मनुष्य के लिए कौन अधिक महत्वपूर्ण है - ईश्वर या अन्य मनुष्य?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मनुष्य के लिए कौन अधिक महत्वपूर्ण है ईश्वर या अन्य मनुष्य के लिए जब तक मनुष्य है जीवित तब तक उसे दूसरे मनुष्य की जरूरत अवश्य पड़ने वाली है क्योंकि मनुष्य ही मनुष्य का साथी होता है इसलिए मनुष्य दूसरे मनुष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है और रही बात ईश्वर की ईश्वर जो है हमारी आस्था और श्रद्धा का विषय है हम उस में विश्वास करते हैं और हम उनकी आराधना करते हैं और अपनी सा उनको आत्मा के रूप में पाते महसूस करते हैं कि सर है जो कोई शक्ति है चालक बस है जनता को चला रहा है वही आपको चला रहे हैं और दूसरे मनुष्य दूसरे मनुष्य ज्यादा अधिक महत्वपूर्ण है क्योंकि जब तक दूसरा मनुष्य के साथ है तभी आपकी प्रगति किसी भी क्षेत्र में हो सकती है शायद शिक्षा पाए तो भी आप दूसरे मनुष्यों से पाएंगे आपको पैदा एक मंच के लिए आपके माता-पिता है वह भी आगे बढ़ेंगे अपने परिवार में आएंगे अपना परिवार जो बड़ा करेंगे वह सभी मनुष्यों में मनुष्य के मनुष्य ही महत्वपूर्ण है और मनुष्य मिलकर बनता है सब मनुष्य समाज बनता है इसलिए ताकि जो है वह हमारी इंसान उसे हमें कभी बोलना नहीं आता है

manushya ke liye kaun adhik mahatvapurna hai ishwar ya anya manushya ke liye jab tak manushya hai jeevit tab tak use dusre manushya ki zarurat avashya padane wali hai kyonki manushya hi manushya ka sathi hota hai isliye manushya dusre manushya ke liye bahut hi mahatvapurna hai aur rahi baat ishwar ki ishwar jo hai hamari astha aur shraddha ka vishay hai hum us mein vishwas karte hain aur hum unki aradhana karte hain aur apni sa unko aatma ke roop mein paate mehsus karte hain ki sir hai jo koi shakti hai chaalak bus hai janta ko chala raha hai wahi aapko chala rahe hain aur dusre manushya dusre manushya zyada adhik mahatvapurna hai kyonki jab tak doosra manushya ke saath hai tabhi aapki pragati kisi bhi kshetra mein ho sakti hai shayad shiksha paye toh bhi aap dusre manushyo se payenge aapko paida ek manch ke liye aapke mata pita hai vaah bhi aage badhenge apne parivar mein aayenge apna parivar jo bada karenge vaah sabhi manushyo mein manushya ke manushya hi mahatvapurna hai aur manushya milkar baata hai sab manushya samaj baata hai isliye taki jo hai vaah hamari insaan use hamein kabhi bolna nahi aata hai

मनुष्य के लिए कौन अधिक महत्वपूर्ण है ईश्वर या अन्य मनुष्य के लिए जब तक मनुष्य है जीवित तब

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1305
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!