क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है?...


चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि शाकाहारी भोजन बनाने में बहुत ही कम आइटम ओं को यूज किया जाता है और जो माता री होते हैं वह हाई लेवल के मिर्च मसाले ऑइली तेज रूप में खाते हैं इसलिए योग योग के लिए सात्विक भोजन जरूरी है सात्विक भोजन करेंगे तो स्वास्तिक बुद्धि बनेगी और तमोगुण भोजन करेंगे तो तमोगुण ही बुद्धि बनेगी इसलिए आप शाकाहारी भोजन करके ही योग करें

kyonki shakahari bhojan banane me bahut hi kam item on ko use kiya jata hai aur jo mata ri hote hain vaah high level ke mirch masale aili tez roop me khate hain isliye yog yog ke liye Satvik bhojan zaroori hai Satvik bhojan karenge toh swastik buddhi banegi aur tamogun bhojan karenge toh tamogun hi buddhi banegi isliye aap shakahari bhojan karke hi yog kare

क्योंकि शाकाहारी भोजन बनाने में बहुत ही कम आइटम ओं को यूज किया जाता है और जो माता री होते

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  347
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
3:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर सवाल है क्या जॉब चिकित्सकों के लिए सरकारी भजन हमसे क्यों कह रहे हैं उनको हम जो कचरा अलग भाषा में हम जानते हैं थेरेपिस्ट हो जो बजरिया और जो ग्रुप वालों की दुआ तेरे को कोई कैटेगरी बात करें तो आजकल जो प्रैक्टिकली देखी जाए तो जो को शिक्षक जो होते हैं वह शिकारी होना नामुमकिन है माया जरूरी है ऐसा नहीं है ऐसे हम देखे हैं कि जो बत्रा पिस्टल शाकाहारी नहीं होते क्योंकि वह शिकारी होना भी जरूरी है यह नहीं मानते क्योंकि उनका जो मैं थोड़ा स्टेटमेंट होता है जो अच्छा पोस्ट होते हैं और कुछ जैसे जोगी किया करते हैं जैसे शॉट कर्म होता है और कुछ आसन प्राणायाम और बच्चे जिनकी जरिए आपका कोई बीमारी है तो बीमारी को ठीक करने के लिए और टारगेट हो करते हैं कराते हैं गौरव अगर नहीं है अभी तो आगे जाकर आप जैसे स्वस्थ बन पाएंगे उसके लिए भी आपको कुछ टिप्स बताते हैं उसका स्थान आते हैं सर का नंबर हो शादी कराते हैं तो इनके लिए मायने नहीं रखता कि आपको वह जो तेरा बिष्ट को सरकारी बनना या ना मानना लेकिन जो गुरु या जवारे के बारे में पूछे तो बेशक कोई ऐसा करना पसंद करते हैं क्योंकि जो हमारे शरीर की जरूरत के हिसाब से जो चाही होता उस लिए हम खाना खाते हैं तो ऐसा नहीं है कि यह जो चीज हम वापस पा सकेंगे वह चीज हम फल फूल और आग जो सब्जी से पानी से ऐसा तो नहीं तो हमको यह चीज भी उससे भी मिल जाता है पल्ला और सब्जी से भी मिल जाता तो हम हाथों से बने होते हैं और हम तो कुर्सी की मगर जो अचरा पिक्चर है और सरकार है तो अच्छा भी होगा उनका आपको किस तरह से आगरा बनते हैं स्वाक्षरी की खामियां हैं जो भी आपका नया समस्या है शारीरिक ठीक कराने में काफी मदद करता है गरीब हमको तो यह सबसे पहले करनी है कि अगर हम जो करने के लिए कहते हैं अगर वही हम खुद हैं तो आप लोगों से देख कर रखा किसी चीज सीख जाते हैं और उसको ज्यादा सफल हो जाते हैं अगर हम चीज और चीज करते नहीं है लेकिन आपने तो आपके दिमाग में एक सवाल हम तो हमें जो चीज करने के लिए कहा जाता है वह चाहिए खुद करते नहीं हमको करने के लिए कह रहे हैं तो ऐसी समस्या को हल करने के लिए उनको सरकारी होना जरूरी है

agar sawaal hai kya job chikitsakon ke liye sarkari bhajan humse kyon keh rahe hain unko hum jo kachra alag bhasha me hum jante hain therapist ho jo bajariya aur jo group walon ki dua tere ko koi category baat kare toh aajkal jo practically dekhi jaaye toh jo ko shikshak jo hote hain vaah shikaaree hona namumkin hai maya zaroori hai aisa nahi hai aise hum dekhe hain ki jo batra pistol shakahari nahi hote kyonki vaah shikaaree hona bhi zaroori hai yah nahi maante kyonki unka jo main thoda statement hota hai jo accha post hote hain aur kuch jaise jogi kiya karte hain jaise shot karm hota hai aur kuch aasan pranayaam aur bacche jinki jariye aapka koi bimari hai toh bimari ko theek karne ke liye aur target ho karte hain karate hain gaurav agar nahi hai abhi toh aage jaakar aap jaise swasth ban payenge uske liye bhi aapko kuch tips batatey hain uska sthan aate hain sir ka number ho shaadi karate hain toh inke liye maayne nahi rakhta ki aapko vaah jo tera bist ko sarkari banna ya na manana lekin jo guru ya javare ke bare me pooche toh beshak koi aisa karna pasand karte hain kyonki jo hamare sharir ki zarurat ke hisab se jo chahi hota us liye hum khana khate hain toh aisa nahi hai ki yah jo cheez hum wapas paa sakenge vaah cheez hum fal fool aur aag jo sabzi se paani se aisa toh nahi toh hamko yah cheez bhi usse bhi mil jata hai palla aur sabzi se bhi mil jata toh hum hathon se bane hote hain aur hum toh kursi ki magar jo achara picture hai aur sarkar hai toh accha bhi hoga unka aapko kis tarah se agra bante hain swakshari ki khamiyan hain jo bhi aapka naya samasya hai sharirik theek karane me kaafi madad karta hai garib hamko toh yah sabse pehle karni hai ki agar hum jo karne ke liye kehte hain agar wahi hum khud hain toh aap logo se dekh kar rakha kisi cheez seekh jaate hain aur usko zyada safal ho jaate hain agar hum cheez aur cheez karte nahi hai lekin aapne toh aapke dimag me ek sawaal hum toh hamein jo cheez karne ke liye kaha jata hai vaah chahiye khud karte nahi hamko karne ke liye keh rahe hain toh aisi samasya ko hal karne ke liye unko sarkari hona zaroori hai

अगर सवाल है क्या जॉब चिकित्सकों के लिए सरकारी भजन हमसे क्यों कह रहे हैं उनको हम जो कचरा अल

Romanized Version
Likes  157  Dislikes    views  2783
WhatsApp_icon
user

Gyanchand Soni

Yoga Instructor.

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूपी के स्तर को और योग साधन सहकारी भोजन करना चाहिए और उसके अलावा हमारी बुद्धि का विकास होता है मेवात आपका दिन शुभ रहे

up ke sthar ko aur yog sadhan sahkari bhojan karna chahiye aur uske alava hamari buddhi ka vikas hota hai mevat aapka din shubha rahe

यूपी के स्तर को और योग साधन सहकारी भोजन करना चाहिए और उसके अलावा हमारी बुद्धि का विकास होत

Romanized Version
Likes  168  Dislikes    views  1679
WhatsApp_icon
play
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

1:37

Likes  503  Dislikes    views  4303
WhatsApp_icon
user

Akash Mishra

Yoga Expert | Author | Naturopathist | Acupressure Specialist |

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह वाला कुशल है इसमें थोड़ा सा यह है कि आप जो भी प्रेक्टिस है उसको सिर्फ उसमें यह होता है कि आप किसी भी प्रकार का भोजन करें कोई समस्या नहीं है किसी भी प्रकार की कोई भी चीज खाएं कोई समस्या नहीं है अंखियों के प्रैक्टिस कर सकते हैं लेकिन पुलिस के बारे में जानने का पहाड़ का बहुत ज्यादा महत्व है सबसे पहली बात तो है अगर आपको पूरा लाभ लेना है तो आपको शाकाहार करना चाहिए जो डीप प्रेक्टिस है जो ऑथेंटिक प्रेक्टिस है उसमें तो यह बोला गया है कि आप नॉनवेज या इस तरह का तामसिक भोजन करना चाहिए हमारी कोई बीमारी है उसको युग कितने समय तक 3 महीने के लिए छोड़ दें और बाहर के लिए बना नहीं हुआ हमारे शरीर की बनावट हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम हमारे दांत किसी भी तरह की डिजाइन की गई

yah vala kushal hai isme thoda sa yah hai ki aap jo bhi practice hai usko sirf usme yah hota hai ki aap kisi bhi prakar ka bhojan kare koi samasya nahi hai kisi bhi prakar ki koi bhi cheez khayen koi samasya nahi hai ankhiyon ke practice kar sakte hain lekin police ke bare mein jaanne ka pahad ka bahut zyada mahatva hai sabse pehli baat toh hai agar aapko pura labh lena hai toh aapko shaakaahaar karna chahiye jo deep practice hai jo authentic practice hai usme toh yah bola gaya hai ki aap nonveg ya is tarah ka tamasik bhojan karna chahiye hamari koi bimari hai usko yug kitne samay tak 3 mahine ke liye chod de aur bahar ke liye bana nahi hua hamare sharir ki banawat hamara digestive system hamare dant kisi bhi tarah ki design ki gayi

यह वाला कुशल है इसमें थोड़ा सा यह है कि आप जो भी प्रेक्टिस है उसको सिर्फ उसमें यह होता है

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  53
WhatsApp_icon
user

Durgesh Prajapati

Yoga Instructor

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारी भोजन करते हैं उसको बॉडी को जांच करने में करीब 1 घंटे लगते हैं 16 घंटे लगते हैं उतना हम टाइम दे नहीं पाते हैं वही भोजन जो है शरीर के अंदर जो हसीन बनकर जमा रहता है और जलते जलते क्या करते हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को खत्म करेगा

hamari bhojan karte hain usko body ko jaanch karne me kareeb 1 ghante lagte hain 16 ghante lagte hain utana hum time de nahi paate hain wahi bhojan jo hai sharir ke andar jo Haseen bankar jama rehta hai aur jalte jalte kya karte hamari rog pratirodhak kshamta ko khatam karega

हमारी भोजन करते हैं उसको बॉडी को जांच करने में करीब 1 घंटे लगते हैं 16 घंटे लगते हैं उतना

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
user

Bhupender Singh

Yoga Instructor

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वीडियो ब्लॉक करके बहुत प्यार करने वाले इतने सारे लेकिन इन बातों के साथ जुड़ी हुई है जो भी शरीर की एक्सरसाइज है लेकिन शरीर बनता किस्से है खाने से बनता भोजन जो भी हम किसी और तरीके से परीक्षा हेल्पलाइन जो एक पर्सेंट बॉडी खाना खाते-खाते हाईली एचडी होता है और जितने भी जैसा आजकल वायरल चल रहा है यार फैक्ट्री आउटलेट कोई भी प्रॉब्लम ही प्रॉब्लम आ रही है अगर उसमें से एक चीज छोड़ दो कि मैं पुराने संस्कार के साथ

video block karke bahut pyar karne waale itne saare lekin in baaton ke saath judi hui hai jo bhi sharir ki exercise hai lekin sharir banta kisse hai khane se banta bhojan jo bhi hum kisi aur tarike se pariksha helpline jo ek percent body khana khate khate highly hd hota hai aur jitne bhi jaisa aajkal viral chal raha hai yaar factory outlet koi bhi problem hi problem aa rahi hai agar usme se ek cheez chhod do ki main purane sanskar ke saath

वीडियो ब्लॉक करके बहुत प्यार करने वाले इतने सारे लेकिन इन बातों के साथ जुड़ी हुई है जो भी

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user

Pradeep Solanki

Corporate Yoga Consultant

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शास्त्रों में लिखा है यह बट अगर इसको फिर रिपीट कर दो तो इसका मतलब यह नहीं है कि वही जो नॉनवेज खाता को युवा नहीं कर रहा था ऐसा कुछ एडवाइस की रक्षा कार की फोटो साथ में पिंकी जो आप सात्विक डाइट है उसको फॉलो करें कि उसने नॉनवेज नहीं आता करते हैं कि शायद आप धीरे धीरे धीरे धीरे सात्विक भोजन की तरफ आ जाओ दोनों ने अपने आप छोड़ दो बजाय इसके कि आप छोड़ो मन मारो उसके बाद

shastron me likha hai yah but agar isko phir repeat kar do toh iska matlab yah nahi hai ki wahi jo nonveg khaata ko yuva nahi kar raha tha aisa kuch advice ki raksha car ki photo saath me pinki jo aap Satvik diet hai usko follow kare ki usne nonveg nahi aata karte hain ki shayad aap dhire dhire dhire dhire Satvik bhojan ki taraf aa jao dono ne apne aap chhod do bajay iske ki aap chodo man maaro uske baad

शास्त्रों में लिखा है यह बट अगर इसको फिर रिपीट कर दो तो इसका मतलब यह नहीं है कि वही जो नॉन

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  77
WhatsApp_icon
user

योगाचार्य S.S.Rawat🕉🔱🚩🙏

Lecturer Of Yog And Alternative Therapy

1:14
Play

Likes  82  Dislikes    views  2034
WhatsApp_icon
user
1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल जी आपका प्रश्न है योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन होता है योग का जो है उसमें अष्टांग योग अष्टांग योग में जो है सबसे पहला अंग यम यम के पांच भाग्य सत्य अहिंसा अस्तेय अपरिग्रह ब्रह्मचारी तो अहिंसा का तात्पर्य है किसी की चिंता ना करना यह हिंसा से प्राप्त हुआ है इसीलिए अष्टांग योग में जो है अहिंसा का महत्व इसलिए भी सरकार पूरी तरह से योग्य वर्जित आध्यात्मिकता की दृष्टि से भी जो है मांसाहारी भोजन योग में कहीं से भी जीवन को आध्यात्मिकता नहीं देता है तो योग का जो सच है वही उद्देश्य है उसको प्राप्त करने के लिए शाकाहारी भोजन ही सबसे बेहतर है सबसे श्रेष्ठ है और यही सबसे ज्यादा अनुकूल है

bilkul ji aapka prashna hai yog chikitsakon ke liye shakahari bhojan hota hai yog ka jo hai usme ashtanga yog ashtanga yog me jo hai sabse pehla ang yum yum ke paanch bhagya satya ahinsa astey aparigrah brahmachari toh ahinsa ka tatparya hai kisi ki chinta na karna yah hinsa se prapt hua hai isliye ashtanga yog me jo hai ahinsa ka mahatva isliye bhi sarkar puri tarah se yogya varjit aadhyatmikta ki drishti se bhi jo hai masahari bhojan yog me kahin se bhi jeevan ko aadhyatmikta nahi deta hai toh yog ka jo sach hai wahi uddeshya hai usko prapt karne ke liye shakahari bhojan hi sabse behtar hai sabse shreshtha hai aur yahi sabse zyada anukul hai

बिल्कुल जी आपका प्रश्न है योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन होता है योग का जो है उसमें अ

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  711
WhatsApp_icon
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकारी बोली सभी के लिए आवश्यक है क्योंकि हमारी बॉडी हमारा शरीर मांसाहार के लिए बनाई नहीं है क्योंकि हमारे दांत जो जानवर मांसाहारी होते हैं उनके दांतों में और हमारे दांत में करो और हमारी आगे सारी जो पाचन क्रिया है जो भी सिस्टम है वह सारा वेजिटेरियन के लिए जवान नॉनवेज खाते मांसाहारी भोजन खाते हैं तो कम से कम 48 वर्ष में जाकर हजम होता है मेरे अंदर डाइजेस्ट होता है जब फुट 8 वर्ष में कितनी बार खाना खा चुके होते हैं इसलिए हम सभी के लिए ही सरकारी योजना आवश्यक है योग चिकित्सकों के लिए तो ज्यादा जरूरी है क्योंकि अगर हम मुंह सर्वजन लेते हैं तो हमारे मन पर वैसा इफेक्ट होता जैसा अन्न वैसा मन हम जैसा खाते हैं वैसे हमारा मन बनता है तो वेजीटेरियन फूड पर फ्रांस करें क्योंकि हमारे यहां तो अवेलेबल है कई द कंट्री में है जहां पर विजिट इन अवेलेबल नहीं है पर अब ज्यादातर लोग वेजिटेरियन की ओर बढ़ रहे हैं बाहर भी हमारे जैसे बाहर भी लोग मैच कोई लाइक कर रहे हैं

sarkari boli sabhi ke liye aavashyak hai kyonki hamari body hamara sharir mansahaari ke liye banai nahi hai kyonki hamare dant jo janwar masahari hote hain unke danton me aur hamare dant me karo aur hamari aage saari jo pachan kriya hai jo bhi system hai vaah saara vegetarian ke liye jawaan nonveg khate masahari bhojan khate hain toh kam se kam 48 varsh me jaakar hajam hota hai mere andar Digest hota hai jab feet 8 varsh me kitni baar khana kha chuke hote hain isliye hum sabhi ke liye hi sarkari yojana aavashyak hai yog chikitsakon ke liye toh zyada zaroori hai kyonki agar hum mooh sarvajan lete hain toh hamare man par waisa effect hota jaisa ann waisa man hum jaisa khate hain waise hamara man banta hai toh vegetarian food par france kare kyonki hamare yahan toh available hai kai the country me hai jaha par visit in available nahi hai par ab jyadatar log vegetarian ki aur badh rahe hain bahar bhi hamare jaise bahar bhi log match koi like kar rahe hain

सरकारी बोली सभी के लिए आवश्यक है क्योंकि हमारी बॉडी हमारा शरीर मांसाहार के लिए बनाई नहीं ह

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  684
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  532  Dislikes    views  4591
WhatsApp_icon
user

positive patidaar

Celebrity & Tycoon's Trainer ,yoga Entrepreneur..aanando Parmo Dharm

4:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके सवाल में जिस तरह का प्रश्न चिन्ह है वह दर्शाता है कि आप यह कशमकश में है कि योग चिकित्सक क्या नॉनवेज नहीं खा सकता तो यह केवल आपका ने हजारों लाखों योगा ट्रेनर रोका यह सवाल है दरअसल क्या है कि योग से तरह अपने आप में बहुत फैला हुआ विषय है और इसकी गहराई यह बहुत है अगर आप इसको एक एक्सरसाइज फॉर्म में लेते हो और आप अपने आप को वैसे एक्सरसाइज सैनी एक योगा योगा सिखाने वाला ट्रेनर के फॉर्म में ही लेते हो तो ऐसे कई हजारों लाखों से नर है जो बहुत अच्छा एनी बहुत हाई को परफॉर्मेंस आसनों का करते हैं पर सभी प्रकार का नॉनवेज भी खाते हैं तो बात रही हो क्षेत्र की तो योग एक धर्म व्यवस्था से जुड़ा हुआ है और योग में ही धर्म की मान्यता है कि अन्य के सूक्ष्मा संभाग में से मन का जन्म होता है हम जैसा खाते पीते हैं वैसा हम बनने लगते हैं या वैसा हम सोचने लगते या हमारा बर्ताव ऐसा होने लगता है और जीव हिंसा सबसे बड़ा वर्जित माना गया है धर्म में किसी भी जीव को की हिंसा करना मना है और जीते और योगा से जुड़े हुए और योगा के प्रैक्टिस करने वाले योगा के ग्रंथों का अभ्यास करने वाले योगा के लिटरेचर ओं को पढ़ने वाले ज्यादातर ट्रेनें जो होते हैं वह वेजिटेरियन होने लगते हैं और जो है शाकाहार केवल शुद्ध शाकाहार का ही भोजन लेते हैं पर जबकि योगा आज की तारीख में करंट टाइम में इंटरनेशनल सब्जेक्ट हो गया है योग दुनिया के देशों से ज्यादा देशों में एक्सट्रैडिशन को अपनाया गया है इसे फॉलो किया जाता है इंस्टिट्यूट और क्लासेस और ट्रेनिंग सेंटरों के फॉर्म में इंडस्ट्री या खुली हुई है और दुनिया में बहुत बड़े पैमाने पर अब जो यूएस डॉलर के फॉर्म में एक इंडस्ट्री बनके योगेंद्र शिवम के ऊपर के आया है बहार तो बहुत सारे कल्चरल डिफरेंसेस बहुत सारे देश के ट्रेनर बहुत सारे लोगों की मान्यता उस सब को जोड़ा जाए तो आपको खानपान की बहुत छोटी वाली ट्रेन मिलेगी तोर यह बहुत ही निजी मामला भी हो जाता है पूरा व्यक्तिगत मामला है कि आपको क्या खाना है क्या नहीं खाना है कितना खाना है कितनी मात्रा में खाना है वह सब कुछ सहना की अपनी निजी सोच उस पर कायम करता है तो योग चिकित्सा में हो सके उतना शाकाहार फलाहार जल आहार-विहार मिताहार जानी बुक से थोड़ा कम कम खाना तो उस तरह के जितने आरो का वर्णन किया हुआ है वह सब अगर आप करते हो तो अच्छा है बाकी हर व्यक्ति की अपनी निजी पसंद है और अपनी एक निजी सोच है धन्यवाद

aapke sawaal me jis tarah ka prashna chinh hai vaah darshata hai ki aap yah kashmakash me hai ki yog chikitsak kya nonveg nahi kha sakta toh yah keval aapka ne hazaro laakhon yoga trainer roka yah sawaal hai darasal kya hai ki yog se tarah apne aap me bahut faila hua vishay hai aur iski gehrai yah bahut hai agar aap isko ek exercise form me lete ho aur aap apne aap ko waise exercise saini ek yoga yoga sikhane vala trainer ke form me hi lete ho toh aise kai hazaro laakhon se nar hai jo bahut accha any bahut high ko performance aasanon ka karte hain par sabhi prakar ka nonveg bhi khate hain toh baat rahi ho kshetra ki toh yog ek dharm vyavastha se juda hua hai aur yog me hi dharm ki manyata hai ki anya ke sukshma sambhag me se man ka janam hota hai hum jaisa khate peete hain waisa hum banne lagte hain ya waisa hum sochne lagte ya hamara bartaav aisa hone lagta hai aur jeev hinsa sabse bada varjit mana gaya hai dharm me kisi bhi jeev ko ki hinsa karna mana hai aur jeete aur yoga se jude hue aur yoga ke practice karne waale yoga ke granthon ka abhyas karne waale yoga ke literature on ko padhne waale jyadatar trainen jo hote hain vaah vegetarian hone lagte hain aur jo hai shaakaahaar keval shudh shaakaahaar ka hi bhojan lete hain par jabki yoga aaj ki tarikh me current time me international subject ho gaya hai yog duniya ke deshon se zyada deshon me eksatraidishan ko apnaya gaya hai ise follow kiya jata hai institute aur classes aur training sentaron ke form me industry ya khuli hui hai aur duniya me bahut bade paimane par ab jo US dollar ke form me ek industry banke yogendra shivam ke upar ke aaya hai bahar toh bahut saare cultural difarenses bahut saare desh ke trainer bahut saare logo ki manyata us sab ko joda jaaye toh aapko khanpan ki bahut choti wali train milegi tor yah bahut hi niji maamla bhi ho jata hai pura vyaktigat maamla hai ki aapko kya khana hai kya nahi khana hai kitna khana hai kitni matra me khana hai vaah sab kuch sahna ki apni niji soch us par kayam karta hai toh yog chikitsa me ho sake utana shaakaahaar falahar jal aahaar vihar mitahar jani book se thoda kam kam khana toh us tarah ke jitne RO ka varnan kiya hua hai vaah sab agar aap karte ho toh accha hai baki har vyakti ki apni niji pasand hai aur apni ek niji soch hai dhanyavad

आपके सवाल में जिस तरह का प्रश्न चिन्ह है वह दर्शाता है कि आप यह कशमकश में है कि योग चिकित

Romanized Version
Likes  163  Dislikes    views  1400
WhatsApp_icon
user

Manmohan Bhutada

Founder & Director - Yog Prayog

0:31
Play

Likes  254  Dislikes    views  2679
WhatsApp_icon
user

Dr. Arvind Maurya

Yoga Instructor

0:27
Play

Likes  129  Dislikes    views  1239
WhatsApp_icon
user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जगदेव जी हां योग योग चिकित्सक जो है उनके लिए सरकारी योजना आवश्यक है क्योंकि शाकाहारी भोजन जब हम करते हैं तो शरीर पर तनाव कम आता है वर्षा काली भजन चंद्र से बचाता है और एक्शन में भगवान ने हमारा जो सचिन बनाए इंसानों का तो वह शिकारी पूजन की सब्जी बनाया गया है क्योंकि हमारी ताज्जुब होलू की लिए नहीं हमारे साथ जो गाय के देसी सारी रात है शक्ल ही पूछो कि जैसे तू शाकाहारी भोजन भगवान हमारे लिए बनाया है लेकिन पुराने जमाने में जब आदिमानव के जमाने में खाने को कुछ मिलता नहीं था जंगलों में अचानक सिनेमास करना शुरू किया क्योंकि तब आना जब लेबल नहीं था लेकिन आ जाना जब बल्ले बल्ले बल्ले बल्ले बल्ले बल्ले हमें वही खाना चाहिए सरकारी भोजन सर्वोत्तम भोजन है दुनिया का यह सब ने माना है और करने वाले उन्हें वहीं भोजन खाना चाहिए क्योंकि वह भोजन साथ भी होता है उसी युग में हमारे ग्रुप की होती है और योग से वाले फायदों में हमें बुद्धि होती है

jogdev ji haan yog yog chikitsak jo hai unke liye sarkari yojana aavashyak hai kyonki shakahari bhojan jab hum karte hain toh sharir par tanaav kam aata hai varsha kali bhajan chandra se bachata hai aur action me bhagwan ne hamara jo sachin banaye insano ka toh vaah shikaaree pujan ki sabzi banaya gaya hai kyonki hamari tajjub holu ki liye nahi hamare saath jo gaay ke desi saari raat hai shakl hi pucho ki jaise tu shakahari bhojan bhagwan hamare liye banaya hai lekin purane jamane me jab adimanav ke jamane me khane ko kuch milta nahi tha jungalon me achanak cinemas karna shuru kiya kyonki tab aana jab lebal nahi tha lekin aa jana jab balle balle balle balle balle balle hamein wahi khana chahiye sarkari bhojan sarvottam bhojan hai duniya ka yah sab ne mana hai aur karne waale unhe wahi bhojan khana chahiye kyonki vaah bhojan saath bhi hota hai usi yug me hamare group ki hoti hai aur yog se waale faayadon me hamein buddhi hoti hai

जगदेव जी हां योग योग चिकित्सक जो है उनके लिए सरकारी योजना आवश्यक है क्योंकि शाकाहारी भोजन

Romanized Version
Likes  541  Dislikes    views  4806
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:20
Play

Likes  555  Dislikes    views  5409
WhatsApp_icon
user
4:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है जी देखिए ऐसे आवश्यक बोल कर मैं बात नहीं करूंगा मैं यह बोलूंगा कि या तो लाभदायक है या तो हानिकारक है तो योग चिकित्सा अगर आप देखिए खुद एक ही योग चिकित्सक हैं सबसे पहले तो योग योग में बात आ जाती है अगर हम महर्षि पतंजलि के हिसाब से चले तो पहले ही उनका स्टेट है जहां पर अहिंसा की बात होती है योग मतलब करो ना जितने भी लोग हैं जितने भी जीव जंतु है सबको प्रेम देना सबको करूं ना देना सबको रिश्ते की गजब को प्यार देना तो तो अगर आप एक योग चिकित्सक है और आपको जो मूल है योग का योग का मूल्य है करुणा दूसरे के प्रति करो ना अगर आप फूफा ही नहीं कर रहे हैं तो फिर योग चिकित्सक सिर्फ 1 डिग्री है आपके पास बस वही है आप आप ने युवक को समझा नहीं है क्योंकि अगर आप वाकई में योग चिकित्सा मतलब आपने पढ़ा है समझा है जाना है फिर आपने योग की ताकत पर विश्वास किया है शेर आप योग चिकित्सक हैं लेकिन फिर भी अगर आप मांसाहार करते हैं तो मैं सही गलत की बात नहीं कर रहा बस करूंगा मैं अगर आप युग में योग के ऊपर बात कर रहा हूं अगर आप योग चिकित्सक हैं तो करुणा योग का मूल्य करो ना और आपने वही नहीं किया तब फिर आप कैसी हो सबसे पहले यहां पर बात दूसरी बात जब आपके पास कोई क्लाइंट आएंगे जब आपके पास कोई पेशेंट आएंगे आपसे कितने परसेंट आएंगे जब वह आपसे बात करेंगे जब आप खुद ही शाकाहारी नहीं है और आप अगर वह किसी तरीके से बीमार हैं आपके पास कोई स्वस्थ लोग तो व्यक्ति बहुत काम आएंगे आपको ज्यादातर कुछ ना कुछ रो रोग से ग्रसित लोग हैं आपके पास आएंगे और आप ही खुद मांसाहार करते हैं तो आप दूसरों को क्या सिखाएंगे कि आप शाखा किसी आपके शरीर के लिए अच्छा है और आपकी वाणी का प्रभाव भी नहीं होगा क्योंकि जो काम आपने खुद नहीं किया है जो अभ्यास आपने खुद नहीं किया कर आप वह किसी को बोलेंगे तुम करो तो उसका प्रभाव नहीं रहता वह बस बाहरी ऊपर ऊपर रह जाता है जैसे कोई टीचर खुद पान खाते हैं गुटखा खाते बच्चों को बोलकर पानी मत खाओ तो उसका कोई प्रभाव नहीं है लेकिन एक व्यक्ति अगर वह जीवन को उस अनुसार नहीं रहा है फिर वह लोगों को बोलता है तो उसकी वाणी का प्रभाव होता है क्योंकि उसमें तप है उसमें बहुत व्यस्त है और आप में अभ्यास नहीं है आप उसको आप हम को कैसे बोल सकते हैं किस हक से आप उनको बोलेंगे कि आप शाकाहार की तरफ जाएंगे तो योग चिकित्सक के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है कि नहीं यह मुझे नहीं पता लेकिन मुझे लगता है आपके एक काम आता है वह आता है बिजनेस एथिक्स आफ बिजनेस एथिक्स या लाइव सेक्स जीवन का एक कैरियर का एक-एक फैशन का एथिक्स होते हैं कुछ कुछ होता है तो अगर आप योग चिकित्सक हैं तो आपको ही योग के हिसाब से चलना पड़ेगा चाहे वह व्यक्ति सामने वाले को उसको अच्छा लगे नहीं लगे आपकी बातें लेकिन आपको अपने जो लिखा है आपने जो जाना है आपने जो पढ़ा है जो अनुभव किया है वह आपको देना पड़ेगा आप नहीं सिर्फ डिग्री ले लिया और आप लोगों को बता रहे हैं तो ना आप कुछ उससे लाभ ले पाएंगे ना आप सामने वालों को दे पाएंगे और आपको अगर मांसाहार करने का इतना शौक है अगर आपको नॉनवेज खाना पसंद है तो मैं यह नहीं बोलूंगा आप बंद कर दीजिए कभी काल आप कहीं भी आ जा रहे हैं कहीं घूमने गए कोई रेस्टोरेंट चल गए तो आप खा लीजिए कोई मनाही नहीं है लेकिन अगर आप शाकाहार भोजन करें तो वह उससे अच्छी बात नहीं हो सकती क्योंकि आप योग चिकित्सक है मूल है उसका करुणा दूसरे जीव से करो ना करना मदद करना और शाकाहार योग सात्विक आहार पर बहुत ध्यान रहता है योग का सात्विक आहार पर बहुत-बहुत ही मैं क्या बोलूं मतलब मेरे कहने का उद्योग का सात्विक आहार टिप बहुत जोर दिया है क्योंकि आप जैसा खाते हैं आप वैसा ही बनते हैं तो मेरे हिसाब से तो अगर आप योग चिकित्सक है आप चिकित्सक होते तो मैं नहीं बोलता लेकिन अगर आप योग चिकित्सक है अगर आप शाकाहारी भोजन करते हैं आज जीवन पर्यंत तो वह बेहतर रहेगा आवश्यक नहीं बोलूंगा मैं आवश्यक कुछ भी नहीं है कुछ इसकी आंखों चिपकाने लाभकारी होता है और कुछ चीज करना हानिकारक होता है यह हमारे खिलाफ होता है तो योग चिकित्सक के खिलाफ है मुझे लगता है जो मेरा सोच है जितना मुझे पता है मैं गलत भी हो सकता हूं लेकिन आपने पूछा तो मैंने अपनी सलाह दी और आगे आपकी जी जो आपको अच्छा लगता है धन्यवाद

kya yog chikitsakon ke liye shakahari bhojan aavashyak hai ji dekhiye aise aavashyak bol kar main baat nahi karunga main yah boloonga ki ya toh labhdayak hai ya toh haanikarak hai toh yog chikitsa agar aap dekhiye khud ek hi yog chikitsak hain sabse pehle toh yog yog me baat aa jaati hai agar hum maharshi patanjali ke hisab se chale toh pehle hi unka state hai jaha par ahinsa ki baat hoti hai yog matlab karo na jitne bhi log hain jitne bhi jeev jantu hai sabko prem dena sabko karu na dena sabko rishte ki gajab ko pyar dena toh toh agar aap ek yog chikitsak hai aur aapko jo mul hai yog ka yog ka mulya hai corona dusre ke prati karo na agar aap fufa hi nahi kar rahe hain toh phir yog chikitsak sirf 1 degree hai aapke paas bus wahi hai aap aap ne yuvak ko samjha nahi hai kyonki agar aap vaakai me yog chikitsa matlab aapne padha hai samjha hai jana hai phir aapne yog ki takat par vishwas kiya hai sher aap yog chikitsak hain lekin phir bhi agar aap mansahaari karte hain toh main sahi galat ki baat nahi kar raha bus karunga main agar aap yug me yog ke upar baat kar raha hoon agar aap yog chikitsak hain toh corona yog ka mulya karo na aur aapne wahi nahi kiya tab phir aap kaisi ho sabse pehle yahan par baat dusri baat jab aapke paas koi client aayenge jab aapke paas koi patient aayenge aapse kitne percent aayenge jab vaah aapse baat karenge jab aap khud hi shakahari nahi hai aur aap agar vaah kisi tarike se bimar hain aapke paas koi swasth log toh vyakti bahut kaam aayenge aapko jyadatar kuch na kuch ro rog se grasit log hain aapke paas aayenge aur aap hi khud mansahaari karte hain toh aap dusro ko kya sikhaenge ki aap shakha kisi aapke sharir ke liye accha hai aur aapki vani ka prabhav bhi nahi hoga kyonki jo kaam aapne khud nahi kiya hai jo abhyas aapne khud nahi kiya kar aap vaah kisi ko bolenge tum karo toh uska prabhav nahi rehta vaah bus bahri upar upar reh jata hai jaise koi teacher khud pan khate hain gutkha khate baccho ko bolkar paani mat khao toh uska koi prabhav nahi hai lekin ek vyakti agar vaah jeevan ko us anusaar nahi raha hai phir vaah logo ko bolta hai toh uski vani ka prabhav hota hai kyonki usme tap hai usme bahut vyast hai aur aap me abhyas nahi hai aap usko aap hum ko kaise bol sakte hain kis haq se aap unko bolenge ki aap shaakaahaar ki taraf jaenge toh yog chikitsak ke liye shakahari bhojan aavashyak hai ki nahi yah mujhe nahi pata lekin mujhe lagta hai aapke ek kaam aata hai vaah aata hai business ethics of business ethics ya live sex jeevan ka ek carrier ka ek ek fashion ka ethics hote hain kuch kuch hota hai toh agar aap yog chikitsak hain toh aapko hi yog ke hisab se chalna padega chahen vaah vyakti saamne waale ko usko accha lage nahi lage aapki batein lekin aapko apne jo likha hai aapne jo jana hai aapne jo padha hai jo anubhav kiya hai vaah aapko dena padega aap nahi sirf degree le liya aur aap logo ko bata rahe hain toh na aap kuch usse labh le payenge na aap saamne walon ko de payenge aur aapko agar mansahaari karne ka itna shauk hai agar aapko nonveg khana pasand hai toh main yah nahi boloonga aap band kar dijiye kabhi kaal aap kahin bhi aa ja rahe hain kahin ghoomne gaye koi restaurant chal gaye toh aap kha lijiye koi manaahi nahi hai lekin agar aap shaakaahaar bhojan kare toh vaah usse achi baat nahi ho sakti kyonki aap yog chikitsak hai mul hai uska corona dusre jeev se karo na karna madad karna aur shaakaahaar yog Satvik aahaar par bahut dhyan rehta hai yog ka Satvik aahaar par bahut bahut hi main kya bolu matlab mere kehne ka udyog ka Satvik aahaar tip bahut jor diya hai kyonki aap jaisa khate hain aap waisa hi bante hain toh mere hisab se toh agar aap yog chikitsak hai aap chikitsak hote toh main nahi bolta lekin agar aap yog chikitsak hai agar aap shakahari bhojan karte hain aaj jeevan paryant toh vaah behtar rahega aavashyak nahi boloonga main aavashyak kuch bhi nahi hai kuch iski aakhon chipkane labhakari hota hai aur kuch cheez karna haanikarak hota hai yah hamare khilaf hota hai toh yog chikitsak ke khilaf hai mujhe lagta hai jo mera soch hai jitna mujhe pata hai main galat bhi ho sakta hoon lekin aapne poocha toh maine apni salah di aur aage aapki ji jo aapko accha lagta hai dhanyavad

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है जी देखिए ऐसे आवश्यक बोल कर मैं बात नहीं

Romanized Version
Likes  387  Dislikes    views  4252
WhatsApp_icon
user

Devender Arya

Yoga Instructor

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

असलियत में योग जो है कहीं ना कहीं हेल्प सेतु जुड़ा है लेकिन यह हमारी पद्धति से हमारे कहीं ना कहीं धार्मिक अनुष्ठानों के साथ भी जुड़ा है क्योंकि स्टार्टिंग में प्राचीन काल में धार्मिक अपने आप को धार्मिक प्रवृत्ति की तरफ ले जाने के लिए पार्किंग में योग से अपने शरीर को सादा जाता था योग से शरीर को साधने का मतलब है योगिक क्रियाओं से हम अपनी बॉडी से क्लीनिंग करते जितने हमारी बॉडी में गलत चीजें अंदर इंटर कर गई है गलत विचार आचार गलत चीज है उसे हम योग के द्वारा उनको क्लींजिंग कर देते थे बॉडी को उसके बाद जो बॉडी क्लींजिंग हो जाती थी तो जैन हमारी बॉडी अध्यात्म के लिए तैयार हो जाती थी जैसे हमारी बॉडी में अच्छे विचार प्रवेश कर जाएंगे तो अध्यात्म के लिए तैयार हो जाए वैसे जो यह चीज है शाकाहारी और मांसाहारी चीजें हैं यह विचार है हम इनको भोजन के नहीं ज्यादातर मिलते विचार के तौर पर लेते तो यहां पर जो विचारों में हिंसक रूप है वह चीजें कम होने के कारण हम खुद उन चीजों से हटते जाते हैं और चाहे जैसा हमारे आसपास हमारे जीवन में कहीं भी हो हमारे जीवन में कहीं भी हिंसा हो तो उसमें क्या है कि अगर वह भोजन से भी बाहर होगी जीवन से भी बाहर होगी तो हम उन चीजों को शायद हंड्रेड परसेंट अपने जीवन में उतार पाएंगे

asliyat mein yog jo hai kahin na kahin help setu jinko hai lekin yah hamari paddhatee se hamare kahin na kahin dharmik anushthanon ke saath bhi jinko hai kyonki starting mein prachin kaal mein dharmik apne aap ko dharmik pravritti ki taraf le jaane ke liye parking mein yog se apne sharir ko saada jata tha yog se sharir ko sadhane ka matlab hai yogic kriyaon se hum apni body se cleaning karte jitne hamari body mein galat cheezen andar inter kar gayi hai galat vichar aachar galat cheez hai use hum yog ke dwara unko klinjing kar dete the body ko uske baad jo body klinjing ho jaati thi toh jain hamari body adhyaatm ke liye taiyar ho jaati thi jaise hamari body mein acche vichar pravesh kar jaenge toh adhyaatm ke liye taiyar ho jaaye waise jo yah cheez hai shakahari aur masahari cheezen hain yah vichar hai hum inko bhojan ke nahi jyadatar milte vichar ke taur par lete toh yahan par jo vicharon mein hinsak roop hai vaah cheezen kam hone ke karan hum khud un chijon se hatate jaate hain aur chahen jaisa hamare aaspass hamare jeevan mein kahin bhi ho hamare jeevan mein kahin bhi hinsa ho toh usme kya hai ki agar vaah bhojan se bhi bahar hogi jeevan se bhi bahar hogi toh hum un chijon ko shayad hundred percent apne jeevan mein utar payenge

असलियत में योग जो है कहीं ना कहीं हेल्प सेतु जुड़ा है लेकिन यह हमारी पद्धति से हमारे कहीं

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user

Dr. Rekha Soni

Nutrition and Yoga Expert

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हां बिल्कुल अगर करते हैं तो बहुत ही अच्छी बात है पर कई लोग जो कि शाकाहारी होते हुए भी मांसाहार भी यूज़ करते हैं उनको हम रोक तो नहीं सकते हैं पर अगर उसका उपयोग जितना कम करें उतना अच्छा है क्योंकि जो मनुष्य की आंख की लंबाई है और जो जानवरों की आज की लंबाई है दोनों में जमीन आसमान का फर्क है जो शेर वगैरह भी मांसाहार जितने भी जानवर है उनकी आंतो की लंबाई होती है 16 इंच की लंबाई है वह भी मांस का उपयोग करता है तो उसको भी डाइजेस करने में उसको 72 आज लगते हैं तो हमारी 32 इंच लंबाई होने की वजह से हम को कम से कम 15 दिन की जरूरत होती है उसको डाइजेस्ट करने में इस दौरान अगर हम कोई भी आसन और प्राणायाम करते हैं तो यह डेट 5 है यह हमारी आंखों के अंदर भिलाई के अंदर चिपक जाता है जो कि बहुत मुश्किल से निकलता है और बाद में बदहजमी और कॉन्स्टिपेशन जैसी कई बीमारियां इसी वजह से ही होती है तो सरकार इसके अंदर बहुत ही गुप्त मुख्य भूमिका निभाता है कोशिश करके मैं सबको यही निवेदन करूंगी और श्री सलाह दूंगी कि जितना हो सके आप शाकाहार का ही उपयोग करें जितना हो सके साग सब्जियां फल फ्रूट अल्कलाइन डाइट जितना ज्यादा लेंगे और उसके साथ अगर योग करेंगे तो उसका बेनिफिट फाउंडेशन में चेंज हो जाता है

haan bilkul agar karte hai toh bahut hi achi baat hai par kai log jo ki shakahari hote hue bhi mansahaari bhi use karte hai unko hum rok toh nahi sakte hai par agar uska upyog jitna kam kare utana accha hai kyonki jo manushya ki aankh ki lambai hai aur jo jaanvaro ki aaj ki lambai hai dono mein jameen aasman ka fark hai jo sher vagera bhi mansahaari jitne bhi janwar hai unki anto ki lambai hoti hai 16 inch ki lambai hai vaah bhi maas ka upyog karta hai toh usko bhi daijes karne mein usko 72 aaj lagte hai toh hamari 32 inch lambai hone ki wajah se hum ko kam se kam 15 din ki zarurat hoti hai usko Digest karne mein is dauran agar hum koi bhi aasan aur pranayaam karte hai toh yah date 5 hai yah hamari aankho ke andar bhilai ke andar chipak jata hai jo ki bahut mushkil se nikalta hai aur baad mein badahajami aur constipation jaisi kai bimariyan isi wajah se hi hoti hai toh sarkar iske andar bahut hi gupt mukhya bhumika nibhata hai koshish karke main sabko yahi nivedan karungi aur shri salah dungi ki jitna ho sake aap shaakaahaar ka hi upyog kare jitna ho sake saag sabjiyan fal fruit alkaline diet jitna zyada lenge aur uske saath agar yog karenge toh uska benefit foundation mein change ho jata hai

हां बिल्कुल अगर करते हैं तो बहुत ही अच्छी बात है पर कई लोग जो कि शाकाहारी होते हुए भी मांस

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Yogacharya Bindu Rani

Yoga Instructor Yog Teacher Yogacharya=yogdham Yog Center In Meerut, 19 Years Experience,yoga Classes At Home Yoga, Mediation Classes, Aerobic Classes ,yoga Classes For Ladies, Power Yoga Classes, Pilates Yoga Classes, Yoga Classes For Children's, Yoga Classes For Pregnant Women, आयुर्वेदाचार्य, नैचुरोपैथी

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रतियोगी को चाहे वे योगी वो युवाचार्य योग चिकित्सक हो या आयुर्वेदाचार्य हो प्रत्येक मनुष्य को शाकाहारी भोजन का मनुष्य की तंत्रिका कहानी पूजन की धरती है मनुष्य की जो जरूरत है जब बड़े हैं मूसा का हरित पूजन के लिए बने हुए हैं जीव जंतु पशु पक्षी जानवरों की तमाशा हार के लिए बनी हुई है मनुष्य को अपने शारीरिक संरचना आना चाहिए मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जो सर्वाहारी होता जा रहा है जिससे लोग बढ़ते जा रहे हैं सर्वाहारी होने के कारण ही शरीर में और ज्यादा बढ़ रही है जो वो व्याधियों को समाप्त करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को साथ में शाकाहारी भोजन ही करना चाहिए शाकाहारी भोजन शरीर को स्वास्थ्य प्रदान करता है और ऊर्जा प्रदान करता है शरीर को निरोगी बनाता है कांति में बनाता है तेज में बनाता है सात्विक भोजन सर्वोत्तम भोजन माना गया है

pratiyogi ko chahen ve yogi vo yuvacharya yog chikitsak ho ya ayurvedacharya ho pratyek manushya ko shakahari bhojan ka manushya ki tantrika kahani pujan ki dharti hai manushya ki jo zarurat hai jab bade hain musa ka harit pujan ke liye bane hue hain jeev jantu pashu pakshi jaanvaro ki tamasha haar ke liye bani hui hai manushya ko apne sharirik sanrachna aana chahiye manushya ek aisa prani hai jo sarvwaahaare hota ja raha hai jisse log badhte ja rahe hain sarvwaahaare hone ke karan hi sharir mein aur zyada badh rahi hai jo vo vyadhiyon ko samapt karne ke liye pratyek manushya ko saath mein shakahari bhojan hi karna chahiye shakahari bhojan sharir ko swasthya pradan karta hai aur urja pradan karta hai sharir ko nirogee banata hai kanti mein banata hai tez mein banata hai Satvik bhojan sarvottam bhojan mana gaya hai

प्रतियोगी को चाहे वे योगी वो युवाचार्य योग चिकित्सक हो या आयुर्वेदाचार्य हो प्रत्येक मनुष्

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  426
WhatsApp_icon
user

Sulabha Dixit

Yoga Instructor

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा है कि योग वह खाने के लिए कहता है जो अच्छे से 50 के शाकाहारी भोजन बहुत जल्दी पच जाता है और हमारी जो पाचन क्रिया है उसको कोई तकलीफ नहीं पहुंचती है शाकाहारी भोजन खाने से और अक्सर देखा जाता है कि जिन लोगों को शारीरिक बीमारियां हो जाती हैं और क्योंकि उनका भोजन सुपाच्य नहीं होता मेरे सामने ऐसे कई लोग आए हैं जिनको जुवेनाइल अर्थराइटिस हो गया था जिनके जो इतनी ज्यादा सेफ हो गए थे कि वह व्हीलचेयर में आ गए थे जबकि उनकी उम्र बिल्कुल ज्यादा नहीं थी 25 30 के बीच वाले लोगों में भी कभी कभी ऐसा हो जाता है ऐसे लोगों को जब शाकाहारी खाने पर रखा गया और साथ में कुछ हमें पैथिक मेडिटेशन और योगाभ्यास से धीरे-धीरे उनके जो जी और थे जम गए थे वह खुल गए और अब वह अच्छी तरह से ना केवल उनका वजन कम हुआ बल्कि वह जोर-जोर से सो गए थे क्योंकि यूरिक एसिड कैल्शियम के डिपॉजिट से से सो जाते हैं जॉइंट यह जरूरी नहीं है कि यह जितने सब जॉइन से यह फिर बुढ़ापे में आए कई बार गलत खान-पान से भी ऐसा हो जाता है तो यह अक्सर देखा गया है कि अभियोग ऐसा नहीं कहता कि आपको मांसाहार छोड़कर शाकाहार बनना कंपलसरी है लेकिन अगर जो शाकाहारी भोजन खाता है उसको भोजन पचाने में तकलीफ नहीं होती और इसीलिए का स्वास्थ्य अच्छा रहता है

dekhiye aisa hai ki yog vaah khane ke liye kahata hai jo acche se 50 ke shakahari bhojan bahut jaldi pach jata hai aur hamari jo pachan kriya hai usko koi takleef nahi pohchti hai shakahari bhojan khane se aur aksar dekha jata hai ki jin logo ko sharirik bimariyan ho jaati hain aur kyonki unka bhojan supachya nahi hota mere saamne aise kai log aaye hain jinako juvenail arthritis ho gaya tha jinke jo itni zyada safe ho gaye the ki vaah wheelchair mein aa gaye the jabki unki umr bilkul zyada nahi thi 25 30 ke beech waale logo mein bhi kabhi kabhi aisa ho jata hai aise logo ko jab shakahari khane par rakha gaya aur saath mein kuch hamein paithik meditation aur yogabhayas se dhire dhire unke jo ji aur the jam gaye the vaah khul gaye aur ab vaah achi tarah se na keval unka wajan kam hua balki vaah jor jor se so gaye the kyonki uric acid calcium ke deposit se se so jaate hain joint yah zaroori nahi hai ki yah jitne sab join se yah phir budhape mein aaye kai baar galat khan pan se bhi aisa ho jata hai toh yah aksar dekha gaya hai ki abhiyog aisa nahi kahata ki aapko mansahaari chhodkar shaakaahaar banna compulsory hai lekin agar jo shakahari bhojan khaata hai usko bhojan pachane mein takleef nahi hoti aur isliye ka swasthya accha rehta hai

देखिए ऐसा है कि योग वह खाने के लिए कहता है जो अच्छे से 50 के शाकाहारी भोजन बहुत जल्दी पच ज

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  121
WhatsApp_icon
user

Dr.Rajyogi

Yoga Trainer

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग पूर्ण रूप से प्राकृतिक है इसीलिए योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी होना प्रेस कर सिद्ध होगा अतः योग शिक्षकों को शाकाहार को ही जीवन में अपनाना चाहिए

yog purn roop se prakirtik hai isliye yog chikitsakon ke liye shakahari hona press kar siddh hoga atah yog shikshakon ko shaakaahaar ko hi jeevan mein apnana chahiye

योग पूर्ण रूप से प्राकृतिक है इसीलिए योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी होना प्रेस कर सिद्ध हो

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है जी हां परम आवश्यक है शाकाहारी भोजन आवश्यक है क्योंकि शिकारी भजन सही समय पर बैठ जाता है मैं सो गया कब प्रॉब्लम होने की संभावना नहीं होती है पेट साफ रहता है किसी तरह की समस्या पैदा नहीं होती है या व्यक्ति बहुत ज्यादा फाइट नहीं हो पाता है इसलिए योग चिकित्सक के लिए शाकाहारी भोजन परम आवश्यक है नो डाउट धन्यवाद

aapka question hai kya yog chikitsakon ke liye shakahari bhojan aavashyak hai ji haan param aavashyak hai shakahari bhojan aavashyak hai kyonki shikaaree bhajan sahi samay par baith jata hai so gaya kab problem hone ki sambhavna nahi hoti hai pet saaf rehta hai kisi tarah ki samasya paida nahi hoti hai ya vyakti bahut zyada fight nahi ho pata hai isliye yog chikitsak ke liye shakahari bhojan param aavashyak hai no doubt dhanyavad

आपका क्वेश्चन है क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है जी हां परम आवश्यक है श

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  1065
WhatsApp_icon
user

Ashok Clinic

Sexologist

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन अवश्य आवश्यक है या हुए योगा शास्त्री हुए और सारे ही यह मानते हैं कि इंसान के खाने की चीज वनस्पति औषधि वनस्पति हरी पत्तियां सब्जियां फ्रूट दूध खाने पीने की चीज है नाते जीव हत्या करके मुर्गा मांस मछली अंडे खाने से कैसे बनती है उसकी बुद्धि भ्रष्ट ही होती है और आपका ब्रेन के दिन होता है वह बात अलग है कहीं आपको खाने पीने को कुछ भी नहीं मिला तो देख लिया जीव हत्या करने के लिए अपनी जीने के लिए

kya yog chikitsakon ke liye shakahari bhojan avashya aavashyak hai ya hue yoga shastri hue aur saare hi yah maante hain ki insaan ke khane ki cheez vanaspati aushadhi vanaspati hari pattiyan sabjiyan fruit doodh khane peene ki cheez hai naate jeev hatya karke murga maas machli ande khane se kaise banti hai uski buddhi bhrasht hi hoti hai aur aapka brain ke din hota hai vaah baat alag hai kahin aapko khane peene ko kuch bhi nahi mila toh dekh liya jeev hatya karne ke liye apni jeene ke liye

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन अवश्य आवश्यक है या हुए योगा शास्त्री हुए और सारे

Romanized Version
Likes  334  Dislikes    views  4192
WhatsApp_icon
play
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

1:02

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है ऐसा प्रश्न है आपका तो मेरा यह मानना है कि मनुष्य को शाकाहारी होना चाहिए जहां तक मेरा ध्यान है मैं मानता हूं कि जो है जहां तक शाकाहार और मांसाहार का सवाल है तो मनुष्य जो है प्राकृतिक रूप से शाकाहारी है ऐसा मेरा मानना है क्योंकि जहां तक मैं समझता हूं कि कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिनसे हम शाकाहारी और मांसाहारी को पहचानते हैं जैसे शाकाहारी जो लोग होते हैं उनकी आंख लंबी होती है दांत सपाट होते हैं जो मनुष्य में पाए जाते हैं और जो मांसाहारी होते हैं उनकी आंख छोटी होती है नाचने के लिए होते हैं जो इस तरह की उसमें नहीं है तो प्राकृतिक रूप से मनुष्य को शाकाहारी बनाया है तो योग चिकित्सकों क्या सभी को शाकाहारी होना चाहिये यह अच्छी बात है धन्यवाद

kya yog chikitsakon ke liye shakahari bhojan aavashyak hai aisa prashna hai aapka toh mera yah manana hai ki manushya ko shakahari hona chahiye jaha tak mera dhyan hai manata hoon ki jo hai jaha tak shaakaahaar aur mansahaari ka sawaal hai toh manushya jo hai prakirtik roop se shakahari hai aisa mera manana hai kyonki jaha tak main samajhata hoon ki kuch aise lakshan hote hain jinse hum shakahari aur masahari ko pehchante hain jaise shakahari jo log hote hain unki aankh lambi hoti hai dant sapat hote hain jo manushya mein paye jaate hain aur jo masahari hote hain unki aankh choti hoti hai nachane ke liye hote hain jo is tarah ki usme nahi hai toh prakirtik roop se manushya ko shakahari banaya hai toh yog chikitsakon kya sabhi ko shakahari hona chahiye yah achi baat hai dhanyavad

क्या योग चिकित्सकों के लिए शाकाहारी भोजन आवश्यक है ऐसा प्रश्न है आपका तो मेरा यह मानना है

Romanized Version
Likes  179  Dislikes    views  1590
WhatsApp_icon
user

Anand Anurag

Yoga Expert

5:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर हम आप पुराने पुराने निशान से हम लोगों को योग की प्राप्ति हुई आज हम लोग जिस ट्रेन से या फिर वह हमारा पातंजल योग सूत्र को शाकाहारी भोजन ही करना चाहिए हमारा जो शाकाहारी भोजन के लिए ही बना है शाकाहारी भोजन के लिए ही बना हुआ है यह हमारा आज के समय में लोग डॉक्टर यह कह रहे हैं लोगों को तो अब अगर दोनों को हम लोग विकसित करते हैं तो योग का इतिहास होता हमारे बॉडी में वह शुरू हो जाता है हम लोग तब ऊपर अपना इंडिविजुअल भागों का मन है जो लोग करना चाहे कर सकते हैं तो उन लोगों को किसी को मना नहीं किया जा सकता लेकिन हमारा जो ग्रंथ है जहां पर हम लोगों को जानकारी मिल पा रही है विद्यालय पतंजलि योग विद्यालय हो या फिर हरिद्वार में जो भी शांतिकुंज वगैरह जो कोई भी है जो भी विद्यालय का नाम भी इसकी भी जरूरत होती है तो ऐसा नहीं है आप बॉडी की जरूरत है वह पूरा होते हैं तो 3 भाग से जुम्मन जो लोग करना चाहे वह करते हैं और यह ठीक भी है जैसा लगता वह करें दूसरी बार क्या करना चाहिए अगर आप योग करते हैं और आपको यदि नॉनवेज खाना खाते हैं नॉनवेज बॉडी के डाइजेशन हमारे बॉडी में डाइजेशन होता है वर्क आउट होता है तो जिसमें हमारा इंटरनल ऑर्गन कुछ ज्यादा सकते हैं उनका काम वर्क लोड बहुत ज्यादा बढ़ जाता है आज के समय के लिए अच्छा नहीं है अच्छा नहीं है इसलिए आज मारा लगातार हम इतने तरफ से टॉक्सिंस हम लोग ले रहे हैं खाने में भी और हवा के द्वारा तो नहीं रहे पूरी तरह से नहीं पा रहे हैं वह अगर लगातार सिर्फ और सिर्फ टॉक्सिन पीले तो और ऊपर से फूल भी है साले जिसमें पेट को बहुत ज्यादा डाइजेशन में आज समय लग रहा है बहुत जोर लगाना पड़ रहा है तू हानिकारक होता है और स्वस्थ हों तब योग की इफेक्ट को और आपके पार्टी में योग का क्या प्रभाव पड़ रहा है आप इस उसको बहुत अच्छे से समझ पाते और जान पाते महसूस कर पाते और अगर आप नॉनवेज लेते हैं तो आपको वह फिजिकली डिस्टर्ब करता है वह डाइजेशन में दिक्कत करता है मॉर्निंग में फ्रेश होने में दिक्कत करता है और इसमें बहुत सारी चीज है आपको मेंटली डिस्टर्ब करता है आपको अगर आप रेगुलर लेते हैं और आप 1 महीने के लिए छोड़ें तब्बू आपको ही साथ पता चलता है लेकिन अगर आप सप्ताह में 2 दिन लेते हैं 1 दिन लेते हैं तो इसका इफेक्ट आपको नहीं पता चल पाता है लेकिन अगर आप कंटीन्यूअस ले रे ले ले रे आप एक महीना छोड़ कर देखिए 1 सप्ताह छोड़ चले तो आपको खुद ब खुद आप महसूस कर सकते हैं कि नॉनवेज लेना चाहिए या नहीं लेना चाहिए हमारे बॉडी के लिए कितना हानिकारक है या फायदेमंद चेकअप महसूस कर सकते हैं और योग इसका बहुत बड़ा एग्जांपल है आप अपने इस चीज को आप जानना चाहते हैं तो आप लोग को फॉलो करें आप 1 महीने तक नॉनवेज को फॉलो करें खाएं

agar hum aap purane purane nishaan se hum logo ko yog ki prapti hui aaj hum log jis train se ya phir vaah hamara patanjal yog sutra ko shakahari bhojan hi karna chahiye hamara jo shakahari bhojan ke liye hi bana hai shakahari bhojan ke liye hi bana hua hai yah hamara aaj ke samay mein log doctor yah keh rahe hai logo ko toh ab agar dono ko hum log viksit karte hai toh yog ka itihas hota hamare body mein vaah shuru ho jata hai hum log tab upar apna individual bhaagon ka man hai jo log karna chahen kar sakte hai toh un logo ko kisi ko mana nahi kiya ja sakta lekin hamara jo granth hai jaha par hum logo ko jaankari mil paa rahi hai vidyalaya patanjali yog vidyalaya ho ya phir haridwar mein jo bhi shantikunj vagera jo koi bhi hai jo bhi vidyalaya ka naam bhi iski bhi zarurat hoti hai toh aisa nahi hai aap body ki zarurat hai vaah pura hote hai toh 3 bhag se jumman jo log karna chahen vaah karte hai aur yah theek bhi hai jaisa lagta vaah kare dusri baar kya karna chahiye agar aap yog karte hai aur aapko yadi nonveg khana khate hai nonveg body ke digestion hamare body mein digestion hota hai work out hota hai toh jisme hamara internal organ kuch zyada sakte hai unka kaam work load bahut zyada badh jata hai aaj ke samay ke liye accha nahi hai accha nahi hai isliye aaj mara lagatar hum itne taraf se taksins hum log le rahe hai khane mein bhi aur hawa ke dwara toh nahi rahe puri tarah se nahi paa rahe hai vaah agar lagatar sirf aur sirf toxin peele toh aur upar se fool bhi hai saale jisme pet ko bahut zyada digestion mein aaj samay lag raha hai bahut jor lagana pad raha hai tu haanikarak hota hai aur swasthya ho tab yog ki effect ko aur aapke party mein yog ka kya prabhav pad raha hai aap is usko bahut acche se samajh paate aur jaan paate mehsus kar paate aur agar aap nonveg lete hai toh aapko vaah physically disturb karta hai vaah digestion mein dikkat karta hai morning mein fresh hone mein dikkat karta hai aur isme bahut saree cheez hai aapko mentally disturb karta hai aapko agar aap regular lete hai aur aap 1 mahine ke liye choodey tabu aapko hi saath pata chalta hai lekin agar aap saptah mein 2 din lete hai 1 din lete hai toh iska effect aapko nahi pata chal pata hai lekin agar aap kantinyuas le ray le le ray aap ek mahina chod kar dekhiye 1 saptah chod chale toh aapko khud bsp khud aap mehsus kar sakte hai ki nonveg lena chahiye ya nahi lena chahiye hamare body ke liye kitna haanikarak hai ya faydemand checkup mehsus kar sakte hai aur yog iska bahut bada example hai aap apne is cheez ko aap janana chahte hai toh aap log ko follow kare aap 1 mahine tak nonveg ko follow kare khayen

अगर हम आप पुराने पुराने निशान से हम लोगों को योग की प्राप्ति हुई आज हम लोग जिस ट्रेन से या

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  80
WhatsApp_icon
user
0:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उसमें आप देखो योगा माल में क्या होता है कि खाना होता है एक राशि को एक काम से वापस आश्रित खाना ही खाना चाहिए मतलब मींस उसमें क्या-क्या होता है जो आपको जो क्या बोलते हो शाकाहारी भोजन ही खाना चाहिए उसमें उसमें क्या होता है आपका आभारी खाना खाने से वह डाइजेस्ट अच्छा होता है और आज अब मिन्नत और जुगाड़ जो कल जो चीज मिलने होते हैं उससे तो आपको अच्छे से मिलते हैं

usmein aap dekho yoga maal mein kya hota hai ki khana hota hai ek rashi ko ek kaam se wapas aashrit khana hi khana chahiye matlab means usme kya kya hota hai jo aapko jo kya bolte ho shakahari bhojan hi khana chahiye usme usmein kya hota hai aapka abhari khana khane se vaah Digest accha hota hai aur aaj ab minnat aur jugaad jo kal jo cheez milne hote hain usse toh aapko acche se milte hain

उसमें आप देखो योगा माल में क्या होता है कि खाना होता है एक राशि को एक काम से वापस आश्रित ख

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  59
WhatsApp_icon
user

anand pandey

Yoga Trainer & YouTuber #Anand_R_Techno

1:00
Play

Likes  19  Dislikes    views  289
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगा के बाद आना और हल्की वाली दाल होती है जयपुर से निकाल कर रख दिए योगा करने के आधे घंटे तक निर्धारित कीजिए जो योगी पुरुष होते ना वह सात्विक खाना खाते हैं बिल्कुल हल्का योगा करने के बाद चने ले सकते हैं आप आधे घंटे 45 मिनट के बाद खरीदारी आसाम से ड्राई फुट पानी में भी जाकर भूल सकते हैं वर्ड रायपुर 245 बदाम 45 का यह दिला दिया और चनों के साथ में वैसे ले सकते हैं से भी और दूध और केला ले सकते हैं कि नहीं खाना है क्योंकि लोग होते ना वह खाना कभी भी मत हो ज्यादा नहीं खाते लड़का ही खाना होता है

yoga ke baad aana aur halki wali daal hoti hai jaipur se nikaal kar rakh diye yoga karne ke aadhe ghante tak nirdharit kijiye jo yogi purush hote na vaah Satvik khana khate hain bilkul halka yoga karne ke baad chane le sakte hain aap aadhe ghante 45 minute ke baad kharidari assam se dry feet paani mein bhi jaakar bhool sakte hain word raipur 245 badaam 45 ka yah dila diya aur chanon ke saath mein waise le sakte hain se bhi aur doodh aur kela le sakte hain ki nahi khana hai kyonki log hote na vaah khana kabhi bhi mat ho zyada nahi khate ladka hi khana hota hai

योगा के बाद आना और हल्की वाली दाल होती है जयपुर से निकाल कर रख दिए योगा करने के आधे घंटे त

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!