क्या बॉलीवुड में नए युग के गीतों के बोल सार्थक नहीं हैं? समझाइए?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे मेरे पहले कहा था कि समय के साथ हर चीज बदलता है और इसलिए बॉलीवुड भी बदलेगा अगर लोगों को वह गाने पसंद नहीं आते आजकल के गाने तो वह हिट नहीं होते तो जाहिर सी बातें के लोगों को गाने पसंद आ रहे हैं शायद मुश्किल शायद वह लिरिक्स पहले जैसे नहीं रहे ना कोई एग्जाम देना चाहूंगी आपने प्रेमरतनधनपायो तो देखा ही होगा सूरज बड़जात्या का जो फिल्म है यह इसमें जलते दिए गाना है वह ओल्ड स्टाइल का है गाना लेकिन लोगों को ज्यादा पसंद नहीं आया तो अगर ऐसे ही गाने बनाते जाए तो लोग गाना ही सुना बंद करेंगे मेरे हिसाब से शायद आप का ओपिनियन इस पर और पूछो आप मुझे बता सकते हैं मैं खुश होंगी आप का ओपिनियन जाने में

mujhe mere pehle kaha tha ki samay ke saath har cheez badalta hai aur isliye bollywood bhi badlega agar logo ko vaah gaane pasand nahi aate aajkal ke gaane toh vaah hit nahi hote toh jaahir si batein ke logo ko gaane pasand aa rahe hai shayad mushkil shayad vaah lyrics pehle jaise nahi rahe na koi exam dena chahungi aapne premaratanadhanapayo toh dekha hi hoga suraj barjatya ka jo film hai yah isme jalte diye gaana hai vaah old style ka hai gaana lekin logo ko zyada pasand nahi aaya toh agar aise hi gaane banate jaaye toh log gaana hi suna band karenge mere hisab se shayad aap ka opinion is par aur pucho aap mujhe bata sakte hai khush hongi aap ka opinion jaane mein

मुझे मेरे पहले कहा था कि समय के साथ हर चीज बदलता है और इसलिए बॉलीवुड भी बदलेगा अगर लोगों क

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  154
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

S

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एप्स लूट ली आई एग्री विद ईमानदार यह एक जनरल सीलिंग जितने लोगों को मैं जानता हूं कोई भी ऐसा इंसान नहीं है जिसने कभी यह बात कही हो एनएसआईसी माइंड कि आजकल के बॉलीवुड के जो गानों के बोल हैं उनमें ज्यादा मीनिंग है पहले के गानों के मुकाबले आपसे मिनट तक भी देखो तो बहुत बेहतरीन लिरिक्स लिखते थे बॉलीवुड के रिश्ते उस जमाने तक लेकिन उसके बाद धीरे-धीरे गिरता क्या स्तर और अब तो ऐसा लगता है कि गानों के जो बोल हैं उनका कोई महत्व ही नहीं है कुछ भी लिरिक्स के नाम पर होता है पीछे टिक टिक टिक टिक टिक सकता है पर यह चलेगा और लीजिए आप का गाना तैयार और उसका दोस्त किसको देंगे आप ऑडियंस को क्यों की जब आप एक कुएं के मेंढक हो जाते हैं आपको जो परोसा जाता है कि सारा संसार वही है तो मुझे लगता है उससे परे हमें देखने की जरूरत है अब तो इंटरनेट है सबके पास अपने म्यूजिक एक्सप्लोर कीजिए नई चीजें Discover कीजिए और फिर आप समझ पाएंगे कि बॉलीवुड म्यूजिक कहां ठहरता है बाकी दुनिया में जो ऑप्शन साहब के पास अवेलेबल है उनके मुकाबले शायद तब कहीं जाकर बॉलीवुड को बेहतर करने की प्रेरणा मिलेगी नहीं तो यह बदलने वाला बिल्कुल नहीं है अगर हम सब संतुष्ट रहेंगे जो हमें दिया जा रहा है उससे तो

apps loot li I agree with imaandaar yah ek general ceiling jitne logo ko main jaanta hoon koi bhi aisa insaan nahi hai jisne kabhi yah baat kahi ho NSIC mind ki aajkal ke bollywood ke jo gaano ke bol hain unmen zyada meaning hai pehle ke gaano ke muqable aapse minute tak bhi dekho toh bahut behtareen lyrics likhte the bollywood ke rishte us jamane tak lekin uske baad dhire dhire girta kya sthar aur ab toh aisa lagta hai ki gaano ke jo bol hain unka koi mahatva hi nahi hai kuch bhi lyrics ke naam par hota hai peeche tick tick tick tick tick sakta hai par yah chalega aur lijiye aap ka gaana taiyar aur uska dost kisko denge aap adiyans ko kyon ki jab aap ek kuen ke mendak ho jaate hain aapko jo parosa jata hai ki saara sansar wahi hai toh mujhe lagta hai usse pare hamein dekhne ki zarurat hai ab toh internet hai sabke paas apne music eksaplor kijiye nayi cheezen Discover kijiye aur phir aap samajh payenge ki bollywood music kahaan thahrata hai baki duniya mein jo option saheb ke paas available hai unke muqable shayad tab kahin jaakar bollywood ko behtar karne ki prerna milegi nahi toh yah badalne vala bilkul nahi hai agar hum sab santusht rahenge jo hamein diya ja raha hai usse toh

एप्स लूट ली आई एग्री विद ईमानदार यह एक जनरल सीलिंग जितने लोगों को मैं जानता हूं कोई भी ऐसा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज मेरे को लगता है कि जो बॉलीवुड के सॉन्ग से जो आजकल के सोंग्स उनके जो WhatsApp के जो बोल है वह इतने सार्थक नहीं है और कई बार तो को इतने मीनिंग ले सोते कि उनका कोई मीनिंग नहीं होता वह सिर्फ एक ट्यून होती है जिसे भी करण जोहर की मूवी में गाना तू करके कुछ खाना था वह बकवास कहां जाओ मतलब उसका कोई लॉजिक नहीं तो कोई मतलब नहीं था उस गाने का फिर भी वह इतना ज्यादा सेट हो गया हुआ करते थे के गाने तू इतनी ज्यादा लाउड होते हैं पहली बात और दूसरी बात को इतने बेमतलब के गानों की लगता है कि उनको सिर्फ मूवीस में कई बातों ठोका चाहते हैं लेकिन की जरूरत भी नहीं होती मूवीस में और फिर भी ऐसे गाने डाल दिए जाते हैं हालांकि आज के समय में भी कुछ ऐसे संगत हैं कुछ ऐसे गाने हैं जो काफी अच्छे हैं काफी और सुनने में अच्छे लगते हैं और उनकी मीनिंग भेजो होते हैं गानों का जो नंबर है वह बहुत कम है और ऐसे गाने जिनको कोई मीनिंग नहीं है जो ब्रेसलेट गाने हैं वह कुछ ज्यादा ही है आज के समय में हमारे बॉलीवुड में

aaj mere ko lagta hai ki jo bollywood ke song se jo aajkal ke songs unke jo WhatsApp ke jo bol hai vaah itne sarthak nahi hai aur kai baar toh ko itne meaning le sote ki unka koi meaning nahi hota vaah sirf ek tune hoti hai jise bhi karan johar ki movie mein gaana tu karke kuch khana tha vaah bakwas kahaan jao matlab uska koi logic nahi toh koi matlab nahi tha us gaane ka phir bhi vaah itna zyada set ho gaya hua karte the ke gaane tu itni zyada loud hote hain pehli baat aur dusri baat ko itne bematalab ke gaano ki lagta hai ki unko sirf Movies mein kai baaton thokaa chahte hain lekin ki zarurat bhi nahi hoti Movies mein aur phir bhi aise gaane daal diye jaate hain halaki aaj ke samay mein bhi kuch aise sangat hain kuch aise gaane hain jo kaafi acche hain kaafi aur sunne mein acche lagte hain aur unki meaning bhejo hote hain gaano ka jo number hai vaah bahut kam hai aur aise gaane jinako koi meaning nahi hai jo bracelet gaane hain vaah kuch zyada hi hai aaj ke samay mein hamare bollywood mein

आज मेरे को लगता है कि जो बॉलीवुड के सॉन्ग से जो आजकल के सोंग्स उनके जो WhatsApp के जो बोल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
play
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

0:52

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कहां दिखे आजकल जो नई बॉलीवुड सांग्स आ रहे हैं उसमें जो है वह राइमिंग पर ज्यादा फोकस किया जाता है ना कि गाने की मीनिंग से लेकिन ऐसा नहीं कि सारे गाने इसी तरह के होते हैं सारे गाने रात नहीं होते कुछ कुछ कुछ कुछ नहीं मैं कई गाने कहूंगा कि

kahaan dikhe aajkal jo nayi bollywood songs aa rahe hain usme jo hai vaah rhyming par zyada focus kiya jata hai na ki gaane ki meaning se lekin aisa nahi ki saare gaane isi tarah ke hote hain saare gaane raat nahi hote kuch kuch kuch kuch nahi main kai gaane kahunga ki

कहां दिखे आजकल जो नई बॉलीवुड सांग्स आ रहे हैं उसमें जो है वह राइमिंग पर ज्यादा फोकस किया ज

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हां मुझे लगता है कि बॉलीवुड के नए युग के गीत के बोल दे बिल्कुल सार्थक नहीं क्योंकि अगर हम पिछले 8 साल से लेकर 10 प्रकार के गाने आ रहे हैं अगर हम बोले तो यह गाने जो है वह उतनी मीनिंग फुल नहीं है अपने सार्थक नहीं है जैसे पहले के बॉलीवुड के गीत हुआ करते थे अगर हम 2006 तक 5 तक देखे तो वहां लिखते हैं बॉलीवुड गाने आया करते थे उनके बोल देते हो सार्थक है लेकिन अभी क्यों बात कर रहे हो अभी के बॉलीवुड के नए युग के गीत के बोल है वह मेरे को सार्थक नहीं अगर हम यो यो हनी सिंह देखिए आप हमको भी रास्ते रफ्तार देख ले तू ही रब जो भी गाना गाते हैं वह ज्यादा कमर्शियल होता है वह पिक्चर हिट करने के लिए गाते हुए इसलिए नहीं करते क्योंकि और गाना अच्छा हो या गाने जो है वह वार्ड जीते हैं उसे कमर्शियल दर्शन के लिए जाते हैं ताकि गाने हिट हो जाए और पैसे मिल जाए इसके लिए आ क्योंकि अगर बॉलीवुड में देखे तो बॉलीवुड की फिल्मों में गाने जो होते एक बहुत ही महत्व देते हैं और यही नहीं आओगे जब बोल होते वह बताते की पिक्चर में कौन सा सीन चल रहा है और शीघ्र ही नहीं बॉलीवुड के गाने जो है वह पिक्चर के प्लॉट को या फिर कैसे तस्कर को बहुत महत्व देते हैं अगर संजय लीला भंसाली की मूवी दिखाइए चोपड़ा की मूवी देखें तो हिंदी पिक्चर गीत जाते होंगे बिल्कुल सार्थक होता है वह स्टोरी लाइट बहुत मिलता-जुलता है तो मेरे हिसाब से एप्लीकेशन नए युग के गाने जो है वह इतने सार्थक नहीं हो पिक्चर के प्लॉट को भी अपना सपोर्ट नहीं करते जब आइटम नंबर सोते हैं या फिर ऐसे गाने जो किसी को फिट होते थोड़े पल के लिए तो मेरे हिसाब से बॉलीवुड के नए युग के गीत के बोल जब सार्थक बिल्कुल नहीं है

dekhiye haan mujhe lagta hai ki bollywood ke naye yug ke geet ke bol de bilkul sarthak nahi kyonki agar hum pichle 8 saal se lekar 10 prakar ke gaane aa rahe hain agar hum bole toh yah gaane jo hai vaah utani meaning full nahi hai apne sarthak nahi hai jaise pehle ke bollywood ke geet hua karte the agar hum 2006 tak 5 tak dekhe toh wahan likhte hain bollywood gaane aaya karte the unke bol dete ho sarthak hai lekin abhi kyon baat kar rahe ho abhi ke bollywood ke naye yug ke geet ke bol hai vaah mere ko sarthak nahi agar hum yo yo honey Singh dekhiye aap hamko bhi raste raftaar dekh le tu hi rab jo bhi gaana gaate hain vaah zyada commercial hota hai vaah picture hit karne ke liye gaate hue isliye nahi karte kyonki aur gaana accha ho ya gaane jo hai vaah ward jeete hain use commercial darshan ke liye jaate hain taki gaane hit ho jaaye aur paise mil jaaye iske liye aa kyonki agar bollywood mein dekhe toh bollywood ki filmo mein gaane jo hote ek bahut hi mahatva dete hain aur yahi nahi aaoge jab bol hote vaah batatey ki picture mein kaun sa seen chal raha hai aur shighra hi nahi bollywood ke gaane jo hai vaah picture ke plot ko ya phir kaise taskar ko bahut mahatva dete hain agar sanjay leela bhansali ki movie dikhaaiye chopra ki movie dekhen toh hindi picture geet jaate honge bilkul sarthak hota hai vaah story light bahut milta julataa hai toh mere hisab se application naye yug ke gaane jo hai vaah itne sarthak nahi ho picture ke plot ko bhi apna support nahi karte jab item number sote hain ya phir aise gaane jo kisi ko fit hote thode pal ke liye toh mere hisab se bollywood ke naye yug ke geet ke bol jab sarthak bilkul nahi hai

देखिए हां मुझे लगता है कि बॉलीवुड के नए युग के गीत के बोल दे बिल्कुल सार्थक नहीं क्योंकि अ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  184
WhatsApp_icon
user

Simranpreet Singh

B.Tech in CE from SRM

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मैं यह बिल्कुल इस बात से सहमत हूं कि जो इस समय नए बॉलीवुड गीत आ रहे हैं आजकल के जमाने में देखना चाहते हैं उनके जो बोल होते हैं वह इतने ज्यादा रियल एस्टेट या इतने ज्यादा फील्ड करने वाले नहीं होते हैं क्योंकि इसका देखे मेन रीजन यह है कि आजकल ज्यादातर गाने इसमें रेप का प्रयोग होता है जिसकी वजह से थोड़ा सा मतलब उसका जो क्रेज है यह एक तरह से क्या नहीं उसका जो सीरियल है वह चीज नहीं रह जाती है उसमें जहां और जहां तक हम लोग देखा जाए पुराने जमाने के गाने अगर देखें तो उनमें काफी रियल स्टेट बोर्ड न्यूज़ होते थे अच्छी-अच्छी शायरियां यूज होती थी और काफी सीलिंग होती थी उनमें दर्द भरा होता था तो मेरी नजर में यह एक रीजन है जो आजकल के बॉलीवुड गाने आ रहे हैं वह इतने ज्यादा इफेक्टिव हैं इतने ज्यादा अच्छे नहीं होते हैं

ji haan main yah bilkul is baat se sahmat hoon ki jo is samay naye bollywood geet aa rahe hain aajkal ke jamane mein dekhna chahte hain unke jo bol hote hain vaah itne zyada real estate ya itne zyada field karne waale nahi hote hain kyonki iska dekhe main reason yah hai ki aajkal jyadatar gaane isme rape ka prayog hota hai jiski wajah se thoda sa matlab uska jo craze hai yah ek tarah se kya nahi uska jo serial hai vaah cheez nahi reh jaati hai usme jaha aur jaha tak hum log dekha jaaye purane jamane ke gaane agar dekhen toh unmen kaafi real state board news hote the achi achi shayriyan use hoti thi aur kaafi ceiling hoti thi unmen dard bhara hota tha toh meri nazar mein yah ek reason hai jo aajkal ke bollywood gaane aa rahe hain vaah itne zyada effective hain itne zyada acche nahi hote hain

जी हां मैं यह बिल्कुल इस बात से सहमत हूं कि जो इस समय नए बॉलीवुड गीत आ रहे हैं आजकल के जमा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  154
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां यह बात बिल्कुल सही है कि आजकल जो बॉलीवुड में नई बुक में गीता रहे हैं और जिन तरह जिस तरह के गाने बन रहे हैं मूवीस में उनकी वह बिल्कुल भी सार्थक नहीं है और सार्थक यानी की मीनिंग फुल नहीं है क्योंकि आज के समय आज के युग में जो भी है वह संगीत बनाया जा रहा है उस पर और जो शब्द यूज किए जाते हैं उनका कोई भी वोट ज़ोर होता ही नहीं है और ना वह एक दूसरे से किसी तरह का मीनिंग बना रहे होते हैं नहीं मीनिंग घर जा रहे होते हैं और वह सिर्फ यूज़ किए जाते हैं गाना बनाने के लिए लेकिन वह गाने में कुछ भी हो हमें समझ नहीं आ पाता कि यह क्या दर्शाने का प्रयास कर रहे हैं वह गाना क्या समझाना चाह रहा है जबकि यह जो पुरानी यो के सोंग्स हुआ करते थे उन सभी में जो उनका मीनिंग होता तो वह सबसे पहले मायने रखता था कि उस गाने में उन कैरेक्टर्स को या फिर एक्ट्रेस को क्या दर्शन है उस हिसाब से गाना बनाया जाता था उसी हिसाब से उस का म्यूजिक दिया जाता था लेकिन आजकल की + रॉक और रॉक म्यूजिक की दुनिया है इसमें और जो गाने उनके मूल बिल्कुल भी नाटक नहीं होती हैं और उनको सिर्फ यह सोचकर बनाया जाता है कि वह म्यूजिक से मैच करना चाहिए और उनके मीनिंग पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है और आजकल के गानों में हमें कुछ भी खाने से देखने को मिलते हैं सुनने को मिलते हैं जिसमें उनका मीनिंग हमें समझ आ रहा होता है और गाने के बोल हमें समझा रहे होते वरना आज की दुनिया में अब बोलो किस तरह से उपयोग किया जाता है कि वह सिर्फ गाना बनना चाहिए और उसका क्या मैं नहीं निकल जा रहा है उसको कि उसे किसी को फर्क नहीं पड़ता है वही आजकल क्यों बोला मैं किसी तरह की राइमिंग भी नहीं बची है उनको सिर्फ यूज़ किया जाता है एक शब्द की तरह और उनके ऊपर म्यूजिक डाल दिया जाता है जो कि सारा बोल खबर कर देता है और रोमन बोलो का जो मतलब समझ में नहीं आ रहा था उसको उसको लोग ध्यान ही नहीं देते हैं उस पर लोगों को फर्क ही नहीं पड़ता है क्योंकि यह आज के लोग आज के जो लोग हैं वह जानते म्यूजिक पर ध्यान देना पसंद करते हैं ना कि फूलों के ऊपर

ji haan yah baat bilkul sahi hai ki aajkal jo bollywood mein nayi book mein geeta rahe hai aur jin tarah jis tarah ke gaane ban rahe hai Movies mein unki vaah bilkul bhi sarthak nahi hai aur sarthak yani ki meaning full nahi hai kyonki aaj ke samay aaj ke yug mein jo bhi hai vaah sangeet banaya ja raha hai us par aur jo shabd use kiye jaate hai unka koi bhi vote zor hota hi nahi hai aur na vaah ek dusre se kisi tarah ka meaning bana rahe hote hai nahi meaning ghar ja rahe hote hai aur vaah sirf use kiye jaate hai gaana banane ke liye lekin vaah gaane mein kuch bhi ho hamein samajh nahi aa pata ki yah kya darshane ka prayas kar rahe hai vaah gaana kya samajhana chah raha hai jabki yah jo purani yo ke songs hua karte the un sabhi mein jo unka meaning hota toh vaah sabse pehle maayne rakhta tha ki us gaane mein un characters ko ya phir actress ko kya darshan hai us hisab se gaana banaya jata tha usi hisab se us ka music diya jata tha lekin aajkal ki rock aur rock music ki duniya hai isme aur jo gaane unke mul bilkul bhi natak nahi hoti hai aur unko sirf yah sochkar banaya jata hai ki vaah music se match karna chahiye aur unke meaning par zyada dhyan nahi diya jata hai aur aajkal ke gaano mein hamein kuch bhi khane se dekhne ko milte hai sunne ko milte hai jisme unka meaning hamein samajh aa raha hota hai aur gaane ke bol hamein samjha rahe hote varna aaj ki duniya mein ab bolo kis tarah se upyog kiya jata hai ki vaah sirf gaana banna chahiye aur uska kya main nahi nikal ja raha hai usko ki use kisi ko fark nahi padta hai wahi aajkal kyon bola main kisi tarah ki rhyming bhi nahi bachi hai unko sirf use kiya jata hai ek shabd ki tarah aur unke upar music daal diya jata hai jo ki saara bol khabar kar deta hai aur roman bolo ka jo matlab samajh mein nahi aa raha tha usko usko log dhyan hi nahi dete hai us par logo ko fark hi nahi padta hai kyonki yah aaj ke log aaj ke jo log hai vaah jante music par dhyan dena pasand karte hai na ki fulo ke upar

जी हां यह बात बिल्कुल सही है कि आजकल जो बॉलीवुड में नई बुक में गीता रहे हैं और जिन तरह जिस

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!