राज योग, हठ योग और क्रिया योग में क्या अंतर है?...


user

kuldeep mod

Yoga Instructor

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे योग ग्रंथों में बताया गया है कि हठयोग और राजीव यह दोनों एक दूसरे के पूरक है मतलब पार्टियों के बिना राज्यों की और राज्यों के बिना हड्डियों की सिद्धि नहीं हो सकती राजयोग में 8 अंक आते हैं यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि यह सब राज्य योग योग का मतलब होता है बैलेंस सूर्य और चंद्र नाड़ी का बैलेंस तो हमारी जो सूर्य नाड़ी चंद्र नाड़ी होती है तो आप योगिक आसन और प्राणायाम द्वारा हम उन नाड़ी को सुषुम्ना मतलब दोनों को बैलेंस करके सूचना में प्राण को प्रवाह करते हैं और दोनों को बैलेंस करते हैं तो यह राजीव पहला तो यहीं से राज्यों की शुरुआत होती है यह हट योग इक्रिया से राज्यों की शुरुआत होती है और राज्य को पाने के लिए ऑडियो करना पड़ता है अब क्रिया क्योंकि अगर बात करें तो महर्षि पतंजलि ने प्रिया युग के तीन का बताएं तो ईश्वर का निदान का मतलब यहां होता है तो पास हो गए शरीर को कष्ट देना इंटरसिटी दीक्षा हो गई गर्मी सर्दी को सहन करना यह सब चीजें तब के अंतर्गत आती है दूसरा है स्वाध्याय स्वाध्याय में बस जा तेरे से किसी भी धर्म ग्रंथों को अध्ययन करना उपनिषद गीता आदि को पढ़ना उसका मंगल करना चिंतन करना और उसको अपने जीवन में उतारना गायत्री मंत्र का जप करना ओमकार का जप करना यह सब चीजें स्वाध्याय के अंतर्गत आती है तीसरा आता है ईश्वर का निदान निदान में आता है कि भगवान का जो गुण है जो भगवान के गुण हैं उनके जब कर्म है उनको अपने जीवन में उतारना और पूरी तल्लीनता से अपने आपको अपने हर कर्म को भगवान को समर्पित कर देना यही होता है क्रिया योग

hamare yog granthon me bataya gaya hai ki hathyog aur rajeev yah dono ek dusre ke purak hai matlab partiyon ke bina rajyo ki aur rajyo ke bina haddiyon ki siddhi nahi ho sakti rajyog me 8 ank aate hain yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi yah sab rajya yog yog ka matlab hota hai balance surya aur chandra naadi ka balance toh hamari jo surya naadi chandra naadi hoti hai toh aap yogic aasan aur pranayaam dwara hum un naadi ko sushumna matlab dono ko balance karke soochna me praan ko pravah karte hain aur dono ko balance karte hain toh yah rajeev pehla toh yahin se rajyo ki shuruat hoti hai yah hut yog ikriya se rajyo ki shuruat hoti hai aur rajya ko paane ke liye audio karna padta hai ab kriya kyonki agar baat kare toh maharshi patanjali ne priya yug ke teen ka bataye toh ishwar ka nidan ka matlab yahan hota hai toh paas ho gaye sharir ko kasht dena intercity diksha ho gayi garmi sardi ko sahan karna yah sab cheezen tab ke antargat aati hai doosra hai swaadhyaay swaadhyaay me bus ja tere se kisi bhi dharm granthon ko adhyayan karna upanishad geeta aadi ko padhna uska mangal karna chintan karna aur usko apne jeevan me utarana gayatri mantra ka jap karna omkar ka jap karna yah sab cheezen swaadhyaay ke antargat aati hai teesra aata hai ishwar ka nidan nidan me aata hai ki bhagwan ka jo gun hai jo bhagwan ke gun hain unke jab karm hai unko apne jeevan me utarana aur puri tallinata se apne aapko apne har karm ko bhagwan ko samarpit kar dena yahi hota hai kriya yog

हमारे योग ग्रंथों में बताया गया है कि हठयोग और राजीव यह दोनों एक दूसरे के पूरक है मतलब पार

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  179
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!