क्या अयोध्या विवादित ज़मीन राम मंदिर के लिए दे दी जाएगी?...


play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अयोध्या विवादित जमीन राम मंदिर के लिए दे दी जाएंगी फिलहाल यह मामला सुप्रीम कोर्ट के विचाराधीन कोई भी टिप्पणी करना सही नहीं होगा सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाने वाला है उसके बारे में अभी से कोई अनुमान लगाना वह समय से पहले होगा क्योंकि सुप्रीम कोर्ट की यह धारणा है कि अगर हिंदू अयोध्या की जो राम मंदिर की जो जमीन है जिस पर मुस्लिमों ने भी दावा कर रखा है बाबरी मस्जिद के लिए तो अगर वह किसी एक पक्ष में फैसला सुनाते हैं एक पक्ष के आदमी तो दूसरे पक्ष को आबंदों खोने का हो सकता है कि मनमुटाव होने की संभावना है कि जो उन्होंने कमेटी बनाई थी श्री श्री रविशंकर तीन जमीन से तो उसमें अगर कोई समझौता हो जाता तो वह बहुत अच्छा होता लेकिन नहीं हो पाया जो कि कुछ विरोधी राजनेता लोगों ने अपना अंतिम की निगाहें टिकी हुई है क्योंकि अयोध्या में राम मंदिर रामलीला का जन्म स्थान मानती है लेकिन साबित भी तो होना चाहिए ना जब तक साबित नहीं होता क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने पत्र उन्हें पहले उसके आधारित मांगे थे और जो कि अब पौराणिक कथाओं के जो अवशेष है वह सब्जी उनको दिखाए गए थे और उसी तरीके से मस्जिद होने का वहां पर प्रमाण नहीं मिलता है इसलिए सत्यता हम भी आशा करते हैं कि ऐसा हो लेकिन सुप्रीम कोर्ट से फैसला कुछ भी अपने सभी जजों की भक्ति से अपना फैसला सुनाएगी सबको मान्य करना पड़ेगा धन्यवाद

ayodhya vivaadit jameen ram mandir ke liye de di jayegi filhal yah maamla supreme court ke vicharadhin koi bhi tippani karna sahi nahi hoga supreme court apna faisla sunaane vala hai uske bare mein abhi se koi anumaan lagana vaah samay se pehle hoga kyonki supreme court ki yah dharana hai ki agar hindu ayodhya ki jo ram mandir ki jo jameen hai jis par muslimo ne bhi daawa kar rakha hai babri masjid ke liye toh agar vaah kisi ek paksh mein faisla sunaate hain ek paksh ke aadmi toh dusre paksh ko abandon khone ka ho sakta hai ki manmutaav hone ki sambhavna hai ki jo unhone committee banai thi shri shri ravishankar teen jameen se toh usme agar koi samjhauta ho jata toh vaah bahut accha hota lekin nahi ho paya jo ki kuch virodhi raajneta logo ne apna antim ki nigahen tiki hui hai kyonki ayodhya mein ram mandir ramlila ka janam sthan maanati hai lekin saabit bhi toh hona chahiye na jab tak saabit nahi hota kyonki supreme court ne patra unhe pehle uske aadharit mange the aur jo ki ab pouranik kathao ke jo avshesh hai vaah sabzi unko dekhiye gaye the aur usi tarike se masjid hone ka wahan par pramaan nahi milta hai isliye satyata hum bhi asha karte hain ki aisa ho lekin supreme court se faisla kuch bhi apne sabhi judgon ki bhakti se apna faisla sunaegi sabko manya karna padega dhanyavad

अयोध्या विवादित जमीन राम मंदिर के लिए दे दी जाएंगी फिलहाल यह मामला सुप्रीम कोर्ट के विचारा

Romanized Version
Likes  67  Dislikes    views  1298
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
5:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं तो कब से जान रहा हूं जब से मेरा जन्म के बाद मैंने होश संभाला तबसे सुंदराओ अयोध्या अयोध्या की तरह लड़ाई और बीजेपी का तो मूलमंत्र ही अयोध्या अयोध्या पर तो बीजेपी ने सरकार ही बनाई है जब जब जब चुनाव आता है तब तब तब राम मंदिर याद राम मंदिर एक बात बताओ राम मंदिर बनाने से इस देश को कोई फायदा होगा क्या राम मंदिर बनाने से इस देश में बेरोजगारों को रोजगार मिल जाएगी इस देश में गरीबों की संख्या कम हो जाएगी या राम मंदिर बनने से हमारे देश में जो विवाद है वह सब खत्म हो जाएंगे राम मंदिर किस भगवान का जन्म हुआ है वह आकर खुद बोल सकेंगे ना उन्हें बोलना चाहिए ना कि मैं यह मेरी जमीन ए कि आपका क्या कर रहे हो और एग्जांपल नहीं कि आपका घर हो और मैं कब जा कर लूं तो अब खुदा के बोलोगे और बीजेपी वालों ने तो राम को सिर्फ अपना पॉलिटिक्स एजेंडा बना के रखा है यार जब जब चुनाव आया राम याद आया किसी भी मुद्दे को राम के साथ जोड़ दो बाबरी मस्जिद और राम बाबरी मस्जिद और राम राम के नाम पर इन लोगों ने रुठियाई से की है यहां तक कि 2014 से 2020 तक राम मंदिर ही चलाया है जब जब कोई सनसिटी मुद्दा उठा बीजेपी वालों ने सीता राम मंदिर का फैसला करवा दिया और एक बात जो सुप्रीम कोर्ट का जज गोगोई वह भी बीजेपी का एक चाटुकार था जिसने इस विवाद को और आज डाल कर उसके अंदर तेल डालकर बड़का दी अपना जजमेंट देखें क्योंकि अभी भी आपने देखा होगा कि राम मंदिर की खुदाई के वक्त बुध की प्रतिमा अब बोलो वहां पर बुध मंदिर बनना चाहिए तो मुद्दा ही पॉलिटिक्स वालों के लिए हम लोगों को लड़ाई लड़ाई और अपनी हाजिरी गम्मत खेले ने राजनीतिक फायदा जब जब बीजेपी वालों को जरूरत थी तो राम मंदिर की याद आए कुछ भी कहो इसी पर बलात्कार हुआ तो राम मंदिर बेरोजगारी की बात करो तो राम मंदिर भुखमरी की बात करो तो राम मंदिर अरे कोरोना के से कोरोनावायरस ने जितने पैसे राम के मंदिर में लगाए भाई इतने पैसे रोजगार में लगाओ खुद राम अपने दिल में से बाहर निकल कर खुद मंदिर बना लेगा अरे जो भगवान है उसको मंदिर में बनाना कैद करना क्या है यार भगवान को कौन से मंदिर की जरूरत है जिसने तुम्हें बनाया उनके लिए आप बनाओगे आप मेरे यार जब जब राम मंदिर की बात होती है तो बीजेपी के अंदर एक नया ऑक्सीजन आ जाता है जबकि राम मंदिर का मुद्दा उठा बीजेपी और तगड़ा और अपने लक्ष्य पर आ गई क्योंकि उनको पता है कि भारत देश के अंदर पर जाएं अंधे भक्त ना लो राम का नाम जपना पराया माल अपना राम नाम जपना पराया माल अपना यही तो बीजेपी का मूल उद्देश्य है अगर राम मंदिर बनाना होता तो बिना विवाद के भी बन सकता ना भाई लोगों को राम मंदिर पर कोई इंटरेस्ट नहीं है आज के लोगों को रोजी-रोटी और अपने बेसिकली प्रॉब्लम है और ए जो अयोध्या मंदिर में जो लोग कूद रहे ना वह बिना अपने बाप के पैसों पर चलने वाले लोग हैं जो बेचारा आम नागरिक है ना इंसान है ना उसे तो अपनी दो टाइम की रोटी से फुर्सत नहीं है देख लो भाई आज कोरोनावायरस ने लोगों ने यूज कितने लोगों ने अपनी सेवा की अपना धर्म निभाया हां ऐसे तो बोलते हम हिंदू हैं तो क्या यह कोरोना में सब मुसलमान थे क्या रोना मैं सब राम भक्त नहीं थे क्या मंदिर मस्जिद का विवाद करके हम लोगों को लड़ाना और झगड़ा ना इन लोगों का काम है मैं नहीं मानता भाई ऐसे मुद्दों में

main toh kab se jaan raha hoon jab se mera janam ke baad maine hosh sambhala tabse sundarao ayodhya ayodhya ki tarah ladai aur bjp ka toh mulamantra hi ayodhya ayodhya par toh bjp ne sarkar hi banai hai jab jab jab chunav aata hai tab tab tab ram mandir yaad ram mandir ek baat batao ram mandir banane se is desh ko koi fayda hoga kya ram mandir banane se is desh me berozgaron ko rojgar mil jayegi is desh me garibon ki sankhya kam ho jayegi ya ram mandir banne se hamare desh me jo vivaad hai vaah sab khatam ho jaenge ram mandir kis bhagwan ka janam hua hai vaah aakar khud bol sakenge na unhe bolna chahiye na ki main yah meri jameen a ki aapka kya kar rahe ho aur example nahi ki aapka ghar ho aur main kab ja kar loon toh ab khuda ke bologe aur bjp walon ne toh ram ko sirf apna politics agenda bana ke rakha hai yaar jab jab chunav aaya ram yaad aaya kisi bhi mudde ko ram ke saath jod do babri masjid aur ram babri masjid aur ram ram ke naam par in logo ne ruthiyai se ki hai yahan tak ki 2014 se 2020 tak ram mandir hi chalaya hai jab jab koi suncity mudda utha bjp walon ne sita ram mandir ka faisla karva diya aur ek baat jo supreme court ka judge gogoi vaah bhi bjp ka ek chatukar tha jisne is vivaad ko aur aaj daal kar uske andar tel dalkar badka di apna judgement dekhen kyonki abhi bhi aapne dekha hoga ki ram mandir ki khudai ke waqt buddha ki pratima ab bolo wahan par buddha mandir banna chahiye toh mudda hi politics walon ke liye hum logo ko ladai ladai aur apni hajiri gammat khele ne raajnitik fayda jab jab bjp walon ko zarurat thi toh ram mandir ki yaad aaye kuch bhi kaho isi par balatkar hua toh ram mandir berojgari ki baat karo toh ram mandir bhukhmari ki baat karo toh ram mandir are corona ke se coronavirus ne jitne paise ram ke mandir me lagaye bhai itne paise rojgar me lagao khud ram apne dil me se bahar nikal kar khud mandir bana lega are jo bhagwan hai usko mandir me banana kaid karna kya hai yaar bhagwan ko kaun se mandir ki zarurat hai jisne tumhe banaya unke liye aap banaaoge aap mere yaar jab jab ram mandir ki baat hoti hai toh bjp ke andar ek naya oxygen aa jata hai jabki ram mandir ka mudda utha bjp aur tagada aur apne lakshya par aa gayi kyonki unko pata hai ki bharat desh ke andar par jayen andhe bhakt na lo ram ka naam japna paraaya maal apna ram naam japna paraaya maal apna yahi toh bjp ka mul uddeshya hai agar ram mandir banana hota toh bina vivaad ke bhi ban sakta na bhai logo ko ram mandir par koi interest nahi hai aaj ke logo ko rozi roti aur apne basically problem hai aur a jo ayodhya mandir me jo log kud rahe na vaah bina apne baap ke paison par chalne waale log hain jo bechaara aam nagarik hai na insaan hai na use toh apni do time ki roti se phursat nahi hai dekh lo bhai aaj coronavirus ne logo ne use kitne logo ne apni seva ki apna dharm nibhaya haan aise toh bolte hum hindu hain toh kya yah corona me sab musalman the kya rona main sab ram bhakt nahi the kya mandir masjid ka vivaad karke hum logo ko ladana aur jhagda na in logo ka kaam hai main nahi maanta bhai aise muddon me

मैं तो कब से जान रहा हूं जब से मेरा जन्म के बाद मैंने होश संभाला तबसे सुंदराओ अयोध्या अयोध

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वाध्याय वाली जमीन का मंत्री को दी जाएगी या नहीं जाएगी इसके बारे में कोई कुछ नहीं कर सकता क्योंकि वह कोर्ट के निर्णय पर डिपेंड है जब कोर्ट का आदेश आएगा उस हिसाब से काम क्यों जन्मभूमि को मिलेगी या नहीं

swaadhyaay wali jameen ka mantri ko di jayegi ya nahi jayegi iske bare mein koi kuch nahi kar sakta kyonki vaah court ke nirnay par depend hai jab court ka aadesh aayega us hisab se kaam kyon janmbhoomi ko milegi ya nahi

स्वाध्याय वाली जमीन का मंत्री को दी जाएगी या नहीं जाएगी इसके बारे में कोई कुछ नहीं कर सकता

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  374
WhatsApp_icon
user
1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है कि जो अयोध्या की विवादित जमीन है क्या वह राम मंदिर निर्माण के लिए दे दी जानी चाहिए देखे हिंदू धर्म को मानने वाले अधिकतम लोग जो है वह यही चाहते हैं और यही उनकी इच्छा है कि यहां पर एक भव्य राम मंदिर का निर्माण किया जा सके लेकिन यह एक बहुत ही आप पैगंबर टिपिकल मुद्दा है बहुत ही नाजुक श्री पर यह मुद्दा चल रहा है और पति कोर्ट में चल रहा है सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर कहीं बाहर गए मध्यस्था की कोशिश की जब इस मुद्दे पर आखिरी दौर की सुनवाई चल रही थी उसे पहली भी सुप्रीम कोर्ट ने तीनों पक्षों को जो है मध्यस्थता का जो है एक अवसर दिया लेकिन जो मध्यस्था कराने वाली लोग थे जो पैनल था उसने कहा कि हम किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाए और अब यह मामला है वह सुप्रीम कोर्ट में है तो हमें सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का इंतजार करना पड़ेगा जो कि अगले महीने आएगा क्योंकि इस महीने की 18 तारीख तक इस मामले पर रोहित सुनवाई पूरी हो जाएगी और उसके बाद दूध जरजीस मामले की सुनवाई कर रहे हैं आप वह बीच जो है एक महीने बाद अपना निर्णय सबके समक्ष रखे रखे और उसके बाद हमें पता चलेगा कि क्या यहां राम मंदिर बनेगा या फिर जो बाबरी मस्जिद 1992 में तोड़ दिया था उसे वापस बनाया जाएगा या फिर इस जमीन पर जो है आप इसे बंटवारा किसका किया जाता है यह इसमें कुछ और बनाने का फैसला लिया जाता है तो नवंबर के मध्य तक हम इंतजार करना पड़ेगा उसके बाद ही इस बात पर फैसला हो पाएगा कि क्या इसे राम मंदिर के निर्माण के लिए दे दिया जाना चाहिए

sawaal hai ki jo ayodhya ki vivaadit jameen hai kya vaah ram mandir nirmaan ke liye de di jani chahiye dekhe hindu dharm ko manne waale adhiktam log jo hai vaah yahi chahte hain aur yahi unki iccha hai ki yahan par ek bhavya ram mandir ka nirmaan kiya ja sake lekin yah ek bahut hi aap paigambar tipikal mudda hai bahut hi naajuk shri par yah mudda chal raha hai aur pati court mein chal raha hai supreme court mein chal raha hai aur supreme court ne is mudde par kahin bahar gaye madhyastha ki koshish ki jab is mudde par aakhiri daur ki sunvai chal rahi thi use pehli bhi supreme court ne tatvo pakshon ko jo hai madhyasthata ka jo hai ek avsar diya lekin jo madhyastha karane wali log the jo panel tha usne kaha ki hum kisi natije par nahi pohch paye aur ab yah maamla hai vaah supreme court mein hai toh hamein supreme court ke nirnay ka intejar karna padega jo ki agle mahine aayega kyonki is mahine ki 18 tarikh tak is mamle par rohit sunvai puri ho jayegi aur uske baad doodh jarjis mamle ki sunvai kar rahe hain aap vaah beech jo hai ek mahine baad apna nirnay sabke samaksh rakhe rakhe aur uske baad hamein pata chalega ki kya yahan ram mandir banega ya phir jo babri masjid 1992 mein tod diya tha use wapas banaya jaega ya phir is jameen par jo hai aap ise batwara kiska kiya jata hai yah isme kuch aur banane ka faisla liya jata hai toh november ke madhya tak hum intejar karna padega uske baad hi is baat par faisla ho payega ki kya ise ram mandir ke nirmaan ke liye de diya jana chahiye

सवाल है कि जो अयोध्या की विवादित जमीन है क्या वह राम मंदिर निर्माण के लिए दे दी जानी चाहिए

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  677
WhatsApp_icon
user

Prakhar Srivastava

IAS Aspirant

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी अभी तक जितने भी फैसले इससे पहले आए हैं चाहे वह इलाहाबाद हाईकोर्ट का है वह उससे भी पहले चार बार चार पांच बार जो भी फैसला है उसमें यही है कि उसके नीचे जब खुदाई की गई तो हम भी मिले थे जो मंदिरों के बताए जाते हैं मतलब बहुत सारे प्रमाण हैं ऐसे जो मंदिरों के पक्ष में ज्यादा है और मस्जिद वालों के पास सब पक्ष के पास ऐसा कोई खास कमाल नहीं है तो इस बार ऐसी उम्मीद है कि अगर पैसा आएगा तो मंदिर के ही पक्ष में आएगा वैसे सबूतों और गवाहों को मद्देनजर रखते हुए कोर्ट अपना फैसला देती है तो उसका कोर्ट का क्या फैसला आएगा तो बात नहीं पता चलेगा लेकिन जहां तक उम्मीद है कि मंदिर के पक्ष में फैसला आएगा कि सॉन्ग

dekhi abhi tak jitne bhi faisle isse pehle aaye hain chahen vaah allahabad highcourt ka hai vaah usse bhi pehle char baar char paanch baar jo bhi faisla hai usme yahi hai ki uske niche jab khudai ki gayi toh hum bhi mile the jo mandiro ke bataye jaate hain matlab bahut saare pramaan hain aise jo mandiro ke paksh mein zyada hai aur masjid walon ke paas sab paksh ke paas aisa koi khaas kamaal nahi hai toh is baar aisi ummid hai ki agar paisa aayega toh mandir ke hi paksh mein aayega waise sabuton aur gavahon ko maddenajar rakhte hue court apna faisla deti hai toh uska court ka kya faisla aayega toh baat nahi pata chalega lekin jaha tak ummid hai ki mandir ke paksh mein faisla aayega ki song

देखी अभी तक जितने भी फैसले इससे पहले आए हैं चाहे वह इलाहाबाद हाईकोर्ट का है वह उससे भी पहल

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  1199
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह तो वोट का मुद्दा है सुप्रीम कोर्ट ने कई बार इसके बारे में कहा है और अभी से सुनवाई काफी गेम चल रही है सुप्रीम कोर्ट ने स्टेटमेंट भी कई बार निकाला है कि दोनों तीनों पक्षों को आपस में बैठकर विवाद सुलझाना चाहिए और अपने स्तर पर बात करनी चाहिए क्योंकि यह बहुत ही टिपिकल मुद्दा है यह मुद्दा कोर्ट में चल रहा है तो हमें का बीट करना चाहिए हमें इस बात का इंतजार करना चाहिए कि भारत की सर्वोच्च न्यायालय इसकी किस पक्ष में फैसला देती है और जो भी फैसला देती है वह आदरणीय कोर्ट का फैसला है मनी कोर्ट का फैसला उसे मारना चाहिए बहुत-बहुत धन्यवाद

dekhiye yah toh vote ka mudda hai supreme court ne kai baar iske bare mein kaha hai aur abhi se sunvai kaafi game chal rahi hai supreme court ne statement bhi kai baar nikaala hai ki dono tatvo pakshon ko aapas mein baithkar vivaad suljhana chahiye aur apne sthar par baat karni chahiye kyonki yah bahut hi tipikal mudda hai yah mudda court mein chal raha hai toh hamein ka beat karna chahiye hamein is baat ka intejar karna chahiye ki bharat ki sarvoch nyayalaya iski kis paksh mein faisla deti hai aur jo bhi faisla deti hai vaah adaraniya court ka faisla hai money court ka faisla use marna chahiye bahut bahut dhanyavad

देखिए यह तो वोट का मुद्दा है सुप्रीम कोर्ट ने कई बार इसके बारे में कहा है और अभी से सुनवाई

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  874
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या अयोध्या विवादित विवादित जमीन राम मंदिर के लिए दे दी जाएगी अयोध्या विवादित जमीन का मंदिर के लिए दे दी है कि मुझे नहीं लग रहा है मुझे तो लगता है सनातन धर्म होना चाहिए हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई सब के लिए वहां पर होना चाहिए ठीक है सनातन धर्म के लिए नहीं

kya ayodhya vivaadit vivaadit jameen ram mandir ke liye de di jayegi ayodhya vivaadit jameen ka mandir ke liye de di hai ki mujhe nahi lag raha hai mujhe toh lagta hai sanatan dharm hona chahiye hindu muslim sikh isai sab ke liye wahan par hona chahiye theek hai sanatan dharm ke liye nahi

क्या अयोध्या विवादित विवादित जमीन राम मंदिर के लिए दे दी जाएगी अयोध्या विवादित जमीन का मंद

Romanized Version
Likes  238  Dislikes    views  5592
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
दे दी क्या ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!