क्या शिक्षक की अब डिमांड है?...


user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

3:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन जहां तक शिक्षक की डिमांड की बात है कि अब डिमांड है या नहीं अब क्या शिक्षक की डिमांड हमेशा रहती एक अच्छे शिक्षक के बिना समाज को चलाएं मान रखना संभव नहीं है आर्टिफिशियल एजेंसियां नई तरीके की खोज कर नहीं है और ऑनलाइन एजुकेशन रोबोटिक एजुकेशन डिस्टेंस एजुकेशन कॉरेस्पोंडेंस एजुकेशन चाहे कितना भी डेवलप कर लिया प्रशिक्षक का काम नहीं कर सकता हूं सिर्फ ज्ञान दे सकते हैं और शिक्षक का काम शुरू ज्ञान देना नहीं शिक्षक के बारे में कहा जाता है कि शिक्षक राष्ट्र का निर्माता है उसे ज्ञान देकर ही राष्ट्र का निर्माण हो जाता तो फिर कर दिया जाता किसी मशीन में ऑरेंज सर बच्चे देख लेते शिक्षक की भूमिका पूरी हो जाती है पर ऐसा नहीं शिक्षक आपके बच्चे में नैतिकता और चरित्र निर्माण का मुख्य स्तंभ है शिक्षा देखता है कि बच्चे के साथ समाज में कहीं अन्यत्र नहीं हो रहा है एक अच्छा शिक्षक यह भी देखता है कि बच्चे ने क्या-क्या सुधार अपेक्षित हैं क्या देखेगा एक अच्छा शिक्षक अपने बच्चों को लेकर के इतना संवेदनशील होता है कई बार बच्चों के खिलाफ उनके मां-बाप कोई ऐसा एक्शन लेते हैं जिससे बच्चे पर साइक्लोजिकल प्रभाव पड़ता है तो मां-बाप को बुलाकर के शिक्षक समझाते हैं क्या सही है और क्या गलत है तो इसलिए एक अच्छे शिक्षक की भूमिका बहुत व्यापक है और इसको नकारा नहीं जा सकता इस डिमांड को समाप्त नहीं किया जा सकता जो आंधी चल पड़ी है और लोग जो अपने विकास का एकमात्र रास्ता पैसा सोच रहे हैं और इसी उद्देश्य अपने बच्चों को सिर्फ ऐसी शिक्षा देना चाहते हैं जिसमें उसने तकनीकी ज्ञान आ जाए और अपने उस तकनीकी ज्ञान के बल पर वे छात्र लेकिन अब उनकी गलती उन्हें नजर आने लगती है जब अपने जीवन के अंतिम के घर पहुंचते बिकता है कि उनके बच्चे ने उच्च चरित्र नहीं दिखाई दे रहा जिसकी उन्होंने कल्पना की थी तब उन्हें लगता है कि उन्होंने अपने बच्चे को सिर्फ उस दिशा में उस दिशा में विकेट करने की कोशिश की जिस दिशा से पैसा अधिक से अधिक आ सके या न्यू पैसा अधिक से अधिक इसलिए मेरे ख्याल से शिक्षक कि अभी भी डिमांड है और जो अच्छे संवेदनशील लोग हैं वह अपने बच्चों के लिए अच्छा शिक्षक ढूंढ

lekin jaha tak shikshak ki demand ki baat hai ki ab demand hai ya nahi ab kya shikshak ki demand hamesha rehti ek acche shikshak ke bina samaj ko chalaye maan rakhna sambhav nahi hai artificial Agenciyan nayi tarike ki khoj kar nahi hai aur online education robotic education distance education correspondence education chahen kitna bhi develop kar liya parshikshak ka kaam nahi kar sakta hoon sirf gyaan de sakte hai aur shikshak ka kaam shuru gyaan dena nahi shikshak ke bare mein kaha jata hai ki shikshak rashtra ka nirmaata hai use gyaan dekar hi rashtra ka nirmaan ho jata toh phir kar diya jata kisi machine mein orange sir bacche dekh lete shikshak ki bhumika puri ho jaati hai par aisa nahi shikshak aapke bacche mein naitikta aur charitra nirmaan ka mukhya stambh hai shiksha dekhta hai ki bacche ke saath samaj mein kahin anyatra nahi ho raha hai ek accha shikshak yah bhi dekhta hai ki bacche ne kya kya sudhaar apekshit hai kya dekhega ek accha shikshak apne baccho ko lekar ke itna samvedansheel hota hai kai baar baccho ke khilaf unke maa baap koi aisa action lete hai jisse bacche par saiklojikal prabhav padta hai toh maa baap ko bulakar ke shikshak smajhate hai kya sahi hai aur kya galat hai toh isliye ek acche shikshak ki bhumika bahut vyapak hai aur isko nakara nahi ja sakta is demand ko samapt nahi kiya ja sakta jo aandhi chal padi hai aur log jo apne vikas ka ekmatra rasta paisa soch rahe hai aur isi uddeshya apne baccho ko sirf aisi shiksha dena chahte hai jisme usne takniki gyaan aa jaaye aur apne us takniki gyaan ke bal par ve chatra lekin ab unki galti unhe nazar aane lagti hai jab apne jeevan ke antim ke ghar pahunchate bikta hai ki unke bacche ne ucch charitra nahi dikhai de raha jiski unhone kalpana ki thi tab unhe lagta hai ki unhone apne bacche ko sirf us disha mein us disha mein wicket karne ki koshish ki jis disha se paisa adhik se adhik aa sake ya new paisa adhik se adhik isliye mere khayal se shikshak ki abhi bhi demand hai aur jo acche samvedansheel log hai vaah apne baccho ke liye accha shikshak dhundh

लेकिन जहां तक शिक्षक की डिमांड की बात है कि अब डिमांड है या नहीं अब क्या शिक्षक की डिमांड

Romanized Version
Likes  111  Dislikes    views  2222
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!