क्या मुझे योग का अभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए? मुझे किस तरह के खाद्य पदार्थ खाने चाहिए?...


user

Sapna

Social Worker

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या मुझे योगाभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खाद पदार्थ खाने चाहिए तो आपके प्रश्न के अनुसार रूप में आपको बताना चाहूंगी यदि आप योग का अभ्यास कर रहे हैं तो आपको शाकाहारी भोजन ही करना चाहिए हमें तो यह कहूं कि चाहे आप योग का अभ्यास करें या ना करें लेकिन आपको अपनी जिंदगी में हमेशा शाकाहारी भोजन ही करना चाहिए क्योंकि जो शाकाहारी भोजन है वह हमारे शरीर को शक्ति देता है शाखा भी शाकाहारी भोजन करते करते हमारे शरीर को शक्ति मिलती है मिलती रहती है जब तक हम शाकाहार भोजन लेते रहेंगे तब तक हमारे शरीर में शक्ति बनी रहे और जो मांसाहार होता है उससे हमारे शरीर का जो आकार है वह बहुत शक्तिशाली दिखाई देता है मगर शरीर में शक्ति नहीं होती हूं उस शरीर की शक्ति पल-पल चीज होती है और जो लोग मांसाहार करते हैं और जिस समय उनका समय होता है संसार से जाने के लिए ऐसे मनुष्य की मौत बड़ी तकलीफ होती है और ऐसे मनुष्यों में अंत समय में कीड़े भी तक पड़ जाते हैं और वो किस लिए पड़ती हूं क्योंकि अंत समय में बुक कीड़े उनका मांस खाकर उन्हें एहसास दिलाते हैं कि तुमने जो किया था उसको मैं दिखा रहा हूं कि यह परिणाम तुम्हें आगे मिलने वाला है इसीलिए मैं तो यही सलाह दूंगी कि मन सीजनल एक बार मिलता है हमारे कुछ पूर्व जन्म के अच्छे कर्म थे जो हमें इंसान का जन्म पाया है और जो हमें इंसान का जन्म मिला है हम ईश्वर की संतान हैं हमें ईश्वर के गुण और कर्मों के अनुसार संसार में आकर कर्म करना चाहिए उनके गुणों को अपनाना चाहिए भगवान शाकाहारी भोजन करते थे भगवान क्या खाते थे उनकी उनको जानी है वैसे ही भोजन आप भी करिए भगवान सात्विक भोजन करते थे मेरे कहने का मतलब है भगवान सादा भोजन करते थे सात्विक भोजन करते थे और सात्विक भोजन क्या होता है दाल चावल सूखी सब्जी और रोटी और आप शराब खा सकते हैं थोड़ी कच्ची सी सब्जियां भी खा सकते इसमें फल खा सकते हैं जूस पी सकते हैं दूध पी सकते हैं ऐसी चीजों के साथ यदि आप योग करते हैं तो आप शिव योग का अभ्यास कर रहे हो मैं आप सफल होंगे वह आपका शरीर शक्तिशाली बनेगा अगर आपको मेरी धीमी सलाह अच्छी लगी हो तो मुझे कमेंट में जरूर बताएं सपना शर्मा

aapka prashna hai kya mujhe yogabhayas karne ke liye shakahari hona chahiye mujhe kis tarah ke khad padarth khane chahiye toh aapke prashna ke anusaar roop me aapko batana chahungi yadi aap yog ka abhyas kar rahe hain toh aapko shakahari bhojan hi karna chahiye hamein toh yah kahun ki chahen aap yog ka abhyas kare ya na kare lekin aapko apni zindagi me hamesha shakahari bhojan hi karna chahiye kyonki jo shakahari bhojan hai vaah hamare sharir ko shakti deta hai shakha bhi shakahari bhojan karte karte hamare sharir ko shakti milti hai milti rehti hai jab tak hum shaakaahaar bhojan lete rahenge tab tak hamare sharir me shakti bani rahe aur jo mansahaari hota hai usse hamare sharir ka jo aakaar hai vaah bahut shaktishali dikhai deta hai magar sharir me shakti nahi hoti hoon us sharir ki shakti pal pal cheez hoti hai aur jo log mansahaari karte hain aur jis samay unka samay hota hai sansar se jaane ke liye aise manushya ki maut badi takleef hoti hai aur aise manushyo me ant samay me keedein bhi tak pad jaate hain aur vo kis liye padti hoon kyonki ant samay me book keedein unka maas khakar unhe ehsaas dilate hain ki tumne jo kiya tha usko main dikha raha hoon ki yah parinam tumhe aage milne vala hai isliye main toh yahi salah dungi ki man seasonal ek baar milta hai hamare kuch purv janam ke acche karm the jo hamein insaan ka janam paya hai aur jo hamein insaan ka janam mila hai hum ishwar ki santan hain hamein ishwar ke gun aur karmon ke anusaar sansar me aakar karm karna chahiye unke gunon ko apnana chahiye bhagwan shakahari bhojan karte the bhagwan kya khate the unki unko jani hai waise hi bhojan aap bhi kariye bhagwan Satvik bhojan karte the mere kehne ka matlab hai bhagwan saada bhojan karte the Satvik bhojan karte the aur Satvik bhojan kya hota hai daal chawal sukhi sabzi aur roti aur aap sharab kha sakte hain thodi kachhi si sabjiyan bhi kha sakte isme fal kha sakte hain juice p sakte hain doodh p sakte hain aisi chijon ke saath yadi aap yog karte hain toh aap shiv yog ka abhyas kar rahe ho main aap safal honge vaah aapka sharir shaktishali banega agar aapko meri dheemi salah achi lagi ho toh mujhe comment me zaroor bataye sapna sharma

आपका प्रश्न है क्या मुझे योगाभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खाद पदा

Romanized Version
Likes  90  Dislikes    views  1844
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

0:31

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या मुझे योगा करने के लिए शिकारी होना चाहिए जी हां होना चाहिए मुझे इस तरह के खाते पर खाने चाहिए आपको हेल्दीवेज फल खाने चाहिए ठीक है तो वह सादा खाना बंद रहता है खाओगे

kya mujhe yoga karne ke liye shikaaree hona chahiye ji haan hona chahiye mujhe is tarah ke khate par khane chahiye aapko heldivej fal khane chahiye theek hai toh vaah saada khana band rehta hai khaoge

क्या मुझे योगा करने के लिए शिकारी होना चाहिए जी हां होना चाहिए मुझे इस तरह के खाते पर खाने

Romanized Version
Likes  378  Dislikes    views  4730
WhatsApp_icon
user

꧁༺Dℛ.LATA PATHAK༻꧂

Founder & Director - Real Lifetime Yoga Foundation

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यहां पर कृष्ण है योग का अभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खाद्य पदार्थ खाने चाहिए नहीं चलाइए है दोस्तों कि शाकाहारी भोजन को पचाने के लिए हमारे शरीर को कम से कम ऊर्जा लगती है इसीलिए मैं शाकाहारी भोजन पसंद करती हूं और मैं शाकाहारी भोजन इसलिए भी पसंद करती हूं कि इससे हमारे शरीर को सकारात्मक ऊर्जा मिलती है क्योंकि हमारे शरीर के अंदर में भरपूर मात्रा में ऊर्जा बचती है अन्य कार्य को करने के लिए जैसे खाएंगे वैसे ही हमारे मन की कार्य करने की क्षमता भी होती है जैसे रहेगा अन्न वैसा होगा मन ऐसे ही जब मांसाहारी भोजन खाते हैं तो उस भोजन को पचाने के लिए हमारे शरीर को दुगरी नहीं चौगुनी ऊर्जा चाय करनी होती है तो दोस्तों यदि हम अपनी उर्जा बचा सकते हैं और इसे हम दूसरा कार्य करवा सकते हैं तो हम क्यों ना एक छोटा सा प्रयास करें शाकाहारी भोजन की तरफ रुख कर बुरा कुछ भी नहीं है दोस्तों लेकिन आपके शरीर के अंदर उस भोजन को पचाने की क्षमता होनी चाहिए और आज के दौर में कोई भी इतनी मेहनत नहीं करता कि वह शाकाहारी भोजन की जगह मांसाहारी भोजन को 4 घंटे में पचाने इसलिए दोस्तों शाकाहारी भोजन सर्वोत्तम है स्वास्थ्य की दृष्टि से यदि आप टेट की दृष्टि से देखना चाहे तो आप मांसाहारी भोजन भी कर सकते हैं नहीं कोशिश करें कि आप सुबह और दोपहर के टाइम पर खाएं ताकि इसका पाचन अच्छे से हो जाए जब भी आप मांसाहारी भोजन करते हैं तो आप पपीते का सेवन जरूर करें ताकि पपीते में जो पेपर होता है मांसाहारी भोजन को पचाने में बहुत कारगर सिद्ध होता है तो कोशिश कीजिए कि आप मांसाहारी भोजन जब भी करें तो पपीता जरूर खाने कुछ भी खाइए दोस्तों पचाने की क्षमता रहती है योगी जी स्वस्थ रहिए स्वस्थ रखें थैंक यू सो मच

yahan par krishna hai yog ka abhyas karne ke liye shakahari hona chahiye mujhe kis tarah ke khadya padarth khane chahiye nahi chalaiye hai doston ki shakahari bhojan ko pachane ke liye hamare sharir ko kam se kam urja lagti hai isliye main shakahari bhojan pasand karti hoon aur main shakahari bhojan isliye bhi pasand karti hoon ki isse hamare sharir ko sakaratmak urja milti hai kyonki hamare sharir ke andar mein bharpur matra mein urja bachati hai anya karya ko karne ke liye jaise khayenge waise hi hamare man ki karya karne ki kshamta bhi hoti hai jaise rahega ann waisa hoga man aise hi jab masahari bhojan khate hain toh us bhojan ko pachane ke liye hamare sharir ko dugri nahi chauguni urja chai karni hoti hai toh doston yadi hum apni urja bacha sakte hain aur ise hum doosra karya karva sakte hain toh hum kyon na ek chota sa prayas kare shakahari bhojan ki taraf rukh kar bura kuch bhi nahi hai doston lekin aapke sharir ke andar us bhojan ko pachane ki kshamta honi chahiye aur aaj ke daur mein koi bhi itni mehnat nahi karta ki vaah shakahari bhojan ki jagah masahari bhojan ko 4 ghante mein pachane isliye doston shakahari bhojan sarvottam hai swasthya ki drishti se yadi aap tet ki drishti se dekhna chahen toh aap masahari bhojan bhi kar sakte hain nahi koshish kare ki aap subah aur dopahar ke time par khayen taki iska pachan acche se ho jaaye jab bhi aap masahari bhojan karte hain toh aap papite ka seven zaroor kare taki papite mein jo paper hota hai masahari bhojan ko pachane mein bahut kargar siddh hota hai toh koshish kijiye ki aap masahari bhojan jab bhi kare toh papita zaroor khane kuch bhi khaiye doston pachane ki kshamta rehti hai yogi ji swasthya rahiye swasthya rakhen thank you so match

यहां पर कृष्ण है योग का अभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खाद्य पदार्

Romanized Version
Likes  128  Dislikes    views  1566
WhatsApp_icon
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या शाकाहारी योगाभ्यास के लिए सहकारी होना आवश्यक है और किस तरह के पदार्थ का खाने चाहिए बहुत अच्छा प्रश्न ऐसा कुछ नहीं है कि योग करने के लिए आपको साकारी होना चाहिए लेकिन मेरी अपनी सलाह है कि अगर आप योगाभ्यास ना भी करते हो तो भी साकार ही रहे तो अच्छा है और गरिष्ठ भोजन से बचें योगाभ्यास के दौरान पहले बने पदार्थों से बचने इंटरबंद फास्ट फूड से बचें और इनसे हमेशा ही बचे रहें तो बेहतर है धन्यवाद

kya shakahari yogabhayas ke liye sahkari hona aavashyak hai aur kis tarah ke padarth ka khane chahiye bahut accha prashna aisa kuch nahi hai ki yog karne ke liye aapko sakari hona chahiye lekin meri apni salah hai ki agar aap yogabhayas na bhi karte ho toh bhi saakar hi rahe toh accha hai aur garishth bhojan se bache yogabhayas ke dauran pehle bane padarthon se bachne intaraband fast food se bache aur inse hamesha hi bache rahein toh behtar hai dhanyavad

क्या शाकाहारी योगाभ्यास के लिए सहकारी होना आवश्यक है और किस तरह के पदार्थ का खाने चाहिए बह

Romanized Version
Likes  167  Dislikes    views  2087
WhatsApp_icon
user

Awanish Kumar

Yoga Instructor

3:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दी कि यदि जिस गंगोत्री प्रयोग निकली है योगी गंगा निकली है जिस गंगोत्री से जहां योग निकला है तो वहां पर उन्हें कई साल शासन बताए थे उसमें से महर्षि पतंजलि की बात करें तुम ने अहिंसा पर जोर दिया है वहीं पर यदि हर्ट्स प्रदीप का की बात करें तो और अच्छे भोजन के बारे में बताया है और उसमें मांसाहार कोहली से बाहर माना है मतलब कि वह आपके योग के अभ्यास में वह अवरुद्ध के रूप में हो सकता है पर यदि सामान्य रूप में देखा जाए नॉर्मल अभ्यास के रूप में देखा जाए तो यदि आप एकदम से एडिक्टेड है मांसाहार के लिए शाकाहार के साथ आप मांसाहार के लिए भी कोई उस गहराई से जुड़े हुए हैं अचानक थोड़ा भी सही नहीं होता है नहीं तो फिर और इंटेंसिटी बढ़ जाती है तो बेहतर है कि आप जैसे जिस रूप में है आप अभ्यास अपना करते रहे और वीरान हो रहे कुछ लोगों के साथ में जिन्हें खुद बोला कि सर करते-करते मुझे विरक्ति सी हो गई है नॉनवेज खाने के लिए मतलब पहले दो-तीन महीने मैंने बोला कि सर यदि हम पहले सप्ताह में एक बार खाते थे तब महीना दो महीना में एक आद बार खाते हैं तो वह खुद भी तरसे उसके प्रति विराग एक व्यक्ति पैदा होने दीजिए और दूसरी चीज आपको छोटी सी घटना बताया स्वामी विवेकानंद का की एक बार वह रामकृष्ण परमहंस के पास में थे तो वह नॉनवेज खा कर के आए और एक प्रयोगशाला के रूप में अपने आप को करते थे और ने बोला कि मैं तो आज से ऐसा कुछ किया हूं मुझे कोई असर नहीं पड़ा है हमारे ध्यान पर हमारी कायरता भाइयों को बता रहे थे इस चीज को जब रामकृष्ण लगाई थी मतलब जिस में जो जाए जल जाता है खाक हो जाता है पर मैंने बोला कि नरेंद्र यह सिर्फ तेरे लिए लागू होता है क्योंकि तू आज की भर्ती है और जो बाकी जो तेरे गुरु भाई हैं उनकी चेतना बहुत ही उतनी जापक नहीं है और वह इस को नहीं पचा पाएंगे पचा पाएंगे मतलब शायरी तौर पर नहीं उसके सूक्ष्म प्रभाव को झेल नहीं पाएंगे उनकी कायरता भंग हो जाएगी उनकी ध्यान से विकास व्यवस्था सकता हमारे पास दूसरों पर नहीं आ पाती है हड्डी से आप दांत से मांस नोच रहे हैं जिसमें उसको काटा गया होगा तू दिल मिलाया तड़पा होगा जानवर मुरली भी उचित नहीं रहता है अब कुछ नहीं बोलते हैं की बात करें तो वह होती है तो फिर अनाज में भी तो पौधों में भी तो प्राण होता है लेकिन यहां पर उन लोगों को जवाब देना चाहूंगा कि बेशक पौधों में प्राण होता है पर हम लोग पौधे कौन सा हिस्सा उपयोग करते हैं वह हिस्सा जो मैच चुका है जो परिपक्व हो चुका है दूसरा यूज ना करें तो जाएगा इसलिए उसका उपयोग किया जाता है तो और आरंभिक अवस्था में तो आपको वैसे खाद पदार्थ लेने चाहिए जिसको पचाने में शरीर को मेहनत नहीं करनी पड़े क्योंकि जब जब आप अभ्यास धीरे-धीरे बहाना शुरू करते हैं तो आपके जो पाचन तंत्र है उसके अंदर एक नाजुक होने लगते हैं आरंभिक अवस्था में तो बेहतर होती सुपाच्य भोजन ले

di ki yadi jis gangotri prayog nikli hai yogi ganga nikli hai jis gangotri se jaha yog nikala hai toh wahan par unhe kai saal shasan bataye the usme se maharshi patanjali ki baat kare tum ne ahinsa par jor diya hai wahi par yadi hurts pradeep ka ki baat kare toh aur acche bhojan ke bare mein bataya hai aur usme mansahaari kohli se bahar mana hai matlab ki vaah aapke yog ke abhyas mein vaah avaruddh ke roop mein ho sakta hai par yadi samanya roop mein dekha jaaye normal abhyas ke roop mein dekha jaaye toh yadi aap ekdam se edikted hai mansahaari ke liye shaakaahaar ke saath aap mansahaari ke liye bhi koi us gehrai se jude hue hai achanak thoda bhi sahi nahi hota hai nahi toh phir aur intention badh jaati hai toh behtar hai ki aap jaise jis roop mein hai aap abhyas apna karte rahe aur viraan ho rahe kuch logo ke saath mein jinhen khud bola ki sir karte karte mujhe virakti si ho gayi hai nonveg khane ke liye matlab pehle do teen mahine maine bola ki sir yadi hum pehle saptah mein ek baar khate the tab mahina do mahina mein ek ad baar khate hai toh vaah khud bhi tarse uske prati virag ek vyakti paida hone dijiye aur dusri cheez aapko choti si ghatna bataya swami vivekananda ka ki ek baar vaah ramakrishna paramhans ke paas mein the toh vaah nonveg kha kar ke aaye aur ek prayogshala ke roop mein apne aap ko karte the aur ne bola ki main toh aaj se aisa kuch kiya hoon mujhe koi asar nahi pada hai hamare dhyan par hamari kayarata bhaiyo ko bata rahe the is cheez ko jab ramakrishna lagayi thi matlab jis mein jo jaaye jal jata hai khak ho jata hai par maine bola ki narendra yah sirf tere liye laagu hota hai kyonki tu aaj ki bharti hai aur jo baki jo tere guru bhai hai unki chetna bahut hi utani japak nahi hai aur vaah is ko nahi pacha payenge pacha payenge matlab shaayari taur par nahi uske sukshm prabhav ko jhel nahi payenge unki kayarata bhang ho jayegi unki dhyan se vikas vyavastha sakta hamare paas dusro par nahi aa pati hai haddi se aap dant se maas notch rahe hai jisme usko kaata gaya hoga tu dil milaya tadapa hoga janwar murli bhi uchit nahi rehta hai ab kuch nahi bolte hai ki baat kare toh vaah hoti hai toh phir anaaj mein bhi toh paudho mein bhi toh praan hota hai lekin yahan par un logo ko jawab dena chahunga ki beshak paudho mein praan hota hai par hum log paudhe kaun sa hissa upyog karte hai vaah hissa jo match chuka hai jo paripakva ho chuka hai doosra use na kare toh jaega isliye uska upyog kiya jata hai toh aur aarambhik avastha mein toh aapko waise khad padarth lene chahiye jisko pachane mein sharir ko mehnat nahi karni pade kyonki jab jab aap abhyas dhire dhire bahana shuru karte hai toh aapke jo pachan tantra hai uske andar ek naajuk hone lagte hai aarambhik avastha mein toh behtar hoti supachya bhojan le

दी कि यदि जिस गंगोत्री प्रयोग निकली है योगी गंगा निकली है जिस गंगोत्री से जहां योग निकला ह

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  386
WhatsApp_icon
user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसके जवाब में मैं एक बात कहना चाहूंगी जो बहुत पुरानी कहावत है कि जैसा खाओगे अन्न वैसा हो जाएगा मन तो शाकाहारी होना ना होना या आपकी अपनी सोच है पर मैंने यह प्रैक्टिकल ही देखा है कि जो लोग लगातार कई महीनों तक योग करते हैं जिसमें आसन प्राणायाम रिलैक्सेशन मेडिटेशन रेगुलेटर के साथ करते हैं उनको बोलने की जरूरत नहीं होती है वह अपने आप ही शाकारी हो जाते हैं क्योंकि लोग जो है आपको प्रकृति की तरफ लेकर जाता है तो अपने आप ही मन की स्थिति वह हो जाती है कि आप मांसाहारी खाना पसंद ही नहीं करेंगे

iske jawab mein main ek baat kehna chahungi jo bahut purani kahaavat hai ki jaisa khaoge ann waisa ho jaega man toh shakahari hona na hona ya aapki apni soch hai par maine yah practical hi dekha hai ki jo log lagatar kai mahinon tak yog karte hain jisme aasan pranayaam Relaxation meditation regulator ke saath karte hain unko bolne ki zarurat nahi hoti hai vaah apne aap hi shakari ho jaate hain kyonki log jo hai aapko prakriti ki taraf lekar jata hai toh apne aap hi man ki sthiti vaah ho jaati hai ki aap masahari khana pasand hi nahi karenge

इसके जवाब में मैं एक बात कहना चाहूंगी जो बहुत पुरानी कहावत है कि जैसा खाओगे अन्न वैसा हो ज

Romanized Version
Likes  163  Dislikes    views  2032
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

1:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि आप मुझे योग का अभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खाद्य पदार्थ खाने चाहिए देखी मैं तो बिल्कुल कहूंगा कि योगाभ्यास अगर आप अपना रहे हैं या आपको वैसे भी जानना चाहिए कि हमारे शरीर के लिए मांसाहार बहुत अधिक नुकसान दायक है आज काफी रिसर्च हुई है काफी वैज्ञानिकों काफी रिसर्च का कहना है कि हमारा शरीर मांसाहार के लिए नहीं बना है इस मनुष्य शरीर के लिए सिर्फ और सिर्फ शाकाहारी ही अति उत्तम है अगर हम योग शास्त्रों की बात करें तो योग शास्त्र में भी भोजन को 3 वर्गों में बांटा गया है गीता में लिखा हुआ है कि हमारे शरीर के लिए सात्विक भोजन महत्वपूर्ण है जो हमारे शरीर मन बुद्धि को निर्मल बनाता है और सारी पौष्टिकता हमें सात्विक भोजन से ही मिलती है जो भी मांस मच्छी आते हैं वह आपके तामसिक भोजन के अंतर्गत आते हैं तो हमें रास्ते कोर्ट मानसिक भोजन दोनों को अवॉइड करना है नहीं लेना है और सिर्फ और सिर्फ सात्विक भोजन को अपनी दिनचर्या में शामिल करना है सात्विक भोजन ही आपके शरीर मन बुद्धि के लिए अच्छा भी है पौष्टिक भी है और आपके फायदेमंद भी है और आज काफी रिसर्च होने के बाद वैज्ञानिकों ने भी कहा है कि बहुत से लोग सिर्फ और सिर्फ मांसाहार के कारण है मेरे पास ही बहुत से ऐसे रोगी आते हैं आजकल यूरिक एसिड एक आम समस्या है हम जानते हैं और यूरिक एसिड का बहुत बड़ा कारण मीट है तो मैं एग्जाम लोग जो मीट खाते हैं उनको यूरिक एसिड की आज समस्या होनी ही हूं इसलिए कोशिश करिए कि अगर आप योग की फील्ड में आ रहे हैं योग के क्षेत्र में आ रहे हैं अपने जीवन में योग को शामिल कर रहे हैं तो आप अपनी दिनचर्या में शाकाहार को ही शामिल करिए शाकाहार व्यंजन ही लिखिए हरि ओम

aapka prashna hai ki aap mujhe yog ka abhyas karne ke liye shakahari hona chahiye mujhe kis tarah ke khadya padarth khane chahiye dekhi main toh bilkul kahunga ki yogabhayas agar aap apna rahe hai ya aapko waise bhi janana chahiye ki hamare sharir ke liye mansahaari bahut adhik nuksan dayak hai aaj kaafi research hui hai kaafi vaigyaniko kaafi research ka kehna hai ki hamara sharir mansahaari ke liye nahi bana hai is manushya sharir ke liye sirf aur sirf shakahari hi ati uttam hai agar hum yog shastron ki baat kare toh yog shastra mein bhi bhojan ko 3 vargon mein baata gaya hai geeta mein likha hua hai ki hamare sharir ke liye Satvik bhojan mahatvapurna hai jo hamare sharir man buddhi ko nirmal banata hai aur saree paushtikata hamein Satvik bhojan se hi milti hai jo bhi maas macchi aate hai vaah aapke tamasik bhojan ke antargat aate hai toh hamein raste court mansik bhojan dono ko avoid karna hai nahi lena hai aur sirf aur sirf Satvik bhojan ko apni dincharya mein shaamil karna hai Satvik bhojan hi aapke sharir man buddhi ke liye accha bhi hai paushtik bhi hai aur aapke faydemand bhi hai aur aaj kaafi research hone ke baad vaigyaniko ne bhi kaha hai ki bahut se log sirf aur sirf mansahaari ke karan hai mere paas hi bahut se aise rogi aate hai aajkal uric acid ek aam samasya hai hum jante hai aur uric acid ka bahut bada karan meat hai toh main exam log jo meat khate hai unko uric acid ki aaj samasya honi hi hoon isliye koshish kariye ki agar aap yog ki field mein aa rahe hai yog ke kshetra mein aa rahe hai apne jeevan mein yog ko shaamil kar rahe hai toh aap apni dincharya mein shaakaahaar ko hi shaamil kariye shaakaahaar vyanjan hi likhiye hari om

आपका प्रश्न है कि आप मुझे योग का अभ्यास करने के लिए शाकाहारी होना चाहिए मुझे किस तरह के खा

Romanized Version
Likes  134  Dislikes    views  1914
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

3:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको शाकाहारी होने की जरूरत नहीं है लेकिन हां अगर हम शाकाहारी मन से हो सकते हैं आपको मांसाहारी भोजन पसंद नहीं है सरकारी हो सुमित को मांसाहारी भोजन बहुत पसंद है वह छोड़ना नहीं चाहते हैं तो ऐसा कोई जरूरी नहीं है कि आप सरकारी हो या का हारी हो जाएं और उसके बाद ही आप योग का अभ्यास कर सकते हैं आप योग का अभ्यास करना शुरू कीजिए जो भी है आप शाकाहारी मांसाहारी तो आप देखेंगे हल्के हल्के हल्के में आपके शरीर में चेंज हो जाएंगे मन में चुने जाएंगे और मन इस तरह के पदार्थ लेना अपने आप से अंदर से उसे पसंद नहीं आएगा मांसाहारी हो जाए तो अपने आप से छूट जाएगा अगर आप छोड़ सकते हैं योग शुरू करने से पहले तो बहुत ही अच्छी बात है उसे छोड़ दीजिए मुझे मांसाहारी भोजन से बहुत ज्यादा मीठी मीठी बोली जाती है हम क्रोधित होते हैं और भयभीत होते हैं आपने देखा होगा कि ध्यान से देखिए जाकर आता नहीं देखा होगा मुर्गी फॉर्म में जाएगा जहां मुर्गियां पागल रहते हैं और जब वह मुर्गी को पकड़ने जाता है अपुन मुर्गियों के चेहरे को देखेगा और एक आप किसी गांव में चाहिए मुझे घर में पड़ा हुआ मुर्गा होगा उसकी चाल ढाल से उसकी बॉडी दिखेगा कितना ज्यादा उसके तेज होगा और जो वहां आते हैं उसका तेज नहीं हुआ मुझे तेज होगा उसकी फेस वॉश अंतरात्मा में मौत का भय होता है तो जो मांस खाते हैं वो हमेशा भयभीत रहेंगे उनकी वह जींस ट्रांसफर होता है हमारे मन में और हम भी होते हैं और उस तरह कई बीमारियां हमारे शरीर में होती हैं आपको किस तरह का भोजन खाने चाहिए आपको सात्विक फूड फूड खाना चाहिए जितने भी सीजन के फल है सीजन की संख्या है डाले हैं उनको आपको खाना चाहिए उससे हमारा शरीर नरेश मेंट होता है हमारा शरीर और मन मन खास तौर पर शांत होता है हमारा खाना बड़ी जल्दी राजेश होता है हम बीमार नहीं होते हैं उसने जल्दी हमारे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है मांसाहारी खाने से हमारे पूरे शरीर की जो मर्जी होती है वह ज्यादा से ज्यादा खाना खाने में हजारों खाने को हजम करने में लग जाते हैं और हम तामसिक हो जाते हैं मिठाई भी हो जाते हैं दर्द होते हैं तो सरकारी भोजन लिखे और योग को शुरू कीजिए धन्यवाद

aapko shakahari hone ki zarurat nahi hai lekin haan agar hum shakahari man se ho sakte hain aapko masahari bhojan pasand nahi hai sarkari ho sumit ko masahari bhojan bahut pasand hai vaah chhodna nahi chahte hain toh aisa koi zaroori nahi hai ki aap sarkari ho ya ka haari ho jayen aur uske baad hi aap yog ka abhyas kar sakte hain aap yog ka abhyas karna shuru kijiye jo bhi hai aap shakahari masahari toh aap dekhenge halke halke halke mein aapke sharir mein change ho jaenge man mein chune jaenge aur man is tarah ke padarth lena apne aap se andar se use pasand nahi aayega masahari ho jaaye toh apne aap se chhut jaega agar aap chod sakte hain yog shuru karne se pehle toh bahut hi achi baat hai use chod dijiye mujhe masahari bhojan se bahut zyada mithi mithi boli jaati hai hum krodhit hote hain aur bhayabhit hote hain aapne dekha hoga ki dhyan se dekhiye jaakar aata nahi dekha hoga murgi form mein jaega jaha murgiyan Pagal rehte hain aur jab vaah murgi ko pakadane jata hai apun murgiyon ke chehre ko dekhega aur ek aap kisi gaon mein chahiye mujhe ghar mein pada hua murga hoga uski chaal dhal se uski body dikhega kitna zyada uske tez hoga aur jo wahan aate hain uska tez nahi hua mujhe tez hoga uski face wash antaraatma mein maut ka bhay hota hai toh jo maas khate hain vo hamesha bhayabhit rahenge unki vaah jeans transfer hota hai hamare man mein aur hum bhi hote hain aur us tarah kai bimariyan hamare sharir mein hoti hain aapko kis tarah ka bhojan khane chahiye aapko Satvik food food khana chahiye jitne bhi season ke fal hai season ki sankhya hai dale hain unko aapko khana chahiye usse hamara sharir naresh ment hota hai hamara sharir aur man man khaas taur par shaant hota hai hamara khana badi jaldi rajesh hota hai hum bimar nahi hote hain usne jaldi hamare sharir mein pratirodhak kshamta badh jaati hai masahari khane se hamare poore sharir ki jo marji hoti hai vaah zyada se zyada khana khane mein hazaro khane ko hajam karne mein lag jaate hain aur hum tamasik ho jaate hain mithai bhi ho jaate hain dard hote hain toh sarkari bhojan likhe aur yog ko shuru kijiye dhanyavad

आपको शाकाहारी होने की जरूरत नहीं है लेकिन हां अगर हम शाकाहारी मन से हो सकते हैं आपको मांसा

Romanized Version
Likes  133  Dislikes    views  1638
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका कुछ नहीं किया मुझे योग के लिए शाकाहारी होने की जरूरत है मुझे किस तरह के खाद्य पदार्थ खाने चाहिए देखिए योग करने वाला व्यक्ति शाकाहारी उसे होना ही चाहिए क्योंकि शाकाहारी भोजन को पचने में बहुत ही कम टाइम लगता है कम समय लगता है जबकि मांसाहारी भोजन को पचने में काफी समय लगता है इसलिए शाकाहारी को हम लोगों को ज्यादा पैसे देते हैं दूसरी बात पर आपके लिए खाद पदार्थ की जहां तक बात है तो मेरा मानना है कि रूखे सूखे भोजन अगर आप भी करें समय पर करें तो उसे शारीरिक अस्वस्थता अवश्य मिलती है ऐसे युग में माना गया है कि जो खाना अरे मुंह में एंड जीवा पर काफी स्वादिष्ट लगे अंदर जाकर काफी मान लीजिए तो एक तरह से जहर का काम करती हैं इसलिए ऐसा भोजन करें जब वह खाने के बाद पचने में उसको समय न लगे और पानी का ज्यादा प्रयोग करें धन्यवाद

aapka kuch nahi kiya mujhe yog ke liye shakahari hone ki zarurat hai mujhe kis tarah ke khadya padarth khane chahiye dekhiye yog karne vala vyakti shakahari use hona hi chahiye kyonki shakahari bhojan ko pachane mein bahut hi kam time lagta hai kam samay lagta hai jabki masahari bhojan ko pachane mein kaafi samay lagta hai isliye shakahari ko hum logo ko zyada paise dete hain dusri baat par aapke liye khad padarth ki jaha tak baat hai toh mera manana hai ki rukhe sukhe bhojan agar aap bhi kare samay par kare toh use sharirik aswasthata avashya milti hai aise yug mein mana gaya hai ki jo khana are mooh mein and Jiva par kaafi swaadisht lage andar jaakar kaafi maan lijiye toh ek tarah se zehar ka kaam karti hain isliye aisa bhojan kare jab vaah khane ke baad pachane mein usko samay na lage aur paani ka zyada prayog kare dhanyavad

आपका कुछ नहीं किया मुझे योग के लिए शाकाहारी होने की जरूरत है मुझे किस तरह के खाद्य पदार्थ

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  1007
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि जो योग है असलियत में ऐड कर देखा जाए मुंह एवं शरीर को तंदुरुस्त करने के लिए योग एक अति उत्तम है योग करे निरोग रहे तो योग करने के लिए आपने शाकाहारी होना ही अति जरूरी नहीं है कई बे क्या है कि नेट ब्रा खाते हैं पर उनके लिए यह करना कुछ असंभव होता है परंतु उतना खास नहीं कर पाते योग एक ऐसा है कि उसने शाकाहारी खाना खाना चाहिए और साथ ही व्यक्ति ने एक शाकाहारी व्यक्ति होना अति जरूरी है ध्यान लगाएं और प्राणायाम के माध्यम से आप पूरे ब्रह्मांड को देख सकते हैं योग का मीन मुख्य तरीका यह है एक ध्यान के जरिए आप पूरे ब्रह्मांड को देख सकते हैं अगर आप विदित रूप से नियम वध होकर ध्यान प्राणायाम करें तो आप पूरे ब्रह्मांड को देख सकते हैं

mujhe lagta hai ki jo yog hai asliyat me aid kar dekha jaaye mooh evam sharir ko tandurust karne ke liye yog ek ati uttam hai yog kare nirog rahe toh yog karne ke liye aapne shakahari hona hi ati zaroori nahi hai kai be kya hai ki net bra khate hain par unke liye yah karna kuch asambhav hota hai parantu utana khas nahi kar paate yog ek aisa hai ki usne shakahari khana khana chahiye aur saath hi vyakti ne ek shakahari vyakti hona ati zaroori hai dhyan lagaye aur pranayaam ke madhyam se aap poore brahmaand ko dekh sakte hain yog ka meen mukhya tarika yah hai ek dhyan ke jariye aap poore brahmaand ko dekh sakte hain agar aap widit roop se niyam vadh hokar dhyan pranayaam kare toh aap poore brahmaand ko dekh sakte hain

मुझे लगता है कि जो योग है असलियत में ऐड कर देखा जाए मुंह एवं शरीर को तंदुरुस्त करने के लिए

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  122
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!