अर्थव्यवस्था में बदलाव की वजह से आम आदमी को कितनी मुश्किलें झेलनी पड़ती हैं?...


user

Govind Saraf

Entrepreneur

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अर्थव्यवस्था के बदलाव से एक आदमी को कितनी मुश्किलें झेलनी पड़ती है यह दी मोनेटाइजेशन नोटबंदी के समय आपको पता चल ही गया होगा सबसे बड़ा फैसला तो आज के होता है कि आधार का स्थायीकरण कितनी बड़ी-बड़ी कंपनियां फेल हो जाती है हंसते खेलते होने के बाद जब हमारे पास कुछ नहीं बताया को समाधान नहीं पता तुम सरकार के पास जाकर रिक्वेस्ट करते हैं दरख्वास्त करते हैं कि कृपया इस पर ध्यान दें इसके साथ हुआ रिलायंस कंपनी के साथ ऐसा हो रहा है कितने बैंकों के साथ ऐसा हो रहा है कि अर्थव्यवस्था में चारों तरफ से झकझोर के रख देती है ना आए का कोई दिखाना रहता है और वह तो दिन पर दिन बढ़ता ही जाता है पैसों की जरूरत पड़ती है इंसान की परचेसिंग पावर बहुत कम होते जाती है तो मेरा मानना है सरकार की एक करा स्टेप लेना चाहिए सरकार को ध्यान ना चाहिए किस तरह जिस तरह आज फ्रॉड सो रहे हैं सबसे बड़ा घोटाला आज पीएमसी बैंक के नाम पर जो आज आया है हमारे सामने सरकार उससे हाथ धोकर नहीं बैठ सकती सरकार को उसके डिपो खाताधारकों के साथ खड़ा होना पड़ेगा उनकी मदद करनी पड़ेगी क्योंकि आज वह भी घोटाला हुआ है उसे पीस एक आम आदमी ही जा रहा है आज आम आदमी को कौन याद दिलाना सरकार का अधिकार है जो कि जो सरकार में जो कुर्सी पर बैठता है वह नहीं आम आदमियों के फोटो से चुनकर मिटाया चयन करके बैठा जाता है अब मुझे बड़ा खेल होता है जो सरकार ऐसी फैसले लेती है कि जब हाथ उठा लेती है इनको डालो से सरकार से कोई लेना देना नहीं मुझे शर्म आती है जब ऐसे स्टूडेंट्स की जाती है

arthavyavastha ke badlav se ek aadmi ko kitni mushkilen jhelani padti hai yah di monetaijeshan notebandi ke samay aapko pata chal hi gaya hoga sabse bada faisla toh aaj ke hota hai ki aadhaar ka sthayikaran kitni badi badi companiya fail ho jaati hai hansate khelte hone ke baad jab hamare paas kuch nahi bataya ko samadhan nahi pata tum sarkar ke paas jaakar request karte hain darakhwast karte hain ki kripya is par dhyan de iske saath hua reliance company ke saath aisa ho raha hai kitne bankon ke saath aisa ho raha hai ki arthavyavastha mein charo taraf se jhakjhor ke rakh deti hai na aaye ka koi dikhana rehta hai aur vaah toh din par din badhta hi jata hai paison ki zarurat padti hai insaan ki parachesingh power bahut kam hote jaati hai toh mera manana hai sarkar ki ek kara step lena chahiye sarkar ko dhyan na chahiye kis tarah jis tarah aaj fraud so rahe hain sabse bada ghotala aaj PMC bank ke naam par jo aaj aaya hai hamare saamne sarkar usse hath dhokar nahi baith sakti sarkar ko uske depot khatadharakon ke saath khada hona padega unki madad karni padegi kyonki aaj vaah bhi ghotala hua hai use peace ek aam aadmi hi ja raha hai aaj aam aadmi ko kaun yaad dilana sarkar ka adhikaar hai jo ki jo sarkar mein jo kursi par baithta hai vaah nahi aam adamiyo ke photo se chunkar mitaya chayan karke baitha jata hai ab mujhe bada khel hota hai jo sarkar aisi faisle leti hai ki jab hath utha leti hai inko dalo se sarkar se koi lena dena nahi mujhe sharm aati hai jab aise students ki jaati hai

अर्थव्यवस्था के बदलाव से एक आदमी को कितनी मुश्किलें झेलनी पड़ती है यह दी मोनेटाइजेशन नोटबं

Romanized Version
Likes  554  Dislikes    views  7625
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!