ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे क्यों है भारत?...


user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:40
Play

Likes  931  Dislikes    views  9075
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे क्यों है भारत इस तरह की जितनी रिपोर्ट्स है वह अनुमान पर आधारित होते हैं इनमें कुछ भी तथ्य नहीं होता कभी आपने व्यक्तिगत रूप से कभी जाना है आपसे कभी किसी ने पूछा है कि आप भूखे हो या नहीं अब आप बताओ कि किसी भी संस्था के लिए कितने भी लोग लगा लिए हैं तो वह सवा सौ करोड़ लोगों से आगे नहीं पूछ सकता कि तुम्हारा पेट भरा है कि खाली 30 सब बकवास ना कि संस्थाएं हैं यह पेड़ संस्थाएं होती हैं जो कि भारत को गरीब दिखाने के लिए चाहे चाहते हैं उसमें कुछ हमारे राजनीतिक विषय में रहते हैं गरीब दिखाएंगे तो हमको जो है विदेशों से मदद मिल जाएगी इस पॉलिटिक्स की बहुत जबरदस्त गहराई वाली चीजें हैं तो और एक फिल्में पूरी दुनिया में सब बेवकूफी चल रही हैं कि जितनी भी सर्वे रिपोर्ट साथी हैं सारी की सारी अनुमान पर आधारित है किसी का भी कभी आता कि उन्होंने किस तरह से करा सर्वे केवल चुनाव वाली रिपोर्ट काटा और किसी का नहीं आता क्यों नहीं आता कभी आपने सोचा इस सब जो कैप्टन लिस्ट लोग हैं जो पूंजीवादी है उसकी वजह से होता है पूंजीवाद को मैं डिसाइड नहीं कर रहा हूं फोन तो उसके पीछे जो यह बेईमानी वाली धारणा है उसको मैं रिचार्ज कर रहा हूं ही बात गलत नहीं है कोई भी कोई भी सिस्टम गलत नहीं है और उसके पीछे जो एक माल मालाफाइड इंटेंशन रहता है वह गलत है ठीक है धन्यवाद नमस्कार

global hunger index mein pakistan aur nepal se bhi peeche kyon hai bharat is tarah ki jitni reporters hai vaah anumaan par aadharit hote hain inme kuch bhi tathya nahi hota kabhi aapne vyaktigat roop se kabhi jana hai aapse kabhi kisi ne poocha hai ki aap bhukhe ho ya nahi ab aap batao ki kisi bhi sanstha ke liye kitne bhi log laga liye hain toh vaah sava sau crore logo se aage nahi puch sakta ki tumhara pet bhara hai ki khaali 30 sab bakwas na ki sansthayen hain yah ped sansthayen hoti hain jo ki bharat ko garib dikhane ke liye chahen chahte hain usme kuch hamare raajnitik vishay mein rehte hain garib dikhayenge toh hamko jo hai videshon se madad mil jayegi is politics ki bahut jabardast gehrai wali cheezen hain toh aur ek filme puri duniya mein sab bewakoofi chal rahi hain ki jitni bhi survey report sathi hain saree ki saree anumaan par aadharit hai kisi ka bhi kabhi aata ki unhone kis tarah se kara survey keval chunav wali report kaata aur kisi ka nahi aata kyon nahi aata kabhi aapne socha is sab jo captain list log hain jo punjiwadi hai uski wajah se hota hai punjivad ko main decide nahi kar raha hoon phone toh uske peeche jo yah baimani wali dharana hai usko main recharge kar raha hoon hi baat galat nahi hai koi bhi koi bhi system galat nahi hai aur uske peeche jo ek maal malafaid intention rehta hai vaah galat hai theek hai dhanyavad namaskar

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे क्यों है भारत इस तरह की जितनी रिपोर्

Romanized Version
Likes  231  Dislikes    views  2219
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और नेपाल सिटी की सेटिंग निकालो बलबर नेपाल और पाकिस्तान हमसे कई अच्छी स्थिति में हैं उनका ग्लोबल ग्लोबल 25 को 25 साल तक हमारे देश में दो फ़ूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया अनाज को उनके जो वेयरहाउस से उसने हमारे पास अनाज का भंडार है बहुत ही करो तन तना हमारे पास है लेकिन वह अनाज अधिकतर उसमें से कुछ शिक्षा बिगड़ जाए उसका रखरखाव ठीक से नहीं होता है और इसके अलावा उसमें बहुत होती है उसकी वजह से जो संसाधन है जो अनाज कर दोस्तों किसी भूखे तक नहीं पहुंच पाता क्या तो नाश हो जाता है उसका उचित और कुछ प्रतिशत जरूरी हो जाता इसलिए हमारे यहां नाच को रखने की व्यवस्था का सही तरीके से संचालन होना बहुत जरूरी है यह बहुत बड़ी करुणा है कि इतना सारा अनाज होते हुए भी हमको ग्लोबल हंगर इंडेक्स में 102 व सरकार को चाहिए हमें अपने अनाज भंडारण चल जो भी है उसको सही तरीके से मेंटेन किया जाए और अनाज कर बिगाड़ होता है वह रोकने की जरूरत है अगर रोक नहीं सकते तो जोड़ना चोरी होता है और जो अनाज सड़ जाता है उसे कम से कम गरीबों में मुफ्त में बांट दें ताकि उसी की बुक को प्रशासन का समय यही कारण है कि हम आज के लिए कुपोषण का शिकार और लंबाई और वजन उसमें बहुत ही विरोधाभास देखा जाना है तो बच्चों के शरीर में वह सिर्फ कुपोषण की वजह से दिए जो उनको खाद्यान्न मिलने चाहिए जो उनको प्रोटीन और विटामिन मिलता है और वह उपलब्ध नहीं है इसका कारण एक बहुत बड़ा गरीबी की है सरकार को बहुत ही गंभीरता से इस मुद्दे पर काम करना करें सिर्फ भाषण देने से नहीं होता ग्लोबल हंगर इंडेक्स

global hunger index mein pakistan aur nepal city ki setting nikalo balbar nepal aur pakistan humse kai achi sthiti mein hain unka global global 25 ko 25 saal tak hamare desh mein do food corporation of india anaaj ko unke jo warehouse se usne hamare paas anaaj ka bhandar hai bahut hi karo tan tana hamare paas hai lekin vaah anaaj adhiktar usme se kuch shiksha bigad jaaye uska rakharakhav theek se nahi hota hai aur iske alava usme bahut hoti hai uski wajah se jo sansadhan hai jo anaaj kar doston kisi bhukhe tak nahi pohch pata kya toh naash ho jata hai uska uchit aur kuch pratishat zaroori ho jata isliye hamare yahan nach ko rakhne ki vyavastha ka sahi tarike se sanchalan hona bahut zaroori hai yah bahut badi karuna hai ki itna saara anaaj hote hue bhi hamko global hunger index mein 102 va sarkar ko chahiye hamein apne anaaj bhandaran chal jo bhi hai usko sahi tarike se maintain kiya jaaye aur anaaj kar bigad hota hai vaah rokne ki zarurat hai agar rok nahi sakte toh jodna chori hota hai aur jo anaaj sad jata hai use kam se kam garibon mein muft mein baant de taki usi ki book ko prashasan ka samay yahi karan hai ki hum aaj ke liye kuposhan ka shikaar aur lambai aur wajan usme bahut hi virodhabhas dekha jana hai toh baccho ke sharir mein vaah sirf kuposhan ki wajah se diye jo unko khadyann milne chahiye jo unko protein aur vitamin milta hai aur vaah uplabdh nahi hai iska karan ek bahut bada garibi ki hai sarkar ko bahut hi gambhirta se is mudde par kaam karna kare sirf bhashan dene se nahi hota global hunger index

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पाकिस्तान और नेपाल सिटी की सेटिंग निकालो बलबर नेपाल और पाकिस्तान ह

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  1106
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बिल्कुल आप इनका सही क्वेश्चन है कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत और पाकिस्तान भारत पाकिस्तान और नेपाल के बीच हमारी 102 वैन का यह तो बहुत ही बुरी रेन है ऐसा नहीं कि भारत में उत्पादित नहीं हो रही है क्या कि वो एकदम से नहीं चल पाया कि जो हम एक गरीब से गरीब इंसानों को जो चीज पहुंचाने वह नहीं पहुंच पाया है जितना चाहिए तो मुझे लगता कि बस यही एक रीजन है वैसे ऐसा नहीं कि भारत में अनाज पैदा काम हो रहा हो या चावल पैदा कम हो रहा है या कुछ भी ऐसा कोई चीज है जो कम हो रही हो भारत में एक अच्छे से चल रहा है बट जो एक सिस्टम होना चाहिए मुझे कहना चाहिए कि कड़ी से कड़ी जोड़ रही है पारी की जिससे कि हम छोटी सी छोटी चीज को भी छोटे से छोटे लोगों तक मुहैया करा सके तो इसलिए भारत हमारा पीछे रह गया है ग्लोबल हम के द्वारा बहुत ही अच्छी एक नीचे आ इ ई ट्राइड इंडिया और उसने अभी से समझौता कर लिया कौशल विकास एजुकेयर मारे कौशल विकास मंत्रालय से है कि वह अच्छा सा अच्छा परफॉर्म कर लो बहुत बड़ी हो जाती है लेकिन मुझे लगता है कि भारत अब की बार बहुत थक कौन करेगा और भारत जहां तक की है तो फर्स्ट ऑल में तो आएगा ही मेरे साथ हमको पता चल गया कि हम उत्पाद तो अच्छा प्रोडक्ट तुम्हारी खराब बात नहीं और पाकिस्तान नेपाल से भी पीछे रहना कोई ऐसी बात नहीं है तो वह प्रतिस्पर्धा है तो इसमें कोई भी चलेगा कोई आगे रहेगा तो ऐसी बात नहीं भारत और वेस्ट करेगा और पाकिस्तान नेपाल कोई नहीं बल्कि वह क्या नाम जो देश आगे भी रहे हैं हमसे हम उनको भी पीछे करें

ji bilkul aap inka sahi question hai ki global hunger index mein bharat aur pakistan bharat pakistan aur nepal ke beech hamari 102 van ka yah toh bahut hi buri rain hai aisa nahi ki bharat mein utpadit nahi ho rahi hai kya ki vo ekdam se nahi chal paya ki jo hum ek garib se garib insano ko jo cheez pahunchane vaah nahi pohch paya hai jitna chahiye toh mujhe lagta ki bus yahi ek reason hai waise aisa nahi ki bharat mein anaaj paida kaam ho raha ho ya chawal paida kam ho raha hai ya kuch bhi aisa koi cheez hai jo kam ho rahi ho bharat mein ek acche se chal raha hai but jo ek system hona chahiye mujhe kehna chahiye ki kadi se kadi jod rahi hai paari ki jisse ki hum choti si choti cheez ko bhi chote se chote logo tak muhaiya kara sake toh isliye bharat hamara peeche reh gaya hai global hum ke dwara bahut hi achi ek niche aa e ee tried india aur usne abhi se samjhauta kar liya kaushal vikas ejukeyar maare kaushal vikas mantralay se hai ki vaah accha sa accha perform kar lo bahut badi ho jaati hai lekin mujhe lagta hai ki bharat ab ki baar bahut thak kaun karega aur bharat jaha tak ki hai toh first all mein toh aayega hi mere saath hamko pata chal gaya ki hum utpaad toh accha product tumhari kharab baat nahi aur pakistan nepal se bhi peeche rehna koi aisi baat nahi hai toh vaah pratispardha hai toh isme koi bhi chalega koi aage rahega toh aisi baat nahi bharat aur west karega aur pakistan nepal koi nahi balki vaah kya naam jo desh aage bhi rahe hain humse hum unko bhi peeche karen

जी बिल्कुल आप इनका सही क्वेश्चन है कि ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत और पाकिस्तान भारत पाकिस

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!