क्या हमारे पास योग के माध्यम से पार्किंसंस रोग का प्रबंधन करने का तरीका है?...


play
user

Dr. R. K. Gupta

Yoga & Nature Care Health center

0:47

Likes  122  Dislikes    views  986
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  69  Dislikes    views  552
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां जी हमारे पास काहे टेंशन योग के माध्यम से पार्किंसन रोग का इलाज प्रबंधन संभव है काफी हद तक परमिशन पेशेंट को काफी फायदा होता है हॉट योग करने से उनके पार्किंसन की बीमारी ने काफी हद तक देखा क्या फायदा हुआ है

haan ji hamare paas kaahe tension yog ke madhyam se Parkinson's rog ka ilaj prabandhan sambhav hai kaafi had tak permission patient ko kaafi fayda hota hai hot yog karne se unke Parkinson's ki bimari ne kaafi had tak dekha kya fayda hua hai

हां जी हमारे पास काहे टेंशन योग के माध्यम से पार्किंसन रोग का इलाज प्रबंधन संभव है काफी हद

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  1788
WhatsApp_icon
play
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

1:16

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या हमारे पास योग के माध्यम से पार्किंसन स्वरूप का प्रबंधन करने का तरीका है जी हां पार्किंसन सर वह काफी क्रिटिकल डिजीज है यह नर्वस सिस्टम से कनेक्टेड होती है और आज भी इस बीमारी पर रिसर्च चल रही है मुझे लगता है आज भी कोई परमानेंट इसका की ओर अटैचमेंट नहीं है मगर ऐसे रोगियों में योग के बड़े अद्भुत रिजल्ट देखे गए हैं क्योंकि हम जानते हैं योगासन प्राणायाम और ध्यान आपकी सीधे-सीधे नाड़ी तंत्र पर वर्क करता है काम करता है और बहुत अच्छे परिणाम देता है ऐसे रोगियों को जो पार्क इन संस्कारों की हैं उनको ध्यान और प्राणायाम अधिक से अधिक करना चाहिए किसी अच्छे गुरु के निर्देशक के अंडर मिस करना चाहिए और अधिकतर रोगियों में बहुत अच्छे परिणाम मिलते हैं जो भी गाड़ियों से संबंधित रोग हैं पार्किंसन या पार्किंसन से संबंधित भी नाड़ी तंत्र से संबंधित रोग हैं सभी में योग प्राणायाम ध्यान के बहुत अच्छे परिणाम हरि ओम

aapka prashna hai kya hamare paas yog ke madhyam se Parkinson's swaroop ka prabandhan karne ka tarika hai ji haan Parkinson's sir vaah kaafi critical disease hai yah nervous system se connected hoti hai aur aaj bhi is bimari par research chal rahi hai mujhe lagta hai aaj bhi koi permanent iska ki aur attachment nahi hai magar aise rogiyon mein yog ke bade adbhut result dekhe gaye hain kyonki hum jante hain yogasan pranayaam aur dhyan aapki sidhe seedhe naadi tantra par work karta hai kaam karta hai aur bahut acche parinam deta hai aise rogiyon ko jo park in sanskaron ki hain unko dhyan aur pranayaam adhik se adhik karna chahiye kisi acche guru ke nirdeshak ke under miss karna chahiye aur adhiktar rogiyon mein bahut acche parinam milte hain jo bhi gadiyon se sambandhit rog hain Parkinson's ya Parkinson's se sambandhit bhi naadi tantra se sambandhit rog hain sabhi mein yog pranayaam dhyan ke bahut acche parinam hari om

आपका प्रश्न है क्या हमारे पास योग के माध्यम से पार्किंसन स्वरूप का प्रबंधन करने का तरीका ह

Romanized Version
Likes  153  Dislikes    views  1888
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि क्या हमारे पास पार्किंसंस रोग का प्रबंधन है जी बिल्कुल है और मैं यहां तक होगा कि योग के अलावा इतना अच्छा इस बीमारी का कोई प्रबंधन है ही नहीं यह एक बहुत ही क्रिटिकल डिजीज है नर्वस सिस्टम से संबंधित है और इस पर लगातार उन मेडिकल साइंस अनुसंधान कर रहा है लेकिन अभी इसका कोई उपचार नहीं हो पाया है और देखा गया है कि योग के माध्यम से इस तरह के पर्सेंट को काफी आराम मिलता है और इसमें खासतौर से योगाभ्यास में योगासन प्राणायाम ध्यान करना चाहिए और विशेष रूप से प्राणायाम और ध्यान ज्यादा लाभकारी है जो हमारे इससे हमारा नर्वस सिस्टम मजबूत होता है और इस लोक को काफी हद तक प्रबंध किया जा सकता है इसके अलावा युग के अलावा कहीं भी किसी भी इतना अच्छा प्रबंधन

aapka prashna hai ki kya hamare paas parkinsans rog ka prabandhan hai ji bilkul hai aur main yahan tak hoga ki yog ke alava itna accha is bimari ka koi prabandhan hai hi nahi yah ek bahut hi critical disease hai nervous system se sambandhit hai aur is par lagatar un medical science anusandhan kar raha hai lekin abhi iska koi upchaar nahi ho paya hai aur dekha gaya hai ki yog ke madhyam se is tarah ke percent ko kaafi aaram milta hai aur isme khaasataur se yogabhayas mein yogasan pranayaam dhyan karna chahiye aur vishesh roop se pranayaam aur dhyan zyada labhakari hai jo hamare isse hamara nervous system majboot hota hai aur is lok ko kaafi had tak prabandh kiya ja sakta hai iske alava yug ke alava kahin bhi kisi bhi itna accha prabandhan

आपका प्रश्न है कि क्या हमारे पास पार्किंसंस रोग का प्रबंधन है जी बिल्कुल है और मैं यहां तक

Romanized Version
Likes  150  Dislikes    views  1863
WhatsApp_icon
user

KunwarJi Sunil Singh Rajput

Yoga Expert & Yoga Therapist & Director- Amaya The Yogic Fitness (The Yoga Studio )

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पार्किंसंस रोग का प्रबंध करने का योग में तरीका है पार्किंसन रोग को हम लोग के माध्यम से ठीक कर सकते हैं

parkinsans rog ka prabandh karne ka yog mein tarika hai Parkinson's rog ko hum log ke madhyam se theek kar sakte hain

पार्किंसंस रोग का प्रबंध करने का योग में तरीका है पार्किंसन रोग को हम लोग के माध्यम से ठी

Romanized Version
Likes  104  Dislikes    views  903
WhatsApp_icon
user

PANKAJ SHARMA

Yoga Instructor

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले भी यह जानना बहुत जरूरी है कि हमारी सारी समस्या हमारे भीतर से ही होती है जैसे जैसे हमारा उर्जा तंत्र बिगड़ता है जैसे जैसे हमारे सांसदों का संतुलन बिगड़ता है वैसे वैसे हमारी समस्या नीलू में गड़बड़ी पैदा होती है और उन चैनलों के अलग-अलग जुड़े हुए अंग खराब होने लगते हैं जिनकी वजह से हमें अलग-अलग प्रकार होते हैं इसलिए सबसे पहले हमें योग के माध्यम से भीतरी खोज करनी होगी हर अंग हर्षल और हर सांसो के बारे में जानना होगा यदि सांस लेने और छोड़ने उन्हें संतुलित करने के लिए 112 तरीके हैं रिमिक्स 12 तरीकों में से हमें किसी भी एक तरीकों को अपनाना है

sabse pehle bhi yah janana bahut zaroori hai ki hamari saree samasya hamare bheetar se hi hoti hai jaise jaise hamara urja tantra bigadta hai jaise jaise hamare sansadon ka santulan bigadta hai waise waise hamari samasya neelu mein gadbadi paida hoti hai aur un channelon ke alag alag jude hue ang kharab hone lagte hain jinki wajah se hamein alag alag prakar hote hain isliye sabse pehle hamein yog ke madhyam se bheetari khoj karni hogi har ang harshal aur har saanso ke bare mein janana hoga yadi saans lene aur chodne unhe santulit karne ke liye 112 tarike hain remix 12 trikon mein se hamein kisi bhi ek trikon ko apnana hai

सबसे पहले भी यह जानना बहुत जरूरी है कि हमारी सारी समस्या हमारे भीतर से ही होती है जैसे जैस

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  229
WhatsApp_icon
user

Dhananjay Janardan Suryavanshi

Founder & Director - Yogeej Meditation

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पार्किंसन के लिए भी हम कर सकते हैं उसका थोड़ा सा एज रिलेटेड भी है कितना ऐसे ब्रीडिंग टेक्निक से प्राणायाम से अपने प्राण शक्ति ऊर्जा बढ़ा सकते और पार्किंसन कौन सी स्थिति में है उससे बेहतर स्थिति में ला सकते हैं लेकिन उसके लिए यूनिटी जरूरी है जरूरी है और टीचर की निगरानी में किसी के साथ है पार्किंसन का भी हम निकाल सकते हैं

Parkinson's ke liye bhi hum kar sakte hain uska thoda sa age related bhi hai kitna aise Breeding technique se pranayaam se apne praan shakti urja badha sakte aur Parkinson's kaun si sthiti mein hai usse behtar sthiti mein la sakte hain lekin uske liye unity zaroori hai zaroori hai aur teacher ki nigrani mein kisi ke saath hai Parkinson's ka bhi hum nikaal sakte hain

पार्किंसन के लिए भी हम कर सकते हैं उसका थोड़ा सा एज रिलेटेड भी है कितना ऐसे ब्रीडिंग टेक्न

Romanized Version
Likes  98  Dislikes    views  1234
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सिक्स फिल्म चाहिए हमारे हाथ का जो कंपनी वह शुरू हो जाता है और इसका जो प्रभाव है वह जाता है और हमारी जाति के हो जाता है वह दिखाई नहीं कर रहा है अभी गए हैं और उसके बाद योग का अभ्यास किया है प्राप्त परिणामों का एक्सीडेंट मिल पाए विष्णु प्रियंका काफी हद तक उसका उपचार कर पाते हैं इसकी कोई दवाई नहीं है तो निश्चित रूप से अगर योग में आज का प्रयास करें तो हम काफी हद तक इसको दूर कर सकते हैं और काफी जगह देखा भी गया है पतंजलि योग सूत्र में काफी जगह इसमें देखा गया कि जिन लोगों को इस तरह की समस्याएं थी उन्होंने एक नियमित अभ्यास किया तो वह कुछ ठीक हो गए तो अगर आप इस मनी किसी व्यक्ति विशेष की समस्या है तो आप उन्हें योग करने की सलाह दीजिए अच्छे से योनि से की देखरेख में विभिन्न प्रकार के आसन और परिणाम है उनको अच्छे से कीजिए आपको स्वास्थ्य लाभ की प्राप्ति होगी

six film chahiye hamare hath ka jo company vaah shuru ho jata hai aur iska jo prabhav hai vaah jata hai aur hamari jati ke ho jata hai vaah dikhai nahi kar raha hai abhi gaye hain aur uske baad yog ka abhyas kiya hai prapt parinamon ka accident mil paye vishnu priyanka kaafi had tak uska upchaar kar paate hain iski koi dawai nahi hai toh nishchit roop se agar yog mein aaj ka prayas kare toh hum kaafi had tak isko dur kar sakte hain aur kaafi jagah dekha bhi gaya hai patanjali yog sutra mein kaafi jagah isme dekha gaya ki jin logo ko is tarah ki samasyaen thi unhone ek niyamit abhyas kiya toh vaah kuch theek ho gaye toh agar aap is money kisi vyakti vishesh ki samasya hai toh aap unhe yog karne ki salah dijiye acche se yoni se ki dekhrekh mein vibhinn prakar ke aasan aur parinam hai unko acche se kijiye aapko swasthya labh ki prapti hogi

सिक्स फिल्म चाहिए हमारे हाथ का जो कंपनी वह शुरू हो जाता है और इसका जो प्रभाव है वह जाता है

Romanized Version
Likes  203  Dislikes    views  2541
WhatsApp_icon
user

Sks

योग

0:51
Play

Likes  55  Dislikes    views  736
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!