क्या संघर्ष की कोई विशेषता होती है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका पसंद है क्या संघर्ष की कोई विशेषता होती है हां संघर्ष की विशेषता होती है जो व्यक्ति संघर्ष कर रहा होता है केवल उसे ही अपना संघर्ष दिखाई दे रहा होता है बाकी लोग उसके साथ में उस तरह से कनेक्ट नहीं कर पाते इसलिए जब व्यक्ति अपने जीवन में अधिक प्रयास कर रहा होता है तो दूसरों को वह बात उतनी ही समझ में नहीं आती परंतु जब मैं जीवन में सफल हो जाता है तब मैं अपनी संघर्ष की कहानी बताता है तो लोग जल्दी उस बात को समझ पाते हैं धन्यवाद

namaskar aapka pasand hai kya sangharsh ki koi visheshata hoti hai haan sangharsh ki visheshata hoti hai jo vyakti sangharsh kar raha hota hai keval use hi apna sangharsh dikhai de raha hota hai baki log uske saath me us tarah se connect nahi kar paate isliye jab vyakti apne jeevan me adhik prayas kar raha hota hai toh dusro ko vaah baat utani hi samajh me nahi aati parantu jab main jeevan me safal ho jata hai tab main apni sangharsh ki kahani batata hai toh log jaldi us baat ko samajh paate hain dhanyavad

नमस्कार आपका पसंद है क्या संघर्ष की कोई विशेषता होती है हां संघर्ष की विशेषता होती है जो व

Romanized Version
Likes  105  Dislikes    views  2036
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या संघर्ष की कोई विशेषता होती है बिल्कुल और चाहिए जी संगत आपकी परीक्षा लेता है संघर्ष आपको आपकी समय की परीक्षा लेता विज्ञान की परीक्षा लेता है आपके धैर्य की परीक्षा लेता है आपकी स्वयं चिंता की परीक्षा लेता है आपकी काबिलियत की परीक्षा लेता है संघर्ष आपको सिखाता है कि किस तरह इंसान को बुरे समय की पहचान करनी चाहिए और उससे बाहर निकलने के लिए आपके पास क्या स्ट्रैटेजी और किस तरह से आप अपने आप को मजबूत बनाकर रखते हैं खुद ही भी और दूसरों को भी जो इंसान मान लीजिए कोई इंसान आपके पास छोड़ रहा है उसने आपका काम बन जाता है कि आप उसको ठहरे दें उसे विश्वास दिलाएं कि जब तक मैं हूं आपको कुछ भी परेशानी नहीं होगी आपका यह विश्वास पुष्पेंद्र जीने की शक्ति पैदा कर देता है उसके अंदर एक नया संचार करने का जीवन और करना उचित है लेकिन आपका ही आश्वासन आपका पूरा मात्र सहारा आपका सहयोग उसकी जीवन को एक नई राह दिखा देता है रास्ता दिखा देता है लेकिन मरना किसको आपने सारा दिया जब जितनी आप जिसको आपने भरी बनाया वह आपके लिए हिमालय की तरह पूरी जीवन खड़ा रहेगा आपने कोई सहारा दिया लेकिन एक अच्छा इंसान हाथ करके पिता गुरु वह पूरी जिंदगी आपके लिए हिमालय की तरह खड़ा रहेगा और आपको कहानी देखने नहीं देगा कहीं भी वह कुछ उसने नहीं देखा बस यही उसकी सबसे सुंदर सबसे बड़ी विशेषता होती है जो कि जो संघर्ष है वही मजबूत हो

kya sangharsh ki koi visheshata hoti hai bilkul aur chahiye ji sangat aapki pariksha leta hai sangharsh aapko aapki samay ki pariksha leta vigyan ki pariksha leta hai aapke dhairya ki pariksha leta hai aapki swayam chinta ki pariksha leta hai aapki kabiliyat ki pariksha leta hai sangharsh aapko sikhata hai ki kis tarah insaan ko bure samay ki pehchaan karni chahiye aur usse bahar nikalne ke liye aapke paas kya straiteji aur kis tarah se aap apne aap ko majboot banakar rakhte hain khud hi bhi aur dusro ko bhi jo insaan maan lijiye koi insaan aapke paas chhod raha hai usne aapka kaam ban jata hai ki aap usko thahare de use vishwas dilaye ki jab tak main hoon aapko kuch bhi pareshani nahi hogi aapka yah vishwas pushpendra jeene ki shakti paida kar deta hai uske andar ek naya sanchar karne ka jeevan aur karna uchit hai lekin aapka hi ashwasan aapka pura matra sahara aapka sahyog uski jeevan ko ek nayi raah dikha deta hai rasta dikha deta hai lekin marna kisko aapne saara diya jab jitni aap jisko aapne bhari banaya vaah aapke liye himalaya ki tarah puri jeevan khada rahega aapne koi sahara diya lekin ek accha insaan hath karke pita guru vaah puri zindagi aapke liye himalaya ki tarah khada rahega aur aapko kahani dekhne nahi dega kahin bhi vaah kuch usne nahi dekha bus yahi uski sabse sundar sabse badi visheshata hoti hai jo ki jo sangharsh hai wahi majboot ho

क्या संघर्ष की कोई विशेषता होती है बिल्कुल और चाहिए जी संगत आपकी परीक्षा लेता है संघर्ष आप

Romanized Version
Likes  397  Dislikes    views  2541
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:22
Play

Likes  176  Dislikes    views  5876
WhatsApp_icon
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है संघर्ष की विशेषता बताइए सबसे पहली बात संघर्ष जो है उसको आप स्वीट स्वीट पॉजिटिवली संघर्ष एक दुखदाई काम नहीं है संघर्ष एक ऐसा है जहां पर आप चलते हैं दृढ़ निश्चय संकल्प करके कि आप जिस भी दुविधा में है उसे आप अपने असली बाहर आएंगे तो जो भी आप सीखते हैं जिंदगी के लोग अब तुम्हारी करते हैं और जो भी कुछ आप करके बाहर आ जाते हैं उस समस्या से संघर्ष आपको वह विक्रम और वह स्किल सेट प्रदान करता है जो थिअरी में लोग पढ़ते हैं वह आप कर चुके होते हैं तो आप जैसे लोग जो प्रॉब्लम से छूटकर बाहर आते हैं यू आर मच हायर एंड बेटर देन दो सेट फॉलो ओनली बुक किताबी बातें करते हैं जिन्हें संघर्ष देना नहीं होता है देखना नहीं होता है वह दूसरों को सलाह मशवरा या गार्डंस देते भी हैं तो आप जितना उसका इफेक्ट नहीं होता कि प्रैक्टिकली जिसने देखा होता है ई कैन टच मोर लाइफ एंड जिसमें संघर्ष नहीं देखा होता है तो संगत को ग्राम पॉजिटिव ले लेंगे तो यू नॉट गेट बैक डाउन अप रोएंगे नहीं चलाएंगे नहीं सर नहीं बैठेंगे और अब नए नए तरीके उनको सीखेंगे नए नए कोर्स सीखेंगे नए नए स्टाइल सेट को आप खुद खुद उसको क्रिएट करेंगे आप और कुछ ना कुछ करके आप अपनी समस्या से बाहर आई जाएंगे तो सबका माइंड सेट करो पॉजिटिंग संघर्ष है वह सिर्फ उन लोगों को मिलता है जिन्होंने पाठ किया होता है कर्म आपके सामने समस्या आती है वह कुछ सॉन्ग बनाती है और आप वही आपके बन जाता है क्वेश्चन और उस वेस्टर्न को आप जब शेयर करते लोगों के साथ तो वहां पर आपका आपका जो कॉन्ट्रिब्यूशन होता है वह मल्टीफोल्ड डिवाइस जस्ट नॉट बाय एजुकेशन बट आल्सो द लाइफ एक्सपीरियंस ऑफ एजुकेशन काउंसलिंग प्लीज कनेक्ट ऑन कविता पानी हम डॉट कॉम

aapka sawaal hai sangharsh ki visheshata bataye sabse pehli baat sangharsh jo hai usko aap sweet sweet positively sangharsh ek dukhdai kaam nahi hai sangharsh ek aisa hai jaha par aap chalte hain dridh nishchay sankalp karke ki aap jis bhi duvidha mein hai use aap apne asli bahar aayenge toh jo bhi aap sikhate hain zindagi ke log ab tumhari karte hain aur jo bhi kuch aap karke bahar aa jaate hain us samasya se sangharsh aapko vaah vikram aur vaah skill set pradan karta hai jo theory mein log padhte hain vaah aap kar chuke hote hain toh aap jaise log jo problem se chutakar bahar aate hain you R match hire and better then do set follow only book kitabi batein karte hain jinhen sangharsh dena nahi hota hai dekhna nahi hota hai vaah dusro ko salah mashwara ya gardans dete bhi hain toh aap jitna uska effect nahi hota ki practically jisne dekha hota hai ee can touch mor life and jisme sangharsh nahi dekha hota hai toh sangat ko gram positive le lenge toh you not gate back down up roenge nahi chalayenge nahi sir nahi baitheange aur ab naye naye tarike unko sikhenge naye naye course sikhenge naye naye style set ko aap khud khud usko create karenge aap aur kuch na kuch karke aap apni samasya se bahar I jaenge toh sabka mind set karo positing sangharsh hai vaah sirf un logo ko milta hai jinhone path kiya hota hai karm aapke saamne samasya aati hai vaah kuch song banati hai aur aap wahi aapke ban jata hai question aur us western ko aap jab share karte logo ke saath toh wahan par aapka aapka jo contribution hota hai vaah maltifold device just not bye education but aalso the life experience of education kaunsaling please connect on kavita paani hum dot com

आपका सवाल है संघर्ष की विशेषता बताइए सबसे पहली बात संघर्ष जो है उसको आप स्वीट स्वीट पॉजिटि

Romanized Version
Likes  1030  Dislikes    views  12584
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि संघर्ष की विशेषता बताइए के संघर्ष की सबसे बड़ी विशेषता यही होती है आप किसी भी स्थिति में किसी भी परिस्थिति में दी मोटिवेट मत होइए जब आप कोई कार्य करना स्टार्ट करोगे तो समाज में बहुत सारे लोग हैं जो आपको डी मोटिवेट करने की कोशिश करेंगे वह बोलेंगे अरे यार इस कार्य को करना स्टार्ट किए हो इसमें फेल हो जाओगे इसमें नुकसान होगा इसमें बहुत दिक्कत होता है हमने भी पहले किया था आपको डी मोटिवेट नहीं होना है आपको खुद के ऊपर कॉन्फिडेंस रखना है आपको पूरी प्लानिंग करके कोई कार्य करना है जब कोई प्लानिंग है आपकी तो आपको खुद के ऊपर जब भरोसा होगा तो आपको उस कार्य में पक्का सफलता मिलेगी कार्य करना स्टार्ट करोगे हो सकता है क्या सफलता प्राप्त हो सफलता प्राप्त होने के बाद आपको घबराना नहीं है आपको कंटिन्यू उस कार्य में लगे रहना है कार्य में लगे रहोगे तो 1 दिन आपको उस कार्य में पक्का पपीता प्राप्त होगी किसी एक सफलता को प्राप्त करने के लिए हजारों असफलताओं का बहुत बड़ा योगदान होता है तो यह संघर्ष की सबसे बड़ी विशेषता है संघर्ष का ताल्लुक कर्म से अच्छे कर्म से हैं जो अपने अच्छे कर्म को करता है मन लगाकर करता है दिल लगाकर करता है वह पक्का सफल व्यक्ति बनता है तो संघर्ष की सबसे बड़ी परिभाषा भी यही है धन्यवाद

aapka sawaal hai ki sangharsh ki visheshata bataye ke sangharsh ki sabse badi visheshata yahi hoti hai aap kisi bhi sthiti mein kisi bhi paristithi mein di motivate mat hoiye jab aap koi karya karna start karoge toh samaj mein bahut saare log hain jo aapko d motivate karne ki koshish karenge vaah bolenge are yaar is karya ko karna start kiye ho isme fail ho jaoge isme nuksan hoga isme bahut dikkat hota hai humne bhi pehle kiya tha aapko d motivate nahi hona hai aapko khud ke upar confidence rakhna hai aapko puri planning karke koi karya karna hai jab koi planning hai aapki toh aapko khud ke upar jab bharosa hoga toh aapko us karya mein pakka safalta milegi karya karna start karoge ho sakta hai kya safalta prapt ho safalta prapt hone ke baad aapko ghabrana nahi hai aapko continue us karya mein lage rehna hai karya mein lage rahoge toh 1 din aapko us karya mein pakka papita prapt hogi kisi ek safalta ko prapt karne ke liye hazaro asafaltaon ka bahut bada yogdan hota hai toh yah sangharsh ki sabse badi visheshata hai sangharsh ka talluk karm se acche karm se hain jo apne acche karm ko karta hai man lagakar karta hai dil lagakar karta hai vaah pakka safal vyakti banta hai toh sangharsh ki sabse badi paribhasha bhi yahi hai dhanyavad

आपका सवाल है कि संघर्ष की विशेषता बताइए के संघर्ष की सबसे बड़ी विशेषता यही होती है आप किसी

Romanized Version
Likes  184  Dislikes    views  3693
WhatsApp_icon
user

J.P. Y👌g i

Psychologist

7:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न लघु है लेकिन उत्तर अपेक्षाकृत बहुत ही महत्वपूर्ण बनता है कि संघर्ष की विशेषता बताइए संघर्ष में सबसे बड़ी चीज होती है अपनी था अगर धैर्य नहीं है तो संघर्ष जटिल होता है तो पर स्थापित करता है तो संघर्ष को हम कठिनाई समझ करके या दुख का कारण समझे उसको जाने भाव से निम्न करें तो वह संघर्ष हमारे लिए कांटे की तरह और भी झुकता चला जाता है शंकर शर्मा अभ्यास समझें तो सबसे उत्तम बात यह है और संघर्ष से ही परिष्कृत होता है अगर परित आप इतना हो तो उसका शुद्ध तत्व की जागृति नहीं होती है संगत में संघर्ष के अंदर विचलित होता है क्या है संघर्ष में विशेष दवाई होता है कि कोई चीज ऐसी है जो घर में रहता है कि यह टूट सकता है यह नहीं सफल हो सकता है तो ऐसी दिशा में संघर्ष एक बहुत कठिनाई को सूचित कर आता है और संघर्ष के बिना तो उत्कर्ष बनता ही नहीं है और ना ही उसके बढ़ाता है और संघर्ष को अगर हम सब रूप में नष्ट कर दें कि यह तो हमने सत्य है इसको सृजन किया है और यह मेरा कभी भी हानि नहीं दे सकता है या बचा सकता है तो संगत संगत नहीं रह जाता है हां बल्कि उस संघर्ष में हमारी मजबूती बनती है क्योंकि जब हम किसी से जुड़ सकते हैं या किसी से संघर्षरत में रहते हैं तो कुछ ना कुछ हमारी चीजों की मजबूती होती क्योंकि हम उस संघर्ष में दब थे नहीं हैं और जब हम संकल्प में दफ्तर नहीं हैं तो इसका मतलब यह है कि हमारे अंदर जोर बन रहा है हमारे अंदर पुष्टि है तो इस कारण और संघर्ष के बिना मजबूती कदाचित नहीं हो पाता है तो संघर्ष हमारे लिए कोई नुकसान की चीज नहीं हानिकारक नहीं है क्योंकि हम किसी चीज के लिए लक्ष्य के लिए चल रहे हैं और उसमें जो विघ्न आ रहा है वह संघर्ष की विवेचना बनती है तो हम अरे लक्ष्य के अंदर जितने भी प्रकार के बीच में पढ़ते हैं वे संघर्ष में प्रतीत होते हैं लेकिन हम उस सिंगर से घबराना नहीं चाहिए उसको तपन इश्क में बदल करके अपने आप को परिपक्वता और मजबूती डालने चाहिए डालना चाहिए उसके अंदर कोई संघर्ष तो बहुत महत्वपूर्ण चीज है लाइफ के अंदर कोई भी अगर अगर किसी का परिणाम घोषित किया जाता है तो उसमें संघर्ष को ही विवेचना की जाती है कि फलां व्यक्ति इस मकान में कितनी कठिनाइयों और प्रस्तुति के बाद भी उस मुकाम पर पहुंचा और वह सराहनीय हो जाता है तो संघर्ष के बिना जीवन का निखार नहीं होता है और जंगल से घबराना चाहिए बहुत से कट करते हैं जिस तरह का एक खेल के मैदान है क्रिकेट में आ रहा है वह संघर्ष सामाजिक बोल्ड करने आता है लेकिन हमारी चेतना हमारी का और उसका जो प्रतिवाद जवाब होता है और वह रन में कन्वर्ट करता है अर्थात उपलब्धि में प्राप्ति दे देता है तो संघर्ष का फायदा भी उठाया जाता है और बहुत ही ज्यादा फायदा मिलता है संघर्ष से इसलिए इस संघर्ष में कभी भी अपने आपको अस्थल नहीं करना चाहिए और ना घबराहट रखनी चाहिए समय और स्थिरता के साथ धारिता के साथ अपने आपको उसमें स्ट्रगल यह संघर्ष में जो हो रहा है इसको कुशलता पूर्वक विजयलक्ष्मी और अपने आप को स्थापित करना चाहिए क्योंकि विनीता और इसी में ही एक लड़ाई है एक प्रकार के सोना अगर अग्निवीणा तपे तो उसमें निखार कम होता है और दूसरी बात जब वह मूल गुण व स्वभाव में स्थापित रहता है तो उसका मूल्यांकन बढ़ जाता है इस प्रकार से ही संघर्ष में हमेशा ही परिष्कृत की भावना आती है और यह हमारे निजी मजबूती को दर्शाता और अपने आप को भी पर करने में सहायक होता कि हम कितने उस विषय में सही स्तर है कि नहीं हमारी स्थिति का पता चलता है हमारी मनोदशा का पता चलता है कि संघर्ष में भी हम कितने भर का सहारा लेते हैं और कितना हमारे अंदर ठहरता बनी हुई है और गैर कोई छोटी मोटी चीज नहीं आत्मा के गुण हाईवे आत्मिक गुण हैं और इसमें हमारा और और विवेक लक विकल्प संभावनाएं उद्दीपन होती है हमारी प्रकृति के अंतः करण से जो उस संघर्ष को को दबा देती है तो इस प्रकार संघर्ष से घबरा नंद जी शब्द है यह शब्दों का खेला है दिमाग का खेला है लेकिन उत्कर्ष और अपनी ऊंचाई आगे बढ़ाता रहता है उसके लिए संघर्ष संघर्ष नहीं रह जाता एक आनंद का विषय बन जाता है वह रंजकता में आ जाता है ऐसी कोई बात नहीं है और संघर्ष लाइफ में होना बहुत जरूरी शंकर को कसोटी के रूप में भी समझे तो भी हमारे लिए अच्छी बात है लोकेश से परख होती है कि वास्तव में क्या है स्थिति क्या है और अपनी गुणवत्ता का हमें पता चलता है तो आज भी सर्वप्रिय वही लोग होते हैं जो संघर्ष में कुशल हो जाते हैं और लोग उसका श्रेय लेते हैं क्योंकि वह भी स्टेटस से निकला होता है और दूसरे को भी एक सही दिशा दे देता है तो मैं यही कहूंगा कि इस बात को अपने अंदर की गहराई में अगर डालेंगे तो आप के अंत करण में ही यह विश विवेचना उत्पन्न हो जाएगी किस्से हमें लाभ हो रहा है और हमेशा कभी घबराना चाहिए और उसको हमने श्रम ही बनाया है और यह हमारे पर कोई चरण रहा है यह हमारे लिए ईश्वर ने एक अक्षर दिया है हमारे पर के लिए पैसा सूज भुज कर करके अपने आप को शेयर करके ध्यान और अपने संस्कार को अपनी सही संस्कार अवधारणाओं को भूत रखें और अपनी सफलता को बनाए रखें मैं यही कहूंगा और व्हिच पर्सन के मंथन में अपने अंत करण में स्वता ही विकल्प और ज्ञान का सृजन होगा जितना आप इस विषय पर मनन चिंतन करेंगे तो आपको संभावित ही लाभ ही लाभ होगा और अपने को सही परिष्कृत रूप में समझने अपने आप को समझने की बहुत ही अच्छा है ना मिलेगा धन्यवाद

prashna laghu hai lekin uttar apekshakrit bahut hi mahatvapurna baata hai ki sangharsh ki visheshata bataye sangharsh mein sabse badi cheez hoti hai apni tha agar dhairya nahi hai toh sangharsh jatil hota hai toh par sthapit karta hai toh sangharsh ko hum kathinai samajh karke ya dukh ka karan samjhe usko jaane bhav se nimn kare toh vaah sangharsh hamare liye kante ki tarah aur bhi jhukta chala jata hai shankar sharma abhyas samajhe toh sabse uttam baat yah hai aur sangharsh se hi parishkrit hota hai agar parit aap itna ho toh uska shudh tatva ki jagriti nahi hoti hai sangat mein sangharsh ke andar vichalit hota hai kya hai sangharsh mein vishesh dawai hota hai ki koi cheez aisi hai jo ghar mein rehta hai ki yah toot sakta hai yah nahi safal ho sakta hai toh aisi disha mein sangharsh ek bahut kathinai ko suchit kar aata hai aur sangharsh ke bina toh utkarsh baata hi nahi hai aur na hi uske badhata hai aur sangharsh ko agar hum sab roop mein nasht kar de ki yah toh humne satya hai isko srijan kiya hai aur yah mera kabhi bhi hani nahi de sakta hai ya bacha sakta hai toh sangat sangat nahi reh jata hai haan balki us sangharsh mein hamari majbuti banti hai kyonki jab hum kisi se jud sakte hain ya kisi se sangharsharat mein rehte hain toh kuch na kuch hamari chijon ki majbuti hoti kyonki hum us sangharsh mein dab the nahi hain aur jab hum sankalp mein daftaar nahi hain toh iska matlab yah hai ki hamare andar jor ban raha hai hamare andar pushti hai toh is karan aur sangharsh ke bina majbuti kadachit nahi ho pata hai toh sangharsh hamare liye koi nuksan ki cheez nahi haanikarak nahi hai kyonki hum kisi cheez ke liye lakshya ke liye chal rahe hain aur usme jo vighn aa raha hai vaah sangharsh ki vivechna banti hai toh hum are lakshya ke andar jitne bhi prakar ke beech mein padhte hain ve sangharsh mein pratit hote hain lekin hum us singer se ghabrana nahi chahiye usko tapan ishq mein badal karke apne aap ko paripakvata aur majbuti dalne chahiye dalna chahiye uske andar koi sangharsh toh bahut mahatvapurna cheez hai life ke andar koi bhi agar agar kisi ka parinam ghoshit kiya jata hai toh usme sangharsh ko hi vivechna ki jaati hai ki falan vyakti is makan mein kitni kathinaiyon aur prastuti ke baad bhi us mukam par pohcha aur vaah sarahniya ho jata hai toh sangharsh ke bina jeevan ka nikhaar nahi hota hai aur jungle se ghabrana chahiye bahut se cut karte hain jis tarah ka ek khel ke maidan hai cricket mein aa raha hai vaah sangharsh samajik bold karne aata hai lekin hamari chetna hamari ka aur uska jo prativad jawab hota hai aur vaah run mein convert karta hai arthat upalabdhi mein prapti de deta hai toh sangharsh ka fayda bhi uthaya jata hai aur bahut hi zyada fayda milta hai sangharsh se isliye is sangharsh mein kabhi bhi apne aapko asthal nahi karna chahiye aur na ghabarahat rakhni chahiye samay aur sthirta ke saath dharita ke saath apne aapko usme struggle yah sangharsh mein jo ho raha hai isko kushalata purvak vijaylakshmi aur apne aap ko sthapit karna chahiye kyonki vinita aur isi mein hi ek ladai hai ek prakar ke sona agar agnivina tape toh usme nikhaar kam hota hai aur dusri baat jab vaah mul gun va swabhav mein sthapit rehta hai toh uska mulyankan badh jata hai is prakar se hi sangharsh mein hamesha hi parishkrit ki bhavna aati hai aur yah hamare niji majbuti ko darshata aur apne aap ko bhi par karne mein sahayak hota ki hum kitne us vishay mein sahi sthar hai ki nahi hamari sthiti ka pata chalta hai hamari manodasha ka pata chalta hai ki sangharsh mein bhi hum kitne bhar ka sahara lete hain aur kitna hamare andar thahrata bani hui hai aur gair koi choti moti cheez nahi aatma ke gun highway atmik gun hain aur isme hamara aur aur vivek luck vikalp sambhavnayen uddipan hoti hai hamari prakriti ke antah karan se jo us sangharsh ko ko daba deti hai toh is prakar sangharsh se ghabara nand ji shabd hai yah shabdon ka khela hai dimag ka khela hai lekin utkarsh aur apni uchai aage badhata rehta hai uske liye sangharsh sangharsh nahi reh jata ek anand ka vishay ban jata hai vaah ranjakata mein aa jata hai aisi koi baat nahi hai aur sangharsh life mein hona bahut zaroori shankar ko kasoti ke roop mein bhi samjhe toh bhi hamare liye achi baat hai lokesh se parakh hoti hai ki vaastav mein kya hai sthiti kya hai aur apni gunavatta ka hamein pata chalta hai toh aaj bhi sarvpriy wahi log hote hain jo sangharsh mein kushal ho jaate hain aur log uska shrey lete hain kyonki vaah bhi status se nikala hota hai aur dusre ko bhi ek sahi disha de deta hai toh main yahi kahunga ki is baat ko apne andar ki gehrai mein agar daalenge toh aap ke ant karan mein hi yah wish vivechna utpann ho jayegi kisse hamein labh ho raha hai aur hamesha kabhi ghabrana chahiye aur usko humne shram hi banaya hai aur yah hamare par koi charan raha hai yah hamare liye ishwar ne ek akshar diya hai hamare par ke liye paisa sooj bhuj kar karke apne aap ko share karke dhyan aur apne sanskar ko apni sahi sanskar avadharanaon ko bhoot rakhen aur apni safalta ko banaye rakhen main yahi kahunga aur which person ke manthan mein apne ant karan mein swata hi vikalp aur gyaan ka srijan hoga jitna aap is vishay par manan chintan karenge toh aapko sambhavit hi labh hi labh hoga aur apne ko sahi parishkrit roop mein samjhne apne aap ko samjhne ki bahut hi accha hai na milega dhanyavad

प्रश्न लघु है लेकिन उत्तर अपेक्षाकृत बहुत ही महत्वपूर्ण बनता है कि संघर्ष की विशेषता बताइए

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1214
WhatsApp_icon
play
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:11

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सकारात्मक रूप से निरंतर अपने लक्ष्य के प्रति आगे बढ़ते जाना है असली संघर्ष है

sakaratmak roop se nirantar apne lakshya ke prati aage badhte jana hai asli sangharsh hai

सकारात्मक रूप से निरंतर अपने लक्ष्य के प्रति आगे बढ़ते जाना है असली संघर्ष है

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  294
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नेट कनेक्ट विशेषताएं संघर्ष करने वाला व्यक्ति ही जिंदगी में आगे बढ़ने वाला इंसान यदि देश में आपकी चित्र में आगे बढ़ते हैं वह आगे बढ़ते हैं जो संघर्ष के साथ रहते हैं वही आदमी जिंदगी में आगे बढ़ते हैं अपनी सफलता को हासिल करते हैं अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हैं और करते हैं या तो खुद जितने हैं या टीम को जिता देते हैं इसलिए जीवन में संघर्ष बहुत जरूरी है संगत से घबराना नहीं चाहिए प्रस्तुति से घबराना नहीं चाहिए मुकाबला करना चाहिए हमेशा कोई ना कोई रास्ता सामने आ जाती है

net connect visheshtayen sangharsh karne vala vyakti hi zindagi mein aage badhne vala insaan yadi desh mein aapki chitra mein aage badhte hain vaah aage badhte hain jo sangharsh ke saath rehte hain wahi aadmi zindagi mein aage badhte hain apni safalta ko hasil karte hain apne lakshya ko prapt karte hain aur karte hain ya toh khud jitne hain ya team ko jita dete hain isliye jeevan mein sangharsh bahut zaroori hai sangat se ghabrana nahi chahiye prastuti se ghabrana nahi chahiye muqabla karna chahiye hamesha koi na koi rasta saamne aa jaati hai

नेट कनेक्ट विशेषताएं संघर्ष करने वाला व्यक्ति ही जिंदगी में आगे बढ़ने वाला इंसान यदि देश म

Romanized Version
Likes  151  Dislikes    views  1682
WhatsApp_icon
user

Rihan Shah

I want to become An IAS Officer (Love Realationship Full Experience)

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं किशनगढ़ की दो विशेषताएं हुई है कि आप किसी काम के प्रत्येक रखने का रेट के प्रति मेहनत नहीं करोगे तो अगर आपको टारगेट आपने क्या फिक्स किया हुआ है वह आपको ही करना है तो आप बहुत संघर्ष करना पड़ेगा लाइसेंस

main kishangarh ki do visheshtayen hui hai ki aap kisi kaam ke pratyek rakhne ka rate ke prati mehnat nahi karoge toh agar aapko target aapne kya fix kiya hua hai vaah aapko hi karna hai toh aap bahut sangharsh karna padega license

मैं किशनगढ़ की दो विशेषताएं हुई है कि आप किसी काम के प्रत्येक रखने का रेट के प्रति मेहनत न

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  604
WhatsApp_icon
user
0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बीके संघर्ष की कोई विशेषता नहीं होती अगर बात की जाए अगर संघर्ष की विशेषताएं संघ स्वरूप की तो वह है अविनाश बनाम उत्पादक संघर्ष दूसरा है दृष्टिकोण व्यवहार और संघर्ष तीसरा है संबंध ना होने पर अपेक्षा संघर्षपूर्ण संबंध अच्छे हैं और इसमें से संघर्ष के प्रकार जो है वह है व्यक्तिगत संघर्ष का जातीय संघर्ष वर्क संघर्ष जातीय संघर्ष राजनैतिक संघर्ष और छठा अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष

BK sangharsh ki koi visheshata nahi hoti agar baat ki jaaye agar sangharsh ki visheshtayen sangh swaroop ki toh vaah hai avinash banam utpadak sangharsh doosra hai drishtikon vyavhar aur sangharsh teesra hai sambandh na hone par apeksha sangharshapurn sambandh acche hain aur isme se sangharsh ke prakar jo hai vaah hai vyaktigat sangharsh ka jatiye sangharsh work sangharsh jatiye sangharsh rajnaitik sangharsh aur chhata antarrashtriya sangharsh

बीके संघर्ष की कोई विशेषता नहीं होती अगर बात की जाए अगर संघर्ष की विशेषताएं संघ स्वरूप की

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!