भगवद गीता की ऐसी कौन सी अनूठी विशेषताएँ हैं जो बाइबल या कुरान में नहीं पाई जा सकती?...


user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता की ऐसी कौन सी अनु की विशेषताएं हैं जो बाइबल या कुरान में नहीं पाई जा सकती देखिए भगवान श्री कृष्ण ने बहुत बड़ा उपदेश दिया है कि व्यक्ति को अपना कर्म करना चाहिए कर्म में ही वह अपनी निष्ठा रखें और फलों की कदापि का न रखें यह द पीपल जो भी उसको मिले इस अनुसार व्यक्ति को अपने जीवन को मैं कर्म को करना चाहिए यह बहुत बड़ा उपदेश है और दूसरा उन्होंने यह कहा आत्मा जो है वह हमेशा विद्वान हुआ करता है वह परमात्मा का अंश है और वह कभी नष्ट नहीं हुआ करता है उसको आत्मा को जो उन्होंने कहा है वह अखंड आए अनंता है असंगा है अभय है अच्युतानंदन है उसका स्वरूप है उसको ना तो जल गिरा कर सकता है ना अग्नि जला सकती है और ना भाई उसको छुपा सकता है ना कोई शस्त्र काट सकता है यह योग देश है यह बहुत बड़ा उपदेश है यो यो यो यो प्रदेश जो है वह ना तो भाई वेल अथवा कुरान में मिलता है

bhagwat geeta ki aisi kaun si anu ki visheshtayen hain jo bible ya quraan me nahi payi ja sakti dekhiye bhagwan shri krishna ne bahut bada updesh diya hai ki vyakti ko apna karm karna chahiye karm me hi vaah apni nishtha rakhen aur falon ki kadapi ka na rakhen yah the pipal jo bhi usko mile is anusaar vyakti ko apne jeevan ko main karm ko karna chahiye yah bahut bada updesh hai aur doosra unhone yah kaha aatma jo hai vaah hamesha vidhwaan hua karta hai vaah paramatma ka ansh hai aur vaah kabhi nasht nahi hua karta hai usko aatma ko jo unhone kaha hai vaah akhand aaye ananta hai asanga hai abhay hai achyutanandan hai uska swaroop hai usko na toh jal gira kar sakta hai na agni jala sakti hai aur na bhai usko chupa sakta hai na koi shastra kaat sakta hai yah yog desh hai yah bahut bada updesh hai yo yo yo yo pradesh jo hai vaah na toh bhai well athva quraan me milta hai

भगवत गीता की ऐसी कौन सी अनु की विशेषताएं हैं जो बाइबल या कुरान में नहीं पाई जा सकती देखिए

Romanized Version
Likes  217  Dislikes    views  1986
WhatsApp_icon
16 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Brijesh Kumar

Journalist And Spritual/Yog/Pranic Healing Practitioner.

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता हिंदू सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व है वेदों का सार है भगवत गीता पुराण का सारे भगवत गीता भगवत गीता ने शास्त्रों श्लोक में पूरे सनातन धर्म का सार बता दिया है रतन धर्म का सार क्या है अपने स्वरूप को जानना यानी कि अपने दिव्य स्वरूप यानी अपने ब्रह्म स्वरूप को अपने भवदीय स्वरूप को जानना पहचानना और उस में विलीन हो जाना जाने के मुख्य को प्राप्त करना भगवान के दाम को प्राप्त कर काम करना है जातिगत कटवाना निबर तक चले गद्दामा परमम मामा गीता कहती है दाम में मेरा वह धाम है जहां से फिर वापस नहीं आना पड़ता है भगवान के दाम में चले गए तो वापस आना पड़ेगा कुरान और बाइबल की बात करें उनका अंतिम लगते हैं स्वर्ग उस वक्त वापस आना ही पड़ेगा पुराण का लक्ष की बात कर दो पुरान का जो अंतिम लक्ष्य मुसलमान बन गए अब याद किया यह सब क्या इस्लाम का प्रचार किया है मुसलमान बने आप मास्टर बनने के बाद आपको कयामत करीना आपको मिलेगी जन्नत मिलेगी जन्नत में बहुत बहुत करते मिलेगी यदि कुछ नहीं होगा आप को मुक्त नहीं मिलेगा अगर पिता भगवत दास शाश्वत मुक्ति की बात करती है भगवत गीता के बाइबल और कुरान की कोई कंपेयर नहीं हो सकती सब जगह पर वह दोनों अलग अलग विचारधारा है बाइबिल में कुछ-कुछ बातें हैं जहां से मिला देती है क्योंकि यीशु ख्रीस्त थे कहा जाता है कि उन्होंने भारत में भारत के योग्य शिक्षा ग्रहण की थी ओरिजिनल गीता की जोश में चलकर दिखती है अच्छी बात है लेकिन मैं पुराण की बात तू तो कुरान के सभी सिद्धांत सभी बातें भगवत गीता के बिल्कुल न लगे कुछ भी हो सकता है कांतिक बात होती है तो दोनों धर्म को शांत लगे दोनों की अलग है धन्यवाद

bhagwat geeta hindu sanatan dharm ka pratinidhitva hai vedo ka saar hai bhagwat geeta puran ka saare bhagwat geeta bhagwat geeta ne shastron shlok me poore sanatan dharm ka saar bata diya hai ratan dharm ka saar kya hai apne swaroop ko janana yani ki apne divya swaroop yani apne Brahma swaroop ko apne bhavdiya swaroop ko janana pahachanana aur us me vileen ho jana jaane ke mukhya ko prapt karna bhagwan ke daam ko prapt kar kaam karna hai jaatigat katvana nibar tak chale gaddama parmam mama geeta kehti hai daam me mera vaah dhaam hai jaha se phir wapas nahi aana padta hai bhagwan ke daam me chale gaye toh wapas aana padega quraan aur bible ki baat kare unka antim lagte hain swarg us waqt wapas aana hi padega puran ka lakshya ki baat kar do puran ka jo antim lakshya musalman ban gaye ab yaad kiya yah sab kya islam ka prachar kiya hai musalman bane aap master banne ke baad aapko qayaamat kareena aapko milegi jannat milegi jannat me bahut bahut karte milegi yadi kuch nahi hoga aap ko mukt nahi milega agar pita bhagwat das shashvat mukti ki baat karti hai bhagwat geeta ke bible aur quraan ki koi compare nahi ho sakti sab jagah par vaah dono alag alag vichardhara hai bible me kuch kuch batein hain jaha se mila deti hai kyonki yeshu khrist the kaha jata hai ki unhone bharat me bharat ke yogya shiksha grahan ki thi original geeta ki josh me chalkar dikhti hai achi baat hai lekin main puran ki baat tu toh quraan ke sabhi siddhant sabhi batein bhagwat geeta ke bilkul na lage kuch bhi ho sakta hai kantik baat hoti hai toh dono dharm ko shaant lage dono ki alag hai dhanyavad

भगवत गीता हिंदू सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व है वेदों का सार है भगवत गीता पुराण का सारे भगवत

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  446
WhatsApp_icon
user

सुरेन्द्र पाल गुप्ता

रिटायर्ड प्रधानाचार्य

2:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता में क्यों नहीं युवाओं का हॉस्पिटल पूरे विश्व में आज भगवत गीता का बड़ा महत्वपूर्ण है आज भगवत गीता को जिस में मान्यता मिली हुई है इसमें सबसे बड़ी बात तो यह है कि उसमें कर्म को महत्व दिया है संसार के अंदर जितने भी लोग हैं उन सबको कर्म का पाठ गीता के माध्यम से मिलता है इसके अलावा दूसरा सबसे महत्वपूर्ण काम करो कोई फल की चिंता नहीं करता तो फल की चिंता किए बिना कर्म करना यह सबसे महत्वपूर्ण बात है इसके अलावा यह गीता जो है वह कर्तव्य पर मिलते रहने पर व्यक्ति को बंद करके कि मनुष्य को अपने हर हालत में अपने कर्तव्य का पालन करना चाहिए इसके लिए भी गीता को बड़ा महत्व वर्तमान समय में दिया जा रहा है और इसके अलावा इसमें लिखा है कि सब कुछ ईश्वर पर छोड़ दो इसमें इन्होंने श्रीकृष्ण को बहुत अधिक महत्व दिया है और उन्होंने लिखा है कि श्रीकृष्ण में ही सब देता समाहित हैं इसके अलावा एक और बात है जो हुआ है अच्छा हुआ है जो हो रहा है अच्छा हो रहा है जो होगा वह भी अच्छा होगा चार पांच बातें ऐसी है जो कि भगवत गीता में है वह अन्य ग्रंथों में भी पाई जाती है अजय आज भी अनेक कोर्स में भगवत गीता को बड़ा महत्व दिया जा रहा है और विद्वान लोग भी भगवत गीता को आज अपना चमक ग्रंथ मानते हैं धन्यवाद

bhagwat geeta me kyon nahi yuvaon ka hospital poore vishwa me aaj bhagwat geeta ka bada mahatvapurna hai aaj bhagwat geeta ko jis me manyata mili hui hai isme sabse badi baat toh yah hai ki usme karm ko mahatva diya hai sansar ke andar jitne bhi log hain un sabko karm ka path geeta ke madhyam se milta hai iske alava doosra sabse mahatvapurna kaam karo koi fal ki chinta nahi karta toh fal ki chinta kiye bina karm karna yah sabse mahatvapurna baat hai iske alava yah geeta jo hai vaah kartavya par milte rehne par vyakti ko band karke ki manushya ko apne har halat me apne kartavya ka palan karna chahiye iske liye bhi geeta ko bada mahatva vartaman samay me diya ja raha hai aur iske alava isme likha hai ki sab kuch ishwar par chhod do isme inhone shrikrishna ko bahut adhik mahatva diya hai aur unhone likha hai ki shrikrishna me hi sab deta samahit hain iske alava ek aur baat hai jo hua hai accha hua hai jo ho raha hai accha ho raha hai jo hoga vaah bhi accha hoga char paanch batein aisi hai jo ki bhagwat geeta me hai vaah anya granthon me bhi payi jaati hai ajay aaj bhi anek course me bhagwat geeta ko bada mahatva diya ja raha hai aur vidhwaan log bhi bhagwat geeta ko aaj apna chamak granth maante hain dhanyavad

भगवत गीता में क्यों नहीं युवाओं का हॉस्पिटल पूरे विश्व में आज भगवत गीता का बड़ा महत्वपूर्ण

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  1644
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन का जो संवाद है वह बिल्कुल एकदम मौलिक है और उस काल का है जाजम महाभारत काल में अर्जुन ने गीता का उपदेश रविदास ने उसको भी लिखित किया था यही सत्य है इसके मुकाबले की कोई पुस्तक नहीं ना ऐसे किसी के पास ज्ञान है बाकी सब महापुरुषों के द्वारा हैं और कृष्ण स्वयं ईश्वर साक्षात्कार थे परम पिता परमेश्वर से वहां जितने भी सारे महापुरुष ही थे सारे महापुरुषों का को ज्ञान देने के लिए ईश्वर ने स्वयं जन्म लिया था वह धर्म की लड़ाई लड़ने की

bhagwat geeta me shrikrishna ne arjun ka jo samvaad hai vaah bilkul ekdam maulik hai aur us kaal ka hai jajam mahabharat kaal me arjun ne geeta ka updesh ravidas ne usko bhi likhit kiya tha yahi satya hai iske muqable ki koi pustak nahi na aise kisi ke paas gyaan hai baki sab mahapurushon ke dwara hain aur krishna swayam ishwar sakshatkar the param pita parmeshwar se wahan jitne bhi saare mahapurush hi the saare mahapurushon ka ko gyaan dene ke liye ishwar ne swayam janam liya tha vaah dharm ki ladai ladane ki

भगवत गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन का जो संवाद है वह बिल्कुल एकदम मौलिक है और उस काल का है

Romanized Version
Likes  265  Dislikes    views  1889
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता के ऐसी कौन सी अंगूठी विशेषताएं हैं जो बाइबलिया कुरान में नहीं पाई जाती है बलिया कुरान में किसी भी चार विशेषता का प्रस्तुत करने का तरीका अलग है दोनों ही ग्रंथों में धार्मिक ग्रंथों में मानव को जो शिक्षा दी गई है हो सकते हैं लेकिन उन शिक्षकों को किस तरह से बहन करना किस तरह से उज्जैन समझना है यह उन सिद्धांतों पर ग्रंथों पर उनके शिक्षा को ग्रहण करने वालों पर निर्भर है भागवत गीता की दोनों की विशेषताएं और को ग्रहण करना हिंदू समाज सनातन धर्म और आर्य समाज के लिए विशिष्ट हाय इटावा में इंसान को अपने कर्मों का फल भोगना पड़ता है आत्मा अजर और अमर है दोनों की पहचान साल से आया है उसे दिन जाना है इंसानियत का धन धन मुंह में श्रेष्ठ है इंसान जो निष्काम भाव से बिना फल के कर्म करता है वह मुक्त होता है ऐसी विशिष्ट नहीं है जो गीता में संस्कृत भाव से या संस्कार भाव से व्यक्त की गई है जबकि अन्य धर्मों में उन्हें दूसरे शब्दों में व्यक्त किया गया

bhagwat geeta ke aisi kaun si anguthi visheshtayen hain jo baibliya quraan me nahi payi jaati hai baliya quraan me kisi bhi char visheshata ka prastut karne ka tarika alag hai dono hi granthon me dharmik granthon me manav ko jo shiksha di gayi hai ho sakte hain lekin un shikshakon ko kis tarah se behen karna kis tarah se ujjain samajhna hai yah un siddhanto par granthon par unke shiksha ko grahan karne walon par nirbhar hai bhagwat geeta ki dono ki visheshtayen aur ko grahan karna hindu samaj sanatan dharm aur arya samaj ke liye vishisht hi itawa me insaan ko apne karmon ka fal bhogna padta hai aatma ajar aur amar hai dono ki pehchaan saal se aaya hai use din jana hai insaniyat ka dhan dhan mooh me shreshtha hai insaan jo nishkam bhav se bina fal ke karm karta hai vaah mukt hota hai aisi vishisht nahi hai jo geeta me sanskrit bhav se ya sanskar bhav se vyakt ki gayi hai jabki anya dharmon me unhe dusre shabdon me vyakt kiya gaya

भगवत गीता के ऐसी कौन सी अंगूठी विशेषताएं हैं जो बाइबलिया कुरान में नहीं पाई जाती है बलिया

Romanized Version
Likes  397  Dislikes    views  2549
WhatsApp_icon
user

Sunil Kumar Pandey

Editor And Writer

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता में ऐसी कौन सी विशेषताएं हैं जो बालवीर या कुरान में नहीं पाई जाती है और वह कर्म करने पर बल देती है क्योंकि हम काम करेंगे तभी ईश्वर हमें फल देगा जबकि पार बुलिया कुरान में इस तरह से ऐसा उल्लेख नहीं है क्या आप तभी आपको प्राप्त होगा यही भगवत गीता और बालवीर और कुरान में अंतर

bhagwat geeta me aisi kaun si visheshtayen hain jo balavir ya quraan me nahi payi jaati hai aur vaah karm karne par bal deti hai kyonki hum kaam karenge tabhi ishwar hamein fal dega jabki par buliya quraan me is tarah se aisa ullekh nahi hai kya aap tabhi aapko prapt hoga yahi bhagwat geeta aur balavir aur quraan me antar

भगवत गीता में ऐसी कौन सी विशेषताएं हैं जो बालवीर या कुरान में नहीं पाई जाती है और वह कर्म

Romanized Version
Likes  184  Dislikes    views  1519
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

2:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता की ऐसी कौन से मुख्य विशेषताएं हैं जो बाइबिल कुरान में नहीं पाई जा सकती बाइबल और कुरान क्योंकि बात करते हैं जिसमें पूरा समर्पण और विश्वास विभाग से अगर आध्यात्मिक मार्ग के पथ पर आगे बढ़ा जाए आत्मबोध हो सकता है बाइबिल में वह इच्छाएं ईसा मसीह और कुरान में वह इस हैं हजरत मोहम्मद पैगंबर अल्लाह खुदा लेकिन जहां तक भगवत गीता की बात है भगवत गीता ने व्यक्ति के पूरे मनोयोग उसकी पूरी प्रकृति को ध्यान में रखते हुए अलग-अलग प्रकार के व्यक्ति के लिए अलग-अलग प्रकार के मार्ग से आए हैं भगवत गीता में यह बताया गया है कि अगर व्यक्ति का खूब सुंदर करुणा प्रेम स्नेह वात्सल्य देखो भक्ति मार्ग पूछना चाहिए अपने समर्पण अपने इष्ट को एक देवता के प्रति कर देना चाहिए अगर व्यक्ति का ब्रेन बहुत डर लगता है उसके लिए ध्यान योग की व्याख्या की ज्ञान की मौत आत्मबोध करेंगे अगर अर्ध विकसित करें एवं अन्य विकसित देश है मेंटल डेवलपमेंट के लिए निष्काम कर्म योग की व्याख्या की गई है कहने की बात बिना सुनिए आप अपने मस्तिष्क की बात भी नहीं है जो काम कर रहे हैं वह काम आप अनासक्ति के भाव से निष्काम भावना से आपको आत्म बोध हो जाए कुछ भी डेवलप नहीं है अनप्लग्ड हार्ट एंड माइंड और फिर भी उसके लिए चुना है तूने चुनरी है कि श्रीमद्भागवत गीता एक अध्यात्मिक दुनिया में हर प्रकार के लोगों के लिए आत्मबल मार्ग खुलता है उसमें दलित एवं दिशा देता है

bhagwat geeta ki aisi kaun se mukhya visheshtayen hain jo bible quraan me nahi payi ja sakti bible aur quraan kyonki baat karte hain jisme pura samarpan aur vishwas vibhag se agar aadhyatmik marg ke path par aage badha jaaye atmabodh ho sakta hai bible me vaah ichhaen isa masih aur quraan me vaah is hain hazrat muhammad paigambar allah khuda lekin jaha tak bhagwat geeta ki baat hai bhagwat geeta ne vyakti ke poore manoyog uski puri prakriti ko dhyan me rakhte hue alag alag prakar ke vyakti ke liye alag alag prakar ke marg se aaye hain bhagwat geeta me yah bataya gaya hai ki agar vyakti ka khoob sundar corona prem sneh vatsalya dekho bhakti marg poochna chahiye apne samarpan apne isht ko ek devta ke prati kar dena chahiye agar vyakti ka brain bahut dar lagta hai uske liye dhyan yog ki vyakhya ki gyaan ki maut atmabodh karenge agar ardh viksit kare evam anya viksit desh hai mental development ke liye nishkam karm yog ki vyakhya ki gayi hai kehne ki baat bina suniye aap apne mastishk ki baat bhi nahi hai jo kaam kar rahe hain vaah kaam aap anasakti ke bhav se nishkam bhavna se aapko aatm bodh ho jaaye kuch bhi develop nahi hai unplugged heart and mind aur phir bhi uske liye chuna hai tune chunari hai ki shrimadbhagavat geeta ek adhyatmik duniya me har prakar ke logo ke liye atmabal marg khulta hai usme dalit evam disha deta hai

भगवत गीता की ऐसी कौन से मुख्य विशेषताएं हैं जो बाइबिल कुरान में नहीं पाई जा सकती बाइबल और

Romanized Version
Likes  351  Dislikes    views  2108
WhatsApp_icon
user

महेश दुबे

कवि साहित्यकार

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भिन्न भिन्न धर्मों के धार्मिक ग्रंथों में इस तरह की तुलना ठीक बात नहीं हर धार्मिक ग्रंथ की अपनी विशेषता है और उसकी फॉल ओवर उस पर जी जान से विश्वास करते हैं तो आप यह नहीं कह सकते कि भगवद गीता किन्ही मायनों में बाईबल और कुरान से उत्तम है या उसके अंदर कुछ स्पेशल बातें लिखी हुई है हर धर्म अपनी तरफ से लोगों को सही मार्ग दिखाने की कोशिश करता है गीता युद्ध के मैदान में कही गई ऐसी बातों का संग्रह है जो व्यक्ति के जीवन में हर क्षण के लिए उपयोगी हो सकती हैं इसी तरह कुरान और बाइबिल में भी बहुत सी बातें हैं जो लोगों को अच्छा जीवन जीने के लिए प्रेरित करती हैं इन तीनों ग्रंथों को इनके मानने वाली अनुयाई सर्वोपरि समझते हैं

bhinn bhinn dharmon ke dharmik granthon mein is tarah ki tulna theek baat nahi har dharmik granth ki apni visheshata hai aur uski fall over us par ji jaan se vishwas karte hain toh aap yah nahi keh sakte ki bhagavad geeta kinhi maayano mein baibal aur quraan se uttam hai ya uske andar kuch special batein likhi hui hai har dharm apni taraf se logo ko sahi marg dikhane ki koshish karta hai geeta yudh ke maidan mein kahi gayi aisi baaton ka sangrah hai jo vyakti ke jeevan mein har kshan ke liye upyogi ho sakti hain isi tarah quraan aur bible mein bhi bahut si batein hain jo logo ko accha jeevan jeene ke liye prerit karti hain in tatvo granthon ko inke manne wali anuyayi sarvopari samajhte hain

भिन्न भिन्न धर्मों के धार्मिक ग्रंथों में इस तरह की तुलना ठीक बात नहीं हर धार्मिक ग्रंथ की

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  987
WhatsApp_icon
user
5:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है गीता में ऐसी कौन सी अनूठी बात है जो बाइबिल और कुरान नहीं है आपको बताते हैं कि तांत्रिक में से निकले हैं बाइबल कुरान थोड़ा-थोड़ा उन्होंने अपना हिस्सा लिया थोड़ा थोड़ा उसे कैसे बनती है गीता में श्रीकृष्ण भगवान ने बोला है जो भी तू करता है उसको समझ परमात्मा ने किया अपने को बीच में हटा दी और कोई बात पूछो जानता है उन्होंने यह साफ लिखा है बताया है बोला भी है कि जो है उसको जिसको भी तुम जान लोगे तो वो होगा तुम्हारा जानू ना कि उस आजकल किसी पर विश्वास करने की रिप्लाई नहीं है सब जानता है मैं नहीं हूं तो मुझको जानू तमा करता हो यह जिस्म जाना पड़ता मत बनो जो अकलता बना उसे यह जाना कि मैं है और करता हूं मैं करता नहीं हूं मैं करता हूं कुछ अच्छे से जाना पहचानना और और मानना अलग बात बताइए तो मानो मत जानू पहले कर आप किसी चीज को भी जान लेते हो तो वह आपकी हो जाती है मानोगे वह पढ़ाई की माता को क्या कि मैंने बोल दिया कि वह आप ऐसे कुरान पढ़ो यह पढ़ो पागल पढ़ो गीता पढ़ो तो यह क्या है कि मेरे उपदेश हो गए आपके आपके हर किसी के यह उपदेश हो गया उनके जिसको ना मेरे को पता था कि इससे ऐसा होता है मैंने आपको बताया कि उन्होंने उसको किसी को समझ में नहीं आ रहा है उसने जो बताया गया है पुलिस ने पूरे मिलेगी यह मिलेगी और वह क्या है कि उनको वह मान रहे हैं जानते नहीं है जिसमें जानना जानना चालू किया था जो भी किताब आई है शादी की कोई भी किताब आई है तो उसको कुछ बात अच्छी लगी हीरे हीरे हीरे मोती भरे पड़े उसको चुनने का जो चुनकर और करने का युद्ध था वह किसी ने नहीं किया उससे उसका अपने अपने फायदे के लिए सपने उसका यूज़ किया श्री गीता अपने बच्चे का समझ में आती क्योंकि वह हिंदी में लिखिए हिंदी में पढ़ सकते हैं होली के उत्सव संस्कृत और हिंदी थी युवकों ने पीली पड़ सकता है उतना समझ सकता है अभी यह कुरान पढ़ी हुई है तो यह अरबी मित्र अरविंद पशुधन के लोगों को भी आती थी वह भी अरब के लोग इतने पढ़े-लिखे नहीं थे चाइल्ड विल है जिसमें और लिखी हुई है तो ढंग से गिरी तो किसी को पढ़ना नहीं आती थी अब उसमें क्या लिखा है वह आपको पता नहीं आपको जो ट्रांसलेट करके समझाया गया है आप समझती हो मैं भी बात रखी किसने जाना उसे पहचानने के लिए जोर दिया गया है कि मानने पर किसी में भी मानने पर जोर नहीं दिया गया कि मैं को मानो ऐसा किसी के भी नहीं दिखता है आज का भगवान कृष्ण भगवान ने तो साफ ने इस बात पर जोर दिया है जानू नहीं मानो मनु ने बिल्कुल मत जिसने मेरे को वह आना एक उसकी खोजी खत्म हो गई मान लिया आपने खा बात खत्म हो गई 25 दिन जाना तो जानने के लिए खोज करनी पड़ती है किसने खोजा तो सुनो खोजने वाला ही क्यों हो जाता है सब में यह लिखा है कि खोजता जो अब भी कुछ खोजो की परवाह तो तुम मर जाओगे फिर उसके बाद आपकी जबान आपका फ्रेंड चेंज सब कुछ अलग हो जाएगा इसमें परमात्मा दिखेगा और यह इसी वजह से आज जो बीच में कुरान है पाइप बिल है कि था तो इसको लोगों ने अपने अपने फायदे के लिए यूज किया ऐसा यूज किया उसके मुंह और देश को ना छुपा दिया

aapka prashna hai geeta mein aisi kaun si anuthi baat hai jo bible aur quraan nahi hai aapko batatey hain ki tantrika mein se nikle hain bible quraan thoda thoda unhone apna hissa liya thoda thoda use kaise banti hai geeta mein shrikrishna bhagwan ne bola hai jo bhi tu karta hai usko samajh paramatma ne kiya apne ko beech mein hata di aur koi baat pucho jaanta hai unhone yah saaf likha hai bataya hai bola bhi hai ki jo hai usko jisko bhi tum jaan loge toh vo hoga tumhara janu na ki us aajkal kisi par vishwas karne ki reply nahi hai sab jaanta hai nahi hoon toh mujhko janu tama karta ho yah jism jana padta mat bano jo akalata bana use yah jana ki main hai aur karta hoon main karta nahi hoon main karta hoon kuch acche se jana pahachanana aur aur manana alag baat bataye toh maano mat janu pehle kar aap kisi cheez ko bhi jaan lete ho toh vaah aapki ho jaati hai manoge vaah padhai ki mata ko kya ki maine bol diya ki vaah aap aise quraan padho yah padho Pagal padho geeta padho toh yah kya hai ki mere updesh ho gaye aapke aapke har kisi ke yah updesh ho gaya unke jisko na mere ko pata tha ki isse aisa hota hai maine aapko bataya ki unhone usko kisi ko samajh mein nahi aa raha hai usne jo bataya gaya hai police ne poore milegi yah milegi aur vaah kya hai ki unko vaah maan rahe hain jante nahi hai jisme janana janana chaalu kiya tha jo bhi kitab I hai shadi ki koi bhi kitab I hai toh usko kuch baat achi lagi heere heere heere moti bhare pade usko chunane ka jo chunkar aur karne ka yudh tha vaah kisi ne nahi kiya usse uska apne apne fayde ke liye sapne uska use kiya shri geeta apne bacche ka samajh mein aati kyonki vaah hindi mein likhiye hindi mein padh sakte hain holi ke utsav sanskrit aur hindi thi yuvakon ne pili pad sakta hai utana samajh sakta hai abhi yah quraan padhi hui hai toh yah rb mitra arvind pashudhan ke logo ko bhi aati thi vaah bhi arab ke log itne padhe likhe nahi the child will hai jisme aur likhi hui hai toh dhang se giri toh kisi ko padhna nahi aati thi ab usme kya likha hai vaah aapko pata nahi aapko jo translate karke samjhaya gaya hai aap samajhti ho main bhi baat rakhi kisne jana use pahachanne ke liye jor diya gaya hai ki manne par kisi mein bhi manne par jor nahi diya gaya ki main ko maano aisa kisi ke bhi nahi dikhta hai aaj ka bhagwan krishna bhagwan ne toh saaf ne is baat par jor diya hai janu nahi maano manu ne bilkul mat jisne mere ko vaah aana ek uski khoji khatam ho gayi maan liya aapne kha baat khatam ho gayi 25 din jana toh jaanne ke liye khoj karni padti hai kisne khoja toh suno khojne vala hi kyon ho jata hai sab mein yah likha hai ki khojata jo ab bhi kuch khojo ki parvaah toh tum mar jaoge phir uske baad aapki jaban aapka friend change sab kuch alag ho jaega isme paramatma dikhega aur yah isi wajah se aaj jo beech mein quraan hai pipe bill hai ki tha toh isko logo ne apne apne fayde ke liye use kiya aisa use kiya uske mooh aur desh ko na chupa diya

आपका प्रश्न है गीता में ऐसी कौन सी अनूठी बात है जो बाइबिल और कुरान नहीं है आपको बताते हैं

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  941
WhatsApp_icon
user

Harish Chand

Social Worker

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आपका सवाल है कि भगवत गीता के सी कौन सी अनूठी विशेषता है जो बाइबिल कुरान में नहीं पाई जा सकती तुम मित्रों एक चीज बताओ भागवत गीता और बाइबल या कुरान बिल्कुल अलग चीज है भागवत गीता स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने उपदेश दिया था अब बाइबल कुरान की आयत 15 से 5000 वर्ष पहले की लोगों के विचारों का ग्रंथ है लोगों के विचारों का ठीक है ना किसी आदमी का विचार और स्वयं भागवत गीता भगवान श्री कृष्ण की पानी है तो इन वर्क समानता विशेषताओं का तो कोई सिस्टम ही नहीं है आप इस तरह के सवाल करके गलत कर रहे हो मत जोड़ो भागवत गीता से संसार की कोई भी पुस्तक नहीं छोड़ी जा सकती नोट कर लेना ठीक है मेरे मित्रों बोलो जय सिया राम

namaskar doston aapka sawaal hai ki bhagwat geeta ke si kaun si anuthi visheshata hai jo bible quraan me nahi payi ja sakti tum mitron ek cheez batao bhagwat geeta aur bible ya quraan bilkul alag cheez hai bhagwat geeta swayam bhagwan shrikrishna ne updesh diya tha ab bible quraan ki ayat 15 se 5000 varsh pehle ki logo ke vicharon ka granth hai logo ke vicharon ka theek hai na kisi aadmi ka vichar aur swayam bhagwat geeta bhagwan shri krishna ki paani hai toh in work samanata visheshtaon ka toh koi system hi nahi hai aap is tarah ke sawaal karke galat kar rahe ho mat jodon bhagwat geeta se sansar ki koi bhi pustak nahi chodi ja sakti note kar lena theek hai mere mitron bolo jai sia ram

नमस्कार दोस्तों आपका सवाल है कि भगवत गीता के सी कौन सी अनूठी विशेषता है जो बाइबिल कुरान मे

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  842
WhatsApp_icon
user

BK Kalyani

Teacher On Rajyoga Spiritual Knowledge

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भागवत गीता की ऐसी कौन सी अंगूठी विषय है जो बाइबल या कुरान में नहीं पाई जाती बहुत अच्छी क्वेश्चन है भागवत गीता की तो मैं यही कहूंगी कि इसमें यही विशेष है कि मन मना भाव मध्य जी पूरे भागवत गीता के श्लोक में कहा है कि मुझे सिर्फ मन से याद करो मध्य जी बाबा जी भुला नहीं चाहिए मन से याद करो मध्य जी भाव और यह जी भेजता है तो सारा पाप कर्म करता और बोलता भी है इसलिए बाबा ने कहा मन मना भाव यानी मस्त मगन परमात्मा की याद में बना भाव रहेंगे याद में परमात्मा के रहेंगे तो कोई भी पाप नहीं होगा भगवत गीता में कहा है कि परमात्मा एक है निराकार है लेकिन उसे दर्शाया गया कण-कण में भगवान तो कण-कण में भगवान नहीं है पत्थर कंकड़ पानी मिट्टी पेड़-पौधे सभी मैं भगवान को दर्शाया गया है तब में भगवान मुझ में भगवान तुझ में भगवान ऐसा कहा गया पर ऐसा नहीं है मेरा मानना है सर्व शास्त्रों शिरोमणि में जैसा कहा गया मेरा मानना है भगवान सर्वशक्तिमान है सर्वज्ञ है सर व्यापी नहीं है सबके मन में है सब केतन में नहीं यार पेड़ पौधा में भी नहीं है यही है सबसे बड़ी श्लोक मन मना भाव और मध्य चीफ

bhagwat geeta ki aisi kaun si anguthi vishay hai jo bible ya quraan me nahi payi jaati bahut achi question hai bhagwat geeta ki toh main yahi kahungi ki isme yahi vishesh hai ki man mana bhav madhya ji poore bhagwat geeta ke shlok me kaha hai ki mujhe sirf man se yaad karo madhya ji baba ji bhula nahi chahiye man se yaad karo madhya ji bhav aur yah ji bhejta hai toh saara paap karm karta aur bolta bhi hai isliye baba ne kaha man mana bhav yani mast mogun paramatma ki yaad me bana bhav rahenge yaad me paramatma ke rahenge toh koi bhi paap nahi hoga bhagwat geeta me kaha hai ki paramatma ek hai nirakaar hai lekin use darshaya gaya kan kan me bhagwan toh kan kan me bhagwan nahi hai patthar kankad paani mitti ped paudhe sabhi main bhagwan ko darshaya gaya hai tab me bhagwan mujhse me bhagwan tujhe me bhagwan aisa kaha gaya par aisa nahi hai mera manana hai surv shastron shiromani me jaisa kaha gaya mera manana hai bhagwan sarvshaktimaan hai sarvagya hai sir vyapi nahi hai sabke man me hai sab ketan me nahi yaar ped paudha me bhi nahi hai yahi hai sabse badi shlok man mana bhav aur madhya chief

भागवत गीता की ऐसी कौन सी अंगूठी विषय है जो बाइबल या कुरान में नहीं पाई जाती बहुत अच्छी क्व

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user
1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सब कुछ चित्र के द्वारा ही है पानी में जैसे ज्ञान प्राप्त हुआ है और इस पर भी कई ब्रह्मा विष्णु महेश आदि अनेक रूपों में ईश्वर की आराधना उपाध्यक्ष अलग-अलग धर्म के लोगों की अलग-अलग रूपों में आ रहा था बस में करते हैं आपका अगर कोई है इसलिए मैं और ईश्वर ने अपने रूप पर जो है भगवत गीता के माध्यम से कृष्ण के रूप में बताएं और कृष्ण भगवान के ऊपर तभी तो आनंद प्राप्त होता है और उनकी लीलाओं सभी को आना नंबर जान और अपने जीवन में प्रसन्नता प्राप्त होती है खुशी मिलती है उनके जीवन से और लोग उनकी लीलाओं के माध्यम से ज्ञान प्राप्त करते हैं और उनकी लीलाओं के माध्यम से आनंद करते हैं तो उन्हें सिक्का नहीं होता है इसे कहते हैं सब कर्मों के बुलाकर एक मेरा शरणागत हो जा मेहरबान के मौके पर घोषणा करी मेरी भक्ति में खो जाता अमर है गीता के बोलता रे हे नाथ नारायण वासुदेवा श्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारी हे नाथ नारायण वासुदेवा थैंक यू धन्यवाद

sab kuch chitra ke dwara hi hai paani me jaise gyaan prapt hua hai aur is par bhi kai brahma vishnu mahesh aadi anek roopon me ishwar ki aradhana upadhyaksh alag alag dharm ke logo ki alag alag roopon me aa raha tha bus me karte hain aapka agar koi hai isliye main aur ishwar ne apne roop par jo hai bhagwat geeta ke madhyam se krishna ke roop me bataye aur krishna bhagwan ke upar tabhi toh anand prapt hota hai aur unki lilaon sabhi ko aana number jaan aur apne jeevan me prasannata prapt hoti hai khushi milti hai unke jeevan se aur log unki lilaon ke madhyam se gyaan prapt karte hain aur unki lilaon ke madhyam se anand karte hain toh unhe sikka nahi hota hai ise kehte hain sab karmon ke bulakar ek mera sharanagat ho ja meharabaan ke mauke par ghoshana kari meri bhakti me kho jata amar hai geeta ke bolta ray hai nath narayan vasudeva shri krishna govind hare murari hai nath narayan vasudeva thank you dhanyavad

सब कुछ चित्र के द्वारा ही है पानी में जैसे ज्ञान प्राप्त हुआ है और इस पर भी कई ब्रह्मा विष

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  478
WhatsApp_icon
user

Ramandeep Singh

Waheguru industry

3:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फर्स्ट तो कभी भी किसी भी धर्म ग्रंथ को कंपैरिजन नहीं करना चाहिए और जो कंपैरिजन कर रहा है इसका मतलब वह ठोस यानी पत्थर है पत्थर अचेत अवस्था दूसरे इंसान इंसान नहीं है अगर बाइबल को कंपैरिजन कर रहा है वह कुरान के साथ में अगर गीता के साथ में तो पहले वह यह बात सुन ले कि हर धर्म ग्रंथ की विचारधारा अलग-अलग चाहे फिर वह गीता ले लो तो फिर हमारी ले लो अगर वह हिंदू है तो गीता और रामायण भी आपस में मैच नहीं करेंगे क्यों नहीं करेंगे क्योंकि जिस चीज की जब जरूरत है तो उस समय वही ग्रंथ आया है इस धरती पर उसी ग्रंथ को लिखा गया है जब बाइबल की जरूरत थी और जहां पर जरूरत थी हूं वहीं पर ही पैदा हुआ हमें इसका कंपैरिजन नहीं करना चाहिए क्योंकि भगत जो है अगर वह गीता का सच्चा भक्त है गीता को मानने वाला तू उसका हृदय कोमल होगा और जब कोमल हृदय होगा तो बाइबल कुरान अलग-अलग नहीं दिखेगी क्योंकि इनका एक ही लक्ष्य जो है उनकी एक ही मंजिला वह है प्रभु परमात्मा ईश्वर अल्लाह खुदा भाई को एक ही है जो उसकी ओर ही है दौड़ रहे उसी की ओर जाने के लिए हम को कम दे रहे हैं क्या आपको दिख रहा है उस खुदा को उस वाहेगुरु कुछ गॉड को एक करके माना यीशु मसीह ने लोगों ने उसको फांसी चढ़ा दिया क्यों चढ़ा दिया क्यों उस वक्त पर कोई इंसान जो था वह सबके अपने अलग-अलग अलग अलग वह बैठे थे कि यह मेरा देवी यह मेरा देवता तो उसने सिर्फ इतना ही तो कहा था परमात्मा एक है लेकिन फांसी भी झड़ गया जो इंसान भी यह बात कहता है कि परमात्मा एक है यह समाज उसको एक्सेप्ट नहीं कर चाहे वह ऊपर से यह बात कह दे यह यहां पर यह सही वह गलत यह सही किंतु परंतु में टाइम वेस्ट करता रहता है लेकिन परमात्मा एक है यह कहना सिर्फ एक कोमल हृदय जिसका होगा वही कह सकता है इसलिए कंपैरिजन नहीं करना है हमने वक्त के हिसाब से वक्ता ने जो हमको चीज दी है हमने उसको प्रसाद रूप ग्रहण करना है जब गीता की जरूरत है तो गीता है जब जैन धर्म का जरूरत थी तो जैन धर्म के गुरु हुए हैं जब बौद्ध धर्म कोई भी किसी भी धर्म से अलग अलग नहीं यह कड़ियां हैं सब की सब आपस में जुड़ती चली जाती हमारा यह गलत होगा कहना कि फलानी क्लास का जो गुरु है वह अच्छा नहीं पढ़ाता वह गलत हो गया वह अच्छा नहीं पड़ा तो नहीं यह सब गलत है कंपैरिजन मत करो पढ़ कर देखो कोमल हृदय से सत्य आपके सामने अवश्य आएगा फिर आपको ना तो बाइबल गलत लगेगी ना कुरान गलत लगेगी ना गीता कल लगेगी हम पढ़ कर तो देखें ऊपर से बातें करना शुरू कर दे किंतु परंतु ना करें बहुत सरल स्वभाव से पढ़ कर तो देखें कठोर मन से अगर कोई भी चीज पड़ेंगे फिर तो सिर्फ हमको हर सकते में आ सकता दिखना शुरू हो जाएगा एक बार हफ्ते को देखना सच में ही देखना शुरु तो करो धन्यवाद

first toh kabhi bhi kisi bhi dharm granth ko kampairijan nahi karna chahiye aur jo kampairijan kar raha hai iska matlab vaah thos yani patthar hai patthar achet avastha dusre insaan insaan nahi hai agar bible ko kampairijan kar raha hai vaah quraan ke saath me agar geeta ke saath me toh pehle vaah yah baat sun le ki har dharm granth ki vichardhara alag alag chahen phir vaah geeta le lo toh phir hamari le lo agar vaah hindu hai toh geeta aur ramayana bhi aapas me match nahi karenge kyon nahi karenge kyonki jis cheez ki jab zarurat hai toh us samay wahi granth aaya hai is dharti par usi granth ko likha gaya hai jab bible ki zarurat thi aur jaha par zarurat thi hoon wahi par hi paida hua hamein iska kampairijan nahi karna chahiye kyonki bhagat jo hai agar vaah geeta ka saccha bhakt hai geeta ko manne vala tu uska hriday komal hoga aur jab komal hriday hoga toh bible quraan alag alag nahi dikhegi kyonki inka ek hi lakshya jo hai unki ek hi manjila vaah hai prabhu paramatma ishwar allah khuda bhai ko ek hi hai jo uski aur hi hai daudh rahe usi ki aur jaane ke liye hum ko kam de rahe hain kya aapko dikh raha hai us khuda ko us vaheguru kuch god ko ek karke mana yeshu masih ne logo ne usko fansi chadha diya kyon chadha diya kyon us waqt par koi insaan jo tha vaah sabke apne alag alag alag alag vaah baithe the ki yah mera devi yah mera devta toh usne sirf itna hi toh kaha tha paramatma ek hai lekin fansi bhi jhad gaya jo insaan bhi yah baat kahata hai ki paramatma ek hai yah samaj usko except nahi kar chahen vaah upar se yah baat keh de yah yahan par yah sahi vaah galat yah sahi kintu parantu me time west karta rehta hai lekin paramatma ek hai yah kehna sirf ek komal hriday jiska hoga wahi keh sakta hai isliye kampairijan nahi karna hai humne waqt ke hisab se vakta ne jo hamko cheez di hai humne usko prasad roop grahan karna hai jab geeta ki zarurat hai toh geeta hai jab jain dharm ka zarurat thi toh jain dharm ke guru hue hain jab Baudh dharm koi bhi kisi bhi dharm se alag alag nahi yah kadiyan hain sab ki sab aapas me judti chali jaati hamara yah galat hoga kehna ki falani class ka jo guru hai vaah accha nahi padhata vaah galat ho gaya vaah accha nahi pada toh nahi yah sab galat hai kampairijan mat karo padh kar dekho komal hriday se satya aapke saamne avashya aayega phir aapko na toh bible galat lagegi na quraan galat lagegi na geeta kal lagegi hum padh kar toh dekhen upar se batein karna shuru kar de kintu parantu na kare bahut saral swabhav se padh kar toh dekhen kathor man se agar koi bhi cheez padenge phir toh sirf hamko har sakte me aa sakta dikhana shuru ho jaega ek baar hafte ko dekhna sach me hi dekhna shuru toh karo dhanyavad

फर्स्ट तो कभी भी किसी भी धर्म ग्रंथ को कंपैरिजन नहीं करना चाहिए और जो कंपैरिजन कर रहा है इ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  143
WhatsApp_icon
user

Rahul

Motivation ki machine

2:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय हो पाई बाइबल और कुरान ओं गुरु ग्रंथ साहिब ऊंचा भगवत गीता इन सबका सारे धर्मों का एक ही मतलब है अपनी भगवान से प्रेम करना किसी भगवानों में हमारी इंसान हम इंसान से कोई कंपटीशन नहीं होता कभी मैं तेरे से ऊपर मैं तेरे से ऊपर मैं तेरी शादी पड़ जाऊं भगवान एक है और हर हर धर्म यह सिखाता है कि तुम अपने भगवान से प्रेम करो समझे यह लोगों ने अपने मन के हिसाब से बना रखे हैं कंपटीशन करा दिया आपस में भगवानों कभी भगवान भी सोचो कमाल है याद है मैंने एकता का पाठ सिखाया हर धर्म में उल्लू गया भाई साहब मेरे कोई आपस में कंपटीशन करारे भगवत गीता भक्ति की बुक है भगवान से प्रेम करने की बुक है बाइबल भी अल्लाह से प्रेम करने की बुक है गुरु ग्रंथ साहिब ही अपनी ईश्वर से प्रेम करने की बुक है हर बुक हरज्ञान हर धर्म में भगवान से प्रेम करना सिखाती है जब मैं भगवान से प्रेम करने के भगवान की आज्ञा पालन करोगे तो अपने आप ही सारे झगड़े खत्म हो जाएगी ना झगड़े इसलिए होते हैं कि हर किसी के विचार मैच नहीं खाते तो हंसी तेरी वह भगवान के भगवान के ग्रंथ पढ़ोगे तो सब के विचार एक जैसे हो जाएंगे तो कोई लड़ाई की बात ही नहीं होगी ना फिर क्लास में टीचर बढ़ा दो दूनी चार तो सभी शिक्षक शब्द कर लेते हैं क्योंकि सबको पता है दो दूनी चार होता है वो टीचर बोलो दो दूनी पांच कोई बोला जो दुनिया में कभी गलत बता रही थी गलत बता रहे हो तो यही मेहंदी जी ने आज के टाइम में झगड़े का लोग अपने अपने अपने अपने तर्क देकर उससे वह संतुष्ट करना चाह रहे हैं कि मेरे तरफ से यह मेरे पर चाहिए भाई भगवान से बड़ा कोई नहीं है भगवान ने हम को बनाया तो भगवान से बैटर कोई नहीं बता सकता हमारे लिए क्या अच्छा क्या बुरा उनकी आज्ञा पालन करेंगे उनकी बातें माननी तो सबके मन में एक ही सेंटर पॉइंट भगवान को बनाकर चलेंगे उनकी आज्ञा को बना कर चलेंगे तो कोई लड़ाई झगड़ा होगा ही नहीं ना इसलिए पल सी बातें लड़ाई झगड़े को रोकने की लोग समझते नहीं है करोड़ों खर्च कर देंगे यह नियम बना वह नियम अरे सिंपल सी बात अपने जीवन में भगवान की आज्ञा पालन करना सबके विचार एक जैसे हो जाएंगे तो कोई झगड़ा ही झटके में खत्म हो जाएगा हरे कृष्णा

jai ho payi bible aur quraan on guru granth sahib uncha bhagwat geeta in sabka saare dharmon ka ek hi matlab hai apni bhagwan se prem karna kisi bhagwano mein hamari insaan hum insaan se koi competition nahi hota kabhi main tere se upar main tere se upar main teri shadi pad jaaun bhagwan ek hai aur har har dharm yah sikhata hai ki tum apne bhagwan se prem karo samjhe yah logo ne apne man ke hisab se bana rakhe hain competition kara diya aapas mein bhagwano kabhi bhagwan bhi socho kamaal hai yaad hai maine ekta ka path sikhaya har dharm mein ullu gaya bhai saheb mere koi aapas mein competition karaare bhagwat geeta bhakti ki book hai bhagwan se prem karne ki book hai bible bhi allah se prem karne ki book hai guru granth sahib hi apni ishwar se prem karne ki book hai har book haragyan har dharm mein bhagwan se prem karna sikhati hai jab main bhagwan se prem karne ke bhagwan ki aagya palan karoge toh apne aap hi saare jhagde khatam ho jayegi na jhagde isliye hote hain ki har kisi ke vichar match nahi khate toh hansi teri vaah bhagwan ke bhagwan ke granth padhoge toh sab ke vichar ek jaise ho jaenge toh koi ladai ki baat hi nahi hogi na phir class mein teacher badha do duni char toh sabhi shikshak shabd kar lete hain kyonki sabko pata hai do duni char hota hai vo teacher bolo do duni paanch koi bola jo duniya mein kabhi galat bata rahi thi galat bata rahe ho toh yahi mehendi ji ne aaj ke time mein jhagde ka log apne apne apne apne tark dekar usse vaah santusht karna chah rahe hain ki mere taraf se yah mere par chahiye bhai bhagwan se bada koi nahi hai bhagwan ne hum ko banaya toh bhagwan se better koi nahi bata sakta hamare liye kya accha kya bura unki aagya palan karenge unki batein maanani toh sabke man mein ek hi center point bhagwan ko banakar chalenge unki aagya ko bana kar chalenge toh koi ladai jhadna hoga hi nahi na isliye pal si batein ladai jhagde ko rokne ki log samajhte nahi hai karodo kharch kar denge yah niyam bana vaah niyam are simple si baat apne jeevan mein bhagwan ki aagya palan karna sabke vichar ek jaise ho jaenge toh koi jhadna hi jhatake mein khatam ho jaega hare krishna

जय हो पाई बाइबल और कुरान ओं गुरु ग्रंथ साहिब ऊंचा भगवत गीता इन सबका सारे धर्मों का एक ही म

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  163
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवत गीता में जो भी ज्ञान उपदेश दिया गया है भगवान द्वारा दिया गया है और उसके साथी स्वयं भगवान बनी हुई है और बाइबिल कुरान में ऐसा कहीं कुछ नहीं है हमारी गीता की ज्ञान की आहे ऐसा लगता है जब किसी और धर्म की पुस्तकों को पढ़ते हैं तो मान लो कोई चीज मिलती है तो उसका ट्रांसलेट कर लिया गया हो कोई सा भी धर्म की पुस्तक आम उठा लीजिएगा तो जीता से बाहर कर कुछ बात मिलेगी कविता से बाहर नहीं मिलेगी गीता में सभी धर्मों का ज्ञान समाए थे फिर भी गीता आगे हैं सभी धर्मों की पुस्तकों की गीता के ज्ञान की बराबर नहीं हो पाएंगे गीता का ज्ञान हमेशा रहेगा सभी धर्म ग्रंथों में श्रेष्ठ है

bhagwat geeta mein jo bhi gyaan updesh diya gaya hai bhagwan dwara diya gaya hai aur uske sathi swayam bhagwan bani hui hai aur bible quraan mein aisa kahin kuch nahi hai hamari geeta ki gyaan ki aahe aisa lagta hai jab kisi aur dharm ki pustakon ko padhte hain toh maan lo koi cheez milti hai toh uska translate kar liya gaya ho koi sa bhi dharm ki pustak aam utha lijiega toh jita se bahar kar kuch baat milegi kavita se bahar nahi milegi geeta mein sabhi dharmon ka gyaan samaaye the phir bhi geeta aage hain sabhi dharmon ki pustakon ki geeta ke gyaan ki barabar nahi ho payenge geeta ka gyaan hamesha rahega sabhi dharm granthon mein shreshtha hai

भगवत गीता में जो भी ज्ञान उपदेश दिया गया है भगवान द्वारा दिया गया है और उसके साथी स्वयं भग

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  490
WhatsApp_icon
play
user

Kesharram

Teacher

2:15

Likes  8  Dislikes    views  286
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!