ओम बिरला कहते हैं "सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम हैं"। आपकी क्या राय है?...


user

Nikhil Ranjan

HoD - NIELIT

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न एवं बेला कहते हैं कि सांसद लोगों सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम है आपकी क्या राय है तभी के यहां पर बिल्कुल सही यह तथ्य मुझे लगता है बिल्कुल सही बात लगती है कि 2 सांसद हैं वह लोगों की बातें जन भावनाओं को संसद तक पहुंचा सकते हैं सरकार तक पहुंचा सकते हैं बशर्ते वह जो सांसद हैं वह अपनी जनता से अपने इलाके की जनता से जुड़े हुए हो ऐसा नहीं है कि वोट मांगने जब गए तब के गए उसके बाद कभी उन्होंने कुछ पीछे मुड़कर देखा ही नहीं कोई सरोकार नहीं रहा ऐसे व्यक्ति कभी भी जनता से जुड़े नहीं रह सकते और ना ही उनकी बातों को सुन सकता के सरकार तक पहुंचा सकते हैं आप ही कह रहा है इस बारे में कमेंट सेक्शन में तेरा जोक साझा करें शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

namaskar aapka prashna evam bela kehte hain ki saansad logo sarkar ke beech sanchar ka ek mahatvapurna madhyam hai aapki kya rai hai tabhi ke yahan par bilkul sahi yah tathya mujhe lagta hai bilkul sahi baat lagti hai ki 2 saansad hain vaah logo ki batein jan bhavnao ko sansad tak pohcha sakte hain sarkar tak pohcha sakte hain basharte vaah jo saansad hain vaah apni janta se apne ilaake ki janta se jude hue ho aisa nahi hai ki vote mangne jab gaye tab ke gaye uske baad kabhi unhone kuch peeche mudkar dekha hi nahi koi sarokar nahi raha aise vyakti kabhi bhi janta se jude nahi reh sakte aur na hi unki baaton ko sun sakta ke sarkar tak pohcha sakte hain aap hi keh raha hai is bare me comment section me tera joke sajha kare subhkamnaayain aapke saath hain dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न एवं बेला कहते हैं कि सांसद लोगों सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण म

Romanized Version
Likes  1010  Dislikes    views  9593
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तो नमस्कार देखी आपने कहा ओम बिरला जी कहते हैं सांसद और सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम में सही कहा है कि सांसद आप के छोटे-छोटे क्षेत्रों में अब एक प्रतिनिधि चुनते हैं क्योंकि हर व्यक्ति दिल्ली जाकर अपनी समस्या को नहीं सुना सकता तो आप छोटे-छोटे क्षेत्रों में आप प्रतिनिधि चुनते हैं जिसको आप क्षेत्रीय समस्याओं से अवगत कराते हैं फिर वह आपकी बात रखने कैबिनेट में जाता है बिल्कुल संचार का माध्यम का सकते हैं दूसरे शब्दों में से जनसेवक कर सकते हैं धन्यवाद

hello doston namaskar dekhi aapne kaha om birala ji kehte hain saansad aur saansad logo aur sarkar ke beech sanchar sanchar ka ek mahatvapurna madhyam mein sahi kaha hai ki saansad aap ke chhote chhote kshetro mein ab ek pratinidhi chunte hain kyonki har vyakti delhi jaakar apni samasya ko nahi suna sakta toh aap chhote chhote kshetro mein aap pratinidhi chunte hain jisko aap kshetriya samasyaon se avgat karate hain phir vaah aapki baat rakhne cabinet mein jata hai bilkul sanchar ka madhyam ka sakte hain dusre shabdon mein se jansevak kar sakte hain dhanyavad

हेलो दोस्तो नमस्कार देखी आपने कहा ओम बिरला जी कहते हैं सांसद और सांसद लोगों और सरकार के बी

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  502
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला साहब का कहना बिल्कुल सही है सांसद या एमएलए इन करता है तो तारीख जनसमस्याओं को दिल्ली जाकर के विधानसभा और लोकसभा में सरकार के सामने रखें सरकार की स्थिति क्या है सरकारी कर्मचारियों को सरकारी अधिकारियों के द्वारा प्रस्तुत करें और सांसद सरकार और जनता के बीच की एक माध्यम होते हैं लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि सांसद और एमएलए आदि हैं यह लोग अपने कार्यों पूरा नहीं करते हैं जबकि मैं करना चाहिए क्योंकि नैतिकता यही कहती है इसी के लिए चंदा इमेजेस आती है पर भारत की जनता ही कुछ अजीब है ना समस्या यह जातिवाद और बादल उसके आधार पर इनको वोट देते हैं घर का विशेषता यही है कि जब तक वह चिंता नहीं है जब तक तो मैं बड़ा महत्व बड़ा हाथ जोड़ेगा आप से 25 दिन निकलेगा और जिम जाने के बाद फिर वह किसी की नहीं सुनते हैं क्योंकि सत्ता मजा आ जाता है उनके पास तो फिर उनके दिमाग में ही रहता है कि हम इनके स्वामी है जो कुछ हम करेंगे वह होगा जबकि हकीकत यह है कि जनता उनकी हमेशा स्वामी है 5 साल बाद उन्होंने वही आना है ध्यान देना चाहिए हमें जनता की आवाज को हटाना चाहिए जनता की समस्याओं को उठाइए जनता को समस्याओं से मुक्ति दिलाए राहत दिलाए आप उन पर कार्य नहीं करते हैं कि हमारे देश का बड़ा हम नागरिकों की तरह है

lok sabha speaker om birala saheb ka kehna bilkul sahi hai saansad ya mla in karta hai toh tarikh janasamasyaon ko delhi jaakar ke vidhan sabha aur lok sabha mein sarkar ke saamne rakhen sarkar ki sthiti kya hai sarkari karmachariyon ko sarkari adhikaariyo ke dwara prastut kare aur saansad sarkar aur janta ke beech ki ek madhyam hote hain lekin durbhagya is baat ka hai ki saansad aur mla aadi hain yah log apne karyo pura nahi karte hain jabki main karna chahiye kyonki naitikta yahi kehti hai isi ke liye chanda images aati hai par bharat ki janta hi kuch ajib hai na samasya yah jaatiwad aur badal uske aadhaar par inko vote dete hain ghar ka visheshata yahi hai ki jab tak vaah chinta nahi hai jab tak toh main bada mahatva bada hath jodega aap se 25 din niklega aur gym jaane ke baad phir vaah kisi ki nahi sunte hain kyonki satta maza aa jata hai unke paas toh phir unke dimag mein hi rehta hai ki hum inke swami hai jo kuch hum karenge vaah hoga jabki haqiqat yah hai ki janta unki hamesha swami hai 5 saal baad unhone wahi aana hai dhyan dena chahiye hamein janta ki awaaz ko hatana chahiye janta ki samasyaon ko uthaiye janta ko samasyaon se mukti dilaye rahat dilaye aap un par karya nahi karte hain ki hamare desh ka bada hum nagriko ki tarah hai

लोकसभा स्पीकर ओम बिरला साहब का कहना बिल्कुल सही है सांसद या एमएलए इन करता है तो तारीख जनसम

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1211
WhatsApp_icon
user
1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्ला जी ने बिल्कुल सही कहा है कि सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम है कोई भी व्यक्ति सरकार तक सीधे नहीं हो सकता है या सीधे अपनी बात नहीं पहुंचा सकता लेकिन एक व्यक्ति अपने क्षेत्र के सांसद तक अपनी बात जरूर रख सकता है तक अपनी पास जरूर पहुंचा सकता है यदि कोई समस्या को लेकर हम अपने सांसद से मिल सकते हैं और उन्हें बेहतर ढंग से उस समस्या से अवगत कराते हुए उस समस्या के समाधान की मांग कर सकते हैं या हमारी कोई मांग है तो उसे भी उनके समक्ष रख सकते हैं इस क्षेत्र के विकास संबंधी चर्चा उनसे की जा सकती है यही चर्चा वह सरकार तक पहुंचाएंगे आप की मांगों को आपकी समस्याओं को क्षेत्र के विकास संबंधी बातों को वह सरकार तक पहुंचाएंगे इस प्रकार कहा जा सकता है कि सांसद एक प्रकार से जनता और सरकार के बीच फूल का कार्य कड़ी का कार्य करते हैं

billa ji ne bilkul sahi kaha hai ki saansad logo aur sarkar ke beech sanchar ka ek mahatvapurna madhyam hai koi bhi vyakti sarkar tak sidhe nahi ho sakta hai ya sidhe apni baat nahi pohcha sakta lekin ek vyakti apne kshetra ke saansad tak apni baat zaroor rakh sakta hai tak apni paas zaroor pohcha sakta hai yadi koi samasya ko lekar hum apne saansad se mil sakte hain aur unhe behtar dhang se us samasya se avgat karate hue us samasya ke samadhan ki maang kar sakte hain ya hamari koi maang hai toh use bhi unke samaksh rakh sakte hain is kshetra ke vikas sambandhi charcha unse ki ja sakti hai yahi charcha vaah sarkar tak pahunchaenge aap ki maangon ko aapki samasyaon ko kshetra ke vikas sambandhi baaton ko vaah sarkar tak pahunchaenge is prakar kaha ja sakta hai ki saansad ek prakar se janta aur sarkar ke beech fool ka karya kadi ka karya karte hain

बिल्ला जी ने बिल्कुल सही कहा है कि सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण माध्

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  772
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम बिरला कहते हैं सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम आपकी क्या राय है कि ओम बिरला साहब जो कहते हैं वह मैं उनकी बातचीत संपूर्ण ब्यास सहमत हूं मैं हूं और सबको होना भी चाहिए क्योंकि आपके कहने के अनुसार जो सांसद को हर एक जिले का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं पूरे जिले में क्या चल रहा है वहां की क्या समस्याएं और वहां पर जो प्रधानमंत्री जी के द्वारा या संसद के द्वारा जो कानून का प्रावधान हुआ है जो संसाधनों का दो मेंटल संभोग किस तरीके से हो रहा है वह आंसर अपनी प्रजा में अपने जिले में प्रवास कर के और बेहतर तरीके से उसके लिए उनको एक सांसद को आम जनता से जोड़ना पड़ता है आम जनता की जो उनके जिले की जनता है वह हमसे जकनेक्ट होगी और वह अपना कार्यालय अगर खोल के रख देंगे और कोई भी इंसान जाकर वहां पर अगर अपना मत पर अपनी तकलीफ बता सकेगा तब जाकर सांसद जी को मालूम पड़ेगा कि यह यह तकलीफ है और वह संसद में इसके बारे में सवाल उठा सकें इसीलिए ओम बिरला साहब ने कहा है कि संसार एक सांसद यह जो संचार का एक महत्वपूर्ण के रूप में संसद को कार्य जरूर से करना चाहिए घड़ी उनकी नैतिक जवाबदारी इसीलिए उनको जनता ने चुना हुआ है जनता ने उनको तुम पर इसलिए नहीं भेजा है कि बस आपको जो सांसद के तौर पर आपको जो वेतन मिलता है जो सुविधाएं मिलती है वही आप उसका उठाई लेकिन आपको आम जनता से आपके जिले की जनता से जुड़कर हर एक जिले में कितने तालुके है जितने गांव हैं जितने शहर है उनकी आम जनता से आपको कनेक्ट होना चाहिए जब तक संसद सत्र चल रहा है तब तक वहां पर भी हाजिरी दीजिए लेकिन फिर बाद में जब आ जाते हैं तो आपको करना क्या है आपको यही करना है खाली उद्घाटन करने जाना है या कोई बहू मान लेने जाना है तो वह सब भी करी हम को कोई एतराज नहीं है लेकिन एक आम नागरिक के रूप में अगर हम आपके जनता है तो हमारी समस्या सांसद के रूप में तुम और संसद में पहुंचाना चाहिए और संसद में प्रस्तुत करना चाहिए ताकि सरकार अवगत हो सके और उसके बारे में जो उनको योग्य करना है वह करके इसी तरह से आम जनता का प्रश्न संसद उठ सकता है और समस्या का निराकरण हो सकता है बहुत-बहुत धन्यवाद जय हिंद

om birala kehte hain saansad logo aur sarkar ke beech sanchar sanchar ka ek mahatvapurna madhyam aapki kya rai hai ki om birala saheb jo kehte hain vaah main unki batchit sampurna byas sahmat hoon main hoon aur sabko hona bhi chahiye kyonki aapke kehne ke anusaar jo saansad ko har ek jile ka pratinidhitva kar rahe hain poore jile mein kya chal raha hai wahan ki kya samasyaen aur wahan par jo pradhanmantri ji ke dwara ya sansad ke dwara jo kanoon ka pravadhan hua hai jo sansadhano ka do mental sambhog kis tarike se ho raha hai vaah answer apni praja mein apne jile mein pravas kar ke aur behtar tarike se uske liye unko ek saansad ko aam janta se jodna padta hai aam janta ki jo unke jile ki janta hai vaah humse jaknekt hogi aur vaah apna karyalay agar khol ke rakh denge aur koi bhi insaan jaakar wahan par agar apna mat par apni takleef bata sakega tab jaakar saansad ji ko maloom padega ki yah yah takleef hai aur vaah sansad mein iske bare mein sawaal utha sake isliye om birala saheb ne kaha hai ki sansar ek saansad yah jo sanchar ka ek mahatvapurna ke roop mein sansad ko karya zaroor se karna chahiye ghadi unki naitik javabdari isliye unko janta ne chuna hua hai janta ne unko tum par isliye nahi bheja hai ki bus aapko jo saansad ke taur par aapko jo vetan milta hai jo suvidhaen milti hai wahi aap uska uthayi lekin aapko aam janta se aapke jile ki janta se judakar har ek jile mein kitne taluk hai jitne gaon hain jitne shehar hai unki aam janta se aapko connect hona chahiye jab tak sansad satra chal raha hai tab tak wahan par bhi hajiri dijiye lekin phir baad mein jab aa jaate hain toh aapko karna kya hai aapko yahi karna hai khaali udghatan karne jana hai ya koi bahu maan lene jana hai toh vaah sab bhi kari hum ko koi ittaraj nahi hai lekin ek aam nagarik ke roop mein agar hum aapke janta hai toh hamari samasya saansad ke roop mein tum aur sansad mein pahunchana chahiye aur sansad mein prastut karna chahiye taki sarkar avgat ho sake aur uske bare mein jo unko yogya karna hai vaah karke isi tarah se aam janta ka prashna sansad uth sakta hai aur samasya ka nirakaran ho sakta hai bahut bahut dhanyavad jai hind

ओम बिरला कहते हैं सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम आपकी क्य

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1335
WhatsApp_icon
play
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम बिरला का यह कहना कि सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्मा नियम है निश्चित रूप से सही है आंसर से संचार का माध्यम नहीं है आंसर सरकार निकम्मी है और सरकार की नीतियों को क्रियान्वित कराने का जिम्मा उनके ऊपर भी है क्योंकि नीति बनाने वाले बड़े हैं इसलिए आंसर सिर्फ संचार के माध्यमों करते रहें यह काफी नहीं होगा संसार के द्वारा जनता की जो मांग है जनता जो चाह रही है जनता की जो अपेक्षाएं हैं जनता की दुआएं हैं जनता के लिए रुकते हैं आवश्यकताएं हैं उसके लिए भी सांसदों को आगे आकर के काम करना पड़ेगा सिर्फ बातें पहुंचा देना मंत्रालय तक यह काफी नहीं होना होगा कि कैसे जनता की भलाई के दिशा में जोड़ना उचित होगा और सांसद इस संचार के माध्यमों से आने वाले प्रतिक्रियाओं के लिए जिम्मेदार है और सही दिशा में आई ही प्रक्रिया सही दिशा में आई हुई जरूरत सही दिशा में प्राप्त हुई जनता इच्छा का सम्मान होना चाहिए और उसके दिशा में कार्य होना चाहिए जिससे कि अधिक से अधिक लोग कल्याण किया जा सके धन्यवाद

om birala ka yah kehna ki saansad logo aur sarkar ke beech sanchar ka ek mahatma niyam hai nishchit roop se sahi hai answer se sanchar ka madhyam nahi hai answer sarkar nikammee hai aur sarkar ki nitiyon ko kriyanwit karane ka jimma unke upar bhi hai kyonki niti banane waale bade hain isliye answer sirf sanchar ke maadhyamon karte rahein yah kaafi nahi hoga sansar ke dwara janta ki jo maang hai janta jo chah rahi hai janta ki jo apekshayen hain janta ki duaen hain janta ke liye rukte hain aavashyakataen hain uske liye bhi sansadon ko aage aakar ke kaam karna padega sirf batein pohcha dena mantralay tak yah kaafi nahi hona hoga ki kaise janta ki bhalai ke disha mein jodna uchit hoga aur saansad is sanchar ke maadhyamon se aane waale pratikriyaon ke liye zimmedar hai aur sahi disha mein I hi prakriya sahi disha mein I hui zarurat sahi disha mein prapt hui janta iccha ka sammaan hona chahiye aur uske disha mein karya hona chahiye jisse ki adhik se adhik log kalyan kiya ja sake dhanyavad

ओम बिरला का यह कहना कि सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्मा नियम है निश्चित रूप

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1795
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओम बिरला कहते हैं सांसद लोगों के सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण मारते हैं संसद लोगों के और बड़े सरकार के बीच में संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम है

om birala kehte hain saansad logo ke saansad logo aur sarkar ke beech sanchar ka ek mahatvapurna marte hain sansad logo ke aur bade sarkar ke beech mein sanchar ka ek mahatvapurna madhyam hai

ओम बिरला कहते हैं सांसद लोगों के सांसद लोगों और सरकार के बीच संचार का एक महत्वपूर्ण मारते

Romanized Version
Likes  454  Dislikes    views  5670
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!