क्या अधिक लचीलेपन से चोट लगने का अधिक खतरा होता है?...


user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अधिक लचीलापन से चोट लगने का कोई खतरा नहीं है अगर आप हर चीज सावधानीपूर्वक करते हैं तो सावधानीपूर्वक ना करने पर तो कुछ भी हो सकता है

adhik lachilapan se chot lagne ka koi khatra nahi hai agar aap har cheez savadhanipurvak karte hain toh savadhanipurvak na karne par toh kuch bhi ho sakta hai

अधिक लचीलापन से चोट लगने का कोई खतरा नहीं है अगर आप हर चीज सावधानीपूर्वक करते हैं तो सावधा

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  2170
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने की अधिक खतरा रहता है जी नहीं यदि आपकी शरीर लचीला है तो चोट लगने का खतरा अधिक नहीं रहता है बल्कि कम होता है और अगर शरीर को लचीलापन कब बना रहे हैं शरीर में लचीलापन लाने के लिए योगाभ्यास कर रहे हैं सच कर रहे हैं तो आप अच्छे गुरु के निर्देशन में कभी कोई तकलीफ नहीं होगी धन्यवाद

aapka prashna hai kya adhik lachilapan se chot lagne ki adhik khatra rehta hai ji nahi yadi aapki sharir lachila hai toh chot lagne ka khatra adhik nahi rehta hai balki kam hota hai aur agar sharir ko lachilapan kab bana rahe hain sharir mein lachilapan lane ke liye yogabhayas kar rahe hain sach kar rahe hain toh aap acche guru ke nirdeshan mein kabhi koi takleef nahi hogi dhanyavad

आपका प्रश्न है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने की अधिक खतरा रहता है जी नहीं यदि आपकी शरीर लच

Romanized Version
Likes  146  Dislikes    views  2048
WhatsApp_icon
play
user

Reena kumari

Yoga Instructor

0:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो अभी बनाएंगे जब आप गिरेंगे पड़ेंगे तो आप

hello abhi banayenge jab aap girenge padenge toh aap

हेलो अभी बनाएंगे जब आप गिरेंगे पड़ेंगे तो आप

Romanized Version
Likes  132  Dislikes    views  1143
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

0:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका क्वेश्चन है क्या अधिक अकेलेपन से चोट लगने अधिक खतरा होता है ऐसा कुछ भी नहीं है कि बहुत ज्यादा श्रेया घोषाल अकेला हो तो चोट लगने का खतरा बढ़ जाता है इस भ्रम से आपको बिल्कुल भी निकले इसे भमसा बिल्कुल बाहर आए ऐसा कुछ भी नहीं है कि आपका शरीर आकाश काफी लचीला है तो आपको चोट लगने की संभावना और खतरा होता है कि आप बिल्कुल 2:00 बजे मेरी सलाह है कि ऐसा कुछ भी नहीं है मैंने

aapka question hai kya adhik akelepan se chot lagne adhik khatra hota hai aisa kuch bhi nahi hai ki bahut zyada shreya ghoshal akela ho toh chot lagne ka khatra badh jata hai is bharam se aapko bilkul bhi nikle ise bhamasa bilkul bahar aaye aisa kuch bhi nahi hai ki aapka sharir akash kaafi lachila hai toh aapko chot lagne ki sambhavna aur khatra hota hai ki aap bilkul 2 00 baje meri salah hai ki aisa kuch bhi nahi hai maine

आपका क्वेश्चन है क्या अधिक अकेलेपन से चोट लगने अधिक खतरा होता है ऐसा कुछ भी नहीं है कि बहु

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  1055
WhatsApp_icon
user

Dharminder Kumar

Yoga Trainer

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका परिचय है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का अधिक खतरा होता है यह नहीं आपने जो लिखा है इस प्रकार नहीं होता जितना शरीर लचीला होगा आप उतना ही सेव रहोगे आप हर चोट लगने से बच सकते हो आपके सिर में जितनी लचकता होगी आपको कम से कम चोट लगेगी आप गिरते-गिरते भी संभल जाओगे अगर आपका शरीर में कठोरता होगी तो आप को संभालना मुश्किल हो जाएगा और चोट से बचना भी आपने देखा होगा कि छोटे बच्चे कई बार गिरते हैं और थोड़ी देर बाद उसी प्रकार नॉर्मल खड़े हो जाते हैं उनमें लचकता ज्यादा होती है और चोट कम लगती है कई बार बच्चे से भी गिरते हैं लेकिन उनको कुछ नहीं होता इसी प्रकार नशीले आदमी को चोट कम लगती है और कठोर शरीर वाले को हड्डी टूटने का ज्यादा खतरा रहता है धन्यवाद

namaskar aapka parichay hai kya adhik lachilapan se chot lagne ka adhik khatra hota hai yah nahi aapne jo likha hai is prakar nahi hota jitna sharir lachila hoga aap utana hi save rahoge aap har chot lagne se bach sakte ho aapke sir mein jitni lachkata hogi aapko kam se kam chot lagegi aap girte girte bhi sambhal jaoge agar aapka sharir mein kathorata hogi toh aap ko sambhaalna mushkil ho jaega aur chot se bachna bhi aapne dekha hoga ki chote bacche kai baar girte hain aur thodi der baad usi prakar normal khade ho jaate hain unmen lachkata zyada hoti hai aur chot kam lagti hai kai baar bacche se bhi girte hain lekin unko kuch nahi hota isi prakar nasheele aadmi ko chot kam lagti hai aur kathor sharir waale ko haddi tutne ka zyada khatra rehta hai dhanyavad

नमस्कार आपका परिचय है क्या अधिक लचीलापन से चोट लगने का अधिक खतरा होता है यह नहीं आपने जो ल

Romanized Version
Likes  198  Dislikes    views  1980
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
gap foundation ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!