कोई भी प्राइवट कंपनी IAS की भर्ती क्यों नहीं करती अगर वे इतने प्रतिभाशाली, बुद्धिमान और स्मार्ट होते हैं?...


user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

1:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं सरकार के स्टेशन पर करने के लिए प्राइवेट कंपनी खुद करती है चेयरपर्सन 1 पॉइंट 6 पॉइंट उनके रिटायर होने के बाद उनकी भर्ती कर सकते हैं और क्या मेरी कंपनी के लिए फायदेमंद है लेकिन

aapka prashna koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi sarkar ke station par karne ke liye private company khud karti hai chairperson 1 point 6 point unke retire hone ke baad unki bharti kar sakte hain aur kya meri company ke liye faydemand hai lekin

आपका प्रश्न कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं सरकार के स्टेशन पर करने के लिए

Romanized Version
Likes  408  Dislikes    views  4543
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pradeep Solanki

Corporate Yoga Consultant

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आइए सरकार के लिए ही बनते हैं आईएस कि जब आप एग्जाम पास करते हो तो आपको सरकारी नौकरी मिलती है या पास करने के बाद आपको प्राइवेट कंपनी क्यों लेकिन क्योंकि जो आईएस पास कर चुका हूं प्राइवेट नौकरी पहली बात तो क्यों करेगा दूसरा यह कि रिटायर होने के बाद जितने भी ज्यादातर आई है उनको काफी कंपनियां नौकरी में रखती हैं काफी तरक्की करते हैं बड़े सारे कंपनी इसके पहले आईएस रह चुके हैं काफी राजनीतिक है जो राजनीति में आ चुके हैं ऐसा नहीं है कि वैशाली है स्मार्ट है सबकुछ एक्सपीरियंस हमको तो नौकरी छूटने के 1 साल के बाद वो कहीं ना कहीं दूसरी नौकरी या कोई काम धंधा कर सकते हैं और चुप करते भी हैं

aaiye sarkar ke liye hi bante hain ias ki jab aap exam paas karte ho toh aapko sarkari naukri milti hai ya paas karne ke baad aapko private company kyon lekin kyonki jo ias paas kar chuka hoon private naukri pehli baat toh kyon karega doosra yah ki retire hone ke baad jitne bhi jyadatar I hai unko kaafi companiya naukri me rakhti hain kaafi tarakki karte hain bade saare company iske pehle ias reh chuke hain kaafi raajnitik hai jo raajneeti me aa chuke hain aisa nahi hai ki vaishali hai smart hai sabkuch experience hamko toh naukri chutney ke 1 saal ke baad vo kahin na kahin dusri naukri ya koi kaam dhandha kar sakte hain aur chup karte bhi hain

आइए सरकार के लिए ही बनते हैं आईएस कि जब आप एग्जाम पास करते हो तो आपको सरकारी नौकरी मिलती ह

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  675
WhatsApp_icon
user

Manoj Kumar Srivastava

सेवानिवृत्त उपसचिव,स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग, झारखंड रांची

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कंपनी प्राइवेट कंपनी को चाहिए जो मैनेजमेंट शिक्षा प्राप्त किया एमबीए किया हो या फिल्म्स था कि और कोई डिग्री प्राइवेट कंपनी आईएस को लेती है कोई अगर नौकरी से इस्तीफा दे कंपनी में जाता है तो उसको रख सकती है या बहुत से आईएस रिटायरमेंट के बाद भी प्राइवेट नौकरी कर लेते हैं लेकिन प्राइवेट नौकरी में प्राइवेट कंपनी में आईएस को प्राथमिकता देने का कोई तुक नहीं है क्योंकि आयुष्मान भारत भारतीय प्रशासनिक सेवा दूध प्रशासन इन कंपनी टशन-ए-इश्क की बालिकाओं

company private company ko chahiye jo management shiksha prapt kiya mba kiya ho ya films tha ki aur koi degree private company ias ko leti hai koi agar naukri se istifa de company me jata hai toh usko rakh sakti hai ya bahut se ias retirement ke baad bhi private naukri kar lete hain lekin private naukri me private company me ias ko prathamikta dene ka koi tuk nahi hai kyonki ayushman bharat bharatiya prashaasnik seva doodh prashasan in company tashan a ishq ki balikaon

कंपनी प्राइवेट कंपनी को चाहिए जो मैनेजमेंट शिक्षा प्राप्त किया एमबीए किया हो या फिल्म्स थ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Siyaram Dubey

YouTuber/Spiritual Person/Thinker/Social-media Activist

1:05
Play

Likes  193  Dislikes    views  1928
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

Likes  151  Dislikes    views  1879
WhatsApp_icon
user
1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

b.a. फाइनल क्वेश्चन है कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती अगर वह इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान और स्मार्ट होते हैं देखिए आपको बता दें इसके 2 साल से जो भी गवर्नमेंट कंपनी है या फिर जो हाई-फाई कंपनी है एमएनसी कंपनी है वह क्या करते हैं जो आईएएस के अंदर जो इंटरव्यू के अंदर लोग बैठते हैं 15 सेमेस्टर एग्जाम इस अंदाज में बैठते हैं उनका पूरा डाटा लेती है और उस डाटा के बिहार से उनको इंटरव्यू के लिए बुलाती है उसके बाद एक अच्छे खासे पैकेज पर वह लोग उनको शायद अप्वॉइंट करते हैं ऐसा नहीं कीपैड कंपनी है नहीं करती पार्ट कंपनी आजकल जो आईएएस के इंटरव्यू में पहुंच जाता है उसको अपने यहां पर जोर देने के लिए तैयार बैठे हैं आप अनअकैडमी जो प्लेटफार्म है यूट्यूब चैनल का अगर आप इसका देखें तो इसमें सारे आईएसी है और यह वह है कि जो आईएस होने के बाद अपनी नौकरी छोड़कर अपने प्राइवेट कंपनी क्योंकि टैलेंटेड हैं प्रतिभाशाली हैं अच्छा इनके अंदर काम करने की क्षमता है उसको देखते हुए पर कंप्लेंट को जॉब ले रही है

b a final question hai koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi karti agar vaah itne pratibhashali buddhiman aur smart hote hain dekhiye aapko bata de iske 2 saal se jo bhi government company hai ya phir jo high fai company hai mnc company hai vaah kya karte hain jo IAS ke andar jo interview ke andar log baithate hain 15 semester exam is andaaz me baithate hain unka pura data leti hai aur us data ke bihar se unko interview ke liye bulati hai uske baad ek acche khase package par vaah log unko shayad apwaint karte hain aisa nahi keypad company hai nahi karti part company aajkal jo IAS ke interview me pohch jata hai usko apne yahan par jor dene ke liye taiyar baithe hain aap unacademy jo platform hai youtube channel ka agar aap iska dekhen toh isme saare IAC hai aur yah vaah hai ki jo ias hone ke baad apni naukri chhodkar apne private company kyonki talented hain pratibhashali hain accha inke andar kaam karne ki kshamta hai usko dekhte hue par complaint ko job le rahi hai

b.a. फाइनल क्वेश्चन है कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती अगर वह इतने प्र

Romanized Version
Likes  408  Dislikes    views  2854
WhatsApp_icon
play
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

0:51

Likes  636  Dislikes    views  7505
WhatsApp_icon
user

Satyam Khandelwal

Career Counselor

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीपी आपकी बात की प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती नहीं करती है कुछ समय पहले तो सही थी अभी कुछ समय पहले तक आईएस किंग प्रेशर नहीं था कि एक गवर्मेंट जॉब है और कमेंट ऑफिस लेट हो जाते हैं एकदम का शिकार हो जाते हैं और बहुत ज्यादा काम करने की आदत नहीं रहती जैसी प्राइवेट कंपनी में रिक्वायरमेंट बदल रहे हैं अभी काफी सारे अपनी एक से बढ़कर एक अपनी मेहनत कर रहे हैं और अपने का स्कोर पी पुलिस रिक्रूटमेंट हां बिल्कुल आपको पत्ती

dipi aapki baat ki private company ias ki bharti nahi karti hai kuch samay pehle toh sahi thi abhi kuch samay pehle tak ias king pressure nahi tha ki ek government job hai aur comment office late ho jaate hain ekdam ka shikaar ho jaate hain aur bahut zyada kaam karne ki aadat nahi rehti jaisi private company me requirement badal rahe hain abhi kaafi saare apni ek se badhkar ek apni mehnat kar rahe hain aur apne ka score p police recruitment haan bilkul aapko patti

डीपी आपकी बात की प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती नहीं करती है कुछ समय पहले तो सही थी अभी कुछ

Romanized Version
Likes  325  Dislikes    views  3641
WhatsApp_icon
user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राइवेट कंपनियां व्यवसाय करती है पुलिस करती है पार करती वह नौकरी नहीं बढ़ती हूं व्यापार करती हैं और उसी संबंध लोगों को रखती है व्यापार में एक पक्षी का अधिकार और प्रशासन बहुत अच्छी तरीके से आईएस प्रशासनिक अधिकारी होता है एक व्यापारी होता है इसलिए ब्लॉक करती हैं जो इस कार्य में निपुण होते इस कार्य को अच्छी तरह जानते

private companiya vyavasaya karti hai police karti hai par karti vaah naukri nahi badhti hoon vyapar karti hain aur usi sambandh logo ko rakhti hai vyapar me ek pakshi ka adhikaar aur prashasan bahut achi tarike se ias prashaasnik adhikari hota hai ek vyapaari hota hai isliye block karti hain jo is karya me nipun hote is karya ko achi tarah jante

प्राइवेट कंपनियां व्यवसाय करती है पुलिस करती है पार करती वह नौकरी नहीं बढ़ती हूं व्यापार क

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:52
Play

Likes  80  Dislikes    views  2640
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्लेसमेंट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती हैं अगर कंपनी के निदेशक भागन सट्टे का आईएएस अधिकारियों की प्राइवेट सेक्टर

aapka placement company ias ki bharti kyon nahi karti hain agar company ke nideshak bhagan satte ka IAS adhikaariyo ki private sector

आपका प्लेसमेंट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती हैं अगर कंपनी के निदेशक भागन सट्टे का आ

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  2043
WhatsApp_icon
user

अमित कुमार दीक्षित "आदिदेव"

विधिवक्ता, कैरियर कॉउंसेलर एवं समाजसेवी

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जितनी भी भारत सहित संपूर्ण विश्व में बड़ी-बड़ी कंपनियां हैं वह आईएएस और पीसीएस जैसी परीक्षाओं को पास किए हुए युवाओं को अपने कार्यालय में रखती हैं और उन्हें बड़ा से बड़ा वेतन का ऑफर करती है ऐसा बिल्कुल नहीं है कि प्राइवेट कंपनियां आईएएस अधिकारियों को नहीं रखते हैं और तमाम बड़े आईएएस अधिकारी जो सीनियर होते हैं एक्सीडेंट होते हैं वह रिटायर होकर के बड़ी-बड़ी कंपनियों को ही ज्वाइन करते हैं चाहे उठाता हो जाए देर ना हो जाए प्राइवेट कंपनी की तरह लिमिटेड कौन होते हैं

jitni bhi bharat sahit sampurna vishwa me badi badi companiya hain vaah IAS aur pcs jaisi parikshao ko paas kiye hue yuvaon ko apne karyalay me rakhti hain aur unhe bada se bada vetan ka offer karti hai aisa bilkul nahi hai ki private companiya IAS adhikaariyo ko nahi rakhte hain aur tamaam bade IAS adhikari jo senior hote hain accident hote hain vaah retire hokar ke badi badi companion ko hi join karte hain chahen uthaata ho jaaye der na ho jaaye private company ki tarah limited kaun hote hain

जितनी भी भारत सहित संपूर्ण विश्व में बड़ी-बड़ी कंपनियां हैं वह आईएएस और पीसीएस जैसी परीक्ष

Romanized Version
Likes  30  Dislikes    views  699
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:35
Play

Likes  134  Dislikes    views  4475
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:29
Play

Likes  146  Dislikes    views  1865
WhatsApp_icon
user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या-क्या प्रश्न कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती और राधा इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान स्मार्ट होते हैं तक बताना चाहेंगे जो आईएस का एग्जामिनेशन है यह गवर्नमेंट एजेंसी जो है यूपी भूखंड कराती है और इसके बाद आप गवर्नमेंट सर्विस के लिए जबल होते हैं इन उस आईटी सर्विसेज की जो केटेगरी है इंडिया के अंदर उसमें आप आते हैं और ऐसा नहीं है कि यह लोग प्राइवेट नौकरी नहीं करते जब यह लोग रिटायर हो जाते हैं तो कई बार ए प्राइवेट फॉर्म्स भी ज्वाइन करते हैं वहां पर कंपटीशन भी देते हैं लेकिन जिस काम के लिए आप आ रहे हैं अगर आप एक आईएस ऑफिसर बनने के लिए आने वाला अपने आईएस क्रैक्ड भी कर दिया तो उसके बाद आप प्राइवेट कंपनी ज्वाइन करके कभी भी आईएएस ऑफिसर नहीं बन सकते जो आईएएस ऑफिसर की पावर होती हैं वह गवर्नमेंट सेक्टर में गवर्नमेंट नौकरी में रहकर ही होती हैं अगर आप एक प्राइवेट फॉर्म ज्वाइन कर लीजिए चाहे कितनी बड़ी हो कितने ही ज्यादा पैसा दे रही हो लेकिन पावर आपके पास नहीं होगी धन्य

kya kya prashna koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi karti aur radha itne pratibhashali buddhiman smart hote hain tak bataana chahenge jo ias ka examination hai yah government agency jo hai up bhukhand karati hai aur iske baad aap government service ke liye jabal hote hain in us it services ki jo category hai india ke andar usme aap aate hain aur aisa nahi hai ki yah log private naukri nahi karte jab yah log retire ho jaate hain toh kai baar a private Forms bhi join karte hain wahan par competition bhi dete hain lekin jis kaam ke liye aap aa rahe hain agar aap ek ias officer banne ke liye aane vala apne ias cracked bhi kar diya toh uske baad aap private company join karke kabhi bhi IAS officer nahi ban sakte jo IAS officer ki power hoti hain vaah government sector mein government naukri mein rahkar hi hoti hain agar aap ek private form join kar lijiye chahen kitni badi ho kitne hi zyada paisa de rahi ho lekin power aapke paas nahi hogi dhanya

क्या-क्या प्रश्न कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती और राधा इतने प्रतिभाश

Romanized Version
Likes  372  Dislikes    views  5213
WhatsApp_icon
user

Ashish Kumar Maurya

Indian Railway

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका स्वागत है यह आपका सवाल सही नहीं है आइए होता है एक प्रकार की सरकारी पद्धति है गवर्नमेंट पोस्ट गवर्नमेंट अप्पर उनकी भर्ती प्राइवेट क्यों करेगी प्राइवेट कंपनी क्यों करेगी आई एग्जाम के द्वारा वर्ष एग्जाम में तमाम प्रकार की नौकरशाही अवसर आते हैं तो नौकरशाही जो अक्सर होते हैं वह प्राइवेट कंपनी के थ्रू नहीं भर्ती होते हैं उनकी भर्ती गवर्नमेंट करती है इसलिए आप कोई भी व्यक्ति हो कितना भी प्रतिभाशाली कितना भी बुद्धिमान हो अगर उसको आईएएस बनना है तो कोई प्राइवेट कंपनी उसे भर्ती नहीं करेंगे कि आईएस की भर्ती की ₹1 के द्वारा ही होती है यूपीएससी सिविल सर्विस एग्जाम एग्जाम होता है इस्लाम कव्वाली भाई करते हैं तीन विषय तब जाकर आप आईएस बनेंगे ओके बेस्ट ऑफ लक

aapka swaagat hai yah aapka sawaal sahi nahi hai aaiye hota hai ek prakar ki sarkari paddhatee hai government post government apprently unki bharti private kyon karegi private company kyon karegi I exam ke dwara varsh exam mein tamaam prakar ki naukarshahi avsar aate hain toh naukarshahi jo aksar hote hain vaah private company ke through nahi bharti hote hain unki bharti government karti hai isliye aap koi bhi vyakti ho kitna bhi pratibhashali kitna bhi buddhiman ho agar usko IAS banna hai toh koi private company use bharti nahi karenge ki ias ki bharti ki Rs ke dwara hi hoti hai upsc civil service exam exam hota hai islam qawwali bhai karte hain teen vishay tab jaakar aap ias banenge ok best of luck

आपका स्वागत है यह आपका सवाल सही नहीं है आइए होता है एक प्रकार की सरकारी पद्धति है गवर्नमें

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  457
WhatsApp_icon
user

Mukund

Counselor & Coach

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती है अगर वे इतने प्रतिभाशाली है विमान मार्ग से यह आपकी जो भी आपका इंफॉर्मेशन है जहां से भी मिला है रिपोर्टिंग गलत है पूरा गलत है आप रिलायंस चाहिए वहां पर भरे हुए आए और वह सब सीनियर है जो रिटायर हो गए ठीक है तो आप किसकी बात कर रहे हैं तो छोड़ेंगे तो अपने किसी वजह से छोड़ेंगे और उनके पास पहले ही मतलब फैसला किया होगा कि मैं छोड़ देगी करूंगा तो प्राइवेट वालों को कहां मिलते हैं हम अप्लाई कर रहे हैं आवेदन पत्र डाल ऐसा तो कभी होता नहीं है वह जब रिटायर हो जाते हैं उनकी भक्ति css3 टाटा टाटा रिलायंस अभी कोई ना कोई ऊंचे पद से एडवाइजर कंसल्टेशन पब्लिक लिया उसको क्या कहते गांव में डिफेंस पब्लिक बसंत

koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi karti hai agar ve itne pratibhashali hai Vimaan marg se yah aapki jo bhi aapka information hai jaha se bhi mila hai reporting galat hai pura galat hai aap reliance chahiye wahan par bhare hue aaye aur vaah sab senior hai jo retire ho gaye theek hai toh aap kiski baat kar rahe hain toh chodenge toh apne kisi wajah se chodenge aur unke paas pehle hi matlab faisla kiya hoga ki main chod degi karunga toh private walon ko kahaan milte hain hum apply kar rahe hain avedan patra daal aisa toh kabhi hota nahi hai vaah jab retire ho jaate hain unki bhakti css3 tata tata reliance abhi koi na koi unche pad se advisor kansalteshan public liya usko kya kehte gaon mein defence public basant

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती है अगर वे इतने प्रतिभाशाली है विमान मा

Romanized Version
Likes  108  Dislikes    views  2211
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

4:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

40 को समझते हैं भाई कोई भी प्राइवेट काम पर नहीं अगर होती है एग्जाम लिस्ट होती है खड़ी हुई है काम कर रही है तो उनका अपना वापस होता है अब एग्जांपल अगर माली जी हमें का मोबाइल फोन बनाने वाली प्राइवेट कंपनी की बात कर रहे हैं तो तो वहां पर अलग अलग डिपार्टमेंट होते हैं वह एक रिसर्च होता है एक आपका टेक्नोलॉजी वाला ऐड बात होगा एक्सेलसेन मार्केटिंग होगा एक ह्यूमन रिसोर्स होगा वगैरा-वगैरा ओके अब जब आप बोलते हैं कि ऑफिस इतना स्मार्ट होता है तो उसको हम प्राइवेट कंपनी में क्यों नहीं लेते हैं भाई उनको आप कहां पर फिट करेंगे पहली बार दूसरी बात जो आए इस ऑफिसर है उसको एक स्पेसिफिक रोल के लिए नियुक्त किया जा रहा है वहीं स्पेसिफिक रोल के लिए देखा जाता है और वह इस लेवल से बहुत बड़ा रोल होता है तो हम उसको प्राइवेट कंपनी में डालकर उस रोल को डायलॉग क्यों कर दें क्योंकि जब हम बात करते हैं कि टेक्नोलॉजी फिल्में तो भाई उस आईएस ऑफिसर की काका क्राइटेरिया ही नहीं रहा है कि मैं उसने इंजीनियरिंग किया हो तो फिर इंजीनियरिंग नहीं किया हो और उसको वहां पर रिसर्च या टेक्नोलॉजी एडवांसमेंट या अलग-अलग जगह पर उसको डाला जाए तो क्या काम करेगा दूसरी बात जब हम एचआर की बात करते हैं तो काम पर नहीं कहती है कि बंदे ने उस कैंडिडेट ने एमबीए किया हुआ क्या हुआ हो या किसी भी इंस्टिट्यूट से और टॉप फाइव हो सकता है या उसके नीचे वाले कोई भी है अब जरूरी नहीं है कि आई ए एस ऑफिसर ने जो क्वालीफाई कर रहा है या क्वालीफाई कर लिया है उसने मार्केटिंग सेल्स किया जो भी कुछ है यह एमबीए में किया हुआ है तो भाई अगर नहीं किया हुआ अगर मान लीजिए किया हुआ है तो वहां पर क्यों आएगा कीचड़ में मैनेजर बनने के लिए आहे टीचर बनने के लिए जबकि उसके पास एक ऑप्शन है एक डिस्टिक देखने की और आगे चलकर स्टेट देखने के चीफ मिनिस्टर बनने की और हो सकता है कि टेबल पे जाने की तो एक बहुत बड़ा पोडियम है आज कंप्यूटर देश उसको यह नहीं देखना कि भाई मेरे कंपनी की सेल कितनी हो रही है उसको तो यह देखना है कि मेरे क्षेत्र का विकास कैसे होगा डेवलपमेंट कैसी होगी वहां की बुनियादी सुविधाएं कैसे बनेगी वहां पर किस चीज की जरूरत है मेरे लोगों के लिए और मेरे को उसमें क्या योग देखे योगदान देना है मेरे को कैसी कांत पॉलिसी बनानी है अगर वहां पर इस कंपनी में एचआर में होता तो वह पॉलिसी बनाता किन के लिए कंपनी में जितने लोग हैं 10 लोग अभी 100 का 50 है मालिक 1050000 उनके लिए पॉलिसी बना था या कुछ करता रे फार्मूला था लेकिन जब वह बाहर है और वह उस एडमिनिस्ट्रेटिव फील्ड में है उस क्षेत्र में है तो उसके हिसाब से पॉलिसी अमेंडमेंट की बात करेगा वह देखेगा कि विकास के लिए क्या करने की जरूरत है जो कि हर एक इंसान को टच करेगा तो सोचिए वहां पर उसका रोल कितना बड़ा है और इस हिसाब से उसका जब हम नॉलेज के बाद स्मार्टनेस की बात करते हैं तो वह हम उसके मेंटल एबिलिटी की बात करते हैं उसके एटीट्यूड की बात करते हैं उसके लॉजिकल रीजनिंग की बात करते हैं जिसका बहुत बड़ा रोल वहां पर होता है वहां पर यह है कि उसको ड्राइव करना होता है एक तरह के नहीं अनेक तरह के लोगों को उसको ड्राइव करना होता है रिजल्ट के लिए ताकि लोगों को वह मिल सके जिसके लिए वो उसको वहां पर नियुक्त किया गया है लेकिन आओगे ना इसमें क्या होता है भाई आपको पता है ए चार में यह लोग होंगे ऐसे लोगों ने आपको उतने लोग कोई मैनेज करने मार्केटिंग में इतने लोगों को ही मैनेज करने वगैरा वगैरा तो मेरे हिसाब से यह बड़ा स्पेसिफिक होता है कंपनी का भी अपना बड़ा स्पेसिफिक रिक्वायरमेंट होता है एक मैन्युफैक्चरिंग फॉर में या एक शब्द साइड है वहां पर उसको जो रिक्वायरमेंट है उसको वही चाहिए होते और वही उसके लिए मुनासिब होता है इतनी सैलरी में वह ठीक रहता है और हिट एग्जांपल एक कंपनी में आपको 10,000 से लेकर 45 लाख का महीने वाला एम्पलाई मिलेगा और जब हम आए इसकी बात कहते हैं तो उनका भी हिसाब किताब आलो को 22:00 का पेपर कैसे अलग होता है और वगैरह वगैरह तो इसे मेरे हिसाब से इसीलिए इन दोनों चीजों को कंपेयर करके इसको कंपनी में डालना कोई बुद्धिमानी नहीं है वह एक स्पेसिफिक रिक्वायरमेंट के तहत साहब ने इस प्रदर्शन का इनाम का निर्माण किया गया था और जैसे चल रहा है वह बिल्कुल सही चल रहा है

40 ko samajhte hai bhai koi bhi private kaam par nahi agar hoti hai exam list hoti hai khadi hui hai kaam kar rahi hai toh unka apna wapas hota hai ab example agar maali ji hamein ka mobile phone banane wali private company ki baat kar rahe hai toh toh wahan par alag alag department hote hai vaah ek research hota hai ek aapka technology vala aid baat hoga ekselsen marketing hoga ek human resource hoga vagera vagaira ok ab jab aap bolte hai ki office itna smart hota hai toh usko hum private company mein kyon nahi lete hai bhai unko aap kahaan par fit karenge pehli baar dusri baat jo aaye is officer hai usko ek specific roll ke liye niyukt kiya ja raha hai wahi specific roll ke liye dekha jata hai aur vaah is level se bahut bada roll hota hai toh hum usko private company mein dalkar us roll ko dialogue kyon kar de kyonki jab hum baat karte hai ki technology filme toh bhai us ias officer ki kaka criteria hi nahi raha hai ki main usne Engineering kiya ho toh phir Engineering nahi kiya ho aur usko wahan par research ya technology edavansament ya alag alag jagah par usko dala jaaye toh kya kaam karega dusri baat jab hum hr ki baat karte hai toh kaam par nahi kehti hai ki bande ne us candidate ne mba kiya hua kya hua ho ya kisi bhi institute se aur top five ho sakta hai ya uske niche waale koi bhi hai ab zaroori nahi hai ki I a s officer ne jo qualify kar raha hai ya qualify kar liya hai usne marketing sales kiya jo bhi kuch hai yah mba mein kiya hua hai toh bhai agar nahi kiya hua agar maan lijiye kiya hua hai toh wahan par kyon aayega kichad mein manager banne ke liye aahe teacher banne ke liye jabki uske paas ek option hai ek district dekhne ki aur aage chalkar state dekhne ke chief minister banne ki aur ho sakta hai ki table pe jaane ki toh ek bahut bada podium hai aaj computer desh usko yah nahi dekhna ki bhai mere company ki cell kitni ho rahi hai usko toh yah dekhna hai ki mere kshetra ka vikas kaise hoga development kaisi hogi wahan ki buniyadi suvidhaen kaise banegi wahan par kis cheez ki zarurat hai mere logo ke liye aur mere ko usme kya yog dekhe yogdan dena hai mere ko kaisi kaant policy banani hai agar wahan par is company mein hr mein hota toh vaah policy banata kin ke liye company mein jitne log hai 10 log abhi 100 ka 50 hai malik 1050000 unke liye policy bana tha ya kuch karta ray formula tha lekin jab vaah bahar hai aur vaah us administrative field mein hai us kshetra mein hai toh uske hisab se policy Amendment ki baat karega vaah dekhega ki vikas ke liye kya karne ki zarurat hai jo ki har ek insaan ko touch karega toh sochiye wahan par uska roll kitna bada hai aur is hisab se uska jab hum knowledge ke baad smartness ki baat karte hai toh vaah hum uske mental ability ki baat karte hai uske attitude ki baat karte hai uske logical reasoning ki baat karte hai jiska bahut bada roll wahan par hota hai wahan par yah hai ki usko drive karna hota hai ek tarah ke nahi anek tarah ke logo ko usko drive karna hota hai result ke liye taki logo ko vaah mil sake jiske liye vo usko wahan par niyukt kiya gaya hai lekin aaoge na isme kya hota hai bhai aapko pata hai a char mein yah log honge aise logo ne aapko utne log koi manage karne marketing mein itne logo ko hi manage karne vagera vagaira toh mere hisab se yah bada specific hota hai company ka bhi apna bada specific requirement hota hai ek manufacturing for mein ya ek shabd side hai wahan par usko jo requirement hai usko wahi chahiye hote aur wahi uske liye munasib hota hai itni salary mein vaah theek rehta hai aur hit example ek company mein aapko 10 000 se lekar 45 lakh ka mahine vala employee milega aur jab hum aaye iski baat kehte hai toh unka bhi hisab kitab aloe vera ko 22 00 ka paper kaise alag hota hai aur vagera vagairah toh ise mere hisab se isliye in dono chijon ko compare karke isko company mein dalna koi budhhimani nahi hai vaah ek specific requirement ke tahat saheb ne is pradarshan ka inam ka nirmaan kiya gaya tha aur jaise chal raha hai vaah bilkul sahi chal raha hai

40 को समझते हैं भाई कोई भी प्राइवेट काम पर नहीं अगर होती है एग्जाम लिस्ट होती है खड़ी हुई

Romanized Version
Likes  603  Dislikes    views  8199
WhatsApp_icon
user

PRAMOD KUMAR

Retired IFS Officer | Advisor to TRIFED

5:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऑस्कर अपनी पुस्तक कोई प्राइवेट कंपनी आईएस को भर्ती क्यों नहीं करती और इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान और उसकी इंटेंशन क्या सिटी में आई है उसका आईएस का कोई भी सिविल सर्विस का ऑब्जेक्टिव सरकार के पास कि उन्होंने मार्केट से समान सुजोक देकर इक्वल अपॉर्चुनिटी एग्जाम करेंगे और जो एग्जाम हाईली कॉम्पिटेटिव एक्जाम होगा और उसमें उन्होंने यह टैलेंट को कंट्री से रिक्वेस्ट करें यंग टैलेंट को क्यों लगते यंग माइंड बड़ा मेहरबान होती है उनका अंडरस्टैंडिंग कंप्रेशंस बहुत ही अच्छा होता है या ग्लोबल में और उस 4th यो जोशी बहुत भरपूर रहता है तो एक काम करनी है कृतिका डेवलपमेंट डेवलपमेंट प्रोसेस में सरकार मशीनरी का साथ उनका मुख्य कड़ी के रूप तो उसी टाइम आती भूलूं चाहत होनी चाहिए इंटेलिजेंट होनी चाहिए बल्कि होनी चाहिए जब तक आप धीरे-धीरे बढ़ जाता है तो उसमें आप उसी हिसाब से दिल के लिए आपका जो चिंता धरा है वह सब चीजें तेरे लिए ब्लॉक होने लगता है आप चेंज नहीं होती हो बढ़िया में टाइम में आपको जिस टाइप का मॉडल सेट करेंगे जहां पर पोस्टिंग देंगे जिस काम में लगा देंगे आप उसी काम बढ़िया से करेंगे और उसके लिए आपका प्रत्येक शार्प माइंड होनी चाहिए चीज को समझना चीज को पकड़ना और उसी हिसाब से उसको किया मत करना और कोई हो तो पूरा टेक्निक का लिया था कैपसेंस का काम नहीं है यह काम है कि आप एक परफेक्ट मैनेजर हो और जो कि सरकार उनकी काम का और उनका प्रोग्राम को क्रियान्वित करोगे और सरकार की प्रोग्राम लोगों के पास पहुंच दिवस अरविंद को तो पीपुल आज वाला जो अजय पब्लिक साथ तो आपके बहुत बड़ा रोल रहता है यहां प्रशासनिक सेवा में मुख्य सर आईएस में या आपके दूसरे सिम सर्विस में जवाब जिले को मैनेज करते हुए ऐसे डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर और एसपी पुलिस सुपरहिट एंड वाराणसी एयरपोर्ट से महसूस करेंगे कि कितने प्रकार का चैलेंज चाहते हैं उनके साथ जुड़े कितने लोग आपके पास आएंगे उनके समस्याओं को सुनना पड़ेगा सरकार का प्रोग्राम को आप को प्रेरित करना है पुरे एरिया का विकास अप करनी है जब कोई जरूरत पड़े तो इंपॉर्टेंस ऑफ डिसिप्लिन इन का एटीट्यूड अलग होती है हो सकता है मैंने खजाना मिल सकता है उनका है उनका प्रोडक्ट को मैनेज करना उनका प्रोडक्ट कैसे प्रोडक्शन सदा होगा उनका प्रॉफिट ज्यादा होगा और कंपनी का मुनाफा ज्यादा जाएगा तो उसी काम को करने के लिए उनको अलग टाइप का आदमी चाहिए इसमें मिसफिट बैठ जाएंगे कल क्योंकि इसके साथ बहुत सारी चीज कंप्रोमाइज करना पड़ता है प्राइवेट कंपनी में आपको जो किए आप जो आईएस अधिकारी कर नहीं पाएंगे नंबर आईएस अधिकारी उसके लिए भी नहीं क्योंकि उनका डेमाड्यूलेशन होती है 20 साल या 15 साल है 40 साल में तो वह होती है इन अवर कंट्री पदुगल पर दो पीपल एंड वेलफेयर सोसाइटी चाहे थोड़े बहुत कुछ सरकार का नुकसान भी हो जाए फोटोस और मंगलकारी होना चाहिए इन इंग्लिश बीपी फुल हॉट वीडियो बिग वेडिंग इन टेस्ट फर्स्ट एमपी पुलिस फास्ट जवाब कंपनी में काम करते हो मैं कंपनी फास्टनर कंपनी सब चीज का डिफरेंस होती है दोनों अलग-अलग चिंताजनक है और बाकी नहीं है तो इसको लेकर क्या करेंगे दुश्मन एच करनी हमको मार्केटिंग मैनेज करनी है उनको सब एक्सपोर्ट आना चाहिए उनका यह सब जला कर उसे कैसे मैनेज कर पाएगा व्हाट आईएस दिखाइए काम कर सकता है किंतु किस टाइम में भी था सिविल सर्विस का कि हमने ब्राइटनेस सबसे प्रतिभावान और रोमांस और कमिटेड यंगस्टर्स कोई सर्विस में लाएंगे क्योंकि उन्होंने सरकार की चिंता धरा सरकार के आईडियोलॉजी उसके साथ खुद को तालमेल रखकर जनता का सेवा में सबसे आगे कई बार देखा गया है कि आप जैसे आईएस बगैर से रिकॉर्ड होने के बाद प्राइवेट नंबर में जैन के डेट में डायरेक्टर की कंपनी जो चलता है उसी टाइम उनको इसलिए कि एडवाइज रोंगली किया जाता है बट कंपनी का फंक्शन में इन लोगों का इतना एप्लीकेबिलिटी नहीं रहेगा क्योंकि जो सरकारी विभाग में आते हैं उसी हिसाब से उनका जो ट्रेनिंग होती है उनका जो ग्रूमिंग होती है और उनका जो परिवेश मिलता है कि आपको उनको प्राइवेट में नहीं मिलेगा तो इसीलिए प्राइवेट कंपनी आईएस को भर्ती करते नहीं और नंबर तो आने का प्रकाश भी नहीं करेंगे धन्यवाद

oscar apni pustak koi private company ias ko bharti kyon nahi karti aur itne pratibhashali buddhiman aur uski intention kya city mein I hai uska ias ka koi bhi civil service ka objective sarkar ke paas ki unhone market se saman sujok dekar equal opportunity exam karenge aur jo exam highly competitive exam hoga aur usme unhone yah talent ko country se request kare young talent ko kyon lagte young mind bada meharabaan hoti hai unka understanding kampreshans bahut hi accha hota hai ya global mein aur us 4th yo joshi bahut bharpur rehta hai toh ek kaam karni hai kritika development development process mein sarkar machinery ka saath unka mukhya kadi ke roop toh usi time aati bhoolun chahat honi chahiye Intelligent honi chahiye balki honi chahiye jab tak aap dhire dhire badh jata hai toh usme aap usi hisab se dil ke liye aapka jo chinta dhara hai vaah sab cheezen tere liye block hone lagta hai aap change nahi hoti ho badhiya mein time mein aapko jis type ka model set karenge jaha par posting denge jis kaam mein laga denge aap usi kaam badhiya se karenge aur uske liye aapka pratyek sharp mind honi chahiye cheez ko samajhna cheez ko pakadna aur usi hisab se usko kiya mat karna aur koi ho toh pura technique ka liya tha kaipasens ka kaam nahi hai yah kaam hai ki aap ek perfect manager ho aur jo ki sarkar unki kaam ka aur unka program ko kriyanwit karoge aur sarkar ki program logo ke paas pohch divas arvind ko toh pipul aaj vala jo ajay public saath toh aapke bahut bada roll rehta hai yahan prashaasnik seva mein mukhya sir ias mein ya aapke dusre sim service mein jawab jile ko manage karte hue aise district collector aur SP police superhit and varanasi airport se mehsus karenge ki kitne prakar ka challenge chahte hain unke saath jude kitne log aapke paas aayenge unke samasyaon ko sunana padega sarkar ka program ko aap ko prerit karna hai poore area ka vikas up karni hai jab koi zarurat pade toh importance of discipline in ka attitude alag hoti hai ho sakta hai maine khajana mil sakta hai unka hai unka product ko manage karna unka product kaise production sada hoga unka profit zyada hoga aur company ka munafa zyada jaega toh usi kaam ko karne ke liye unko alag type ka aadmi chahiye isme misfit baith jaenge kal kyonki iske saath bahut saree cheez compromise karna padta hai private company mein aapko jo kiye aap jo ias adhikari kar nahi payenge number ias adhikari uske liye bhi nahi kyonki unka demadyuleshan hoti hai 20 saal ya 15 saal hai 40 saal mein toh vaah hoti hai in avar country padugal par do pipal and welfare society chahen thode bahut kuch sarkar ka nuksan bhi ho jaaye photoss aur mangalkari hona chahiye in english BP full hot video big wedding in test first mp police fast jawab company mein kaam karte ho main company fastener company sab cheez ka difference hoti hai dono alag alag chintajanak hai aur baki nahi hai toh isko lekar kya karenge dushman h karni hamko marketing manage karni hai unko sab export aana chahiye unka yah sab jala kar use kaise manage kar payega what ias dikhaaiye kaam kar sakta hai kintu kis time mein bhi tha civil service ka ki humne brightness sabse pratibhavan aur romance aur committed youngsters koi service mein layenge kyonki unhone sarkar ki chinta dhara sarkar ke aidiyolaji uske saath khud ko talmel rakhakar janta ka seva mein sabse aage kai baar dekha gaya hai ki aap jaise ias bagair se record hone ke baad private number mein jain ke date mein director ki company jo chalta hai usi time unko isliye ki edavaij rongali kiya jata hai but company ka function mein in logo ka itna eplikebiliti nahi rahega kyonki jo sarkari vibhag mein aate hain usi hisab se unka jo training hoti hai unka jo grooming hoti hai aur unka jo parivesh milta hai ki aapko unko private mein nahi milega toh isliye private company ias ko bharti karte nahi aur number toh aane ka prakash bhi nahi karenge dhanyavad

ऑस्कर अपनी पुस्तक कोई प्राइवेट कंपनी आईएस को भर्ती क्यों नहीं करती और इतने प्रतिभाशाली बुद

Romanized Version
Likes  275  Dislikes    views  4973
WhatsApp_icon
user

Mehnaz Amjad

Certified Life Coach

2:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती अगर वे इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान और स्मार्ट होते हैं एक ही आईएस की तैयारी एक तरह की इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस उसमें जो जो भी लोगों को आप लेना चाहते हो उसकी तैयारी इस बिना पर होती है कि वह आयत काम क्या करते हैं क्योंकि इंडिया का ब्यूरोक्रेटिक स्ट्रक्चर बहुत ही कांपलेक्स है यह ब्रिटिश राज से चलता आ रहा है एक बहुत ही हरार की है बहुत ले अर्ज है आप एक सीनियर है उसके ऊपर कोई उसके ऊपर कोई उसके ऊपर कोई फिर हमारा नेट मुंसिपल कॉरपोरेशन है फिर हमारा जो सेटअप है इतना कॉन्प्लेक्स है कि इसको समझना इसके अंदर रहना इसके स्कॉलरशिप्स की भागदौड़ को समझना इसके काम को समझना यह सारी चीजों के लिए अच्छे से उसको चलाने के लिए आईएस की जितनी भी प्रिपरेशन होती है इस सब को दिमाग में रखकर बनाई जाती है अब रही बात प्राइवेट कंपनी के ऐसे क्यों नहीं लेते क्योंकि प्राइवेट कंपनी आईएस ऑफिसर की तरह हराकर नहीं होती तब एक प्राइवेट कंपनी अपने बिजनेस मॉडल पर चलती है उनका अपना बिजनेस मॉडल है जिसमें दो फाउंडर्स होंगे दोनों ने पैसा लगाया और वह अपने हिसाब से पैसा बनाने के लिए बिज़नस मॉडल का इस्तेमाल करते हैं और कुछ में लोगों को लेकर चलते हैं और हायर करते हैं जो उनके हिसाब से मुश्किल और नॉलेज रखते हैं तो क्योंकि यह जरूरी नहीं है कि उनका बॉडी स्ट्रक्चर इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज की तरह कॉन्प्लेक्स फॉर है रांची से भरा हो इसी लिए दादर कंपनी उन लोगों को ज्यादा हेयर करती है जो उनके स्कूल से बात करते हैं हमेशा याद रखें यह जरूरी नहीं है कि आप कितने ही आईएस वाले कैंडिडेट हूं जिसमें आपको बहुत ज्ञानी हूं लेकिन आपको नौकरी वही मिलेगी जहां आपकी स्किन मारुति कंपनी की जूस की रिक्वायरमेंट है लेकिन की जरूरत है वह बहुत ही डिफरेंट होती है उनके विश्वात्मा के हिसाब से और उसी तरह इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सिस्टम इंडिया का बहुत ही डिफरेंट है तभी वहां आईएस ऑफिसर फायर किए जाते हैं और प्राइवेट कंपनी में उनके हिसाब से जो लोग चाहिए वह है धन्यवाद

aapka sawaal hai ki koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi karti agar ve itne pratibhashali buddhiman aur smart hote hain ek hi ias ki taiyari ek tarah ki indian administrative service usme jo jo bhi logo ko aap lena chahte ho uski taiyari is bina par hoti hai ki vaah ayat kaam kya karte hain kyonki india ka byurokretik structure bahut hi complex hai yah british raj se chalta aa raha hai ek bahut hi harar ki hai bahut le ares hai aap ek senior hai uske upar koi uske upar koi uske upar koi phir hamara net munsipal corporation hai phir hamara jo setup hai itna kanpleks hai ki isko samajhna iske andar rehna iske scholarships ki bhagdaud ko samajhna iske kaam ko samajhna yah saree chijon ke liye acche se usko chalane ke liye ias ki jitni bhi preparation hoti hai is sab ko dimag mein rakhakar banai jaati hai ab rahi baat private company ke aise kyon nahi lete kyonki private company ias officer ki tarah harakar nahi hoti tab ek private company apne business model par chalti hai unka apna business model hai jisme do founders honge dono ne paisa lagaya aur vaah apne hisab se paisa banane ke liye business model ka istemal karte hain aur kuch mein logo ko lekar chalte hain aur hire karte hain jo unke hisab se mushkil aur knowledge rakhte hain toh kyonki yah zaroori nahi hai ki unka body structure indian administrative services ki tarah kanpleks for hai ranchi se bhara ho isi liye dadar company un logo ko zyada hair karti hai jo unke school se baat karte hain hamesha yaad rakhen yah zaroori nahi hai ki aap kitne hi ias waale candidate hoon jisme aapko bahut gyani hoon lekin aapko naukri wahi milegi jaha aapki skin maaruti company ki juice ki requirement hai lekin ki zarurat hai vaah bahut hi different hoti hai unke vishwatma ke hisab se aur usi tarah indian administrative system india ka bahut hi different hai tabhi wahan ias officer fire kiye jaate hain aur private company mein unke hisab se jo log chahiye vaah hai dhanyavad

आपका सवाल है कि कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती अगर वे इतने प्रतिभाशाल

Romanized Version
Likes  337  Dislikes    views  4310
WhatsApp_icon
user

Pankaj Kr(youtube -AJ PANKAJ MATHS GURU)

Motivational Speaker/YouTube-AJ PANKAJ MATHS GURU

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती नहीं कर सकती है चाहे वह कितने भी प्रतीक्षा में प्रतिभाशाली और बुद्धिमान हो स्मार्ट हो या कुछ भी चुके आईएएस की परीक्षा यूपीएससी भारत सरकार भारत भारत सरकार द्वारा गठित किए गए यूपीएससी के माध्यम से होती है यूपीएससी का एग्जाम एग्जाम लेना इच्छा को पूरा करवाना अच्छे कैंडिडेट को ना ना इसलिए हम कर सकते हैं यूपीएससी की परीक्षा पास करके कोई भी इंसान मेहनत परिश्रम के बल पर आईएएस अफसर बन सकते हैं और समाज का देश का कल्याण कर सकते हैं

koi bhi private company ias ki bharti nahi kar sakti hai chahen vaah kitne bhi pratiksha mein pratibhashali aur buddhiman ho smart ho ya kuch bhi chuke IAS ki pariksha upsc bharat sarkar bharat bharat sarkar dwara gathit kiye gaye upsc ke madhyam se hoti hai upsc ka exam exam lena iccha ko pura karwana acche candidate ko na na isliye hum kar sakte hain upsc ki pariksha paas karke koi bhi insaan mehnat parishram ke bal par IAS officer ban sakte hain aur samaj ka desh ka kalyan kar sakte hain

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती नहीं कर सकती है चाहे वह कितने भी प्रतीक्षा में प्रतिभा

Romanized Version
Likes  186  Dislikes    views  1948
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह प्रश्न में जाने फिर आए हैं कि कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की बच्ची क्यों नहीं करती अगर वह इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान और स्मार्ट होते हैं आईएस कंपनी जो प्राइवेट कंपनी होती है वह मैक्सिमम लाभ कमाने की कठोर परिश्रम लेने की और कर्मचारियों को निकालने की इसमें संदेह नहीं कि वह सुविधा देते हैं लेकिन उससे 4 गुना वह कर्मचारियों से को निचोड़ देते हैं मैं उनकी आलोचना नहीं कर रहा हूं लेकिन कटु सत्य और कोई भी कर्मचारी के पास अपनी बुद्धि विवेक नहीं होता उन्हें सिर्फ टारगेट अचीव करना होता है चाहे वह किसी भी रूप में हो प्रोडक्शन में किसी रूप में वह अपनी काबिलियत का परिचय नहीं दे पाते हैं प्राइवेट कंपनी में जो कंपनी का है क्रीटेड हाउस 44 काम करना है उनके पास अपना कोई फैसला नहीं होता इसलिए जब के आईएएस अधिकारी अपने फैसले अपने कानून अपने विवेक के अनुसार 30 लेकिन और अगर वह प्राइवेट कंपनी में चले जाते हैं तो प्राइवेट कंपनी की मैनेजमेंट किनारे हो जाएगी इसलिए किसी भी कीमत पर प्राइवेट कंपनी के जो मालिक हैं मैनेजमेंट में अपना प्रभुत्व नहीं खोना चाहती और इसलिए भाई इसको बुद्धिमान होते हैं वह भी जानते हैं प्रतिभाशाली होते हैं वह भी जानते हैं और वह भी यह भी जानते हैं कि कंपनी को चार चांद लगा सकते हैं लेकिन अपना हुकूमत तो नहीं खोना चाहते इसलिए किसी भी कीमत पर वह विशिष्ट स्पेशलाइज व्यक्ति को एक कर्मचारी के रूप में तो रखते हैं जी एमिनेम के रूप में तो रखते हैं लेकिन आईएस को नहीं रखते क्योंकि आईएस जो है वह एक नाम बिल्कुल स्वतंत्र विचार का स्वतंत्र है विवेक से काम करने वाली औरतें इसलिए प्राइवेट कंपनियों ने नहीं रखती

yah prashna mein jaane phir aaye hain ki koi bhi private company ias ki bachi kyon nahi karti agar vaah itne pratibhashali buddhiman aur smart hote hain ias company jo private company hoti hai vaah maximum labh kamane ki kathor parishram lene ki aur karmachariyon ko nikalne ki isme sandeh nahi ki vaah suvidha dete hain lekin usse 4 guna vaah karmachariyon se ko nichod dete hain main unki aalochana nahi kar raha hoon lekin katu satya aur koi bhi karmchari ke paas apni buddhi vivek nahi hota unhe sirf target achieve karna hota hai chahen vaah kisi bhi roop mein ho production mein kisi roop mein vaah apni kabiliyat ka parichay nahi de paate hain private company mein jo company ka hai krited house 44 kaam karna hai unke paas apna koi faisla nahi hota isliye jab ke IAS adhikari apne faisle apne kanoon apne vivek ke anusaar 30 lekin aur agar vaah private company mein chale jaate hain toh private company ki management kinare ho jayegi isliye kisi bhi kimat par private company ke jo malik hain management mein apna parbhutwa nahi khona chahti aur isliye bhai isko buddhiman hote hain vaah bhi jante hain pratibhashali hote hain vaah bhi jante hain aur vaah bhi yah bhi jante hain ki company ko char chand laga sakte hain lekin apna hukumat toh nahi khona chahte isliye kisi bhi kimat par vaah vishisht specialize vyakti ko ek karmchari ke roop mein toh rakhte hain ji eminem ke roop mein toh rakhte hain lekin ias ko nahi rakhte kyonki ias jo hai vaah ek naam bilkul swatantra vichar ka swatantra hai vivek se kaam karne wali auraten isliye private companion ne nahi rakhti

यह प्रश्न में जाने फिर आए हैं कि कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की बच्ची क्यों नहीं करती अगर व

Romanized Version
Likes  107  Dislikes    views  1528
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो एवरीवन आपका सवाल यह है कि कोई भी कंपनी आईएएस अधिकारी की भर्ती क्यों नहीं करते हैं जबकि वह बहुत ज्यादा बुद्धिमान और स्मार्ट सोते हैं तो सबसे बड़ी बात है कि जो आईएस है और कंपनी है यह डिफरेंट में तरह मानते हैं कि कंपनी के पास प्रशासन होता है लेकिन जब आप लोग प्रशासन पड़ेंगे तो आप पाएंगे कि प्रशासन दो प्रकार के होती है एक निजी प्रशासन होता है एक पब्लिक प्रशासन होती है मतलब जनता बोले तो एक प्राइवेट सर्विस और दूसरा पब्लिक सर्वेंट्स गवर्नमेंट करती है और इसी के तहत आईएएस आते हैं और आईएएस का पूरा जो नाम है वह है इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस भारतीय लोक प्रशासन या प्रशासनिक सेवा बोल सकते हैं भारतीय प्रशासनिक सेवाओं है कि प्रशासनिक सेवा जो है यह मतलब इंडिया का एक का फॉर्मेट है जबकि कंपनी एक प्राइवेट होते हैं इसी के कारण वह गवर्नमेंट के किसी भी तथ्य को इनीशिएट नहीं कर सकती और यही महत्व है जिसकी वजह से कंपनियां आईएस की भर्ती नहीं करती दूसरी बात यह है कि पब्लिक सर्विस और निजी सर्वेंट में बहुत अंतर होता है प्राइवेट सेक्टर 1 अपनी निजता के आधार पर काम करते हैं जबकि आईएस पूरे सर्वेंट के लिए और आप रिपब्लिक के लिए कार्य करते हैं धन्यवाद

hello everyone aapka sawaal yah hai ki koi bhi company IAS adhikari ki bharti kyon nahi karte hain jabki vaah bahut zyada buddhiman aur smart sote hain toh sabse badi baat hai ki jo ias hai aur company hai yah different mein tarah maante hain ki company ke paas prashasan hota hai lekin jab aap log prashasan padenge toh aap payenge ki prashasan do prakar ke hoti hai ek niji prashasan hota hai ek public prashasan hoti hai matlab janta bole toh ek private service aur doosra public servants government karti hai aur isi ke tahat IAS aate hain aur IAS ka pura jo naam hai vaah hai indian administrative service bharatiya lok prashasan ya prashaasnik seva bol sakte hain bharatiya prashaasnik sewaon hai ki prashaasnik seva jo hai yah matlab india ka ek ka format hai jabki company ek private hote hain isi ke karan vaah government ke kisi bhi tathya ko inishiet nahi kar sakti aur yahi mahatva hai jiski wajah se companiya ias ki bharti nahi karti dusri baat yah hai ki public service aur niji servant mein bahut antar hota hai private sector 1 apni nijata ke aadhar par kaam karte hain jabki ias poore servant ke liye aur aap Republic ke liye karya karte hain dhanyavad

हेलो एवरीवन आपका सवाल यह है कि कोई भी कंपनी आईएएस अधिकारी की भर्ती क्यों नहीं करते हैं जबक

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जितनी भी सरकारी नौकरी होती हैं उनके भर्ती सरकार कहती है और यह जो आईएस की पोस्ट के बाद का रेट आपकी पोस्ट से जितने भी जरूरत है सोते हैं जितने बड़े अक्षर होते हैं आईएएस को सरकारी नौकरियों में है और आपके पोस्ट पर हर डिपार्टमेंट में भर्ती प्राइवेट कंपनियों को नहीं दी जा सकती

jitni bhi sarkari naukri hoti hain unke bharti sarkar kehti hai aur yah jo ias ki post ke baad ka rate aapki post se jitne bhi zarurat hai sote hain jitne bade akshar hote hain IAS ko sarkari naukriyon me hai aur aapke post par har department me bharti private companion ko nahi di ja sakti

जितनी भी सरकारी नौकरी होती हैं उनके भर्ती सरकार कहती है और यह जो आईएस की पोस्ट के बाद का र

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  254
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्कार आपका सवाल है कोई भी प्राइवेट कंपनियां इसके भर्ती क्यों नहीं करती अगर वह इतना प्रतिभाशाली विद्यमान और स्मार्ट होते हैं जिसकी भर्ती कर ले इतनी स्मार्ट होती हैं तुझसे क्या कार्यक्रम आएगी वह किसी इंजीनियरिंग मैकेनिकल किसी प्रोडक्ट के बारे में जानती हैं एक विशेष रूप से तैयार होते हैं उन्हें विशेष शक्ति होती है जिससे वह काम करवाते हैं काम कोई करती नहीं है और वह क्या कार्य करवाएंगे हां ऐसा नहीं है कि वह काम नहीं करती हैं रिटायर होने के बाद वह सी कंपनियों में कार्य करती हैं धन्यवाद

ji namaskar aapka sawaal hai koi bhi private companiya iske bharti kyon nahi karti agar vaah itna pratibhashali vidyaman aur smart hote hain jiski bharti kar le itni smart hoti hain tujhse kya karyakram aayegi vaah kisi Engineering mechanical kisi product ke bare me jaanti hain ek vishesh roop se taiyar hote hain unhe vishesh shakti hoti hai jisse vaah kaam karwaate hain kaam koi karti nahi hai aur vaah kya karya karavaenge haan aisa nahi hai ki vaah kaam nahi karti hain retire hone ke baad vaah si companion me karya karti hain dhanyavad

जी नमस्कार आपका सवाल है कोई भी प्राइवेट कंपनियां इसके भर्ती क्यों नहीं करती अगर वह इतना प्

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user
1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आईएएस की भर्ती भारत सरकार द्वारा ही किए जाती है हां अगर कोई कैंडिडेट आई ए एस की भर्ती के बाद अगर अपने पद से राजीनामा दे कर दे देता है और किसी कंपनी में अप्लाई करता है तो उसके योग्यता के अनुसार उसे सुन लिया जाता है परंतु कोई भी आईएएस की पढ़ाई करने वाले डायरेक्ट कंपनी में अप्लाई नहीं कर सकता यह पर सबसे पहले इसे भारत के सेवा का ही कार्य करना पड़ता है और अगर सेवा की कुछ समय बाद अगर वह अपने पद से इस्तीफा देकर कंपनी जान करता है तो उस पर किसी भी सरकारी कार मुलाजिम को प्राइवेट कंपनी जॉब इसलिए किसी मतलब आईएएस आईएएस के कैंडिडेट हो इसीलिए जॉब नहीं देती क्योंकि वह सरकार के अधीन होता है आज जगह अगर वह वापस से शादी कर सकती है धन्यवाद

IAS ki bharti bharat sarkar dwara hi kiye jaati hai haan agar koi candidate I a S ki bharti ke baad agar apne pad se rajinama de kar de deta hai aur kisi company me apply karta hai toh uske yogyata ke anusaar use sun liya jata hai parantu koi bhi IAS ki padhai karne waale direct company me apply nahi kar sakta yah par sabse pehle ise bharat ke seva ka hi karya karna padta hai aur agar seva ki kuch samay baad agar vaah apne pad se istifa dekar company jaan karta hai toh us par kisi bhi sarkari car mulajim ko private company job isliye kisi matlab IAS IAS ke candidate ho isliye job nahi deti kyonki vaah sarkar ke adheen hota hai aaj jagah agar vaah wapas se shaadi kar sakti hai dhanyavad

आईएएस की भर्ती भारत सरकार द्वारा ही किए जाती है हां अगर कोई कैंडिडेट आई ए एस की भर्ती के

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

satyaveer singh

Satya Traders

0:22
Play

Likes  8  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user

Clear Voice

Career Guide; Teacher; Motivational Speaker; Writer; Poet

2:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती है अगर वह इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान और स्मार्ट होते हैं तो इसका आंसर जो है वह आईएएस बनने के पीछे का जो मोटिवेशन है उसी में छिपा है क्योंकि यह हम सभी लोग जानते हैं कि एक आईएस की जो सैलरी होती है वह किसी सामान्य सरकारी नौकरी के जैसा ही होती है लेकिन उसमें जो काम करने का जो क्षेत्र होता है काम करने का जो मौका मिलता है 23 और सोसाइटी को सेवा करने का जो मौका मिलता है वह कहीं बहुत ज्यादा है एस कंपेयर टो कर हम इसको कंपेयर करें किसी और सरकारी नौकरी के खेतों आईएएस बनने के पीछे का मात्र एक मोटिवेशन होता है सोसाइटी का दिल और समाज का सेवा करना और लोगों के जीवन में बदलाव लाना और इसीलिए बहुत सारे अच्छे कंपनी से या बहुत सारे अच्छे कल से लोग आते हैं तैयारी करते हैं कंप्लीट करते हैं और आईएस बनते हैं लेकिन वहीं अगर हम लोग देखें तो प्राइवेट कंपनी का एक प्राइवेट कंपनी का मेन मकसद क्या होता है एक प्राइवेट कंपनी का मेन मकसद होता है ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्शन करना ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कंपनी का बढ़ाना तो यहां दोनों सोच में डिफरेंस मुझे लगता है कि प्राइवेट कंपनी को यह लगता है कि यह जो सोच दोनों चीजों के बीच में जो सोच का डिफरेंस है यह उनके कंपनी के लिए शायद फिट नहीं बैठता है और अगर वह किसी आईएस को जो किसी कारणवश एक परीक्षा के अंतिम चरण में सलेक्शन नहीं ले पाता है अगर वह को हायर करेंगे अगर मोड को नौकरी पर रखेंगे तो कहीं ना कहीं उसका उनको एडजेस्ट करने में प्रॉब्लम होगा तो गैलरी में सारांश में बात किया जाए तो एक कंपनी का मकसद होता है आपका कमाना लेकिन एक आईएएस ऑफिसर बनने के पीछे का मोटिवेशन बता देश का सेवा करना कोई यहां एक डिफरेंस आ जाता है इसीलिए मुझे लगता है कि प्राइवेट कंपनियां अभी भी 2 लोग और प्रतिभाशाली होते हैं जो किसी कारणवश अंतिम चरण में छूट जाते हैं वह भी कोई ज्यादा डिफरेंस नहीं होता जिनका सिलेक्शन हो जाता है और जिनका नहीं हो पाता लेकिन फिर भी प्राइवेट कंपनियां उन्हें अपने यहां नौकरी पर रखने से कतराती है धन्यवाद

koi bhi private company ias ki bharti kyon nahi karti hai agar vaah itne pratibhashali buddhiman aur smart hote hain toh iska answer jo hai vaah IAS banne ke peeche ka jo motivation hai usi me chhipa hai kyonki yah hum sabhi log jante hain ki ek ias ki jo salary hoti hai vaah kisi samanya sarkari naukri ke jaisa hi hoti hai lekin usme jo kaam karne ka jo kshetra hota hai kaam karne ka jo mauka milta hai 23 aur society ko seva karne ka jo mauka milta hai vaah kahin bahut zyada hai S compare toe kar hum isko compare kare kisi aur sarkari naukri ke kheton IAS banne ke peeche ka matra ek motivation hota hai society ka dil aur samaj ka seva karna aur logo ke jeevan me badlav lana aur isliye bahut saare acche company se ya bahut saare acche kal se log aate hain taiyari karte hain complete karte hain aur ias bante hain lekin wahi agar hum log dekhen toh private company ka ek private company ka main maksad kya hota hai ek private company ka main maksad hota hai zyada se zyada production karna zyada se zyada munafa company ka badhana toh yahan dono soch me difference mujhe lagta hai ki private company ko yah lagta hai ki yah jo soch dono chijon ke beech me jo soch ka difference hai yah unke company ke liye shayad fit nahi baithta hai aur agar vaah kisi ias ko jo kisi karanvash ek pariksha ke antim charan me selection nahi le pata hai agar vaah ko hire karenge agar mode ko naukri par rakhenge toh kahin na kahin uska unko edajest karne me problem hoga toh gallery me saransh me baat kiya jaaye toh ek company ka maksad hota hai aapka kamana lekin ek IAS officer banne ke peeche ka motivation bata desh ka seva karna koi yahan ek difference aa jata hai isliye mujhe lagta hai ki private companiya abhi bhi 2 log aur pratibhashali hote hain jo kisi karanvash antim charan me chhut jaate hain vaah bhi koi zyada difference nahi hota jinka selection ho jata hai aur jinka nahi ho pata lekin phir bhi private companiya unhe apne yahan naukri par rakhne se katrati hai dhanyavad

कोई भी प्राइवेट कंपनी आईएस की भर्ती क्यों नहीं करती है अगर वह इतने प्रतिभाशाली बुद्धिमान औ

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

Mohan Ram Tarad

Agriculture Student, UPSC Aspirant and a Learner

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप का जूस नहीं कोई भी प्राइवेट काम क्यों नहीं करती अगर बताएं ईमानदार भी होता है कोई प्राइवेट कंपनी

aap ka juice nahi koi bhi private kaam kyon nahi karti agar bataye imaandaar bhi hota hai koi private company

आप का जूस नहीं कोई भी प्राइवेट काम क्यों नहीं करती अगर बताएं ईमानदार भी होता है कोई प्राइव

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  70
WhatsApp_icon
user
0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि आईएस मानवता के प्रति मानवता के प्रति कोई भी ऐसा कार्य नहीं करेगा जो कि कंपनी के दबाव में आकर करना होता है क्योंकि आईएसआईएस स्वाभिमान और इमानदार व्यक्तित्व होता है जो कि कंपनी की जरूरतों को ध्यान में नहीं रह सकता कृपया अपने-अपने जो गवर्नमेंट सर्वेंट के 2 नियम होते हैं उनको और नहीं तोड़ सकता क्योंकि वह एक समाज से बंधा हुआ होता है और सामाजिक नियम तोड़ने है अपने मानवता के खिलाफ समझता है इसलिए आइए सिविल सर्वेंट्स कंपनी के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता जो कि कंपनी को चलाने के लिए कुछ सामाजिक नियमों को तोड़ना पड़ता है

kyonki ias manavta ke prati manavta ke prati koi bhi aisa karya nahi karega jo ki company ke dabaav me aakar karna hota hai kyonki ISIS swabhiman aur imaandaar vyaktitva hota hai jo ki company ki jaruraton ko dhyan me nahi reh sakta kripya apne apne jo government servant ke 2 niyam hote hain unko aur nahi tod sakta kyonki vaah ek samaj se bandha hua hota hai aur samajik niyam todne hai apne manavta ke khilaf samajhata hai isliye aaiye civil servants company ke liye upyukt nahi ho sakta jo ki company ko chalane ke liye kuch samajik niyamon ko todna padta hai

क्योंकि आईएस मानवता के प्रति मानवता के प्रति कोई भी ऐसा कार्य नहीं करेगा जो कि कंपनी के दब

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!