मैं अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं कर सकता, मैं क्या कर सकता हूँ?...


user

Dr Asha B Jain

Dip in Naturopathy, Yoga therapist Pranic healer, Counselor

0:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप लिख रहे हैं कि मैं अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं कर सकता तो यह होना भी संभव नहीं है दिमाग कैसे बंद हो सकता है आप सबसे पहले ध्यान की जो पहली अवस्था होती है वह होती है कायस्थ हीलियम का अभ्यास काया को इसके रखना मतलब शरीर को स्थिर रखना सबसे पहले कुछ दिनों तक आप केवल एक ही स्थान पर सीधे रीढ़ की हड्डी सीधी करके बैठ जाएं और ध्यान का अभ्यास करें मतलब बिल्कुल स्थिर होकर बैठ जाए किसी भी हालत में हिलना डुलना नहीं है शरीर का कोई भी अंग का मुंह में नहीं करें इस पर ध्यान दें कुछ दिनों तक आप यह अभ्यास करें और फिर चेंज देखें

aap likh rahe hain ki main apna dimag dhyan ke dauran band nahi kar sakta toh yah hona bhi sambhav nahi hai dimag kaise band ho sakta hai aap sabse pehle dhyan ki jo pehli avastha hoti hai vaah hoti hai kaayasth helium ka abhyas kaaya ko iske rakhna matlab sharir ko sthir rakhna sabse pehle kuch dino tak aap keval ek hi sthan par sidhe reedh ki haddi seedhi karke baith jayen aur dhyan ka abhyas kare matlab bilkul sthir hokar baith jaaye kisi bhi halat mein hilana dulana nahi hai sharir ka koi bhi ang ka mooh mein nahi kare is par dhyan de kuch dino tak aap yah abhyas kare aur phir change dekhen

आप लिख रहे हैं कि मैं अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं कर सकता तो यह होना भी संभव नहीं

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  2152
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं हो सकता क्या कर सकता हूं आप अपने दिमाग को स्वतंत्र छोड़ दीजिए आप केवल अपना मन दे बस तू पर लगाइए जब आप भी वस्तु पर ध्यान लगाते हैं तो बाकी चीजें सोता ही हो जाती हैं धन्यवाद

aapka dimag dhyan ke dauran band nahi ho sakta kya kar sakta hoon aap apne dimag ko swatantra chhod dijiye aap keval apna man de bus tu par lagaaiye jab aap bhi vastu par dhyan lagate hain toh baki cheezen sota hi ho jaati hain dhanyavad

आपका दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं हो सकता क्या कर सकता हूं आप अपने दिमाग को स्वतंत्र छोड़

Romanized Version
Likes  140  Dislikes    views  1603
WhatsApp_icon
play
user

Liyakat Ali Gazi

Motivational Speaker, Life Coach & Soft Skills Trainer 📲 9956269300

1:13

Likes  93  Dislikes    views  1787
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Amit Agrawal Rishiyog

Yoga Acupressure Expert

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है मैं अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं कर सकता मैं क्या कर सकता हूं देखिए ध्यान जितनी आसानी से आप समझ रहे हैं ध्यान रखना आसान नहीं है मेडिटेशन जब आप लगातार करते हैं तब इसको कुछ समय बाद आप एकाग्रता बढ़ा पाते हैं हम जानते हैं कि हमारे मन में लगातार थॉट चलते हैं संकल्प विकल्प उठते हैं योग की परिभाषा ही यही है महर्षि पतंजलि ने जो लिखा है सूत्र योगश्चित्त वृत्ति निरोधा चित्त की वृत्तियों का निरोध जिसको हम संकल्प विकल्प रहते हैं उसको रोकना ही योग है रुक जाता है वह आपके विचारों को रिप्लेस कर देता है आपके मन में जो लगातार विचार उठते हैं वह धीरे-धीरे थमना शुरू हो जाते हैं और एक स्थिति पर आकर रुक जाते हैं खत्म हो जाते हैं आप किसी एक बिंदु में किसी एक थॉट में किसी एक उसमें आप हो जाते हैं उस में लीन हो जाते हैं मुस्लिम अवस्था को ही समाधि कहा जाता है तो मेडिटेशन इतना आसान नहीं है यह दो-चार दिन 10 दिन महीना साल की चीज नहीं है इसको लंबे समय तक अभ्यास करना पड़ता है तब आप अपने मन को एकाग्र कर पाते हैं इसलिए पूरी पॉजिटिविटी के साथ चलिए मन इधर उधर भाग रहा है भागने बीच एक और आ रहे हैं आने दीजिए आप अपने शरीर और मन को टिका कर बैठी है देखे थे धीरे-धीरे आप देखेंगे आपके थॉट्स पर लगाम लगनी शुरू हो जाएगी और आपका मन एकाग्र होना शुरू हो जाएगा इन एकाग्रता को बढ़ाने के लिए और उसको सीखने के लिए आप एक बार मेरी यूट्यूब चैनल पर जरूर जाइए प्राणायाम इसमें बहुत अच्छा सपोर्ट करता है ध्यान को किस तरह करना है क्या जरूरी है क्या बातों का आवश्यक रख ध्यान रखना है किन दिशा-निर्देशों की आवश्यकता है इसको आप जाकर सीखिए प्रोफाइल पर लिंक दिया हुआ है योग गुरु अमित अग्रवाल ऋषि योग चैनल को सब्सक्राइब करिए और वीडियोस को देखकर फॉलो करिए आप देखेंगे कुछ ही दिनों में आपकी एकाग्रता लगेगी और आप इसका लाभ उठाएंगे और आपको आनंद आएगा हरिओम

aapka prashna hai apna dimag dhyan ke dauran band nahi kar sakta main kya kar sakta hoon dekhiye dhyan jitni aasani se aap samajh rahe hain dhyan rakhna aasaan nahi hai meditation jab aap lagatar karte hain tab isko kuch samay baad aap ekagrata badha paate hain hum jante hain ki hamare man mein lagatar thought chalte hain sankalp vikalp uthte hain yog ki paribhasha hi yahi hai maharshi patanjali ne jo likha hai sutra yogashchitt vriti nirodha chitt ki vrittiyon ka nirodh jisko hum sankalp vikalp rehte hain usko rokna hi yog hai ruk jata hai vaah aapke vicharon ko replace kar deta hai aapke man mein jo lagatar vichar uthte hain vaah dhire dhire thamana shuru ho jaate hain aur ek sthiti par aakar ruk jaate hain khatam ho jaate hain aap kisi ek bindu mein kisi ek thought mein kisi ek usme aap ho jaate hain us mein Lean ho jaate hain muslim avastha ko hi samadhi kaha jata hai toh meditation itna aasaan nahi hai yah do char din 10 din mahina saal ki cheez nahi hai isko lambe samay tak abhyas karna padta hai tab aap apne man ko ekagra kar paate hain isliye puri positivity ke saath chaliye man idhar udhar bhag raha hai bhagne beech ek aur aa rahe hain aane dijiye aap apne sharir aur man ko tika kar baithi hai dekhe the dhire dhire aap dekhenge aapke thoughts par lagaam lagani shuru ho jayegi aur aapka man ekagra hona shuru ho jaega in ekagrata ko badhane ke liye aur usko sikhne ke liye aap ek baar meri youtube channel par zaroor jaiye pranayaam isme bahut accha support karta hai dhyan ko kis tarah karna hai kya zaroori hai kya baaton ka aavashyak rakh dhyan rakhna hai kin disha nirdeshon ki avashyakta hai isko aap jaakar sikhiye profile par link diya hua hai yog guru amit agrawal rishi yog channel ko subscribe kariye aur videos ko dekhkar follow kariye aap dekhenge kuch hi dino mein aapki ekagrata lagegi aur aap iska labh uthayenge aur aapko anand aayega hariom

आपका प्रश्न है मैं अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं कर सकता मैं क्या कर सकता हूं देखिए ध

Romanized Version
Likes  185  Dislikes    views  1675
WhatsApp_icon
user

Dr.Pavan Mishra

Naturopath Doctor | Physician

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई बात नहीं अगर आप ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि किसी भी चीज को आप जितना कोशिश करेंगे प्रेस प्राइस करने के लिए या जितना उसको कैसे डालेंगे कि वह यह काम करें वह और भी ज्यादा अतिक्रमण होने लग जाते हैं तो आप अपने मस्तिष्क को बिल्कुल खुला फ्री छोड़ दी थी और वह जहां जाना चाहता जैसे करना चाहते करते रहने दीजिए बस आप अपनी प्रेक्टिस को मत छोड़िए जो भी आप मेडिटेशन या फिर तटकरे जो भी आप लोग मिल जाते हैं वह करते रहिए धीरे-धीरे आपके अंदर जो एकाग्रता है वह बढ़ती जाएगी और यह जो कंडीशन है कि आप अपने ध्यान के दौरान अपने दिमाग का जो ध्यान होता है वह प्रॉपर तरीके से मेंटेन नहीं कर पाता वह धीरे-धीरे नेचुरल होने लग जाएगा और जितना उसे प्लेयर डालेंगे कि नहीं मुझे यही पर ध्यान करना है वो एक का नेचर के ऑपोजिट वर्क हो जाता है तो नेचर के साथ में चलें सब कुछ लेकर के साथ अपने आप चलता रहेगा डोंट वरी

koi baat nahi agar aap aisa nahi kar sakte kyonki kisi bhi cheez ko aap jitna koshish karenge press price karne ke liye ya jitna usko kaise daalenge ki vaah yah kaam kare vaah aur bhi zyada atikraman hone lag jaate hain toh aap apne mastishk ko bilkul khula free chod di thi aur vaah jaha jana chahta jaise karna chahte karte rehne dijiye bus aap apni practice ko mat chodiye jo bhi aap meditation ya phir tatkare jo bhi aap log mil jaate hain vaah karte rahiye dhire dhire aapke andar jo ekagrata hai vaah badhti jayegi aur yah jo condition hai ki aap apne dhyan ke dauran apne dimag ka jo dhyan hota hai vaah proper tarike se maintain nahi kar pata vaah dhire dhire natural hone lag jaega aur jitna use player daalenge ki nahi mujhe yahi par dhyan karna hai vo ek ka nature ke opposite work ho jata hai toh nature ke saath mein chalen sab kuch lekar ke saath apne aap chalta rahega dont worry

कोई बात नहीं अगर आप ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि किसी भी चीज को आप जितना कोशिश करेंगे प्रेस प्

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1557
WhatsApp_icon
user
0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ध्यान के दौरान दिमाग को बंद नहीं करना होता है दिमाग को खोलना होता है लेकिन किसके प्रति जानना जरूरी है आपका दिमाग खुला है वह चीजों के संसार में जो चीजें आपको दिखाई दे रही है जो सुनाई दे रही हैं खुली आंखों से देखते हैं आपका दिमाग में भटका हुआ है उनमें लगा हुआ है लेकिन इसी दिमाग को आप अपने शरीर के अंदर अपने आंतरिक अंगों में इसको कल लगा देंगे तो यही दिमाग आपका ध्यान में कब बदल जाएगा आपको पता नहीं करें ध्यान में सिर्फ यही तो करना है आपको दिमाग चलाना है दिमाग बंद नहीं करना है लेकिन दिमाग को अपने मन मस्तिष्क को अपने अंदर बताना है अपने अंदर क्या हो रहा है उसके आपको सजग रहना होता है

dhyan ke dauran dimag ko band nahi karna hota hai dimag ko kholna hota hai lekin kiske prati janana zaroori hai aapka dimag khula hai vaah chijon ke sansar mein jo cheezen aapko dikhai de rahi hai jo sunayi de rahi hain khuli aankho se dekhte hain aapka dimag mein bhataka hua hai unmen laga hua hai lekin isi dimag ko aap apne sharir ke andar apne aantarik angon mein isko kal laga denge toh yahi dimag aapka dhyan mein kab badal jaega aapko pata nahi kare dhyan mein sirf yahi toh karna hai aapko dimag chalana hai dimag band nahi karna hai lekin dimag ko apne man mastishk ko apne andar bataana hai apne andar kya ho raha hai uske aapko sajag rehna hota hai

ध्यान के दौरान दिमाग को बंद नहीं करना होता है दिमाग को खोलना होता है लेकिन किसके प्रति जान

Romanized Version
Likes  76  Dislikes    views  1196
WhatsApp_icon
user

Yog Guru Gyan Ranjan Maharaj

Founder & Director - Kashyap Yogpith

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी आपका क्वेश्चन है भाई अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं करता और जो कोई भी व्यक्ति ध्यान किधर आने पर दिमाग नहीं बन कर सकता है दिमाग बंद नहीं किया जाता है दिमाग को विचलित होने से रोकना होता है इसलिए युग में बताया गया कि वर्तमान में जीने की कला है योग यानी आप तो अगर ध्यान कर रहे हैं तो सिर्फ ध्यान ही करें अपना ध्यान मत भटका भटकाव की स्थिति है इसी की वजह से आपको लग रहा है कि आपका दिमाग में ऐसा कुछ प्रतीत हो रहा है ऐसा कुछ नहीं है कि आप को ध्यान के दौरान ना बंद दिमाग दुख को बंद करने वाली बात ऐसा कुछ भी नहीं है अपने दिमाग को भात खाने की जरूरत नहीं है जिसके लिए आपको मेरे से मैसेज करें हम अधिक से अधिक करने की आवश्यकता है तदुपरांत आपको भी टेंशन करने की आवश्यकता है और बात की आप जब भी वह करें पंडित क्रिया से निवृत्त होने के बाद स्नान करके और योग करें ध्यान करें तो आपको विशेष सफलता हासिल होगी धन्यवाद

vicky aapka question hai bhai apna dimag dhyan ke dauran band nahi karta aur jo koi bhi vyakti dhyan kidhar aane par dimag nahi ban kar sakta hai dimag band nahi kiya jata hai dimag ko vichalit hone se rokna hota hai isliye yug mein bataya gaya ki vartaman mein jeene ki kala hai yog yani aap toh agar dhyan kar rahe hain toh sirf dhyan hi kare apna dhyan mat bhataka bhatkaav ki sthiti hai isi ki wajah se aapko lag raha hai ki aapka dimag mein aisa kuch pratit ho raha hai aisa kuch nahi hai ki aap ko dhyan ke dauran na band dimag dukh ko band karne wali baat aisa kuch bhi nahi hai apne dimag ko bhat khane ki zarurat nahi hai jiske liye aapko mere se massage kare hum adhik se adhik karne ki avashyakta hai taduprant aapko bhi tension karne ki avashyakta hai aur baat ki aap jab bhi vaah kare pandit kriya se sevanervit hone ke baad snan karke aur yog kare dhyan kare toh aapko vishesh safalta hasil hogi dhanyavad

विकी आपका क्वेश्चन है भाई अपना दिमाग ध्यान के दौरान बंद नहीं करता और जो कोई भी व्यक्ति ध्य

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  983
WhatsApp_icon
user

Aparesh

Yoga Instructor

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ध्यान कई प्रकार से किया जाता है कुछ ध्यान ब्रीडिंग के सहारे होते हैं कुछ मंत्रों के सहारे कर सकते हैं कुछ त्राटक क्रिया करके आप ध्यान लगा सकते हो अब जो भी ध्यान करते हो उस ध्यान की प्रैक्टिस को निरंतर करते जाइए करते जाइए आप एक दिन अपने दिमाग को खुद-ब-खुद कंट्रोल करना सीख जाओगे

dhyan kai prakar se kiya jata hai kuch dhyan Breeding ke sahare hote hain kuch mantron ke sahare kar sakte hain kuch tratak kriya karke aap dhyan laga sakte ho ab jo bhi dhyan karte ho us dhyan ki practice ko nirantar karte jaiye karte jaiye aap ek din apne dimag ko khud bsp khud control karna seekh jaoge

ध्यान कई प्रकार से किया जाता है कुछ ध्यान ब्रीडिंग के सहारे होते हैं कुछ मंत्रों के सहारे

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  479
WhatsApp_icon
user

Aditi Garg

Meditation Expert

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह जो आपने कहा कि ध्यान के दौरान मैं अपना दिमाग बंद नहीं कर सकता आपको ध्यान के दौरान दिमाग बंद करना ही नहीं है आपके अगर थॉट आ रहे हैं तो उन्हें आने दीजिए जा रही है तो जाने दीजिए आपको अपना पूरा ध्यान सिर्फ अपनी सांसो पर लगाना है और देखना है कि सांस आ रही है और जा रही है आ रही है और जा रही है थॉट्स आ रहे हैं तो आने दीजिए जा रहे हैं तो जाने दीजिए आपको दिमाग को बंद नहीं करना है आपको अपना सारा ध्यान अपनी सांसो पर लगाना है कि सांस आ रही है जा रही है आदमी है जा रही है जब मेडिटेशन 40 मिनट तक लगातार करते हैं तो आप आएंगे क्या आपको जो व्हाट्सएप कम होने लगे हैं और इसका मतलब आप का मेडिटेशन इफेक्टिव लग रहा है आपको दिमाग बंद करने की बिल्कुल जरूरत नहीं है विचार आ रही हैं उन्हें आने दीजिए धीरे-धीरे कम होने लगेंगे थैंक यू

dekhiye yah jo aapne kaha ki dhyan ke dauran main apna dimag band nahi kar sakta aapko dhyan ke dauran dimag band karna hi nahi hai aapke agar thought aa rahe hain toh unhe aane dijiye ja rahi hai toh jaane dijiye aapko apna pura dhyan sirf apni saanso par lagana hai aur dekhna hai ki saans aa rahi hai aur ja rahi hai aa rahi hai aur ja rahi hai thoughts aa rahe hain toh aane dijiye ja rahe hain toh jaane dijiye aapko dimag ko band nahi karna hai aapko apna saara dhyan apni saanso par lagana hai ki saans aa rahi hai ja rahi hai aadmi hai ja rahi hai jab meditation 40 minute tak lagatar karte hain toh aap aayenge kya aapko jo whatsapp kam hone lage hain aur iska matlab aap ka meditation effective lag raha hai aapko dimag band karne ki bilkul zarurat nahi hai vichar aa rahi hain unhe aane dijiye dhire dhire kam hone lagenge thank you

देखिए यह जो आपने कहा कि ध्यान के दौरान मैं अपना दिमाग बंद नहीं कर सकता आपको ध्यान के दौरान

Romanized Version
Likes  98  Dislikes    views  870
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!