हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं?...


play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:21

Likes  222  Dislikes    views  1633
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Atul Kumar

Yoga Trainer

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको डिप्रेशन है तो आप प्रणाम और मेडिटेशन करें जिससे आपका डिप्रेशन दूर हो जाएगा बहुत सारे ऐसे प्रणब है जो डिप्रेशन कम करने में सहायक होंगी

agar aapko depression hai toh aap pranam aur meditation kare jisse aapka depression dur ho jaega bahut saare aise pranab hai jo depression kam karne me sahayak hongi

अगर आपको डिप्रेशन है तो आप प्रणाम और मेडिटेशन करें जिससे आपका डिप्रेशन दूर हो जाएगा बहुत स

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  191
WhatsApp_icon
user

Luckypandey

Yoga Trainer

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन से बचना है तो सबसे पहले जो आपके अंदर कचरा भरा हुआ है उसको निकाल दें क्योंकि एक घर में कचड़े के समान है इस प्रकार घर में कचरा होता है हम साफ कर देते हैं वह साफ हो जाता है अगर हम कचरे को रखे रहते हैं तो वहीं बदबू मारने लगता है बदबू जब मारता है तो मन हमारा चेंज हो जाता है उसी प्रकार यह डिप्रेशन अवसाद है यह बीमारी बहुत ज्यादा लोगों को परेशान कर रही किसी चीज के बारे में ज्यादा उसमें दो बनाने उस पर चिंता नहीं करना जो को जो जैसा कर रहा है वह उसको मिलेगा सब भगवान के ऊपर मोदी जी कुछ नहीं होने वाला इस बात का टेंशन लेना आपको तो यह सब आप को बचाना है प्रतिस्पर्धा की भाव नहीं रखना प्रतिस्पर्धा के भाव रखेंगे तभी आपको डिप्रेशन की समस्या हो सकती है अनिद्रा की समस्या हो सकती है तो इससे आपको बचना है तो आप प्राणायाम का अभ्यास करिए अनुलोम-विलोम भ्रामरी उदगीर ऊंचाई और सत्कर्म के क्रिया करिए जलनेति सूत्र नीति और रबड़ नेति उसी को बोलते हैं सूत्र नेती को और बामन करिए तो आपको कोई दिक्कत नहीं होगी

depression se bachna hai toh sabse pehle jo aapke andar kachra bhara hua hai usko nikaal de kyonki ek ghar me kachade ke saman hai is prakar ghar me kachra hota hai hum saaf kar dete hain vaah saaf ho jata hai agar hum kachre ko rakhe rehte hain toh wahi badbu maarne lagta hai badbu jab maarta hai toh man hamara change ho jata hai usi prakar yah depression avsad hai yah bimari bahut zyada logo ko pareshan kar rahi kisi cheez ke bare me zyada usme do banane us par chinta nahi karna jo ko jo jaisa kar raha hai vaah usko milega sab bhagwan ke upar modi ji kuch nahi hone vala is baat ka tension lena aapko toh yah sab aap ko bachaana hai pratispardha ki bhav nahi rakhna pratispardha ke bhav rakhenge tabhi aapko depression ki samasya ho sakti hai anidra ki samasya ho sakti hai toh isse aapko bachna hai toh aap pranayaam ka abhyas kariye anulom vilom bhramari udgir unchai aur satkarm ke kriya kariye jalneti sutra niti aur rubber neti usi ko bolte hain sutra neti ko aur baman kariye toh aapko koi dikkat nahi hogi

डिप्रेशन से बचना है तो सबसे पहले जो आपके अंदर कचरा भरा हुआ है उसको निकाल दें क्योंकि एक घर

Romanized Version
Likes  492  Dislikes    views  4245
WhatsApp_icon
user

Manmohan Bhutada

Founder & Director - Yog Prayog

0:24
Play

Likes  255  Dislikes    views  2548
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के माध्यम से सचिव पड़ा हुआ शरीर जहां-जहां बृजेश कोने में शिथिलता आ जाती है वह पुष्ट होने लगता है और जब शरीर पुष्ट होता है तो हमारा दिमाग अपने आप ही सदन होने लगता है मजबूत होने लगता है क्योंकि कहीं ना कहीं हमारी सांसे योग करते में तेज होती है ज्यादा अच्छी सांस लेने से फेफड़े मजबूत होते हैं और उसके बीच में इसके साथ में जला हुआ पुराना है और उसके साथ धारण करने से आपका जो दिमाग की नस नाड़ियों में पूरी ऑक्सीजन पहुंचती है आपको जो आपके अंदर अधीरता है जो आप पर तुरंत गुस्सा होने लगते हैं तुरंत आपको गुस्सा आ जाता है किसी बात पर चर्चा हो जाते हैं उन सभी में कमी आने लगती है इसीलिए उसे आप क्योंकि माध्यम से डिप्रेशन को खत्म कर सकते हैं

yog ke madhyam se sachiv pada hua sharir jaha jaha brijesh kone me shithilata aa jaati hai vaah pusht hone lagta hai aur jab sharir pusht hota hai toh hamara dimag apne aap hi sadan hone lagta hai majboot hone lagta hai kyonki kahin na kahin hamari sanse yog karte me tez hoti hai zyada achi saans lene se fefade majboot hote hain aur uske beech me iske saath me jala hua purana hai aur uske saath dharan karne se aapka jo dimag ki nas nadiyon me puri oxygen pohchti hai aapko jo aapke andar adhirata hai jo aap par turant gussa hone lagte hain turant aapko gussa aa jata hai kisi baat par charcha ho jaate hain un sabhi me kami aane lagti hai isliye use aap kyonki madhyam se depression ko khatam kar sakte hain

योग के माध्यम से सचिव पड़ा हुआ शरीर जहां-जहां बृजेश कोने में शिथिलता आ जाती है वह पुष्ट हो

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

2:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चेहरे बहुत ही अच्छा प्रश्न पूछा आपने योग के माध्यम से डिप्रेशन को कैसे हम निपट सकते हैं तो देखिए सबसे पहले डिप्रेशन में क्या होता है जब क्योंकि आदमी डिफरेंस होता है उसका मन बहुत भागने लगता है दौड़ने लगता उसका मंत्र पांच के नोट में मंदसौर जिला का जो आदमी पास में होता है वह डिप्रेस्ड होता है हमेशा पास हो तो सोच क्यों नष्ट हो जाता है पार्टी के विचारों से भूतकाल के जो भी चलाते हैं उसकी वजह से वह डिप्रेशन में चाहू पास मटका रहता है इसके डिप्रेशन में डिप्रेशन में देता है क्योंकि पास में कुछ घटना भूतकाल में कुछ ऐसी घटना घटी है जो उसके मन की पुरुष का वगैरह परिणाम हुआ है तो उस समय और दूरी दौड़ते रहता है उसका मन स्थिर रहता है तो योग क्या करता है मन और शरीर को जोड़ने की कोशिश करता है समझ में नहीं बात तो फिर शरीर और चमन एक साथ जुड़ जाएगा छूट जाएगा तो मन था के गाने वह हंड्रेड परसेंट प्रजेंट में आ जाएगा जब ऑपरेशन किया जाता है तब वह प्रेजेंट में जीने लगता है सारी सारी चीजों को जीने लगता है और अपने ऑफिस से बाहर आ जाता है वह सारी घटनाओं से उसको सब काल्पनिक घटना हो सारी चीजों से बाहर आ जाता है इसीलिए दिल्ली प्रणाम करना बहुत जरूरी है दुकान में सिखा जाता युग में सीखा जाता है सांसदों पर कंट्रोल करना जब हम सांस के ऊपर कंट्रोल कर दे तो मन क्यों पर अपने आप करना चाहता है क्योंकि मन को सांसो की तरी कंट्रोल कर सकते हैं और डिप्रेसिव आदमी के मन को कंट्रोल करना बहुत कठिन होता है तो इसीलिए उसको योग सिखाना चाहिए योग के जरिए जब वह सांसो पर कंट्रोल करेगा तो उसका मन के ऊपर अपने आप कट हो जाएगा तो मन के ऊपर जब कंट्रोल आ जाता है तो सारी चीजों के प्रकार खोला जाता है अपने के दिमाग के ऊपर कंट्रोल आ जाते हैं आपकी शरीर के ऊपर कंट्रोल आ जाता है आपकी सांसो की प्राप्त कर चला जाता है यह सारी चीजें आपके साथ में घटित होती है और इंसान धीरे धीरे धीरे धीरे डिप्रेशन से बाहर आने लगता है और पेशेंट मोमेंट मैंने लगता है वर्तमान क्षण में जी नहीं लगता है वर्तमान में आ जाता है और जब बॉडी में ऊर्जा का संचार होता है तो डिप्रेशन दिखता ही नहीं है योग क्या करता है शरीर में ऊर्जा को बढाता है सुख जीवन ऊर्जा को ऊपर की तरफ बढ़ाता है सुख में जीवन ऊर्जा जब बढ़ जाती है लाइफ में अपने शरीर में ज्यादा बढ़ जाती है तो कोई डिफरेंस शार्ट में रिकॉर्डिंग में और भेजो कि नहीं सकता है जब ऊर्जा शरीर में तो ठीक है ना जब शरीर में उर्जा ही नहीं है तभी इंसान डिप्रेशन क्या है वह डिप्रेशन साल की उर्जा काफी डाउन रहती है अगर उनकी ऊर्जा को बढ़ाया जाए योग के जरिए तो यकीनन उन्होंने पीछे से बाहर आ जाते हैं और उनका उनको काफी लाभ होता है और वह फ्रंट में रहकर काम करना सीख जाते हैं और उनका दिमाग हमेशा खाली रहता है प्रशांत रहता है मन काफी मन काफी शांत रहता है और विचलित नहीं हो तो जल्दी से तो इसीलिए रिपल्सिव आदमी को योगा करना जरूरी है हमें रिकमेंड करता हूं लोगों को डिप्रेशन वाले जितने भी मरीज है उन सबको में योगा रिकाउंट करता हूं ताकि उस जल्द से जल्द 3 मंथ के अंदर डिप्रेशन से बाहर आ सकता है नमो नारायण

chehre bahut hi accha prashna poocha aapne yog ke madhyam se depression ko kaise hum nipat sakte hain toh dekhiye sabse pehle depression me kya hota hai jab kyonki aadmi difference hota hai uska man bahut bhagne lagta hai daudne lagta uska mantra paanch ke note me mandsaur jila ka jo aadmi paas me hota hai vaah depressed hota hai hamesha paas ho toh soch kyon nasht ho jata hai party ke vicharon se bhootkaal ke jo bhi chalte hain uski wajah se vaah depression me chahu paas matka rehta hai iske depression me depression me deta hai kyonki paas me kuch ghatna bhootkaal me kuch aisi ghatna ghati hai jo uske man ki purush ka vagera parinam hua hai toh us samay aur doori daudte rehta hai uska man sthir rehta hai toh yog kya karta hai man aur sharir ko jodne ki koshish karta hai samajh me nahi baat toh phir sharir aur chaman ek saath jud jaega chhut jaega toh man tha ke gaane vaah hundred percent present me aa jaega jab operation kiya jata hai tab vaah present me jeene lagta hai saari saari chijon ko jeene lagta hai aur apne office se bahar aa jata hai vaah saari ghatnaon se usko sab kalpnik ghatna ho saari chijon se bahar aa jata hai isliye delhi pranam karna bahut zaroori hai dukaan me sikha jata yug me seekha jata hai sansadon par control karna jab hum saans ke upar control kar de toh man kyon par apne aap karna chahta hai kyonki man ko saanso ki tari control kar sakte hain aur depressive aadmi ke man ko control karna bahut kathin hota hai toh isliye usko yog sikhaana chahiye yog ke jariye jab vaah saanso par control karega toh uska man ke upar apne aap cut ho jaega toh man ke upar jab control aa jata hai toh saari chijon ke prakar khola jata hai apne ke dimag ke upar control aa jaate hain aapki sharir ke upar control aa jata hai aapki saanso ki prapt kar chala jata hai yah saari cheezen aapke saath me ghatit hoti hai aur insaan dhire dhire dhire dhire depression se bahar aane lagta hai aur patient moment maine lagta hai vartaman kshan me ji nahi lagta hai vartaman me aa jata hai aur jab body me urja ka sanchar hota hai toh depression dikhta hi nahi hai yog kya karta hai sharir me urja ko badhata hai sukh jeevan urja ko upar ki taraf badhata hai sukh me jeevan urja jab badh jaati hai life me apne sharir me zyada badh jaati hai toh koi difference shaart me recording me aur bhejo ki nahi sakta hai jab urja sharir me toh theek hai na jab sharir me urja hi nahi hai tabhi insaan depression kya hai vaah depression saal ki urja kaafi down rehti hai agar unki urja ko badhaya jaaye yog ke jariye toh yakinan unhone peeche se bahar aa jaate hain aur unka unko kaafi labh hota hai aur vaah front me rahkar kaam karna seekh jaate hain aur unka dimag hamesha khaali rehta hai prashant rehta hai man kaafi man kaafi shaant rehta hai aur vichalit nahi ho toh jaldi se toh isliye repulsive aadmi ko yoga karna zaroori hai hamein rikmend karta hoon logo ko depression waale jitne bhi marij hai un sabko me yoga recount karta hoon taki us jald se jald 3 month ke andar depression se bahar aa sakta hai namo narayan

चेहरे बहुत ही अच्छा प्रश्न पूछा आपने योग के माध्यम से डिप्रेशन को कैसे हम निपट सकते हैं तो

Romanized Version
Likes  341  Dislikes    views  3413
WhatsApp_icon
user

Giriraj Singh Tomar

Yoga Teacher, Motivator & Counselor

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के माध्यम से आप डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं तो दिखे डिप्रेशन का पहले मूल कारण हमको जानना होगा हमारे विचार जो हमें नकारात्मकता की तरफ से खेलते हैं बार-बार हमें सोचने में आता है कि मैं यह नहीं कर सकता या मेरे साथ ऐसा हो जाएगा और कोई मेरे साथ बुरा कर देगा या मेरी स्थिति खराब हो जाएगी आजकल जो कोविड-19 चल रहा है लोग डाउन चल रहा है हमें अपने आर्थिक स्थिति के बारे में बार-बार सोचना पड़ रहा है तो ऐसे कई कारण होते हैं समाज में व्याप्त जो हमारी मन उन्हीं में भागता है हमारा कॉन्शियस माइंड योर सबकॉन्शियस माइंड अपना प्रॉपर काम नहीं करते और विचार बहुत ज्यादा आते नकारात्मकता पूरे हमारे शरीर में व्याप्त हो जाती है तो यह नकारात्मकता दूर करने के लिए एक जो माध्य में सबसे सफल माध्यम वह योग योग हमें सकारात्मक करता है हमें सकारात्मक की सकारात सकारात्मकता की और लेकर जाता आप सबसे पहले इसमें योग के यह जो पहले पैर है जो पहला भाग है वह यम नियम का भाग एवं नियम जब आप जानोगे उनका पालन करोगे तो आपके विचार सकारात्मक होते हैं फिर आप आसन करोगे तो आपके शरीर स्वस्थ रहने लगता है आपके जो इंटरनल ऑर्गन से हैं वह स्वस्थ रहने लगते हैं आपके जो हार्मोनल इंबैलेंस है वह ठीक होने लगता है तो आपके सारे शरीर स्वस्थ होने लगता है तो आपका मस्तिष्क मन भी स्वस्थ होने लगते हैं यह मन का विकार है डिप्रेशन जो है यह मन का विकार है जब आपका मन स्वस्थ होने लगेगा तो नकारात्मकता दूर हो गए और सकारात्मकता आपके अंदर प्रवेश करेगी इस प्रकार आप इससे निश्चित ही निपट सकते हैं धन्यवाद

yog ke madhyam se aap depression se kaise nipat sakte hain toh dikhe depression ka pehle mul karan hamko janana hoga hamare vichar jo hamein nakaratmakta ki taraf se khelte hain baar baar hamein sochne me aata hai ki main yah nahi kar sakta ya mere saath aisa ho jaega aur koi mere saath bura kar dega ya meri sthiti kharab ho jayegi aajkal jo kovid 19 chal raha hai log down chal raha hai hamein apne aarthik sthiti ke bare me baar baar sochna pad raha hai toh aise kai karan hote hain samaj me vyapt jo hamari man unhi me bhagta hai hamara kanshiyas mind your subconscious mind apna proper kaam nahi karte aur vichar bahut zyada aate nakaratmakta poore hamare sharir me vyapt ho jaati hai toh yah nakaratmakta dur karne ke liye ek jo madhya me sabse safal madhyam vaah yog yog hamein sakaratmak karta hai hamein sakaratmak ki sakarat sakaraatmakata ki aur lekar jata aap sabse pehle isme yog ke yah jo pehle pair hai jo pehla bhag hai vaah yum niyam ka bhag evam niyam jab aap janoge unka palan karoge toh aapke vichar sakaratmak hote hain phir aap aasan karoge toh aapke sharir swasth rehne lagta hai aapke jo internal organ se hain vaah swasth rehne lagte hain aapke jo hormonal imbailens hai vaah theek hone lagta hai toh aapke saare sharir swasth hone lagta hai toh aapka mastishk man bhi swasth hone lagte hain yah man ka vikar hai depression jo hai yah man ka vikar hai jab aapka man swasth hone lagega toh nakaratmakta dur ho gaye aur sakaraatmakata aapke andar pravesh karegi is prakar aap isse nishchit hi nipat sakte hain dhanyavad

योग के माध्यम से आप डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं तो दिखे डिप्रेशन का पहले मूल कारण हमको

Romanized Version
Likes  51  Dislikes    views  1345
WhatsApp_icon
user

Vijay Sharma

Yoga Trainer (P.G.D.Y.)

6:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कल के बारे यह मालूम होना चाहिए कि डिप्रेशन क्यों होता है डिप्रेशन इसलिए होता है कि अपने ही कर्मों की वजह से डिप्रेशन होता है हम किसी भी चीज से ज्यादा उससे एक्सपेक्टेशन लगा लेते हैं अज्जू की पूरा ना होने पर अपेक्षा इतनी बढ़ जाने से अवश्य पूरी नहीं होती है उनका दिमाग में बनती है और जिसकी वैसे इंसान परेशान रहता है और बाद में जाकर वह इतनी परेशानी बढ़ जाती है कि उस डिप्रेशन का रूप ले लेता है तनाव क्यों होते हैं हाई इंटेंस की जय हाइक इंटरनेट को हटा दीजिए टेंशन खत्म हो जाएगी पनाह जो है डर से जुड़ा होता है डर लगा से जुड़ा होता है डर लगा कभी अलग नहीं सकते क्योंकि डर आज है लगा पूछना है इसलिए सबसे पहले तो 21 को खत्म करना पड़ेगा तब यह डिप्रेशन की बीमारियां दूर होती है इंसान के मस्तिष्क में यह तनाव जो है और यह डिप्रेशन की वजह से और तमाम बीमारियों मानसिक रूप से लग जाती है जैसे हिस्टीरिया है यह भी एक मानसिक बीमारी है और रे एंजाइटी के कारण यह बनती है जिसको हम योग के माध्यम से स्पर्म खत्म करते हैं ध्यान लगाने से यह सीरिया और एलाइची खत्म होती है जिसका रिजल्ट क्या होता है कि स्लीवलैस में नींद नहीं आना इन सोम वे इसे कहते हैं और जब रातों में खाली नहीं आती इसके उसका जो रिजल्ट है आप इंसान जो है थे स्लीपिंग पिल्स वगैरह नशे की आदतों की तरफ चला जाता है तो उसका फिर विघटन शुरू हो जाता है विनाश की ओर चलने लगता है यह सब चीजें होती हैं जो कि मानसिक परेशानी होने के कारण अब कहीं बाद योग के माध्यम से हम इसको कैसे सही कर सकते हैं योग हमारे घटाएं होते हैं लेकिन सबसे बड़ी बात यह कि हमारे अष्टांग योग से हम पहले बॉडी को माइंड को बिल्कुल हेल्थी और स्ट्रांग बनाते हैं हमारे योग में आज अंग हैं यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार विष्णु के जो पांच पायदान है इससे हम पहले बॉबी को नाइट को स्वस्थ और एनर्जेटिक बेहतरीन और पॉजिटिविटी लाते हैं उसके बाद जो धारणा ध्यान समाधि की ओर चले जाते हैं तो अब यह सब चालू कर दिया नियम आसन कर दे आसन से प्रणब से क्या होता है कि हम प्रणाम करते हैं ऑक्सीजन की मात्रा भरपूर मात्रा में अप्रैल में चली जाती है जिससे डॉक्टर से जमा है बॉडी में हो प्रेम उत्सव दूर हो जाते हैं जिसकी वजह से यह तमाम परेशानियां दूर होती है कपाल भारती के बच्चों का है यह सब डाकिया की ड्यूटी को दूर करते हैं नए के फार्म दूर होते हैं जिससे नगेट्स लगते हैं और जब तक से जमा रहेंगे तो तमाम बीमारियां आपके शरीर को और दिमाग में लगेगी बच्चों का होगी कपालभाति हुई आपका ब्राह्मी प्रणाम हो गया इनसे हम अपनी मानसिक गतिविधि को शांत करते हैं इसके अलावा सूर्यभेदी चंद्रभेदी प्राणायाम करते हैं अत्याचार प्रणाम करते हैं उज्जाई प्रणाम करते हैं इससे ऑक्सीजन की ऑफ ब्लड की मात्रा बढ़ती है जिससे बॉडी एनर्जी ट्रिक और बोल्ड बनती है माइंड एक्स एक्स एक्स रहता है खुश रहता है और हेल्दी बॉडी में हेल्दी माइंड का वास होता है जमाई और बॉडी हेल्दी और पौष्टिक होते हैं कभी दैवी शक्तियों का वास होता है उससे पहले कभी भी दिमाग सही में दिमाग दिमाग ही बना रहेगा और कभी भी आपका मन याचिका टीकाकरण नहीं बनेगी मिश्रित आएगा चलाए मनरेगा परेशानियों से घिरा रहेगा पांचो नर क्यों बचा रहेगा काम क्रोध मद मोह लोग योग इन कांकरोली मधु लोग को खत्म करता है जब यह 5 मिनट के बाद खत्म हो जाएंगे यह जो पहचान और भी मानसिक परेशानियां हैं वह सब खत्म हो जाती है इस योग का अभ्यास प्रतिदिन करने की जरूरत है अगर आपको हेल्दी बनना है तो फिजिकली मेंटली स्प्रे

kal ke bare yah maloom hona chahiye ki depression kyon hota hai depression isliye hota hai ki apne hi karmon ki wajah se depression hota hai hum kisi bhi cheez se zyada usse expectation laga lete hain ajju ki pura na hone par apeksha itni badh jaane se avashya puri nahi hoti hai unka dimag me banti hai aur jiski waise insaan pareshan rehta hai aur baad me jaakar vaah itni pareshani badh jaati hai ki us depression ka roop le leta hai tanaav kyon hote hain high entrance ki jai hike internet ko hata dijiye tension khatam ho jayegi panah jo hai dar se juda hota hai dar laga se juda hota hai dar laga kabhi alag nahi sakte kyonki dar aaj hai laga poochna hai isliye sabse pehle toh 21 ko khatam karna padega tab yah depression ki bimariyan dur hoti hai insaan ke mastishk me yah tanaav jo hai aur yah depression ki wajah se aur tamaam bimariyon mansik roop se lag jaati hai jaise hysteria hai yah bhi ek mansik bimari hai aur ray anxiety ke karan yah banti hai jisko hum yog ke madhyam se sperm khatam karte hain dhyan lagane se yah syria aur elaichi khatam hoti hai jiska result kya hota hai ki slivlais me neend nahi aana in Som ve ise kehte hain aur jab raatoon me khaali nahi aati iske uska jo result hai aap insaan jo hai the Sleeping pills vagera nashe ki aadaton ki taraf chala jata hai toh uska phir vighatan shuru ho jata hai vinash ki aur chalne lagta hai yah sab cheezen hoti hain jo ki mansik pareshani hone ke karan ab kahin baad yog ke madhyam se hum isko kaise sahi kar sakte hain yog hamare ghataye hote hain lekin sabse badi baat yah ki hamare ashtanga yog se hum pehle body ko mind ko bilkul healthy aur strong banate hain hamare yog me aaj ang hain yum niyam aasan pranayaam pratyahar vishnu ke jo paanch payadan hai isse hum pehle bobby ko night ko swasth aur energetic behtareen aur positivity laate hain uske baad jo dharana dhyan samadhi ki aur chale jaate hain toh ab yah sab chaalu kar diya niyam aasan kar de aasan se pranab se kya hota hai ki hum pranam karte hain oxygen ki matra bharpur matra me april me chali jaati hai jisse doctor se jama hai body me ho prem utsav dur ho jaate hain jiski wajah se yah tamaam pareshaniya dur hoti hai kapal bharati ke baccho ka hai yah sab dakiya ki duty ko dur karte hain naye ke form dur hote hain jisse nuggets lagte hain aur jab tak se jama rahenge toh tamaam bimariyan aapke sharir ko aur dimag me lagegi baccho ka hogi kapalbhati hui aapka brahmi pranam ho gaya inse hum apni mansik gatividhi ko shaant karte hain iske alava suryabhedi chandrabhedi pranayaam karte hain atyachar pranam karte hain ujjai pranam karte hain isse oxygen ki of blood ki matra badhti hai jisse body energy trick aur bold banti hai mind xxx rehta hai khush rehta hai aur healthy body me healthy mind ka was hota hai jamai aur body healthy aur paushtik hote hain kabhi daivi shaktiyon ka was hota hai usse pehle kabhi bhi dimag sahi me dimag dimag hi bana rahega aur kabhi bhi aapka man yachika tikaakaran nahi banegi mishrit aayega chalaye mgnrega pareshaniyo se ghira rahega paancho nar kyon bacha rahega kaam krodh mad moh log yog in kankroli madhu log ko khatam karta hai jab yah 5 minute ke baad khatam ho jaenge yah jo pehchaan aur bhi mansik pareshaniya hain vaah sab khatam ho jaati hai is yog ka abhyas pratidin karne ki zarurat hai agar aapko healthy banna hai toh physically mentally spray

कल के बारे यह मालूम होना चाहिए कि डिप्रेशन क्यों होता है डिप्रेशन इसलिए होता है कि अपने ह

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1690
WhatsApp_icon
user

Pradeep Solanki

Corporate Yoga Consultant

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटा जा सकता है थोड़ा योग करें प्रणाम करें मेडिटेशन करें लंबी गहरी सांस लेना जैसे भस्त्रिका वगैरा उसे आपके माइंड में ऑक्सीजन लेवल बढ़ता है पौराणिक लेवल बढ़ता है इसके अलावा थोड़ी सी मेडिटेशन किसी से चाहे वह किसी शब्द पर कर सकते हैं थोड़ा सा योग करना शुरू करेंगे प्रणाम करना शुरू कम होना शुरू हो जाए

yog ke madhyam se depression se nipta ja sakta hai thoda yog kare pranam kare meditation kare lambi gehri saans lena jaise bhastrika vagera use aapke mind me oxygen level badhta hai pouranik level badhta hai iske alava thodi si meditation kisi se chahen vaah kisi shabd par kar sakte hain thoda sa yog karna shuru karenge pranam karna shuru kam hona shuru ho jaaye

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटा जा सकता है थोड़ा योग करें प्रणाम करें मेडिटेशन करें लंब

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  543
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:34
Play

Likes  506  Dislikes    views  4113
WhatsApp_icon
user

Jyoti Garg

Yoga Trainer | Dietitian

2:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरी मालिनी पर वेट कर लिया था तो यह नहीं चाहिए ना हमें कि हम वतन मेरे साथ लेकर अपना वेट गेन कर ले मेडिटेशन करो का दिया या कोड प्रशंसा करते क्या कुछ बोल देता है तेरे साथ है क्या मुझे अच्छा लगा कि नहीं होता हर पल में कोर्ट एंड मेडिटेशन इस्पात का पर्सनल डायरी निकालो जौनपुर टू अलीगढ़ कम प्रवृत्ति का होता है तो वह हमें नहीं चाहिए

meri malini par wait kar liya tha toh yah nahi chahiye na hamein ki hum vatan mere saath lekar apna wait gain kar le meditation karo ka diya ya code prashansa karte kya kuch bol deta hai tere saath hai kya mujhe accha laga ki nahi hota har pal me court and meditation ispaat ka personal diary nikalo jaunpur to aligarh kam pravritti ka hota hai toh vaah hamein nahi chahiye

मेरी मालिनी पर वेट कर लिया था तो यह नहीं चाहिए ना हमें कि हम वतन मेरे साथ लेकर अपना वेट गे

Romanized Version
Likes  136  Dislikes    views  3983
WhatsApp_icon
user

avnindra kumar upadhyay

Physiotherapist & Yoga Instructor

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अरे युग से डिप्रेशन दूर नहीं होगा तो कोई ऐसा मेडिसिन और मेडिकल साइंस में कोई ऐसा इलाज ही नहीं बनाया जिससे हम डिप्रेशन को दूर कर सकें यू का मतलब होता है कि यदु जुड़ना परमात्मा से जुड़ना हम जिसके जिनके द्वारा बनाए गए पैकेट से जुड़ना अगर हम सुबह सुबह स्नान करें देव बंधन करें इस आई है चर्च में जाएं मुस्लिम है मस्जिद में जाएं हिंदू है मंदिर में जाएं देव आराधना करें डिप्रेशन क्या चीज है बड़े-बड़े रोग ठीक हो जाएंगे डिप्रेशन तो चुटकी बजाते ही ठीक हो जाएगी पकड़ा दो प्रकार की होती है जब हम अच्छे कर्म करेंगे स्वच्छ कर्म करेंगे तो सकारात्मक ऊर्जा बढ़ेगी और सकारात्मक उर्जा बढ़ेगी तो 1 मिनट आत्मा कुरजा वाले डिप्रेशन बीमारियां कहां रहेंगे हमारे शरीर में उनका जो है भावना ही नहीं बनने देंगे तो रहेगा हमारा शरीर छोड़कर चला जाएगा हमें सबसे अच्छा चीज है हमें किसी भी माध्यम समय अच्छे कर्मों को जमा करना है योगा कर्मसु कौशलम् लोग अपने अपने कर्मों को उचित प्रकार से करना योग है और योगी के द्वारा ही हम अच्छे कर्म कर सकते हैं तो योग द्वारा निश्चित ही डिप्रेशन खत्म हो सकता है स्वस्थ रहें योग करें शतायु हो

are yug se depression dur nahi hoga toh koi aisa medicine aur medical science me koi aisa ilaj hi nahi banaya jisse hum depression ko dur kar sake you ka matlab hota hai ki yadu judna paramatma se judna hum jiske jinke dwara banaye gaye packet se judna agar hum subah subah snan kare dev bandhan kare is I hai church me jayen muslim hai masjid me jayen hindu hai mandir me jayen dev aradhana kare depression kya cheez hai bade bade rog theek ho jaenge depression toh chutakee bajaate hi theek ho jayegi pakada do prakar ki hoti hai jab hum acche karm karenge swachh karm karenge toh sakaratmak urja badhegi aur sakaratmak urja badhegi toh 1 minute aatma kurja waale depression bimariyan kaha rahenge hamare sharir me unka jo hai bhavna hi nahi banne denge toh rahega hamara sharir chhodkar chala jaega hamein sabse accha cheez hai hamein kisi bhi madhyam samay acche karmon ko jama karna hai yoga karmasu kaushalam log apne apne karmon ko uchit prakar se karna yog hai aur yogi ke dwara hi hum acche karm kar sakte hain toh yog dwara nishchit hi depression khatam ho sakta hai swasth rahein yog kare shatayu ho

अरे युग से डिप्रेशन दूर नहीं होगा तो कोई ऐसा मेडिसिन और मेडिकल साइंस में कोई ऐसा इलाज ही न

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  453
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्त मैं आपका दोस्त आपका फ्रेंड बिजली बोल रहा हूं और आपका जो प्रश्न है कि हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं डिप्रेशन से बिल्कुल निपट सकते हैं दोस्त अभी डिप्रेशन का ही कारण था कि कल जो सूचना मिली कल्याणी के 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत ने डिप्रेशन के कारण ही आत्महत्या कर ली तो जो इंसान जो करता है वह ना तो डिप्रेशन में हो सकता है और न वो आत्महत्या कर सकता है सीधी सीधी बात सुन लो क्या ना तो आत्महत्या करेगा और ना ही डिप्रेशन में रहेगा तो इसलिए योग करना सीखो प्रणब करना सीखो अपने माइंड में जो ऑक्सीजन लेवल है वह पूरा होना चाहिए दिमाग में जमीन की कमी होगी तो दिमाग में लिखा रहेंगे नेगेटिव बैनर उल्टी सोच आएगी गुस्सा आएगा बीपी पड़ेगा ठीक है तू इसलिए और अपने जॉब के निजी लोग अपने संबंधी हैं जिन पर आपको भरोसा है बातचीत करें कोई भी समस्या होती है अरे आत्महत्या करना डिप्रेशन के कारण कोई समस्या का समाधान नहीं है भाई यह कायरता है सिर्फ कायरता कायरता कायरता तो आप योग करें और अपने दिमाग को स्वस्थ रखते हैं और अपने दिमाग में पॉजिटिव एनर्जी भरे अनुलोम-विलोम भ्रामरी और उसकी यह तीनों प्रणाम आपके माइंड में जबरदस्त पॉजिटिव एनर्जी देते हैं ठीक है तो आप स्वस्थ रहें मस्त रहें खुश रहे योग करें बचपन से जवानी की ओर जवानी एक जवानी की ओर जो योग करता है वह कभी बूढ़ा नहीं होता ओके टेक केयर बाय

namaskar dost main aapka dost aapka friend bijli bol raha hoon aur aapka jo prashna hai ki hum yog ke madhyam se depression se kaise nipat sakte hain depression se bilkul nipat sakte hain dost abhi depression ka hi karan tha ki kal jo soochna mili kalyani ke 14 june ko sushant Singh rajput ne depression ke karan hi atmahatya kar li toh jo insaan jo karta hai vaah na toh depression me ho sakta hai aur na vo atmahatya kar sakta hai seedhi seedhi baat sun lo kya na toh atmahatya karega aur na hi depression me rahega toh isliye yog karna sikho pranab karna sikho apne mind me jo oxygen level hai vaah pura hona chahiye dimag me jameen ki kami hogi toh dimag me likha rahenge Negative banner ulti soch aayegi gussa aayega BP padega theek hai tu isliye aur apne job ke niji log apne sambandhi hain jin par aapko bharosa hai batchit kare koi bhi samasya hoti hai are atmahatya karna depression ke karan koi samasya ka samadhan nahi hai bhai yah kayarata hai sirf kayarata kayarata kayarata toh aap yog kare aur apne dimag ko swasth rakhte hain aur apne dimag me positive energy bhare anulom vilom bhramari aur uski yah tatvo pranam aapke mind me jabardast positive energy dete hain theek hai toh aap swasth rahein mast rahein khush rahe yog kare bachpan se jawaani ki aur jawaani ek jawaani ki aur jo yog karta hai vaah kabhi budha nahi hota ok take care bye

नमस्कार दोस्त मैं आपका दोस्त आपका फ्रेंड बिजली बोल रहा हूं और आपका जो प्रश्न है कि हम योग

Romanized Version
Likes  452  Dislikes    views  5680
WhatsApp_icon
user

Rakesh Kothiyal

Astrologer And Yoga Teacher

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हरि ओम नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं दोस्तों योग के माध्यम से आप सर्वप्रथम नाड़ी शोधन करें नाड़ी शोधन के बाद आप ब्राह्मणी प्राणायाम करें राम जी प्रणाम में गहरी लगी साथ ले दोनों का आना बंद करें जब आप साथ सोने को गले से आवाज निकलती हो ऐसे करके गोरा गोरा गोरा आप सुनाओ क्या वह कैसे आवाज करता है जब फूलों के बीच से गुजरता हुआ जाता है कैसे बात करते हो रही आवाज करता है भंवरा तो आपको ऐसे ही अपने दोनों कान बंद करके ऐसी आवाज करना जफराबाद निकलता है और उस आवाज में आपको ओम की ध्वनि निकालनी है बाहर वो एकदम बंद रखना है सांस के साथ पहले से आवाज निकलती हुई इससे आपको क्या होगा आप जितने भी डिप्रेशन में रहेंगे मानसिक तनाव में रहेंगे कुछ आप सोच रहे हैं तो इससे आपको काफी काफी अच्छा लाभ मिलेगा अभी के प्रिंसेस से काफी अच्छे लाभ पा सकते हैं

hari om namaskar doston aapka prashna hai hum yog ke madhyam se depression se kaise nipat sakte hain doston yog ke madhyam se aap sarvapratham naadi sodhan kare naadi sodhan ke baad aap brahmani pranayaam kare ram ji pranam me gehri lagi saath le dono ka aana band kare jab aap saath sone ko gale se awaaz nikalti ho aise karke gora gora gora aap sunao kya vaah kaise awaaz karta hai jab fulo ke beech se guzarta hua jata hai kaise baat karte ho rahi awaaz karta hai bhanwara toh aapko aise hi apne dono kaan band karke aisi awaaz karna jafarabad nikalta hai aur us awaaz me aapko om ki dhwani nikaalanee hai bahar vo ekdam band rakhna hai saans ke saath pehle se awaaz nikalti hui isse aapko kya hoga aap jitne bhi depression me rahenge mansik tanaav me rahenge kuch aap soch rahe hain toh isse aapko kaafi kaafi accha labh milega abhi ke Princes se kaafi acche labh paa sakte hain

हरि ओम नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं द

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  1076
WhatsApp_icon
user

Vinita Mishra

Meditation

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं राजयोग मेडिटेशन के द्वारा डिप्रेशन से पूरी तरह से निपटा जा सकता है राजयोग मेडिटेशन हमें अपने ओरिजिनल स्वरूप से अवगत कराती है जब हम अपने ओरिजिनल स्वरूप से अवगत होते हैं या नहीं हम केवल एक शरीर नहीं है और इसके साथ साथ हम यह भी अनुभव करते हैं कि हम सभी आत्माएं हैं तो हम स्वयं को भी डाल लेते हैं कि हम आत्मा है और बाकी अपने सामने पड़ने वाले अपने संबंध संपर्क में आने वाले अन्य लोगों को भी धीरे-धीरे उस रूप में देखने लगते हैं उनकी गलतियों को क्षमा करने लगते हैं उनके द्वारा किए हुए व्यवहार को इग्नोर करने लगते हैं अगर गलत है तो और उनको दिल से लव करने लगते हैं निस्वार्थ प्रेम हमारे अंदर आता है क्षमा की भावना आती है हिंदी आती है यह सब धीरे-धीरे तब होता है जब हम उसके किसी भी मनुष्य को सिर्फ उसकी शारीरिक आधार पर आकलन करना छोड़ देते हैं यह राजयोग मेडिटेशन की सबसे पहले शिक्षा है कि हम एक आत्मा है हम एक शरीर नहीं है केवल शरीर नहीं है यह शरीर अमेजन पर कर्म करने के लिए मिला है तो वास्तव में डिप्रेशन जो आज हो रहा है लोगों को आज इसकी अवस्था बहुत ज्यादा बढ़ गई है तो डिप्रेशन की मुख्य वजह यही है कि हम अपने शरीर और शरीर से रिलेटेड चीज अपने शरीर के द्वारा संबंध संपर्क में आने वाले लोगों को उनकी बातों को और परिस्थितियों को जो स्कूल परिस्थितियां है उनको कितने गहराई से और कितने नकारात्मक तरीके से अपने मन में बिठा लेते हैं जिसकी वजह से डिप्रेशन होता है अगर कोई सकारात्मक व्यक्ति होता है अगर कोई बचपन से ही अच्छे माहौल में मिला जिसे मिला हो और परवरिश हुई हो उसके अंदर डिप्रेशन कम होता है किसी परिस्थिति में वह नॉर्मल रह पाता है या थोड़ा कम प्रभावित होता है इसके बजाय बोलो थोड़ा कुंठित रहते हैं अपने आप में परेशान रहते हैं या बचपन से ही कई परेशानियों को देखकर उनकी सोच के अवस्था कमजोर हो गई है वह डिप्रेशन के शिकार जल्दी होते हैं तो डिप्रेशन हमारे मानसिक सोच के अवस्था पर निर्भर करती है योग जो है वह हमें राजयोग मेडिटेशन जिसकी मैं बात कर रही हूं वह हमें हमारे मानसिक सोच को बहुत सकारात्मक करने में सहयोगी किस तरह से होता है कि सबसे पहले हमें यह रियल आइज होता है कि हम एक आत्मा है मतलब हमारा ओरिजिनल शोरूम तो एक आत्मा है इसके पहले क्या होता था कि हम अपने आप को शरीर और सामने वाले के हर कर्म को शरीर के रूप में देखते हैं कि बॉडी कॉन्शसनेस होने से क्या प्रॉब्लम होते हैं और कौन-कौन से स्थित होने से क्या पोलूशन होता है यह समझना बहुत जरूरी है तभी समझ में आएगा कि राजयोग मेडिटेशन के द्वारा डिप्रेशन कैसे दूर होता है जब हम बॉडी कॉन्शसनेस में रहते हैं तो हम हर कर्म को किसी के भी बोल को किसी के भी व्यवहार को या बाहरी परिस्थितियों को उसी रूप में ग्रहण करते हैं इसके विपरीत जब हम चोर कौन से समय रहते हैं और कौन से जब हम होते हैं तो हमें यह ज्ञात होता है कि हर मनुष्य कर्म क्षेत्र में एक बहुत बड़े बहुत बड़े बेहद के ड्रामे जो परमात्मा द्वारा रचयिता द्वारा रची गई है उस ट्रामी में अपना अपना पाठ कर रहे हैं अपना अपना रोल कर रहे हैं इस शरीर के माध्यम से तो जिस तरह से हम अपने शरीर को जस्टिफाई करते हैं अपने बोल को अपने कर्म को जस्टिफाई करते हैं उसी तरह से हमें समझने में लोगों को भी कि वह सब भी अपना रोल कर रहे थे हम रोज सोचते हैं तो धीरे-धीरे जो हमारे उसको जो है वह परिवर्तित होकर मतलब लोगों के अगर कुछ गलत इसी सोच की कमी के कारण जब पहले हम बॉडी कॉन्शसनेस में लोगों को सिर्फ देखते थे तो उन्हें पुन में बहुत अपने अंतर पाते थे कि इनका व्यवहार ऐसा है इनकी खाने पीने की आदत ऐसी है इनमें यह लत है ऐसी लेकिन जब हम ड्रामा के राज को समझ जाते हैं इस बेहद के ड्रामा को कि यहां सब को एक बहुत बड़े नाटक मंच में अपना अपना पाठ कर रहा है और हम ओरिजिनल ही सब आत्मा है उस परमपिता परमात्मा की संतान तू जब हम यह समझते हैं तो हमें स्टेनले किसी के रोल से मतलब जाकर कोई नशा कर रहा है तो हम उसे माइंड से रिजेक्ट नहीं करते उसके उस पार्ट को बहुत जल्दी जग ने करते हैं माइंड से हमारे माइंड में 17078 आती है औरों के प्रति भी औरों के बीएफ के प्रति कर्म के प्रति भी क्योंकि हर कोई खुद को अच्छा बोलता है हर कोई को खुद का कर्म अच्छा लगता है खुद के बोल अच्छे लगते व्यवहार अच्छे लगते हैं पर बाकियों का फिर कुछ ना कुछ कमी लगती है तो यह चीजें ही हमें दुख देती है यह चीजें तकलीफ देती है हमारे मन को डिस्टर्ब करती है और कुछ भी नहीं है ज्यादा इसमें तो मन को डिस्टर्ब होने से बचाने के लिए जो हम लोगों को उसके ओरिजिनल स्वरूप में देखकर और उसके पार्ट को भी एक्सेप्ट करना सीख जाते हैं तो शुरुआत में सामने वाले व्यक्ति जिनके साथ भी हमारा संबंध है संपर्क में हमारे आते हैं और जिन से बहुत ज्यादा प्रभावित होते हैं उनके अगर बोल व्यवहार पहले हमें गलत अनुभव कराते थे कुछ गलत हमारे अंदर वह चीज आती थी वह चीज तुरंत बदल जाता है क्यों क्योंकि हमें यह रियल आ जाता है कि यह भी आत्मा है और अपना पार्ट्स बॉडी पर उसके कई जन्मों के हिसाब किताब की वजह से वह अभी इस रोल में है तो यह रिलाइजेशन जो है हमें अपने साथ-साथ लोगों को भी समझने की शक्ति दी थी इससे हमें ही फायदा होता है उनको क्या फायदा हो रहा है वह तो ऊपर से रिश्ते सब अच्छे होंगे वह तो जाहिर सी बात है लेकिन फायदा हमें इसलिए होता है कि हमारे मन में जो नकारात्मक तक किसी के प्रति व्यक्ति जाती है अरे यह ऐसे है इसकी आदत ऐसी है इसके तो चुगली करने की आदत है इसके तो यह शराब के नशे की आदत है कुछ भी कुछ भी किसी को रिजेक्ट करने का यह बहुत सारे पॉइंट्स है वह बहुत सारे पॉइंट्स अब क्या होने लगे एक्सेप्ट करने के पॉइंट बनने लगे तो हमारे मन की अवस्था होती हुई कि नहीं हुई हमारे मन की अवस्था ऊंची होने लगे हमारे मन में क्या होने लगा कि अपने प्रति भी लोगों के प्रति मतलब जिस दिन माहौल में रह रहे हैं और सब के प्रति एक्सेप्टिंग जग गए और एक्सेप्ट करने की वजह से हमारी पावर बढ़ जाएगी धीरे-धीरे यह पावर बढ़ती जाती है हम यही नहीं कहा रिजेक्ट करने की वजह से हम क्या होते हमारे मस्जिद रिजेक्ट किया अब वह सही नहीं है यह सही नहीं है यह चीजें चलेगी तो दुखी कौन होगा जो सही नहीं है वह तो अपने जगह पर जो कर रहा है कर रहा है चल रहा है उसके अपनी दोस्ती होगी लेकिन हम उनके बारे में उन लोगों के बारे में उस परिस्थिति के बारे में उस घर के बारे में किसी भी चीज पर हो सकता है उसके बारे में सोच सकते हम भी तो अपने माइंड को दुख में वह सोच के अपने पूरे मन को दुखी करके रखें तो हम डिप्रेशन में जाने के रास्ते पर चल पड़ते हैं ऐसे ही सोचना है कि अगर हम किसी भी चीज चाहे वह मेरा घर हो स्टेटस तो हमारे नौकरी की स्थिति हमारे पढ़ाई की स्थिति हो हमारी शारीरिक सुंदरता शारीरिक स्वास्थ्य से लेकर किसी भी तरह की चीजों में जो भी हमें मिल रहा है अगर हमें यह क्लियर रहता है राजू में स्टेशन के द्वारा मुझे क्लियर होने लगता है कि वह हमारे पिछले कई कर्मों के आधार पर मिले हुए परिणाम के आधार पर ही हमें मिला है इसलिए दुनिया में इतनी विविधता है इतने अंतर के लोग हैं कोई भी एक दूसरे से मिलने खाता तो हमें जिस तरह से हम अपने आप को सही ठहराते हैं उसी तरह सामने वाला भी अपने कर्म को सही कर समझ कर ही कर रहा है और उसके अनुसार बिल्कुल सही है मतलब कि अभी उसको बोल दिया क्या यह सारी चीजें जो है हमें अपने साथ-साथ औरो को भी समझने की शक्ति देती है इसके साथ से तुम्हारी जो भी स्थिति परिस्थिति है घर की शरीर की बीमारियां के और भी उन सब चीजों को भी एक्सेप्ट करने की शक्ति देती है और हमारा मन मजबूत होता जाता है इसके साथ परमात्मा के साथ योग लगाने से यानी उनके साथ कनेक्शन बनाने से भी हमें बहुत पावर मिलता है और धीरे-धीरे हम बहुत सारी चीजों से इतना अटैक नहीं होता अगर हमें कोई गंभीर बीमारी भी है तो भी हम धीरे-धीरे उसे उस पर से ध्यान हटाते हैं क्योंकि हमें यह रिलाइज है शरीर एक मीना सी चीज है जिसको बचाकर रखें हमारे सैनिक भाइयों का शरीर है तो उनका भी तो शरीर ही होता है ना पर उन्होंने उस शरीर को किस तरह से अपना यूज किया तो शरीर एक विनाशी चीज है इसके बारे में बहुत ज्यादा कर चिंतन करेंगे और हमें उसका अगर कुछ अभी मिल रहा है कुछ बीमारी हो गई है यह से रिलेटेड कोई तकलीफ है तो उसका फायदा क्या इसके बदले करो मन को स्ट्रांग रखेंगे तो उस तकलीफ दे शरीर से भी बहुत अच्छी तरह से काम ले सकते हैं क्योंकि मन हमारा प्रफुल्लित रहेगा यह बहुत सारे पॉइंट से जो हमें डिप्रेशन से निकलने में मदद करते हैं कैसा था परमात्मा के महावाक्य जो हम लोग राजयोग मेडिटेशन जो करते हैं वो लोग सुनते हैं उससे भी मैं बहुत सारे पॉइंट्स मिल जाते हैं और धीरे-धीरे हमारी जिंदगी के प्रति लोगों के प्रति परिस्थितियों के प्रति मन में इतनी सकारात्मकता आती है कि डिप्रेशन होने का सवाल ही नहीं उठता अगर हमारे बच्चे थोड़े से कम मार्क्स ला रहे हैं तो भी हम परेशान नहीं होते और इतनी पॉजिटिव रहते थे अगले बार विश्वास के साथ उससे

hum yog ke madhyam se depression se kaise nipat sakte hain rajyog meditation ke dwara depression se puri tarah se nipta ja sakta hai rajyog meditation hamein apne original swaroop se avgat karati hai jab hum apne original swaroop se avgat hote hain ya nahi hum keval ek sharir nahi hai aur iske saath saath hum yah bhi anubhav karte hain ki hum sabhi aatmaen hain toh hum swayam ko bhi daal lete hain ki hum aatma hai aur baki apne saamne padane waale apne sambandh sampark me aane waale anya logo ko bhi dhire dhire us roop me dekhne lagte hain unki galatiyon ko kshama karne lagte hain unke dwara kiye hue vyavhar ko ignore karne lagte hain agar galat hai toh aur unko dil se love karne lagte hain niswarth prem hamare andar aata hai kshama ki bhavna aati hai hindi aati hai yah sab dhire dhire tab hota hai jab hum uske kisi bhi manushya ko sirf uski sharirik aadhar par aakalan karna chhod dete hain yah rajyog meditation ki sabse pehle shiksha hai ki hum ek aatma hai hum ek sharir nahi hai keval sharir nahi hai yah sharir amazon par karm karne ke liye mila hai toh vaastav me depression jo aaj ho raha hai logo ko aaj iski avastha bahut zyada badh gayi hai toh depression ki mukhya wajah yahi hai ki hum apne sharir aur sharir se related cheez apne sharir ke dwara sambandh sampark me aane waale logo ko unki baaton ko aur paristhitiyon ko jo school paristhiyaann hai unko kitne gehrai se aur kitne nakaratmak tarike se apne man me bitha lete hain jiski wajah se depression hota hai agar koi sakaratmak vyakti hota hai agar koi bachpan se hi acche maahaul me mila jise mila ho aur parvarish hui ho uske andar depression kam hota hai kisi paristhiti me vaah normal reh pata hai ya thoda kam prabhavit hota hai iske bajay bolo thoda kunthit rehte hain apne aap me pareshan rehte hain ya bachpan se hi kai pareshaniyo ko dekhkar unki soch ke avastha kamjor ho gayi hai vaah depression ke shikaar jaldi hote hain toh depression hamare mansik soch ke avastha par nirbhar karti hai yog jo hai vaah hamein rajyog meditation jiski main baat kar rahi hoon vaah hamein hamare mansik soch ko bahut sakaratmak karne me sahyogi kis tarah se hota hai ki sabse pehle hamein yah real eyez hota hai ki hum ek aatma hai matlab hamara original showroom toh ek aatma hai iske pehle kya hota tha ki hum apne aap ko sharir aur saamne waale ke har karm ko sharir ke roop me dekhte hain ki body consciousness hone se kya problem hote hain aur kaun kaun se sthit hone se kya pollution hota hai yah samajhna bahut zaroori hai tabhi samajh me aayega ki rajyog meditation ke dwara depression kaise dur hota hai jab hum body consciousness me rehte hain toh hum har karm ko kisi ke bhi bol ko kisi ke bhi vyavhar ko ya bahri paristhitiyon ko usi roop me grahan karte hain iske viprit jab hum chor kaun se samay rehte hain aur kaun se jab hum hote hain toh hamein yah gyaat hota hai ki har manushya karm kshetra me ek bahut bade bahut bade behad ke drama jo paramatma dwara rachiyata dwara rachi gayi hai us trami me apna apna path kar rahe hain apna apna roll kar rahe hain is sharir ke madhyam se toh jis tarah se hum apne sharir ko justify karte hain apne bol ko apne karm ko justify karte hain usi tarah se hamein samjhne me logo ko bhi ki vaah sab bhi apna roll kar rahe the hum roj sochte hain toh dhire dhire jo hamare usko jo hai vaah parivartit hokar matlab logo ke agar kuch galat isi soch ki kami ke karan jab pehle hum body consciousness me logo ko sirf dekhte the toh unhe pun me bahut apne antar paate the ki inka vyavhar aisa hai inki khane peene ki aadat aisi hai inmein yah lat hai aisi lekin jab hum drama ke raj ko samajh jaate hain is behad ke drama ko ki yahan sab ko ek bahut bade natak manch me apna apna path kar raha hai aur hum original hi sab aatma hai us parampita paramatma ki santan tu jab hum yah samajhte hain toh hamein stenale kisi ke roll se matlab jaakar koi nasha kar raha hai toh hum use mind se reject nahi karte uske us part ko bahut jaldi jag ne karte hain mind se hamare mind me 17078 aati hai auron ke prati bhi auron ke bf ke prati karm ke prati bhi kyonki har koi khud ko accha bolta hai har koi ko khud ka karm accha lagta hai khud ke bol acche lagte vyavhar acche lagte hain par baakiyon ka phir kuch na kuch kami lagti hai toh yah cheezen hi hamein dukh deti hai yah cheezen takleef deti hai hamare man ko disturb karti hai aur kuch bhi nahi hai zyada isme toh man ko disturb hone se bachane ke liye jo hum logo ko uske original swaroop me dekhkar aur uske part ko bhi except karna seekh jaate hain toh shuruat me saamne waale vyakti jinke saath bhi hamara sambandh hai sampark me hamare aate hain aur jin se bahut zyada prabhavit hote hain unke agar bol vyavhar pehle hamein galat anubhav karate the kuch galat hamare andar vaah cheez aati thi vaah cheez turant badal jata hai kyon kyonki hamein yah real aa jata hai ki yah bhi aatma hai aur apna parts body par uske kai janmon ke hisab kitab ki wajah se vaah abhi is roll me hai toh yah realisation jo hai hamein apne saath saath logo ko bhi samjhne ki shakti di thi isse hamein hi fayda hota hai unko kya fayda ho raha hai vaah toh upar se rishte sab acche honge vaah toh jaahir si baat hai lekin fayda hamein isliye hota hai ki hamare man me jo nakaratmak tak kisi ke prati vyakti jaati hai are yah aise hai iski aadat aisi hai iske toh chugli karne ki aadat hai iske toh yah sharab ke nashe ki aadat hai kuch bhi kuch bhi kisi ko reject karne ka yah bahut saare points hai vaah bahut saare points ab kya hone lage except karne ke point banne lage toh hamare man ki avastha hoti hui ki nahi hui hamare man ki avastha unchi hone lage hamare man me kya hone laga ki apne prati bhi logo ke prati matlab jis din maahaul me reh rahe hain aur sab ke prati excepting jag gaye aur except karne ki wajah se hamari power badh jayegi dhire dhire yah power badhti jaati hai hum yahi nahi kaha reject karne ki wajah se hum kya hote hamare masjid reject kiya ab vaah sahi nahi hai yah sahi nahi hai yah cheezen chalegi toh dukhi kaun hoga jo sahi nahi hai vaah toh apne jagah par jo kar raha hai kar raha hai chal raha hai uske apni dosti hogi lekin hum unke bare me un logo ke bare me us paristhiti ke bare me us ghar ke bare me kisi bhi cheez par ho sakta hai uske bare me soch sakte hum bhi toh apne mind ko dukh me vaah soch ke apne poore man ko dukhi karke rakhen toh hum depression me jaane ke raste par chal padate hain aise hi sochna hai ki agar hum kisi bhi cheez chahen vaah mera ghar ho status toh hamare naukri ki sthiti hamare padhai ki sthiti ho hamari sharirik sundarta sharirik swasthya se lekar kisi bhi tarah ki chijon me jo bhi hamein mil raha hai agar hamein yah clear rehta hai raju me station ke dwara mujhe clear hone lagta hai ki vaah hamare pichle kai karmon ke aadhar par mile hue parinam ke aadhar par hi hamein mila hai isliye duniya me itni vividhata hai itne antar ke log hain koi bhi ek dusre se milne khaata toh hamein jis tarah se hum apne aap ko sahi thahrate hain usi tarah saamne vala bhi apne karm ko sahi kar samajh kar hi kar raha hai aur uske anusaar bilkul sahi hai matlab ki abhi usko bol diya kya yah saari cheezen jo hai hamein apne saath saath auro ko bhi samjhne ki shakti deti hai iske saath se tumhari jo bhi sthiti paristhiti hai ghar ki sharir ki bimariyan ke aur bhi un sab chijon ko bhi except karne ki shakti deti hai aur hamara man majboot hota jata hai iske saath paramatma ke saath yog lagane se yani unke saath connection banane se bhi hamein bahut power milta hai aur dhire dhire hum bahut saari chijon se itna attack nahi hota agar hamein koi gambhir bimari bhi hai toh bhi hum dhire dhire use us par se dhyan hatate hain kyonki hamein yah rilaij hai sharir ek meena si cheez hai jisko bachakar rakhen hamare sainik bhaiyo ka sharir hai toh unka bhi toh sharir hi hota hai na par unhone us sharir ko kis tarah se apna use kiya toh sharir ek vinaashi cheez hai iske bare me bahut zyada kar chintan karenge aur hamein uska agar kuch abhi mil raha hai kuch bimari ho gayi hai yah se related koi takleef hai toh uska fayda kya iske badle karo man ko strong rakhenge toh us takleef de sharir se bhi bahut achi tarah se kaam le sakte hain kyonki man hamara prafullit rahega yah bahut saare point se jo hamein depression se nikalne me madad karte hain kaisa tha paramatma ke mahavakya jo hum log rajyog meditation jo karte hain vo log sunte hain usse bhi main bahut saare points mil jaate hain aur dhire dhire hamari zindagi ke prati logo ke prati paristhitiyon ke prati man me itni sakaraatmakata aati hai ki depression hone ka sawaal hi nahi uthata agar hamare bacche thode se kam marks la rahe hain toh bhi hum pareshan nahi hote aur itni positive rehte the agle baar vishwas ke saath usse

हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं राजयोग मेडिटेशन के द्वारा डिप्रेशन से प

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  433
WhatsApp_icon
user

योगाचार्य S.S.Rawat🕉🔱🚩🙏

Lecturer Of Yog And Alternative Therapy

0:32
Play

Likes  73  Dislikes    views  1828
WhatsApp_icon
user

Pardeep

Naturopath

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन को कम करने के लिए आफ मेडिटेशन कीजिए ध्यान जिसको बोलते हैं कैसे करोगे दुकान पर बैठ गए अकाउंट में अपने विचारों को रखी है जो आपकी परेशानियां हैं जो आपको परेशान कर रहे हैं चाय आपके दोस्त हैं या कोई और चीज है उसको बिल्कुल से दूर रहिए को ऐड कीजिए आपका बहुत बड़ा नुकसान कर रही हो मैं मानता हूं और आप जैसे ही निर्देशन करेंगे योग प्रणाम शुरू करेंगे अद्भुत प्रणाम आपको देखने को मिलेंगे अद्भुत आप कल्पना भी नहीं कर सकते सोच भी नहीं सकते बिल्कुल करिए और हमसे संपर्क

depression ko kam karne ke liye of meditation kijiye dhyan jisko bolte hain kaise karoge dukaan par baith gaye account me apne vicharon ko rakhi hai jo aapki pareshaniya hain jo aapko pareshan kar rahe hain chai aapke dost hain ya koi aur cheez hai usko bilkul se dur rahiye ko aid kijiye aapka bahut bada nuksan kar rahi ho main maanta hoon aur aap jaise hi nirdeshan karenge yog pranam shuru karenge adbhut pranam aapko dekhne ko milenge adbhut aap kalpana bhi nahi kar sakte soch bhi nahi sakte bilkul kariye aur humse sampark

डिप्रेशन को कम करने के लिए आफ मेडिटेशन कीजिए ध्यान जिसको बोलते हैं कैसे करोगे दुकान पर बैठ

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  863
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Bindu Rani

Yoga Instructor Yog Teacher Yogacharya=yogdham Yog Center In Meerut, 19 Years Experience,yoga Classes At Home Yoga, Mediation Classes, Aerobic Classes ,yoga Classes For Ladies, Power Yoga Classes, Pilates Yoga Classes, Yoga Classes For Children's, Yoga Classes For Pregnant Women, आयुर्वेदाचार्य, नैचुरोपैथी

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रणाम की साधना करने से मानसिक विकार खत्म होते हैं मानसिक विकारों को दूर करने के लिए मनुष्य को प्रत्येक आधा घंटे से 1 घंटे तक परिणाम की साधना करनी चाहिए जिसमें सर्वोत्तम परिणाम है बस देखा उसकी तरह मरे उसके तुरंत बाद हमें ध्यान की स्थिति में जाना चाहिए प्रणा साधना करते हुए सांसों की गति पर ध्यान केंद्रित करते हुए कम से कम 15 मैच है जिस स्थिति में बैठ जाना चाहिए जिससे मन और मस्तिष्क के विकार दूर होते हैं कितना भी पुराना अच्छा दिया स्ट्रेस या डिप्रैशन हो खत्म हो जाता है हमेशा हमेशा के लिए

pranam ki sadhna karne se mansik vikar khatam hote hain mansik vikaron ko dur karne ke liye manushya ko pratyek aadha ghante se 1 ghante tak parinam ki sadhna karni chahiye jisme sarvottam parinam hai bus dekha uski tarah mare uske turant baad hamein dhyan ki sthiti mein jana chahiye prana sadhna karte hue shanson ki gati par dhyan kendrit karte hue kam se kam 15 match hai jis sthiti mein baith jana chahiye jisse man aur mastishk ke vikar dur hote hain kitna bhi purana accha diya stress ya dipraishan ho khatam ho jata hai hamesha hamesha ke liye

प्रणाम की साधना करने से मानसिक विकार खत्म होते हैं मानसिक विकारों को दूर करने के लिए मनुष्

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  411
WhatsApp_icon
user

Priyanka

Psychologist

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अमेरिकन क्वेश्चन हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं योग 1 तरीके एक्सरसाइज है जो हमारे ब्रेन को काम करती है फिजिकली हमें एक्टर पड़ती है तू योग के माध्यम से डिप्रेशन से निकल सकते हैं कुछ आसन मैं आपको सजेस्ट कर रही हूं जिससे करने से आप रिप्रेशन से निकल सकते हैं आपका ब्रेन काम होगा जो हार्मोनल इंबैलेंस बाबू भी ठीक होगा जो केमिकल रिएक्शन टरबाइन में हुआ ट्रेन में हुआ वह भी खो का कुछ आसन मैं आपको बता रही हूं 100 आसन सुखासन कोणासन त्रिकोणासन हलासन भुजंगासन धनुरासन ऐसे आसान है जिनके करने से आपका ब्रेन काम होगा ना और युवक से ही आप डिप्रेशन से निकल जाएंगे थैंक यू

american question hum yog ke madhyam se depression se kaise nipat sakte hain yog 1 tarike exercise hai jo hamare brain ko kaam karti hai physically hamein actor padti hai tu yog ke madhyam se depression se nikal sakte hain kuch aasan main aapko suggest kar rahi hoon jisse karne se aap repression se nikal sakte hain aapka brain kaam hoga jo hormonal imbailens babu bhi theek hoga jo chemical reaction turbine mein hua train mein hua vaah bhi kho ka kuch aasan main aapko bata rahi hoon 100 aasan sukhasan konasan trikonasan halasan bhujangasan dhanurasan aise aasaan hai jinke karne se aapka brain kaam hoga na aur yuvak se hi aap depression se nikal jaenge thank you

अमेरिकन क्वेश्चन हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते हैं योग 1 तरीके एक्सरसाइज

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1015
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते योग के माध्यम से बहुत ही अच्छा फायदा होता है शारीरिक और मानसिक दोनों तरीके से हम डिप्रेशन से निपट सकते हैं एनसीआरटी से निपट सकते सुसाइड के थॉट आते हैं तो उससे भी नहीं पढ़ सकते ठीक है बाय पार्लर से निपट सकते इसकी जो पहले से निपट सकते बहुत फायदा है योग प्राणायाम मेडिटेशन इन सब से बहुत ही पैदा होता है शारीरिक और मानसिक एकदम रिलैक्स फील करते हैं और अपनी सारी टेंशन रे करके दूर करते हैं और उसका भी मिलता है इसका फायदा होता है यह सारी चीजें महसूस होगी रखो पॉजिटिव पॉजिटिव रिजल्ट मिला स्टार्ट होगा ठीक है बहुत फायदेमंद है

hum yog ke madhyam se depression se kaise nipat sakte yog ke madhyam se bahut hi accha fayda hota hai sharirik aur mansik dono tarike se hum depression se nipat sakte hain ncert se nipat sakte suicide ke thought aate hain toh usse bhi nahi padh sakte theek hai bye parlour se nipat sakte iski jo pehle se nipat sakte bahut fayda hai yog pranayaam meditation in sab se bahut hi paida hota hai sharirik aur mansik ekdam relax feel karte hain aur apni saree tension ray karke dur karte hain aur uska bhi milta hai iska fayda hota hai yah saree cheezen mehsus hogi rakho positive positive result mila start hoga theek hai bahut faydemand hai

हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निपट सकते योग के माध्यम से बहुत ही अच्छा फायदा होता ह

Romanized Version
Likes  454  Dislikes    views  5526
WhatsApp_icon
user

Indrajit Chakraborty

Yoga Instructor

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तनाव से मुक्त करने के लिए तो रेगुलर अभ्यास करना चाहिए मेडिटेशन करना चाहिए आसन प्राणायाम सूर्य नमस्कार इन कॉटन एक्साइज इंस्पेक्टर एग्जामिनेशन रूटीन में ब्रेकफास्ट करते चड्डी चड्डी पहन कर रहे हो उसके साथ भी कुछ जुड़ा हुआ है वंदना करेंगे तभी उनका फायदा होगा और रोटी में खानपान की पर भी ध्यान देना पड़ा

tanaav se mukt karne ke liye toh regular abhyas karna chahiye meditation karna chahiye aasan pranayaam surya namaskar in cotton excise inspector examination routine mein Breakfast karte chaddee chaddee pahan kar rahe ho uske saath bhi kuch juda hua hai vandana karenge tabhi unka fayda hoga aur roti mein khanpan ki par bhi dhyan dena pada

तनाव से मुक्त करने के लिए तो रेगुलर अभ्यास करना चाहिए मेडिटेशन करना चाहिए आसन प्राणायाम सू

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  484
WhatsApp_icon
user

Dharminder Kumar

Yoga Trainer

2:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप का ऑपरेशन है कि हम जॉब से के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे लिख सकते हैं जॉब ही एक ऐसा माध्यम है जो डिप्रेशन को बहुत जल्दी ठीक करता है डिप्रेशन एक नकारात्मक सोच होती है जिसमें से निकलना होता है यह योग में इतनी शक्ति है इसमें हर कोई इस खाया जाता है कि आज कि आपने खाना खाना पानी की आपने कैसे लेना है खुराक आपकी कैसे पोस्टिक होनी चाहिए किस वक्त आपने क्या चीज खानी है क्या नहीं खानी है कि आपने व्यायाम करना है जोगाजोग अभ्यास कराया जाता है उसमें सारी एक्सरसाइ कराई जाती है दिमागी तौर पर दिमाग को मां को आराम देने वाली ग्राम प्राणायाम होता है बाकी प्राणी जाम होते हैं जिससे मन और दिमाग श्री सभी निरोग होने वाले काम होते हैं सभी शुद्धि के लिए होती है इसमें योगी और किसी भी जगह आपको लिया कर नहीं मिलेगी जय अंबे जेल में भी आप जाओगे तो जेब में केवल आपको मशीनों के साथ अपना जोर आजमाइश करनी पड़ेगी लेकिन यहां पर योगेश ट्रैक्टर की देखरेख में जॉब अभ्यास करोगे तो आपको हर तरह की नई नॉलेज मिलेगी यह आपने और कैसे लेना है सोना कैसे है कब जाना है कब जागना है कब पढ़ना है पढ़ने में मन कैसे लगाना है यह सारा मन डिप्रेशन जो है एक मन की सोच होती है मन नकारात्मक सोचता है जिसको हमने पॉजिटिव करना है उसका रात मिक्स होगी तो डिप्रेशन आपका अपने आप खत्म हो जाएगा कोई दवाइयों की जरूरत नहीं पड़ेगी दवाइयां शरीर को डाउन करती है दवाइयां किसी वक्त मजबूरी से लेनी पड़ती है लेकिन दवाइयां कोई डिप्रेशन का इलाज नहीं है वह पूरी उम्र खानी पड़ेगी अगर दवाइयों के सहारे रहेंगे तो उससे आपको रागनी मिलेगा सुस्ती में लगे वो करने से शरीर चुस्त होगा और डिप्रेशन की प्रॉब्लम बिल्कुल सौ परसेंट खत्म हो जाती है धन्यवाद

aap ka operation hai ki hum job se ke madhyam se depression se kaise likh sakte hai job hi ek aisa madhyam hai jo depression ko bahut jaldi theek karta hai depression ek nakaratmak soch hoti hai jisme se nikalna hota hai yah yog mein itni shakti hai isme har koi is khaya jata hai ki aaj ki aapne khana khana paani ki aapne kaise lena hai khurak aapki kaise paustik honi chahiye kis waqt aapne kya cheez khaani hai kya nahi khaani hai ki aapne vyayam karna hai jogajog abhyas raya jata hai usme saree eksarasai karai jaati hai dimagi taur par dimag ko maa ko aaram dene wali gram pranayaam hota hai baki prani jam hote hai jisse man aur dimag shri sabhi nirog hone waale kaam hote hai sabhi shudhi ke liye hoti hai isme yogi aur kisi bhi jagah aapko liya kar nahi milegi jai ambe jail mein bhi aap jaoge toh jeb mein keval aapko machino ke saath apna jor ajamaish karni padegi lekin yahan par Yogesh tractor ki dekhrekh mein job abhyas karoge toh aapko har tarah ki nayi knowledge milegi yah aapne aur kaise lena hai sona kaise hai kab jana hai kab jagana hai kab padhna hai padhne mein man kaise lagana hai yah saara man depression jo hai ek man ki soch hoti hai man nakaratmak sochta hai jisko humne positive karna hai uska raat mix hogi toh depression aapka apne aap khatam ho jaega koi dawaiyo ki zarurat nahi padegi davaiyan sharir ko down karti hai davaiyan kisi waqt majburi se leni padti hai lekin davaiyan koi depression ka ilaj nahi hai vaah puri umr khaani padegi agar dawaiyo ke sahare rahenge toh usse aapko ragni milega susti mein lage vo karne se sharir chust hoga aur depression ki problem bilkul sau percent khatam ho jaati hai dhanyavad

आप का ऑपरेशन है कि हम जॉब से के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे लिख सकते हैं जॉब ही एक ऐसा माध्

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  475
WhatsApp_icon
user

महेश सेठ

रेकी ग्रैंडमास्टर,लाइफ कोच

1:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटना चाहते हैं तो पहले यह तो समझ ही है डिप्रेशन होता है कि आपको कमियों का एहसास है आप अपने आप को शरीर मन बुद्धि मानकर अपनी कमियों को देखकर के दूसरे की कमियों को देखकर के डिप्रेशन में जाते हो क्योंकि जब भी आप कभी देखते हो नकारात्मकता देखते हो आलोचना करते हो मूल्यांकन करते हो इससे आपकी ऊर्जा खत्म होती है और आप डिप्रेशन में जाते हो आपके शरीर में जो भी हो जा है मन में जो भी उर्जा है नकारात्मक विचारों से नकारात्मक दृष्टि से उत्सव बहुत तेजी से खर्चा होती है इससे आपको डिप्रेशन हो जाता है योग में क्या होता है योग में आप ऊर्जा के स्रोत से जोड़ते हो चेतना का ऊर्जा का स्रोत है उसे आप जुड़ जाते हो कौन है कौन है कौन रहेगा अगर आपको सही गुरु मिल गया सही तरीके से योग किया तो डिप्रेशन क्या कोई बीमारी ठीक हो जाएगी अगर आप पूर्णता के साथ जुड़ गए तो बीमारी चली जाएगी जैसे किसी कमरे में अंधेरा हो और आप ही पूछे कि वही रोशनी जलाऊंगा तो अंधेरा चला जाएगा क्या इसीलिए है समझे चीज को लॉक करने का मतलब यह है कि डिप्रेशन से बाहर जाओ रोशनी आती है प्रकाश आता है जीवन में आनंद आता है तो डिप्रेशन कहां से रहेगा ठीक है तो जरूर करें किसी अच्छे गुरु के निर्देशन में करें धन्यवाद आपका मंगल हो कोई ना मिले तो मुझसे फोन करके बात करिएगा धन्यवाद धन्यवाद धन्यवाद

yog ke madhyam se depression se nipatna chahte hain toh pehle yah toh samajh hi hai depression hota hai ki aapko kamiyon ka ehsaas hai aap apne aap ko sharir man buddhi maankar apni kamiyon ko dekhkar ke dusre ki kamiyon ko dekhkar ke depression mein jaate ho kyonki jab bhi aap kabhi dekhte ho nakaratmakta dekhte ho aalochana karte ho mulyankan karte ho isse aapki urja khatam hoti hai aur aap depression mein jaate ho aapke sharir mein jo bhi ho ja hai man mein jo bhi urja hai nakaratmak vicharon se nakaratmak drishti se utsav bahut teji se kharcha hoti hai isse aapko depression ho jata hai yog mein kya hota hai yog mein aap urja ke srot se jodte ho chetna ka urja ka srot hai use aap jud jaate ho kaun hai kaun hai kaun rahega agar aapko sahi guru mil gaya sahi tarike se yog kiya toh depression kya koi bimari theek ho jayegi agar aap purnata ke saath jud gaye toh bimari chali jayegi jaise kisi kamre mein andhera ho aur aap hi pooche ki wahi roshni jalaunga toh andhera chala jaega kya isliye hai samjhe cheez ko lock karne ka matlab yah hai ki depression se bahar jao roshni aati hai prakash aata hai jeevan mein anand aata hai toh depression kahaan se rahega theek hai toh zaroor kare kisi acche guru ke nirdeshan mein kare dhanyavad aapka mangal ho koi na mile toh mujhse phone karke baat kariega dhanyavad dhanyavad dhanyavad

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटना चाहते हैं तो पहले यह तो समझ ही है डिप्रेशन होता है कि

Romanized Version
Likes  158  Dislikes    views  2252
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

1:22

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटना बहुत ही आसान है क्योंकि योग करने से क्या है कि आपका दिल मजबूत होता है एकाग्रता बढ़ती है और आपके अंदर का जो इम्यून सिस्टम है वह स्ट्रांग होता है जिससे कि आप डिप्रेशन जैसी खतरनाक बीमारियों से लड़ सकते हैं और इसमें मेडिटेशन बहुत अच्छा काम करता है एकाग्रता को बढ़ाने के लिए तो इस तरह से जो योग है यह बहुत अच्छा काम करता है आप किसी भी अच्छे अनुभवी योगा के जो भी स्पेशलिस्ट हैं उनसे संपर्क लेकर के संपर्क में आकर इस चीज का निदान बहुत ही आराम से कर सकते हैं थोड़ी सी इसमें काउंसलिंग की जरूरत होती है जिसके लिए लोग साइकेट्रिस्ट के पास जाते हैं सिकेटिस्ट के पास में जाते हैं तो वहां पर भी क्या होता है कि वह कुछ मेडिसिंस आपको प्रोवाइड करते हैं जिससे कि आपको बहुत रिलैक्स महसूस होता नींद अच्छी आती है इसे कि हीलिंग प्रोसेस अच्छा होता है लेकिन अगर आप योग करते हैं प्रॉपर तरीके से तो दवा की जरूरत पड़ेगी नहीं आपको नेचर के साथ आते हैं तो भोसरी जो इस तरह की समस्याएं हैं उसमें दवा की कोई आवश्यकता नहीं आपको आराम से नींद आएगी हीलिंग प्रोसेस अच्छा होगा नेचुरल ही आप ठीक होगी

yog ke madhyam se depression se nipatna bahut hi aasaan hai kyonki yog karne se kya hai ki aapka dil majboot hota hai ekagrata badhti hai aur aapke andar ka jo immune system hai vaah strong hota hai jisse ki aap depression jaisi khataranaak bimariyon se lad sakte hain aur isme meditation bahut accha kaam karta hai ekagrata ko badhane ke liye toh is tarah se jo yog hai yah bahut accha kaam karta hai aap kisi bhi acche anubhavi yoga ke jo bhi specialist hain unse sampark lekar ke sampark mein aakar is cheez ka nidan bahut hi aaram se kar sakte hain thodi si isme kaunsaling ki zarurat hoti hai jiske liye log psychiatrist ke paas jaate hain siketist ke paas mein jaate hain toh wahan par bhi kya hota hai ki vaah kuch medisins aapko provide karte hain jisse ki aapko bahut relax mehsus hota neend achi aati hai ise ki healing process accha hota hai lekin agar aap yog karte hain proper tarike se toh dawa ki zarurat padegi nahi aapko nature ke saath aate hain toh bhosari jo is tarah ki samasyaen hain usme dawa ki koi avashyakta nahi aapko aaram se neend aayegi healing process accha hoga natural hi aap theek hogi

योग के माध्यम से डिप्रेशन से निपटना बहुत ही आसान है क्योंकि योग करने से क्या है कि आपका दि

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1602
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन कैसे दूर कर सकते हैं युवा में वह चाय लेडीस को हो जाए उसको या बच्चे को डिप्रेशन डे बाय डे बड़ी रहा है और इतना ज्यादा बढ़ गया है डिप्रेशन उसका योग में कितना अच्छा उसका सितम है क्योंकि योग में एक चीज होती है योग निद्रा अगर किसी भी चीज को किसी भी मतलब बात को लेकर डिप्रेशन है उसी योगनिद्रा में आपको संकल्प शक्ति दिलाई जाती है जब संकल्प लेता व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है कोशिश में हम संकल्प देते हैं हमने रियल में रिसर्च करी हुई है सब चला जाता है और हमने तो मैंने तो ऐसे कैसे 10 साल से जो डिप्रेशन की मेडिसिंस खा रहे हैं योग के द्वारा और काउंसलिंग के द्वारा मैंने 2 दिन में 3 दिन में उनकी मैच हंड्रेड परसेंट खत्म करो सब प्रेसी करेगी आपको डिप्रेशन के रूट कॉस को दूर नहीं करने वाली रूट को अगर दूर करना है तो उसकी बेटी की आपको काउंसलिंग करनी पड़ेगी जैसा हम लोग करते हैं उसकी बात सुनते हैं फिर उसको क्या फंडे क्लियर करते हैं काउंसलिंग करते हैं सी योग में आसन प्राणायाम डीप रिलैक्सेशन हो योगनिद्रा इज द मीन थे प्राणायामा भी जिसमें हम बोलते अनुलोम विलोम प्राणायाम प्राणायाम प्राणायाम फॉर एवरी बडी उसका कोई कंट्राइंडिकेशन नहीं है कंप्लीट ही हर कोई कर सकता है और डिप्रेशन वालों को उससे बहुत फायदा होगा सामने तो कई कई सालों से परेशान एलोपैथी मेडिसिन बंद करिए और उसके एवज में 1 घंटा प्रतिदिन हंड्रेड परसेंट ब्लू करती हूं क्योंकि 22 साल हो गए हमको स्पीड में और इसी के द्वारा हम सब पेशेंट को डील करते हैं

depression kaise dur kar sakte hain yuva mein vaah chai ladies ko ho jaaye usko ya bacche ko depression day bye day badi raha hai aur itna zyada badh gaya hai depression uska yog mein kitna accha uska sitam hai kyonki yog mein ek cheez hoti hai yog nidra agar kisi bhi cheez ko kisi bhi matlab baat ko lekar depression hai usi yognidra mein aapko sankalp shakti dilai jaati hai jab sankalp leta vyakti depression mein chala jata hai koshish mein hum sankalp dete hain humne real mein research kari hui hai sab chala jata hai aur humne toh maine toh aise kaise 10 saal se jo depression ki medisins kha rahe hain yog ke dwara aur kaunsaling ke dwara maine 2 din mein 3 din mein unki match hundred percent khatam karo sab presi karegi aapko depression ke root cos ko dur nahi karne wali root ko agar dur karna hai toh uski beti ki aapko kaunsaling karni padegi jaisa hum log karte hain uski baat sunte hain phir usko kya fande clear karte hain kaunsaling karte hain si yog mein aasan pranayaam deep Relaxation ho yognidra is the meen the pranayama bhi jisme hum bolte anulom vilom pranayaam pranayaam pranayaam for every badi uska koi kantraindikeshan nahi hai complete hi har koi kar sakta hai aur depression walon ko usse bahut fayda hoga saamne toh kai kai salon se pareshan allopathy medicine band kariye aur uske evaj mein 1 ghanta pratidin hundred percent blue karti hoon kyonki 22 saal ho gaye hamko speed mein aur isi ke dwara hum sab patient ko deal karte hain

डिप्रेशन कैसे दूर कर सकते हैं युवा में वह चाय लेडीस को हो जाए उसको या बच्चे को डिप्रेशन डे

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  1744
WhatsApp_icon
user

Sangita Alok Lahoti

Yoga Instructor

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां बहुत ज्यादा निपटने में मतलब मेरे पास ऐसे ही स्टूडेंट आए हुए हैं उन्होंने योगा से डिप्रेशन पूरा होने का निकल गया है और वह इतने खुश प्रसन्न है कि उन लोगों को सोच भी नहीं सकते थे कि हम लोग डिप्रेशन से बाहर आ सकते हैं क्या तो डिप्रेशन योगा के द्वारा डिप्रेशन पूरा ही चले जाता है उसमें मतलब सोच सोच ही नहीं सकते कि योगा मछली दवाई से नहीं जाएगा पर योगा से डिप्रेशन चलेगा यह हंड्रेड परसेंट सही है धन्यवाद

haan bahut zyada nipatane mein matlab mere paas aise hi student aaye hue hain unhone yoga se depression pura hone ka nikal gaya hai aur vaah itne khush prasann hai ki un logo ko soch bhi nahi sakte the ki hum log depression se bahar aa sakte kya toh depression yoga ke dwara depression pura hi chale jata hai usme matlab soch soch hi nahi sakte ki yoga machli dawai se nahi jaega par yoga se depression chalega yah hundred percent sahi hai dhanyavad

हां बहुत ज्यादा निपटने में मतलब मेरे पास ऐसे ही स्टूडेंट आए हुए हैं उन्होंने योगा से डिप्र

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Sulabha Dixit

Yoga Instructor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग का सबसे ज्यादा फायदा यह है कि यह केवल ना केवल हमारे शरीर को स्वस्थ करता है पर हमारे मन को भी स्वस्थ करता है वैसे यह वाला जो लाभ है या को किसी भी तरह के व्यायाम से मिल सकता है जिन्हें मैं तो कहती हूं कि मैंने डिप्रेशन की तकलीफ है अगर रोज सुबह-सुबह यादें सुबह समय नहीं है तो शाम को निकल जाए ब्रिस्क वाक्य में याद अगर दौड़ नहीं सकते तो कम से कम तेज तो चल सकते हैं खुली हवा में चले और अगर उनको योग में मन नहीं लगता तो ज्वाइन करें जिनमें मनीलक्ष्मी गेम खेलें और उससे आज प्रश्न दूर होता है तो योग एक जीवन चर्या है एक लाइफस्टाइल है तो लोग समझते हैं आप सर के केवल आसन और प्राणायाम ही योग है लेकिन नहीं है ऐसा क्या है कि अगर आप अपनी दिनचर्या को अच्छे से जी रहे हैं आप खुश होने वाले काम कर रहे हैं दूसरों की मदद कर रहे हैं या कुछ नया सीख रहे हैं जिससे आपको आपके अंदर ऐसे हारमोंस रिलीज हो रहे हैं तो आपको खुद बनाते हैं तो डिप्रेशन इससे दूर होता है तो मैं तो कहूंगी कि रजनी डिप्रेशन है उन्हें एक्टिव रहना बहुत जरूरी है और उत्साहित करना इंसान जो योगाभ्यास करते हैं और डिफरेंस है उन्हें भी मेडिटेशन नहीं करना चाहिए उन्हें एक्टिव और जो डायनेमिक का आसन है जैसे शुभ नमस्कार उसका अभ्यास करना चाहिए और एक प्रक्रिया होती है मूलबंध जो आपको किसी एक्सपर्ट टीचर से ही सीखना पड़ेगा हम तलवारों के नियम की मां से उसको अंदर और ऊपर की तरफ थी उस करते हो सर रिलीज करते हैं तो यह जो प्लीज याद होता है मूलबंध उससे भी डिप्रेशन के रोगियों को निराशा के रोगियों को बहुत फायदा मिलता है

yog ka sabse zyada fayda yah hai ki yah keval na keval hamare sharir ko swasthya karta hai par hamare man ko bhi swasthya karta hai waise yah vala jo labh hai ya ko kisi bhi tarah ke vyayam se mil sakta hai jinhen main toh kehti hoon ki maine depression ki takleef hai agar roj subah subah yaadain subah samay nahi hai toh shaam ko nikal jaaye brisk vakya mein yaad agar daudh nahi sakte toh kam se kam tez toh chal sakte hain khuli hawa mein chale aur agar unko yog mein man nahi lagta toh join kare jinmein manilakshmi game khele aur usse aaj prashna dur hota hai toh yog ek jeevan charya hai ek lifestyle hai toh log samajhte hain aap sir ke keval aasan aur pranayaam hi yog hai lekin nahi hai aisa kya hai ki agar aap apni dincharya ko acche se ji rahe hain aap khush hone waale kaam kar rahe hain dusro ki madad kar rahe hain ya kuch naya seekh rahe hain jisse aapko aapke andar aise hormones release ho rahe hain toh aapko khud banate hain toh depression isse dur hota hai toh main toh kahungi ki rajni depression hai unhe active rehna bahut zaroori hai aur utsaahit karna insaan jo yogabhayas karte hain aur difference hai unhe bhi meditation nahi karna chahiye unhe active aur jo daynemik ka aasan hai jaise shubha namaskar uska abhyas karna chahiye aur ek prakriya hoti hai mulbandh jo aapko kisi expert teacher se hi sikhna padega hum talavaaron ke niyam ki maa se usko andar aur upar ki taraf thi us karte ho sir release karte hain toh yah jo please yaad hota hai mulbandh usse bhi depression ke rogiyon ko nirasha ke rogiyon ko bahut fayda milta hai

योग का सबसे ज्यादा फायदा यह है कि यह केवल ना केवल हमारे शरीर को स्वस्थ करता है पर हमारे मन

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Aaditya

Yoga Instructor

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डिप्रेशन या अवसाद एक ऐसी समस्या है जो मस्तिष्क में विचारों की अच्छी व्यस्तता के कारण आ जाती है हम जिस तरह के विचार अपने मस्तिष्क में रखना चाहते हैं वैसे विचार ना रहकर के विचार अपने आप ही शरीर मस्तिष्क के ऊपर नियंत्रण कर लेते हैं मस्तिष्क को एक तरह से घेर लेते हैं तो इस तरह से अवसाद में फंस जाते हैं बेचारी अस्त व्यस्त था आपके मस्तिष्क में आ जाती है योग के अभ्यास से आप मस्तिष्क के विचारों को व्यवस्थित करते हैं और यदि व्यवस्थित विचार हमारे मस्तिष्क में हैं तो हम धीरे-धीरे अपने मस्तिष्क को और मजबूत करते जाएंगे और मजबूत मस्तिष्क डिप्रेशन का कभी भी शिकार नहीं होता है और यह समस्या आ भी गई है तो धीरे-धीरे यह समस्या दूर हो जाती है डिप्रेशन के निपटने के लिए कौन-कौन सा योगाभ्यास आपको करना चाहिए विशेष रूप से रामरी उदगीर यानी ओम का उच्चारण और अनुलोम-विलोम प्लस नाड़ी शोधन प्राणायाम यह दो प्राणायाम आपके विशेष रूप से लाभकारी हैं मस्तिष्क के लिए साथी साथ ध्यान का अभ्यास सवासन योग निद्रा इत्यादि से होते हुए ध्यान का अभ्यास आपके डिप्रेशन की समस्या के लिए विशेष लाभकारी है

depression ya avsad ek aisi samasya hai jo mastishk mein vicharon ki achi vyastata ke karan aa jaati hai hum jis tarah ke vichar apne mastishk mein rakhna chahte hain waise vichar na rahkar ke vichar apne aap hi sharir mastishk ke upar niyantran kar lete hain mastishk ko ek tarah se gher lete hain toh is tarah se avsad mein fans jaate hain bechari ast vyast tha aapke mastishk mein aa jaati hai yog ke abhyas se aap mastishk ke vicharon ko vyavasthit karte hain aur yadi vyavasthit vichar hamare mastishk mein hain toh hum dhire dhire apne mastishk ko aur majboot karte jaenge aur majboot mastishk depression ka kabhi bhi shikaar nahi hota hai aur yah samasya aa bhi gayi hai toh dhire dhire yah samasya dur ho jaati hai depression ke nipatane ke liye kaun kaun sa yogabhayas aapko karna chahiye vishesh roop se ramri udgir yani om ka ucharan aur anulom vilom plus naadi sodhan pranayaam yah do pranayaam aapke vishesh roop se labhakari hain mastishk ke liye sathi saath dhyan ka abhyas savasan yog nidra ityadi se hote hue dhyan ka abhyas aapke depression ki samasya ke liye vishesh labhakari hai

डिप्रेशन या अवसाद एक ऐसी समस्या है जो मस्तिष्क में विचारों की अच्छी व्यस्तता के कारण आ जात

Romanized Version
Likes  54  Dislikes    views  1220
WhatsApp_icon
user

Dr. Sonam Mukati

Oral and Dental Surgeon & Yoga Instructor

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग आपकी स्ट्रेस लेवल को कम करता है और जैसे आपका स्ट्रेस लेवल कम होता है आपके अंदर हैप्पी हार्मोन सीक्रेट होते हैं और आपको दिनभर एनालिटिक और खुशनुमा लगता है इससे आप धीरे-धीरे डिप्रेशन से बाहर आ सकते हैं

yog aapki stress level ko kam karta hai aur jaise aapka stress level kam hota hai aapke andar happy hormone secret hote hain aur aapko dinbhar enalitik aur khushnuma lagta hai isse aap dhire dhire depression se bahar aa sakte hain

योग आपकी स्ट्रेस लेवल को कम करता है और जैसे आपका स्ट्रेस लेवल कम होता है आपके अंदर हैप्पी

Romanized Version
Likes  85  Dislikes    views  1164
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

5:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निभा सकते हैं आपका क्वेश्चन बहुत ही सही है हां मेरा मानना है योग के द्वारा हम बिल्कुल डिप्रेशन से मुक्त हो सकते निपट सकते उसके लिए आसन करने की जरूरत नहीं है तीन चार क्रियाएं हैं उसके लिए आप योगनिद्रा का प्रयोग करें अन्यथा योग निद्रा का समय रात में 9:00 बजे सोने का और 3:00 बजे के आसपास ब्रह्म मुहूर्त में जागने का समय है इस पाप फॉलो करें दूसरी बात लगने के बाद ब्रह्म मुहूर्त में आप नित्य क्रियाओं से निवृत्त होने के बाद अदनान आदि करके आप किसी एकांत जगह में दरी कंबल या योगा मैट वगैरह का प्रयोग कर सकते हैं उस पर आप विश्वास में बैठ जाएं तीन बार गाड़ी लंबी पास आप अनुलोम-विलोम करें शुरुआत आपको - काफी कमी पूरा सामने अंदर रुके फिर दाहिनी नासिका से बाहर निकाल दें इस क्रिया को बारंबार कम से कम 15 से 20 मिनट करें इस पोज इस गुलशन में आपकी आंखें बंद होगी आंखें खोलकर तभी इस क्रिया को ना करेंगे दूसरी बात दो-चार मिनट में इलाज होने के बाद आराम करने के बाद आप ध्यान अवस्था में धन अवस्था के लिए तैयार हो जाए सुखासन में बैठें पलटी मार के शरीर का कोई भी भाग तनाव चुप ना हो शरीर में कहीं भी तनाव ने बिल्कुल जैसे आप आराम से बैठ सकते हैं वैसा बैठे रीड की हड्डी बिल्कुल सीधी गर्दन सीधा दोनों आंखें कोमलता से बंद कम से कम 15 से 20 मिनट अपने आते जाते तब एक सांप को देखें और डेट चले जाएं 15 से 20 मिनट का समय पूरा होने के बाद आप अपना ध्यान दोनों व्यक्तियों के मध्य आज्ञा चक्र किसे कहा जाता है जो जगह पर हम लोग पुरुष तिलक लगाते हैं महिलाएं बिंदी लगाते हैं उस जगह का चुनाव करें कम से कम 25 36 मिनट उस जगह को देखें इस अवस्था में आंखें बंद देखें और देखते चले जाएं इस क्रिया को कम से कम 2 से 3 महीने सुबह-शाम कीजिए ध्यान अवस्था से फिर पुनः सामान्य अवस्था में रिटर्न होने के बाद दोनों हाथों को आपस में झगड़े दोनों हाथों को गर्म करें हथेलियों को चेहरे पर घुमाएं फिर आए फिर झगड़े आपको खोलना प्रदान करें और या प्रदान करें तथा जातकों को धीरे-धीरे छोड़ दें इस प्रक्रिया से आप निश्चित तौर से डिप्रेशन से बाहर हो सकते हैं धन्यवाद

aapka question hai hum yog ke madhyam se depression se kaise nibha sakte hai aapka question bahut hi sahi hai haan mera manana hai yog ke dwara hum bilkul depression se mukt ho sakte nipat sakte uske liye aasan karne ki zarurat nahi hai teen char kriyaen hai uske liye aap yognidra ka prayog kare anyatha yog nidra ka samay raat mein 9 00 baje sone ka aur 3 00 baje ke aaspass Brahma muhurt mein jagne ka samay hai is paap follow kare dusri baat lagne ke baad Brahma muhurt mein aap nitya kriyaon se sevanervit hone ke baad adnan aadi karke aap kisi ekant jagah mein dari kambal ya yoga mat vagera ka prayog kar sakte hai us par aap vishwas mein baith jayen teen baar gaadi lambi paas aap anulom vilom kare shuruat aapko kaafi kami pura saamne andar ruke phir dahini nasika se bahar nikaal de is kriya ko barambar kam se kam 15 se 20 minute kare is pawege is gulshan mein aapki aankhen band hogi aankhen kholakar tabhi is kriya ko na karenge dusri baat do char minute mein ilaj hone ke baad aaram karne ke baad aap dhyan avastha mein dhan avastha ke liye taiyar ho jaaye sukhasan mein baithen palati maar ke sharir ka koi bhi bhag tanaav chup na ho sharir mein kahin bhi tanaav ne bilkul jaise aap aaram se baith sakte hai waisa baithe read ki haddi bilkul seedhi gardan seedha dono aankhen komalta se band kam se kam 15 se 20 minute apne aate jaate tab ek saap ko dekhen aur date chale jayen 15 se 20 minute ka samay pura hone ke baad aap apna dhyan dono vyaktiyon ke madhya aagya chakra kise kaha jata hai jo jagah par hum log purush tilak lagate hai mahilaye bindi lagate hai us jagah ka chunav kare kam se kam 25 36 minute us jagah ko dekhen is avastha mein aankhen band dekhen aur dekhte chale jayen is kriya ko kam se kam 2 se 3 mahine subah shaam kijiye dhyan avastha se phir punh samanya avastha mein return hone ke baad dono hathon ko aapas mein jhagde dono hathon ko garam kare hatheliyon ko chehre par ghumaen phir aaye phir jhagde aapko kholna pradan kare aur ya pradan kare tatha jatakon ko dhire dhire chod de is prakriya se aap nishchit taur se depression se bahar ho sakte hai dhanyavad

आपका क्वेश्चन है हम योग के माध्यम से डिप्रेशन से कैसे निभा सकते हैं आपका क्वेश्चन बहुत ही

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  1084
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!