कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं?...


user

Ashish Lavania

Yoga Trainer

0:34
Play

Likes  444  Dislikes    views  5507
WhatsApp_icon
18 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
4:17
Play

Likes  281  Dislikes    views  3156
WhatsApp_icon
play
user

Narendar Gupta

प्राकृतिक योगाथैरिपिस्ट एवं योगा शिक्षक,फीजीयोथैरीपिस्ट

0:25

Likes  290  Dislikes    views  3082
WhatsApp_icon
user

inderjeet singh

Yoga Trainer

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अपनी बॉडी को बार में पकड़ा करके सोलह सिंगार के बॉडी उसके बाद में कपालभाति प्राणायाम कर ले उसके बाद में फिर अपने योगाभ्यास करें उसके बाद में बाकी प्राणायाम का लें नाड़ी शोधन हो गया भस्त्रिका हो गया भ्रामरी प्राणायाम हो गया शीतली प्राणायाम हो गया उज्जैन प्राणायाम हो गया तो यह कार ले उसके बाद में ध्यान जरूर करें

aap apni body ko baar me pakada karke solah shingar ke body uske baad me kapalbhati pranayaam kar le uske baad me phir apne yogabhayas kare uske baad me baki pranayaam ka le naadi sodhan ho gaya bhastrika ho gaya bhramari pranayaam ho gaya shitli pranayaam ho gaya ujjain pranayaam ho gaya toh yah car le uske baad me dhyan zaroor kare

आप अपनी बॉडी को बार में पकड़ा करके सोलह सिंगार के बॉडी उसके बाद में कपालभाति प्राणायाम कर

Romanized Version
Likes  114  Dislikes    views  1465
WhatsApp_icon
user

Shailesh Kumar Dubey

Yoga Teacher , Retired Government Employee

1:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं इसका उत्तर है कपालभाती कभी भी करेंगे तो आपको लाभ पहुंचाएगा कपालभाति प्राणायाम ऐसा प्राणायाम है कि कभी भी करेंगे योग सत्र की शुरुआत में करेंगे बाद में करेंगे बीच में करेंगे तभी लाभ होगा लेकिन प्राणायाम के क्रम में पहला प्राणायाम भस्त्रिका प्राणायाम रखा गया है भस्त्रिका प्राणायाम इसलिए रखा गया कि फेफड़ा वर्धन का कार्य करता है और कपालभाति प्राणायाम 3 से 4 मिनट में फोन करते हैं तो फेफड़े की प्रदूषित भाई बाहर निकल जाती है और वे भी शुद्ध बाद भर जाती है पूरा स्वसन क्रिया सुदृढ़ हो जाता है भस्त्रिका प्राणायाम करने के बाद दूसरे नंबर पर कपालभाति प्राणायाम किया जाता है जाति लाभदायक यही है वैसे यदि आप चाहें तो सत्र के प्रारंभ में भी कर सकते हैं करे योग रहे निरोग

prashna hai kapalbhati yog satra ki shuruat me kiya jana chahiye ya nahi iska uttar hai kapalbhati kabhi bhi karenge toh aapko labh pahuchaayega kapalbhati pranayaam aisa pranayaam hai ki kabhi bhi karenge yog satra ki shuruat me karenge baad me karenge beech me karenge tabhi labh hoga lekin pranayaam ke kram me pehla pranayaam bhastrika pranayaam rakha gaya hai bhastrika pranayaam isliye rakha gaya ki fefda vardhan ka karya karta hai aur kapalbhati pranayaam 3 se 4 minute me phone karte hain toh fefade ki pradushit bhai bahar nikal jaati hai aur ve bhi shudh baad bhar jaati hai pura svasan kriya sudridh ho jata hai bhastrika pranayaam karne ke baad dusre number par kapalbhati pranayaam kiya jata hai jati labhdayak yahi hai waise yadi aap chahain toh satra ke prarambh me bhi kar sakte hain kare yog rahe nirog

प्रश्न है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं इसका उत्तर है कपालभाती क

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  1526
WhatsApp_icon
user

loveena bhatt

Yoga Trainer,fashion Designer & social Worker

0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आप ने सवाल किया है कि कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं तो कपालभाती आप कभी भी कर सकते हैं इसमें कोई परेशानी नहीं है ऐसा नहीं है कि आपने योग कर लिया तो आप अभी कपालभाति नहीं कर सकते आप यदि शुरुआती फिर बाद में भी कपालभाति करना चाहते हैं तो पढ़ सकते हैं और योगासनों के बात करना चाहे आप भी कर सकते हैं इसमें कोई परेशानी नहीं है थैंक यू

namaskar aap ne sawaal kiya hai ki kapalbhati yog satra ki shuruat me kiya jana chahiye ya nahi toh kapalbhati aap kabhi bhi kar sakte hain isme koi pareshani nahi hai aisa nahi hai ki aapne yog kar liya toh aap abhi kapalbhati nahi kar sakte aap yadi shuruati phir baad me bhi kapalbhati karna chahte hain toh padh sakte hain aur yogasanon ke baat karna chahen aap bhi kar sakte hain isme koi pareshani nahi hai thank you

नमस्कार आप ने सवाल किया है कि कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं तो क

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  129
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:60
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह प्रश्न भी मेरे समक्ष दूसरी बार आ रहा है कि कपालभाति योग सत्र के शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं तो सबसे पहले तो यह है कि जब हम योग सत्र का आरंभ करते हैं तो जो इसका वैज्ञानिक दृष्टिकोण है तो यही है कि पहले हम सूक्ष्म व्यायाम और स्वास्थ्य नव्या शिथिलीकरण व्यायाम तत्पश्चात योगासन प्राणायाम ध्यान आदि करना चाहिए क्या करना चाहिए जो इसको योगासन के बाद ही करें तो बेहतर रहेगा और अगर ऐसा कुछ भी नहीं है अगर आपका शरीर इस कोयला करता है आपको कोई दिक्कत नहीं आती कपालभाती को पहले करके और बाद में योगासन करने में कर भी सकते हैं लेकिन मेरा मत यही है कि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से यही है कि पहले आप सूक्ष्म व्यायाम से अपनी करण व्यायाम योगासन प्राणायाम ध्यान दिया करें तो बेहतर रहेगा

yah prashna bhi mere samaksh dusri baar aa raha hai ki kapalbhati yog satra ke shuruat mein kiya jana chahiye ya nahi toh sabse pehle toh yah hai ki jab hum yog satra ka aarambh karte hain toh jo iska vaigyanik drishtikon hai toh yahi hai ki pehle hum sukshm vyayam aur swasthya navya shithilikaran vyayam tatpashchat yogasan pranayaam dhyan aadi karna chahiye kya karna chahiye jo isko yogasan ke baad hi kare toh behtar rahega aur agar aisa kuch bhi nahi hai agar aapka sharir is koyla karta hai aapko koi dikkat nahi aati kapalbhati ko pehle karke aur baad mein yogasan karne mein kar bhi sakte hain lekin mera mat yahi hai ki vaigyanik drishtikon se yahi hai ki pehle aap sukshm vyayam se apni karan vyayam yogasan pranayaam dhyan diya kare toh behtar rahega

यह प्रश्न भी मेरे समक्ष दूसरी बार आ रहा है कि कपालभाति योग सत्र के शुरुआत में किया जाना चा

Romanized Version
Likes  139  Dislikes    views  1981
WhatsApp_icon
user

Yogi Vinit

Yogi , Astrologer , Vastushastra Expert, Reiki Healing , Crystal Healing , Meditation Expert , Bach Flower Therapy Specialist

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपने बहुत सही सवाल पूछा है कपालभाति के बारे में कपालभाति कब करना चाहिए युग से पहले या बाद में तो योग्यने आप समझ रहे हो आसन आसन के बाद में आपको कपालभाति करना है क्योंकि कपालभाति में सबसे ज्यादा कम डायफ्राम पर होता है आपका टाइम जॉब कांटेक्ट होता है तब आप भी दिन करते हो और जब कॉन्फ्रेंस होता है तब विदाउट करते हो तो कहां डायफ्राम का बिल्डिंग और प्रिंट आउट करने के लिए जो कांट्रैक्ट रिलैक्सेशन ऑफ स्टेशन है वह ठीक करने के लिए हम पहले आसन करते हैं तो कौन से आसन करते हैं कैसे आसन करते हैं यह मेडिकल योग से टपके पंचवटी में मैं आपको सिखा दूंगा लेकिन सबसे पहले आपको डायग्राम अच्छा करने के लिए आपको आसन करना है और उसके बाद आपको आना कपालभाति करना है कपालभाति एक शुद्धि क्रिया है यह प्राणायाम नहीं है तो आप मुझसे जरूर संपर्क कर सकते हैं आप का डायग्राम कैसे अच्छे से बात करें उसके लिए मैं आपको आसान जरूर सिखा सकता हूं धन्यवाद आपका दिन शुभ रहे

namaskar aapne bahut sahi sawaal poocha hai kapalbhati ke bare mein kapalbhati kab karna chahiye yug se pehle ya baad mein toh yogyane aap samajh rahe ho aasan aasan ke baad mein aapko kapalbhati karna hai kyonki kapalbhati mein sabse zyada kam dayafram par hota hai aapka time job Contact hota hai tab aap bhi din karte ho aur jab conference hota hai tab without karte ho toh kahaan dayafram ka building aur print out karne ke liye jo kantraikt Relaxation of station hai vaah theek karne ke liye hum pehle aasan karte hain toh kaunsi aasan karte hain kaise aasan karte hain yah medical yog se tapke panchawati mein main aapko sikha dunga lekin sabse pehle aapko diagram accha karne ke liye aapko aasan karna hai aur uske baad aapko aana kapalbhati karna hai kapalbhati ek shudhi kriya hai yah pranayaam nahi hai toh aap mujhse zaroor sampark kar sakte hain aap ka diagram kaise acche se baat kare uske liye main aapko aasaan zaroor sikha sakta hoon dhanyavad aapka din shubha rahe

नमस्कार आपने बहुत सही सवाल पूछा है कपालभाति के बारे में कपालभाति कब करना चाहिए युग से पहले

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप का क्वेश्चन है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं तो आपको मैं बता देता हूं योग के लिए अपने आपको पहले तैयार कीजिए प्रथम आता है आपका ब्रह्म मुहूर्त में जागने का प्रयास करें जो कि जिसका पहर और टाइमिंग 3:00 से 4:00 का बीज है उस समय आप दैनिक क्रिया से निवृत होकर स्नान आदि करके एक कंबल दरिया जो का माइक पर बल आसन में बैठ जाए और पहले आप अनुलोम विलोम कर 15 से 20 मिनट अनुलोम विलोम करने के बाद थोड़ा रिलैक्स करें उसके बाद आपको ताड़ासन कीजिए 2462 से चार पांच बार यानी 5 मिनट तराशंकर शरीर को आकाश चित्र खींचे तदुपरांत थोड़ा रिलैक्स आराम करो 4 मिनट उसके बाद आप कपालभाति कर सकते हैं धन्यवाद

dekhiye aap ka question hai kapalbhati yog satra ki shuruat mein kiya jana chahiye ya nahi toh aapko main bata deta hoon yog ke liye apne aapko pehle taiyar kijiye pratham aata hai aapka Brahma muhurt mein jagne ka prayas kare jo ki jiska pahar aur timing 3 00 se 4 00 ka beej hai us samay aap dainik kriya se nivrit hokar snan aadi karke ek kambal dariya jo ka mike par bal aasan mein baith jaaye aur pehle aap anulom vilom kar 15 se 20 minute anulom vilom karne ke baad thoda relax kare uske baad aapko tadasan kijiye 2462 se char paanch baar yani 5 minute tarashankar sharir ko akash chitra khinche taduprant thoda relax aaram karo 4 minute uske baad aap kapalbhati kar sakte hain dhanyavad

देखिए आप का क्वेश्चन है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं तो आपको मै

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  1125
WhatsApp_icon
user

dipti choudhary

Yoga Trainer

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में की जानी चाहिए या नहीं तो प्राणायाम जब भी हम योग करते हैं तो अंत में किया जाता है जब हम आसनों की समाप्ति करते हैं पहले आसन करते हैं और उसके बाद का नाम करते हैं तो कपालभाति भी योग की स्टार्टिंग में नहीं करनी चाहिए आसन के बाद ही प्राणायाम करना चाहिए

sawaal hai kapalbhati yog satra ki shuruat me ki jani chahiye ya nahi toh pranayaam jab bhi hum yog karte hain toh ant me kiya jata hai jab hum aasanon ki samapti karte hain pehle aasan karte hain aur uske baad ka naam karte hain toh kapalbhati bhi yog ki starting me nahi karni chahiye aasan ke baad hi pranayaam karna chahiye

सवाल है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में की जानी चाहिए या नहीं तो प्राणायाम जब भी हम योग कर

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  910
WhatsApp_icon
user

Dhananjay Janardan Suryavanshi

Founder & Director - Yogeej Meditation

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कपालभाति के शुद्धिकरण किया है कोई आसन या प्राणायाम नहीं है जिससे अपने फेफड़ों की सिद्धि होती है तो अक्सीजन नेशन अच्छी तरह से होता है और पूरे बदन से कार्बन डॉक्टर शुरुआत में हम कपालभाति करके पूरे फेफड़ों को सिद्ध करके हम प्राणायाम कर सकते हैं

kapalbhati ke shuddhikaran kiya hai koi aasan ya pranayaam nahi hai jisse apne phephadon ki siddhi hoti hai toh aksijan nation achi tarah se hota hai aur poore badan se carbon doctor shuruat mein hum kapalbhati karke poore phephadon ko siddh karke hum pranayaam kar sakte hain

कपालभाति के शुद्धिकरण किया है कोई आसन या प्राणायाम नहीं है जिससे अपने फेफड़ों की सिद्धि हो

Romanized Version
Likes  59  Dislikes    views  1042
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में कभी भी नहीं करना चाहिए सबसे पहले योग में आसन करना चाहिए फिर प्राणायाम और फिर शवासन है इसी क्रम से हमें योग करना चाहिए

kapalbhati yog satra ki shuruat mein kabhi bhi nahi karna chahiye sabse pehle yog mein aasan karna chahiye phir pranayaam aur phir shavasan hai isi kram se hamein yog karna chahiye

कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में कभी भी नहीं करना चाहिए सबसे पहले योग में आसन करना चाहिए फि

Romanized Version
Likes  139  Dislikes    views  1733
WhatsApp_icon
user

Reena Arya

Yoga Instructor

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लो एमबी मानदेय शुभ दिन आयो कचनारा का क्वेश्चन कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं लेकिन सबसे पहले उसके बारे में जानने तो युग में 8 नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा कपालभाती को मिक्सोजन किया के रूप में रखा गया हट ग्रुप में लेकिन कपालभाति प्राणायाम इस्तेमाल किया जाता है सभी युवा टीम कपालभाति कराने जाते हैं वैसे यह किया है अगर आपको कपालभाति प्राणायाम करना सबसे पहले अपनी बेटी को सुधारी है बिल्डिंग जॉब वैकेंसी ठीक कीजिए और आप एक आसन बैठने शुरू करें जब आपको हासन में सिद्धि प्राप्त हो जाएगी तब शुक्रवार समय में आप किसी भी आसन में आराम से बैठने शुरू कर देंगे उसके बाद तू करना चाहिए तो सबसे पहले किसी एक आराम से बैठने के लिए प्राप्त कर लिए थैंक यू

lo MB manday shubha din aayo kachnara ka question kapalbhati yog satra ki shuruat mein kiya jana chahiye ya nahi lekin sabse pehle uske bare mein jaanne toh yug mein 8 niyam aasan pranayaam pratyahar dharana kapalbhati ko miksojan kiya ke roop mein rakha gaya hut group mein lekin kapalbhati pranayaam istemal kiya jata hai sabhi yuva team kapalbhati karane jaate hain waise yah kiya hai agar aapko kapalbhati pranayaam karna sabse pehle apni beti ko sudhari hai building job vacancy theek kijiye aur aap ek aasan baithne shuru kare jab aapko hasan mein siddhi prapt ho jayegi tab sukravaar samay mein aap kisi bhi aasan mein aaram se baithne shuru kar denge uske baad tu karna chahiye toh sabse pehle kisi ek aaram se baithne ke liye prapt kar liye thank you

लो एमबी मानदेय शुभ दिन आयो कचनारा का क्वेश्चन कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चा

Romanized Version
Likes  130  Dislikes    views  1576
WhatsApp_icon
play
user

Pankaj Sharma

Yoga Instructor

0:22

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले अगर योग स्टार्ट करते हैं तो प्राणायाम में सबसे पहले व्यक्ति का करें फिर इसके बाद आप कुछ समय के बाद आप कपाल भारती कर सकते हैं तो सबसे पहले आप दिखाई करें इसके बाद कालबाती कर सकते हैं

sabse pehle agar yog start karte hain toh pranayaam mein sabse pehle vyakti ka kare phir iske baad aap kuch samay ke baad aap kapal bharati kar sakte hain toh sabse pehle aap dikhai kare iske baad kalbati kar sakte hain

सबसे पहले अगर योग स्टार्ट करते हैं तो प्राणायाम में सबसे पहले व्यक्ति का करें फिर इसके बाद

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  947
WhatsApp_icon
user

Dr.Rajyogi

Yoga Trainer

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अकॉर्डिंग टू योर टाइम पिक्चर सन ऑफ कपालभाति का अभ्यास प्रारंभ अथवा ला दोनों में कर सकते हैं यह आवश्यक नहीं है कि आप कपालभाति को लास्ट में ही करें या प्रारंभ में करें यह आपके समय की स्थिति के अनुसार निर्भर करता है आप के रोग और शरीर की आवश्यकता के अनुसार आप कपालभाती को पहले या बाद में कर सकते हैं

according to your time picture san of kapalbhati ka abhyas prarambh athva la dono mein kar sakte hain yah aavashyak nahi hai ki aap kapalbhati ko last mein hi kare ya prarambh mein kare yah aapke samay ki sthiti ke anusaar nirbhar karta hai aap ke rog aur sharir ki avashyakta ke anusaar aap kapalbhati ko pehle ya baad mein kar sakte hain

अकॉर्डिंग टू योर टाइम पिक्चर सन ऑफ कपालभाति का अभ्यास प्रारंभ अथवा ला दोनों में कर सकते है

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user

Dr.Swatantra Sharma

Yoga Expert & Consultant

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग सत्र की शुरुआत हमेशा फिजिकल एक्सरसाइज से होती है योगाभ्यास में एक निश्चित कर्म होता है जिस पर हम पहले फिजिकल एक्सरसाइज करते हैं फिर फिजिकल और मेंटल अभ्यास करते हैं उसके बाद में फिजिकल मेंटल और प्राणी का अभ्यास होते हैं और फिर अंत में सुख शांति जागृति का काम होता है तो योगाभ्यास में आप सबसे पहले शारीरिक व्यायाम करें योग व्यायाम करें उसके बाद सूर्य नमस्कार इत्यादि का अभ्यास करें उसके बाद आसन का अभ्यास करें फिर उसके बाद कपालभाति की शुरुआत करते हुए अन्य प्राणायाम भी कर सकते हैं

yog satra ki shuruat hamesha physical exercise se hoti hai yogabhayas mein ek nishchit karm hota hai jis par hum pehle physical exercise karte hain phir physical aur mental abhyas karte hain uske baad mein physical mental aur prani ka abhyas hote hain aur phir ant mein sukh shanti jagriti ka kaam hota hai toh yogabhayas mein aap sabse pehle sharirik vyayam kare yog vyayam kare uske baad surya namaskar ityadi ka abhyas kare uske baad aasan ka abhyas kare phir uske baad kapalbhati ki shuruat karte hue anya pranayaam bhi kar sakte hain

योग सत्र की शुरुआत हमेशा फिजिकल एक्सरसाइज से होती है योगाभ्यास में एक निश्चित कर्म होता है

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1134
WhatsApp_icon
user

KunwarJi Sunil Singh Rajput

Yoga Expert & Yoga Therapist & Director- Amaya The Yogic Fitness (The Yoga Studio )

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिल्कुल कपालभाति को हम योग सत्र की शुरुआत में कर सकते हैं सर्दियों के दिनों में पहले थोड़ा सा योगा प्यार कर ले उसके बाद हम कपालभाति को कर सकते हैं गर्मियों के दिनों में पहले हम कपालभाति प्राणायाम कर ले बात अनुभव कर सकते हैं

bilkul kapalbhati ko hum yog satra ki shuruat mein kar sakte hain sardiyo ke dino mein pehle thoda sa yoga pyar kar le uske baad hum kapalbhati ko kar sakte hain garmiyo ke dino mein pehle hum kapalbhati pranayaam kar le baat anubhav kar sakte hain

बिल्कुल कपालभाति को हम योग सत्र की शुरुआत में कर सकते हैं सर्दियों के दिनों में पहले थोड़

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1144
WhatsApp_icon
user

Anshu Sarkar

Founder & Director, Sarkar Yog Academy

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं जाता योग्य दुनिया मेरा छत्तीसगढ़ का तजुर्बा है मैं इतना जानता हूं पहले योगासन किया जाता है उसके बाद क्या जाता है योग में यम नियम आसन प्राणायाम योगासन किया जाता है उसके बाद का यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि का जरूरत नहीं है मैं आपसे इतना जरूर कहूंगा कपालभाती पहले योग कीजिए आसन कीजिए उसके बाद कपालभाति कीजिए तभी जाकर आपका और आप से मेरा एक अनुरोध कपालभाति आप बहुत ज्यादा ना करें ताकि आपको आने वाला दिन में दिक्कत हो यह जरूर ध्यान रखें कि मरुभूमि डिजर्ट में आदमी बिना पानी पीकर पानी के अभाव से मर जाता है वही आदमी नदी में डूब के अधिक पानी पीकर ही मरता है इसलिए आपके लिए कपालभाति कितना जरूरी है किसी का देखरेख में कोई करेंगे कपालभाति प्रणाम कीजिए जैसे हम आपको अपना ध्यान रखिएगा बस इतना कहेंगे जो घटनाएं रोग भगाए योग अपना मोटापा घटाएं भी दबा के दिन विदाउट मेडिसिन जो करे योग करीब ना हो धन्यवाद

aapka sawaal hai kapalbhati yog satra ki shuruat mein kiya jana chahiye ya nahi jata yogya duniya mera chattisgarh ka tajurba hai itna jaanta hoon pehle yogasan kiya jata hai uske baad kya jata hai yog mein yum niyam aasan pranayaam yogasan kiya jata hai uske baad ka yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi ka zarurat nahi hai aapse itna zaroor kahunga kapalbhati pehle yog kijiye aasan kijiye uske baad kapalbhati kijiye tabhi jaakar aapka aur aap se mera ek anurodh kapalbhati aap bahut zyada na kare taki aapko aane vala din mein dikkat ho yah zaroor dhyan rakhen ki marubhoomi dijart mein aadmi bina paani peekar paani ke abhaav se mar jata hai wahi aadmi nadi mein doob ke adhik paani peekar hi marta hai isliye aapke liye kapalbhati kitna zaroori hai kisi ka dekhrekh mein koi karenge kapalbhati pranam kijiye jaise hum aapko apna dhyan rakhiega bus itna kahenge jo ghatnaye rog bhagaye yog apna motapa ghataye bhi daba ke din without medicine jo kare yog kareeb na ho dhanyavad

आपका सवाल है कपालभाति योग सत्र की शुरुआत में किया जाना चाहिए या नहीं जाता योग्य दुनिया मेर

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1055
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!