विधवा के दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज़ क्यूँ होता है?...


user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

0:18
Play

Likes  161  Dislikes    views  3219
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

नत्थु लाल

महावास्तु परामर्श दाता, रेकी मास्टर, Hypnosis & NLP Practitioners

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अच्छा देखा यह गया है कि लोगों को दूसरे की फटे में टांग अड़ा ने की आदत बहुत होती है इसका दूसरा नाम हम कह सकते हैं ताकि उनको एतराज है तो यह एतराज एक ऐसी चीज है जिसको कोई भी कभी भी खत्म नहीं कर सकता अगर ऐतराज है तो है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि विधवा की दोबारा शादी नहीं होनी चाहिए विधवा की दोबारा शादी होनी चाहिए ताकि उसका आगे का जीवन सुखी जाए उसका परिवार बस यही बात तो इतिहास लोगों को तो हर किसी के खाने पीने में हर चीज में इतराज रहता है किस-किस का एक लाख खत्म करोगे धन्यवाद

accha dekha yah gaya hai ki logo ko dusre ki phate me taang ada ne ki aadat bahut hoti hai iska doosra naam hum keh sakte hain taki unko ittaraj hai toh yah ittaraj ek aisi cheez hai jisko koi bhi kabhi bhi khatam nahi kar sakta agar aitraz hai toh hai lekin iska matlab yah nahi ki vidva ki dobara shaadi nahi honi chahiye vidva ki dobara shaadi honi chahiye taki uska aage ka jeevan sukhi jaaye uska parivar bus yahi baat toh itihas logo ko toh har kisi ke khane peene me har cheez me itraj rehta hai kis kis ka ek lakh khatam karoge dhanyavad

अच्छा देखा यह गया है कि लोगों को दूसरे की फटे में टांग अड़ा ने की आदत बहुत होती है इसका दू

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user
0:26
Play

Likes  266  Dislikes    views  1823
WhatsApp_icon
user

Shipra Ranjan

Life Coach

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल ही की विधवा तो दोबारा शादी से बहुत से लोगों को एहसास क्यों होता है तो देखिए यह समाज जिसमें हम रहते हैं इसकी सोच ऐसी ही है और इसकी सोच को बदला नहीं जा सकता है लेकिन अगर आप इस तरीके का कोई चेक लेना चाहते हैं तो यह बहुत यह कच्छा स्टेप है कहीं ना कहीं से किसी ना किसी को तो शुरुआत करनी ही चाहिए है तो पहल यहीं से क्यों नहीं आपने शुभ रहे थे

aapka sawaal hi ki vidva toh dobara shaadi se bahut se logo ko ehsaas kyon hota hai toh dekhiye yah samaj jisme hum rehte hain iski soch aisi hi hai aur iski soch ko badla nahi ja sakta hai lekin agar aap is tarike ka koi check lena chahte hain toh yah bahut yah kaccha step hai kahin na kahin se kisi na kisi ko toh shuruat karni hi chahiye hai toh pahal yahin se kyon nahi aapne shubha rahe the

आपका सवाल ही की विधवा तो दोबारा शादी से बहुत से लोगों को एहसास क्यों होता है तो देखिए यह स

Romanized Version
Likes  556  Dislikes    views  5726
WhatsApp_icon
user

Pramod Kushwaha

famous Motivational Guru N Painter

0:36
Play

Likes  24  Dislikes    views  412
WhatsApp_icon
user

Rajkumar

Astrologer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे विद्वानों को दोबारा शादी करने से बहुत से लोगों को ऐतराज होता है क्योंकि 1 दिन के अंदर जाता है कि स्त्री जो है उसके एक मलिकपुर उसके पैर भारी तीनों की है जिसकी वजह से शादी के बाद इनका जो इनका साथी जो गुजर गया जिसका पति गुजर गया और इसी बात को लेकर बैठेगी तो सिर्फ चुके हैं और विधवा को विधवा के द्वारा शादी होने से लोग कतार लगती हो

dekhe vidvaano ko dobara shaadi karne se bahut se logo ko aitraz hota hai kyonki 1 din ke andar jata hai ki stree jo hai uske ek malikapur uske pair bhari tatvo ki hai jiski wajah se shaadi ke baad inka jo inka sathi jo gujar gaya jiska pati gujar gaya aur isi baat ko lekar baithegi toh sirf chuke hain aur vidva ko vidva ke dwara shaadi hone se log katar lagti ho

देखे विद्वानों को दोबारा शादी करने से बहुत से लोगों को ऐतराज होता है क्योंकि 1 दिन के अंदर

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user

Amit vishwakarma

Psychologist

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों के ऐतराज क्यों होता है अब शायद समाज बदल रहा है तो शायद लोगों के इतने ज्यादा एतराज नहीं होगा विधवा से शादी को पहले ज्यादा लोगों को ऐतराज हुआ करता था आज भी अधिक पुरानी मानसिकता कैसे लोग हैं यह एतराज कहते हैं इसी सीधी सी बात इतनी है कि बुधवार को उन्होंने एक शापित बना दिया है आदमी को कितने ही विवाह करने की इजाजत दे रखी है लेकिन आपको नहीं यह हमारे समाज का बहुत बड़ा बहुत बड़ा अभिप्राय का न्याय औरतों के खिलाफ उसने हमेशा होठों के दबा के रखना चाहते थे इसलिए उन्होंने इस तरह के नियम बनाए और वह प्रचलन में उतर आए हैं कि लोगों को खुद पता नहीं है कि हमें क्यों कर रहे हैं जो समझदार हैं जिस बारे में जानते हैं समझते हैं कि एलियन सब खोखले हैं लोगों ने अपने मतलब के लिए स्वार्थ के लिए सब नियम बनाए थे वह लोग तो इस बात को समझते हैं बाकी धर्मावलंबी है जो इसका सब निर्वहन कर उसको तवज्जो देते हैं उन्हें खुद पता नहीं है कि वह सदियों से चली है इस परंपरा को क्यों अभी तक धो रहे हैं परंपराएं लोगों के लिए बनी हुई है लोग परंपरा के लिए नहीं बने

vidva ki dobara shaadi se bahut se logo ke aitraz kyon hota hai ab shayad samaj badal raha hai toh shayad logo ke itne zyada ittaraj nahi hoga vidva se shaadi ko pehle zyada logo ko aitraz hua karta tha aaj bhi adhik purani mansikta kaise log hain yah ittaraj kehte hain isi seedhi si baat itni hai ki budhavar ko unhone ek shaapit bana diya hai aadmi ko kitne hi vivah karne ki ijajat de rakhi hai lekin aapko nahi yah hamare samaj ka bahut bada bahut bada abhipray ka nyay auraton ke khilaf usne hamesha hothon ke daba ke rakhna chahte the isliye unhone is tarah ke niyam banaye aur vaah prachalan me utar aaye hain ki logo ko khud pata nahi hai ki hamein kyon kar rahe hain jo samajhdar hain jis bare me jante hain samajhte hain ki alien sab khokle hain logo ne apne matlab ke liye swarth ke liye sab niyam banaye the vaah log toh is baat ko samajhte hain baki dharmavalambi hai jo iska sab nirvahan kar usko tavajjo dete hain unhe khud pata nahi hai ki vaah sadiyon se chali hai is parampara ko kyon abhi tak dho rahe hain paramparayen logo ke liye bani hui hai log parampara ke liye nahi bane

विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों के ऐतराज क्यों होता है अब शायद समाज बदल रहा है तो शा

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  287
WhatsApp_icon
play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी देखिए आज की तारीख में मुझे लगा कि भारतवर्ष में है ऐसा इंजन तल्ला कोई मेजर प्रॉब्लम है कि अगर किसी का हाथ पैर नहीं है तो वह दोबारा शादी कर ले और इसमें कोई एतराज हो या पाप आज की तारीख में यह बॉडीज पैकिंग ठीक-ठाक है लेकिन फिर भी कहीं-कहीं पर कुछ एरियाज में ऐसे जरूर हो सकता है कि जहां पर अभी भी लोग इतना सहमत ना हो कि भाई की शादी कर दी जाए लेकिन समय बहुत चेंज हो गए पहले काफी टाइम पहले ऐसा होता था भारत में आकर भाई इसको ठीक नजर से नहीं देखा जाता था और वह यह था कि नहीं अब जोगे होगे क्यों क्योंकि आप किसी एक इंसान से बने थे और उनके जाने के बाद ऐसा नहीं है कि अब आपको आजादी हो गई और आप किसी और के साथ भी रह सकते हो तो शायद यह लिया था यह रीजन है जिसके कारण कि ऐसा एक्सेप्टेबल नहीं था सोसाइटी में हमारे समाज में तो इसीलिए शायद पहले एक राज होता था और वो उसको इस तरीके पीआर रागिनी बचे थे लेकिन आज हमें चेंज हो गया है लोगों को समझ आने लगा है कि भैया ऐसा जरूरी नहीं है कि भाई आप को अकेले ही जीवन बिताना पड़ेगा पहले यह भी कहा कि भैया बहुत कम उम्र में शादी हो जाती थी और सोचिए कम उम्र में शादी हो गई है किसी के आगे से लड़की है और उसके पति का देहांत हो जाता है बहुत जल्दी वह भी बहुत कम लोग में आप सोचिए माली के बीच 25 साल की लड़की है शायद उसे भी काम किया और पति का देहांत हो जाता है अत उसे इतनी लंबी लाइफ है और अकेले जीना तो शायद सनी लगी है क्यों क्योंकि यह वह नहीं है जिन्होंने जो सोचा था कि मैं अपना लाइफ आके ले जाऊंगी यह तो वह है जो मैंने सोचा था कि मैं अपनी शादीशुदा जिंदगी जीना पसंद करोगे अपना घर बसाऊंगी और आगे ले जाऊंगी लेकिन इनको सब रोका गया तो वह शायद ऐसा ही नहीं था आज की तारीख में चाहे वह उमर जो भी हो ऐसा लगता है कि नहीं मुझे परिवार की जरूरत है मुझे हस्तम की जरूरत है घर को आगे ले जाने हेतु डेफिनेटली अध्यारोपण यार उनको आगे बढ़ना चाहिए ऐसा कुछ और रुकना नहीं चाहिए अपने आप को और समझ भी आजकल इतना आरोप टोक नहीं लगाते हैं अगर आपको कंफर्टेबल लगता है तो आपको डेफिनेट लिए सेकंड मैरिज के लिए जाना चाहिए

ji dekhiye aaj ki tarikh mein mujhe laga ki bharatvarsh mein hai aisa engine talla koi major problem hai ki agar kisi ka hath pair nahi hai toh vaah dobara shadi kar le aur isme koi ittaraj ho ya paap aaj ki tarikh mein yah bodies packing theek thak hai lekin phir bhi kahin kahin par kuch areas mein aise zaroor ho sakta hai ki jaha par abhi bhi log itna sahmat na ho ki bhai ki shadi kar di jaaye lekin samay bahut change ho gaye pehle kaafi time pehle aisa hota tha bharat mein aakar bhai isko theek nazar se nahi dekha jata tha aur vaah yah tha ki nahi ab joge hoge kyon kyonki aap kisi ek insaan se bane the aur unke jaane ke baad aisa nahi hai ki ab aapko azadi ho gayi aur aap kisi aur ke saath bhi reh sakte ho toh shayad yah liya tha yah reason hai jiske karan ki aisa ekseptebal nahi tha society mein hamare samaj mein toh isliye shayad pehle ek raj hota tha aur vo usko is tarike PR ragini bache the lekin aaj hamein change ho gaya hai logo ko samajh aane laga hai ki bhaiya aisa zaroori nahi hai ki bhai aap ko akele hi jeevan bitana padega pehle yah bhi kaha ki bhaiya bahut kam umr mein shadi ho jaati thi aur sochiye kam umr mein shadi ho gayi hai kisi ke aage se ladki hai aur uske pati ka dehant ho jata hai bahut jaldi vaah bhi bahut kam log mein aap sochiye maali ke beech 25 saal ki ladki hai shayad use bhi kaam kiya aur pati ka dehant ho jata hai at use itni lambi life hai aur akele jeena toh shayad sunny lagi hai kyon kyonki yah vaah nahi hai jinhone jo socha tha ki main apna life aake le jaungi yah toh vaah hai jo maine socha tha ki main apni shaadishuda zindagi jeena pasand karoge apna ghar basaungi aur aage le jaungi lekin inko sab roka gaya toh vaah shayad aisa hi nahi tha aaj ki tarikh mein chahen vaah umar jo bhi ho aisa lagta hai ki nahi mujhe parivar ki zarurat hai mujhe hastam ki zarurat hai ghar ko aage le jaane hetu definetli adhyaaropan yaar unko aage badhana chahiye aisa kuch aur rukna nahi chahiye apne aap ko aur samajh bhi aajkal itna aarop tok nahi lagate hain agar aapko Comfortable lagta hai toh aapko definet liye second marriage ke liye jana chahiye

जी देखिए आज की तारीख में मुझे लगा कि भारतवर्ष में है ऐसा इंजन तल्ला कोई मेजर प्रॉब्लम है क

Romanized Version
Likes  497  Dislikes    views  6957
WhatsApp_icon
user

Mukund

Counselor & Coach

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों से लोगों को ऐतराज क्यों होता है क्योंकि वह तकिया न्यू सी चाल वाले होते हैं ठीक है ना उनको जो है कानून पता नहीं होता है उनको जो है हिस्ट्री इतिहास पता नहीं होता 18 से 56 में 16 जुलाई अट्ठारह छप्पन भोग ईश्वर चंद्र विद्यासागर ने दी सरकार के साथ एक कानून बनवाया था उसका कोई प्रावधान दिया मतलब क्या कहती धारावी है तो कोई इसको रोक नहीं सकता कानून जिसको जो परेशानी हो या रखे अपने घर में अगर तो वह अपनी बेटी को या की बहन नहीं शादी करने देना चाहता तो कानून का विरोध कर सकते हैं जो यही सब कुछ ठीक है ना तो सवाल ही बेकार है झूल है अगर आप किसी के लिए पूछ रहे हैं उनको बोलिए कल सुबह आज सुबह अभी इसी वक्त शादी करिए आप अपने लिए पूछ रहे हैं तो मैं आपकी यही कहूंगा अब छोड़ दीजिए आप इसी वक्त आज अभी शादी करोगी तो अब मुझे बैकग्राउंड नहीं पता आपको कुछ ऐसे ही आप अगर क्या कहते हैं उसको इंफॉर्मेशन के लिए अगर आप इंफॉर्मेशन के लिए नहीं पूछा किसी के लिए पूछे तो यह जो कुछ मैंने बताया है उसमें से हो सकता है आपको कुछ बात उपयोग में आता बेस्ट ऑफर

vidva ki dobara shadi se bahut se logo se logo ko aitraz kyon hota hai kyonki vaah takiya new si chaal waale hote hain theek hai na unko jo hai kanoon pata nahi hota hai unko jo hai history itihas pata nahi hota 18 se 56 mein 16 july attharah chappan bhog ishwar chandra vidyasagar ne di sarkar ke saath ek kanoon banwaya tha uska koi pravadhan diya matlab kya kehti dharavi hai toh koi isko rok nahi sakta kanoon jisko jo pareshani ho ya rakhe apne ghar mein agar toh vaah apni beti ko ya ki behen nahi shadi karne dena chahta toh kanoon ka virodh kar sakte hain jo yahi sab kuch theek hai na toh sawaal hi bekar hai jhul hai agar aap kisi ke liye puch rahe hain unko bolie kal subah aaj subah abhi isi waqt shadi kariye aap apne liye puch rahe hain toh main aapki yahi kahunga ab chod dijiye aap isi waqt aaj abhi shadi karogi toh ab mujhe background nahi pata aapko kuch aise hi aap agar kya kehte hain usko information ke liye agar aap information ke liye nahi poocha kisi ke liye pooche toh yah jo kuch maine bataya hai usme se ho sakta hai aapko kuch baat upyog mein aata best offer

विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों से लोगों को ऐतराज क्यों होता है क्योंकि वह तकिया न्य

Romanized Version
Likes  87  Dislikes    views  2168
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कभी आपका बहुत ही अच्छा प्रश्न विधवा के दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है उनकी सोच होती है वह सच है कि विधवा हो गई अब दुबारा क्या शादी करेगी शादी करके क्या करेगी उसे अच्छा के उसका वह बच्चे तो बच्चे पहले उसके ससुराल है उसमें ही रहे लोगों की सोच होती है जिसके कारण वह लोग दूसरों को आगे नहीं आने देते हैं और अभी तो जमाना बदल गया है जो नेगेटिव सोच रहे हो तो सो जाएं तो पॉजिटिव सोच रहा है अभी जमाने में बदलने के चांसेस है पुराना सोच ले कि नहीं बैठा है ठीक है दोबारा शादी कर सकते हैं तो कर देनी चाहिए ताकि जो एतराज करते हैं उनको करने दो उनको साइड में रखो और अपनी लाइफ आगे बताओ आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

kabhi aapka bahut hi accha prashna vidva ke dobara shadi se bahut se logo ko aitraz kyon hota hai unki soch hoti hai vaah sach hai ki vidva ho gayi ab dubara kya shadi karegi shadi karke kya karegi use accha ke uska vaah bacche toh bacche pehle uske sasural hai usme hi rahe logo ki soch hoti hai jiske karan vaah log dusro ko aage nahi aane dete hain aur abhi toh jamana badal gaya hai jo Negative soch rahe ho toh so jayen toh positive soch raha hai abhi jamane mein badalne ke chances hai purana soch le ki nahi baitha hai theek hai dobara shadi kar sakte hain toh kar deni chahiye taki jo ittaraj karte hain unko karne do unko side mein rakho aur apni life aage batao aapka din shubha rahe dhanyavad

कभी आपका बहुत ही अच्छा प्रश्न विधवा के दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है

Romanized Version
Likes  407  Dislikes    views  5655
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आज के टाइम में विधवा लोगों की शादी से किसी को भी एतराज नहीं होता है लेकिन अगर लड़की की शादी हुई है और शादी के साथ 8 साल के बाद अगर उनके पति का डेट होता है और उनके बच्चे बड़े हो गए हैं तो उस लड़की को त्याग करना चाहिए कभी भी दोबारा शादी नहीं करना चाहिए जब ऐसी शादी होती है तो समाज को दिक्कत होती है घर परिवार वालों को दिक्कत होती है क्योंकि बच्चे बड़े हो गए रहते हैं अगर आप दोबारा शादी करोगी तो फिर आप नए मोह माया में फंस जाओगे फिर आपके बच्चों का पालन पोषण कौन करेगा दिक्कत होगी कि नहीं तो इस स्थिति में लड़कियों को शादी नहीं करना चाहिए आज की डेट में बहुत सारी ऐसी लड़कियां हैं जिनका शादी होता है और साल भर के बाद पति का पति का डेट होता है उसके बाद भी वह लड़की शादी नहीं करती क्योंकि वह अपने पति को परमेश्वर मानती हैं और उनके यादों के सहारे वह अपने जीवन को जीने की कोशिश करती हैं तो ऐसी स्त्री समाज में मिसाल मानी जाती हैं आदर्श मानी जाती हैं तो ऐसी स्त्रियों के पद चिन्हों पर चलने की जरूरत है हमारे देश के लड़कियों को धन्यवाद

dekhiye aaj ke time mein vidva logo ki shadi se kisi ko bhi ittaraj nahi hota hai lekin agar ladki ki shadi hui hai aur shadi ke saath 8 saal ke baad agar unke pati ka date hota hai aur unke bacche bade ho gaye hain toh us ladki ko tyag karna chahiye kabhi bhi dobara shadi nahi karna chahiye jab aisi shadi hoti hai toh samaj ko dikkat hoti hai ghar parivar walon ko dikkat hoti hai kyonki bacche bade ho gaye rehte hain agar aap dobara shadi karogi toh phir aap naye moh maya mein fans jaoge phir aapke baccho ka palan poshan kaun karega dikkat hogi ki nahi toh is sthiti mein ladkiyon ko shadi nahi karna chahiye aaj ki date mein bahut saree aisi ladkiyan hain jinka shadi hota hai aur saal bhar ke baad pati ka pati ka date hota hai uske baad bhi vaah ladki shadi nahi karti kyonki vaah apne pati ko parmeshwar maanati hain aur unke yaadon ke sahare vaah apne jeevan ko jeene ki koshish karti hain toh aisi stree samaj mein misal maani jaati hain adarsh maani jaati hain toh aisi sthreeyon ke pad chinho par chalne ki zarurat hai hamare desh ke ladkiyon ko dhanyavad

देखिए आज के टाइम में विधवा लोगों की शादी से किसी को भी एतराज नहीं होता है लेकिन अगर लड़की

Romanized Version
Likes  192  Dislikes    views  3845
WhatsApp_icon
user
1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में किसी औरत के विधवा होने पर उसे अच्छा नहीं माना जाता है और कई लोग अपनी बहू की विधवा होने पर दोबारा विवाह नहीं करते हैं और उसे भिजवा बनाकर में रखें लेकिन आज के जमाने में विधवा हो जाती है तो उसका दोबारा विवाह करना चाहिए उसे भी जिंदगी जीने का पूरा हक होता है और कई लोग आज ऐसा कदम उठाने लगे स्वयं ससुर ने अपनी बहू का छोटी मानसिकता के चलते इस प्रकार का समझते हैं और वे कदम सामाजिक दबाव में सामाजिक वीडियो में बुरा किया जाना चाहिए

bharat mein kisi aurat ke vidva hone par use accha nahi mana jata hai aur kai log apni bahu ki vidva hone par dobara vivah nahi karte hain aur use bhijwa banakar mein rakhen lekin aaj ke jamane mein vidva ho jaati hai toh uska dobara vivah karna chahiye use bhi zindagi jeene ka pura haq hota hai aur kai log aaj aisa kadam uthane lage swayam sasur ne apni bahu ka choti mansikta ke chalte is prakar ka samajhte hain aur ve kadam samajik dabaav mein samajik video mein bura kiya jana chahiye

भारत में किसी औरत के विधवा होने पर उसे अच्छा नहीं माना जाता है और कई लोग अपनी बहू की विधवा

Romanized Version
Likes  91  Dislikes    views  1825
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाचार आज का

samachar aaj ka

समाचार आज का

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1180
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विधवा के दोबारा शादी से बहुत लोगों को ऐसा क्यों होता है विश्वा के दोबारा शादी से इसलिए कुछ लोगों को ऐतराज होता है कि अगर कोई बच्चे हैं तो उनका भविष्य थोड़ा और निश्चित हो जाता है कि उनकी मांग और कुछ लोग इसको धर्म से जोड़कर देखते हैं कि विधवा है तो की विवाह द्वारा नहीं होना चाहिए जो एक बार सुखी नहीं हुआ तो दोबारा कैसे सुखी होगा बहुत ही गलत तरह की मानसिकता में लोग कुछ लोग गिरे रहते और गलत मांगी ताकि उनको बाहर आना चाहिए पहले कुछ कष्ट में ऐसा होता था कि विधवा क भिवानी होना चाहिए लेकिन कल भिजवा दिया को मान्यता मिली है ऐसी मान्यता मिली है और सब लोग उसका स्वागत कर रहे हैं कि विधवा जो भी है वह भी एक इंसान है उसके साथ अगर कोई जिंदगी में दुर्घटना हो गई है और वह किसी कारणवश विधवा हुई उसमें उसका कोई कसूर नहीं था तो फिर उसे अपने लिए भविष्य के लिए सिक्योर करने का भी हक है उसको अपनी जिंदगी का जीने का अच्छी तरह से हक है क्योंकि वह भी इंसान है इसलिए विधवा गया कि सब लोग दे रहे हैं लेकिन कुछ लोग बहुत पुराने ख्यालात के वही लोग इसका विरोध करें बाकी तो पैसा बहुत कम लोग देखने में आता है और यह बहुत ही अच्छी परेशानी द्वारा को बहुत ही अच्छे तरीके से हमको सोचना चाहिए लेना चाहिए और उसका स्वागत करना शनिवार शुभकामनाएं

vidva ke dobara shadi se bahut logo ko aisa kyon hota hai vishva ke dobara shadi se isliye kuch logo ko aitraz hota hai ki agar koi bacche hain toh unka bhavishya thoda aur nishchit ho jata hai ki unki maang aur kuch log isko dharm se jodkar dekhte hain ki vidva hai toh ki vivah dwara nahi hona chahiye jo ek baar sukhi nahi hua toh dobara kaise sukhi hoga bahut hi galat tarah ki mansikta mein log kuch log gire rehte aur galat maangi taki unko bahar aana chahiye pehle kuch kasht mein aisa hota tha ki vidva k Bhiwani hona chahiye lekin kal bhijwa diya ko manyata mili hai aisi manyata mili hai aur sab log uska swaagat kar rahe hain ki vidva jo bhi hai vaah bhi ek insaan hai uske saath agar koi zindagi mein durghatna ho gayi hai aur vaah kisi karanvash vidva hui usme uska koi kasoor nahi tha toh phir use apne liye bhavishya ke liye secure karne ka bhi haq hai usko apni zindagi ka jeene ka achi tarah se haq hai kyonki vaah bhi insaan hai isliye vidva gaya ki sab log de rahe hain lekin kuch log bahut purane khyalat ke wahi log iska virodh kare baki toh paisa bahut kam log dekhne mein aata hai aur yah bahut hi achi pareshani dwara ko bahut hi acche tarike se hamko sochna chahiye lena chahiye aur uska swaagat karna shaniwaar subhkamnaayain

विधवा के दोबारा शादी से बहुत लोगों को ऐसा क्यों होता है विश्वा के दोबारा शादी से इसलिए कु

Romanized Version
Likes  64  Dislikes    views  1274
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

4:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जहां तक दिलवा के दोबारा शादी और लोगों के सर आज का प्रश्न है तो उस समय बहुत सारी अपनी जटिल और आधुनिक समाज के लिए किसी भी लिहाज से उचित ना कहने वाले परंपराओं कार्ड हो रहा है उसी में एक यह भी है विधवा विवाह के विरोध में लोगों के धारणा और लोग पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं इसको अपने एक बेवजह सम्मान से जोड़ करके देखने लगते हैं या बिल्कुल ही उचित नहीं है बुधवार को अपने मरे हुए पति के प्रति समर्पित रहना चाहिए मेरे हिसाब से समय बदल रहा है और नई पीढ़ी अब उभरने लगी है और यह नई पढ़ी-लिखी लीपफीड ही विधवा विवाह का समर्थन करती है और मैं तो बहुत सारे ऐसे परिवारों को भी देखता हूं जो अपनी बहू को जो कि एक विधवा हो जाती है किसी वजह से उसे एक सम्मान देकर अपनी बेटी की तरह शादी भी करते हैं दूसरी जगह उसके खुशहाल जिंदगी पहले तो समय बदल रहा है फिर भी इस धारणा को बदलने में समय लगेगा और इतना आसान नहीं जब महिलाएं भी इस से बाहर निकल कर के नहीं आ पाए हैं इस तरह का डिसीजन लेने वाले महिलाओं की संख्या भी बहुत कम है औरैया तो समाज से घबराती हैं या उसके बाद परिणामों की मन ही मन समीक्षा करके थोड़ा लेकिन पढ़ी-लिखी लड़कियां पढ़ी-लिखी महिलाएं और अपनी जिंदगी को बेहतर करने की कोशिश करती थी विवाह के द्वारा किसी की जिंदगी में फिर से खुशियां लौट आएं इससे बेहतर क्या हो सकता है हम सबको इसका समर्थन करना चाहिए कोई जबरदस्ती नहीं हो सकता की दवा अब किसी और काम से जुड़ना चाहती हो सकता है उसके बच्चे को अपने बच्चे के लिए अब जीना चाहती हो तो जबरदस्ती भी नहीं होनी चाहिए विधवा विवाह करना चाहती है परिस्थितियां उसके लिए उपलब्ध हैं तो हमें उसकी मदद करनी चाहिए फुल कर के आगे आना चाहिए समाज को परिवार को सबको उसका साथ देना चाहिए और अपने देखने के नजरिए में बदलाव करना चाहिए हाथ पैर के युवा पीढ़ी से अपेक्षा है पढ़े लिखे समाज से अपेक्षा है कि वे ऐसा करेंगे और समय आएगा तो सती प्रथा जैसे और नंबर भी लंबे समय तक रहे क्या अभी समाप्त नहीं हुई सिर्फ कानून की बात करें कानून बना देना और यह समाप्त हुआ तो मेरे ख्याल से समय बदल रहा है लोगों की सोच भी बदल रही है और पुरानी धारणाओं के कारण अभी जो विरोध होता है वह विरोध भी देर सवेर समाप्त हो जाएगा धन्यवाद आपका दिन शुभ हो

dekhiye jaha tak dilwa ke dobara shadi aur logo ke sir aaj ka prashna hai toh us samay bahut saree apni jatil aur aadhunik samaj ke liye kisi bhi lihaj se uchit na kehne waale paramparaon card ho raha hai usi mein ek yah bhi hai vidva vivah ke virodh mein logo ke dharana aur log purvagrah se grasit hain isko apne ek bewajah sammaan se jod karke dekhne lagte hain ya bilkul hi uchit nahi hai budhavar ko apne mare hue pati ke prati samarpit rehna chahiye mere hisab se samay badal raha hai aur nayi peedhi ab ubharane lagi hai aur yah nayi padhi likhi lipfid hi vidva vivah ka samarthan karti hai aur main toh bahut saare aise parivaron ko bhi dekhta hoon jo apni bahu ko jo ki ek vidva ho jaati hai kisi wajah se use ek sammaan dekar apni beti ki tarah shadi bhi karte hain dusri jagah uske khushahal zindagi pehle toh samay badal raha hai phir bhi is dharana ko badalne mein samay lagega aur itna aasaan nahi jab mahilaye bhi is se bahar nikal kar ke nahi aa paye hain is tarah ka decision lene waale mahilaon ki sankhya bhi bahut kam hai auraiya toh samaj se ghabrati hain ya uske baad parinamon ki man hi man samiksha karke thoda lekin padhi likhi ladkiyan padhi likhi mahilaye aur apni zindagi ko behtar karne ki koshish karti thi vivah ke dwara kisi ki zindagi mein phir se khushiya lot aaen isse behtar kya ho sakta hai hum sabko iska samarthan karna chahiye koi jabardasti nahi ho sakta ki dawa ab kisi aur kaam se judna chahti ho sakta hai uske bacche ko apne bacche ke liye ab jeena chahti ho toh jabardasti bhi nahi honi chahiye vidva vivah karna chahti hai paristhiyaann uske liye uplabdh hain toh hamein uski madad karni chahiye full kar ke aage aana chahiye samaj ko parivar ko sabko uska saath dena chahiye aur apne dekhne ke nazariye mein badlav karna chahiye hath pair ke yuva peedhi se apeksha hai padhe likhe samaj se apeksha hai ki ve aisa karenge aur samay aayega toh sati pratha jaise aur number bhi lambe samay tak rahe kya abhi samapt nahi hui sirf kanoon ki baat kare kanoon bana dena aur yah samapt hua toh mere khayal se samay badal raha hai logo ki soch bhi badal rahi hai aur purani dharnaon ke karan abhi jo virodh hota hai vaah virodh bhi der saver samapt ho jaega dhanyavad aapka din shubha ho

देखिए जहां तक दिलवा के दोबारा शादी और लोगों के सर आज का प्रश्न है तो उस समय बहुत सारी अपनी

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  1917
WhatsApp_icon
user

Dr. Swatantra Jain

Psychotherapist, Family & Career Counsellor and Parenting & Life Coach

4:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है विद्माते दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है लोगों की मानसिकता बदलाव के लिए बहुत कम है किसी भी तरह के बदलाव हो उसको रेसिस्ट करते हैं विरोध करते हैं और जब जो रिवाज जो शोध सदियों से चल रही है जैसे धर्म ग्रंथों का सहारा मिला हुआ है जिसे संस्कृति से जोड़कर रखा है उस में बदलाव लाना बदलाव होना बदलाव स्वीकार करना बहुत मुश्किल होता है खासकर का में लोगों के लिए जो पढ़े-लिखे नहीं तो समझदार है नहीं है जिनके लिए सामाजिक मान्यताएं सब कुछ है उन सामाजिक मान्यताओं को तोड़ नहीं सकता जय बाबा की दोबारा शादी हो या बाल विवाह को खत्म करना यार लड़कियों को बराबर अधिकार की बात हो या कोई और इसलिए कानून पास कर देता है बदलाव के लिए लेकिन कानून कंप्लीमेंट इन होता जब तक नहीं हो सकता कानून पर इंप्लीमेंट जब तक समाज से स्वीकार ना करें मान लेना चाहिए कि एकदम से बदलाव सब स्वीकार नहीं करेंगे खुद भी दुआएं हैं इसको पोस्ट कर रही थी इसका विरोध कर रही थी तो वह बदलाव लाने के लिए हमें पॉजिटिव मानसिकता चाहिए अपने रिकंडीशनिंग हमारे धर्म गुरुओं ने हमारे शोकाट पंडितों ने जो भी कुछ लिखा था जो भी कुछ बोलते हैं वह यही बोलते हैं जिससे समाज उनकी बातों में विश्वास करने लगता है और वह उसका विरोध सह नहीं सकते तो खुद जो व्यक्ति हैं जिनके लिए कानून पास होता है बहिष्कृत नहीं करते चाहे कुछ भी हो तो यह कंडीशनिंग माइंड जो है वह किसी भी परिवर्तन को लाने नहीं देता तो कंडीशनिंग खत्म करने में देर से लगेगी जो समाज ठंडी खत्म करने में जल्दी सफल हो जाता है वहां जल्दी परिवर्तन आ जाता है और जो समाज कंडीशन खत्म करने में सफल नहीं होता वंदे में परिवर्तन छुट्टी

aapka prashna hai vidmate dobara shaadi se bahut se logo ko aitraz kyon hota hai logo ki mansikta badlav ke liye bahut kam hai kisi bhi tarah ke badlav ho usko resist karte hain virodh karte hain aur jab jo rivaaj jo shodh sadiyon se chal rahi hai jaise dharm granthon ka sahara mila hua hai jise sanskriti se jodkar rakha hai us me badlav lana badlav hona badlav sweekar karna bahut mushkil hota hai khaskar ka me logo ke liye jo padhe likhe nahi toh samajhdar hai nahi hai jinke liye samajik manyatae sab kuch hai un samajik manyataon ko tod nahi sakta jai baba ki dobara shaadi ho ya baal vivah ko khatam karna yaar ladkiyon ko barabar adhikaar ki baat ho ya koi aur isliye kanoon paas kar deta hai badlav ke liye lekin kanoon kampliment in hota jab tak nahi ho sakta kanoon par implement jab tak samaj se sweekar na kare maan lena chahiye ki ekdam se badlav sab sweekar nahi karenge khud bhi duaen hain isko post kar rahi thi iska virodh kar rahi thi toh vaah badlav lane ke liye hamein positive mansikta chahiye apne reconditioning hamare dharm guruon ne hamare shokat pandito ne jo bhi kuch likha tha jo bhi kuch bolte hain vaah yahi bolte hain jisse samaj unki baaton me vishwas karne lagta hai aur vaah uska virodh sah nahi sakte toh khud jo vyakti hain jinke liye kanoon paas hota hai bahishkrit nahi karte chahen kuch bhi ho toh yah Conditioning mind jo hai vaah kisi bhi parivartan ko lane nahi deta toh Conditioning khatam karne me der se lagegi jo samaj thandi khatam karne me jaldi safal ho jata hai wahan jaldi parivartan aa jata hai aur jo samaj condition khatam karne me safal nahi hota vande me parivartan chhutti

आपका प्रश्न है विद्माते दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है लोगों की मानसि

Romanized Version
Likes  398  Dislikes    views  2738
WhatsApp_icon
user

Sachidanand Joshi

Naturopath Yoga Trainer

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं सच्चिदानंद जोशी योगाचार्य एवं नेचुरोपैथी आकाश वाले भेदभाव के दोबारा शादी से बहुत-बहुत लोगों को परेशानी होती यात्रा क्यों होता है लोग जो सच्ची बात है वह यह है कि लोग अपने दुख से दुखी नहीं है अपने सुख से सुखी नहीं है लोग दूसरों के सुख से दुखी हैं इसलिए ऐतराज होता है धन्यवाद

namaskar main sacchidanand joshi yogacharya evam naturopathy akash waale bhedbhav ke dobara shaadi se bahut bahut logo ko pareshani hoti yatra kyon hota hai log jo sachi baat hai vaah yah hai ki log apne dukh se dukhi nahi hai apne sukh se sukhi nahi hai log dusro ke sukh se dukhi hain isliye aitraz hota hai dhanyavad

नमस्कार मैं सच्चिदानंद जोशी योगाचार्य एवं नेचुरोपैथी आकाश वाले भेदभाव के दोबारा शादी से बह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एक्चुअली प्राचीन काल में यह माना जाता था एक भ्रम था लोगों के मन में कि कोई महिला है उसका पति जल्दी मर गया तो महिलाओं के लिए अपशकुन थी इसलिए वह क्या है यह मुझे लगता है कि अपने घर में किसी को इस तरह से बर्ताव करना बिल्कुल सही नहीं है क्योंकि वह लड़की अपने खुद के पूरे घर को छोड़कर अपने दूसरे के घर में आई है और उसका पर पहुंचने के हस्बैंड नहीं रहा तो आपको सपोर्ट करना चाहिए नाचना कि इसका विरोध करना चाहिए दोबारा शादी बिल्कुल की जा सकती है सब कोई भी लो नहीं है तूने रोक सके और हमें सबसे पहले जो काम करना है वही हमें दूसरी चीज सेट करना पड़ेगा सामाजिक सेट करना पड़ेगा आसपास में और वह शादी करना चाहती तो खुलकर उनका समर्थन करना पड़ेगा क्योंकि वह कुछ गलत नहीं कर रही हो भी इंसान हैं और हम लोग इतना क्यों सोचते हैं मैं समझ नहीं आता हम अपनी जिंदगी में तो किसी और को बिल्कुल है तो हमें यही करना चाहिए हमेशा की जब जरूरत पड़े तो समर्थन करना चाहिए अच्छी चीज के लिए हमेशा खड़े होना चाहिए और शायद जब समय आएगा तो समाज अपने आप समझ जाएगा कि विधवा विवाह एक जैसी है आज के समय में और यह चीज काफी बदल भी रही है समाज में आजकल तो बहुत मॉडलाइजेशन हो रहा है तो काफी बदल रही तो इसमें कोई भी बुराई नहीं है धन्यवाद

actually prachin kaal mein yah mana jata tha ek bharam tha logo ke man mein ki koi mahila hai uska pati jaldi mar gaya toh mahilaon ke liye apashakun thi isliye vaah kya hai yah mujhe lagta hai ki apne ghar mein kisi ko is tarah se bartaav karna bilkul sahi nahi hai kyonki vaah ladki apne khud ke poore ghar ko chhodkar apne dusre ke ghar mein I hai aur uska par pahuchne ke husband nahi raha toh aapko support karna chahiye nachna ki iska virodh karna chahiye dobara shadi bilkul ki ja sakti hai sab koi bhi lo nahi hai tune rok sake aur hamein sabse pehle jo kaam karna hai wahi hamein dusri cheez set karna padega samajik set karna padega aaspass mein aur vaah shadi karna chahti toh khulkar unka samarthan karna padega kyonki vaah kuch galat nahi kar rahi ho bhi insaan hain aur hum log itna kyon sochte hain main samajh nahi aata hum apni zindagi mein toh kisi aur ko bilkul hai toh hamein yahi karna chahiye hamesha ki jab zarurat pade toh samarthan karna chahiye achi cheez ke liye hamesha khade hona chahiye aur shayad jab samay aayega toh samaj apne aap samajh jaega ki vidva vivah ek jaisi hai aaj ke samay mein aur yah cheez kaafi badal bhi rahi hai samaj mein aajkal toh bahut madlaijeshan ho raha hai toh kaafi badal rahi toh isme koi bhi burayi nahi hai dhanyavad

एक्चुअली प्राचीन काल में यह माना जाता था एक भ्रम था लोगों के मन में कि कोई महिला है उसका प

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  929
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  5  Dislikes    views  76
WhatsApp_icon
user
0:44
Play

Likes  6  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user
0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चाहे कोई भी सामान भी होता है और शादी के समान होता है वह जन्मदिन मंत्र का संबंध होता है कोई अगर एक बार जो कोई सामान नजारे बन जाता है उसको जन्म जन्मांतर के बाद भी वर्तमान में जो है अच्छे नहीं हो पाता है कोई संबंध है माना जाता है कि उसके बाद जमकर कमल मानती है यह मानते हुए कि राधा को हैप्पी मानते हो तो देना वरना कोई कारण है जो इस प्रकार के होते हैं जन्म जन्मांतर के होते हैं हमको जो है उसके जगह निभाना पड़ती है

chahen koi bhi saamaan bhi hota hai aur shaadi ke saman hota hai vaah janamdin mantra ka sambandh hota hai koi agar ek baar jo koi saamaan najare ban jata hai usko janam janmantar ke baad bhi vartaman me jo hai acche nahi ho pata hai koi sambandh hai mana jata hai ki uske baad jamakar kamal maanati hai yah maante hue ki radha ko happy maante ho toh dena varna koi karan hai jo is prakar ke hote hain janam janmantar ke hote hain hamko jo hai uske jagah nibhana padti hai

चाहे कोई भी सामान भी होता है और शादी के समान होता है वह जन्मदिन मंत्र का संबंध होता है कोई

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  450
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब आप एक एग्जांपल के हिसाब से सोचिए अपनी गाड़ी शोरूम से लेकर आते हैं उसको चलाते हैं वह आपके हिसाब से सेट हो जाती है आप एक सेकंड हैंड गाड़ी खरीदते हैं उसमें कुछ कमी भी होती है अब वह कमियां पहले नहीं बताई जाती वह उनकी प्रक्रिया आदमी एक एडल्ट हो जाता है उम्र के हिसाब से एक्सप्रेस भी आता है वह जी वह चीज दूसरे पाटन में खोजते हैं वह वह उनको नहीं मिलती इसीलिए जीवन गड़बड़ा जाता है इसीलिए दूध की दुआ शादी या विदुर की शादी नहीं करनी चाहिए सोचते हैं पर विधवा से शादी करने के बाद उसको उतना ज्यादा सपोर्ट देने की जरूरत पड़ती है उसके लिए अपने जीवन में शहजादा करना पड़ता है

jab aap ek example ke hisab se sochiye apni gaadi showroom se lekar aate hain usko chalte hain vaah aapke hisab se set ho jaati hai aap ek second hand gaadi kharidte hain usme kuch kami bhi hoti hai ab vaah kamiyan pehle nahi batai jaati vaah unki prakriya aadmi ek adult ho jata hai umar ke hisab se express bhi aata hai vaah ji vaah cheez dusre patan me khojate hain vaah vaah unko nahi milti isliye jeevan gadbada jata hai isliye doodh ki dua shaadi ya vidur ki shaadi nahi karni chahiye sochte hain par vidva se shaadi karne ke baad usko utana zyada support dene ki zarurat padti hai uske liye apne jeevan me shahjada karna padta hai

जब आप एक एग्जांपल के हिसाब से सोचिए अपनी गाड़ी शोरूम से लेकर आते हैं उसको चलाते हैं वह

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  229
WhatsApp_icon
user

Anand Pandey

Real Eastate Broker

0:50
Play

Likes  8  Dislikes    views  140
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि विधवा का भी जीवन है किसी के जीवन में दुख आ गया है खुशियों की चाह नहीं मिलनी चाहिए जरूर उसका पुनर्विवाह होना चाहिए और लोगों को इसके लिए आ गया

aisa nahi hona chahiye kyonki vidva ka bhi jeevan hai kisi ke jeevan me dukh aa gaya hai khushiyon ki chah nahi milani chahiye zaroor uska punarvivah hona chahiye aur logo ko iske liye aa gaya

ऐसा नहीं होना चाहिए क्योंकि विधवा का भी जीवन है किसी के जीवन में दुख आ गया है खुशियों की च

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
user

Ishwar Bansode

Business Owner

0:22
Play

Likes  12  Dislikes    views  145
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न एक विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज होता है ऐसे होते हैं अरे भाई उसकी जिंदगी है उसको उसका भी जीवन है और हर व्यक्ति को अपने जीवन जीने का पूरा अधिकार है चाहे कोई भी ऐसे लोगों की शादी का एतराज करते हैं ऐसे लोग बड़े ओल्ड विचारों के होते हैं और ऐसे लोग समाज में अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए झूठी प्रतिष्ठा बचाने के लिए दिखावा करने के लिए ऐसा एतराज करते हैं और केवल दूसरों के लिए यात्रा करते हैं खुद की बेटी के लिए एतराज नहीं करेंगे तो ऐसे लोगों को भी आप समझाना पड़ेगा कि भाई दिखी विधवा है कोई भी है कोई भी स्तरीय उसको अपने जीवन जीने का पूरा अधिकार है किसी को एतराज करने की जरूरत नहीं है और हमें उन्हें पुनः विभाग की विषय में समझाना चाहिए और ऐसे लोगों वह समाज के लोगों के द्वारा उचित मार्गदर्शन दिया जाए और उन्हें समझाया जाए कि भाई हर व्यक्ति के अपने जीवन जीने का अधिकार है विधवा को दोबारा शादी करनी चाहिए और उसके जीवन जीने का जो भी व्हाट्सएप दो ऐसे लोगों को कुछ ही लोग होते हैं जिन्हें एतराज होता है वही अपनी झूठी शान के लिए अथवा को दोबारा शादी करने का पूरा हक है धन्यवाद

aapka prashna ek vidva ki dobara shaadi se bahut se logo ko aitraz hota hai aise hote hain are bhai uski zindagi hai usko uska bhi jeevan hai aur har vyakti ko apne jeevan jeene ka pura adhikaar hai chahen koi bhi aise logo ki shaadi ka ittaraj karte hain aise log bade old vicharon ke hote hain aur aise log samaj me apni prathishtha bachane ke liye jhuthi prathishtha bachane ke liye dikhawa karne ke liye aisa ittaraj karte hain aur keval dusro ke liye yatra karte hain khud ki beti ke liye ittaraj nahi karenge toh aise logo ko bhi aap samajhana padega ki bhai dikhi vidva hai koi bhi hai koi bhi stariy usko apne jeevan jeene ka pura adhikaar hai kisi ko ittaraj karne ki zarurat nahi hai aur hamein unhe punh vibhag ki vishay me samajhana chahiye aur aise logo vaah samaj ke logo ke dwara uchit margdarshan diya jaaye aur unhe samjhaya jaaye ki bhai har vyakti ke apne jeevan jeene ka adhikaar hai vidva ko dobara shaadi karni chahiye aur uske jeevan jeene ka jo bhi whatsapp do aise logo ko kuch hi log hote hain jinhen ittaraj hota hai wahi apni jhuthi shan ke liye athva ko dobara shaadi karne ka pura haq hai dhanyavad

आपका प्रश्न एक विधवा की दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज होता है ऐसे होते हैं अरे भाई

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user

Manoj Kumar

Business Owner

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसमें दो ही बात हो सकते हैं एक बात तो किन्ही के जिंदगी में दोबारा खुशियां वापस आते हैं यह कुछ लोगों को बर्दाश्त नहीं होता है और दूसरी बात यह है कि दोबारा शादी से संपत्ति का बंटवारा हो जाता है धन्यवाद

isme do hi baat ho sakte hain ek baat toh kinhi ke zindagi me dobara khushiya wapas aate hain yah kuch logo ko bardaasht nahi hota hai aur dusri baat yah hai ki dobara shaadi se sampatti ka batwara ho jata hai dhanyavad

इसमें दो ही बात हो सकते हैं एक बात तो किन्ही के जिंदगी में दोबारा खुशियां वापस आते हैं यह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user

kishore chhabra

Marriage Beuro (SHIVA JODI MAKER)

0:34
Play

Likes  19  Dislikes    views  470
WhatsApp_icon
play
user

Likes  21  Dislikes    views  194
WhatsApp_icon
user

Kesharram

Teacher

2:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिलवा के दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है दोस्तों ऐसा भी होता है जिसके साथ में वही इस संसार को छोड़कर चले गए हैं शायद उसको दूसरा अगर तेरा करवाते हैं तो उसके वरमाला न लेंगे क्योंकि इसके जीवन से वह नहीं पत्ती वाला इसलिए तो पहला पति छोड़कर चला गया है और दूसरा भी हो सकता है और किस प्रकार की औलाद आती है जिस कारण बुधवार को कुंडली विवाह की अनुमति देते हैं मैं आपको बता देना चाहता हूं कि जो पहला व्यक्ति हाथ चला गया उसको चला गया अब जो हम पीछे रह रहे हैं और वह किसी लड़की की 22 साल की उम्र में शादी हो जाती है और उसके साथ में फिर वह कितना बड़ा अन्याय होता है क्योंकि उसका जो आपको पता है वैसा का वैसा ही रहता है और अगर हम उनको से शादी नहीं करेंगे हम उनके साथ में खुशियां लेबल तो लेंगे और उसकी वजह से प्राचीन काल में प्रथम कहने का मतलब है जब हमारे यहां सती प्रथा का अंत करने का मतलब सीधा लिख दे औरत भी उस पगली में समा जाती है ऐसा इसलिए हो रहा था लेकिन धीरे-धीरे रोक लगा दी और अब यह एकदम सही पुनर्विवाह क्योंकि ज्योतिबा फुले के काल से ही स्टार्ट हुआ था कि पुनर्विवाह शारदा एक्ट बनाता 18 सो 59 के अंदर और उसमें यह फैसला लिया गया था कि आपकी दुआ से शादी कर सकते हैं और आदि की जानकारी

dilwa ke dobara shadi se bahut se logo ko aitraz kyon hota hai doston aisa bhi hota hai jiske saath mein wahi is sansar ko chhodkar chale gaye hain shayad usko doosra agar tera karwaate hain toh uske varmala na lenge kyonki iske jeevan se vaah nahi patti vala isliye toh pehla pati chhodkar chala gaya hai aur doosra bhi ho sakta hai aur kis prakar ki aulad aati hai jis karan budhavar ko kundali vivah ki anumati dete hain main aapko bata dena chahta hoon ki jo pehla vyakti hath chala gaya usko chala gaya ab jo hum peeche reh rahe hain aur vaah kisi ladki ki 22 saal ki umr mein shadi ho jaati hai aur uske saath mein phir vaah kitna bada anyay hota hai kyonki uska jo aapko pata hai waisa ka waisa hi rehta hai aur agar hum unko se shadi nahi karenge hum unke saath mein khushiya lebal toh lenge aur uski wajah se prachin kaal mein pratham kehne ka matlab hai jab hamare yahan sati pratha ka ant karne ka matlab seedha likh de aurat bhi us pagli mein sama jaati hai aisa isliye ho raha tha lekin dhire dhire rok laga di aur ab yah ekdam sahi punarvivah kyonki jyotiba phule ke kaal se hi start hua tha ki punarvivah sharda act banata 18 so 59 ke andar aur usme yah faisla liya gaya tha ki aapki dua se shadi kar sakte hain aur aadi ki jaankari

दिलवा के दोबारा शादी से बहुत से लोगों को ऐतराज क्यों होता है दोस्तों ऐसा भी होता है जिसके

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  302
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!