhiya shikshan hoga aur jitna badhiya shikshan hoga utne hi desh ke bacche aur desh ke yuva aage badhenge toh poore desh ka bhavishya ek shikshak ke hathon nahi hota hai aur kitna badhiya shikshak aur shikshan hoga utana hi vaah desh aage badhega

मैं एक शिक्षक हूं तो मैं तो इसके ऊपर बहुत अगर आप बोले तो मैं घंटों तक बोल सकता हूं लेकिन अ

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  429
KooApp_icon
WhatsApp_icon
11 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!