हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं? वे यीशु की तरह सार्वभौमिक देवता क्यों नहीं हैं?...


user

Dr. Mahesh Mohan Jha

Asst. Professor,Astrologer,Author

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न हिंदू देवता आप हाथ में कुछ डिटेल आपको बता दूं हिंदू देवता भारत में सीमित रही है पूरे विश्व में बौद्ध धर्म को मानने वाले चाइना में है जापान में तिब्बती में और बौद्ध धर्म जो है वह हिंदू धर्म का ही एक अंग है जहां तक आप यूसुफ की बात करते हैं आपको बता दूं वह एक मिशन है ना कि धर्म और आप को भी मालूम होगा सनातन धर्म कभी मिशन के तरह अपने धर्म का प्रचार प्रसार नहीं करते हैं किंतु आजकल कुछ क्रिश्चियन धर्म के लोग घर-घर जाकर के प्रचार प्रसार करते हैं और धर्म परिवर्तन करने के लिए उसको प्रलोभन तक देते हैं जिस कारण से कुछ गरीब सनातनी या जिनको सनातन धर्म के बारे में और क्या लगता है वह अपना धर्म परिवर्तन कर लेते हैं धन्यवाद

namaskar aapka prashna hindu devta aap hath me kuch detail aapko bata doon hindu devta bharat me simit rahi hai poore vishwa me Baudh dharm ko manne waale china me hai japan me tibbati me aur Baudh dharm jo hai vaah hindu dharm ka hi ek ang hai jaha tak aap yusuf ki baat karte hain aapko bata doon vaah ek mission hai na ki dharm aur aap ko bhi maloom hoga sanatan dharm kabhi mission ke tarah apne dharm ka prachar prasaar nahi karte hain kintu aajkal kuch Christian dharm ke log ghar ghar jaakar ke prachar prasaar karte hain aur dharm parivartan karne ke liye usko pralobhan tak dete hain jis karan se kuch garib sanatani ya jinako sanatan dharm ke bare me aur kya lagta hai vaah apna dharm parivartan kar lete hain dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न हिंदू देवता आप हाथ में कुछ डिटेल आपको बता दूं हिंदू देवता भारत में सीम

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  120
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Isu Vasava

PASTOR in CHURCH.

7:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि यीशु परमेश्वर का बेटा है परमेश्वर का पुत्र और कैसा खुदा है जो हिंदू और मुसलमान को भी दर्शन देता है उससे बात करता है हिंदू और मुसलमान अपना जीवन यीशु मसीह को दे देते हैं और उसकी उनकी पूजा स्तुति आराधना करने लग जाते हैं और सबसे बड़ी बात है वह यह है कि जो दूसरे देवी-देवताओं हैं उनका जो जो भी धर्मशास्त्र है उसमें साथ लिखा होगा प्रेम वगैरा के बाद लेकिन क्रिश्चियनिटी इस आयत में सबसे ज्यादा जोर दिया जाता है वह प्यार प्यार में प्रेम में और बाइबिल का जो ज्ञान है जब वह बांटा जाता है सबसे ज्यादा प्रेम पर फोकस किया जाता है जैसे कि प्रभु श्री कृष्ण कहानी जैसे तुम अपने आपको खुद को प्यार करते हो वैसे तुम्हारे पड़ोसी को प्यार करना है अभी सब आज के समय में देखा जाए तो परमेश्वर को भी मालूम था कि इंसान फूल दुनिया से अच्छा रहेगा लेकिन अपने पड़ोसी से ज्यादा झगड़ा होगा तो परमेश्वर ने कहा कि जैसे हम अपने आप को प्रेम करते हैं खुद को जितना हम प्यार करते हैं अगर हां सोच लो मैं कहीं पर जा रहा हूं तुम्हें ऐसा सोच लूंगा मेरे को चोट के खरोच भी नहीं आने चाहिए मुझे कुछ नहीं होना चाहिए तो मतलब हम जितना खुद को प्यार करते हैं इतना प्यार हमें अपने पड़ोसी से करना है ठीक है और दूसरी बात है वह अगर हमारा कोई दुश्मन है तो हमें अपने दुश्मन से भी प्यार करना है और उसके लिए भी प्रार्थना करना है ताकि उसका बुरा ना हो लेकिन उसका भी भला हो यह जो चीज है प्यार वही प्यार सब को अच्छा लगता है और यही बात मुझे सबसे ज्यादा अच्छी लगी है तो वहीं के जो प्रभु सेक्स का प्यार दिखाने का और करने का जो सिस्टम है उसने मेरा जीवन बदल दिया और मैं मैं भी आज ए क्रिश्चियन क्रिश्चियन हूं पहले मैं हिंदुस्तान और दूसरी बात की जाए तो वह यह है कि सब लोग आए दुनिया में 33 करोड़ देवी देवता हैं सब मारने के लिए आए किसी के पास चक्र था किसी के पास तलवार कोई भला कोई त्रिशूल कोई गधा लेकर घूम रहा है लेकिन प्रभु यीशु ख्रीस्त आए हम हम जब हम पापी जन्म लेते हम पाप करते थे लेकिन तब प्रभु श्री कृष्ण ने हमारे लिए अपना जीवन दिया पापियों को बचाने के लिए आए ताकि मेरी पाप की वजह से मैं पाप में ना मरो और नाक में ना डाला जाऊं और मैं स्वर को कव्वाली कोई भी खुदा ने या ईश्वर ने अल्लाह ने यह किसी ने भी स्थान के लिए कोई कुर्बानी नहीं दी लेकिन यीशु मसीह यीशु मसीह के परमेश्वर हैं जिसने इंसान के लिए अपना जीवन दिया अगर बहुत सारे शास्त्रों में देखे जाए देखा जाए तुम यह भगवान लोग क्या करते थे और क्या करके चले गए वही लिखा लेकिन बाइबिल में सब कुछ लिखा इंसान को कैसे जीना चाहिए और कैसे पवित्र रहना जैसे परमेश्वर पवित्र बाइबल में यह भी लिखा है कि से परमेश्वर ने आकाश पृथ्वी की रचना की और किसके से इंसान ने इंसान को परमेश्वर ने बनाया परमेश्वर ने इंसान को अपने स्वरूप और प्रतिमा मैया ने अपनी इमेज में बनाए जैसा परमेश्वर है वैसे हम हमें बनाएं इसीलिए आज सबसे ज्यादा यीशु मसीह को जानते हैं और यीशु मसीह सच्चा जिंदा खुदा इसीलिए तो बहुत सारे 33 करोड़ देवी देवताओं में से किसी भी देवी देवता हैं तो अगर आप 100 या 200 किलोमीटर आगे चले जाओगे हम तो उस उस भगवान को उन माताजी लोग को पहचानता है बे नहीं अरे बोलेंगे यह कौन सा है कैसा खुदा यह कौन सी माताजी लेकिन अगर यीशु मसीह को आज देखने जाए तो मैं हर कोई को ही शायद ऐसा होगा लेकिन फिर भी अगर देखा जाए तो दुनिया के 99 लोग कुछ ऐसे ही आईलैंड है जहां पर अभी भी आदिवासी लोग बच्चे हुए जहां पर किसी को वह लोग आने नहीं देते उनके अलावा आज यीशु मसीह को सब लोग जानते हैं यीशु मसीह कौन है कोई जिंदा खुदा है और इसे मशीन मरने के बाद 2 दिन कब्र में रहे और आज आज 12 तारीख है 12 तारीख चौथा महिना अप्रैल 2020 आज संडे ईस्टर संडे और आज के दिन प्रभु यीशु ख्रीस्त जिंदा उठे थे कब्र में से अब तक कोई ऐसा खुदा नहीं है जो खुद चिंता उठाओ और सब लोगों ने उन प्रभु यीशु कृष को स्वर्ग में जाते हुए देखा है जिन लोगों ने प्रभु मुकेश को स्वर्ग में जाते हुए देखा उन्होंने बाइबल लेकर इसलिए आज सबसे ज्यादा लोग इसे बनते हैं और यह टारगेट है परमेश्वर का आज फिलहाल कोरोनावायरस चल रहा है लेकिन फिर भी परमेश्वर की आग में यह है कि दुनिया के कोने कोने में जाकर बताना है ईसाईयों को कि परमेश्वर ने खुद हमें इंसान को बचाने के लिए पाप से बचाने के लिए नर्क से बचाने के लिए परमेश्वर खुद अपनी जान दे और परमेश्वर का वचन योहान 316 में कहता है कि परमेश्वर ने जगत से इतना प्यार किया कि अपना एकलौता पुत्र दे दिया यीशु ख्रीस्त को जो कोई विश्वास करे वह नाश ना हो यानी कि नर्क में न जाए लेकिन आनंदी ज्ञानेश्वर का बारिश हो इसलिए जो को यीशु ख्रीस्त पर भरोसो क्यों करता है पाप चमन फिर आता है और अपना जीवन पवित्र जीवन जीता है वह उनको प्रभु यीशु ख्रीस्त नाक में नहीं डालेंगे और 1 दिन प्रभु यीशु ख्रीस्त आने वाले हैं और प्रशिक्षित ने कहा मैं दूसरी बार आऊंगा उससे पहले तुम मेरे चले जाने से बनाना सीखे बनाना का मतलब यह है कि वह लोग पाप नहीं करनी चाहिए वह किसी इंसान की बुरा भी नहीं करना चाहिए वह झूठ नहीं बोलना चाहिए चोरी नहीं करनी चाहिए हर इंसान एक दूसरे को प्यार करना चाहिए लेकिन आज फिर भी दुनिया में बहुत सारे लोग हैं जो दूसरे देवी देवता को पूछते हैं और आप पढ़े हुए हैं

kyonki yeshu parmeshwar ka beta hai parmeshwar ka putra aur kaisa khuda hai jo hindu aur musalman ko bhi darshan deta hai usse baat karta hai hindu aur musalman apna jeevan yeshu masih ko de dete hain aur uski unki puja stuti aradhana karne lag jaate hain aur sabse badi baat hai vaah yah hai ki jo dusre devi devatao hain unka jo jo bhi dharmashastra hai usme saath likha hoga prem vagera ke baad lekin krishchiyaniti is ayat me sabse zyada jor diya jata hai vaah pyar pyar me prem me aur bible ka jo gyaan hai jab vaah baata jata hai sabse zyada prem par focus kiya jata hai jaise ki prabhu shri krishna kahani jaise tum apne aapko khud ko pyar karte ho waise tumhare padosi ko pyar karna hai abhi sab aaj ke samay me dekha jaaye toh parmeshwar ko bhi maloom tha ki insaan fool duniya se accha rahega lekin apne padosi se zyada jhagda hoga toh parmeshwar ne kaha ki jaise hum apne aap ko prem karte hain khud ko jitna hum pyar karte hain agar haan soch lo main kahin par ja raha hoon tumhe aisa soch lunga mere ko chot ke kharoch bhi nahi aane chahiye mujhe kuch nahi hona chahiye toh matlab hum jitna khud ko pyar karte hain itna pyar hamein apne padosi se karna hai theek hai aur dusri baat hai vaah agar hamara koi dushman hai toh hamein apne dushman se bhi pyar karna hai aur uske liye bhi prarthna karna hai taki uska bura na ho lekin uska bhi bhala ho yah jo cheez hai pyar wahi pyar sab ko accha lagta hai aur yahi baat mujhe sabse zyada achi lagi hai toh wahi ke jo prabhu sex ka pyar dikhane ka aur karne ka jo system hai usne mera jeevan badal diya aur main main bhi aaj a Christian Christian hoon pehle main Hindustan aur dusri baat ki jaaye toh vaah yah hai ki sab log aaye duniya me 33 crore devi devta hain sab maarne ke liye aaye kisi ke paas chakra tha kisi ke paas talwar koi bhala koi trishool koi gadha lekar ghum raha hai lekin prabhu yeshu khrist aaye hum hum jab hum papi janam lete hum paap karte the lekin tab prabhu shri krishna ne hamare liye apna jeevan diya papiyon ko bachane ke liye aaye taki meri paap ki wajah se main paap me na maro aur nak me na dala jaaun aur main swar ko qawwali koi bhi khuda ne ya ishwar ne allah ne yah kisi ne bhi sthan ke liye koi kurbani nahi di lekin yeshu masih yeshu masih ke parmeshwar hain jisne insaan ke liye apna jeevan diya agar bahut saare shastron me dekhe jaaye dekha jaaye tum yah bhagwan log kya karte the aur kya karke chale gaye wahi likha lekin bible me sab kuch likha insaan ko kaise jeena chahiye aur kaise pavitra rehna jaise parmeshwar pavitra bible me yah bhi likha hai ki se parmeshwar ne akash prithvi ki rachna ki aur kiske se insaan ne insaan ko parmeshwar ne banaya parmeshwar ne insaan ko apne swaroop aur pratima maiya ne apni image me banaye jaisa parmeshwar hai waise hum hamein banaye isliye aaj sabse zyada yeshu masih ko jante hain aur yeshu masih saccha zinda khuda isliye toh bahut saare 33 crore devi devatao me se kisi bhi devi devta hain toh agar aap 100 ya 200 kilometre aage chale jaoge hum toh us us bhagwan ko un mataji log ko pahachanta hai be nahi are bolenge yah kaun sa hai kaisa khuda yah kaun si mataji lekin agar yeshu masih ko aaj dekhne jaaye toh main har koi ko hi shayad aisa hoga lekin phir bhi agar dekha jaaye toh duniya ke 99 log kuch aise hi island hai jaha par abhi bhi adiwasi log bacche hue jaha par kisi ko vaah log aane nahi dete unke alava aaj yeshu masih ko sab log jante hain yeshu masih kaun hai koi zinda khuda hai aur ise machine marne ke baad 2 din kabr me rahe aur aaj aaj 12 tarikh hai 12 tarikh chautha mahina april 2020 aaj sunday easter sunday aur aaj ke din prabhu yeshu khrist zinda uthe the kabr me se ab tak koi aisa khuda nahi hai jo khud chinta uthao aur sab logo ne un prabhu yeshu krish ko swarg me jaate hue dekha hai jin logo ne prabhu mukesh ko swarg me jaate hue dekha unhone bible lekar isliye aaj sabse zyada log ise bante hain aur yah target hai parmeshwar ka aaj filhal coronavirus chal raha hai lekin phir bhi parmeshwar ki aag me yah hai ki duniya ke kone kone me jaakar batana hai isaiyon ko ki parmeshwar ne khud hamein insaan ko bachane ke liye paap se bachane ke liye nark se bachane ke liye parmeshwar khud apni jaan de aur parmeshwar ka vachan johann 316 me kahata hai ki parmeshwar ne jagat se itna pyar kiya ki apna eklauta putra de diya yeshu khrist ko jo koi vishwas kare vaah naash na ho yani ki nark me na jaaye lekin anandi gyaneshwar ka barish ho isliye jo ko yeshu khrist par bharoso kyon karta hai paap chaman phir aata hai aur apna jeevan pavitra jeevan jita hai vaah unko prabhu yeshu khrist nak me nahi daalenge aur 1 din prabhu yeshu khrist aane waale hain aur prashikshit ne kaha main dusri baar aaunga usse pehle tum mere chale jaane se banana sikhe banana ka matlab yah hai ki vaah log paap nahi karni chahiye vaah kisi insaan ki bura bhi nahi karna chahiye vaah jhuth nahi bolna chahiye chori nahi karni chahiye har insaan ek dusre ko pyar karna chahiye lekin aaj phir bhi duniya me bahut saare log hain jo dusre devi devta ko poochhte hain aur aap padhe hue hain

क्योंकि यीशु परमेश्वर का बेटा है परमेश्वर का पुत्र और कैसा खुदा है जो हिंदू और मुसलमान को

Romanized Version
Likes  162  Dislikes    views  2054
WhatsApp_icon
user

Bk Ashok Pandit

आध्यात्मिक गुरु

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको किसने कहा कि हिंदू के देवता भारत में ही सीमित है सर्व भौमिक क्यों नहीं है प्यारे भाइयों और बहनों ऐसा नहीं है लॉर्ड कृष्णा कहा जाता है भारत के अलावा भी अनेकों देशों में देवी देवताओं को मानने वाले हैं उसकी मंदिर है तो ऐसा नहीं कर सकते हैं शिशु की इसी को ही समानता देते हैं नहीं ऐसा नहीं है हिंदू कि जो देवी देवता है उसको भी बहुत ही श्रद्धा भावना से बाहर भारत के बाहर भी याद करते हैं उनसे आशीर्वाद है या अनेक कामनाएं मांगते रहते हैं हिंदू के जो देवी देवता है वह भी सर भवानी की है और जब देवी देवता है इस धरा पर था तो और कोई था ही नहीं है यीशु या और भी जो पे नंबर है वह सब तो बाद में आए हैं सबसे प्राचीन तनातनी है सबसे पुराने से पुराना लेकिन आज यथार्थ न जाने के कारण बाद में जो आए हुए हैं उसको हम ज्यादा महत्व देते हैं परंतु ऐसा नहीं है

aapko kisne kaha ki hindu ke devta bharat me hi simit hai surv bhowmick kyon nahi hai pyare bhaiyo aur bahnon aisa nahi hai lord krishna kaha jata hai bharat ke alava bhi anekon deshon me devi devatao ko manne waale hain uski mandir hai toh aisa nahi kar sakte hain shishu ki isi ko hi samanata dete hain nahi aisa nahi hai hindu ki jo devi devta hai usko bhi bahut hi shraddha bhavna se bahar bharat ke bahar bhi yaad karte hain unse ashirvaad hai ya anek kamanaen mangate rehte hain hindu ke jo devi devta hai vaah bhi sir bhawani ki hai aur jab devi devta hai is dhara par tha toh aur koi tha hi nahi hai yeshu ya aur bhi jo pe number hai vaah sab toh baad me aaye hain sabse prachin tanatani hai sabse purane se purana lekin aaj yatharth na jaane ke karan baad me jo aaye hue hain usko hum zyada mahatva dete hain parantu aisa nahi hai

आपको किसने कहा कि हिंदू के देवता भारत में ही सीमित है सर्व भौमिक क्यों नहीं है प्यारे भा

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  1268
WhatsApp_icon
user

professor Govind Tripathi

Professor(P.hd in mathematics)/Social worker

4:02
Play

Likes  54  Dislikes    views  1014
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  31  Dislikes    views  461
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह प्रक्रिया हमारे हिंदू धर्म पर धर्मात्मा ने बनाई है जबकि ईश्वर एक है एक ही ईश्वर की पूजा होनी चाहिए लेकिन लोगों ने अपने अपने हिसाब से सबको तय किया है तो जूता है भाई हमारे अध्यात्म और धर्म में वह मानते हैं उसको

yah prakriya hamare hindu dharm par dharmatma ne banai hai jabki ishwar ek hai ek hi ishwar ki puja honi chahiye lekin logo ne apne apne hisab se sabko tay kiya hai toh juta hai bhai hamare adhyaatm aur dharm me vaah maante hain usko

यह प्रक्रिया हमारे हिंदू धर्म पर धर्मात्मा ने बनाई है जबकि ईश्वर एक है एक ही ईश्वर की पूज

Romanized Version
Likes  224  Dislikes    views  2953
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि हिंदू देवी देवता जितने भी हैं वह केवल मानव निर्मित ईश्वर हैं इंसानों ने अपनी समझ अपनी बुद्धि के अनुसार उनको रचा है उनकी रचना की है और उनको अपने मन के अनुसार अपने मन की इच्छा के अनुसार रंग दिया और आकार दिया है अगर उनकी शिक्षाओं उनकी बातों उनके जीवन के बारे में गंभीरता से पढ़ा जाए उनके बारे में जान आ जाए तो कोई भी आसानी से जान जाएगा कि यह और कुछ नहीं बल्कि मनगढ़ंत कहानियों का एक पुलिंदा है वहीं जब यीशु मसीह के बारे में बाइबल में पड़े और खुद बाइबल के विषय में जाने तो बाइबल इतनी अद्भुत पुस्तक है इतनी अलौकिक पुस्तक है और यीशु मसीह का जीवन अपने आप में एक ऐसा जीवन यीशु मसीह का है जिसके बारे में अध्ययन करके कोई भी यह जान सकता है कि केवल यीशु मसीह ही जो है वह एक पवित्र परमेश्वर का पुत्र है और खुद पवित्र परमेश्वर है क्योंकि कोई जो अपने आपको ईश्वर कहलाता है उसी उसका जीवन कैसा होना चाहिए यह तभी पता चल सकता है कि जब यीशु मसीह का जीवन की तुलना हिंदू देवी देवताओं से की जाए और इनकी आपस में कोई भी तुलना नहीं है तो आज इसलिए हिंदू देवी देवता जो है वह सिर्फ भारत में ही सीमित है क्योंकि वह सिर्फ लोगों के ब्राह्मणों के द्वारा रचे गए ईश्वर हैं और यीशु मसीह सर्वशक्तिमान परमेश्वर के का इकलौता पुत्र है इसलिए वह सार्वभौमिक है और यीशु मसीह के बिना कोई स्वर्ग नहीं जा सकता यदि कोई अनंत काल के नर्क से बचना चाहे तो उसे यीशु मसीह पर विश्वास करना जरूरी है परमेश्वर आपको आशीष दे गॉड ब्लेस यू अधिक जानकारी के लिए युटुब फेसबुक पर सर्च करें एपोस्टल विनोद कुमार या संपर्क करें 95924 85467

kyonki hindu devi devta jitne bhi hain vaah keval manav nirmit ishwar hain insano ne apni samajh apni buddhi ke anusaar unko racha hai unki rachna ki hai aur unko apne man ke anusaar apne man ki iccha ke anusaar rang diya aur aakaar diya hai agar unki shikshaon unki baaton unke jeevan ke bare me gambhirta se padha jaaye unke bare me jaan aa jaaye toh koi bhi aasani se jaan jaega ki yah aur kuch nahi balki managdhant kahaniyan ka ek pulinda hai wahi jab yeshu masih ke bare me bible me pade aur khud bible ke vishay me jaane toh bible itni adbhut pustak hai itni alaukik pustak hai aur yeshu masih ka jeevan apne aap me ek aisa jeevan yeshu masih ka hai jiske bare me adhyayan karke koi bhi yah jaan sakta hai ki keval yeshu masih hi jo hai vaah ek pavitra parmeshwar ka putra hai aur khud pavitra parmeshwar hai kyonki koi jo apne aapko ishwar kehlata hai usi uska jeevan kaisa hona chahiye yah tabhi pata chal sakta hai ki jab yeshu masih ka jeevan ki tulna hindu devi devatao se ki jaaye aur inki aapas me koi bhi tulna nahi hai toh aaj isliye hindu devi devta jo hai vaah sirf bharat me hi simit hai kyonki vaah sirf logo ke brahmanon ke dwara rache gaye ishwar hain aur yeshu masih sarvshaktimaan parmeshwar ke ka iklauta putra hai isliye vaah sarvabhaumik hai aur yeshu masih ke bina koi swarg nahi ja sakta yadi koi anant kaal ke nark se bachna chahen toh use yeshu masih par vishwas karna zaroori hai parmeshwar aapko aashish de god bless you adhik jaankari ke liye yutub facebook par search kare epostal vinod kumar ya sampark kare 95924 85467

क्योंकि हिंदू देवी देवता जितने भी हैं वह केवल मानव निर्मित ईश्वर हैं इंसानों ने अपनी समझ अ

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  62
WhatsApp_icon
user

Rajkumar

Astrologer

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको यह बता दो स्कूल शुरु होने का जो देता है भगवान श्री कृष्ण के बाहर देश में भी हमारे भगवान श्री कृष्ण के प्रचार-प्रसार बहुत हो रही है और भगवत गीता भारती भगवत गीता का भी बाहर विचार किया जा रहा है

aapko yah bata do school shuru hone ka jo deta hai bhagwan shri krishna ke bahar desh me bhi hamare bhagwan shri krishna ke prachar prasaar bahut ho rahi hai aur bhagwat geeta bharati bhagwat geeta ka bhi bahar vichar kiya ja raha hai

आपको यह बता दो स्कूल शुरु होने का जो देता है भगवान श्री कृष्ण के बाहर देश में भी हमारे भगव

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1467
WhatsApp_icon
user

Dr Pradeep Singh Shaktawat

Asst. Prof. (CS) | Alternative Healing Therapiest

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आपका भ्रम है कि हिंदू देवी देवता भारत तक ही सीमित हैं प्राचीन भारत जो आर्यावर्त नाम से जाना जाता था कंबोडिया थाईलैंड वहां तक इसकी पहुंच थी वहां आज भी आपको मंदिर मिल जाएंगे और आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर भारत में नहीं है विदेश में है और रही बात यीशु की तरह सार्वभौमिक क्यों नहीं है तो हिंदू धर्म ने कभी भी अपने आप को जबरदस्ती फैलाने का काम नहीं किया है ना हिंदू धर्म को धन के द्वारा कभी फैलाया गया है ना हिंदू धर्म को डर के द्वारा फैलाया गया है नहीं हिंदू धर्म को किसी अन्य लालच के द्वारा फैलाया गया है लोग स्वेच्छा से इससे जुड़ते हैं और विदेशों में भी आपको कई सारे हिंदू धर्म के अनुयाई मिल जाएंगे हां मुख्य प्रचलन हमारे देश में इसलिए है क्योंकि इसकी शुरुआत यहीं से हुई थी जो आस्था की गहरी जड़े हैं वह हमारे देश में बाकी हिंदू धर्म के अनुयाई आपको विश्व के कोने कोने में मिल जाएंगे

yah aapka bharam hai ki hindu devi devta bharat tak hi simit hain prachin bharat jo Aryavarta naam se jana jata tha cambodia thailand wahan tak iski pohch thi wahan aaj bhi aapko mandir mil jaenge aur aapko yah jaankar aashcharya hoga ki duniya ka sabse bada mandir bharat me nahi hai videsh me hai aur rahi baat yeshu ki tarah sarvabhaumik kyon nahi hai toh hindu dharm ne kabhi bhi apne aap ko jabardasti felane ka kaam nahi kiya hai na hindu dharm ko dhan ke dwara kabhi faelaya gaya hai na hindu dharm ko dar ke dwara faelaya gaya hai nahi hindu dharm ko kisi anya lalach ke dwara faelaya gaya hai log swachcha se isse judte hain aur videshon me bhi aapko kai saare hindu dharm ke anuyayi mil jaenge haan mukhya prachalan hamare desh me isliye hai kyonki iski shuruat yahin se hui thi jo astha ki gehri jade hain vaah hamare desh me baki hindu dharm ke anuyayi aapko vishwa ke kone kone me mil jaenge

यह आपका भ्रम है कि हिंदू देवी देवता भारत तक ही सीमित हैं प्राचीन भारत जो आर्यावर्त नाम से

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके का हिंदू देवता भारत में कौन सी मिट्टी की तरह क्यों नहीं आपके मन की विचार हैं उसके लिए धन्यवाद क्या संपूर्ण विश्व में आपने यह जानने की कोशिश की है कि भारत के दो परवाने बताएं वह केवल भारत में स्थित है भारत के बाहर नहीं तो मुझे बताओ कि ब्रह्मांड है धरती है आकाश से चैनल है अग्नि क्या यीशु के लिए अलग से अलग करती है भारत की देवताओं के लिए जल थल वायु समथिंग भारत तक सीमित है सोच बदलिए विचार बदल जाएंगे और समस्त देवी-देवता इस्तेमाल हो जाए

aapke ka hindu devta bharat me kaun si mitti ki tarah kyon nahi aapke man ki vichar hain uske liye dhanyavad kya sampurna vishwa me aapne yah jaanne ki koshish ki hai ki bharat ke do parvane bataye vaah keval bharat me sthit hai bharat ke bahar nahi toh mujhe batao ki brahmaand hai dharti hai akash se channel hai agni kya yeshu ke liye alag se alag karti hai bharat ki devatao ke liye jal thal vayu something bharat tak simit hai soch badaliye vichar badal jaenge aur samast devi devta istemal ho jaaye

आपके का हिंदू देवता भारत में कौन सी मिट्टी की तरह क्यों नहीं आपके मन की विचार हैं उसके लि

Romanized Version
Likes  439  Dislikes    views  5716
WhatsApp_icon
user
1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका पिक्चर नहीं हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित है यह सुविधा सार्वभौमिक देवता क्यों नहीं है हिंदू धर्म में जो सबसे प्राचीन धर्म संसार में सबसे प्राचीन धर्म है वह हिंदू धर्म है और भारत एक हिंदू राष्ट्र है वहां पर हिंदू देवी देवताओं का पूजन कर सकता है उनकी आराधना की जाती है काफी टाइम पल्सर का प्राचीन मंदिर है और यीशु मसीह जी है क्रिश्चन जो धर्म है इसको गलत मानसिकता के तरीके से मैं प्रचारक के तरीके से इसको पूरे विश्व में फैलाया जा रहा है बाकी जो हिंदू धर्म में वह कभी भी इस बारे में कभी भी किसी को फोर्स नहीं करता है कि आप हमारा धर्म ग्रहण करो जावद राम चेंज करो ताकि जो इस संदर्भ में मुस्लिम धर्म है यह लोग धर्म प्रचार करते हैं और करते हैं धर्म चेंज करने के लिए तो इस तरीके से जो यीशु क्रिश्चन सॉन्ग यीशु मसीह जी का निवाई है वह उसको पूरे वर्ल्ड में इसको फैलाना चाहते हैं इसलिए यह जो मानसिकता है यह जो गलत मानसिकता है बिल्कुल

namaskar aapka picture nahi hindu devta bharat me kyon simit hai yah suvidha sarvabhaumik devta kyon nahi hai hindu dharm me jo sabse prachin dharm sansar me sabse prachin dharm hai vaah hindu dharm hai aur bharat ek hindu rashtra hai wahan par hindu devi devatao ka pujan kar sakta hai unki aradhana ki jaati hai kaafi time pulsar ka prachin mandir hai aur yeshu masih ji hai christian jo dharm hai isko galat mansikta ke tarike se main prachar ke tarike se isko poore vishwa me faelaya ja raha hai baki jo hindu dharm me vaah kabhi bhi is bare me kabhi bhi kisi ko force nahi karta hai ki aap hamara dharm grahan karo jawad ram change karo taki jo is sandarbh me muslim dharm hai yah log dharm prachar karte hain aur karte hain dharm change karne ke liye toh is tarike se jo yeshu christian song yeshu masih ji ka niwai hai vaah usko poore world me isko faillana chahte hain isliye yah jo mansikta hai yah jo galat mansikta hai bilkul

नमस्कार आपका पिक्चर नहीं हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित है यह सुविधा सार्वभौमिक देवता क्

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  201
WhatsApp_icon
user

Crazera

Blogger/Influencer

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों जैसा कि आपका प्रश्न है कि हिंदू देवता भारत में ही के समय तक विश्व की तरह समय तक नहीं है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि यह या तो आपने अच्छे ढंग से स्टडी नहीं करेगी या फिर आप जानते नहीं है तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि हिंदू देवता हमारे विदेशों में भी बहुत प्रचलित है आपने देखा होगा आप अपने इंडिया में ही देखते होगे इस्कॉन टेंपल सपने देखोगे श्री कृष्ण के जो कि हमारे ही भगवान श्री कृष्ण के टेंपल से सारे के सारे जो विदेशों में आस्ट्रेलिया अमेरिका और कनाडा हुआ हर एक जगह विदेश में जहां पर यीशु के चर्चे सारी जगह कृष्ण के मंदिर देख सकते हैं उसके अलावा अगर आप राजा सिद्धार्थ को जानते होगे जिनको हम अबोध के नाम से भी जानते हैं कि महात्मा बहुत जो कि आपका चीन हो गया जापान हो गया सारी जगह फेमस है और सारे लोग अनुयाई है जितना हम इंडिया में भी उन्हें नहीं मानते उससे ज्यादा विदेशों में लोगों ने मानते हैं आप थाईलैंड में चले जाइए या नहीं जितने भी आपके मोनेस्ट्री वाले प्लेसिस याद देश है वह सभी हमारे बहुत बिच्छू की शैलेश में आते हैं और बहुत को नहीं मानते हैं उसके अलावा मैं आपको बताना चाहूंगा कि अगर आप ब्राजील की साइट जाते हैं तो ब्राजील में हमारे भगवान हनुमान जी के बहुत से मंदिर है और वहां पर लोग हनुमान जी की पूजा भी करते हैं नाइजीरिया में भी हनुमान जी की पूजा होती है उसके अलावा भी ऐसी बहुत सी कंट्री है जहां पर अलग-अलग देवी-देवताओं की पूजा होती है इसके लिए अगर आप ज्यादा जानना चाहते हैं तो आप अपने देवताओं के लिए कभी भी गूगल पर सर्च कर सकते हैं कि हमारे देवी देवताओं के विदेशों में कहां का मंदिर आपको सारी डिटेल मिल जाती है

namaskar doston jaisa ki aapka prashna hai ki hindu devta bharat me hi ke samay tak vishwa ki tarah samay tak nahi hai toh main aapko batana chahunga ki yah ya toh aapne acche dhang se study nahi karegi ya phir aap jante nahi hai toh main aapko batana chahunga ki hindu devta hamare videshon me bhi bahut prachalit hai aapne dekha hoga aap apne india me hi dekhte hoge iskcon temple sapne dekhoge shri krishna ke jo ki hamare hi bhagwan shri krishna ke temple se saare ke saare jo videshon me Australia america aur canada hua har ek jagah videsh me jaha par yeshu ke charche saari jagah krishna ke mandir dekh sakte hain uske alava agar aap raja siddharth ko jante hoge jinako hum abodh ke naam se bhi jante hain ki mahatma bahut jo ki aapka china ho gaya japan ho gaya saari jagah famous hai aur saare log anuyayi hai jitna hum india me bhi unhe nahi maante usse zyada videshon me logo ne maante hain aap thailand me chale jaiye ya nahi jitne bhi aapke monestry waale plesis yaad desh hai vaah sabhi hamare bahut bichhoo ki shailesh me aate hain aur bahut ko nahi maante hain uske alava main aapko batana chahunga ki agar aap brazil ki site jaate hain toh brazil me hamare bhagwan hanuman ji ke bahut se mandir hai aur wahan par log hanuman ji ki puja bhi karte hain nigeria me bhi hanuman ji ki puja hoti hai uske alava bhi aisi bahut si country hai jaha par alag alag devi devatao ki puja hoti hai iske liye agar aap zyada janana chahte hain toh aap apne devatao ke liye kabhi bhi google par search kar sakte hain ki hamare devi devatao ke videshon me kaha ka mandir aapko saari detail mil jaati hai

नमस्कार दोस्तों जैसा कि आपका प्रश्न है कि हिंदू देवता भारत में ही के समय तक विश्व की तरह स

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  717
WhatsApp_icon
user

Rajesh Kumar Pandey

Career Counsellor

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिएगा हिंदू देवता भारत में कृषि में क्या पूछ रहे हैं 1540 नाम धराया जितने भी धर्म है वह नवीन है रामायण काल का 200 साल 15 साल पुराना हिंदू धर्म है तो आप किस को बड़ा मानते हैं हिंदू धर्म सबसे बड़ा धर्म है सबसे पहले धरती पर किसी धर्म का उदय हुआ तीन संस्था का स्क्रीन सा बच्चा का के संस्कार का उदय हुआ तो यह हिंदू है हिंदू धर्म हिंदू धर्म छोड़ दीजिए बहुत कृपया बाद में लेकिन विद्वानों है जो चीज बता दिया और वैसे इंसान रहा है तो बहुत खुशी से झूम कर सकता है सब अच्छे संस्कार संस्कार के साथ हमारे विद्वानों ने कितनी अच्छी-अच्छी चीजें बताइए आज देखिए पूरा विश्व भारत को आजादी डिमांड और करप्शन इंडिया को तो यह तो बनेगा ही खत्म हो जाएगा तो बन जाएगा बहुत बड़ी बात है

dekhiega hindu devta bharat me krishi me kya puch rahe hain 1540 naam dharaya jitne bhi dharm hai vaah naveen hai ramayana kaal ka 200 saal 15 saal purana hindu dharm hai toh aap kis ko bada maante hain hindu dharm sabse bada dharm hai sabse pehle dharti par kisi dharm ka uday hua teen sanstha ka screen sa baccha ka ke sanskar ka uday hua toh yah hindu hai hindu dharm hindu dharm chhod dijiye bahut kripya baad me lekin vidvaano hai jo cheez bata diya aur waise insaan raha hai toh bahut khushi se jhoom kar sakta hai sab acche sanskar sanskar ke saath hamare vidvaano ne kitni achi achi cheezen bataiye aaj dekhiye pura vishwa bharat ko azadi demand aur corruption india ko toh yah toh banega hi khatam ho jaega toh ban jaega bahut badi baat hai

देखिएगा हिंदू देवता भारत में कृषि में क्या पूछ रहे हैं 1540 नाम धराया जितने भी धर्म है वह

Romanized Version
Likes  242  Dislikes    views  2060
WhatsApp_icon
user

Satpal Dahiya

Soldier in Indian Army | Spiritual Guide | Social Worker

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बहुत अच्छा प्रश्न है हिंदू देवता भारत में कृषि मित्र यीशु की तरह सार्वभौम देवता क्यों नहीं है तो आप को संपूर्ण जानकारी के लिए पढ़ना होगा संत रामपाल जी महाराज द्वारा लिखित पुस्तक ज्ञान गंगा और ज्ञान गंगा पुस्तक के अंदर पेज नंबर 20 से पेज नंबर 65 तक जो 45 पेज में सृष्टि रचना है वह पढ़कर आपको ज्ञान हो जाएगा कि देवी देवताओं की क्या पावर है कहां रहते हैं क्या है अभी भी यह अधूरी नॉलेज अधूरा सा प्रश्न कर रहे हम यीशु का तो नामोनिशान भी नहीं है तो इसके लिए आपको जरूर पढ़ें ज्ञान गंगा पुस्तक पेज नंबर 20 से 65 पेज तक और देखें साधना टीवी शाम 7:30 से जियो

ji haan bahut accha prashna hai hindu devta bharat me krishi mitra yeshu ki tarah sarvbhaum devta kyon nahi hai toh aap ko sampurna jaankari ke liye padhna hoga sant rampal ji maharaj dwara likhit pustak gyaan ganga aur gyaan ganga pustak ke andar page number 20 se page number 65 tak jo 45 page me shrishti rachna hai vaah padhakar aapko gyaan ho jaega ki devi devatao ki kya power hai kaha rehte hain kya hai abhi bhi yah adhuri knowledge adhura sa prashna kar rahe hum yeshu ka toh namonishan bhi nahi hai toh iske liye aapko zaroor padhen gyaan ganga pustak page number 20 se 65 page tak aur dekhen sadhna TV shaam 7 30 se jio

जी हां बहुत अच्छा प्रश्न है हिंदू देवता भारत में कृषि मित्र यीशु की तरह सार्वभौम देवता क्य

Romanized Version
Likes  52  Dislikes    views  373
WhatsApp_icon
user

Sunil Kumar Pandey

Editor & Writer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न हिंदू देवता महारथी को सीमित यीशु की तरह क्यों नहीं है एक सनातन संस्कृति से युद्ध हुआ है और उनकी पूजा होती है और छोटी देश है जहां पर हिंदू धर्म को माना जाता है

aapka prashna hindu devta maharathi ko simit yeshu ki tarah kyon nahi hai ek sanatan sanskriti se yudh hua hai aur unki puja hoti hai aur choti desh hai jaha par hindu dharm ko mana jata hai

आपका प्रश्न हिंदू देवता महारथी को सीमित यीशु की तरह क्यों नहीं है एक सनातन संस्कृति से युद

Romanized Version
Likes  137  Dislikes    views  1078
WhatsApp_icon
user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं वहीं उसी की तरह सार्वभौमिक देवता क्यों नहीं है देखिए हिंदुओं में 64 करोड़ देवी देवता हुआ करते हैं और जिसको जो विजेता पसंद आए वह उसकी पूजा किया करता है इसके लिए कोई प्रतिबंध नहीं है और जो क्रिश्चियन ओं में ईसा मसीह को पूजा जाता है हुआ है उनका एक ही देवता हुआ करता है इसलिए उन्होंने ईसा मसीह को उसे निकाल यीशु है वह एक ही देखता हुआ करता है कुछ दिनों में इसलिए उसको ही कोई पूजा करते हैं और हिंदुओं में 64 करोड़ देवी देवता हुआ करते हैं जिसकी जो लगता है वह उसकी पूजा कर सकता है और जो हमारे देवता भी हैं वह स्टार भूमि की दुआ करते हैं जिस किसी की कोई इच्छा हो वह उन्हें पूजा

hindu devta bharat me kyon simit hain wahi usi ki tarah sarvabhaumik devta kyon nahi hai dekhiye hinduon me 64 crore devi devta hua karte hain aur jisko jo vijeta pasand aaye vaah uski puja kiya karta hai iske liye koi pratibandh nahi hai aur jo Christian on me isa masih ko puja jata hai hua hai unka ek hi devta hua karta hai isliye unhone isa masih ko use nikaal yeshu hai vaah ek hi dekhta hua karta hai kuch dino me isliye usko hi koi puja karte hain aur hinduon me 64 crore devi devta hua karte hain jiski jo lagta hai vaah uski puja kar sakta hai aur jo hamare devta bhi hain vaah star bhoomi ki dua karte hain jis kisi ki koi iccha ho vaah unhe puja

हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं वहीं उसी की तरह सार्वभौमिक देवता क्यों नहीं है देखिए

Romanized Version
Likes  195  Dislikes    views  1701
WhatsApp_icon
user

Amit Wanger

Soft Skill Trainer

1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न ऐसे ही है कि इटली के प्राइम मिनिस्टर पूरे विश्व के प्राइम मिनिस्टर क्यों नहीं है अमेरिका के प्रेसिडेंट पूरे वर्ल्ड के प्रेसिडेंट क्यों नहीं है हर रीजन हर एडीए का हर घंटे का अपना एक अलग रिलीजियस सिस्टम है एक बार सेटिंग मेथड है यीशु वेस्टर्न कंट्रीज में वहां के प्रॉपर्टी खुले देवता बोले वह वहां थी वहां के लोगों ने मानते क्योंकि अंग्रेजों ने पूरे वर्ल्ड में राजकीय वृक्ष क्या है विस्तार बारिश नहीं है दुश्मन पर फालतू में कब्जा करना नहीं है दूसरों के प्रॉपर्टी को अपनाना नहीं है ईश्वर की भक्ति में लगे रहना प्रेम का प्रचार करना पूरे विश्व को अपना समझना यह भारत की खासियत है यह सनातन धर्म हिंदू धर्म की खासियत आपके सांसद से सेटिस्फाइड होंगे

aapka prashna aise hi hai ki italy ke prime minister poore vishwa ke prime minister kyon nahi hai america ke president poore world ke president kyon nahi hai har reason har ADA ka har ghante ka apna ek alag rilijiyas system hai ek baar setting method hai yeshu western countries me wahan ke property khule devta bole vaah wahan thi wahan ke logo ne maante kyonki angrejo ne poore world me rajkiya vriksh kya hai vistaar barish nahi hai dushman par faltu me kabza karna nahi hai dusro ke property ko apnana nahi hai ishwar ki bhakti me lage rehna prem ka prachar karna poore vishwa ko apna samajhna yah bharat ki khasiyat hai yah sanatan dharm hindu dharm ki khasiyat aapke saansad se setisfaid honge

आपका प्रश्न ऐसे ही है कि इटली के प्राइम मिनिस्टर पूरे विश्व के प्राइम मिनिस्टर क्यों नहीं

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
user

Ghanshyam Vyas

Cultural Guide & Speaker

2:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू देवता का अर्थ है आर्य सनातन वैदिक संस्कृति जो समूचे विश्व में विद्यमान थी लेकिन जैसे जैसे पापियों का संख्या बल बढ़ते गया वह सिमर सिमर थे भारत तक रह गई है फिर भी विश्व में सभी राष्ट्रों में लगभग किसी न किसी रूप में भगवान को पूजा जाता है अनेक जिन्हें हम विदेशी कहते हैं जबकि हम उन्हें वसुदेव कुटुंबकम की दृष्टि से अपना ही परिवार का सदस्य मानते हैं अर्थात जब हम परमपिता परमेश्वर के संदर्भ में बात करते हैं तो यीशु उनके समान नहीं हो सकते हैं यीशु जो है गौर के एक दूत है अरफात मैसेंजर है इसलिए भगवान और यीशु में बहुत अंतर है और यीशु के मार्ग पर चलने के लिए विगत 2000 वर्षों में जो अनेकों अनेक प्रकार के लोग षड्यंत्र तथा हिंसा फैला कर के वहां ईसाई पंत को स्वीकार करने के लिए बाध्य किया गया है यह निश्चित ही है हमारे लिए विचारणीय है जबकि भगवान अर्थात परमपिता परमेश्वर को मानने वाले कभी या नहीं कहते हैं कि आप इनको मानी है यह हमारे भगवान आपके भी होने चाहिए इस आर्य समाज वैदिक संस्कृति की यही विशेषता रही है जो परमपिता परमेश्वर की शक्तियां विविध रूप में मुलाकात प्रकृति के रूप में पूजी जाती है इसके प्रमाण सभी विश्व में आज भी हमें दिखाई देते हैं परमपिता परमेश्वर द्वारा दी गई जो प्राकृतिक शक्तियां है हम उनके वंदन से उनके पूजन से उनका लाभ ले सकते हैं मगर इन शक्तियों का दोहन करेंगे तो निश्चित ही इस धरती पर मानव जाति का विनाश होगा हो जाएगा जो हमें आप दिख रहा है

hindu devta ka arth hai arya sanatan vaidik sanskriti jo samuche vishwa me vidyaman thi lekin jaise jaise papiyon ka sankhya bal badhte gaya vaah simar simar the bharat tak reh gayi hai phir bhi vishwa me sabhi rashtro me lagbhag kisi na kisi roop me bhagwan ko puja jata hai anek jinhen hum videshi kehte hain jabki hum unhe vasudev kutumbakam ki drishti se apna hi parivar ka sadasya maante hain arthat jab hum parampita parmeshwar ke sandarbh me baat karte hain toh yeshu unke saman nahi ho sakte hain yeshu jo hai gaur ke ek dut hai arafat messenger hai isliye bhagwan aur yeshu me bahut antar hai aur yeshu ke marg par chalne ke liye vigat 2000 varshon me jo anekon anek prakar ke log shadyantra tatha hinsa faila kar ke wahan isai pant ko sweekar karne ke liye badhya kiya gaya hai yah nishchit hi hai hamare liye vicharniya hai jabki bhagwan arthat parampita parmeshwar ko manne waale kabhi ya nahi kehte hain ki aap inko maani hai yah hamare bhagwan aapke bhi hone chahiye is arya samaj vaidik sanskriti ki yahi visheshata rahi hai jo parampita parmeshwar ki shaktiyan vividh roop me mulakat prakriti ke roop me pooji jaati hai iske pramaan sabhi vishwa me aaj bhi hamein dikhai dete hain parampita parmeshwar dwara di gayi jo prakirtik shaktiyan hai hum unke vandan se unke pujan se unka labh le sakte hain magar in shaktiyon ka dohan karenge toh nishchit hi is dharti par manav jati ka vinash hoga ho jaega jo hamein aap dikh raha hai

हिंदू देवता का अर्थ है आर्य सनातन वैदिक संस्कृति जो समूचे विश्व में विद्यमान थी लेकिन जैसे

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  385
WhatsApp_icon
user

Kaushik Chaitnya

Spiritual expert

1:35
Play

Likes  8  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
play
user
1:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किसने कहा कि हिंदू देवी देवता भारत के अलावा विश्व में चाहिए थोड़ा विश्व के भौगोलिक ज्ञान को आपको देखने मिलेगा कि भारत के अलावा भारत के आस-पास में ही देशों में नेपाल भूटान थाईलैंड श्रीलंका सिंगापुर अरब अमीरात पाकिस्तान चाइना आदि देशों में इसके अलावा आपको साउथ अफ्रीका अमेरिका रशिया सभी जगह हिंदू देवी देवताओं को मुख्य मंदिर और वहां पर उनकी पूजन अर्चन आदि के बारे में जानकारी आपने सोच के शिशु के बारे में जानकारी रखें इसी प्रकार से आना चाहिए

kisne kaha ki hindu devi devta bharat ke alava vishwa mein chahiye thoda vishwa ke bhaugolik gyaan ko aapko dekhne milega ki bharat ke alava bharat ke aas paas mein hi deshon mein nepal bhutan thailand sri lanka singapore arab amirat pakistan china aadi deshon mein iske alava aapko south africa america rashiya sabhi jagah hindu devi devatao ko mukhya mandir aur wahan par unki pujan archan aadi ke bare mein jaankari aapne soch ke shishu ke bare mein jaankari rakhen isi prakar se aana chahiye

किसने कहा कि हिंदू देवी देवता भारत के अलावा विश्व में चाहिए थोड़ा विश्व के भौगोलिक ज्ञान क

Romanized Version
Likes  102  Dislikes    views  2045
WhatsApp_icon
user

Karan Janwa

Automobile Engineer

2:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने जो ईसाई धर्म है वह चाय पीने में फैला पाए इसके पीछे भी एक बजा है और वह बताइए कि जब उपनिवेश काल था तो वो पर पंडित पोपताची धर्म को कोई देश को गुलाम बनाने के बाद बनाना शुरु कर देते हो इसलिए उम्मीद नहीं है क्योंकि भाजपा ने किसी दूसरे देश को गुलाम नहीं बनाया भारत को गुलाम बना दो लोगों को गजब चेंज करने पर उसका लेकिन भारतीयों ने ऐसा कभी नहीं किया लेकिन इसाई धर्म था वह सभी देशों में फैला एशिया अफ्रीका यूरोप और अमेरिका इन सभी महाद्वीपों में ईसाई मिशनरी थे तो पूरे वर्ल्ड में फैल गए और हिंदुस्तान एक साथी है एक साथ रखे हैं वह साहिब दुनिया में निकले हुए हैं लेकिन ऐसा नहीं है उसे अपने गौतम बुद्ध ने गोविंद भी मानते हैं वह चाइना हांगकांग जापान और सिंगापुर इन सभी देशों में श्रीलंका में और अपने जो गणेश जी गणेश जी की मूर्तियां भी उनके देश हैं कंबोडिया है वहां पर भगवान विष्णु का मंदिर है अचिंग गुफाएं हैं जो हीरो की देश है वहां पर भी भगवान राम मूर्ति अभी मिले हैं सभी देवी देवताओं का नाम चेंज कर दिया गया ऐसा नहीं कि शाहरुख होगी कि नहीं है

apne jo isai dharm hai vaah chai peene mein faila paye iske peeche bhi ek baja hai aur vaah bataye ki jab upnivesh kaal tha toh vo par pandit poptachi dharm ko koi desh ko gulam banane ke baad banana shuru kar dete ho isliye ummid nahi hai kyonki bhajpa ne kisi dusre desh ko gulam nahi banaya bharat ko gulam bana do logo ko gajab change karne par uska lekin bharatiyon ne aisa kabhi nahi kiya lekin isai dharm tha vaah sabhi deshon mein faila asia africa europe aur america in sabhi mahadweepo mein isai missionary the toh poore world mein fail gaye aur Hindustan ek sathi hai ek saath rakhe hain vaah sahib duniya mein nikle hue hain lekin aisa nahi hai use apne gautam buddha ne govind bhi maante hain vaah china hongkong japan aur singapore in sabhi deshon mein sri lanka mein aur apne jo ganesh ji ganesh ji ki murtiya bhi unke desh hain cambodia hai wahan par bhagwan vishnu ka mandir hai aching gufayen hain jo hero ki desh hai wahan par bhi bhagwan ram murti abhi mile hain sabhi devi devatao ka naam change kar diya gaya aisa nahi ki shahrukh hogi ki nahi hai

अपने जो ईसाई धर्म है वह चाय पीने में फैला पाए इसके पीछे भी एक बजा है और वह बताइए कि जब उपन

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  282
WhatsApp_icon
user

Shashi

Author, Spiritual Blogger

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू बेटा भारत की सूची मैट्रिक का क्वेश्चन है जो हिंदू धर्म के तरीके से हम लोग साक्षी को मानना चाहिए और यह हिंदू धर्म की विशेषता है कि अगर और जो आपके अंदर विश्वास है आप अगर बेवकूफी लेकर देवी देवता को मानते हैं कि आपका विचारधारा से जुड़ने की इच्छा हिंदू धर्म में कभी भी नहीं है इसको इसकी तुलना करो यीशु ऑफ बर्थ और बाकी और विचारधारा के बहाना देना चाहते थे कि की आवश्यकता नहीं है और जैसा कि अगर जो आपके अंदर उसके धार्मिक विचारधारा से जुड़ना एक अपने आप में ही बहुत गलत बात होती है और काफी अच्छा लगता है कि यह हम लोग किसी को जबरदस्ती नहीं करते

hindu beta bharat ki suchi metric ka question hai jo hindu dharm ke tarike se hum log sakshi ko manana chahiye aur yah hindu dharm ki visheshata hai ki agar aur jo aapke andar vishwas hai aap agar bewakoofi lekar devi devta ko maante hain ki aapka vichardhara se judne ki iccha hindu dharm mein kabhi bhi nahi hai isko iski tulna karo yeshu of birth aur baki aur vichardhara ke bahana dena chahte the ki ki avashyakta nahi hai aur jaisa ki agar jo aapke andar uske dharmik vichardhara se judna ek apne aap mein hi bahut galat baat hoti hai aur kaafi accha lagta hai ki yah hum log kisi ko jabardasti nahi karte

हिंदू बेटा भारत की सूची मैट्रिक का क्वेश्चन है जो हिंदू धर्म के तरीके से हम लोग साक्षी को

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1274
WhatsApp_icon
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू अर्थात सनातन धर्म के लोग हिंदुस्तान में ही सिमटे हुए हैं इसके विपरीत इस्लाम और ईसाइयत विश्व के बहुत बड़े भूभाग में फैली हुई इसीलिए यीशु मसीह को जहां जहां ईसाई रहते हैं वहां माना जाता है हिंदू देवी देवता केवल हमारे आर्यावर्त में ही सिमट कर रह जाए क्योंकि हम हिंदू लोग यहां पर सुनते हैं हमारे अलावा और विश्व में कहीं भी कोई हिंदुओं की इतनी बड़ी आबादी एक साथ नहीं रहती

hindu arthat sanatan dharm ke log Hindustan mein hi simte hue hain iske viprit islam aur isaiyat vishwa ke bahut bade bhubhag mein faili hui isliye yeshu masih ko jaha jahan isai rehte hain wahan mana jata hai hindu devi devta keval hamare Aryavarta mein hi simat kar reh jaaye kyonki hum hindu log yahan par sunte hain hamare alava aur vishwa mein kahin bhi koi hinduon ki itni badi aabadi ek saath nahi rehti

हिंदू अर्थात सनातन धर्म के लोग हिंदुस्तान में ही सिमटे हुए हैं इसके विपरीत इस्लाम और ईसाइय

Romanized Version
Likes  50  Dislikes    views  994
WhatsApp_icon
user

Rasbihari Pandey

लेखन / कविता पाठ

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह आपके मन का भ्रम है भारत में यीशु को मानने वाले बहुत कम हैं भारत में कितने चर्च हैं अगर उस तरह से देखे आप तो हर धर्म के मानने वाले कुछ खास जगहों पर ही हैं भारत का हिंदू धर्म जो है वह सनातन धर्म है यह कब से शुरू हुआ कोई नहीं बता सकता यीशु के बारे में आप बता सकते हैं कि कब पैदा हुए कहां पैदा हुए उनके मानने वाले कब से शुरू हुए

yah aapke man ka bharam hai bharat mein yeshu ko manne waale bahut kam hain bharat mein kitne church hain agar us tarah se dekhe aap toh har dharm ke manne waale kuch khaas jagaho par hi hain bharat ka hindu dharm jo hai vaah sanatan dharm hai yah kab se shuru hua koi nahi bata sakta yeshu ke bare mein aap bata sakte hain ki kab paida hue kahaan paida hue unke manne waale kab se shuru hue

यह आपके मन का भ्रम है भारत में यीशु को मानने वाले बहुत कम हैं भारत में कितने चर्च हैं अगर

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  269
WhatsApp_icon
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

2:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित में भी यीशु की तरह सार्वभौमिक देवता क्यों नहीं कि कोई भी देवता या कोई भी धर्म होगा उसके मानने वालों से बढ़ता है उसके मानने वाले ज्यादा है तो वह हर जगह होगा यदि आप ईसाई धर्म पर गौर करें तो उस को मानने वाले पूरे विश्व में है क्योंकि आजादी से पहले जब अन्य देशों पर ब्रिटेन का कब्जा था तो वह आर्थिक के साथ-साथ धार्मिक लोगों को बना रहे थे वह जबरदस्ती लोगों के धर्म परिवर्तन करवा रहे थे तो एक ऐसा भी समय था जब लोगों ने आज भी आप देखते ही सही मशीनरी धर्म परिवर्तन कर आते हैं पूरे विश्व में ईसाई धर्म की आबादी बढ़ी तो जिस धर्म की आबादी बढ़ेगी निश्चित रूप से उस धर्म के देवता को मानने वाले लोग बढ़ेंगे वह कोई भी धर्म आबादी जिसकी ज्यादा विश्वा विकास को ज्यादा मानेंगे अभी आप हिंदू धर्म को देखें तो हिंदू धर्म इंडिया तक सीमित रहा है पहले हालांकि अब हिंदू धर्म के लोग पूरे विश्व में फैले हैं तो वह वहां मनाते हैं चाहे वह ब्रिटेन हो अमेरिका हो रूसो जहां धर्म के लोग पहुंचेंगे वह अपने धर्म को मानेंगे पर किसी भी देवता को मारने का निर्भर करता है उस धर्म के लोग कितने हैं उस जगह आवाज की डेट में आप देख सकते हिंदू धर्म के लोग पूरे विश्व में फैले हैं तो पूरे विश्व में मनाते हैं वह लेकिन अब यदि आपके काहे के दूसरे धर्म के लोग मानेंगे तो नहीं मानेंगे कि उन्हें जानकारी ही नहीं हर व्यक्ति अपना धर्म मानता है उसी की जिंदू देर में ऐसा नहीं था कि जबरदस्ती प्यार के दम पर धर्म परिवर्तन कराकर पूरे विश्व में फैलाने की कोशिश की गई जो ऐसा हिंदू धर्म में कभी नहीं रहा तो इसलिए निश्चित रूप से भारत के बाहर नहीं खेल पाया हालांकि पिछले 10 वर्षों में अभी आप देखें तो जिस कदर इंडिया से लोग विश्व में गए हैं तो अपने आप ही धर्म फैलाए पर मानने वाले वही है जो इंडियन से क्योंकि किसी भी धर्म को कितने मानने वाले लोग हैं उन पर निर्भर करता है तो दूसरा नहीं मानता उस धर्म को साथ ही इसके अलावा एक इंडिया में एक कल्चर और है यदि आप भारतीय संस्कृति के देखेंगे कि भारतीय संस्कृति हर धर्म को मानते हैं ईसा मसीह का चर्च भी हुआ तो भारत के लोग उसमें हिंदू लोग वहां भी चले जाएंगे अन्य धर्मों के लोग ऐसा नहीं करते वह सब अपने धर्म को मानते हैं इसलिए हर धर्म की अलग-अलग परंपराएं हैं अलग-अलग नीतियां हैं और जिस धर्म के लोग ज्यादा स्वागत और धर्म के देवता को ज्यादा माना जाएगा तो निश्चित रूप से हिंदू धर्म के संकेत नहीं है पूरे विश्व में जितनी कृष 3 की लड़ाई ईसाई धर्म की है तो इसीलिए इतने ज्यादा नहीं माने जाते जहां हैं वहां मानते हैं

aapka prashna hai hindu devta bharat me kyon simit me bhi yeshu ki tarah sarvabhaumik devta kyon nahi ki koi bhi devta ya koi bhi dharm hoga uske manne walon se badhta hai uske manne waale zyada hai toh vaah har jagah hoga yadi aap isai dharm par gaur kare toh us ko manne waale poore vishwa me hai kyonki azadi se pehle jab anya deshon par britain ka kabza tha toh vaah aarthik ke saath saath dharmik logo ko bana rahe the vaah jabardasti logo ke dharm parivartan karva rahe the toh ek aisa bhi samay tha jab logo ne aaj bhi aap dekhte hi sahi machinery dharm parivartan kar aate hain poore vishwa me isai dharm ki aabadi badhi toh jis dharm ki aabadi badhegi nishchit roop se us dharm ke devta ko manne waale log badhenge vaah koi bhi dharm aabadi jiski zyada vishva vikas ko zyada manenge abhi aap hindu dharm ko dekhen toh hindu dharm india tak simit raha hai pehle halaki ab hindu dharm ke log poore vishwa me failen hain toh vaah wahan manate hain chahen vaah britain ho america ho ruso jaha dharm ke log pahunchenge vaah apne dharm ko manenge par kisi bhi devta ko maarne ka nirbhar karta hai us dharm ke log kitne hain us jagah awaaz ki date me aap dekh sakte hindu dharm ke log poore vishwa me failen hain toh poore vishwa me manate hain vaah lekin ab yadi aapke kaahe ke dusre dharm ke log manenge toh nahi manenge ki unhe jaankari hi nahi har vyakti apna dharm maanta hai usi ki jindu der me aisa nahi tha ki jabardasti pyar ke dum par dharm parivartan karakar poore vishwa me felane ki koshish ki gayi jo aisa hindu dharm me kabhi nahi raha toh isliye nishchit roop se bharat ke bahar nahi khel paya halaki pichle 10 varshon me abhi aap dekhen toh jis kadar india se log vishwa me gaye hain toh apne aap hi dharm failayen par manne waale wahi hai jo indian se kyonki kisi bhi dharm ko kitne manne waale log hain un par nirbhar karta hai toh doosra nahi maanta us dharm ko saath hi iske alava ek india me ek culture aur hai yadi aap bharatiya sanskriti ke dekhenge ki bharatiya sanskriti har dharm ko maante hain isa masih ka church bhi hua toh bharat ke log usme hindu log wahan bhi chale jaenge anya dharmon ke log aisa nahi karte vaah sab apne dharm ko maante hain isliye har dharm ki alag alag paramparayen hain alag alag nitiyan hain aur jis dharm ke log zyada swaagat aur dharm ke devta ko zyada mana jaega toh nishchit roop se hindu dharm ke sanket nahi hai poore vishwa me jitni krish 3 ki ladai isai dharm ki hai toh isliye itne zyada nahi maane jaate jaha hain wahan maante hain

आपका प्रश्न है हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित में भी यीशु की तरह सार्वभौमिक देवता क्यों

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  1652
WhatsApp_icon
user

Harish Chand

Social Worker

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदू देवता भारत में कृषि मित्र देशों की तरह 4 घंटे तक क्यों नहीं है तो मित्र एक बात बता दूं जो ईसा मसीह यीशु जिनके बारे में आप कह रहे हो वह देखता नहीं पहली बात वह महापुरुष रहे हैं और लोगों ने उनकी नीतियों का अनुसरण किया है और हिंदू देवी देवता देवी देवता जो है वह सनातन धर्म से चली आ रही है यीशु जी का आप देखिए आपको हिस्ट्री मिल जाएगी किंतु 5000 साल पुराना इतिहास से यह कितना है लेकिन हिंदू देवी देवताओं का हमारे पास जो आज है उसका आज की आज भी उत्पत्ति का कारण पता नहीं है अनंत काल से चली आ रही है अगर आप 5000 साल पहले देखोगे तो पूरे विश्व के अंदर दुनिया के अंदर हिंदू रीति रिवाज के आज भी मूर्तियां शिवलिंग दुनिया के विभिन्न देशों में जमीन खोदने पर पाई जा रहे हैं आशा है कि आपको इसका उत्तर समझ में आ गया होगा किसी और को हम उसकी आवश्यकता हो तो आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं

hindu devta bharat mein krishi mitra deshon ki tarah 4 ghante tak kyon nahi hai toh mitra ek baat bata doon jo isa masih yeshu jinke bare mein aap keh rahe ho vaah dekhta nahi pehli baat vaah mahapurush rahe hain aur logo ne unki nitiyon ka anusaran kiya hai aur hindu devi devta devi devta jo hai vaah sanatan dharm se chali aa rahi hai yeshu ji ka aap dekhiye aapko history mil jayegi kintu 5000 saal purana itihas se yah kitna hai lekin hindu devi devatao ka hamare paas jo aaj hai uska aaj ki aaj bhi utpatti ka karan pata nahi hai anant kaal se chali aa rahi hai agar aap 5000 saal pehle dekhoge toh poore vishwa ke andar duniya ke andar hindu riti rivaaj ke aaj bhi murtiya shivling duniya ke vibhinn deshon mein jameen khodne par payi ja rahe hain asha hai ki aapko iska uttar samajh mein aa gaya hoga kisi aur ko hum uski avashyakta ho toh aap mujhse sampark kar sakte hain

हिंदू देवता भारत में कृषि मित्र देशों की तरह 4 घंटे तक क्यों नहीं है तो मित्र एक बात बता द

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  420
WhatsApp_icon
user
1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है हिंदुत्व एकता भारत पर ही कैसी में चाहिए यशु की तरह सर्व होगी तब पता नहीं है कि मैं आपको पता है सब पहले ही पूरा पार्ट जो है सनातन धर्म इंसानियत कोई धर्म है ना मैं हूं इस्लाम की तरह में सिर्फ हिंदुत्व का वास होता है जब देख रहे हो आप सनातन धर्म चला है इसका एक ट्रांसफर पर इन्होंने क्या प्रचार प्रसार जोहरा बाई फिल्म किस पर अगर आप बाय पीजी कॉलेज चित्र पढ़ोगे तो पता पड़ेगा यह गीता के सहारे रानीपुरा के चाहिए गीत लिखा है तो सब एक ही था चलाने के लिए अभियान चलाने के लिए एक आतंकी और किसने काम कि यह गैंग बाजी हुई है और कुछ नहीं साहब इस छोटे हीरो और ओपन देखना चाहे उसको जस्ट ओपन गैंग के पर इसका गैंग इसका क्या ऐसा ही है कोई यह नहीं कहता कि मैं को जानो

aapka prashna hai hindutv ekta bharat par hi kaisi mein chahiye yashu ki tarah surv hogi tab pata nahi hai ki main aapko pata hai sab pehle hi pura part jo hai sanatan dharm insaniyat koi dharm hai na main hoon islam ki tarah mein sirf hindutv ka was hota hai jab dekh rahe ho aap sanatan dharm chala hai iska ek transfer par inhone kya prachar prasaar zohra bai film kis par agar aap bye PG college chitra padhoge toh pata padega yah geeta ke sahare ranipura ke chahiye geet likha hai toh sab ek hi tha chalane ke liye abhiyan chalane ke liye ek aatanki aur kisne kaam ki yah gang baazi hui hai aur kuch nahi saheb is chote hero aur open dekhna chahen usko just open gang ke par iska gang iska kya aisa hi hai koi yah nahi kahata ki main ko jano

आपका प्रश्न है हिंदुत्व एकता भारत पर ही कैसी में चाहिए यशु की तरह सर्व होगी तब पता नहीं है

Romanized Version
Likes  104  Dislikes    views  1186
WhatsApp_icon
user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

4:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मित्र आपका बड़ा अजीब सा प्रश्न हमारे ख्याल से हिंदू धर्म को आपने देखने परखने समझने की चेष्टा नहीं की है हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं अरे यह देश तो वैसा है कि जिंदगी में जान भी दे रही है देवता की परिकल्पना कर बैठा अगर आप देखें तो शायद देश की आबादी उतनी नहीं होगी जितना बेस में देवता है लोक देवता से लेकर के और आध्यात्मिक देवता तक देवताओं की संख्या संख्या यार घर परिवार के आगे पीछे देवताओं और हमारे सभी कर्मों में कहीं न कहीं देवता बैठा हुआ है बिना देवता के दम कोई काम ही नहीं करते हैं अगर कोई काम भी हो जाए तो बस सीधे-सीधे भगवान की कृपा है काम को करनी है भगवान आते हैं आदमी तो करता ही नहीं आदमी मर गया तो भी भगवान का नाम लेते हुए लोग चलते रास्ते में राम नाम सत्य है 13 दिनों तक फिर देवताओं को याद किया जाता है माता देवता पिता देवता गुरु देवता गाय देवता जो पहले वह देवता देवता ही देवता है रात करें कि यीशु की तरह सार्वभौमिक का मतलब होता है कि समूची भूमा बहिष्कार अगर आप पर लेते हैं कि हर देश में मिल जाते हैं यीशु को मानने वाले तो ध्यान रखें उसका कारण है कि हो सकता है कि अंग्रेज जहां-जहां गए हैं वह अपनी आशाएं लेकर के गए हैं मुसलमान जहां जाके अपनी आशाएं लेकर के गए हैं तो धर्म केवल किसी जाति विशेष का वर्ग विशेष का प्रमाण पत्र नहीं है धर्म एक अर्थ में इंसान को जिंदा रखने के लिए विसंगतियों से संघर्ष करने के बाद निराश होने पर आता होने से बचाने वाला माध्यम है अगर यीशु सार्वभौमिक देवता हैं तो केवल इस कारण कि जहां-जहां अंग्रेज के यहां यीशु अंग्रेज बस के तो हिसुआ में विराजमान हैं और होना भी चाहिए अपनी आशाएं आदमी को रखनी चाहिए किसी कारण तो किसी आधार पर उसके मन में राक्षस का निवास सुनाओ इसके लिए देवता बरसा रहे तो ज्यादा अच्छा है अब हिंदू धर्म की बात तो हिंदू धर्म जो है उसके देवता सार्वभौमिक तो छोड़ दीजिए वह तो हमारी ख्याल से सांसो में ही बसे हुए हैं हमारे यहां तो यह स्थिति कही गई है कि सब कुछ छोड़ कर के और भगवान की शरण में चले जाएंगे राजा जनक जैसे व्यक्ति हुए हैं जो अपने परिवार को पाल पोस कर के बाल बच्चे पैदा करके भी कहा जाता निर्लिप्त रहे हैं तो यह ऐसे प्रश्न जो है अब इसके बारे में तो हम आप को क्या जवाब दें हमारे देवता जो हैं वह सार्वभौमिक और हिंदू कि जहां-जहां गए हैं कोई विषय में तो केवल हमारे हनुमान जी को देख लीजिए इनका बेचारे का स्वरूप अभी तक नहीं बदला है जहां भी कोई हिंदू गया है वहां वह विराजमान है और एक छोटी सी पुस्तक जो 40 पंक्तियों के हनुमान चालीसा को भारत के तो मंदिर को छोड़िए विश्व में जहां भी हिंदू हैं चुनिंदा टोबैको सुरीनाम समय आप खोज जारी है तो वहां मिलेंगे तो हमारे हिंदू देवता भी जो हैं यीशु की तरह परभणी देवता है ईसाईयों की उन पर आस्था है उनसे उन्हें जीवन संदर्भों में प्रेरणा मिलती है मुसलमानों को पैगंबर साहब दे खुदा के नाम पर मिलती है और हमें हमें अपने देवताओं के नाम पर मिलती रामकृष्ण मारे तो देवताओं की संख्या भी दिन आना बड़ा मुश्किल और लोग नाराज हो जाएं कि अगर हम किसी एक की बात करें हम साक्षी की बात करें कि संयोग की बात करेंगे वैष्णो की बात हिंदू धर्म के तो रक्त में बसा हुआ है और हिंदू सबसे ज्यादा डरता भी तो देवताओं से डरता है उसके सारे काम भी देवता ही करते हो बेटा पैदा हुआ भगवान की कृपा है बेटे की कोई भूमिका ही नहीं होती है तो थोड़ा सा इस धर्म को भी समझने की कोशिश करें धर्म प्राण तत्व है वह सभी का है और मेरे विचार से कुछ गंदे लोग हैं जिन्होंने धार्मिक विचारों को एक दूसरे के लिए बाधक बना दिया और आपस में विवाद करते रहते अन्यथा धर्म ए जिंदगी के लिए जिंदगी की रस्में ता के लिए जिजीविषा के लिए प्राण तत्व है उस सभी जाति संप्रदाय के लिए एक उचित है तो मेरे विचार से ऐसे प्रश्न का कोई आधार नहीं थैंक यू

mitra aapka bada ajib sa prashna hamare khayal se hindu dharm ko aapne dekhne parkhane samjhne ki cheshta nahi ki hai hindu devta bharat mein kyon simit hain are yah desh toh waisa hai ki zindagi mein jaan bhi de rahi hai devta ki parikalpana kar baitha agar aap dekhen toh shayad desh ki aabadi utani nahi hogi jitna base mein devta hai lok devta se lekar ke aur aadhyatmik devta tak devatao ki sankhya sankhya yaar ghar parivar ke aage peeche devatao aur hamare sabhi karmon mein kahin na kahin devta baitha hua hai bina devta ke dum koi kaam hi nahi karte hain agar koi kaam bhi ho jaaye toh bus seedhe seedhe bhagwan ki kripa hai kaam ko karni hai bhagwan aate hain aadmi toh karta hi nahi aadmi mar gaya toh bhi bhagwan ka naam lete hue log chalte raste mein ram naam satya hai 13 dino tak phir devatao ko yaad kiya jata hai mata devta pita devta guru devta gaay devta jo pehle vaah devta devta hi devta hai raat kare ki yeshu ki tarah sarvabhaumik ka matlab hota hai ki samuchi bhuma bahishkar agar aap par lete hain ki har desh mein mil jaate hain yeshu ko manne waale toh dhyan rakhen uska karan hai ki ho sakta hai ki angrej jaha jahan gaye hain vaah apni ashaen lekar ke gaye hain muslim jaha jake apni ashaen lekar ke gaye hain toh dharm keval kisi jati vishesh ka varg vishesh ka pramaan patra nahi hai dharm ek arth mein insaan ko zinda rakhne ke liye visangatiyon se sangharsh karne ke baad nirash hone par aata hone se bachane vala madhyam hai agar yeshu sarvabhaumik devta hain toh keval is karan ki jaha jahan angrej ke yahan yeshu angrej bus ke toh hisua mein viraajamaan hain aur hona bhi chahiye apni ashaen aadmi ko rakhni chahiye kisi karan toh kisi aadhar par uske man mein rakshas ka niwas sunao iske liye devta barsa rahe toh zyada accha hai ab hindu dharm ki baat toh hindu dharm jo hai uske devta sarvabhaumik toh chod dijiye vaah toh hamari khayal se saanso mein hi base hue hain hamare yahan toh yah sthiti kahi gayi hai ki sab kuch chod kar ke aur bhagwan ki sharan mein chale jaenge raja janak jaise vyakti hue hain jo apne parivar ko pal pos kar ke baal bacche paida karke bhi kaha jata nirlipt rahe hain toh yah aise prashna jo hai ab iske bare mein toh hum aap ko kya jawab de hamare devta jo hain vaah sarvabhaumik aur hindu ki jaha jahan gaye hain koi vishay mein toh keval hamare hanuman ji ko dekh lijiye inka bechaare ka swaroop abhi tak nahi badla hai jaha bhi koi hindu gaya hai wahan vaah viraajamaan hai aur ek choti si pustak jo 40 panktiyon ke hanuman chalisa ko bharat ke toh mandir ko chodiye vishwa mein jaha bhi hindu hain chuninda tobaiko surinam samay aap khoj jaari hai toh wahan milenge toh hamare hindu devta bhi jo hain yeshu ki tarah parabhani devta hai isaiyon ki un par astha hai unse unhe jeevan sandarbhon mein prerna milti hai musalmanon ko paigambar saheb de khuda ke naam par milti hai aur hamein hamein apne devatao ke naam par milti ramakrishna maare toh devatao ki sankhya bhi din aana bada mushkil aur log naaraj ho jaye ki agar hum kisi ek ki baat kare hum sakshi ki baat kare ki sanyog ki baat karenge vaishno ki baat hindu dharm ke toh rakt mein basa hua hai aur hindu sabse zyada darta bhi toh devatao se darta hai uske saare kaam bhi devta hi karte ho beta paida hua bhagwan ki kripa hai bete ki koi bhumika hi nahi hoti hai toh thoda sa is dharm ko bhi samjhne ki koshish kare dharm praan tatva hai vaah sabhi ka hai aur mere vichar se kuch gande log hain jinhone dharmik vicharon ko ek dusre ke liye badhak bana diya aur aapas mein vivaad karte rehte anyatha dharm a zindagi ke liye zindagi ki rasmen ta ke liye jijivisha ke liye praan tatva hai us sabhi jati sampraday ke liye ek uchit hai toh mere vichar se aise prashna ka koi aadhar nahi thank you

मित्र आपका बड़ा अजीब सा प्रश्न हमारे ख्याल से हिंदू धर्म को आपने देखने परखने समझने की चेष्

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  299
WhatsApp_icon
user

Narendra Bhardwaj

Spirituality Reformer

3:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महोदय आपने पूछा हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं वे यीशु की तरह सार मोहम्मद देता क्यों नहीं ऐसी बात नहीं है आज विश्व के अंदर इस्कॉन नाम की संस्था है उसका मतलब है इंटरनैशनल सबकॉन्शसनेस ऑफ कृष्णा हिंदू देवता आज राधा कृष्ण के बंद कहां नहीं है अमेरिका में जर्मनी में इटली में कहां नहीं है आप हिंदू धर्म को इतना छोटा कैसे मान सकते हैं वैसे तो इस पृथ्वी पर मात्र मात्र एक ही देवता हुआ करते थे कालांतर में जब से ईसाई धर्म आया जब से मुस्लिम धर्म आया जब से बौद्ध और जैन धर्म आया तब से अन्य धर्मों का प्रकट हुआ इससे पहले तो सिर्फ और सिर्फ एक ही धर्म हुआ करता था हिंदू धर्म देवता हुआ करते थे जो हिंदू धर्म में पूजे जाते थे और इवन सिंधु घाटी की सभ्यता में भी शिव पूजा के प्रमाण मिले हैं शिवलिंग मिला है बैल की मूर्ति मिली है नंदी की मूर्ति मिली है तुझसे पूजा का प्रमाण है अभी इंडस वैली सविता है सिंधु घाटी की सभ्यता वह बहुत प्राचीन सभ्यताओं में से एक है तो वहां तो सिर्फ और सिर्फ एक ही धर्म की बात आई है कि लोग पहले शिव की पूजा करते थे तो ऐसी बात नहीं है ऐसे ही सार्वभौमिक है आज हिंदू धर्म भी सब जगह है और हिंदू धर्म के मानने वाले देवताओं भी सभी जगह श्रीलंका में है पाकिस्तान में है कहां नहीं है यह तो एक अलौकिक बात हो गई मानने वाले लोग हैं लेकिन यह जो हिंदू धर्म का मैसेज है या हिंदू धर्म के ईश्वर का जो वह है वह क्या है हरि व्यापक सर्वत्र प्रेम से प्रगट हुई में जाना हिंदू धर्म किसी राष्ट्र की सीमा में नहीं बांधा है हिंदू धर्म तो सनातन धर्म का जो सिद्धांत है जो सोच है वह बहुत विशाल है बहुत विराट है तो सभी जगह सब में ईश्वर देखता है ऐसा धर्मों में नहीं है हिंदू धर्म के देवी देवताओं को आमंत्रित किया उन तक सीमित मत रखो कि सनातन धर्म का जो विचार है वह बहुत बहुत विशाल है उसमें सारे धर्म समाज सकते हैं क्योंकि एक हिंदू धर्म है जो वसुधैव कुटुंबकम की बात करता है वह किसी एक धर्म की बात नहीं वह सर सभी जीवो के लिए कल्याण की बात करता है तो हिंदू देवता भारत में सीमित नहीं है वह सर्वत्र हैं और जो हिंदू लोग अपने सनातन धर्म की गहराइयों में है उन्हें पता है कि ईश्वर सभी जगह समान रूप से व्याप्त है यदि वह आदमी अमेरिका रह रहा है तो उसे पता है कि मैं ईश्वर की सा ईश्वर मैं हूं तो इससे क्या फर्क पड़ता है कि हम सब भारत अकाज कृष्ण को मारने वाले विश्व के अंदर बहुत लड़ाई है राधा कृष्ण की पूजा करते हैं हरे रामा हरे रामा रामा रामा हरे हरे हरे कृष्णा हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे इस मंत्र को अपना महामंत्र मानते हैं और जब करते हैं करोड़ों की संख्या में आज ईसाई लोग हिंदू धर्म को अपना रहे हैं इस्कॉन की जो संस्था है मथुरा में भी उनका मंदिर है बेंगलुरु में है दिल्ली में इस्कॉन टेंपल इंडिया में बहुत है विदेशों में तो है ही है तुम्हें थोड़ा सोच बदलने की जरूरत है धन्यवाद

mahoday aapne poocha hindu devta bharat me kyon simit hain ve yeshu ki tarah saar muhammad deta kyon nahi aisi baat nahi hai aaj vishwa ke andar iskcon naam ki sanstha hai uska matlab hai intaranaishanal sabakanshasanes of krishna hindu devta aaj radha krishna ke band kaha nahi hai america me germany me italy me kaha nahi hai aap hindu dharm ko itna chota kaise maan sakte hain waise toh is prithvi par matra matra ek hi devta hua karte the kalantar me jab se isai dharm aaya jab se muslim dharm aaya jab se Baudh aur jain dharm aaya tab se anya dharmon ka prakat hua isse pehle toh sirf aur sirf ek hi dharm hua karta tha hindu dharm devta hua karte the jo hindu dharm me puje jaate the aur even sindhu ghati ki sabhyata me bhi shiv puja ke pramaan mile hain shivling mila hai bail ki murti mili hai nandi ki murti mili hai tujhse puja ka pramaan hai abhi indus valley savita hai sindhu ghati ki sabhyata vaah bahut prachin sabhyatao me se ek hai toh wahan toh sirf aur sirf ek hi dharm ki baat I hai ki log pehle shiv ki puja karte the toh aisi baat nahi hai aise hi sarvabhaumik hai aaj hindu dharm bhi sab jagah hai aur hindu dharm ke manne waale devatao bhi sabhi jagah sri lanka me hai pakistan me hai kaha nahi hai yah toh ek alaukik baat ho gayi manne waale log hain lekin yah jo hindu dharm ka massage hai ya hindu dharm ke ishwar ka jo vaah hai vaah kya hai hari vyapak sarvatra prem se pragat hui me jana hindu dharm kisi rashtra ki seema me nahi bandha hai hindu dharm toh sanatan dharm ka jo siddhant hai jo soch hai vaah bahut vishal hai bahut virat hai toh sabhi jagah sab me ishwar dekhta hai aisa dharmon me nahi hai hindu dharm ke devi devatao ko aamantrit kiya un tak simit mat rakho ki sanatan dharm ka jo vichar hai vaah bahut bahut vishal hai usme saare dharm samaj sakte hain kyonki ek hindu dharm hai jo Vasudhaiva kutumbakam ki baat karta hai vaah kisi ek dharm ki baat nahi vaah sir sabhi jeevo ke liye kalyan ki baat karta hai toh hindu devta bharat me simit nahi hai vaah sarvatra hain aur jo hindu log apne sanatan dharm ki gaharaiyon me hai unhe pata hai ki ishwar sabhi jagah saman roop se vyapt hai yadi vaah aadmi america reh raha hai toh use pata hai ki main ishwar ki sa ishwar main hoon toh isse kya fark padta hai ki hum sab bharat akaj krishna ko maarne waale vishwa ke andar bahut ladai hai radha krishna ki puja karte hain hare rama hare rama rama rama hare hare hare krishna hare krishna krishna krishna hare hare is mantra ko apna mahamantra maante hain aur jab karte hain karodo ki sankhya me aaj isai log hindu dharm ko apna rahe hain iskcon ki jo sanstha hai mathura me bhi unka mandir hai bengaluru me hai delhi me iskcon temple india me bahut hai videshon me toh hai hi hai tumhe thoda soch badalne ki zarurat hai dhanyavad

महोदय आपने पूछा हिंदू देवता भारत में क्यों सीमित हैं वे यीशु की तरह सार मोहम्मद देता क्यों

Romanized Version
Likes  44  Dislikes    views  564
WhatsApp_icon
user

Devkumar Kaneri BSP

Advocate & Politicians

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धन्यवाद साथियों आप ने प्रश्न किया कि हिंदुओं का भारत में हैं क्योंकि मित्र देशों की तरह प्रभावित बोलता क्यों नहीं है देखो इसमें परमेश्वर हेयर परमेश्वर का पुत्र जीवित परमेश्वर है लेकिन हिंदुओं में ब्राह्मणवादी लोगों ने देवता बनाते अपनी पेट पालने के तरीका बना रखा है जो किसी भी वैज्ञानिकता पर सही नहीं है और इस बात को खुद जानते हैं और अगर दुनिया दूसरे देशों में भी उसको लेकर जाएंगे तो लोग हंसी ही बनाएंगे और हिंदू देवी देवता कोई लोग पत्थर के रूप में पूछता है जो मूर्ति पूजा सबसे बड़ा पाप है क्योंकि परमेश्वर के बनाए हुए वस्तु है इसलिए भारतीय देवी देवता यह तक सीमित है जबकि प्रभु यीशु की जो संदेश से या उनके बच्चे घर पहुंचने के बाद हर इंसान प्रभु यीशु को मानता है परमेश्वर को स्वीकार करता है और आज जब व्यक्ति प्रभु को शिकार के उसके जीवन में आनंद ही आनंद लेकिन हिंदुओं का देवी देवता यह पीने का तरीका है उन समूहों का जॉब कब स्थापित किए हैं को पेट पालने का तरीका है और वह सार्वभौमिक हो ही नहीं सकता धन्यवाद

dhanyavad sathiyo aap ne prashna kiya ki hinduon ka bharat me hain kyonki mitra deshon ki tarah prabhavit bolta kyon nahi hai dekho isme parmeshwar hair parmeshwar ka putra jeevit parmeshwar hai lekin hinduon me brahmanavadi logo ne devta banate apni pet palne ke tarika bana rakha hai jo kisi bhi vaigyanikata par sahi nahi hai aur is baat ko khud jante hain aur agar duniya dusre deshon me bhi usko lekar jaenge toh log hansi hi banayenge aur hindu devi devta koi log patthar ke roop me poochta hai jo murti puja sabse bada paap hai kyonki parmeshwar ke banaye hue vastu hai isliye bharatiya devi devta yah tak simit hai jabki prabhu yeshu ki jo sandesh se ya unke bacche ghar pahuchne ke baad har insaan prabhu yeshu ko maanta hai parmeshwar ko sweekar karta hai aur aaj jab vyakti prabhu ko shikaar ke uske jeevan me anand hi anand lekin hinduon ka devi devta yah peene ka tarika hai un samuho ka job kab sthapit kiye hain ko pet palne ka tarika hai aur vaah sarvabhaumik ho hi nahi sakta dhanyavad

धन्यवाद साथियों आप ने प्रश्न किया कि हिंदुओं का भारत में हैं क्योंकि मित्र देशों की तरह प्

Romanized Version
Likes  29  Dislikes    views  479
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!