योग की विभिन्न शैलियाँ क्या हैं?...


play
user

Girijakant Singh

Founder/ President Yog Bharati Foundation Trust

0:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है कि योग की विभिन्न शैलियां क्या है कई तरह के योग हैं राजयोग भक्तियोग ज्ञानयोग कर्मयोग लाइव नाद योग बहुत सारी सहेलियां योग की है और सारी सहेलियां अच्छी हैं हर योग गुरु ने अपने हिसाब से जैसा उन्होंने अनुभूत किया वैसे ही शैलियों का विकास किया है और सभी योग शैलियों का केवल एक ही उद्देश्य है आत्मसाक्षात्कार धन्यवाद

aapka prashna hai ki yog ki vibhinn shailiyan kya hai kai tarah ke yog hain rajyog bhaktiyog gyanyog karmayog live naad yog bahut saree saheliya yog ki hai aur saree saheliya achi hain har yog guru ne apne hisab se jaisa unhone anubhut kiya waise hi shailiyon ka vikas kiya hai aur sabhi yog shailiyon ka keval ek hi uddeshya hai atmasakshatkar dhanyavad

आपका प्रश्न है कि योग की विभिन्न शैलियां क्या है कई तरह के योग हैं राजयोग भक्तियोग ज्ञानय

Romanized Version
Likes  89  Dislikes    views  2090
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

꧁༺Dℛ.LATA PATHAK༻꧂

Founder & Director - Real Lifetime Yoga Foundation

3:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों योग की विभिन्न शैलियां क्या है बहुत ही अच्छा प्रश्न है जो कि विभिन्न शैलियों में दोस्तों काफी प्रकार के योग समाविष्ट है इनमें अष्टांग योग राजयोग हठयोग मंत्र योग तंत्र योग जप योग ना देव कुंडलियों पूर्ण योग समस्त योग अभ्यास में लाइचा ते हैं कहीं ना कहीं से ज्ञान भक्ति मंत्र तंत्र जब नाथ एक दूसरे से कनेक्ट है इन सभी को समझने के लिए यदि हम अष्टांग योग को अपने जीवन में शामिल करते हैं तो हमारा जीवन 8 चरणों को पार करते हुए एक शुभम माध्यम से आगे बढ़ जाता है यम नियम आसन प्राणायाम प्रत्याहार धारणा ध्यान समाधि आसानी से आपको योग के मार्ग में चलने के लिए प्रेरित करते हैं आप भटकते नहीं है इसलिए दोस्तों शैली कोई भी हो इनका अंतिम उद्देश्य व को जाना होता है मोक्ष की प्राप्ति होती है भाई जगत से अंतर जगत की ओर की यात्रा होती है जब भी हम युग का आरंभ करते हैं तो हम अक्सर सोचते हैं कि बच्चों को कैसे हम योग की शिक्षा दें किस शैली में हम बच्चों को योग की शिक्षा दें ताकि वह आगे उनका इंटरेस्ट डिवेलप हो इसके लिए बच्चों को हम ना दे उससे प्रेरित करेंगे तो बहुत अच्छा होगा जैसे कि भ्रमरी प्राणायाम में हम करते हैं तो इससे बच्चे अट्रेक्ट होते हैं वाइब्रेशन उनको अट्रैक्ट करता है एक बहुत ही सरल विधा है ना देव अच्छी शैली है तो दोस्तों शैलियां संपूर्ण सभी है अच्छा सब कुछ है इसको आप किस तरह से ग्रहण करते हैं आत्मसात करते हैं निर्भर करता है मेरी शुभकामनाएं हैं कि आप जो कि किसी भी शैली को अपनाकर योग में हो जाइए यू करते रहिए खुश रहिए स्वस्थ रहिए धन्यवाद

namaskar doston yog ki vibhinn shailiyan kya hai bahut hi accha prashna hai jo ki vibhinn shailiyon mein doston kaafi prakar ke yog samavisht hai inme ashtanga yog rajyog hathyog mantra yog tantra yog jap yog na dev kundaliyon purn yog samast yog abhyas mein laicha te hain kahin na kahin se gyaan bhakti mantra tantra jab nath ek dusre se connect hai in sabhi ko samjhne ke liye yadi hum ashtanga yog ko apne jeevan mein shaamil karte hain toh hamara jeevan 8 charno ko par karte hue ek subham madhyam se aage badh jata hai yum niyam aasan pranayaam pratyahar dharana dhyan samadhi aasani se aapko yog ke marg mein chalne ke liye prerit karte hain aap bhatakte nahi hai isliye doston shaili koi bhi ho inka antim uddeshya va ko jana hota hai moksha ki prapti hoti hai bhai jagat se antar jagat ki aur ki yatra hoti hai jab bhi hum yug ka aarambh karte hain toh hum aksar sochte hain ki baccho ko kaise hum yog ki shiksha de kis shaili mein hum baccho ko yog ki shiksha de taki vaah aage unka interest develop ho iske liye baccho ko hum na de usse prerit karenge toh bahut accha hoga jaise ki bhramari pranayaam mein hum karte hain toh isse bacche atrekt hote hain vibration unko attract karta hai ek bahut hi saral vidhaa hai na dev achi shaili hai toh doston shailiyan sampurna sabhi hai accha sab kuch hai isko aap kis tarah se grahan karte hain aatmsat karte hain nirbhar karta hai meri subhkamnaayain hain ki aap jo ki kisi bhi shaili ko apnakar yog mein ho jaiye you karte rahiye khush rahiye swasthya rahiye dhanyavad

नमस्कार दोस्तों योग की विभिन्न शैलियां क्या है बहुत ही अच्छा प्रश्न है जो कि विभिन्न शैलिय

Romanized Version
Likes  114  Dislikes    views  1569
WhatsApp_icon
user

xyz

nothing

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योग की विभिन्न शैलियां क्या है योग के विभिन्न शैलियां है अष्टांग योग पतंजलि का राजयोग पतंजलि का ज्ञान योग चांद से योग कर्म योग भक्ति योग मंत्र योग कुंडलिनी योग नाद योग और सप्तांग योग ग्रैंड संहिता का इस तरह से त्यागी त्यागी क्रिया योग और भी कई योग है इस तरह से योग की फिल्म कह दिया है धन्यवाद

yog ki vibhinn shailiyan kya hai yog ke vibhinn shailiyan hai ashtanga yog patanjali ka rajyog patanjali ka gyaan yog chand se yog karm yog bhakti yog mantra yog kundalini yog naad yog aur saptang yog grand sanhita ka is tarah se tyagi tyagi kriya yog aur bhi kai yog hai is tarah se yog ki film keh diya hai dhanyavad

योग की विभिन्न शैलियां क्या है योग के विभिन्न शैलियां है अष्टांग योग पतंजलि का राजयोग पतंज

Romanized Version
Likes  94  Dislikes    views  1897
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!