आरक्षण किसको मिलना चाहिए दलित समाज को देखकर या फिर गरीबी को देखकर कृपया अपनी अपनी राय जरूर दें सभी लोग धन्यवाद?...


user

Vedachary Pathak Singrauli

सनातन सुरक्षा परिषद् संस्थापक

3:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रदोष नमस्कार जी क्या आपने पूछा है आरक्षण किसको मिलना चाहिए दलित समाज को देखकर या फिर गरीब दोस्त बहुत ही अच्छा सवाल है सबसे पहले तो समझना पड़ेगा गरीब क्या है और दलित क्या है दलित कोई जाति नहीं होती और गरीबी भी कोई जाति नहीं होती यह दोनों जातियां ने एक गरीब ही दलित कहा जाता है चाहे वह किसी भी भड़काऊ चाहे वह ब्राह्मण हो छत्रिय हो बनिया हो वैश्य शूद्र हो तू की गरीबी जाति देखकर नहीं आती और उत्थान उसका करना है मदद उसका करना है संरक्षण उसको देना है जो गरीब है चाहे वह किसी भी जाति का हो किसी भी धर्म का हो जाति के आधार पर आरक्षण को समाप्त कर देना चाहिए जाति के आधार पर आरक्षण लेने का हकदार बिल्कुल नहीं होना चाहिए देश में क्योंकि इससे जाति आधार जो आरक्षण है इस आरक्षण की वजह से टैलेंट बच्चे होते हैं जो प्रतिभा भाभी बच्चे होते हैं उनकी भविष्य अंधकार की ओर जाती है और यह भी आवश्यक है इसी विषय में अगर अयोग्य व्यक्ति को बैठाया जाएगा उस सिस्टम का जो कार्य होगा वह कितना स्लो होगा असुरक्षित भी नहीं होगा तो देश में योग्यता की कदर नहीं है देश में टैलेंट का कदर नहीं है प्रतिभा का सम्मान नहीं है मेरे हिसाब से योग्य व्यक्ति हो योग्य प्रसन्न हो योग्य बच्चा हो स्टूडेंट तो कोई भी समाज का नेतृत्व करने वाला व्यक्ति हो अगर योग्यता है तो उसकी कद्र होनी चाहिए उसको जगह मिलनी चाहिए हम सिर्फ जाति देख कर के किसी को पोस्ट दे दे यह पता ही नहीं है किसी को पद सौंप दें जिम्मेदारियां सौंप दें जिसकी योग्य नहीं है वह इससे वह ठीक से इंप्लीमेंट नहीं कर सकता जान सारी नहीं उसके बारे में सिर्फ जाति देख कर के उस पथ पर उसे मिटा देने से वह सिस्टम कभी आगे नहीं बढ़ पाएगा इसलिए मेरी राय के हिसाब से आरक्षण गरीबी को देखकर देना चाहिए ना की जाति को देखकर धन्यवाद

pradosh namaskar ji kya aapne poocha hai aarakshan kisko milna chahiye dalit samaj ko dekhkar ya phir garib dost bahut hi accha sawaal hai sabse pehle toh samajhna padega garib kya hai aur dalit kya hai dalit koi jati nahi hoti aur garibi bhi koi jati nahi hoti yah dono jatiya ne ek garib hi dalit kaha jata hai chahen vaah kisi bhi bhadkau chahen vaah brahman ho Kshatriya ho baniya ho vaiishay shudra ho tu ki garibi jati dekhkar nahi aati aur utthan uska karna hai madad uska karna hai sanrakshan usko dena hai jo garib hai chahen vaah kisi bhi jati ka ho kisi bhi dharm ka ho jati ke aadhaar par aarakshan ko samapt kar dena chahiye jati ke aadhaar par aarakshan lene ka haqdaar bilkul nahi hona chahiye desh mein kyonki isse jati aadhaar jo aarakshan hai is aarakshan ki wajah se talent bacche hote hain jo pratibha bhabhi bacche hote hain unki bhavishya andhakar ki aur jaati hai aur yah bhi aavashyak hai isi vishay mein agar ayogya vyakti ko baithaya jaega us system ka jo karya hoga vaah kitna slow hoga asurakshit bhi nahi hoga toh desh mein yogyata ki kadar nahi hai desh mein talent ka kadar nahi hai pratibha ka sammaan nahi hai mere hisab se yogya vyakti ho yogya prasann ho yogya baccha ho student toh koi bhi samaj ka netritva karne vala vyakti ho agar yogyata hai toh uski kadra honi chahiye usko jagah milani chahiye hum sirf jati dekh kar ke kisi ko post de de yah pata hi nahi hai kisi ko pad saunp de zimmedariyan saunp de jiski yogya nahi hai vaah isse vaah theek se implement nahi kar sakta jaan saree nahi uske bare mein sirf jati dekh kar ke us path par use mita dene se vaah system kabhi aage nahi badh payega isliye meri rai ke hisab se aarakshan garibi ko dekhkar dena chahiye na ki jati ko dekhkar dhanyavad

प्रदोष नमस्कार जी क्या आपने पूछा है आरक्षण किसको मिलना चाहिए दलित समाज को देखकर या फिर गरी

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  526
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:04

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर एक को मिलना चाहिए दलित समाज को देखकर या फिर गरीबी को देखकर कृपया अपनी राय जरूर सभी अच्छी वर्तमान में वर्तमान समय की समस्या है जब आरक्षण का प्रावधान हमारे देश में हुआ था उस समय जो पिछड़ी जातियां लोग जो बहुत ही पिछड़े हुए बराबरी का हक दिलाने के लिए आरक्षण का प्रावधान किया गया समय काफी दिन क्या है आजादी के 70 साल के बाद हम को रिलीज करने की जरूरत है क्योंकि जिसको जिन जिन परिवारों को हम जिन जिन साथियों को आगे उठाना चाहते थे उस समय के अनुसार उनका गलती हो गई है इसलिए आर्थिक पैमाना जो है हर एक परिवार की आर्थिक स्थिति को वह भी मद्दे नजर रखना आज के समय में जरूरी होगा क्योंकि आजकल जाति का जो रिजर्वेशन में उसकी आर्थिक उसको पढ़ना जरूर बनाना चाहिए हेलो आरती को जो परिवार और सही में होनी चाहिए मौके मिलने चाहिए चाहे वह पढ़ाई में हो चाहे वह नौकरी में हम को आगे आना चाहिए तभी जाकर सबको समान अधिकार मिल पाएगा उसके लिए हमारे राजनेताओं को कानून में संशोधन करना पड़ेगा और वह बहुत ही मुश्किल है क्योंकि वह चुनाव में जातियों की राजनीति करने से बाज नहीं आते और जातियों में बांट कर ही वह चुनाव जीतना चाहते हैं वह हर एक जातियों को वह अपना अपना अलग-अलग इसीलिए यह निर्णय लेने में बहुत ही परेशानी हो रही

har ek ko milna chahiye dalit samaj ko dekhkar ya phir garibi ko dekhkar kripya apni rai zaroor sabhi achi vartaman mein vartaman samay ki samasya hai jab aarakshan ka pravadhan hamare desh mein hua tha us samay jo pichhadi jatiya log jo bahut hi pichade hue barabari ka haq dilaane ke liye aarakshan ka pravadhan kiya gaya samay kaafi din kya hai azadi ke 70 saal ke baad hum ko release karne ki zarurat hai kyonki jisko jin jin parivaron ko hum jin jin sathiyo ko aage uthana chahte the us samay ke anusaar unka galti ho gayi hai isliye aarthik paimaana jo hai har ek parivar ki aarthik sthiti ko vaah bhi madde nazar rakhna aaj ke samay mein zaroori hoga kyonki aajkal jati ka jo reservation mein uski aarthik usko padhna zaroor banana chahiye hello aarti ko jo parivar aur sahi mein honi chahiye mauke milne chahiye chahen vaah padhai mein ho chahen vaah naukri mein hum ko aage aana chahiye tabhi jaakar sabko saman adhikaar mil payega uske liye hamare rajnetao ko kanoon mein sanshodhan karna padega aur vaah bahut hi mushkil hai kyonki vaah chunav mein jaatiyo ki raajneeti karne se baaj nahi aate aur jaatiyo mein baant kar hi vaah chunav jeetna chahte hain vaah har ek jaatiyo ko vaah apna apna alag alag isliye yah nirnay lene mein bahut hi pareshani ho rahi

हर एक को मिलना चाहिए दलित समाज को देखकर या फिर गरीबी को देखकर कृपया अपनी राय जरूर सभी अच्छ

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  1107
WhatsApp_icon
user
2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि आखिर किसे मिलने चाहिए दलित समाज को अभी गरीबी देखकर जय बाबा भीमराव अंबेडकर ने संविधान बनाया था उसमें पूजन डाला था कि आज चंद गरीब दलित लोगों को दिया जाए जो गरीब तबके से आते हैं जो उनको सम्मानित श्रेणी में लाने के लिए लेकिन उन्होंने कहा कि यह 10 साल तक रहेगा और आगे जरूरत पड़ी तो 10 साल और एक्सटेंड किया जा सकता है उसके आगे उसको समाप्त कर देना है लेकिन हमारे भारतीय राजनीति में अपने फायदे के लिए इस को जीवंत रखा गया और वैसे लोगों को जो दलित समाज से आते थे उनको ऊपर आने के लिए नहीं दिया गया या उनको कम अवसर प्रदान किया क्या आज भी हमारे देश में समान श्रेणी मैं भी अत्यंत गरीब लोग हैं जो दलित समाज से भी नीचे की जिंदगी जीते हैं तो अब यह समय आ गया है कि अगर आरक्षण ना मिले अगर मिले भी तो गरीबी देखकर मिले ताकि सभी वंचितों को इसका लाभ मिल सके और सामान्य श्रेणी में आने का और सब मिले साथ ही साथ वैसी व्यवस्था होनी चाहिए भारत में जिससे आरक्षण सिर्फ और सिर्फ शिक्षा में मिले उसके बाद वह अपनी इच्छाशक्ति और अपने बौद्धिक स्तर काहे का प्रदर्शन कर सामान्य श्रेणी के और सबको ग्रहण ग्रहण कर सके तो मेरा मानना तो यही है कि आरक्षण गरीबी को देखकर मिलना चाहिए अब इसको जाति धर्म से हटाकर ऐसे लोगों को देना चाहिए जो हर एक धर्म में जाति में गरीब स्तर पर हैं या निचले स्तर पर हैं जिनका जीवन स्तर अत्यंत ही निम्न स्तर का है उन्हें आपसे मिला चाहिए धन्यवाद

aapka sawaal hai ki aakhir kise milne chahiye dalit samaj ko abhi garibi dekhkar jai baba bhimrao ambedkar ne samvidhan banaya tha usme pujan dala tha ki aaj chand garib dalit logo ko diya jaaye jo garib tabke se aate hain jo unko sammanit shreni mein lane ke liye lekin unhone kaha ki yah 10 saal tak rahega aur aage zarurat padi toh 10 saal aur eksatend kiya ja sakta hai uske aage usko samapt kar dena hai lekin hamare bharatiya raajneeti mein apne fayde ke liye is ko jivant rakha gaya aur waise logo ko jo dalit samaj se aate the unko upar aane ke liye nahi diya gaya ya unko kam avsar pradan kiya kya aaj bhi hamare desh mein saman shreni main bhi atyant garib log hain jo dalit samaj se bhi niche ki zindagi jeete hain toh ab yah samay aa gaya hai ki agar aarakshan na mile agar mile bhi toh garibi dekhkar mile taki sabhi vanchiton ko iska labh mil sake aur samanya shreni mein aane ka aur sab mile saath hi saath vaisi vyavastha honi chahiye bharat mein jisse aarakshan sirf aur sirf shiksha mein mile uske baad vaah apni ichchhaashakti aur apne baudhik sthar kaahe ka pradarshan kar samanya shreni ke aur sabko grahan grahan kar sake toh mera manana toh yahi hai ki aarakshan garibi ko dekhkar milna chahiye ab isko jati dharm se hatakar aise logo ko dena chahiye jo har ek dharm mein jati mein garib sthar par hain ya nichle sthar par hain jinka jeevan sthar atyant hi nimn sthar ka hai unhe aapse mila chahiye dhanyavad

आपका सवाल है कि आखिर किसे मिलने चाहिए दलित समाज को अभी गरीबी देखकर जय बाबा भीमराव अंबेडकर

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  118
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
kisko chahie ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!