क्या सिविल सेवाओं ने अपना महत्व खो दिया है ऐसा क्यों है की बहुत से लोग अब VRS का चयन कर रहे हैं?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब राजनीति का दुष्प्रभाव प्रशासन में पड़ता है और प्रशासन जनता के पास अपने सारी समस्याओं के समाधान करने के अतिरिक्त उनके ऊपर जबरदस्ती बोल डालने के लिए आता है क्योंकि समाज की प्रक्रिया मशीनरी जो बनाई गई है शासन कानून बनाने के लिए और प्रशासन कानून का पालन कराने के लिए शासन और प्रशासन और सख्त कानून को अपने हाथ में लेकर के प्रशासन को भी अपने हाथ में ले लेता तो सच्चे ईमानदार लेते हैं

jab raajneeti ka dushprabhav prashasan me padta hai aur prashasan janta ke paas apne saari samasyaon ke samadhan karne ke atirikt unke upar jabardasti bol dalne ke liye aata hai kyonki samaj ki prakriya machinery jo banai gayi hai shasan kanoon banane ke liye aur prashasan kanoon ka palan karane ke liye shasan aur prashasan aur sakht kanoon ko apne hath me lekar ke prashasan ko bhi apne hath me le leta toh sacche imaandaar lete hain

जब राजनीति का दुष्प्रभाव प्रशासन में पड़ता है और प्रशासन जनता के पास अपने सारी समस्याओं के

Romanized Version
Likes  252  Dislikes    views  2081
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:44
Play

Likes  323  Dislikes    views  3185
WhatsApp_icon
play
user
0:16

Likes  209  Dislikes    views  1760
WhatsApp_icon
user

Ansh jalandra

Motivational speaker & criminal lawyer

0:32
Play

Likes  146  Dislikes    views  1748
WhatsApp_icon
user
1:00
Play

Likes  148  Dislikes    views  1594
WhatsApp_icon
play
user

PRAMOD KUMAR

Retired IFS Officer | Advisor to TRIFED

6:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने पूछा है क्या सिविल सर्विस नहीं अपना महत्व खो दिया है आज भी बहुत लोग बीआरएसएन कर रहा है इसका जवाब मैं आपको ऐसे ही बोलूंगा कि सिविल सर्विस से इसका मेन उद्देश्य था कि आप इसमें इस सर्विस में रहते हुए एक सिस्टम के अंदर अब जनता को सेवा कर पाएंगे उनको सरकार का भव्य कार्यक्रम सही ढंग से पहुंचा पाएंगे और जनता की आवाज अब सरकार तक पहुंच पाए इसीलिए को स्टेशन में इनको बताया जाता है कि स्टील प्रेमा जम्मू कश्मीर आपका एग्जीक्यूटिव सोती है जो आपका पॉलीटिकल एक्टिविटीज होती है इलेक्शन करके हम कल आते हैं और यह राज्यसभा में रहते हो चाहे भारतीय प्रशासनिक सेवा भारतीय पुलिस अधीक्षक जनपद सदस्य या आपका हरिवंश अभी सोया कस्टम सर्विसेस लो न रेलवे सर्विस से सो जा पोस्टल सर्विसेस को सभी आपका पब्लिक काम के लिए एलडीआरबी क्लोज़ रिलेटेड कोई सर्विस में आपको आते ही आपको बहुत सारी जिम्मेदारी आपका बन जाता है यह मस्ती मेरे लाल टू जॉब तिवारी डिसिप्लिन एंड ड्यूटी बाउंड आपके पास से बहुत सारे चैलेंज एस आएंगे पॉलिटिकल कंपल्शन सही रहता है और बाकी सारे चीज में रहता है और मेरा मानना है कि अल्टीमेटली इसी सर्विस के अंदर रहते हुए इस सिस्टम में रह हमको कोई अनैतिक कार्य के लिए कोई गलत काम के लिए इसे बोलते हैं तो उसको भी आप प्रोटेस्ट कर सकते हो जहां तक भैया रेस का सवाल होती है रश्मि कोषाधिकारी लेते हैं और बीआरएस का प्रोविजन है बल इंटरटेनमेंट किस करूं कोई स्वास्थ्य के कारण से लेता है बाकी सर्विस खराब लगे या कोई दूसरे काम के लिए सकता है पुरुष का नहीं हो पाता बाकी जरूर है कुछ सिखा दो कुछ परसेंटेज है क्या तो फिर कुछ प्रश्न कैसे उनको अभी सर्विसेस बुधवार अच्छे नहीं लगते कोई एकेडमिक सिटी के लिए चले जाते हैं बहुत सारे में दिखाई बनाई उन्होंने पीएचडी मेरा करने के लिए भी चल जाता है और बाकी कुल्लू मल्लो बेटर उनको कोई एनजीओ वगैरह में काम करना है या कहां पर हो काम करने का मौका मिलता है वह भी आ जाते और जहां पर भी हो आपके धीरे-धीरे तस्कर बहुत प्रकार का चीज बड़े हुए हैं मुलायम इंटरफेस बगैरा धीरे-धीरे भक्तों मन नहीं पड़ेगा इसको हाउ ब्यूटीफुली एंड हाउ लवली आइज हुए यू टो ओवरकम डेट कि आपका सबसे बड़ा इंपॉर्टेंट चीज होता है और किस चीज को डर के एलुसिव होकर भाग जाना मेरे ख्याल में उचित नहीं है आप सिस्टम में रहते हुए गलत चीज का विरोध भी कर सकते हो उसके लिए तरीका होती है और सिस्टम में पूरा छोड़ देना है उसे बाहर चला देना मैं तो उसको को पढ़ आई माझी सिनेमा लेता हूं मैं उसके साथ बिल्कुल सहमत नहीं हूं और सिविल सर्विस अपना महत्व खो दिया यह बात भी मुझे भी सही नहीं लग रहा है क्योंकि एक सिस्टम में सिस्टम में बहुत सारे लोग अच्छे होते हैं बहुत सारा अच्छे होते हैं कुछ 182 के लिए पूरे सिस्टम को ऑन कर आप नहीं कर सकते और इस सिस्टम में आपको साथ बहुत सारे स्कोपिया को काम करने का आपका काम को दिखाने का और कभी-कभी तो उस चीज का रहता है आप सभी को जानते हैं कि कभी आपको टीचर करते हुए भी को नहीं मिलता है आपके सामने कोई डिजाइन नहीं करने वाला कोई चीज मिल जाता है सिविल सर्विसेस में आपका पोस्टिंग तबादला यह सब चीज बहुत होती है कभी-कभी ऑफ राइट हो रहा हो नेटवर्क में काम करती हुई आप उसको ओ पनिशमेंट हो जाते हैं ऐसे भूल सर एग्जामपुर से सभी को आपको थोड़ा सर्विस 1000 की रोक लेना पड़ेगा आप कहां बिजी हो आप गाड़ी में जाते हो काम आता है कि मैं जब इस आदेश में कहा जाता हूं यहां मुझे बहुत सारे चीज को फेस करना पड़ेगा क्योंकि डेमोक्रेसी में आपके ऊपर पॉलिटिकल होंगे को बात करेंगे क्योंकि उनका उनका इंटरेस्ट रहता है तो कहां तक किस लेवल तक समिति ने उनको बाद में मुझे आगे बढ़ना और कहां तक मैं उनको मना कर सकता हूं यह सब चीज को आप को बीच में भी आप वाला समन करके चल पाएंगे एक्शन तू ही तो पाया मैं तो मेरा मानना है कि सर्विस कोई महत्त्व नहीं खोया है खोया है और ज्यादा दर्द में बताऊंगा डेवलपमेंट के साथ-साथ और इंडिपेंडेंस का इतने सालों में जलेंगे बड़ी है और चुनौतियां बढ़ी है इंटरटेन से बनी हुई है ऐसा बात नहीं कि पूरा बिल्कुल इंटरफेस के साथ साथ अपरिभाषित होकर जितने आप योगदान कर पाएंगे आप पब्लिक सर्विस के लिए इतना ही आपके हित में और देश की अच्छा लगा सब चीज को डरते हुए हम उसको ग्यारस लेकर चले जाए कोई सोच गलत कारण हो गया मेडिकल रोड सुजाता लगभग हर माल परिस्थिति में एक धन्यवाद

namaskar aapne poocha hai kya civil service nahi apna mahatva kho diya hai aaj bhi bahut log BRSN kar raha hai iska jawab main aapko aise hi boloonga ki civil service se iska main uddeshya tha ki aap isme is service mein rehte hue ek system ke andar ab janta ko seva kar payenge unko sarkar ka bhavya karyakram sahi dhang se pohcha payenge aur janta ki awaaz ab sarkar tak pohch paye isliye ko station mein inko bataya jata hai ki steel prema jammu kashmir aapka executive soti hai jo aapka political activities hoti hai election karke hum kal aate hai aur yah rajya sabha mein rehte ho chahen bharatiya prashaasnik seva bharatiya police adhikshak janpad sadasya ya aapka harivansh abhi soya custom services lo na railway service se so ja postal services ko sabhi aapka public kaam ke liye LDRB kloz related koi service mein aapko aate hi aapko bahut saree jimmedari aapka ban jata hai yah masti mere laal to job tiwari discipline and duty bound aapke paas se bahut saare challenge s aayenge political compulsion sahi rehta hai aur baki saare cheez mein rehta hai aur mera manana hai ki altimetli isi service ke andar rehte hue is system mein reh hamko koi anaitik karya ke liye koi galat kaam ke liye ise bolte hai toh usko bhi aap protest kar sakte ho jaha tak bhaiya race ka sawaal hoti hai rashmi koshadhikari lete hai aur BRS ka provision hai bal entertainment kis karu koi swasthya ke karan se leta hai baki service kharab lage ya koi dusre kaam ke liye sakta hai purush ka nahi ho pata baki zaroor hai kuch sikha do kuch percentage hai kya toh phir kuch prashna kaise unko abhi services budhavar acche nahi lagte koi academic city ke liye chale jaate hai bahut saare mein dikhai banai unhone phd mera karne ke liye bhi chal jata hai aur baki kullu mallo better unko koi ngo vagera mein kaam karna hai ya kahaan par ho kaam karne ka mauka milta hai vaah bhi aa jaate aur jaha par bhi ho aapke dhire dhire taskar bahut prakar ka cheez bade hue hai mulayam interface bagaira dhire dhire bhakton man nahi padega isko how byutifuli and how lovely eyez hue you toe ovarakam date ki aapka sabse bada important cheez hota hai aur kis cheez ko dar ke elusiv hokar bhag jana mere khayal mein uchit nahi hai aap system mein rehte hue galat cheez ka virodh bhi kar sakte ho uske liye tarika hoti hai aur system mein pura chod dena hai use bahar chala dena main toh usko ko padh I majhi cinema leta hoon main uske saath bilkul sahmat nahi hoon aur civil service apna mahatva kho diya yah baat bhi mujhe bhi sahi nahi lag raha hai kyonki ek system mein system mein bahut saare log acche hote hai bahut saara acche hote hai kuch 182 ke liye poore system ko on kar aap nahi kar sakte aur is system mein aapko saath bahut saare skopiya ko kaam karne ka aapka kaam ko dikhane ka aur kabhi kabhi toh us cheez ka rehta hai aap sabhi ko jante hai ki kabhi aapko teacher karte hue bhi ko nahi milta hai aapke saamne koi design nahi karne vala koi cheez mil jata hai civil services mein aapka posting tabadla yah sab cheez bahut hoti hai kabhi kabhi of right ho raha ho network mein kaam karti hui aap usko o punishment ho jaate hai aise bhool sir egjamapur se sabhi ko aapko thoda service 1000 ki rok lena padega aap kahaan busy ho aap gaadi mein jaate ho kaam aata hai ki main jab is aadesh mein kaha jata hoon yahan mujhe bahut saare cheez ko face karna padega kyonki democracy mein aapke upar political honge ko baat karenge kyonki unka unka interest rehta hai toh kahaan tak kis level tak samiti ne unko baad mein mujhe aage badhana aur kahaan tak main unko mana kar sakta hoon yah sab cheez ko aap ko beech mein bhi aap vala saman karke chal payenge action tu hi toh paya main toh mera manana hai ki service koi mahatva nahi khoya hai khoya hai aur zyada dard mein bataunga development ke saath saath aur Independence ka itne salon mein jalenge baadi hai aur chunautiyaan badhi hai intaraten se bani hui hai aisa baat nahi ki pura bilkul interface ke saath saath aparibhashit hokar jitne aap yogdan kar payenge aap public service ke liye itna hi aapke hit mein aur desh ki accha laga sab cheez ko darte hue hum usko gyara lekar chale jaaye koi soch galat karan ho gaya medical road sujata lagbhag har maal paristithi mein ek dhanyavad

नमस्कार आपने पूछा है क्या सिविल सर्विस नहीं अपना महत्व खो दिया है आज भी बहुत लोग बीआरएसएन

Romanized Version
Likes  452  Dislikes    views  5173
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा कि क्या सिविल सेवा में अपना नेट खो दिया है ऐसा क्यों कह रहे हैं क्योंकि बहुत से लोग आप यार उसका चयन कर रहे हैं एक अलग है और यह कहना कि सिविल सर्विस सेवाओं ने अपनी चमक होती है नहीं यह माननीय नहीं है यह कभी मन नहीं होगी क्योंकि अगर जम्मू खोजें या मैं तो पौधे दूसरा कोई जाएगा ही नहीं उस दिन कोई देखेगा मिनट के लोग जाते हैं पूरी लगन और मेहनत से तैयार होते हैं और उसमें सफल और चर्चित ज्वाइन करते हैं यह उनका कर्तव्य है और वह ईमानदारी का परिचय देते हुए अपने कर्तव्य को कंट्रोल करने का प्रयास करते हैं लेकिन कुछ लोग जो प्रश्न मनमानी करते हैं और उनको मनमानी करने के लिए मजबूर करते हैं उनको उनके अधिकार क्षेत्र से काम करने से वंचित करते हैं उन्हें पथभ्रष्ट करते उनको अच्छे कार्य करने से रोकते हैं उन पर दबाव डालते हैं तो ईमानदार व्यक्ति अपने स्वाभिमान को कभी नहीं भेजता अपनी ईमानदारी के कभी टुकड़े नहीं करता अपने चरित्र और अपनी नैतिकता को कभी वह गुलाम नहीं बनाता कैसे व्यक्ति क्या करेंगे ऐसी लेंगे कम से कम कहीं कॉर्पोरेट में उनको काम करने का अवसर मिलेगा क्योंकि जीना है तो काम करना पड़ेगा तो आप समझ गए होंगे कि ब्यास का चयन होने का कारण क्या है अंडर प्रेशर

aapne kaha ki kya civil seva mein apna net kho diya hai aisa kyon keh rahe hain kyonki bahut se log aap yaar uska chayan kar rahe hain ek alag hai aur yah kehna ki civil service sewaon ne apni chamak hoti hai nahi yah mananiya nahi hai yah kabhi man nahi hogi kyonki agar jammu khojen ya main toh paudhe doosra koi jaega hi nahi us din koi dekhega minute ke log jaate hain puri lagan aur mehnat se taiyar hote hain aur usme safal aur charchit join karte hain yah unka kartavya hai aur vaah imaandaari ka parichay dete hue apne kartavya ko control karne ka prayas karte hain lekin kuch log jo prashna manmani karte hain aur unko manmani karne ke liye majboor karte hain unko unke adhikaar kshetra se kaam karne se vanchit karte hain unhe path bhrasht karte unko acche karya karne se rokte hain un par dabaav daalte hain toh imaandaar vyakti apne swabhiman ko kabhi nahi bhejta apni imaandaari ke kabhi tukde nahi karta apne charitra aur apni naitikta ko kabhi vaah gulam nahi banata kaise vyakti kya karenge aisi lenge kam se kam kahin corporate mein unko kaam karne ka avsar milega kyonki jeena hai toh kaam karna padega toh aap samajh gaye honge ki byas ka chayan hone ka karan kya hai under pressure

आपने कहा कि क्या सिविल सेवा में अपना नेट खो दिया है ऐसा क्यों कह रहे हैं क्योंकि बहुत से ल

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  1101
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि सिविल सेवा में अपना महत्व खो दिया है अब सोशल मीडिया अब बहुत ज्यादा हाईलाइट हो जाती है हर चीज का पता चलता है मैं तो आपको पता था जो लगभग पूरा कर लिया था अभी 2013 में जिन्होंने तब किया था उन्होंने ले लिया था उन्होंने सरकारी नौकरी प्राइवेट हो जाती है और डॉक्टर मिक्स में आ गए कुछ जाकर क्या करना चाहती हो क्या करना नहीं चाहते हो आपको पहले भी इतनी पोटेंसी आज भी इंपोर्टेंट है रमेश तलवार पौधा किस मूल का उदाहरण बड़ा उदाहरण जिन्होंने देश का एकीकरण किया बहुत आगे बढ़ाया है और आईएसओ का काम करना बहुत ज्यादा जरूरी है अंग्रेजों के जमाने से लेकर के और 2019 में करना क्या नहीं करना है ठीक है धन्यवाद

aisa bilkul bhi nahi hai ki civil seva mein apna mahatva kho diya hai ab social media ab bahut zyada highlight ho jaati hai har cheez ka pata chalta hai toh aapko pata tha jo lagbhag pura kar liya tha abhi 2013 mein jinhone tab kiya tha unhone le liya tha unhone sarkari naukri private ho jaati hai aur doctor mix mein aa gaye kuch jaakar kya karna chahti ho kya karna nahi chahte ho aapko pehle bhi itni potensi aaj bhi important hai ramesh talwar paudha kis mul ka udaharan bada udaharan jinhone desh ka ekikaran kiya bahut aage badhaya hai aur iso ka kaam karna bahut zyada zaroori hai angrejo ke jamane se lekar ke aur 2019 mein karna kya nahi karna hai theek hai dhanyavad

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि सिविल सेवा में अपना महत्व खो दिया है अब सोशल मीडिया अब बहुत ज्या

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या सिविल सेवाओं में अपना महत्व खो दिया है ऐसा क्यों है कि बहुत से लोग बीआरएस का चयन कर रहे हैं ऐसा नहीं है कि सिविल सेवा में अपना महत्व खो दिया हो बल्कि उनका महत्व बड़ा ही है पर हां यह सच है कि कई लोग बियारस लेते हैं उसके बहुत से कारण होते हैं यह कारण जो है वह पिछले कुछ समय में हमें कई बीआरएस दिखे उसका जो गवर्नमेंट ने खुद ही लोगों को वीआरएस लेने के लिए मजबूर किया है गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने कुछ लोगों को अपने आप छुट्टी दी है जिनके रिकॉर्ड ठीक नहीं थे या जिनका कई प्रकार के प्रकरण दर्ज थे कई प्रकार के भ्रष्टाचारी के आरोप थे ऐसे लोगों को गवर्नमेंट ने खुद ब खुद हटाया है कई डिपार्टमेंट के आईएएस आईपीएस अफसर को भी और कई लोगों को गवर्नमेंट ने खुद इस प्रकार का स्टेप लेने के लिए सजेस्ट किया है एक तो वो कारण हो सकता है पर ऐसे सभी नहीं ऐसे कुछ ही लोग थे जो कि नियम के अंतर्गत गलत थे जिनका कई प्रकार के बहुत ही इस तरीके का आपराधिक प्रकरण हैं जिनमें बहुत बड़े लेवल का गवर्नर घोटाला है तो ऐसे लोगों को गवर्नमेंट ने हटाने के लिए कई प्रकार की जवाब दिए हैं पिछले 50 वर्षों में और कई अधिकारियों को हमने देखा है उन्होंने जबर्दस्ती उन्हें हटाया हटाने के दौरान बीआरएस कहीं ऑप्शन दिया जाता है ताकि वह अपने आराम से टैक्मिंट कर खिलाएगी दूसरे वर्क लोड बहुत बड़ा है पिछले कुछ समय में 1 कर्मचारियों की भर्तियां लोगों की अपेक्षा ज्यादा बढ़ी हैं सरकार की अपेक्षा ज्यादा बड़ी है तो वर्क लोड ज्यादा बढ़ने के कारण कई लोग बियारस ले लेते हैं तीसरा जो कारण है वह कई लोगों को लगता है कि हम दसवीं साल की जॉब में लाइफ सेटल कर चुके हैं पूरी लाइफ अच्छे से रहने के लिए हमारे पास सब कुछ है अब हम क्यों अनावश्यक परेशान हो तो वह अपने मर्जी से बियारस लेकर एक कुछ और अपना टाइम कम देखते हैं और अपनी लाइफ इंजॉय करना चाहते हैं कि सुता कई कारण जिससे लोग भी आ रहे हैं लोड एक बहुत बड़ा कारण और भी कई कारण है और इसका मतलब यह नहीं कि इसका महत्व कम हो गया हो नई भर्ती में आप देखे तो इससे भी ज्यादा लोग तैयार बैठे हुए जो ज्वाइन कर रहे हैं और इसको इंजॉय कर रहे हैं

aapka prashna hai kya civil sewaon me apna mahatva kho diya hai aisa kyon hai ki bahut se log BRS ka chayan kar rahe hain aisa nahi hai ki civil seva me apna mahatva kho diya ho balki unka mahatva bada hi hai par haan yah sach hai ki kai log biyaras lete hain uske bahut se karan hote hain yah karan jo hai vaah pichle kuch samay me hamein kai BRS dikhe uska jo government ne khud hi logo ko VRS lene ke liye majboor kiya hai government of india ne kuch logo ko apne aap chhutti di hai jinke record theek nahi the ya jinka kai prakar ke prakaran darj the kai prakar ke bhrashtachaari ke aarop the aise logo ko government ne khud bsp khud hataya hai kai department ke IAS ips officer ko bhi aur kai logo ko government ne khud is prakar ka step lene ke liye suggest kiya hai ek toh vo karan ho sakta hai par aise sabhi nahi aise kuch hi log the jo ki niyam ke antargat galat the jinka kai prakar ke bahut hi is tarike ka apradhik prakaran hain jinmein bahut bade level ka governor ghotala hai toh aise logo ko government ne hatane ke liye kai prakar ki jawab diye hain pichle 50 varshon me aur kai adhikaariyo ko humne dekha hai unhone jabardasti unhe hataya hatane ke dauran BRS kahin option diya jata hai taki vaah apne aaram se taikmint kar khilaegi dusre work load bahut bada hai pichle kuch samay me 1 karmachariyon ki bhartiyan logo ki apeksha zyada badhi hain sarkar ki apeksha zyada badi hai toh work load zyada badhne ke karan kai log biyaras le lete hain teesra jo karan hai vaah kai logo ko lagta hai ki hum dasavi saal ki job me life settle kar chuke hain puri life acche se rehne ke liye hamare paas sab kuch hai ab hum kyon anavashyak pareshan ho toh vaah apne marji se biyaras lekar ek kuch aur apna time kam dekhte hain aur apni life enjoy karna chahte hain ki suta kai karan jisse log bhi aa rahe hain load ek bahut bada karan aur bhi kai karan hai aur iska matlab yah nahi ki iska mahatva kam ho gaya ho nayi bharti me aap dekhe toh isse bhi zyada log taiyar baithe hue jo join kar rahe hain aur isko enjoy kar rahe hain

आपका प्रश्न है क्या सिविल सेवाओं में अपना महत्व खो दिया है ऐसा क्यों है कि बहुत से लोग बीआ

Romanized Version
Likes  82  Dislikes    views  2000
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या सिविल सेवा ने अपनी महत्व को खो दिया है ऐसा क्यों है कि बहुत से लोग भी आर एस का चयन कर जी नहीं सिविल सर्विस ने अपनी महत्व को खोया नहीं है यह जो भी कुछ ऐसा हो रहा है चाहे पाते चली गई थी भ्रांतियां और दूसरी बात ऐसा क्यों है लोग कि बिहार में ज्यादा चेंज कर रहा है इसका कारण है कि लोगों का चॉइस भी हो सकता है हो सकता है हो सकता है कोई मजबूरी हो सकती यूपीएससी सिविल सर्विसेज ने अपनी महत्व को नहीं खोया है और व्यर्थ में जाने का प्रिंटेस्ट हो सकता है धन्यवाद

aapka sawaal hai kya civil seva ne apni mahatva ko kho diya hai aisa kyon hai ki bahut se log bhi R s ka chayan kar ji nahi civil service ne apni mahatva ko khoya nahi hai yah jo bhi kuch aisa ho raha hai chahen paate chali gayi thi bhrantiyan aur dusri baat aisa kyon hai log ki bihar mein zyada change kar raha hai iska karan hai ki logo ka choice bhi ho sakta hai ho sakta hai ho sakta hai koi majburi ho sakti upsc civil services ne apni mahatva ko nahi khoya hai aur vyarth mein jaane ka printest ho sakta hai dhanyavad

आपका सवाल है क्या सिविल सेवा ने अपनी महत्व को खो दिया है ऐसा क्यों है कि बहुत से लोग भी आर

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रात होता है भारत के नागरिक को भारत के नागरिकों को भारत के नागरिकों भारत के प्रशासनिक तौर पर वह जनता की सेवा की एक भीड़ होती है जो भारत के संसदीय और प्रशासन मिलकर जनता की सेवा करते हुए सेक्सी पिक्चर बताएं

raat hota hai bharat ke nagarik ko bharat ke nagriko ko bharat ke nagriko bharat ke prashaasnik taur par vaah janta ki seva ki ek bheed hoti hai jo bharat ke sansadiya aur prashasan milkar janta ki seva karte hue sexy picture bataye

रात होता है भारत के नागरिक को भारत के नागरिकों को भारत के नागरिकों भारत के प्रशासनिक तौर प

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!