असिडिटी में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग की स्थिति क्या है?...


user

Kailash Babu

Yoga Trainer

4:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको एसिडिटी होती है तो एसिडिटी के लिए आप योग 61 कर्मों का अभ्यास कर सकते आसनों का अभ्यास कर सकते आसनों का अभ्यास जितना इफेक्ट नहीं करेगा जब तक आप सेट कर्मों का ब्याज नहीं करेंगे प्लीज सेट कर्मों से क्या होता है कि हमारे शरीर में एसिड है वह पानी के द्वारा बाहर निकल जाता उसके बाद अगर आप अभ्यास करते आसनों का तो बहुत ज्यादा इफेक्ट डालता है अब सेट करो होते क्या है सटकर में छह के लिए आए होते हैं जो हमारे शरीर की शुद्धि के लिए होते हैं सिटी के लिए आप सभी सिंपल क्रिया कुंजल क्रिया जिसको बोलते हैं उसका अभ्यास कर सकते हैं कुंजल क्रिया करने के लिए क्या करते हैं और आपको एसिडिटी बहुत ज्यादा था पानी गुनगुना गर्म करें हल्का गर्म इसको अपने उल्टे हाथ पर डाल कर देख ले अगर वह जल रहा है हाथ में तो मतलब ज्यादा गर्म है अगर नॉर्मल है तो उसको पीने लायक है ऐसा आपको पानी दो से 3 लीटर धर्म करना है उसको पी जाना है कंठ तक पीना जबरदस्ती पीना है रुक रुक के नहीं पीना है एक ही घूंट में पी जाना है और ओक्कड़ु बैठकर के दोनों घुटनों को मोड़कर बैठ कर पीना है पानी और जब वह पाप का कंठ तक बढ़ जाए पूरा गला तो बीच वाली तीन उंगलियां अपने छोटे जीव को हिरानी है उसके बाद 90 डिग्री के एंगल पर बनाकर ऐसा आपको करना है सारा पानी आपका बाहर निकल जाएगा पूर्व में पानी थोड़ा निकलता है तो घबराने की बात नहीं है बाकी जो पानी है पेशाब में पसीने के रूप में बाहर निकल जाता है ऐसा करने से आपको यह सिडंबरम पानी के साथ बाहर निकल जाएगा उसके बाद खाने पीने में थोड़ा सा परहेज करना पड़ता है जिसमें आपको हल्का और सुपाच्य खाना खाना पड़ता है जिसमें आप दलिया खिचड़ी या अली की रोटियां भी खा सकते हैं कि सीएजी सब्जी के साथ जो छुपाते हो जो कभी ना करती हो उसके बाद आप अग्निसार क्रिया का अभ्यास करें अग्निसार क्रिया करने के लिए क्या करना पड़ता है आप 90 डिग्री से थोड़ा ऊपर एंगल बनाएंगे और दोनों हाथ घुटनों पर रखेंगे और तुम्हारा श्वास बाहर निकाल देंगे उसका पेट को अंदर बाहर अंदर बाहर ऐसे चलाएंगे जब आपका सांस उखड़ने लगे सांस लेते हुए वापस ऊपर आएंगे फिर दोबारा से ऐसा ही करेगा 8 से 10 बार ऐसा इस क्रिया का अभ्यास करें शुरू शुरू में दो-तीन बार करें अन्यथा आपके जो पेट की मसल से उठेंगे या आप ऐसा ना कर ना कर सके हैं या आपको समस्या हो सीखने में कोई योग चिकित्सा का पहुंचना मिल रहा हो तो आप सुबह-सुबह एक गुनगुना पानी करें उसमें नमक डालता है नमक जब डालें आपको किसी बीपी की शिकायत या हार्ट पेशेंट नहीं होना चाहिए आठ परसेंट हो जो बीपी का मरीज हाई बीपी का वह पानी में नमक ना डाले बिना पानी में नमक डाल लेते अभ्यास कर सकता है नमक डाल के पानी में स्कूटी है कंठ तक पानी पी ले पूरा भर ले तेरी से पानी पिया जल्दी-जल्दी घुट के घर का पानी ना करें जिससे कि पानी में लाल ना मिल पाए उसके बाद आपको ताड़ आसन का अभ्यास करना है ताड़ासन करने के लिए आपको क्या करना है दोनों हाथों को आपस में हूं या फसाके हथेलियां ऊपर करके ऊपर करना है और पंजे पर अपना बैलेंस बनाना है धीरे-धीरे शुरू शुरू में बैलेंस नहीं बनता है तो बैलेंस बनाने कोशिश करने पर आपको ताड़ासन में कम से कम 30 सेकंड और अधिक से अधिक 3 मिनट तक स्थिरता पूर्वक खड़े रहना है और कोशिश करनी है कि उसमें थोड़ा सा 10 कदम या पांच कदम आगे और पीछे चले ऐसा करेंगे तो 3 से 4 मिनट में आपको जो पेट का पानी है वह सरपंच चुका वह हल्का लगेगा पेट ऐसा करने से आधे घंटे में आपका प्रेशर बन जाएगा अगर कब्जे से एसिडिटी बहुत ज्यादा है तो उस वक्त अट्रैक्शन ना बने पुतिन 4 घंटे बाद वो असर दिखाएगा अगर फिर भी प्रेशर नहीं बनता है दो-चार दिन हफ्ते बारिश का अभ्यास करते रहे और देखेंगे थोड़े दिनों बाद आपको प्रेशर और पेट भी साफ हो गया है होता क्या है पानी के बिना नमक का पानी पीके हम ताड़ासन लगाते हैं तो वह जो पानी हमारे हाथों में नीचे चला जाता है और वह माल को निकाल कर जल्दी से निष्कासित कर देता है आप दवाइयां खाने से बचें आयुर्वेद और योग को अपने जीवन में अपनाएं प्राकृतिक चिकित्सा को अपने जीवन में अपनाएं किसी अच्छे योग चिकित्सक से इन क्रियाओं का अभ्यास आपसी केक मैंने तो ज्यादा अच्छा है

agar aapko acidity hoti hai toh acidity ke liye aap yog 61 karmon ka abhyas kar sakte aasanon ka abhyas kar sakte aasanon ka abhyas jitna effect nahi karega jab tak aap set karmon ka byaj nahi karenge please set karmon se kya hota hai ki hamare sharir me acid hai vaah paani ke dwara bahar nikal jata uske baad agar aap abhyas karte aasanon ka toh bahut zyada effect dalta hai ab set karo hote kya hai satkar me cheh ke liye aaye hote hain jo hamare sharir ki shudhi ke liye hote hain city ke liye aap sabhi simple kriya kunjal kriya jisko bolte hain uska abhyas kar sakte hain kunjal kriya karne ke liye kya karte hain aur aapko acidity bahut zyada tha paani gunguna garam kare halka garam isko apne ulte hath par daal kar dekh le agar vaah jal raha hai hath me toh matlab zyada garam hai agar normal hai toh usko peene layak hai aisa aapko paani do se 3 litre dharm karna hai usko p jana hai kanth tak peena jabardasti peena hai ruk ruk ke nahi peena hai ek hi ghunt me p jana hai aur okkadu baithkar ke dono ghutno ko modakar baith kar peena hai paani aur jab vaah paap ka kanth tak badh jaaye pura gala toh beech wali teen ungaliyan apne chote jeev ko hirani hai uske baad 90 degree ke Angle par banakar aisa aapko karna hai saara paani aapka bahar nikal jaega purv me paani thoda nikalta hai toh ghabrane ki baat nahi hai baki jo paani hai peshab me pasine ke roop me bahar nikal jata hai aisa karne se aapko yah sidambaram paani ke saath bahar nikal jaega uske baad khane peene me thoda sa parhej karna padta hai jisme aapko halka aur supachya khana khana padta hai jisme aap daliya khichdi ya ali ki rotiyan bhi kha sakte hain ki cag sabzi ke saath jo chhupaate ho jo kabhi na karti ho uske baad aap agnisar kriya ka abhyas kare agnisar kriya karne ke liye kya karna padta hai aap 90 degree se thoda upar Angle banayenge aur dono hath ghutno par rakhenge aur tumhara swas bahar nikaal denge uska pet ko andar bahar andar bahar aise chalayenge jab aapka saans ukhadane lage saans lete hue wapas upar aayenge phir dobara se aisa hi karega 8 se 10 baar aisa is kriya ka abhyas kare shuru shuru me do teen baar kare anyatha aapke jo pet ki masal se uthenge ya aap aisa na kar na kar sake hain ya aapko samasya ho sikhne me koi yog chikitsa ka pahunchana mil raha ho toh aap subah subah ek gunguna paani kare usme namak dalta hai namak jab Daalein aapko kisi BP ki shikayat ya heart patient nahi hona chahiye aath percent ho jo BP ka marij high BP ka vaah paani me namak na dale bina paani me namak daal lete abhyas kar sakta hai namak daal ke paani me scooty hai kanth tak paani p le pura bhar le teri se paani piya jaldi jaldi ghut ke ghar ka paani na kare jisse ki paani me laal na mil paye uske baad aapko taad aasan ka abhyas karna hai tadasan karne ke liye aapko kya karna hai dono hathon ko aapas me hoon ya fasake hatheliyaan upar karke upar karna hai aur panje par apna balance banana hai dhire dhire shuru shuru me balance nahi banta hai toh balance banane koshish karne par aapko tadasan me kam se kam 30 second aur adhik se adhik 3 minute tak sthirta purvak khade rehna hai aur koshish karni hai ki usme thoda sa 10 kadam ya paanch kadam aage aur peeche chale aisa karenge toh 3 se 4 minute me aapko jo pet ka paani hai vaah sarpanch chuka vaah halka lagega pet aisa karne se aadhe ghante me aapka pressure ban jaega agar kabje se acidity bahut zyada hai toh us waqt attraction na bane putin 4 ghante baad vo asar dikhaega agar phir bhi pressure nahi banta hai do char din hafte barish ka abhyas karte rahe aur dekhenge thode dino baad aapko pressure aur pet bhi saaf ho gaya hai hota kya hai paani ke bina namak ka paani pk hum tadasan lagate hain toh vaah jo paani hamare hathon me niche chala jata hai aur vaah maal ko nikaal kar jaldi se nishkasit kar deta hai aap davaiyan khane se bache ayurveda aur yog ko apne jeevan me apanaen prakirtik chikitsa ko apne jeevan me apanaen kisi acche yog chikitsak se in kriyaon ka abhyas aapasi cake maine toh zyada accha hai

अगर आपको एसिडिटी होती है तो एसिडिटी के लिए आप योग 61 कर्मों का अभ्यास कर सकते आसनों का अभ्

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  889
WhatsApp_icon
15 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

xyz

nothing

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी में सबसे ज्यादा मदद करने वाला योग में किया है वह रामानंद होती इसे कुंजल क्रिया भी कहते हैं वह अगर आप महीने में 3 सप्ताह में दो बार करते हैं तो आपकी एसिडिटी पूरी तरह से ठीक हो जाएगी तो वह किसी योगा टीचर के सान्निध्य में आप उसको सीख लीजिए वह बहुत ही अच्छी और बहुत ही उपयोगी प्रिया है धन्यवाद

acidity mein sabse zyada madad karne vala yog mein kiya hai vaah ramnand hoti ise kunjal kriya bhi kehte hain vaah agar aap mahine mein 3 saptah mein do baar karte hain toh aapki acidity puri tarah se theek ho jayegi toh vaah kisi yoga teacher ke sannidhya mein aap usko seekh lijiye vaah bahut hi achi aur bahut hi upyogi priya hai dhanyavad

एसिडिटी में सबसे ज्यादा मदद करने वाला योग में किया है वह रामानंद होती इसे कुंजल क्रिया भी

Romanized Version
Likes  142  Dislikes    views  1778
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी में मदद के लिए सबसे अच्छा योग कौन सा है यह प्रश्न है आपका तो अगर किसी को एसिडिटी की प्रॉब्लम है तो उससे योगासनों में एक तो जो है वज्रासन करना चाहिए खाना खाने के तुरंत बाद इससे बड़ा नारी उत्तरी होती है तो हमारा पाचन संस्थान ठीक होता है तो हमें गैस एसिडिटी नहीं बनेगी इसके अलावा जो हमें पवन मुक्त आसन करना चाहिए खाली पेट योगाभ्यास करते हैं पवनमुक्तासन क्रिया करनी चाहिए हमें गैस एसिडिटी वगैरह में बहुत आराम मिलता है इसके अलावा अग्निसार क्रिया करते हैं प्रणाम में करते हैं तो हमें बहुत रूप से हमें लाभ होगा धन्यवाद

acidity mein madad ke liye sabse accha yog kaun sa hai yah prashna hai aapka toh agar kisi ko acidity ki problem hai toh usse yogasanon mein ek toh jo hai vajrasan karna chahiye khana khane ke turant baad isse bada nari uttari hoti hai toh hamara pachan sansthan theek hota hai toh hamein gas acidity nahi banegi iske alava jo hamein pawan mukt aasan karna chahiye khaali pet yogabhayas karte hai pavanamuktasan kriya karni chahiye hamein gas acidity vagera mein bahut aaram milta hai iske alava agnisar kriya karte hai pranam mein karte hai toh hamein bahut roop se hamein labh hoga dhanyavad

एसिडिटी में मदद के लिए सबसे अच्छा योग कौन सा है यह प्रश्न है आपका तो अगर किसी को एसिडिटी क

Romanized Version
Likes  110  Dislikes    views  1988
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी में हेल्प करने के लिए सबसे अच्छा ही होगा होता है कि आप बज राशन करें और दूसरा है पवनमुक्तासन करें फोन नंबर खाली पेट करना होता है बना के खाना खाने के तुरंत बात करना होता है यह दोनों ही ऐसा मैं आपको एसिडिटी में बहुत हेल्प करते हैं थैंक यू

acidity mein help karne ke liye sabse accha hi hoga hota hai ki aap baj raashan kare aur doosra hai pavanamuktasan kare phone number khaali pet karna hota hai bana ke khana khane ke turant baat karna hota hai yah dono hi aisa main aapko acidity mein bahut help karte hain thank you

एसिडिटी में हेल्प करने के लिए सबसे अच्छा ही होगा होता है कि आप बज राशन करें और दूसरा है पव

Romanized Version
Likes  114  Dislikes    views  1944
WhatsApp_icon
user

Dharminder Kumar

Yoga Trainer

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी के लिए जॉब में कुंजल क्रिया है जो के पानी को पूरा दो 3 लीटर पानी पीने के बाद उसको पेट में से मुंह के रास्ते निकालना होता है क्वेश्चन पानी लेकर उसमें नाम की डाल कर उसको गले में दो उंगली डालकर ओक्कड़ु में बैठकर उस पानी को उल्टी की तरह बाहर निकालना मुख्य रास्ते इसको सप्ताह में कम से कम 1 बार करें जिस दिन यह कि आप करेंगे उस दिन आपको कुछ भी भारी चीज नहीं खानी है खिचड़ी खानी है चावल दाल की उसमें भी देसी घी डालकर खाना है तो उससे आपको काफी राहत मिलेगी जो चुटकी बनती है इसके साथ खाना खाने के बाद 15 मिनट के लिए बजरस में बैठे और लेटकर करने वाले आसनों में से पवनमुक्तासन इसके लिए बहुत चाय का धन्यवाद

acidity ke liye job mein kunjal kriya hai jo ke paani ko pura do 3 litre paani peene ke baad usko pet mein se mooh ke raste nikalna hota hai question paani lekar usme naam ki daal kar usko gale mein do ungli dalkar okkadu mein baithkar us paani ko ulti ki tarah bahar nikalna mukhya raste isko saptah mein kam se kam 1 baar kare jis din yah ki aap karenge us din aapko kuch bhi bhari cheez nahi khaani hai khichdi khaani hai chawal daal ki usme bhi desi ghee dalkar khana hai toh usse aapko kaafi rahat milegi jo chutakee banti hai iske saath khana khane ke baad 15 minute ke liye bajras mein baithe aur letakar karne waale aasanon mein se pavanamuktasan iske liye bahut chai ka dhanyavad

एसिडिटी के लिए जॉब में कुंजल क्रिया है जो के पानी को पूरा दो 3 लीटर पानी पीने के बाद उसको

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  528
WhatsApp_icon
user

Abhijeet Soni

Yoga Instructor & Software Developer

2:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं बिजी सोनी बात कर रहा हूं आपका सवाल है एसिडिटी में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग की स्थिति क्या है बस में कुछ पॉइंट्स को मेंशन करना चाहूंगा इन्हें समझा और अपने जीवन में अपनाएं आप कोशिश कीजिए गर्म पानी पीने का जब भी अवेलेबल हो तो वह एसिडिटी को कम कर देता है तेल या फिर मिर्च भरी खाने की चीजें कम से कम खाएं पासपोर्ट कम से कम का यह तो ही लाइफस्टाइल के बातें और रात को जल्दी सोने की कोशिश करें क्योंकि एसिडिटी रात को ही ज्यादा बढ़ती है तो जल्दी से जल्दी उठो सवेरे ब्रह्म मुहूर्त में उठें गर्म पानी पिए आप देखेंगे कुछ समय में एसिडिटी आपकी ठीक हो जाएगी अभियुक्त पर आते हैं हम लोग योग में आप सूर्य नमस्कार कर सकते हैं सूर्य नमस्कार करने से क्या होगा आपका जो डाइजेशन काफी जबरदस्त हो जाएगा और खान ने जो भी आपने खाना खाया वह आसानी से पच सकेगा सूर्य नमस्कार में 12 योगासन आते हैं तो उसे आप दो से शुरुआत करते 25 तक बढ़ा सकते हैं धीरे-धीरे बढ़ाएगा यह तो हाथ पांव की नसें खिंच आ सकती थोड़ी बहुत तो दूसरी शुरुआत कीजिए 25 तक ले जाइए यह था और अगर आप इनकैपेबल है तो आप न्यू लिख लिया कीजिए क्रिया में क्या होता है आप खड़े हैं थोड़ा सा हल्का सा झुक के अपने हाथों से घुटने के ऊपर वाले मांस पेशियों को पकड़ी और सास को पूरा बाहर छोड़िए सांस को पूरा बाहर छोड़ेंगे तो आपका पेट खाली हो गया उसको पीछे की तरफ ऊपर ले जाइए और अपने हाथ को घुमाइए हाथ जैसे ही आप घूम आएंगे आपका पेट भी घूमने लगेगा तो यह तकनीक है असल में पेट नहीं घूम रहा है सर में वह मसल्स से एसोसिएट एंड मसल्स में आपने अगर लाइट तरफ का प्रशन मारा तो राइट तक होगा लगता क्रेशर मारो तो लग जाएगा तू उस मसल्स को हाथ पांव की उस मसल्स को हाथ से घुमाते हुए आप अपने पेट को घुमा सकते हैं यकीन मानिए इसे करने के बाद को बीमारी नहीं रहेगी जो पेट संबंधी हो और फिर भी वह एडजस्ट करेगी आपके पेट में सारी बीमारियां ठीक हो जाएंगे इसका नाम था न्यू लिख दिया और अगर आप खाने के बाद खाली टाइम रहता है तो पद्मासन में बैठ सकते हैं पद्मासन याने कि मैं चेंज करना चाहूंगा वह पद्मासन नहीं असल में वज्रासन है खाने के बाद अब वज्रासन में बैठ सकते हैं 2 मिनट से लेकर 10 मिनट तक बैठ सकते हैं उसमें क्या होता है आप आओ कोमोड़े हुए पूरा प्रसाद आपका आते हैं पेट की तरफ तो डाइजेशन जबरदस्त हो जाता है यह सिर्फ एक आसान है जो खाने के बाद भी किया जा सकता है उसका नाम है वज्रासन तो वज्रासन जरूर करें अगर दुकान में स्कूल ऑफिस में हो तो कोई दिक्कत नहीं है आप शाम को भी कर सकते हैं या ने रात के खाने में कोशिश कीजिए रात का खाना जल्द से जल्द खाया जाए बहुत लेट को 8:30 उससे ज्यादा लेट ना करें वह भी एक कारण होता है एसिडिटी का धन्यवाद

namaskar main busy sony baat kar raha hoon aapka sawaal hai acidity mein madad karne ke liye sabse accha yog ki sthiti kya hai bus mein kuch points ko mention karna chahunga inhen samjha aur apne jeevan mein apanaen aap koshish kijiye garam paani peene ka jab bhi available ho toh vaah acidity ko kam kar deta hai tel ya phir mirch bhari khane ki cheezen kam se kam khayen passport kam se kam ka yah toh hi lifestyle ke batein aur raat ko jaldi sone ki koshish kare kyonki acidity raat ko hi zyada badhti hai toh jaldi se jaldi utho savere Brahma muhurt mein uthen garam paani piye aap dekhenge kuch samay mein acidity aapki theek ho jayegi abhiyukt par aate hai hum log yog mein aap surya namaskar kar sakte hai surya namaskar karne se kya hoga aapka jo digestion kaafi jabardast ho jaega aur khan ne jo bhi aapne khana khaya vaah aasani se pach sakega surya namaskar mein 12 yogasan aate hai toh use aap do se shuruat karte 25 tak badha sakte hai dhire dhire badhayega yah toh hath paav ki nase khich aa sakti thodi bahut toh dusri shuruat kijiye 25 tak le jaiye yah tha aur agar aap inakaipebal hai toh aap new likh liya kijiye kriya mein kya hota hai aap khade hai thoda sa halka sa jhuk ke apne hathon se ghutne ke upar waale maas peshiyon ko pakadi aur saas ko pura bahar chodiye saans ko pura bahar chodenge toh aapka pet khaali ho gaya usko peeche ki taraf upar le jaiye aur apne hath ko ghumaiye hath jaise hi aap ghum aayenge aapka pet bhi ghoomne lagega toh yah taknik hai asal mein pet nahi ghum raha hai sir mein vaah muscles se associate and muscles mein aapne agar light taraf ka prashn mara toh right tak hoga lagta kreshar maaro toh lag jaega tu us muscles ko hath paav ki us muscles ko hath se ghumate hue aap apne pet ko ghuma sakte hai yakin maniye ise karne ke baad ko bimari nahi rahegi jo pet sambandhi ho aur phir bhi vaah adjust karegi aapke pet mein saree bimariyan theek ho jaenge iska naam tha new likh diya aur agar aap khane ke baad khaali time rehta hai toh padmasana mein baith sakte hai padmasana yane ki main change karna chahunga vaah padmasana nahi asal mein vajrasan hai khane ke baad ab vajrasan mein baith sakte hai 2 minute se lekar 10 minute tak baith sakte hai usme kya hota hai aap aao komode hue pura prasad aapka aate hai pet ki taraf toh digestion jabardast ho jata hai yah sirf ek aasaan hai jo khane ke baad bhi kiya ja sakta hai uska naam hai vajrasan toh vajrasan zaroor kare agar dukaan mein school office mein ho toh koi dikkat nahi hai aap shaam ko bhi kar sakte hai ya ne raat ke khane mein koshish kijiye raat ka khana jald se jald khaya jaaye bahut late ko 8 30 usse zyada late na kare vaah bhi ek karan hota hai acidity ka dhanyavad

नमस्कार मैं बिजी सोनी बात कर रहा हूं आपका सवाल है एसिडिटी में मदद करने के लिए सबसे अच्छा य

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  417
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Bindu Rani

Yoga Instructor Yog Teacher Yogacharya=yogdham Yog Center In Meerut, 19 Years Experience,yoga Classes At Home Yoga, Mediation Classes, Aerobic Classes ,yoga Classes For Ladies, Power Yoga Classes, Pilates Yoga Classes, Yoga Classes For Children's, Yoga Classes For Pregnant Women, आयुर्वेदाचार्य, नैचुरोपैथी

2:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सुप्रभात श्री में एसिडिटी बनने का कारण है शरीर का पाचन तंत्र स्वस्थ होना शरीर के पाचन क्रिया का कमजोर होना शरीर में भोजन का ना पचना भोजन का ना पचने के कारण शनि में ऐसे की मात्रा बढ़ने लगती है और छाती में जलन होने लगती है खट्टी डकार ए बबल से झाग बनने लगते हैं जिससे शरीर में बेचैनी रहने लगती है एसिडिटी को खत्म करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को कम से कम आधा घंटा अनुलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए और कपालभाति कम से कम कर से 12 मिनट तक करना चाहिए मैम के कपाल भारती का 10 से 12 मिनट तक अभ्यास करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है हमारी MP3 स्वस्थ होती है और इनमिटी स्ट्रांग होती है जिससे शरीर में पित्त की स्थिति सम बनी रहती है वात पित्त कफ सम बने रहते हैं शरीर मे वात पित्त कफ को शाम रखने के लिए प्रत्येक मनुष्य को प्रणाम कर प्यार करना चाहिए वह जाए प्रणाम उसकी बनाए भस्त्रिका प्राणायाम कपालभाती प्रणामी साथ रहना चाहिए जिससे हमारे दोस्त बनी रहे और हमें भी आशियाना योग सर्वोत्तम है योग में भी सर्वोत्तम है प्रणाम 100% लाभ मिलता है प्रणाम का शरीर में ज्यादा एसिडिटी बनने के कारण फेफड़े कमजोर हो जाते हैं हार्ट की प्रॉब्लम शुरू हो जाती है और बीमारी है पेट की बीमारियां होने लगती हैं पेट को साफ रखने के लिए रोज जीरा और सौंफ का पानी पीना चाहिए दिन में तीन बार एक-एक चम्मच जीरा और सौंफ 1 इंच के जार में भिगोकर रख दें और फिर 3 घंटे थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहे इससे शरीर में एसिडिटी नहीं बनती है

suprabhat shri mein acidity banne ka karan hai sharir ka pachan tantra swasthya hona sharir ke pachan kriya ka kamjor hona sharir mein bhojan ka na pachna bhojan ka na pachane ke karan shani mein aise ki matra badhne lagti hai aur chhati mein jalan hone lagti hai khatti dakar a babal se jhaag banne lagte hain jisse sharir mein bechaini rehne lagti hai acidity ko khatam karne ke liye pratyek vyakti ko kam se kam aadha ghanta anulom vilom pranayaam ka abhyas karna chahiye aur kapalbhati kam se kam kar se 12 minute tak karna chahiye maam ke kapal bharati ka 10 se 12 minute tak abhyas karne se pachan tantra majboot hota hai hamari MP3 swasthya hoti hai aur inamiti strong hoti hai jisse sharir mein pitt ki sthiti some bani rehti hai vaat pitt cough some bane rehte hain sharir mein vaat pitt cough ko shaam rakhne ke liye pratyek manushya ko pranam kar pyar karna chahiye vaah jaaye pranam uski banaye bhastrika pranayaam kapalbhati pranami saath rehna chahiye jisse hamare dost bani rahe aur hamein bhi aashiana yog sarvottam hai yog mein bhi sarvottam hai pranam 100 labh milta hai pranam ka sharir mein zyada acidity banne ke karan fefade kamjor ho jaate hain heart ki problem shuru ho jaati hai aur bimari hai pet ki bimariyan hone lagti hain pet ko saaf rakhne ke liye roj jeera aur sounf ka paani peena chahiye din mein teen baar ek ek chammach jeera aur sounf 1 inch ke jar mein bhigokar rakh de aur phir 3 ghante thoda thoda paani peete rahe isse sharir mein acidity nahi banti hai

सुप्रभात श्री में एसिडिटी बनने का कारण है शरीर का पाचन तंत्र स्वस्थ होना शरीर के पाचन क्रि

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  607
WhatsApp_icon
user

Bhuvnesh Sharma

Nutritionist & Dietitian

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकृति में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग का स्थिति है बचा था भोजन करने के तुरंत बाद अब वज्रासन पर बैठ सकते हैं और 1 घंटे से पहले कुछ खाए नहीं अब कुछ पिया नहीं भोजन करने के समय भी बीच में कुछ पानी वगैरह भी और भोजन करने के 1 घंटे बाद भी पानी नहीं है और हो सके तो भोजन के अंत में छोटा सा गुड़ का दिल्ली आप ले सकते हैं इससे आपको एसिडिटी में आराम मिलेगा धन्यवाद

akriti mein madad karne ke liye sabse accha yog ka sthiti hai bacha tha bhojan karne ke turant baad ab vajrasan par baith sakte hai aur 1 ghante se pehle kuch khaye nahi ab kuch piya nahi bhojan karne ke samay bhi beech mein kuch paani vagera bhi aur bhojan karne ke 1 ghante baad bhi paani nahi hai aur ho sake toh bhojan ke ant mein chota sa good ka delhi aap le sakte hai isse aapko acidity mein aaram milega dhanyavad

आकृति में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग का स्थिति है बचा था भोजन करने के तुरंत बाद अब वज्

Romanized Version
Likes  41  Dislikes    views  421
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है एसिडिटी में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग कौन सा है तो मैं बता देता हूं योग में प्रतिक्रिया एसिडिटी पेट एवं शरीर से रिलेटेड होता है लेकिन आप बोल रहे हैं उसके लिए आसन वज्रासन है तदुपरांत आप अनुलोम-विलोम करें उसके बाद आप पर आसन करें पानी का प्रयोग ज्यादा से ज्यादा करें खाने के रूप में आप पहली भुना हुआ मिर्च मसाला घी तेल का प्रयोग कम क्या करें आप बिल्कुल ठीक हो जाएंगे धन्यवाद

aapka question hai acidity mein madad karne ke liye sabse accha yog kaun sa hai toh main bata deta hoon yog mein pratikriya acidity pet evam sharir se related hota hai lekin aap bol rahe hain uske liye aasan vajrasan hai taduprant aap anulom vilom kare uske baad aap par aasan kare paani ka prayog zyada se zyada kare khane ke roop mein aap pehli bhuna hua mirch masala ghee tel ka prayog kam kya kare aap bilkul theek ho jaenge dhanyavad

आपका क्वेश्चन है एसिडिटी में मदद करने के लिए सबसे अच्छा योग कौन सा है तो मैं बता देता हूं

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  997
WhatsApp_icon
user

Khetshi V Maithia

Yoga Instructor

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार अनुलोम विलोम विलोम शब्द किसके लिए 1 मिनट 2 मिनट सूर्य और चंद्र नंदिनी बस स्टैंड सभी को बहुत बढ़िया ब्रेन के लिए व्यवसाय बहुत अनुलोम ब्रेन पार हो जाएगा

namaskar anulom vilom vilom shabd kiske liye 1 minute 2 minute surya aur chandra nandini bus stand sabhi ko bahut badhiya brain ke liye vyavasaya bahut anulom brain par ho jaega

नमस्कार अनुलोम विलोम विलोम शब्द किसके लिए 1 मिनट 2 मिनट सूर्य और चंद्र नंदिनी बस स्टैंड सभ

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  275
WhatsApp_icon
user

Rajkumar Koree

Founder & Director - Fitstop Fitness Studio

0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी में आपको बॉयज आसन करना चाहिए पवन मुक्त आसन करना चाहिए कहां पर हेल्प करते हैं एसिडिटी को कंट्रोल करने में और भोजन को डायल करते हैं

acidity mein aapko boys aasan karna chahiye pawan mukt aasan karna chahiye kahaan par help karte hain acidity ko control karne mein aur bhojan ko dial karte hain

एसिडिटी में आपको बॉयज आसन करना चाहिए पवन मुक्त आसन करना चाहिए कहां पर हेल्प करते हैं एसिडि

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  833
WhatsApp_icon
user

Dr.Swatantra Sharma

Yoga Expert & Consultant

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी दूर करने के लिए आप अनेक आसनों का उपयोग कर सकते हैं पवनमुक्तासन बहुत सुंदर आसन है उसका आप उपयोग करिए इसके साथ ही आप योगिक क्रियाओं का उपयोग करें जिसमें अग्निसार क्रिया कपालभाति क्रिया और इसके साथ मोहन धोती का अभ्यास आप करिए पानी पीकर और नमन करना होता है उसमें जिससे आपकी छोटी आपकी पूरी अच्छी सफाई हो जाएगी इसलिए शादी कब जाती रहती है तो आप बस्ती का उपयोग कर सकते हैं किसी कुशल योग शिक्षक के पास जाकर उसे सलाह लेकर उसके निर्देशन में आप इन सभी अध्यक्षों को सीखे मुझे लगता है आपको निश्चित रूप से लाभ मिलेगा

acidity dur karne ke liye aap anek aasanon ka upyog kar sakte hain pavanamuktasan bahut sundar aasan hai uska aap upyog kariye iske saath hi aap yogic kriyaon ka upyog kare jisme agnisar kriya kapalbhati kriya aur iske saath mohan dhoti ka abhyas aap kariye paani peekar aur naman karna hota hai usme jisse aapki choti aapki puri achi safaai ho jayegi isliye shadi kab jaati rehti hai toh aap basti ka upyog kar sakte hain kisi kushal yog shikshak ke paas jaakar use salah lekar uske nirdeshan mein aap in sabhi adhyakshon ko sikhe mujhe lagta hai aapko nishchit roop se labh milega

एसिडिटी दूर करने के लिए आप अनेक आसनों का उपयोग कर सकते हैं पवनमुक्तासन बहुत सुंदर आसन है उ

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  1112
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Aaditya

Yoga Instructor

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सामान्य रूप से एसिडिटी को ठीक करने के लिए हमें अधिकतम पानी पीकर के और पानी पीने के 15 से 20 मिनट के बाद उसको फॉर्मेट करना उल्टी करना इसको कुंजल क्रिया कहा जाता है इसका अभ्यास में प्रातः काल उठते ही करना चाहिए उठकर के शौचालय जाइए पानी पी कर के और शौचालय से वापस आ कर के और अधिक पानी पीकर के 15 से 20 मिनट बाद उस पानी को निकाल दीजिए तो इससे आपकी आंख का आहार नाल का ऊपरी भाग जो है उसका शुद्धीकरण हो जाता है यह एसिडिटी के लिए बहुत लाभकारी है दूसरे प्रातकाल कपालभाति ट्रिबंध प्राणायाम और अग्निसार क्रिया का अभ्यास करने से आपको एसिडिटी में विशेष लाभ होगा साथ ही साथ आप को भोजन में 50% भाग कच्चा होना चाहिए इसका भी आपको ध्यान रखना है

samanya roop se acidity ko theek karne ke liye hamein adhiktam paani peekar ke aur paani peene ke 15 se 20 minute ke baad usko format karna ulti karna isko kunjal kriya kaha jata hai iska abhyas mein pratah kaal uthte hi karna chahiye uthakar ke shauchalay jaiye paani p kar ke aur shauchalay se wapas aa kar ke aur adhik paani peekar ke 15 se 20 minute baad us paani ko nikaal dijiye toh isse aapki aankh ka aahaar naal ka upari bhag jo hai uska shudhikaran ho jata hai yah acidity ke liye bahut labhakari hai dusre pratakal kapalbhati tribandh pranayaam aur agnisar kriya ka abhyas karne se aapko acidity mein vishesh labh hoga saath hi saath aap ko bhojan mein 50 bhag kaccha hona chahiye iska bhi aapko dhyan rakhna hai

सामान्य रूप से एसिडिटी को ठीक करने के लिए हमें अधिकतम पानी पीकर के और पानी पीने के 15 से 2

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  1205
WhatsApp_icon
user

Dhananjay Janardan Suryavanshi

Founder & Director - Yogeej Meditation

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एसिडिटी कम करने के लिए पहले आपके डैड को पर ध्यान देना जरूरी है अगर आपको डायल ज्यादा तामसी को तला हुआ वह या स्पाइसी हो तो भी एसिडिटी बढ़ती है पानी की मात्रा कम होने से एसिडिटी बढ़ती है तो पहले आपके डायट के ऊपर ध्यान देना चाहिए उसके बाद आकर तनावग्रस्त हो तो भी एसिडिटी बढ़ती है तो स्ट्रेस फ्री रहना भी जरूरी है उससे भी एसिडिटी कम होती और इसके बाद हम योगासन प्राणायाम कर सकते शीतली सेट करें जैसा ठंडक देनारा प्राणायाम कर सकते हैं जिससे आपके बॉडी टेंपरेचर डाउन हो गया एसिडिटी कम हो सकते हैं लेकिन एसिडिटी के लिए पहले तो अपने जीवन शैली के ऊपर ध्यान देना चाहिए आपकी जीवनशैली बेहतर करेंगे तो एसिडिटी कम होती जाएगी

acidity kam karne ke liye pehle aapke dad ko par dhyan dena zaroori hai agar aapko dial zyada taamsi ko tala hua vaah ya spicy ho toh bhi acidity badhti hai paani ki matra kam hone se acidity badhti hai toh pehle aapke diet ke upar dhyan dena chahiye uske baad aakar tanaavgrast ho toh bhi acidity badhti hai toh stress free rehna bhi zaroori hai usse bhi acidity kam hoti aur iske baad hum yogasan pranayaam kar sakte shitli set kare jaisa thandak denara pranayaam kar sakte hain jisse aapke body temperature down ho gaya acidity kam ho sakte hain lekin acidity ke liye pehle toh apne jeevan shaili ke upar dhyan dena chahiye aapki jeevan shaili behtar karenge toh acidity kam hoti jayegi

एसिडिटी कम करने के लिए पहले आपके डैड को पर ध्यान देना जरूरी है अगर आपको डायल ज्यादा तामसी

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1329
WhatsApp_icon
user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिखे तो सवाल है असली मत करने के लिए सबसे अच्छा योग की स्थिति क्या है पता चलते ही नहीं होता है कि पेट्रोल है खान-पान का चलते गलत खानपान पर चलते तो 30% है आपका नेगेटिव थॉट चिंता तनाव होने से भी कम करता है अगर आप पूरी तरह से निजात चाहते हैं तो योग प्रणाम एवं तीनों का को करना है प्रणाम करेंगे करेंगे चंचल मन बस में आएगा कि नहीं आएगा और आसन करेंगे उस मैसेज में लाभ मिले दूर करने के लिए पवनमुक्तासन जानुशीरासन वज्रासन का शासन है जिससे उनके द्वारा आकृति में मदद पा सकते हैं एवं प्रणाम करके एवं धन करके अपना नेगेटिव थॉट्स को दूर करके भी आप ऐसे कैसे बच सकते हैं तो आप से मेरा विनम्र निवेदन है अपना इस भागदौड़ की जिंदगी में जहां खानपान में मिलावट चारों तरफ तनाव ऐसे अवस्था में योग्य एक विकल्प है जिसके द्वारा आप हीरो एवं सिद्धांत रह सकते हैं योग अपनाएं रोग भगाए योग अपनाए मोटापा घटाएं विदाउट मेडिसिन धन्यवाद

dikhen toh sawaal hai asli mat karne ke liye sabse accha yog ki sthiti kya hai pata chalte hi nahi hota hai ki petrol hai khan pan ka chalte galat khanpan par chalte toh 30 hai aapka Negative thought chinta tanaav hone se bhi kam karta hai agar aap puri tarah se nijat chahte hain toh yog pranam evam tatvo ka ko karna hai pranam karenge karenge chanchal man bus mein aayega ki nahi aayega aur aasan karenge us massage mein labh mile dur karne ke liye pavanamuktasan janushirasan vajrasan ka shasan hai jisse unke dwara akriti mein madad paa sakte hain evam pranam karke evam dhan karke apna Negative thoughts ko dur karke bhi aap aise kaise bach sakte hain toh aap se mera vinamra nivedan hai apna is bhagdaud ki zindagi mein jaha khanpan mein milavat charo taraf tanaav aise avastha mein yogya ek vikalp hai jiske dwara aap hero evam siddhant reh sakte hain yog apanaen rog bhagaye yog apnaye motapa ghataye without medicine dhanyavad

दिखे तो सवाल है असली मत करने के लिए सबसे अच्छा योग की स्थिति क्या है पता चलते ही नहीं होता

Romanized Version
Likes  100  Dislikes    views  1428
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!