क्या मृत्यु के दौरान हरे कृष्णस कहने से इंसान आत्मा को जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त कर सकता है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका पसंद है क्या मृत्यु के समय हरे कृष्णा कहने से इंसान आत्मा को जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त कर देता है देखिए कुछ कहानियां है जिनको हमें समझना होगा व्यक्ति अपने लाभ के लिए इतना की कहानियों को बढ़ा चढ़ाकर कह देता है जैसे कि उसके बेटे का नाम नारायण है और उसको कुछ और याद तो आया नहीं उतने में बेटे का नाम महल बोला और भगवान ने उसे माफ कर दिया या उसका जीवन मृत्यु का चक्र छूट गया भगवान कृष्ण ने यह वादा किया है कि जो अंतिम समय में मुझे बजेगा वह मुझे प्राप्त होगा इसमें कोई शक नहीं है परंतु एक बात का ध्यान रखिएगा यदि आप जीवन भर धन को ईर्ष्या को देश को भेजते रहे हैं तो आप चाहकर भी अपने अंतिम समय में कृष्ण भगवान को भगवान को नहीं बच पाएंगे उसके लिए पूरा अभ्यास चाहिए अपने जीवन में अनुशासन चाहिए आपको अंतिम समय में भी वही कपाट वही चीजें याद आएंगे एक छोटी सी बात याद आती है शायद आपको हंसी भी आए एक सेठ मंडफिया पर था उसने अपनी पत्नी से बोला संजय कहां पर है उसे संजय आपके पास बैठा हुआ है उसे बोला अजय कहां पर है उसे आगे भी आप के बिल्कुल पास में बैठे हैं उसे वाला विशाल कहां पर है उसे विशाल भी आपके ही पैरों में बैठा हुआ है पत्नी बहुत खुश हुई कि जीवन में कभी उसे अपने बच्चों को इस तरह से याद नहीं किया आज अंतिम समय में उसका प्यार देखकर उसकी आंखों में आंसू आ गए उसके बाद सेट में पूछा रामू नौकर कहां पर है उसने बोला वह भी यहीं पर है तो सेठ गुस्से में बोला किताब यहीं पर हो तो दुकान किसने खोली है तो आप सोचिए जो व्यक्ति मर रहा है उसको मालूम है वह अपने साथ कुछ नहीं लेकर जा सकता परंतु फिर भी वह व्यक्ति धन के बारे में सोच रहा है दुकान के बारे में सोच रहे हैं ऐसी ऐसी झूठी उम्मीद है मत लगाइए गा कि सारी जिंदगी आप पैसा पैसा करते रहेंगे दूसरों को नुकसान पहुंचाते रहेंगे और आखिरी समय में कृष्ण भगवान को बदलेंगे बिल्कुल ऐसा नहीं होगा एक और बात याद आती है 18 मदन चाहिए पर थे मरते-मरते वह अच्छा अच्छा अच्छा अच्छा कुछ बोल रहे थे अब बच्चे उनकी बात को समझ नहीं पा रहे थे बच्चों को लगा शायद बाप ने कहीं पर कोई धन डाला हुआ है और वह बताना चाहता है लेकिन बता नहीं पा रहा ओल्ड डॉक्टर को संपर्क किया डॉक्टर ने कहा उनकी मृत्यु निश्चित है अभी कुछ नहीं बोल पाएंगे परंतु एक इंजेक्शन है ₹100000 का यदि हम लगाते हैं तो कुछ समय के लिए यह ठीक हो जाएंगे लेकिन मिट्टी निश्चित है लड़कों ने निर्णय लिया कि धन बहुत बाप के पास है कहीं ऐसा ना हो कोई धन हमारा छूट जाए इनको इंजेक्शन लगा कर पूछ लेना चाहिए उन्होंने डॉक्टर को बुला इंजेक्शन लगाए इंजेक्शन लगाया गया और वह सेठ बोल पड़ा देखो वह सामने गाय का बछड़ा झाड़ू खा रहा है मृत्यु शैया पर व्यक्ति बैठा हुआ है और 500 ठेकेदारों के लिए मर रहा है सोचिए इसलिए कभी भी जीवन में इन झूठी कहानियों से अपने आपको मत बनाइए कई लोग मुझे ध्यान शिविरों में मिलते हैं जिनकी आयु 80 वर्ष की है 70 वर्ष की है और वह ध्यान कर रहे 29 वर्ष के भी मिलते हैं कर रहे हैं क्योंकि जो 80 वर्ष के मिल रहे हैं उन्होंने अपनी जिंदगी में 50 वर्ष की आयु में 40 वर्ष की आयु में ध्यान पर ध्यान देना शुरू किया ध्यान शिवर थोड़ी-थोड़ी लेने शुरू किए तो आज वह चीज को कर पा रहे हैं परंतु जो व्यक्ति मुझे मिलते थे 55 साल की उम्र में 50 साल की उम्र में ही रिटायर होंगे तो हम तो बस शिविर में ही रहेंगे पूरा महीना हम आश्रम में रहेंगे वह व्यक्ति आज भी अपने घर के मुंह जाम में फंसे हुए 1 दिन का अगर उनको बोल दो आशीर्वाद है आप आ जाना है आज बाबू में जाना है क्योंकि उन्होंने अपने जीवन को उस समय अनुशासित नहीं किया इसलिए यदि आप ध्यान करना चाहते हैं और आप चाहते हैं कि अभी आपके पास समय नहीं है तो हम पूरा टाइम ध्यान को भी देख सकते परंतु जो व्यक्ति अपने जीवन के काल के 40 साल की उम्र में 35 साल की उम्र में रोज एक घंटा अपने आपको नहीं पा रहा तो आप इटली की बस 7 वर्ष की उम्र में भी वह चाहिए नहीं कर पाएगा यदि व्यक्ति 40 वर्ष की आयु के बाद से एक घंटा दो घंटा ध्यान को देता है महीने में एक-दो दिन ध्यान शिविर में 5 दिन के लिए ध्यान शिविर में जाता है तो निश्चित मानी है उसका इंटरेस्ट बनेगा उसको 14 लगेगा और वह आगे 60 वर्ष के बाद नौकरी छूटने के बाद छोड़ने के बाद ध्यान से जुड़ेगा नहीं तो नौकरी छोड़ने के बाद भी लोग रिटायरमेंट के बाद फिर नौकरी पकड़ने की कोशिश करते हैं धन की आवश्यकता हो जिम्मेवारी हो कोई इसमें दिक्कत नहीं है परंतु आप संपन्न है फिर भी आप धन के पीछे भागे जा रहे हैं और केवल और केवल धन के पीछे भाग रहे अपने किसी और पक्ष की तरफ ध्यान नहीं दे रहे वहां गलती कर रहे हैं इसलिए यह बिल्कुल अपने मन से निकाल लीजिए कि केवल और केवल आखिरी समय में आप किसी भगवान का नाम लेंगे और आपकी आत्मा जो है वह जन्म ऋतु के चक्र से मुक्त हो जाएगी कृपया करके इस तरह की बातों से अपने दिल को मत लाइए कड़वे सच्चाई का सामना कीजिए ऐसे कई संत आपको मिलेंगे जो इस तरह की मीठी मीठी बातें करेंगे क्योंकि वह भी चाहते हैं आप उनके प्रवचन में आए और इस तरह की बातें सुनकर उनको भगवान ने दी है कृपया करके जागिए धन्यवाद

namaskar aapka pasand hai kya mrityu ke samay hare krishna kehne se insaan aatma ko janam aur mrityu ke chakra se mukt kar deta hai dekhiye kuch kahaniya hai jinako hamein samajhna hoga vyakti apne labh ke liye itna ki kahaniyan ko badha chadhakar keh deta hai jaise ki uske bete ka naam narayan hai aur usko kuch aur yaad toh aaya nahi utne me bete ka naam mahal bola aur bhagwan ne use maaf kar diya ya uska jeevan mrityu ka chakra chhut gaya bhagwan krishna ne yah vada kiya hai ki jo antim samay me mujhe bajega vaah mujhe prapt hoga isme koi shak nahi hai parantu ek baat ka dhyan rakhiega yadi aap jeevan bhar dhan ko irshya ko desh ko bhejate rahe hain toh aap chahkar bhi apne antim samay me krishna bhagwan ko bhagwan ko nahi bach payenge uske liye pura abhyas chahiye apne jeevan me anushasan chahiye aapko antim samay me bhi wahi kapaat wahi cheezen yaad aayenge ek choti si baat yaad aati hai shayad aapko hansi bhi aaye ek seth mandafiya par tha usne apni patni se bola sanjay kaha par hai use sanjay aapke paas baitha hua hai use bola ajay kaha par hai use aage bhi aap ke bilkul paas me baithe hain use vala vishal kaha par hai use vishal bhi aapke hi pairon me baitha hua hai patni bahut khush hui ki jeevan me kabhi use apne baccho ko is tarah se yaad nahi kiya aaj antim samay me uska pyar dekhkar uski aakhon me aasu aa gaye uske baad set me poocha ramu naukar kaha par hai usne bola vaah bhi yahin par hai toh seth gusse me bola kitab yahin par ho toh dukaan kisne kholi hai toh aap sochiye jo vyakti mar raha hai usko maloom hai vaah apne saath kuch nahi lekar ja sakta parantu phir bhi vaah vyakti dhan ke bare me soch raha hai dukaan ke bare me soch rahe hain aisi aisi jhuthi ummid hai mat lagaaiye jaayega ki saari zindagi aap paisa paisa karte rahenge dusro ko nuksan pahunchate rahenge aur aakhiri samay me krishna bhagwan ko badalenge bilkul aisa nahi hoga ek aur baat yaad aati hai 18 madan chahiye par the marte marte vaah accha accha accha accha kuch bol rahe the ab bacche unki baat ko samajh nahi paa rahe the baccho ko laga shayad baap ne kahin par koi dhan dala hua hai aur vaah batana chahta hai lekin bata nahi paa raha old doctor ko sampark kiya doctor ne kaha unki mrityu nishchit hai abhi kuch nahi bol payenge parantu ek injection hai Rs ka yadi hum lagate hain toh kuch samay ke liye yah theek ho jaenge lekin mitti nishchit hai ladko ne nirnay liya ki dhan bahut baap ke paas hai kahin aisa na ho koi dhan hamara chhut jaaye inko injection laga kar puch lena chahiye unhone doctor ko bula injection lagaye injection lagaya gaya aur vaah seth bol pada dekho vaah saamne gaay ka bachada jhadu kha raha hai mrityu shaiya par vyakti baitha hua hai aur 500 thekedaaron ke liye mar raha hai sochiye isliye kabhi bhi jeevan me in jhuthi kahaniyan se apne aapko mat banaiye kai log mujhe dhyan shiviron me milte hain jinki aayu 80 varsh ki hai 70 varsh ki hai aur vaah dhyan kar rahe 29 varsh ke bhi milte hain kar rahe hain kyonki jo 80 varsh ke mil rahe hain unhone apni zindagi me 50 varsh ki aayu me 40 varsh ki aayu me dhyan par dhyan dena shuru kiya dhyan shivar thodi thodi lene shuru kiye toh aaj vaah cheez ko kar paa rahe hain parantu jo vyakti mujhe milte the 55 saal ki umar me 50 saal ki umar me hi retire honge toh hum toh bus shivir me hi rahenge pura mahina hum ashram me rahenge vaah vyakti aaj bhi apne ghar ke mooh jam me fanse hue 1 din ka agar unko bol do ashirvaad hai aap aa jana hai aaj babu me jana hai kyonki unhone apne jeevan ko us samay anushasit nahi kiya isliye yadi aap dhyan karna chahte hain aur aap chahte hain ki abhi aapke paas samay nahi hai toh hum pura time dhyan ko bhi dekh sakte parantu jo vyakti apne jeevan ke kaal ke 40 saal ki umar me 35 saal ki umar me roj ek ghanta apne aapko nahi paa raha toh aap italy ki bus 7 varsh ki umar me bhi vaah chahiye nahi kar payega yadi vyakti 40 varsh ki aayu ke baad se ek ghanta do ghanta dhyan ko deta hai mahine me ek do din dhyan shivir me 5 din ke liye dhyan shivir me jata hai toh nishchit maani hai uska interest banega usko 14 lagega aur vaah aage 60 varsh ke baad naukri chutney ke baad chodne ke baad dhyan se judega nahi toh naukri chodne ke baad bhi log retirement ke baad phir naukri pakadane ki koshish karte hain dhan ki avashyakta ho jimmewari ho koi isme dikkat nahi hai parantu aap sampann hai phir bhi aap dhan ke peeche bhaage ja rahe hain aur keval aur keval dhan ke peeche bhag rahe apne kisi aur paksh ki taraf dhyan nahi de rahe wahan galti kar rahe hain isliye yah bilkul apne man se nikaal lijiye ki keval aur keval aakhiri samay me aap kisi bhagwan ka naam lenge aur aapki aatma jo hai vaah janam ritu ke chakra se mukt ho jayegi kripya karke is tarah ki baaton se apne dil ko mat laiye kadve sacchai ka samana kijiye aise kai sant aapko milenge jo is tarah ki mithi mithi batein karenge kyonki vaah bhi chahte hain aap unke pravachan me aaye aur is tarah ki batein sunkar unko bhagwan ne di hai kripya karke jagiye dhanyavad

नमस्कार आपका पसंद है क्या मृत्यु के समय हरे कृष्णा कहने से इंसान आत्मा को जन्म और मृत्यु क

Romanized Version
Likes  107  Dislikes    views  3260
KooApp_icon
WhatsApp_icon
29 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!