ज्योतिषी विद्या पर विश्वास करना चाहिए, अगर हां तो क्यों?...


user

Ramesh Bait

Astrologer & Spiritual Healer

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां बिल्कुल ज्योतिष की विद्या पर आपको विश्वास करना चाहिए एक आद बार ज्योतिष परना विश्वास करो तो भी चलेगा भी भेज जरूरी नहीं है कि वह ज्योतिष पूरी तरह से पड़ा है या उसको अच्छे से नॉलेज है भले उस दिन टीका लगाया रुद्राक्ष माला पहनी और पंचांग खोल कर बैठ गया तो इसका मतलब आप समझने लगे कि वह ज्योतिषी है यह आपका एक बहन है कोई बकरे कपड़े दाल डालकर बैठे दाढ़ी बढ़ाकर बाप को गुरु लगने लगे तो इसका मतलब यह नहीं कि अध्यात्म विद्या है मगर वह गुरु नहीं है ज्योतिष विद्या ज्योतिष ना हो सके अभी आपको क्यों विश्वास करना चाहिए मुझे बताओ रामायण और महाभारत काल में कृष्ण की और राम की कुंडली अवेलेबल है उसकी गलतियां अवेलेबल है तो यह तो 5000 साल पुरानी बातें ओके अब हमें यह ग्रहों की खोज कब लगी जब वेस्टर्न लोगों ने ताज का संशोधन किया था क्या या फिर टेलीस्को बना फिर टेलीस्कोप हाई डेफिनेशन का बनाया फिर उससे हम लोग देख पाए कि मैं इतने अलार्म मील दूर यह गुरु है शनि है तब जाकर इनको पता चला मगर वही प्लेनेट सेम टू सेम महाभारत रामायण काल से बता रहे तो अब अच्छा वहां पर जो उस तिथि लिखी है वह सेम सिटी यही बता रहे तो ज्योतिष अगर आप देखोगे पूजा नासा और इसरो वाले लोगों को जो ग्रह बता रहे हैं वैसे इधर आ इधर है ज्योतिष में हम लोग प्रेडिक्शन करते हो वह प्रेडिक्शन नहीं करते तो हजारों साल पहले उनको पता कैसे चला बुरा है शनि ग्रह बुध ग्रह कैसे देखा क्योंकि काट दो कि नहीं देखा तो है उन्होंने अपने अंतर्मन की शक्ति से देख लिया इसके लिए

ji haan bilkul jyotish ki vidya par aapko vishwas karna chahiye ek ad baar jyotish parona vishwas karo toh bhi chalega bhi bhej zaroori nahi hai ki vaah jyotish puri tarah se pada hai ya usko acche se knowledge hai bhale us din tika lagaya rudraksha mala pahani aur panchang khol kar baith gaya toh iska matlab aap samjhne lage ki vaah jyotishi hai yah aapka ek behen hai koi bakre kapde daal dalkar baithe dadhi badhakar baap ko guru lagne lage toh iska matlab yah nahi ki adhyaatm vidya hai magar vaah guru nahi hai jyotish vidya jyotish na ho sake abhi aapko kyon vishwas karna chahiye mujhe batao ramayana aur mahabharat kaal me krishna ki aur ram ki kundali available hai uski galtiya available hai toh yah toh 5000 saal purani batein ok ab hamein yah grahon ki khoj kab lagi jab western logo ne taj ka sanshodhan kiya tha kya ya phir telisko bana phir telescope high definition ka banaya phir usse hum log dekh paye ki main itne alarm meal dur yah guru hai shani hai tab jaakar inko pata chala magar wahi planet same to same mahabharat ramayana kaal se bata rahe toh ab accha wahan par jo us tithi likhi hai vaah same city yahi bata rahe toh jyotish agar aap dekhoge puja NASA aur isro waale logo ko jo grah bata rahe hain waise idhar aa idhar hai jyotish me hum log predikshan karte ho vaah predikshan nahi karte toh hazaro saal pehle unko pata kaise chala bura hai shani grah buddha grah kaise dekha kyonki kaat do ki nahi dekha toh hai unhone apne antarman ki shakti se dekh liya iske liye

जी हां बिल्कुल ज्योतिष की विद्या पर आपको विश्वास करना चाहिए एक आद बार ज्योतिष परना विश्वास

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  263
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!