शिक्षक बनने के लिए आपके तीन सबसे महत्वपूर्ण कारण क्या हैं?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

8:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने हमारे समक्ष एक प्रश्न किया कि शिक्षक बनने के लिए आपके तीन सबसे महत्वपूर्ण कारण क्या हैं आपने राय मांगी है या प्रश्न किया है यह मिलता है कि आप आंसर लिखें अरबी आप स्पीच दें और अपडेशन देंगे कि आपके दिए गए आंसर सही है या नहीं क्योंकि प्रश्न है बड़ा आनंद में उल्टी करें कोई भी इंसान किसी भी धर्म रुझान करता है बैंकिंग क्षेत्र में या टीचिंग क्षेत्र में टच के पीछे कुछ ना कुछ कारण तो होता है तो टाइप पहला कारण यह कि मैं शिक्षा का प्रसार विस्तार पूरे हिंदुस्तान में करना चाहता हूं मैं अपनी बात कर रहा हूं शिक्षा के माध्यम से अज्ञान और भ्रष्टाचार का बोलबाला है इसका खात्मा करना चाहता हूं एक आदमी कुछ नहीं कर सकता कि लोगों की धारणा है शुरुआत पर एक ही आदमी करता है उसके पीछे चेनाई कट्टी हो जाती है कस्टर्ड बात करें और वह शुरुआत में नहीं की आशिकी बन जा हमें ज्ञान का विस्तार करना है भ्रष्टाचार को खत्म करना है टप टप चिप मुख्य मुद्दा है जन जागरण को जागरूक करना है शिक्षा लोगों को जागरूक करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है लेकिन एक्स ठाकुर मैंने योजना बनाई हमारे यहां भारत गैस पेट्रोलियम की तरफ से सिलेंडर आता है तो जहां से सिलेंडर आता है वहां में वह सिलेंडर के डिलीवरीमैन जो थे मैं उनके पास गया मैंने उनसे यह बात कही की भाइयों में आपके बच्चों के लिए शिक्षा के लिए एक योजना लाया हूं और मैं चाहता हूं कि जो जिंदगी आप जी रहे हैं वह जिंदगी आपके बच्चे ना कि उन्हें एक अच्छा जीवन में अभी 3 महीने में 10 बार 5 बार फोन किया पर सैनी कांटेक्ट किया लेकिन वह उचित धन धन धन धन से बाहर निकलने ही नहीं चाहते उन्हें लगता कि मैं उनसे कुछ मांग रहा हूं उन्हें लगता कि मैं उनसे कुछ छीन रहा हूं वह जैसा जीवन जी रहे हैं अपने बच्चों को वैसा जीवन जीने के लिए मजबूर करें फिर क्या कहेंगे शर्म मजबूरी है हमेशा मिलता हम सारे दिन डिलीवरी करते रहते हैं हमें भक्ति नहीं मिलता चाय की दुकान पर बैठकर गप्पे लड़ाते हैं आपस में कहानियां सुनाते हैं अपने भविष्य अपने बच्चों की भविष्य की उन्हें चिंता होती तो एक बार विचार जरूर करते हैं मैं क्यों गया मुझे कोई लालच नहीं है मैं चाहता हूं कि शिक्षा एक शिक्षक की जिंदगी की सबसे बड़ी पूजा और तपस्या होती है क्या पैसा कमाने ही जिंदगी का सबसे बड़ा लक्ष्य है लेकिन वह उनके समझ में नहीं आई मैंने इंडेन के कर्मचारियों से भी बात करें ऐसी वालों के पास नहीं जा पाया हूं वक्त मिलेगा जाऊंगा पेट्रोल पंप के कर्मचारियों से भी बात करें कि भाई अगर एक घर से एक बच्चा ज्ञानी बन जाता है एक घर से एक बच्चा पढ़कर शिक्षित हो जाता है वही परिवारिक समाज की रचना कर देता है यह मैंने ओपन शब्दों में किया भाई मैं कोई राजनीतिक नेता तो हूं नहीं कि मैं उनको लाडनूं से झूठे वादे करूं उनके सामने प्रोपेगंडा करूं जुमले छोडू नहीं हम अच्छे नहीं होता तो मैं आपसे एक स्टडीज देना चाहूंगा या निवेदन करना चाहूंगा कि मेरे संदेश को छोटे वर्क एक तबके के लोगों को मध्यम वर्ग के गरीब तबके के लोगों को यह फॉरवर्ड करें आगे और उन्हें बताएं कि शिक्षा का मूल उद्देश्य क्या है और एक शिक्षक के जिंदगी के तीन महत्वपूर्ण कारण क्या होते हैं वह टीचर क्यों बनता है टीचर आज 100 में 90 से 95% टीचर की 1 कमाने के लिए बनते हैं परिवार चलाने के लिए बनते हैं लेकिन हजारों में चेहरा एक या दो या 5 टीचर अपने जीवन की वास्तविक वास्तविकता की तरफ अपने जीवन को समर्पण करने के लिए इस पेज को अपनाते हैं यही शिक्षक जीवन का सबसे बड़ा लक्ष्य है और यही बच्चे बड़े कारण हैं तो मैं चाहूंगा कि हम जैन समाज को जागृत करें और शिक्षा को प्रेरणा के रूप में लें और सभी लोगों को कि नहीं मेरी जरूरत है उनके साथ हूं और मैं उनका चलो कम से कम शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग करूंगा विभिन्न प्रकार की शिक्षाएं ग्रहण की है एनी किया एमकॉम किया सीए किया सीएस किया एल एल बी पी एस डी एम बी योग्यता हासिल की है इन युवाओं को करने के बाद वह जो मन की खुशी अब जो हमारे चरम सीमा में जो हमें प्राप्त होना चाहिए वह मुझे कि वह शिक्षक जीवन में मिली यद्यपि यह जीवन बड़ा कष्ट डाई होता है आज लोग टीचर को कुछ नहीं समझते अगर समझते होते तो दिन के द्वार पर में गया गिफ्ट कह रहा हूं वह मेरी अनुयाई बन गए होते लेकिन भगवान उन्हें सद्बुद्धि दें और उनको एहसास कराएं कि जिंदगी में गलती कर रहे हैं जब जागो तभी सवेरा उनको एहसास होना चाहिए और अगर आपको मेरी बात बुरी लगे तो मेरे विचारों को नकारात्मक रूप में बिल्कुल ना देना मुझे कहीं कोई दुख नहीं होगा क्योंकि मैं अपने शिक्षक के जो मूल उद्देश्य उन पर पूर्ण रूप से उनको समाज तक पहुंचाना चाहता हूं और यह मेरी सेवा भाव है यह मैं सबके सामने रखना चाहता हूं तो एक टीचर को टीचर की है 1 बच्चों के गार्डन की हैसियत से एक समाज सुधारक की है शेर से और एक जन जागरण की हैसियत से उसको कार्य करना चाहिए यही मूल कारण

aapne hamare samaksh ek prashna kiya ki shikshak banne ke liye aapke teen sabse mahatvapurna karan kya hain aapne rai maangi hai ya prashna kiya hai yah milta hai ki aap answer likhen rb aap speech de aur updation denge ki aapke diye gaye answer sahi hai ya nahi kyonki prashna hai bada anand mein ulti kare koi bhi insaan kisi bhi dharm rujhan karta hai banking kshetra mein ya teaching kshetra mein touch ke peeche kuch na kuch karan toh hota hai toh type pehla karan yah ki main shiksha ka prasaar vistaar poore Hindustan mein karna chahta hoon main apni baat kar raha hoon shiksha ke madhyam se agyan aur bhrashtachar ka bolbala hai iska khatma karna chahta hoon ek aadmi kuch nahi kar sakta ki logo ki dharana hai shuruat par ek hi aadmi karta hai uske peeche chenai kethi ho jaati hai Custard baat kare aur vaah shuruat mein nahi ki aashiqui ban ja hamein gyaan ka vistaar karna hai bhrashtachar ko khatam karna hai tap tap chip mukhya mudda hai jan jagran ko jagruk karna hai shiksha logo ko jagruk karne mein mahatvapurna bhumika nibhati hai lekin x thakur maine yojana banai hamare yahan bharat gas petroleum ki taraf se cylinder aata hai toh jaha se cylinder aata hai wahan mein vaah cylinder ke dilivarimain jo the main unke paas gaya maine unse yah baat kahi ki bhaiyo mein aapke baccho ke liye shiksha ke liye ek yojana laya hoon aur main chahta hoon ki jo zindagi aap ji rahe hain vaah zindagi aapke bacche na ki unhe ek accha jeevan mein abhi 3 mahine mein 10 baar 5 baar phone kiya par saini Contact kiya lekin vaah uchit dhan dhan dhan dhan se bahar nikalne hi nahi chahte unhe lagta ki main unse kuch maang raha hoon unhe lagta ki main unse kuch cheen raha hoon vaah jaisa jeevan ji rahe hain apne baccho ko waisa jeevan jeene ke liye majboor kare phir kya kahenge sharm majburi hai hamesha milta hum saare din delivery karte rehte hain hamein bhakti nahi milta chai ki dukaan par baithkar gappe ladaate hain aapas mein kahaniya sunaate hain apne bhavishya apne baccho ki bhavishya ki unhe chinta hoti toh ek baar vichar zaroor karte hain main kyon gaya mujhe koi lalach nahi hai chahta hoon ki shiksha ek shikshak ki zindagi ki sabse badi puja aur tapasya hoti hai kya paisa kamane hi zindagi ka sabse bada lakshya hai lekin vaah unke samajh mein nahi I maine inden ke karmachariyon se bhi baat kare aisi walon ke paas nahi ja paya hoon waqt milega jaunga petrol pump ke karmachariyon se bhi baat kare ki bhai agar ek ghar se ek baccha gyani ban jata hai ek ghar se ek baccha padhakar shikshit ho jata hai wahi pariwarik samaj ki rachna kar deta hai yah maine open shabdon mein kiya bhai main koi raajnitik neta toh hoon nahi ki main unko ladanun se jhuthe waade karu unke saamne propaganda karu jumle chodu nahi hum acche nahi hota toh main aapse ek studies dena chahunga ya nivedan karna chahunga ki mere sandesh ko chote work ek tabke ke logo ko madhyam varg ke garib tabke ke logo ko yah forward kare aage aur unhe bataye ki shiksha ka mul uddeshya kya hai aur ek shikshak ke zindagi ke teen mahatvapurna karan kya hote hain vaah teacher kyon baata hai teacher aaj 100 mein 90 se 95 teacher ki 1 kamane ke liye bante hain parivar chalane ke liye bante hain lekin hazaro mein chehra ek ya do ya 5 teacher apne jeevan ki vastavik vastavikta ki taraf apne jeevan ko samarpan karne ke liye is page ko apanate hain yahi shikshak jeevan ka sabse bada lakshya hai aur yahi bacche bade karan hain toh main chahunga ki hum jain samaj ko jagrit kare aur shiksha ko prerna ke roop mein le aur sabhi logo ko ki nahi meri zarurat hai unke saath hoon aur main unka chalo kam se kam shiksha ke kshetra mein sahyog karunga vibhinn prakar ki sikshayen grahan ki hai any kiya MCom kiya ca kiya CS kiya el el be p s d M be yogyata hasil ki hai in yuvaon ko karne ke baad vaah jo man ki khushi ab jo hamare charam seema mein jo hamein prapt hona chahiye vaah mujhe ki vaah shikshak jeevan mein mili yadyapi yah jeevan bada kasht dye hota hai aaj log teacher ko kuch nahi samajhte agar samajhte hote toh din ke dwar par mein gaya gift keh raha hoon vaah meri anuyayi ban gaye hote lekin bhagwan unhe sadbuddhi de aur unko ehsaas karaye ki zindagi mein galti kar rahe hain jab jaago tabhi savera unko ehsaas hona chahiye aur agar aapko meri baat buri lage toh mere vicharon ko nakaratmak roop mein bilkul na dena mujhe kahin koi dukh nahi hoga kyonki main apne shikshak ke jo mul uddeshya un par purn roop se unko samaj tak pahunchana chahta hoon aur yah meri seva bhav hai yah main sabke saamne rakhna chahta hoon toh ek teacher ko teacher ki hai 1 baccho ke garden ki haisiyat se ek samaj sudharak ki hai sher se aur ek jan jagran ki haisiyat se usko karya karna chahiye yahi mul karan

आपने हमारे समक्ष एक प्रश्न किया कि शिक्षक बनने के लिए आपके तीन सबसे महत्वपूर्ण कारण क्या ह

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  991
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!