मोदी की जीवनी पर फ़िल्म बनने की बातचीत हो रही है, क्या मोदी इस लायक हैं? क्यों?...


user
1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात मैं यह बताना चाहूंगा और स्पष्ट करना चाहूंगा कि किसी की बुक पर फिल्म बनाने के लिए मूवी बनाने के लिए या नहीं देखा जाता कि वह लायक या नहीं लाकर यह देखा जाता है कि यह देखा जाता है कि उसने कितना समाज को प्रभावित किया है और किस तरह से अपने कार्यों से अपने योगदान उसे विश्व और मानव समुदाय को एक अच्छी पहल की ओर जाने का संकेत किया है तो जिस प्रकार से नरेंद्र मोदी हमारे प्रधानमंत्री की लोकप्रियता भारत और विश्व में बड़ी है ना सिर्फ उनकी लोकप्रियता बल्कि भारत की प्राचीन सभ्यता और संस्कृति को जिस तरह से उसके मूलभूत तत्व सभ्यता और संस्कृति सम्मान आदर्श नैतिकता का जिस प्रकार से प्रचार हुआ है नरेंद्र मोदी जी के शासनकाल में उससे मुझे यह नहीं लगता कि उनके ऊपर फिल्म बनाने में कोई आपत्ति होनी चाहिए और फिल्म बननी चाहिए उन्होंने एक समाज को नई दिशा दी है भले ही आज भारत के अंदर कुछ भी हो रहा लेकिन बाहरी रूप जो प्रतिष्ठा जो मान मर्यादा भारत के प्राचीन काल बैरिक सभ्यता में थी आर्यों के समय थी महात्मा बुद्ध के समय थी वह आज एक बार फिर से देखने को मिल रहा है जैसा कि उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ में भी कहा था कि भारत में बुध किया युद्ध नहीं

pehli baat main yah bataana chahunga aur spasht karna chahunga ki kisi ki book par film banaane ke liye movie banaane ke liye ya nahi dekha jata ki vaah layak ya nahi lakar yah dekha jata hai ki yah dekha jata hai ki usne kitna samaaj ko prabhavit kiya hai aur kis tarah se apne kaaryon se apne yogdan use vishwa aur manav samuday ko ek achi pahal ki aur jaane ka sanket kiya hai toh jis prakar se narendra modi hamare pradhanmantri ki lokpriyata bharat aur vishwa mein badi hai na sirf unki lokpriyata balki bharat ki prachin sabhyata aur sanskriti ko jis tarah se uske mulbhut tatva sabhyata aur sanskriti sammaan adarsh naitikta ka jis prakar se prachar hua hai narendra modi ji ke shasankal mein usse mujhe yah nahi lagta ki unke upar film banaane mein koi apatti honi chahiye aur film banani chahiye unhone ek samaaj ko nayi disha di hai bhale hi aaj bharat ke andar kuch bhi ho raha lekin baahri roop jo prathishtha jo maan maryada bharat ke prachin kaal bairik sabhyata mein thi aaryon ke samay thi mahatma buddha ke samay thi vaah aaj ek baar phir se dekhne ko mil raha hai jaisa ki unhone sanyukt rashtra sangh mein bhi kaha tha ki bharat mein buddha kiya yudh nahi

पहली बात मैं यह बताना चाहूंगा और स्पष्ट करना चाहूंगा कि किसी की बुक पर फिल्म बनाने के लिए

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  144
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
modi ki jivani ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!