क्या अधिक लचीलेपन से चोट लगने का अधिक खतरा होता है?...


user

Abhijeet Soni

Yoga Instructor & Software Developer

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मैं बिजी सोनी बात कर रहा हूं आपका सवाल है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का खतरा होता है पहले तो इसे समझने की कोशिश करते हैं इसका आंसर तो ऐसे नहीं होगा फिर भी समझते हैं देखे जब आप योगा करते हैं तो जबरदस्ती मत कीजिए कि आप झुक गए सामने और सिर को आगे घुटने में टच करना है धीरे धीरे धीरे 1 दिन में कुछ नहीं होता 1 दिन में सिर्फ डिस्ट्रक्शन होता है कुछ चीजों का निर्माण करने के लिए वर्षों लग जाते हैं यहां वर्ष तो नहीं लगेंगे लेकिन हफ्ते महीने जरूर लगेंगे तो धीरे-धीरे सीखिए और कुछ समय देते हुए लचीलापन को हासिल कीजिए कोई भी नुकसान नहीं है बस जबरदस्ती मत कीजिएगा हल्का सा अगर आप दर्द महसूस करते हैं तो धीरे धीरे धीरे धीरे धीरे करने से क्या होगा आप उसे अगर दिल्ली करते हैं तो वह जो नशे जो काफी टाइट है या फिर मैं सर से वो धीरे धीरे खुलने लग जाएंगे तो अगर आप डे करते हैं आराम से करते हैं एक आरामदायक परिस्थिति के अंदर रहते हुए करते हैं जोर जबरदस्ती नहीं करते हैं तो लचीलापन से कोई भी चोट लगने का खतरा नहीं है धन्यवाद

namaskar main busy sony baat kar raha hoon aapka sawaal hai kya adhik lachilapan se chot lagne ka khatra hota hai pehle toh ise samjhne ki koshish karte hain iska answer toh aise nahi hoga phir bhi samajhte hain dekhe jab aap yoga karte hain toh jabardasti mat kijiye ki aap jhuk gaye saamne aur sir ko aage ghutne mein touch karna hai dhire dhire dhire 1 din mein kuch nahi hota 1 din mein sirf destruction hota hai kuch chijon ka nirmaan karne ke liye varshon lag jaate hain yahan varsh toh nahi lagenge lekin hafte mahine zaroor lagenge toh dhire dhire sikhiye aur kuch samay dete hue lachilapan ko hasil kijiye koi bhi nuksan nahi hai bus jabardasti mat kijiega halka sa agar aap dard mehsus karte hain toh dhire dhire dhire dhire dhire karne se kya hoga aap use agar delhi karte hain toh vaah jo nashe jo kaafi tight hai ya phir main sir se vo dhire dhire khulne lag jaenge toh agar aap day karte hain aaram se karte hain ek aaramadayak paristithi ke andar rehte hue karte hain jor jabardasti nahi karte hain toh lachilapan se koi bhi chot lagne ka khatra nahi hai dhanyavad

नमस्कार मैं बिजी सोनी बात कर रहा हूं आपका सवाल है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का खतरा हो

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  395
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने की अधिक खतरा था ऐसा कुछ भी नहीं है यह आपका मानसिक एक हम है ऐसा अगर होता तो व्यक्ति अपने को अपने शरीर को फिट रखने का कोशिश क्यों करता धन्यवाद

aapka question hai kya adhik lachilapan se chot lagne ki adhik khatra tha aisa kuch bhi nahi hai yah aapka mansik ek hum hai aisa agar hota toh vyakti apne ko apne sharir ko fit rakhne ka koshish kyon karta dhanyavad

आपका क्वेश्चन है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने की अधिक खतरा था ऐसा कुछ भी नहीं है यह आपका

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  1144
WhatsApp_icon
play
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:49

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का अधिक खतरा रहता है अगर आपके शरीर में लचीलापन है तो उस चोट लगने का कोई प्रश्न ही नहीं होता आप योगासन कर सकते हैं अगर लमहे लचीलापन लाने के लिए अगर आप बॉडी पर डालते हैं डालते हैं तो अगर आप तेजी से करते हैं तो यह आपको चोट लग भी सकती है इसीलिए आप अगर योगाभ्यास किसी कुशल योग प्रशिक्षक के निर्देशन में करेंगे तो आपके शरीर में लचीलापन लाने के लिए धीरे धीरे आप पोस्ट फ्री करो

aapka prashna hai ki kya adhik lachilapan se chot lagne ka adhik khatra rehta hai agar aapke sharir mein lachilapan hai toh us chot lagne ka koi prashna hi nahi hota aap yogasan kar sakte hain agar lamahe lachilapan lane ke liye agar aap body par daalte hain daalte hain toh agar aap teji se karte hain toh yah aapko chot lag bhi sakti hai isliye aap agar yogabhayas kisi kushal yog parshikshak ke nirdeshan mein karenge toh aapke sharir mein lachilapan lane ke liye dhire dhire aap post free karo

आपका प्रश्न है कि क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का अधिक खतरा रहता है अगर आपके शरीर में लची

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1756
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
लगने से क्या होता है ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!