14 साल में धीरे-धीरे मार डाले परिवार के 6 लोग - इस महिला की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं! आपकी राय?...


user
0:23
Play

Likes  31  Dislikes    views  879
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ansh jalandra

Motivational speaker

0:35
Play

Likes  114  Dislikes    views  1873
WhatsApp_icon
play
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:51

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

14 साल में धीरे-धीरे मार डाले परिवार के खेलों की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं आपकी भैया यह सही है केरला में आया है कि महिला जो 50 - 14 साल 8 साल भक्ति कोई सायनाइड डिस्टिक जो है खाना खिलाते जाने की कोई भी ग्रुप होता है वह सबसे ज्यादा विश्वास रखता है आपकी घर की पत्नी को पनपने अपनी के ऊपर सबसे ज्यादा विश्वास होता है और इस तरह का विश्वास किया और खाने में साइनाइट जो होता है वह अपनी जगह जहरीला पदार्थ होता है और वही खाने में मिला मिला कर 8 साल तक दिया पति परिवार के 6 लोगों की हत्या की 14 साल और 2 पैसे के लिए अब ऐसी पैसे का वह क्या करेंगे किसके साथ एंजॉय करेंगे यह भी एक बहुत ही सोचने वाला साइकोलॉजि का विषय क्योंकि धन की जो अभिलाषा होती है धन पाने की तो धन एक साधन के रूप में हम मानते हैं कि कल से हम अपनों के साथ मिलकर उसे एंजॉय करें उनके द्वारा जो भी साधन खरीदेंगे खुशियां कर देंगे लेकिन इतना खड़ा होता है किसी भी इंसान के लिए कि वह धन किस काम का जब अपने ही अपने साथ ना हो इसलिए यह मानसिक बीमारी इस महिला की कही जाएगी कि वह धर्म के प्रति इतनी उसको प्यार था ममता थी या मोटा और उन्होंने किया फिल्म की स्टोरी से कम नहीं अगर कोई भविष्य में फिल्म बनी तो जरूर देखने लायक होगी अगर उसका चित्र कथा और अपने अच्छी तरह से किया जाए तो आशा करते हैं कि ऐसी सिग्मेटिक स्टोरी को हम जरूर समझे और अपने जीवन में हम जरूर माने ऐसा भी हो सकता है जिंदगी अब किसके ऊपर विश्वास करें अपनी पत्नी को पर विश्वास करें इसके ऊपर विश्वास क्योंकि अमूमन देखा गया है कि महिलाएं लड़की खाना बनाती है अगस्त सब्जी में काटते समय अगर कुछ खेड़ा हो तो कीड़े के भाग को भी वह सब्जी से काटकर अलग कर दें चाहे वह चावल हो तो उसको बीन कर उसमें से छोटे-छोटे कीड़े अगर होते हैं या कोई पत्थर होता है उसको भी निकाल देती है चाहे वह दाल हो यानी कि जो भी होता है उसे गलत पदार्थ महिलाएं जो हमारी घर की वह निकाल देती है और इस महिला ने को खाने में ही असाइनमेंट का प्रयोग किया तो यह बहुत ही मन होता तो नहीं कहे लेकिन किस संबंध के ऊपर विश्वास करें कि बहुत बड़े शहर के रूप में देखा जाएगा और एक करके सभी करने लायक होगी और बंद हो सकता है इसके ऊपर कोई फिल्म

14 saal mein dhire dhire maar dale parivar ke khelon ki kahani kisi film se kam nahi aapki bhaiya yah sahi hai kerala mein aaya hai ki mahila jo 50 14 saal 8 saal bhakti koi cyanide district jo hai khana khilaate jaane ki koi bhi group hota hai vaah sabse zyada vishwas rakhta hai aapki ghar ki patni ko panapne apni ke upar sabse zyada vishwas hota hai aur is tarah ka vishwas kiya aur khane mein sainait jo hota hai vaah apni jagah zehreela padarth hota hai aur wahi khane mein mila mila kar 8 saal tak diya pati parivar ke 6 logon ki hatya ki 14 saal aur 2 paise ke liye ab aisi paise ka vaah kya karenge kiske saath enjoy karenge yah bhi ek bahut hi sochne vala psycology ka vishay kyonki dhan ki jo abhilasha hoti hai dhan paane ki toh dhan ek sadhan ke roop mein hum maante hain ki kal se hum apnon ke saath milkar use enjoy karen unke dwara jo bhi sadhan khareedenge khushiyan kar denge lekin itna khada hota hai kisi bhi insaan ke liye ki vaah dhan kis kaam ka jab apne hi apne saath na ho isliye yah mansik bimari is mahila ki kahi jayegi ki vaah dharam ke prati itni usko pyar tha mamata thi ya mota aur unhone kiya film ki story se kam nahi agar koi bhavishya mein film bani toh zaroor dekhne layak hogi agar uska chitra katha aur apne achi tarah se kiya jaaye toh asha karte hain ki aisi sigmetik story ko hum zaroor samjhe aur apne jeevan mein hum zaroor maane aisa bhi ho sakta hai zindagi ab kiske upar vishwas karen apni patni ko par vishwas karen iske upar vishwas kyonki amuman dekha gaya hai ki mahilaen ladki khana banati hai august sabzi mein katatey samay agar kuch kheda ho toh keedein ke bhag ko bhi vaah sabzi se katkar alag kar dein chahen vaah chawal ho toh usko bean kar usmein se chhote chhote keedein agar hote hain ya koi patthar hota hai usko bhi nikaal deti hai chahen vaah daal ho yani ki jo bhi hota hai use galat padarth mahilaen jo hamari ghar ki vaah nikaal deti hai aur is mahila ne ko khane mein hi assignment ka prayog kiya toh yah bahut hi man hota toh nahi kahe lekin kis sambandh ke upar vishwas karen ki bahut bade shehar ke roop mein dekha jaega aur ek karke sabhi karne layak hogi aur band ho sakta hai iske upar koi film

14 साल में धीरे-धीरे मार डाले परिवार के खेलों की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं आपकी भैया यह

Romanized Version
Likes  68  Dislikes    views  1350
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
chhote chhote bachho ki film ; bitmais ; dhire ; kahani ; kahani achi ; kahani movie ; ki kahani ; parivar ki kahani ; धीरे धीरे 14 ; धीरे धीरे मारने वाला ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!