क्या योग वास्तव में हमारी प्रतिरक्षा पर काम करता है?...


user
1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल सही कहा गया है कि जिस प्रकार पर्यावरण में बदलाव होते हैं अगर उस बदलाव के साथ हमारे अंदर बदलाव ना हो तो हमारा सरवाइव कर पाना संभव नहीं हमारा क्या किसी भी जीव तो पर्यावरण में हो रहे बदलावों से संभव है जब लोग के साथ जुड़े और योग में ही ऐसी क्षमता है कि पर्यावरण में बदलाव के साथ सामंजस्य स्थापित कर सकता है और आपके सर क्योंकि इसमें हम बात करते हैं अगर साइंटिफिक वे में बात करें तो इसमें इंग्लैंड की बात करते हैं कि क्लांस पर हमारा नियंत्रण हो रहा है बॉडी बॉडी में कितने हारमोंस एक्शन हो रहा है उस पर हमारा नियंत्रण हो रहा है पर्यावरण में जिस प्रकार के बदलाव होंगे हमारा शरीर उसे अडॉप्ट करता चला जाएगा उससे कृष्ण उसी तरह के होंगे शरीर में बनावट की बात कर जख्म आसुओं से बात करते तो हम देखते हैं आसन की तरह तरह के बनाए गए हमारे चारों ओर जो हम देखते हैं तो उनसे मिले हुए जैसे वृक्ष से जुड़े हुए कुछ आसन हैं पशुओं से जुड़े हुए आसने पक्षियों से जुड़े हुए आसन में देखकर आंसू का निर्माण किया गया है कि उसको में जो सकारात्मक क्षमता है उसको हमारे अंदर विकसित किया जा सके तो लोग ही एक ऐसा साधन है जिसने प्राण को हम अपने अनुसार शरीर को हम अपने हरमन भावनाओं को अपने अनुसार सकारात्मक रास्ते की ओर ले जा सकते हो और उसमें बदलाव संभोग कर सकते हैं धन्यवाद

bilkul sahi kaha gaya hai ki jis prakar paryavaran mein badlav hote hain agar us badlav ke saath hamare andar badlav na ho toh hamara survive kar paana sambhav nahi hamara kya kisi bhi jeev toh paryavaran mein ho rahe badlaon se sambhav hai jab log ke saath jude aur yog mein hi aisi kshamta hai ki paryavaran mein badlav ke saath samanjasya sthapit kar sakta hai aur aapke sir kyonki isme hum baat karte hain agar scientific ve mein baat kare toh isme england ki baat karte hain ki klans par hamara niyantran ho raha hai body body mein kitne hormones action ho raha hai us par hamara niyantran ho raha hai paryavaran mein jis prakar ke badlav honge hamara sharir use adopt karta chala jaega usse krishna usi tarah ke honge sharir mein banawat ki baat kar jakhm asuon se baat karte toh hum dekhte hain aasan ki tarah tarah ke banaye gaye hamare charo aur jo hum dekhte hain toh unse mile hue jaise vriksh se jude hue kuch aasan hain pashuo se jude hue asane pakshiyo se jude hue aasan mein dekhkar aasu ka nirmaan kiya gaya hai ki usko mein jo sakaratmak kshamta hai usko hamare andar viksit kiya ja sake toh log hi ek aisa sadhan hai jisne praan ko hum apne anusaar sharir ko hum apne harman bhavnao ko apne anusaar sakaratmak raste ki aur le ja sakte ho aur usme badlav sambhog kar sakte hain dhanyavad

बिल्कुल सही कहा गया है कि जिस प्रकार पर्यावरण में बदलाव होते हैं अगर उस बदलाव के साथ हमारे

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  141
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!