क्यों पश्चिमी चिकित्सक अब योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं?...


user

योगाचार्य S.S.Rawat🕉🔱🚩🙏

Lecturer Of Yog And Alternative Therapy

2:28
Play

Likes  64  Dislikes    views  1593
WhatsApp_icon
24 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

अनमोल मणी

योग शिक्षक

2:18
Play

Likes  201  Dislikes    views  4092
WhatsApp_icon
user

Dr Arti Gupta

Yoga Trainer and Life Coach (instra Id-artipaharia135)

4:26
Play

Likes  66  Dislikes    views  1307
WhatsApp_icon
user

Vijay Sharma

Yoga Trainer (P.G.D.Y.)

5:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वेस्टर्न टॉप युवती को इसलिए प्रभु का इसको हम बूस्टनोट कर रहे हैं क्योंकि उनको मालूम है 1767 बीमारियां उनके बस की बात नहीं है कि वह ठीक कर सके जैसे कि अस्थमा है अर्थराइटिस डायबिटीज है कौन लागे से ब्लड प्रेशर है और मेंटल टेंशन वगैरह जो भी एक डिप्रेशन है आपका एंजाइटी है इनसोम्निया है स्वीट नेशनल किसे कहते हैं इन सब चीजों के लिए वह से दवाइयां उनके पास से कंट्रोल कर सकते हैं ना की जड़ से खत्म कर सकती योग पद्धति आजकल नहीं है यार आदि काल से चला आ रहा है यह वेदों में इसके बारे में वर्णन है और ऋषि-मुनियों में किस-किस की स्थापना करी कहा जाता है कि शंकर भगवान शंकर ने किया ऋषि-मुनियों को बताया हमारे बिग बिजनेस के बारे में व्याख्या है और अथर्ववेद में भी इसके बारे में पूरा वर्णन दे रखा है जो है यह जो एलोपैथी वगैरह है या अभी कुछ रोगियों साल पहले इसका डेवलपमेंट हुआ तो क्योंकि जियो और नेफ्रोपैथी यह बहुत ही वेद वैदिक टाइम से चली आ रही है यह कहती है नेचुरोपैथी तो आपको बता दें कि हिप्पोक्रेटिक इससे पूर्व करीब 5 साल पहले नेचुरोपैथी को स्टार्ट किया जिसको जिसकी वजह से उनको सभी जातियों का जनक माना जाता है 10788 में जॉन डिस्प्ले मेल द्वारा रिजल्ट चेक का स्टार्ट करें और इस आगजनी और अमेरिका की है उन्होंने स्टार्ट करें कोई है जो नेट पर थी और योग जो है यह सभी व्यक्तियों की जननी है तो वेस्टर्न जब डॉक्टर ने जब उन्होंने इसका इस्तेमाल किया तो उनको उनको महसूस हुआ कि मेंटल टेंशन शिव योग के द्वारा ही खत्म किया जा सकता है इसके अलावा और कोई साधन नहीं है जो मानसिक तनाव को दूर कर सके डिप्रेशन को दूर कर सके एंड बैटरी को दूर कर सकें जो युग में वह शक्तियां हैं जो किसी भी अन्य चीज नहीं मिल सकती इस वजह से उनको उनका रुझान हमारी प्राचीन सभ्यता मांगने आपको का एक पल है सब घाटी सभ्यता का हिंदुस्तानी साथ ने धर्म का यह जो है बहुत बड़ा एक इंसानी को जो हर इंसान को दिया गया है और ज्यादातर युवक जो है जोरा संजय यादव पशु और पक्षियों से लिए गए हैं पेड़ और पशु पक्षियों से आपने देखा होगा कि कभी भी पक्षी या पशु का देना आसानी से बीमार नहीं करते क्योंकि वह हमेशा नीचे से जुड़े रहते हैं और भौतिकता वादी जिंदगी नहीं जीते हैं इंसान ही ऐसा प्राणी है जो अपने मेट्रो लिपस्टिक लाइफ जीने की आदत बन चुकी है जिसकी वजह से हो नीचे से खिलवाड़ नहीं सकता है पल स्वरूप जब नीचे से ज्यादा खिलवाड़ होता है अग्नि चक्र और उनका परिवार के संस्कार देती है ऐसे तमाम का उदाहरण अपने देखे भी हैं और सुने भी होंगे इसलिए यह सब कुछ ऐसी बातें हैं जिसकी ऐसे व्यक्ति लोग जो है आज तक के लोग अब हिंदुस्तानी कल्चर परिषद को अपना रहे हैं योग को ही नहीं अपना गए बल्कि हिंदुस्तानी कल्चर को भी अपने अंदर आत्मसात करने की कोशिश कर रहे हैं इससे बात अनेकों अनेक फायदे हैं योग से और हमारे जो कल्चर है जो अनादि काल से चला आ रहा है

western top yuvati ko isliye prabhu ka isko hum bustanot kar rahe hain kyonki unko maloom hai 1767 bimariyan unke bus ki baat nahi hai ki vaah theek kar sake jaise ki asthama hai arthritis diabetes hai kaun lage se blood pressure hai aur mental tension vagera jo bhi ek depression hai aapka anxiety hai inasomniya hai sweet national kise kehte hain in sab chijon ke liye vaah se davaiyan unke paas se control kar sakte hain na ki jad se khatam kar sakti yog paddhatee aajkal nahi hai yaar aadi kaal se chala aa raha hai yah vedo me iske bare me varnan hai aur rishi muniyon me kis kis ki sthapna kari kaha jata hai ki shankar bhagwan shankar ne kiya rishi muniyon ko bataya hamare big business ke bare me vyakhya hai aur atharvaved me bhi iske bare me pura varnan de rakha hai jo hai yah jo allopathy vagera hai ya abhi kuch rogiyon saal pehle iska development hua toh kyonki jio aur nefropaithi yah bahut hi ved vaidik time se chali aa rahi hai yah kehti hai naturopathy toh aapko bata de ki hippocratic isse purv kareeb 5 saal pehle naturopathy ko start kiya jisko jiski wajah se unko sabhi jaatiyo ka janak mana jata hai 10788 me john display male dwara result check ka start kare aur is agajani aur america ki hai unhone start kare koi hai jo net par thi aur yog jo hai yah sabhi vyaktiyon ki janani hai toh western jab doctor ne jab unhone iska istemal kiya toh unko unko mehsus hua ki mental tension shiv yog ke dwara hi khatam kiya ja sakta hai iske alava aur koi sadhan nahi hai jo mansik tanaav ko dur kar sake depression ko dur kar sake and battery ko dur kar sake jo yug me vaah shaktiyan hain jo kisi bhi anya cheez nahi mil sakti is wajah se unko unka rujhan hamari prachin sabhyata mangne aapko ka ek pal hai sab ghati sabhyata ka hindustani saath ne dharm ka yah jo hai bahut bada ek insani ko jo har insaan ko diya gaya hai aur jyadatar yuvak jo hai JORA sanjay yadav pashu aur pakshiyo se liye gaye hain ped aur pashu pakshiyo se aapne dekha hoga ki kabhi bhi pakshi ya pashu ka dena aasani se bimar nahi karte kyonki vaah hamesha niche se jude rehte hain aur bhautikata wadi zindagi nahi jeete hain insaan hi aisa prani hai jo apne metro lipstick life jeene ki aadat ban chuki hai jiski wajah se ho niche se khilwad nahi sakta hai pal swaroop jab niche se zyada khilwad hota hai agni chakra aur unka parivar ke sanskar deti hai aise tamaam ka udaharan apne dekhe bhi hain aur sune bhi honge isliye yah sab kuch aisi batein hain jiski aise vyakti log jo hai aaj tak ke log ab hindustani culture parishad ko apna rahe hain yog ko hi nahi apna gaye balki hindustani culture ko bhi apne andar aatmsat karne ki koshish kar rahe hain isse baat anekon anek fayde hain yog se aur hamare jo culture hai jo anadi kaal se chala aa raha hai

वेस्टर्न टॉप युवती को इसलिए प्रभु का इसको हम बूस्टनोट कर रहे हैं क्योंकि उनको मालूम है 17

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  1038
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न क्यों पश्चिमी चिकित्सक अब योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं अभी करना काल में ही एक स्टडी हुई है आप अमेरिका के अंदर और उसके साथ में लगातार और अन्य देशों में जिसकी जर्मनी में योग के ऊपर अध्ययन चल रहा है कि जितने ज्यादा हम लंबी सांसे लेते हैं यहां पर फेफड़ों को संकुचित करते हैं या फिर चेस्ट को हम किस करते हैं तो हमारी इम्यूनिटी बढ़ती है क्योंकि फेफड़े का संकुचन और उसके जो आकार एवं वृद्धि होती है इसलिए पश्चिम में उस स्टडी के बाद में युवा की तरह बहुत ध्यान आकर्षण हुआ है और युवा अमेरिका ने यह घोषणा तक कर दी है कि हमारे जितने भी नागरिक हैं उनकी यूनिटी बढ़ाने के लिए हम योग प्रशिक्षक एवं गुरु रखेंगे जो कि हमारे लोगों की इम्युनिटी बड़े और करुणा जैसी कोई भी मां मारी आगे ना आ पाए

namaskar aapka prashna kyon pashchimi chikitsak ab yog chikitsa ka varnan kar rahe hain abhi karna kaal me hi ek study hui hai aap america ke andar aur uske saath me lagatar aur anya deshon me jiski germany me yog ke upar adhyayan chal raha hai ki jitne zyada hum lambi sanse lete hain yahan par phephadon ko sankuchit karte hain ya phir chest ko hum kis karte hain toh hamari immunity badhti hai kyonki fefade ka sankuchan aur uske jo aakaar evam vriddhi hoti hai isliye paschim me us study ke baad me yuva ki tarah bahut dhyan aakarshan hua hai aur yuva america ne yah ghoshana tak kar di hai ki hamare jitne bhi nagarik hain unki unity badhane ke liye hum yog parshikshak evam guru rakhenge jo ki hamare logo ki immunity bade aur corona jaisi koi bhi maa mari aage na aa paye

नमस्कार आपका प्रश्न क्यों पश्चिमी चिकित्सक अब योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं अभी करना का

Romanized Version
Likes  139  Dislikes    views  1939
WhatsApp_icon
user

Mrityunjay Bishwakarma

Yoga Trainer | Life Coach | Relationship Expert

4:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि पहले जो है वेस्टर्न कल्चर में और वेस्टर्न मेडिकल जो है जिसको हम एलोपैथी के नाम से जानते हैं इसने सर्टेनली बहुत बड़ा उछाल मारा इस समाज में लोगों के बीच में और अपनी बातों को अपने जो है रिसर्च ओं को लोगों तक पहुंचाया भले ही वह हंट शत प्रतिशत सत्य ना हो फिर भी उन्होंने इसको बहुत है विस्तार से फैलाया और जब अंग्रेजी शासन आई तो उसके बाद हमारी जो जिस भी तरह की हमारे विद्यार्थी हमारे पास फिर वह आयुर्वेद रिलेटेड हो अर्थशास्त्र हो या कामशास्त्र हो या किसी भी प्रकार की जो विद्यार्थी हमारे पास तो इतने सालों से हमारे पूर्वजों ने इकट्ठा की हुई थी यह सब के सब छिन्न-भिन्न हो गए इधर उधर हो गए और समाज में जो है वह इंग्लिश का चका ज्यादा बोलबाला रहने लग गया अब यह हो गया है कि धीरे-धीरे हमारे प्रधानमंत्री साथी साथ बहुत ऐसे राजनेता बहुत ऐसे गुरु ऐसे हुए जो कि योग और आयुर्वेद को आगे बढ़ा रहे हैं जैसे कि स्वामी रामदेव जैसे कि स्वामी बालकृष्ण आचार्य सदगुरु और उसके अलावा भी कई और गुरु हैं जो जिनके द्वारा योग विद्या 74 आयुर्वेद और कैलरी पयट्टू जो इंडियन मार्शल आर्ट है जो मदर आफ ऑल मार्शल आर्ट है इस तरह की भारतीय जो गुण हैं वह अब लोगों में फैल रही है क्योंकि आज इंटरनेट का जमाना है और यह एक बहुत ही अच्छी शादी है जिसमें हम रह रहे हैं क्योंकि आप घर बैठे ही बहुत कुछ समाज तक पहुंचा सकते हैं इस वजह से ही अब जो है जैसे-जैसे इन सब चीजों का विस्तार होता चला जा रहा है और लोगों को रिजल्ट मिल रहा है आउट ऑफ भारत भी और भारत के अंदर भी तो लोग धीरे-धीरे और इसे अपना रहे हैं इसे अपनी जीवनशैली में लाइफस्टाइल में ऐड कर रहे हैं वह पुराना कल्चर जो आज से 5000 से 10000 साल पुराना जो कल्चर था हमारा वह फिर से धीरे-धीरे लौट के आ रहा है भले इसमें और हो सकता है 10 से 20 साल या 30 साल का समय लग सकता है पर मेरा यह बिल्कुल विश्वास है कि 30 सालों के अंदर अंदर तो हम पूरी तरह से अपने कल्चर को अपना लेंगे स्पेशली भारत और भारतीय और हमारे से इंसुलिन शो के आसपास के कंट्रीज में भी इसका प्रभाव जरूर पड़ेगा जैसे कि चाइना पाकिस्तान अफगानिस्तान या फिर अमेरिका जो भी भारत से बहुत ज्यादा करीबी रिश्ते रखे हैं उन पर यह असर जरूर पड़ेगा और जो चिकित्सा बनती है जिसे हम एलोपैथी के नाम से जानते हैं आजकल लोग यह समझ पा रहे हैं कि सिर्फ किसी एक पर अंधविश्वास में बंद करके विश्वास कर लेना या उनको मार लेना ठीक नहीं है जब नेचुरल तरीके से प्राकृतिक चिकित्सा तरीके से सब चीज ठीक की जा सकती है तो फिर केमिकल्स का यूज क्यों करना बस यही वजह है कि दो गुजरिया वगैरह तो अब जो है पूरा विश्व जो है भारत और भारतीय संस्कृति भारतीय विज्ञान वेद और इन सब चीजों का महत्व समझ रहा है आयुर्वेद का महत्व समझ रहा है इसलिए ही अब वह पश्चिमी संस्कृति भी पश्चिमी चिकित्सा अभी-अभी योग चिकित्सा को धीरे-धीरे अपने अंदर ऐड करने में आप नोटिस करेंगे चीज खुद पाएंगे कि आज से 10 साल पहले यह चीज नहीं होती थी कि टीवी एड्स में जब भी कोई कंपनियां अपने ऐड देती थी तो उसमें आयुर्वेद या योग से कोई चीज ऐड कर देती लेकिन आज जब आप देखेंगे तो कई ऐसी कंपनियां हैं जैसे फेस क्रीम बनाने वाली कंपनियां जो बोलती है आयुर्वेदिक फेस क्रीम जो कोई शॉप बनाने की कंपनी है साबुन बनाने की वह बोलती है आयुर्वेदिक सोप कोई तेल बनाने का कंपनी है वह कहती है आयुर्वेदिक तेल है बालों पर लगाइए बहुत अच्छा काम करेगा यह है वह है तो आयुर्वेद का प्रचार-प्रसार इतना अच्छा वर्गों के लोग समझ रहे हैं कि नेचुरल चीजें इस्तेमाल करना और आर्टिफिशियल चीजें इस्तेमाल करना मैं बहुत फर्क है और नेचुरल से लाइफ बढ़ती है आर्टिफिशियल से लाइफ स्पेन और कम होती है किसी भी चीज की वह चाहे इंसान हो यह लिविंग थिंग हो गया नॉन लिविंग थिंग तो बस यही चीज है मैं आशा करता हूं आप समझ रहे होंगे कुछ और पूछना हो तो कमेंट करके पूछ सकते हैं अच्छा लगा हो तो लाइक और शेयर जरूर कीजिएगा और मुझे फटाफट से फॉलो कर लीजिए फिर मिलता है धन्यवाद

dekhiye aisa isliye ho raha hai kyonki pehle jo hai western culture me aur western medical jo hai jisko hum allopathy ke naam se jante hain isne sartenali bahut bada uchal mara is samaj me logo ke beech me aur apni baaton ko apne jo hai research on ko logo tak pahunchaya bhale hi vaah hunt shat pratishat satya na ho phir bhi unhone isko bahut hai vistaar se faelaya aur jab angrezi shasan I toh uske baad hamari jo jis bhi tarah ki hamare vidyarthi hamare paas phir vaah ayurveda related ho arthashastra ho ya kamshastra ho ya kisi bhi prakar ki jo vidyarthi hamare paas toh itne salon se hamare purvajon ne ikattha ki hui thi yah sab ke sab chinn bhinn ho gaye idhar udhar ho gaye aur samaj me jo hai vaah english ka chaka zyada bolbala rehne lag gaya ab yah ho gaya hai ki dhire dhire hamare pradhanmantri sathi saath bahut aise raajneta bahut aise guru aise hue jo ki yog aur ayurveda ko aage badha rahe hain jaise ki swami ramdev jaise ki swami balkrishna aacharya sadhguru aur uske alava bhi kai aur guru hain jo jinke dwara yog vidya 74 ayurveda aur Calorie payattu jo indian marshall art hai jo mother of all marshall art hai is tarah ki bharatiya jo gun hain vaah ab logo me fail rahi hai kyonki aaj internet ka jamana hai aur yah ek bahut hi achi shaadi hai jisme hum reh rahe hain kyonki aap ghar baithe hi bahut kuch samaj tak pohcha sakte hain is wajah se hi ab jo hai jaise jaise in sab chijon ka vistaar hota chala ja raha hai aur logo ko result mil raha hai out of bharat bhi aur bharat ke andar bhi toh log dhire dhire aur ise apna rahe hain ise apni jeevan shaili me lifestyle me aid kar rahe hain vaah purana culture jo aaj se 5000 se 10000 saal purana jo culture tha hamara vaah phir se dhire dhire lot ke aa raha hai bhale isme aur ho sakta hai 10 se 20 saal ya 30 saal ka samay lag sakta hai par mera yah bilkul vishwas hai ki 30 salon ke andar andar toh hum puri tarah se apne culture ko apna lenge speshli bharat aur bharatiya aur hamare se insulin show ke aaspass ke countries me bhi iska prabhav zaroor padega jaise ki china pakistan afghanistan ya phir america jo bhi bharat se bahut zyada karibi rishte rakhe hain un par yah asar zaroor padega aur jo chikitsa banti hai jise hum allopathy ke naam se jante hain aajkal log yah samajh paa rahe hain ki sirf kisi ek par andhavishvas me band karke vishwas kar lena ya unko maar lena theek nahi hai jab natural tarike se prakirtik chikitsa tarike se sab cheez theek ki ja sakti hai toh phir Chemicals ka use kyon karna bus yahi wajah hai ki do gujariya vagera toh ab jo hai pura vishwa jo hai bharat aur bharatiya sanskriti bharatiya vigyan ved aur in sab chijon ka mahatva samajh raha hai ayurveda ka mahatva samajh raha hai isliye hi ab vaah pashchimi sanskriti bhi pashchimi chikitsa abhi abhi yog chikitsa ko dhire dhire apne andar aid karne me aap notice karenge cheez khud payenge ki aaj se 10 saal pehle yah cheez nahi hoti thi ki TV aids me jab bhi koi companiya apne aid deti thi toh usme ayurveda ya yog se koi cheez aid kar deti lekin aaj jab aap dekhenge toh kai aisi companiya hain jaise face cream banane wali companiya jo bolti hai ayurvedic face cream jo koi shop banane ki company hai sabun banane ki vaah bolti hai ayurvedic soap koi tel banane ka company hai vaah kehti hai ayurvedic tel hai balon par lagaaiye bahut accha kaam karega yah hai vaah hai toh ayurveda ka prachar prasaar itna accha vargon ke log samajh rahe hain ki natural cheezen istemal karna aur artificial cheezen istemal karna main bahut fark hai aur natural se life badhti hai artificial se life Spain aur kam hoti hai kisi bhi cheez ki vaah chahen insaan ho yah living thing ho gaya non living thing toh bus yahi cheez hai main asha karta hoon aap samajh rahe honge kuch aur poochna ho toh comment karke puch sakte hain accha laga ho toh like aur share zaroor kijiega aur mujhe phataphat se follow kar lijiye phir milta hai dhanyavad

देखिए ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि पहले जो है वेस्टर्न कल्चर में और वेस्टर्न मेडिकल जो है ज

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  657
WhatsApp_icon
user

Manmohan Bhutada

Founder & Director - Yog Prayog

2:05
Play

Likes  258  Dislikes    views  3690
WhatsApp_icon
user

Dr.Babita Singh

Yoga Master Trainer & Healer, Founder Director, Kaivalyam:The Yoga Academy

2:45
Play

Likes  114  Dislikes    views  1024
WhatsApp_icon
user

Hemraj Gurjar

Yoga Trainer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

के पक्ष में चिकित्सक अभियोग के पैसे का वर्णन करने अभी तो समय सर ऐसा है कि पूरी दुनिया योग चिकित्सक की तरफ अग्रसर होने वाली है क्योंकि सिर्फ 25 चिकित्सक ही नहीं संपूर्ण विश्व क्योंकि अब संसार को यह समझना होगा कि योग के अलावा ऐसी कोई स्थिति नहीं है जो मैं पूर्ण रूप से स्वस्थ और निरोगी रख सके तो अपने जीवन को ही योग के अनुरूप ढालने अति उत्तम होगा धन्यवाद

ke paksh me chikitsak abhiyog ke paise ka varnan karne abhi toh samay sir aisa hai ki puri duniya yog chikitsak ki taraf agrasar hone wali hai kyonki sirf 25 chikitsak hi nahi sampurna vishwa kyonki ab sansar ko yah samajhna hoga ki yog ke alava aisi koi sthiti nahi hai jo main purn roop se swasth aur nirogee rakh sake toh apne jeevan ko hi yog ke anurup dhalne ati uttam hoga dhanyavad

के पक्ष में चिकित्सक अभियोग के पैसे का वर्णन करने अभी तो समय सर ऐसा है कि पूरी दुनिया योग

Romanized Version
Likes  219  Dislikes    views  3069
WhatsApp_icon
user

Shyam Vispute

Yoga Instructor

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय गुरुदेव जो कि क्या हो गया पता क्या खेलने कि जब पश्चिमी लोगों ने हुआ क्यों पर सर्च किया योगा उन्होंने करके दिखाइएगा के युवा के सारे उन्होंने क्या ग्रंथ पड़े और सारा उन्होंने अपनी मैया तुम कैसे समझ में आया कि दुनिया में जो भी सारी डिशेस होती है वह बॉडी खोलो ऑक्सीजन न मिलने की वजह चलती ऑक्सीजन का सप्लाई बॉडी को होता नहीं है शरीर को होता नहीं है ऑक्सीजन का सपना तो उसकी वजह से बहुत सारे वह सारी बीमारियां लाइफ में होती है ठीक है तो अब सीजन की कमी की वजह से तो प्राणायाम जब हम करती हो गजब करते तो ऑक्सीजन का बहुत सारा सप्लाई बॉडी को होता जितना मात्रा में ऑक्सीजन चाहिए बॉडी की अधिक मात्रा में ऑक्सीजन मिलता है तो बॉडी सा खिल जाता है अंदर से और काफी डीसी से मुक्ति मिलती है रुक पति का शक्ति बढ़ती है जरूरत पड़ती है सारी चीजें होती है तो इसीलिए अभी क्या कर रहे हैं अभी पश्चिमी जो उचित होगा कि ऊपर ज्यादा डेव ज्यादा डिफाइन डिपेंडेंसी भतार दिखा रहे डिपेंड है और वह बता रहे हैं कि अगर आप मेडिसिन के साथ में उपयोग करते हो तो आपको तकलीफ बहुत ज्यादा फायदा होता क्योंकि जो ऑक्सीजन की कमी हो पूरी हो जाती है बॉडी की और पोसरेडी से से मुक्ति मिलती विषैले तत्व बाहर निकलते हैं और जो दवाइयों की असर करने लगते पौड़ी के पास जल्दी से जवाब योगा करते हैं तो तू इसी वजह से पश्चिमी चिकित्सक जो है वह भी लोगों को लियो गारे कमेंट करें ताकि लोगों का टॉप जींस बॉडी के बाहर निकले और लोग स्वस्थ बने और लोगों को ज्यादा ऑक्सीजन मिले शरीर को ताकि शरीर स्वस्थ हो सके जय गुरुदेव

jai gurudev jo ki kya ho gaya pata kya khelne ki jab pashchimi logo ne hua kyon par search kiya yoga unhone karke dikhaiega ke yuva ke saare unhone kya granth pade aur saara unhone apni maiya tum kaise samajh me aaya ki duniya me jo bhi saari dishes hoti hai vaah body kholo oxygen na milne ki wajah chalti oxygen ka supply body ko hota nahi hai sharir ko hota nahi hai oxygen ka sapna toh uski wajah se bahut saare vaah saari bimariyan life me hoti hai theek hai toh ab season ki kami ki wajah se toh pranayaam jab hum karti ho gajab karte toh oxygen ka bahut saara supply body ko hota jitna matra me oxygen chahiye body ki adhik matra me oxygen milta hai toh body sa khil jata hai andar se aur kaafi dc se mukti milti hai ruk pati ka shakti badhti hai zarurat padti hai saari cheezen hoti hai toh isliye abhi kya kar rahe hain abhi pashchimi jo uchit hoga ki upar zyada dev zyada define dipendensi bhatar dikha rahe depend hai aur vaah bata rahe hain ki agar aap medicine ke saath me upyog karte ho toh aapko takleef bahut zyada fayda hota kyonki jo oxygen ki kami ho puri ho jaati hai body ki aur posredi se se mukti milti vishaile tatva bahar nikalte hain aur jo dawaiyo ki asar karne lagte poudi ke paas jaldi se jawab yoga karte hain toh tu isi wajah se pashchimi chikitsak jo hai vaah bhi logo ko leo gare comment kare taki logo ka top jeans body ke bahar nikle aur log swasth bane aur logo ko zyada oxygen mile sharir ko taki sharir swasth ho sake jai gurudev

जय गुरुदेव जो कि क्या हो गया पता क्या खेलने कि जब पश्चिमी लोगों ने हुआ क्यों पर सर्च किया

Romanized Version
Likes  406  Dislikes    views  4174
WhatsApp_icon
user

Ashish Lavania

Yoga Trainer

1:17
Play

Likes  280  Dislikes    views  3942
WhatsApp_icon
user

Swami Umesh Yogi

Peace-Guru (Global Peace Education)

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखे आपने पूछा पश्चिमी चिकित्सा का प्रयोग का वर्णन कर रहे हैं योग जो है सनातन काल से एक साइंटिफिक मेथड स्वस्थ रहने का और चाय पश्चिमी हो या दक्षिणी हो यह भारती हो जो भी चिकित्सा पद्धति है वह स्वास्थ्य को ही स्वस्थ रखने के लिए तो योग उसमें अत्यंत सहायक है इसलिए सभी लोग योग की ओर बड़ी आशा से देख रहे और उसको अपने पति के साथ पद्धति में सम्मिलित कर रहे हैं

dekhe aapne poocha pashchimi chikitsa ka prayog ka varnan kar rahe hain yog jo hai sanatan kaal se ek scientific method swasth rehne ka aur chai pashchimi ho ya dakshini ho yah bharati ho jo bhi chikitsa paddhatee hai vaah swasthya ko hi swasth rakhne ke liye toh yog usme atyant sahayak hai isliye sabhi log yog ki aur badi asha se dekh rahe aur usko apne pati ke saath paddhatee me sammilit kar rahe hain

देखे आपने पूछा पश्चिमी चिकित्सा का प्रयोग का वर्णन कर रहे हैं योग जो है सनातन काल से एक सा

Romanized Version
Likes  399  Dislikes    views  4241
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्त मैं आपका दोस्त आपका योगा फ्रेंड विश्व देव बोल रहा हूं और दोस्त आपका जो प्रश्न है वही है क्यों पश्चिमी चिकित्सक भी अभियोग का समर्थन कर रहे हैं उसका गुणगान कर रहे हैं योग का वर्णन करते हैं क्योंकि उनको समझ में आ गया है के योग्य शरीर को इस सिस्टम को ठीक करता है जबकि एलोपैथिक दवाइयां जो होती हैं पाश्चात्य चिकित्सा है वह केवल सिम्टम्स पर काम करती है अगर आपको दर्द हो रहा है दर्द बंद हो गया तो आप कहते हैं मैं ठीक हो गया लेकिन दर्द किस कारण से हुआ है क्या प्रॉब्लम थी अगर वह कारण ठीक हो जाता है तो वह आपको रिपीट नहीं होगा और वह योग से उसका सिस्टम करता है अंदर सिस्टम ठीक होगा तो सेंड अच्छे आएंगे सिम्टम्स पेनफुल नहीं आएंगे चिमटा से कोई दिक्कत नहीं आएगी ठीक है पश्चिमी चिकित्सा योग का गुणगान करते हैं वर्णन करते हैं बखान करते हैं और अपने जो मरीज है जो पेशेंट है उनके उनको योग करने की सलाह देते हैं ओके थैंक यू धन्यवाद टेक केयर मस्त रहो

namaskar dost main aapka dost aapka yoga friend vishwa dev bol raha hoon aur dost aapka jo prashna hai wahi hai kyon pashchimi chikitsak bhi abhiyog ka samarthan kar rahe hain uska gunagan kar rahe hain yog ka varnan karte hain kyonki unko samajh me aa gaya hai ke yogya sharir ko is system ko theek karta hai jabki allopathic davaiyan jo hoti hain pashchayat chikitsa hai vaah keval Symptoms par kaam karti hai agar aapko dard ho raha hai dard band ho gaya toh aap kehte hain main theek ho gaya lekin dard kis karan se hua hai kya problem thi agar vaah karan theek ho jata hai toh vaah aapko repeat nahi hoga aur vaah yog se uska system karta hai andar system theek hoga toh send acche aayenge Symptoms painful nahi aayenge chimta se koi dikkat nahi aayegi theek hai pashchimi chikitsa yog ka gunagan karte hain varnan karte hain bakhan karte hain aur apne jo marij hai jo patient hai unke unko yog karne ki salah dete hain ok thank you dhanyavad take care mast raho

नमस्कार दोस्त मैं आपका दोस्त आपका योगा फ्रेंड विश्व देव बोल रहा हूं और दोस्त आपका जो प्रश्

Romanized Version
Likes  494  Dislikes    views  6055
WhatsApp_icon
user
1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके सवाल है क्यों पश्चिमी चिकित्सा का प्रयोग चिकित्सा के बंधन कर रहे हैं यह समस्या केवल पश्चिमी चिकित्सकों के बारे में नहीं है यह भारत देश में भी बहुत सारी चिकित्सक हैं अलग-अलग आप चित्र में जैसे कि को नेचुरोपैथी डॉक्टर है आयुर्वेदिक डॉक्टर एलोपैथिक डॉक्टर यह सारे डॉक्टर भी आपको और योग चिकित्सा के बारे में वर्णन कर रही हो और सलाह भी दे रहे हैं कि आप जोक चिकित्सा का योगासन करिया प्रणब करिए और मेडिटेशन करिए और 180 जीवन बीमा पर क्या अपने आप को तैयार करिए यह बताते हैं आपकी सलाह देते हैं लेकिन सब करते नहीं ऐसा क्योंकि उनका भी जब ऑपरेशन है वह कंडीशन जैसे मारना खाए जाए उनका प्रोफेशन में जिसे आज ना आए उनको उनका कमाई जिसे बंद ना हो इस वजह से दूसरे डॉक्टर आपको सलाह देते नहीं है लेकिन आजकल ऐसे ही सच्चे डॉक्टर है जो कि आपका सेहत का ध्यान देते हैं और उसको सुधारने में आपको मदद करते हैं तो वह तो बेशक आपको सलाह देते हैं कि आपको योगा थेरेपी क्या है कि लीजिए योगासन प्राणायाम और मेडिटेशन अधिकारी और आपको एक लंबे समय तक कोई यानी कि जिन जब तक जीते हैं तब तक आप स्वस्थ जीवन जीने

aapke sawaal hai kyon pashchimi chikitsa ka prayog chikitsa ke bandhan kar rahe hain yah samasya keval pashchimi chikitsakon ke bare me nahi hai yah bharat desh me bhi bahut saari chikitsak hain alag alag aap chitra me jaise ki ko naturopathy doctor hai ayurvedic doctor allopathic doctor yah saare doctor bhi aapko aur yog chikitsa ke bare me varnan kar rahi ho aur salah bhi de rahe hain ki aap joke chikitsa ka yogasan Caria pranab kariye aur meditation kariye aur 180 jeevan bima par kya apne aap ko taiyar kariye yah batatey hain aapki salah dete hain lekin sab karte nahi aisa kyonki unka bhi jab operation hai vaah condition jaise marna khaye jaaye unka profession me jise aaj na aaye unko unka kamai jise band na ho is wajah se dusre doctor aapko salah dete nahi hai lekin aajkal aise hi sacche doctor hai jo ki aapka sehat ka dhyan dete hain aur usko sudhaarne me aapko madad karte hain toh vaah toh beshak aapko salah dete hain ki aapko yoga therapy kya hai ki lijiye yogasan pranayaam aur meditation adhikari aur aapko ek lambe samay tak koi yani ki jin jab tak jeete hain tab tak aap swasth jeevan jeene

आपके सवाल है क्यों पश्चिमी चिकित्सा का प्रयोग चिकित्सा के बंधन कर रहे हैं यह समस्या केवल प

Romanized Version
Likes  125  Dislikes    views  2756
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राम जी की आपका पश्चिमी और इससे लाभ भी पा रहे हैं और इसकी प्रशंसा करते हैं आयुर्वेदिक दवाइयां जो अपनी आंखें दवाई है उनको भी ले रहे हैं और पूछो

ram ji ki aapka pashchimi aur isse labh bhi paa rahe hain aur iski prashansa karte hain ayurvedic davaiyan jo apni aankhen dawai hai unko bhi le rahe hain aur pucho

राम जी की आपका पश्चिमी और इससे लाभ भी पा रहे हैं और इसकी प्रशंसा करते हैं आयुर्वेदिक दवाइय

Romanized Version
Likes  622  Dislikes    views  7775
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:33

Likes  242  Dislikes    views  1965
WhatsApp_icon
user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है क्यों पश्चिमी चिकित्सक और योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं इसका उत्तर है पश्चिमी चिकित्सकों को योग के बारे में धीरे-धीरे जानकारी हो रही है और इसके महत्व को समझ रहे हैं जान रहे हैं इसलिए युग के माध्यम से अपने मरीज को ठीक करने का उपाय बता रहे हैं योग हमारे भारतवर्ष की धरोहर है और योग हमारे यहां योग का प्रचार प्रसार करने वाले बहुत लोग स्वामी रामदेव जी योग को बहुत बढ़िया ढंग से प्रचारित किए हैं जन जन तक पहुंचाने का प्रयास किया हमारे देश के चिकित्सक इस मामले में पाश्चात्य सभ्यता से चिकित्सकों से थोड़ा सा पीछे चल रहे हैं उन्हें योग के महत्व को जानते हैं योग करते हैं परंतु अपने मरीज को योग बता रहे हैं लेकिन जितना चाहिए उतना नहीं बता रहे सभी चिकित्सकों से आप सभी बंधुओं से निवेदन है कि योग के बारे में विस्तार से सबको बताया जाए और योगा करके सभी लोग पूर्ण रूप से निरोग हो जाएं करें योग रहें निरोग

prashna hai kyon pashchimi chikitsak aur yog chikitsa ka varnan kar rahe hain iska uttar hai pashchimi chikitsakon ko yog ke bare me dhire dhire jaankari ho rahi hai aur iske mahatva ko samajh rahe hain jaan rahe hain isliye yug ke madhyam se apne marij ko theek karne ka upay bata rahe hain yog hamare bharatvarsh ki dharohar hai aur yog hamare yahan yog ka prachar prasaar karne waale bahut log swami ramdev ji yog ko bahut badhiya dhang se pracharit kiye hain jan jan tak pahunchane ka prayas kiya hamare desh ke chikitsak is mamle me pashchayat sabhyata se chikitsakon se thoda sa peeche chal rahe hain unhe yog ke mahatva ko jante hain yog karte hain parantu apne marij ko yog bata rahe hain lekin jitna chahiye utana nahi bata rahe sabhi chikitsakon se aap sabhi bandhuon se nivedan hai ki yog ke bare me vistaar se sabko bataya jaaye aur yoga karke sabhi log purn roop se nirog ho jayen kare yog rahein nirog

प्रश्न है क्यों पश्चिमी चिकित्सक और योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं इसका उत्तर है पश्चिमी

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  2449
WhatsApp_icon
user

Ankit Bhardwaj

Yoga Instructor

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि योग कोई नॉर्मल चीज नहीं है योग पूरी तरीके से साइंटिफिक चीज है और पश्चिम में उसी चीज को माना जाता है जो साइंटिफिक हो इसीलिए अभियोग का सबसे ज्यादा प्रचार भी कर रहे हैं और सबसे ज्यादा योगा अपना रहे हैं

kyonki yog koi normal cheez nahi hai yog puri tarike se scientific cheez hai aur paschim mein usi cheez ko mana jata hai jo scientific ho isliye abhiyog ka sabse zyada prachar bhi kar rahe hain aur sabse zyada yoga apna rahe hain

क्योंकि योग कोई नॉर्मल चीज नहीं है योग पूरी तरीके से साइंटिफिक चीज है और पश्चिम में उसी ची

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  936
WhatsApp_icon
user

Saroj Kumar Ksheti

Yoga Instructor/Practitioner

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों पश्चिमी चिकित्सा योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं अगर इस सवाल का सही उत्तर आ को जानना है तो आपको उसी व्यक्ति के पास या उचित चिकित्सक से संपर्क करना पड़ेगा जो योग का वर्णन कर रहा है अन्यथा कोई दूसरा व्यक्ति इसके बारे में अगर वह बताता है तो यह वास्तविकता नहीं होगी उसका अनुमान ही कहलाएगा उसका मनोविकार ही बता सकता है उसी को ही पता होगा क्योंकि आयोग से संबंधित किसी से प्यार नहीं करना चाहेगा तो आपके सामने तारीफों का एक समुंदर खड़ा करने का समुंदर भार देगा इतनी तारीफ पे तारीफ करेगा कि आप बाकी तो आप इतना तो जानते ही होंगे कि योग के फायदे कितने हैं और यह जो कितना महत्वपूर्ण है हमारे तो हो सकता है उसके लिए भी महत्वपूर्ण हो और युग की विशेषता के बारे में वह भी जानता हूं और इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है ही है कि उसको पता हो इसलिए वर्णन किया

kyon pashchimi chikitsa yog chikitsa ka varnan kar rahe hain agar is sawaal ka sahi uttar aa ko janana hai toh aapko usi vyakti ke paas ya uchit chikitsak se sampark karna padega jo yog ka varnan kar raha hai anyatha koi doosra vyakti iske bare mein agar vaah batata hai toh yah vastavikta nahi hogi uska anumaan hi kehlaega uska manovikar hi bata sakta hai usi ko hi pata hoga kyonki aayog se sambandhit kisi se pyar nahi karna chahega toh aapke saamne tarifon ka ek samundar khada karne ka samundar bhar dega itni tareef pe tareef karega ki aap baki toh aap itna toh jante hi honge ki yog ke fayde kitne hain aur yah jo kitna mahatvapurna hai hamare toh ho sakta hai uske liye bhi mahatvapurna ho aur yug ki visheshata ke bare mein vaah bhi jaanta hoon aur iska koi side effect nahi hai hi hai ki usko pata ho isliye varnan kiya

क्यों पश्चिमी चिकित्सा योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं अगर इस सवाल का सही उत्तर आ को जानन

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  172
WhatsApp_icon
play
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

0:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पश्चिमी चिकित्सा किस लिए योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने अत्याधुनिक चिकित्सा में जो औषधियां है या अत्याधुनिक चिकित्सा के जो उपकरण है उन्होंने बहुत उपयोग कर लिया है और अब हम उनका उपयोग किया हुआ जो भी तथ्य है हम लोग भारत में यूज कर रहे हैं लेकिन अब धीरे-धीरे वह प्रणाली या फेल होने लगी है और उनको इस योग के माध्यम से पता चल रहा है और उन लोगों को फायदा मिलता है इस वजह से वह योग का वर्णन करते हैं कि बिना किसी आधुनिक उपकरण के लोगों को फायदा मिल रहा है इसकी वजह से वह इसको वैज्ञानिक तरीके से इसका वर्णन करने लग गए हैं उनको समझ में आ गया है कि योग क्या है धन्यवाद

pashchimi chikitsa kis liye yog chikitsa ka varnan kar rahe hain kyonki unhone atyadhunik chikitsa mein jo aushadhiyan hai ya atyadhunik chikitsa ke jo upkaran hai unhone bahut upyog kar liya hai aur ab hum unka upyog kiya hua jo bhi tathya hai hum log bharat mein use kar rahe hain lekin ab dhire dhire vaah pranali ya fail hone lagi hai aur unko is yog ke madhyam se pata chal raha hai aur un logon ko fayda milta hai is wajah se vaah yog ka varnan karte hain ki bina kisi aadhunik upkaran ke logon ko fayda mil raha hai iski wajah se vaah isko vaigyanik tarike se iska varnan karne lag gaye hain unko samajh mein aa gaya hai ki yog kya hai dhanyavad

पश्चिमी चिकित्सा किस लिए योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने अत्याधुनिक चिकि

Romanized Version
Likes  112  Dislikes    views  1609
WhatsApp_icon
user

Ashok Clinic

Sexologist

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्यों पश्चिमी चिकित्सकीय चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि योग चिकित्सा युगो युगो से ही इफेक्टिव रही है कर रही है पप्पू रही है इसलिए जो मॉडल सिस्टम है यह तो कल परसों की बात है जो आया है और यह कोई ऊपर से नहीं उठती है जो हमारी जड़ी बूटियां वनस्पति सोना चांदी पीतल का आज ऐसी चीजें हैं भक्तों की जड़ उन चीजों से ही जेके निकाला इश्क किया जाता है तो यह 925 सिस्टम बनता है घंटे फैक्ट्री है दुनिया को चमत्कार दिखा दिया इतने दुख में काम भी आता है दुनिया की जान ली हो जाता है लेकिन इसके सही दशक के आते हैं योगा इसमें कोई दवाई नहीं कोई मूर्ति नहीं दूध पियो जी पानी पियो जी दारू पियो जी पैदल चलो जी योगासन करो जी इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं आपको शांति सिखाता है एकाग्रता सिखाता है सब से प्रेम करना सिखाता है इसलिए उनको यह बात समझा रही है अब तो गवर्नमेंट ऑफ इंडिया ने भी आपके सामने ही योगा दिवस भी वर्ड लेवल पर अपना लिया है

kyon pashchimi chikitsakiya chikitsa ka varnan kar rahe hain kyonki yog chikitsa yugo yugo se hi effective rahi hai kar rahi hai pappu rahi hai isliye jo model system hai yah toh kal parso ki baat hai jo aaya hai aur yah koi upar se nahi uthati hai jo hamari jadi butiyan vanaspati sona chaandi pital ka aaj aisi cheezen hain bhakton ki jad un chijon se hi jeke nikaala ishq kiya jata hai toh yah 925 system banta hai ghante factory hai duniya ko chamatkar dikha diya itne dukh mein kaam bhi aata hai duniya ki jaan li ho jata hai lekin iske sahi dashak ke aate hain yoga isme koi dawai nahi koi murti nahi doodh piyo ji paani piyo ji daaru piyo ji paidal chalo ji yogasan karo ji iska koi side effect nahi aapko shanti sikhata hai ekagrata sikhata hai sab se prem karna sikhata hai isliye unko yah baat samjha rahi hai ab toh government of india ne bhi aapke saamne hi yoga divas bhi word level par apna liya hai

क्यों पश्चिमी चिकित्सकीय चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि योग चिकित्सा युगो युगो से ह

Romanized Version
Likes  354  Dislikes    views  4432
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग चिकित्सा क्यों योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि हिंदुस्तान में कोई भी चीज है भले ही हमारी हो हमसे देर से पहचानते हैं और विदेशी सब पहचान चुकी हैं कि योग आज कितना जरूरी है योग चिकित्सा क्षेत्र में परचम लहरा चुका है तो वह चिकित्सक युग को जरूरी मानते हैं हालांकि अब हिंदुस्तान में भी योग काफी अहम हिस्सा रखने लगा है आयोग को काफी चिकित्सक अपनाने लगे हैं एम्स जैसे संस्थान भी युग की सलाह देते हैं धन्यवाद

yog chikitsa kyon yog chikitsa ka varnan kar rahe hain kyonki Hindustan mein koi bhi cheez hai bhale hi hamari ho humse der se pehchante hain aur videshi sab pehchaan chuki hain ki yog aaj kitna zaroori hai yog chikitsa kshetra mein parcham lahara chuka hai toh vaah chikitsak yug ko zaroori maante hain halanki ab Hindustan mein bhi yog kafi aham hissa rakhne laga hai aayog ko kafi chikitsak apnane lage hain aiims jaise sansthan bhi yug ki salah dete hain dhanyavad

योग चिकित्सा क्यों योग चिकित्सा का वर्णन कर रहे हैं क्योंकि हिंदुस्तान में कोई भी चीज है भ

Romanized Version
Likes  101  Dislikes    views  1837
WhatsApp_icon
user

Anil Ramola

Yoga Instructor | Engineer

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग का ग्रह प्राचीन इतिहास देखेंगे तो योग शिक्षा पद्धति के तौर पर कोई उपयोग में लिया गया है यूपी फतेहपुर खत्म करने की ट्यूब का जो पैसा कितना लगा है किस तरीके से स्त्री का उपयोग किया जाता है बहुत अच्छा सर बहुत अच्छा बिजनेस स्कूल में आया था जो इंडियन $10 की इंडस्ट्री है हमारी योका की तो उसने ही कितने अपार संभावनाएं है

yog ka grah prachin itihas dekhenge toh yog shiksha paddhatee ke taur par koi upyog mein liya gaya hai up fatehpur khatam karne ki tube ka jo paisa kitna laga hai kis tarike se stree ka upyog kiya jata hai bahut accha sir bahut accha business school mein aaya tha jo indian 10 ki industry hai hamari yoka ki toh usne hi kitne apaar sambhavnayen hai

योग का ग्रह प्राचीन इतिहास देखेंगे तो योग शिक्षा पद्धति के तौर पर कोई उपयोग में लिया गया ह

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  207
WhatsApp_icon
user

anand pandey

Yoga Trainer & YouTuber #Anand_R_Techno

5:14
Play

Likes  19  Dislikes    views  413
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!