ग्रीन पटाखों से प्रदूषण 30 फीसदी तक कम होगा। क्या आप लोगों को ग्रीन पटाखे ख़रीदने की सलाह देंगे?...


user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल सही है कि ग्रीन पटाखों से प्रदूषण की स्थिति पर कम होगा मेरी सलाह होगी लोगों के दिन पटाखे खरीद एक हद तक एक हद तक पटाखों से होने वाले प्रदूषण में कमी जरूर आएगी इसलिए लोगों को चाहिए कि वह अपने रिस्पांसिबिलिटी की पूरी करें और दिन पटाखे खरीदने के लिए पटाखे दिवाली के बजाय सरकार के अधीन पटाखों की कीमतें भी इस तरह से लोगों को लगे लेकिन पटाखे उनकी बजट में है और इसका उपयोग करके उस सुरक्षित में और दिल्ली की या दूसरे जहां भी सुरक्षित रहेगी और जवाब और सुरक्षित रहेगी तो पर्यावरण को बचाने के लिए उनकी तरफ से लोगों की तरफ से जाया जा सकता है धन्यवाद

ji haan bilkul sahi hai ki green patakhon se pradushan ki sthiti par kam hoga meri salah hogi logo ke din patakhe kharid ek had tak ek had tak patakhon se hone waale pradushan mein kami zaroor aayegi isliye logo ko chahiye ki vaah apne responsibility ki puri kare aur din patakhe kharidne ke liye patakhe diwali ke bajay sarkar ke adheen patakhon ki keematein bhi is tarah se logo ko lage lekin patakhe unki budget mein hai aur iska upyog karke us surakshit mein aur delhi ki ya dusre jaha bhi surakshit rahegi aur jawab aur surakshit rahegi toh paryavaran ko bachane ke liye unki taraf se logo ki taraf se jaya ja sakta hai dhanyavad

जी हां बिल्कुल सही है कि ग्रीन पटाखों से प्रदूषण की स्थिति पर कम होगा मेरी सलाह होगी लोगों

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1800
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मेरी पोस्ट प्रेफरेंस तो यही होगी कि आप पटाखे ना जलाएं और क्योंकि 70 परसेंट अभी भी और जो है प्रदूषण कर रहे हैं पटाखे और इतनी आबादी है इंडिया की तो सब जलाएंगे तो 70% भी बहुत ज्यादा हो जाएगा वहीं अगर आप नहीं रह पा रहे हैं या फिर किसी लिमिट तक जलाना चाह रहे हैं तो आप ग्रीन पटाखे बिल्कुल यूज़ करिए क्योंकि फिर यहां यह बात हो जाएगी कि 10:30 पर्सेंट कम तो हो ही रहे हैं

vicky meri post prefarens toh yahi hogi ki aap patakhe na jalaen aur kyonki 70 percent abhi bhi aur jo hai pradushan kar rahe hai patakhe aur itni aabadi hai india ki toh sab jalayenge toh 70 bhi bahut zyada ho jaega wahi agar aap nahi reh paa rahe hai ya phir kisi limit tak jalaana chah rahe hai toh aap green patakhe bilkul use kariye kyonki phir yahan yah baat ho jayegi ki 10 30 percent kam toh ho hi rahe hain

विकी मेरी पोस्ट प्रेफरेंस तो यही होगी कि आप पटाखे ना जलाएं और क्योंकि 70 परसेंट अभी भी और

Romanized Version
Likes  564  Dislikes    views  8259
WhatsApp_icon
user

Jeet Dholakia

Anchor and Media Professional

3:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अग्रिम पटाखों से प्रदूषण की मात्रा 30 फ़ीसदी तक का कम हो जाएगी ऐसा सामने आया है मेरे ख्याल से जब यह दिवाली का टाइम आता है तभी बात चढ़कर सामने आ जाती है कि पटाखों से यह प्रदूषण होता है उसकी पटाखों से हवा का प्रदूषण होता है धोनी का प्रदूषण होता है मैं पूछना चाहता हूं की यह दिवाली के समय है क्यों आ दिवाली हिंदू और सभी लोगों के लिए न सिर्फ हिंदू के लिए पर आप तो सभी लोग बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं और इसमें आज जब राम सेलिब्रेशन की बात करते हैं तो उसमें ही लोग अगर पटाखे जलाते हैं तो मेरे ख्याल से उसमें कुछ बुरी बात नहीं है क्योंकि अगर हम बात करें कि जब भी प्रदूषण की बात सामने आती है तो सिर्फ दिवाली के समय ही लोकता में आ जाते हैं कि यह मत करो वह मत करो इससे प्रदूषण फैलता है यह होगा वह होगा और 1 दिन पटाखे की बात इस बार सामने आई है कि ग्रीन पटाखे है क्या पहले तो मैं आपको आपसे पूछना चाहता हूं कि ग्रीन पटाखे है क्या बिजी गली वह पटाखे ही तो है उसमें उसको ग्रीन का करने से उसके उसमें जो सल्फर की मात्रा है फास्फोरस की मात्रा है उसको थोड़ा कम मात्रा में रखा होगा जिसके कारण प्रदूषण कम हो पर मैं तो है तो पटाखे ही तो मेरे ख्याल से लोगों को क्यों नहीं जलाने चाहिए और एक ही त्यौहार होता है जिसमें लोग इतना एंजॉय करते हैं और दिवाली तो लाइट का त्योहार है खुशियों का त्यौहार है तो मेरे ख्याल से लोगों को उसको बहुत ही अच्छी तरह से सेलिब्रेट करना चाहिए इससे पूछा जाए कि क्या आप लोगों को ग्रीन पटाखे खरीदने की सलाह देंगे आज मैं बिल्कुल सलाह दूंगा कि सभी लोगों को पटाखे तो आंख खरीदने चाहिए क्योंकि दिवाली एक बार आती है और उसमें लोग पड़ी धाम धूम से उसको मनाते हैं मिठाइयां खाते हैं पटाखे जलाते हैं तो मेरे ख्याल से पटाखे तो लेनी है चाहिए अब अग्रिम पटाखे ले लो या फिर हमारे जो रोजगार साल में मिलते हैं वह पटाखे लो उसमें कोई फर्क नहीं पड़ता है ग्रीन पटाखे से ऐसा बोल रहे हैं वह तो ऑन पेपर है कि भाई आई एम 30 पर्सन 33 फ़ीसदी तक का यह प्रदूषण कम होता है थोड़े प्रश्न कम होगा पर आ पटाखे जलाना छोड़ देना चाहिए यह बात कुछ हजम नहीं होती है मुझे और लोग जब और स्नेह का कोर्ट भी सामने आ जाती है काफी अरसे एनजीओ के सामने आ जाती है कि त्यौहार है तो आपको इस तरह से बनाना चाहिए उस तरह से बना होता है मुझे पता नहीं चलता है कि बनाना चाहते हो मुझे यह पता नहीं चलता तो यह दिवाली में भी सब को जमकर पटाखे ना जलाने चाहिए और मैं तो बोलना चाहता हूं कि ग्रीन पटाखे लो तो ग्रीन पटाखे पर कोई भी बड़ा का आपका लेते हो उसको जमकर जलाओ और दिवाली का लुक उठाओ हम दिवाली में अच्छी-अच्छी मिठाईयां खाओ और किसी की बात में मत आओ यही मेरा संदेश है

agrim patakhon se pradushan ki matra 30 fisadi tak ka kam ho jayegi aisa saamne aaya hai mere khayal se jab yah diwali ka time aata hai tabhi baat chadhakar saamne aa jaati hai ki patakhon se yah pradushan hota hai uski patakhon se hawa ka pradushan hota hai dhoni ka pradushan hota hai poochna chahta hoon ki yah diwali ke samay hai kyon aa diwali hindu aur sabhi logo ke liye na sirf hindu ke liye par aap toh sabhi log bahut hi dhumadham se manate hain aur isme aaj jab ram celebration ki baat karte hain toh usme hi log agar patakhe jalate hain toh mere khayal se usme kuch buri baat nahi hai kyonki agar hum baat kare ki jab bhi pradushan ki baat saamne aati hai toh sirf diwali ke samay hi lokta mein aa jaate hain ki yah mat karo vaah mat karo isse pradushan failata hai yah hoga vaah hoga aur 1 din patakhe ki baat is baar saamne I hai ki green patakhe hai kya pehle toh main aapko aapse poochna chahta hoon ki green patakhe hai kya busy gali vaah patakhe hi toh hai usme usko green ka karne se uske usme jo sulphur ki matra hai phosphorus ki matra hai usko thoda kam matra mein rakha hoga jiske karan pradushan kam ho par main toh hai toh patakhe hi toh mere khayal se logo ko kyon nahi jalane chahiye aur ek hi tyohar hota hai jisme log itna enjoy karte hain aur diwali toh light ka tyohar hai khushiyon ka tyohar hai toh mere khayal se logo ko usko bahut hi achi tarah se celebrate karna chahiye isse poocha jaaye ki kya aap logo ko green patakhe kharidne ki salah denge aaj main bilkul salah dunga ki sabhi logo ko patakhe toh aankh kharidne chahiye kyonki diwali ek baar aati hai aur usme log padi dhaam dhoom se usko manate hain mithaiyan khate hain patakhe jalate hain toh mere khayal se patakhe toh leni hai chahiye ab agrim patakhe le lo ya phir hamare jo rojgar saal mein milte hain vaah patakhe lo usme koi fark nahi padta hai green patakhe se aisa bol rahe hain vaah toh on paper hai ki bhai I M 30 person 33 fisadi tak ka yah pradushan kam hota hai thode prashna kam hoga par aa patakhe jalaana chod dena chahiye yah baat kuch hajam nahi hoti hai mujhe aur log jab aur sneh ka court bhi saamne aa jaati hai kaafi arase ngo ke saamne aa jaati hai ki tyohar hai toh aapko is tarah se banana chahiye us tarah se bana hota hai mujhe pata nahi chalta hai ki banana chahte ho mujhe yah pata nahi chalta toh yah diwali mein bhi sab ko jamakar patakhe na jalane chahiye aur main toh bolna chahta hoon ki green patakhe lo toh green patakhe par koi bhi bada ka aapka lete ho usko jamakar jalao aur diwali ka look uthao hum diwali mein achi achi mithaiyan khao aur kisi ki baat mein mat aao yahi mera sandesh hai

अग्रिम पटाखों से प्रदूषण की मात्रा 30 फ़ीसदी तक का कम हो जाएगी ऐसा सामने आया है मेरे ख्याल

Romanized Version
Likes  199  Dislikes    views  2441
WhatsApp_icon
user

ShAshWaT SRiVaStAvA

CaReer AnD EdUcaTiOnaL GuIde

2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें कोई दो राय नहीं कि दीवाली में पटाखे फोड़ने से हमारे शहर का और हमारे देश की हवा में बहुत ही मात्रा में प्रदूषण में बड़ा होता है क्योंकि यह देश हमारा है यह पृथ्वी हमारी है तो इसकी रखरखाव और इसकी इसके संसाधनों की रक्षा करना हमारा फर्ज है इंसानियत के नाते और धर्म के नाते दोनों के नाते इसलिए मेरा यही मानना है कि दिवाली जो है खुशियों बार हम इसमें मिठाई बांटने चाहिए एक दूसरे से प्रेम भाव से रहना चाहिए कुछ अच्छा करना चाहिए हम दिवाली पर घर की सफाई करते हैं तो हमें दिवाली पर अपने मोहल्ले को साफ करना चाहिए हमें पूरी ग्रुप बनाकर जिस एरिया में बहुत गंदगी हो है उसे साफ करना चाहिए इससे हमारे समाज में सफाई के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा की और तो और हमारा समाज साफ होगा कि दुनिया के लोग भी हमसे सीखेंगे और हमसे इंस्पायरर होंगे अब बात आती है ग्रीन पटाखों की तो ग्रीन पटाखा भी एक तरीके का पटाखा ही है लेकिन यह इको फ्रेंडली होता है अतः यदि आपकी इच्छा है बच्चे नहीं मानते हैं कि पटाखे बजाने के बच्चों को तो आप समझा नहीं सकते ऐसी स्थिति में आपको ग्रीन पटाखों का इस्तेमाल करना चाहिए फिर भी यदि अगर आपको कुछ करना है तो आप बच्चों के अंदर अभी भी कोई भी हो आप उसके मन में डाली है कि दिवाली में हमें दियाली जलानी चाहिए जो कि सरसों के तेल के दीए होते हैं उसका साइंटिफिक कारण भी है ना उसको लोगों में जवाब यह बात को बताएंगे उसकी जागरूकता फैलाई नहीं तो लोग उसके ऊपर अपना कुछ ना कुछ अमल करेंगे और तो और दिवाली में हमें चाइनीस लाइटों का भी बहिष्कार करना चाहिए हमें उसकी बजाय हमारे भारत में जो कि बल्ब से बनती है उस पर फोकस करना चाहिए इसमें हमारी अर्थ मजबूत होगी और हमारे कूलर बनाने वाले रोज-रोज गाड़ी जो मजदूर हैं उनको भी फायदा होगा इस तरह त्यौहार में हमारे देश का पैसा हमारे देश में ही रहेगा धन्यवाद दिवाली शुभ हो हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं

isme koi do rai nahi ki diwali mein patakhe phodane se hamare shehar ka aur hamare desh ki hawa mein bahut hi matra mein pradushan mein bada hota hai kyonki yah desh hamara hai yah prithvi hamari hai toh iski rakharakhav aur iski iske sansadhano ki raksha karna hamara farz hai insaniyat ke naate aur dharm ke naate dono ke naate isliye mera yahi manana hai ki diwali jo hai khushiyon baar hum isme mithai baantne chahiye ek dusre se prem bhav se rehna chahiye kuch accha karna chahiye hum diwali par ghar ki safaai karte hai toh hamein diwali par apne mohalle ko saaf karna chahiye hamein puri group banakar jis area mein bahut gandagi ho hai use saaf karna chahiye isse hamare samaj mein safaai ke prati logo mein jagrukta paida ki aur toh aur hamara samaj saaf hoga ki duniya ke log bhi humse sikhenge aur humse inspayarar honge ab baat aati hai green patakhon ki toh green patakha bhi ek tarike ka patakha hi hai lekin yah iko friendly hota hai atah yadi aapki iccha hai bacche nahi maante hai ki patakhe bajane ke baccho ko toh aap samjha nahi sakte aisi sthiti mein aapko green patakhon ka istemal karna chahiye phir bhi yadi agar aapko kuch karna hai toh aap baccho ke andar abhi bhi koi bhi ho aap uske man mein dali hai ki diwali mein hamein diyali jalani chahiye jo ki sarso ke tel ke diye hote hai uska scientific karan bhi hai na usko logo mein jawab yah baat ko batayenge uski jagrukta failai nahi toh log uske upar apna kuch na kuch amal karenge aur toh aur diwali mein hamein Chinese laiton ka bhi bahishkar karna chahiye hamein uski bajay hamare bharat mein jo ki bulb se banti hai us par focus karna chahiye isme hamari arth majboot hogi aur hamare cooler banane waale roj roj gaadi jo majdur hai unko bhi fayda hoga is tarah tyohar mein hamare desh ka paisa hamare desh mein hi rahega dhanyavad diwali shubha ho hamari subhkamnaayain aapke saath hain

इसमें कोई दो राय नहीं कि दीवाली में पटाखे फोड़ने से हमारे शहर का और हमारे देश की हवा में ब

Romanized Version
Likes  129  Dislikes    views  1567
WhatsApp_icon
user
0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्रीन पर्दा ग्रीन पटाखे प्रदूषण देंगे या नहीं देंगे यह मुझे नहीं पता लेकिन मैं सिर्फ यह बताना चाहूंगा कि जो भी पटाखे दीपावली में छोड़े जाए ऐसे पटाखे हो जो कि भारतीयों के द्वारा बनाए गए हो चाइनीस पटाखे नहीं छोड़े नंबर एक नंबर दो ऐसे पटाखे फोड़े जिन पर की देवी देवता के चित्र नहीं हो नंबर तीन ऐसे पटाखे फोड़े जो ज्यादा प्रदूषण नहीं चलाते हो जिससे ज्यादा जलने की या कोई दुर्घटना होने की आशंका इस प्रकार के पटाखे दीपावली में छोड़कर खुशियां मनाएं दिवाली का आनंद लें न कि किसी प्रकार की कोई घटना

green parda green patakhe pradushan denge ya nahi denge yah mujhe nahi pata lekin main sirf yah bataana chahunga ki jo bhi patakhe deepawali mein chode jaaye aise patakhe ho jo ki bharatiyon ke dwara banaye gaye ho Chinese patakhe nahi chode number ek number do aise patakhe phoden jin par ki devi devta ke chitra nahi ho number teen aise patakhe phoden jo zyada pradushan nahi chalte ho jisse zyada jalne ki ya koi durghatna hone ki ashanka is prakar ke patakhe deepawali mein chhodkar khushiya manaaye diwali ka anand le na ki kisi prakar ki koi ghatna

ग्रीन पर्दा ग्रीन पटाखे प्रदूषण देंगे या नहीं देंगे यह मुझे नहीं पता लेकिन मैं सिर्फ यह बत

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1794
WhatsApp_icon
play
user

Kesharram

Teacher

1:54

Likes  11  Dislikes    views  278
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन को सब्जी बनाकर चलाते हैं तो उन्हें ग्रीन पटाखों की सलाह देनी चाहिए ताकि हम अपनी गलतियों से नहीं बच सकते आप ऐसा नहीं कर सकते कि कोई चीज आपने की है और आप आने वाली पीढ़ी पीना छोड़ दें आपने अपनी बचपन में दुनिया भर के पटाखे चलाए और अब आप संदेश देते करें कि हम पटाखे नहीं चलाना चाहिए पटाखे चलना गलत है इसे बैंक एजेंसी गलत है आप समाज को गलत सदस्य अगर आप सोचते हैं तो हमें दिन पटाखे का उपयोग करना चाहिए हमें जो भी चीजें रिसाइकल हो सकती हैं उनका उपयोग करना चाहिए आने वाली पीढ़ी को हरा देना चाहेंगे जो सुविधा हमारे पास थी या हमारे पूर्वजों ने हमें दी थी पूर्व जान इतनी सारी चीजें बचा के रखी साफ आवाज साफ पानी साफ सुथरा वातावरण बहुत सारे पेड़ हमें भी अपने पूर्वजों के लिए जो हमसे मिला था उसको अपने आने वाली पीढ़ी के लिए देना चाहिए तो ग्रीन पटाखे करो खरीदते हैं अगर कुछ करा दूंगा हां गीत पटाखों से प्रदूषण कम होता है इसके अलावा भी सप्लीमेंट इन का और भी लेटेस्ट वर्जन बंता जींस और कम प्रदूषण हो गया फुलझड़ी एचडी से इससे प्रदूषण कम होता है या ध्वनि प्रदूषण कम होता है उनको प्रयोग अधिक करें उनको अधिक प्रमोट करना चाहिए धन्यवाद

jeevan ko sabzi banakar chalte hain toh unhe green patakhon ki salah deni chahiye taki hum apni galatiyon se nahi bach sakte aap aisa nahi kar sakte ki koi cheez aapne ki hai aur aap aane wali peedhi peena chod de aapne apni bachpan mein duniya bhar ke patakhe chalaye aur ab aap sandesh dete kare ki hum patakhe nahi chalana chahiye patakhe chalna galat hai ise bank agency galat hai aap samaj ko galat sadasya agar aap sochte hain toh hamein din patakhe ka upyog karna chahiye hamein jo bhi cheezen recycle ho sakti hain unka upyog karna chahiye aane wali peedhi ko hara dena chahenge jo suvidha hamare paas thi ya hamare purvajon ne hamein di thi purv jaan itni saree cheezen bacha ke rakhi saaf awaaz saaf paani saaf suthara vatavaran bahut saare ped hamein bhi apne purvajon ke liye jo humse mila tha usko apne aane wali peedhi ke liye dena chahiye toh green patakhe karo kharidte hain agar kuch kara dunga haan geet patakhon se pradushan kam hota hai iske alava bhi supplement in ka aur bhi latest version banta jeans aur kam pradushan ho gaya fulajhadi hd se isse pradushan kam hota hai ya dhwani pradushan kam hota hai unko prayog adhik kare unko adhik promote karna chahiye dhanyavad

जीवन को सब्जी बनाकर चलाते हैं तो उन्हें ग्रीन पटाखों की सलाह देनी चाहिए ताकि हम अपनी गलतिय

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1172
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्रीन पटाखों से प्रदूषण की स्थिति तक का मौका क्या आप लोगों को ग्रीन पटाखे खरीदने की सलाह देंगे हम तो देंगे ही पता चला लेकिन लोग कितना मानेंगे यह भी एक सोचने वाला विषय है क्योंकि जनजागृति के बिना यह विचार और सफल होने की गुंजाइश कम है लोग दिन पटाखे के अलावा और भी सब जो परंपरागत आते हैं उसको चलाने का काम चालू रखेंगे लेकिन भले ही 30% अगर हमें प्रदूषण में कम विकल्प ना मिले लेकिन 25%

green patakhon se pradushan ki sthiti tak ka mauka kya aap logo ko green patakhe kharidne ki salah denge hum toh denge hi pata chala lekin log kitna manenge yah bhi ek sochne vala vishay hai kyonki janajagriti ke bina yah vichar aur safal hone ki gunjaiesh kam hai log din patakhe ke alava aur bhi sab jo paramparagat aate hain usko chalane ka kaam chaalu rakhenge lekin bhale hi 30 agar hamein pradushan mein kam vikalp na mile lekin 25

ग्रीन पटाखों से प्रदूषण की स्थिति तक का मौका क्या आप लोगों को ग्रीन पटाखे खरीदने की सलाह द

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1233
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!